रचनाएँ ;।द्ध मुख्य अवधरणाएँ और परिणाम ऽ एक दिए हुए कोण को समद्विभाजित करना। ऽ एक दिए हुए रेखाखंड का लंब समद्विभाजक खींचना। ऽ कोण 15°ए 30°ए 45°ए 60°ए 90° की रचना करना। ऽ एक त्रिाभुज की रचना, जब उसका आधर, आधर कोण तथा अन्य दोनों भुजाओं का योग दिया है। ऽ एक त्रिाभुज की रचनाए जब उसका आधर, आधर कोण तथा अन्य दोनों भुजाओं का अंतर दिया है। ऽ एक त्रिाभुज की रचनाए जब उसका परिमाप और दो आधर कोण दिए हैं। ऽ ज्यामितीय रचना का अथर् है कि पटरी ;रूलरद्ध और परकार का ही केवल ज्यामितीय यंत्रों के रूप में प्रयोग करते हुए, रचना करना। ;ठद्ध बहु विकल्पीय प्रश्न सही उत्तर लिख्िाए - प्रतिदशर् प्रश्न 1रू पटरी और परकार की सहायता से निम्नलिख्िात कोण की रचना संभव है ;।द्ध 35° ;ठद्ध 40° ;ब्द्ध 37ण्5° ;क्द्ध 47ण्5° हल रू उत्तर ;ब्द्ध प्रतिदशर् प्रश्न 2रू एक त्रिाभुज ।ठब्ए जिसमें।ठ त्र 4 बउ और∠। त्र 60° है, की रचना संभव नहीं है, यदि ठब् और ।ब् का अंतर है ;।द्ध 3ण्5 बउ ;ठद्ध 4ण्5 बउ ;ब्द्ध 3 बउ ;क्द्ध 2ण्5 बउ हल रू उत्तर ;ठद्ध प्रश्नावली 11ण्1 निम्नलिख्िात में से प्रत्येक में सही उत्तर लिख्िाए - 1ण् पटरी और परकार की सहायता से निम्नलिख्िात कोण की रचना करना संभव नहीं है रू ;।द्ध 37ण्5° ;ठद्ध 40° ;ब्द्ध 22ण्5° ;क्द्ध 67ण्5° 2ण् एक त्रिाभुज ।ठब्ए जिसमें ठब् त्र 6 बउ और∠ ठ त्र 45° दिया है, की रचना संभव नहीं है, यदि ।ठ और ।ब् का अंतर है रू ;।द्ध 6ण्9 बउ ;ठद्ध 5ण्2 बउ ;ब्द्ध 5ण्0 बउ ;क्द्ध4ण्0 बउ 3ण् एक त्रिाभुज ।ठब्ए जिसमें ठब् त्र 3 बउ और∠ब् त्र 60° है, की रचना संभव है जब ।ठ और ।ब् अंतर बराबर है रू ;।द्ध 3ण्2 बउ ;ठद्ध 3ण्1 बउ ;ब्द्ध 3 बउ ;क्द्ध 2ण्8 बउ ;ब्द्ध तकर् के साथ संक्ष्िाप्त उत्तरीय प्रश्न सत्य या असत्य लिख्िाए और अपने उत्तर का कारण दीजिए - प्रतिदशर् प्रश्न 1 रू 67ण्5° के कोण की रचना की जा सकती है। 135° 1 °़ 45 द्ध है।हलरू सत्य। क्योंकि 67ण्5° त्र त्र ;90 ° 22 प्रश्नावली 11ण्2 निम्नलिख्िात में से प्रत्येक में सत्य या असत्य लिख्िाए। अपने उत्तर का कारण भी दीजिए। 1ण् 52ण्5° के कोण की रचना की जा सकती है। 2ण् 42ण्5° के कोण की रचना की जा सकती है। 3ण् एक त्रिाभुज ।ठब् की रचना की जा सकती है, जिसमें ।ठ त्र 5 बउए ∠। त्र 45° और ठब् ़ ।ब् त्र 5 बउ है। 4ण् एक त्रिाभुज ।ठब् की रचना की जा सकती है, जिसमें ठब् त्र 6 बउए ∠ब् त्र 30° और ।ब् दृ ।ठ त्र 4 बउ है। 5ण् एक त्रिाभुज ।ठब् की रचना की जा सकती है, जिसमें ∠ ठ त्र 105°ए ∠ब् त्र 90° और ।ठ ़ ठब् ़ ।ब् त्र 10 बउ है। 6ण् एक त्रिाभुज ।ठब् की रचना की जा सकती है, जिसमें ∠ ठ त्र 60°ए ∠ब् त्र 45° और ।ठ ़ ठब् ़ ।ब् त्र 12 बउ है। ;क्द्ध संक्ष्िाप्त उत्तरीय प्रश्न प्रतिदशर् प्रश्न 1 रू एक त्रिाभुज ।ठब् की रचना कीजिए, जिसमें ठब् त्र 7ण्5 बउए ∠ठ त्र 45° और ।ठ दृ ।ब् त्र 4 बउ है। हलरू कक्षा प्ग् की गण्िात की पाठ्यपुस्तक देख्िाए। प्रश्नावली 11ण्3 1ण् चाँदे की सहायता से 110° का एक कोण खींचिए और पिफर इसे समद्विभाजित कीजिए। प्रत्येक कोण को मापिए। 2ण् 4 बउ लंबाइर् का एक रेखाखंड खींचिए। क्रमशः । और ठ से होकर, ।ठ पर लंब रेखाएँ खींचिए। क्या ये रेखाएँ समांतर हैं? 3ण् चाँदे की सहायता से 80° का एक कोण खींचिए। 40°ए 160° और 120° के कोणों की रचना कीजिए। 4ण् 3ण्6 बउए 3ण्0 बउ और 4ण्8 बउ भुजाओं वाले एक त्रिाभुज की रचना कीजिए। सबसे छोटे कोण को समद्विभाजित कीजिए तथा प्रत्येक भाग को मापिए। 5ण् एक त्रिाभुज ।ठब् की रचना कीजिए, जिसमें ठब् त्र 5 बउए ∠ठ त्र 60° और ।ब् ़ ।ठ त्र 7ण्5 बउ है। 6ण् 3 बउ भुजा वाले एक वगर् की रचना कीजिए। 7ण् एक आयत की रचना कीजिए, जिसकी आसन्न भुजाएँ 5 बउ और 3ण्5 बउ हैं। 8ण् एक समचतुभुर्ज की रचना कीजिए, जिसकी एक भुजा 3ण्4 बउ है और जिसका एक कोण 45° का है। ;म्द्ध दीघर् उत्तरीय प्रश्न प्रतिदशर् प्रश्न 1 रू एक समबाहु त्रिाभुज की रचना कीजिए, जिसका शीषर्लंब 6 बउ है। अपनी रचना का औचित्य दीजिए। हल रू एक रेखा ग्ल् खींचिए। इस रेखा पर कोइर् बिंदु क् लीजिए। ग्ल् पर लंब च्क् की रचना कीजिए। च्क् में से 6 बउ लंबाइर् का रेखाखंड ।क् काटिए। ।क् के दोनों ओर । पर 30° के बराबर दो आवृफति 11ण्1 कोण, मान लीजिए, ∠ब्।क् और ∠ठ।क् बनाइए, जबकि ठ और ब् रेखा ग्ल् पर स्िथत हों ;आवृफति 11.1द्ध। तब, त्रिाभुज ।ठब् ही वाँछित त्रिाभुज है। औचित्यः क्योंकि ∠। त्र 30° ़ 30° त्र 60° और ।क् ⊥ठब् है, इसलिए Δ।ठब् समबाहु त्रिाभुज है, जिसमें शीषर्लंब ।क् त्र 6 बउ है। प्रश्नावली 11ण्4 निम्नलिख्िात में से प्रत्येक की रचना कीजिए और रचना का औचित्य दीजिए - 1ण् एक त्रिाभुज, यदि उसका परिमाप 10ण्4 बउ और दो कोण 45° और 120° हैं। 2ण् एक त्रिाभुज च्फत्ए जबकि फत् त्र 3बउए ∠ च्फत् त्र 45° और फच् दृ च्त् त्र 2 बउ दिया है। 3ण् एक समकोण त्रिाभुज जिसकी एक भुजा 3ण्5 बउ तथा अन्य भुजा और कणर् का योग5ण्5 बउ है। 4ण् एक समबाहु त्रिाभुज, यदि इसका शीषर्लंब 3ण्2 बउ है। 5ण् एक समचतुभर्ुज जिसके विकणो± की लंबाइयाँ 4 बउ और 6 बउ हैं।

RELOAD if chapter isn't visible.