14 अकबरी लोटालाला झाऊलाल को खाने - पीने की कमी नहीं थी। काशी के ठठेरी बाशार में मकान था। नीचे की दुकानों से एक सौ रुपये मासिक के करीब किराया उतर आता था। अच्छा खाते थे, अच्छा पहनते थे, पर ढाइर् सौ रुपये तो एक साथ आँख सेंकने के लिए भी न मिलते थे। इसलिए जब उनकी पत्नी ने एक दिन एकाएक ढाइर् सौ रुपये की माँग पेश की, तब उनका जी एक बार शोर से सनसनाया और पिफर बैठ गया। उनकी यह दशा देखकर पत्नी ने कहाμफ्डरिए मत, आप देने में असमथर् हों तो मैं अपने भाइर् से माँग लूँ?य् लाला झाऊलाल तिलमिला उठे। उन्होंने रोब के साथ कहाμफ्अजी हटो, ढाइर् सौ रुपये के लिए भाइर् से भीख माँगोगी, मुझसे ले लेना।य् फ्लेकिन मुझे इसी ¯शदगी में चाहिए।य् फ्अजी इसी सप्ताह में ले लेना।य् फ्सप्ताह से आपका तात्पयर् सात दिन से है या सात वषर् से?य्लाला झाऊलाल ने रोब के साथ खड़े होते हुए कहाμफ्आज से सातवें दिन मुझसे ढाइर् सौ रुपये ले लेना।य् लेकिन जब चार दिन ज्यों - त्यों में यों ही बीत गए और रुपयों का कोइर् प्रबंध न हो सका तब उन्हें ¯चता होने लगी। प्रश्न अपनी प्रतिष्ठा का था, अपने ही घर में अपनी साख का था। देने का पक्का वादा करके अगर अब दे न सके तो अपने मन में वह क्या सोचेगी? उसकी नशरों में उसका क्या मूल्य रह जाएगा? अपनी वाहवाही की सैकड़ों गाथाएँ सुना चुके थे। अब जो एक काम पड़ा तो चारों खाने चित हो रहे। यह पहली बार उसने मुँह खोलकर वुफछ रुपयों का सवाल किया था। इस समय अगर दुम दबाकर निकल भागते हैं तो पिफर उसे क्या मुँह दिखलाएँगे? खैर, एक दिन और बीता। पाँचवें दिन घबराकर उन्होंने पं. बिलवासी मिश्र को अपनी विपदा सुनाइर्। संयोग वुफछ ऐसा बिगड़ा था कि बिलवासी जी भी उस समय बिलवुफल खुक्ख थे। उन्होंने कहाμफ्मेरे पास हंै तो नहीं पर मैं कहीं से माँग - जाँचकर लाने की कोश्िाश करूको तुमसे मकान पर मिलूँगा।य् वही शाम आज थी। हफ्रते का अंतिम दिन। कल ढाइर् सौ रुपये या तो ़गिन देना है या सारी हेंकड़ी से हाथ धोना है। यह सच है कि कल रुपया न आने पर उनकी स्त्राी उन्हें डामलपफाँसी न कर देगीμकेवल शरा - सा हँसदेगी। पर वह वैफसी हँसी होगी, कल्पना मात्रा से झाऊलाल में मरोड़ पैदा हो जाती थी। आज शाम को पं. बिलवासी मिश्र को आना था। यदि न आए तो? या कहीं रुपये का प्रबंध वे न कर सके? ँगा और अगर मिल गया तो कल शाम इसी उधेड़ - बुन में पड़े लाला झाऊलाल छत पर टहल रहे थे। वुफछ प्यास मालूम हुइर्। उन्होंने नौकर को आवाश दी। नौकर नहीं था, खुद उनकी पत्नी पानी लेकर आईं। वह पानी तो शरूर लाईं पर गिलास लाना भूल गइर् थीं। केवल लोटे में पानी लिए वह प्रकट हुईं। पिफर लोटा भी संयोग से वह जो अपनी बेढंगी सूरतके कारण लाला झाऊलाल को सदा से नापसंद था। था तो नया, साल दो साल का ही बना पर वुफछ ऐसी गढ़न उस लोटे की थी कि उसका बाप डमरू, माँ चिलम रही हो। लाला ने लोटा ले लिया, बोले वुफछ नहीं, अपनी पत्नी का अदब मानते थे। मानना ही चाहिए। इसी को सभ्यता कहते हैं। जो पति अपनी पत्नी का न हुआ, वह पति वैफसा? पिफर उन्होंने यह भी सोचा कि लोटे में पानी दे, तब भी गनीमत है, अभी अगर चूँ कर देता हूँ तो बालटी में भोजन मिलेगा। तब क्या करना बाकी रह जाएगा? लाला अपना गुस्सा पीकर पानी पीने लगे। उस समय वे छत की मुँडेर के पास ही खड़े थे। जिन बुजुगो± ने पानी पीने के संबंध में यह नियम बनाए थे कि खड़े - खड़े पानी न पियो, सोते समय पानी न पियो, दौड़ने के बाद पानी न पियो, उन्होंने पता नहीं कभी यह भी नियम बनाया या नहीं कि छत की मुँडेर के पास खड़े होकर पानी न पियो। जान पड़ता है कि इस महत्वपूणर् विषय पर उन लोगों ने वुफछ नहीं कहा है।लाला झाऊलाल मुश्िकल से दो - एक घूँट पी पाए होंगे कि न जाने वैफसे उनका हाथ हिल उठा और लोटा छूट गया। लोटे ने दाएँ देखा न बाएँ, वह नीचे गली की ओर चल पड़ा। अपने वेग में उल्का को लजाता हुआ वह आँखों से ओझल हो गया। किसी शमाने में न्यूटन नाम के किसी खुरापफाती ने पृथ्वी की आकषर्ण शक्ित नाम की एक चीश इर्जाद की थी। कहना न होगा कि यह सारी शक्ित इस समय लोटे के पक्ष में थी। लाला को काटो तो बदन में खून नहीं। ऐसी चलती हुइर् गली में ऊँचे तिमंजले से भरे हुए लोटे का गिरना हँसी - खेल नहीं। यह लोटा न जाने किस अनािाकारी के झोंपड़े पर काशीवास का संदेश लेकर पहुँचेगा।वुफछ हुआ भी ऐसा ही। गली में शोर का हल्ला उठा। लाला झाऊलाल जब तब दौड़कर नीचे उतरे तब तक एक भारी भीड़ उनके आँगन में घुस आइर्। लाला झाऊलाल ने देखा कि इस भीड़ में प्रधान पात्रा एक अंगे्रश है जो नखश्िाख से भीगा हुआ है और जो अपने एक पैर को हाथ से सहलाता हुआ दूसरे पैर पर नाच रहा है। उसी के पास अपराधी लोटे को भी देखकर लालाझाऊलाल जी ने पफौरन दो और दो जोड़कर स्िथति को समझ लिया। गिरने के पूवर् लोटा एक दुकान के सायबान से टकराया। वहाँ टकराकर उस दुकान पर खड़े उस अंग्रेश को उसने सांगोपांग स्नान कराया और पिफर उसी के बूट पर आ गिरा।उस अंग्रेश को जब मालूम हुआ कि लाला झाऊलाल ही उस लोटे के मालिक हैं तब उसने केवल एक काम किया। अपने मुँह को खोलकर खुलाछोड़ दिया। लाला झाऊलाल को आज ही यह मालूम हुआ कि अंग्रेशी भाषा में गालियों का ऐसा प्रकांड कोष है। इसी समय पं. बिलवासी मिश्र भीड़ को चीरते हुए आँगन में आते दिखाइर् पड़े। उन्होंने आते ही पहला काम यह किया कि उस अंग्रेश को छोड़कर और जितने आदमी आँगन में घुस आए थे, सबको बाहर निकाल दिया। पिफर आँगन में वुफसीर् रखकर उन्होंने साहब से कहाμफ्आपके पैर में शायद वुफछ चोट आ गइर् है। अब आप आराम से वुफसीर् पर बैठ जाइए।य्साहब बिलवासी जी को धन्यवाद देते हुए बैठ गए और लाला झाऊलाल की और इशारा करके बोलेμफ्आप इस शख्स को जानते हैं?य् फ्बिलवुफल नहीं। और मैं ऐसे आदमी को जानना भी नहीं चाहता जो निरीह राह चलतों पर लोटे के वार वफरे।य् फ्मेरी समझ में ‘ही इज ए डेंजरस ल्यूनाटिक’ ;यानी, यह खतरनाक पागल हैद्ध।य् फ्नहीं, मेरी समझ में ‘ही इज ए डेंजरस िमिनल’ ;नहीं, यह खतरनाक मुजरिम हैद्ध।य्परमात्मा ने लाला झाऊलाल की आँखों को इस समय कहीं देखने के साथ खाने की भी शक्ित दे दी होती तो यह निश्चय है कि अब तक बिलवासी जी को वे अपनी आँखों से खा चुके होते। वे वुफछ समझ नहीं पाते थे कि बिलवासी जी को इस समय क्या हो गया है। साहब ने बिलवासी जी से पूछा फ्तो क्या करना चाहिए?य् फ्पुलिस में इस मामले की रिपोटर् कर दीजिए जिससे यह आदमी पफौरन हिरासत में ले लिया जाए।य् फ्पुलिस स्टेशन है कहाँ?य् फ्पास ही है, चलिए मैं बताउँफय् फ्चलिए।य् फ्अभी चला। आपकी इजाशत हो तो पहले मैं इस लोटे को इस आदमी से खरीद लूँ। क्यों जी बेचोगे? मैं पचास रुपये तक इसके दाम दे सकता हूँ।य्लाला झाऊलाल तो चुप रहे पर साहब ने पूछाμफ्इस रद्दी लोटे के आप पचास रुपये क्यों दे रहे हैं?य् फ्आप इस लोटे को रद्दी बताते हैं? आश्चयर्! मैं तो आपको एक विज्ञ और सुश्िाक्ष्िात आदमी समझता था।य् फ्आख्िार बात क्या है, वुफछ बताइए भी।य् फ्जनाब यह एक ऐतिहासिक लोटा जान पड़ता है। जान क्या पड़ता है, मुझे पूरा विश्वास है। यह वह प्रसि( अकबरी लोटा है जिसकी तलाश में संसार - भर के म्यूिायम परेशान हंै।य् फ्यह बात?य् फ्जी, जनाब। सोलहवीं शताब्दी की बात है। बादशाह हुमायूँ शेरशाह से हारकर भागा था और ¯सध के रेगिस्तान में मारा - मारा पिफर रहा था। एक अवसर पर प्यास से उसकी जान निकल रही थी। उस समय एक ब्राह्मण ने इसी लोटे से पानी पिलाकर उसकी जान बचाइर् थी। हुमायूँ के बाद अकबर ने उस ब्राह्मण का पता लगाकर उससे इस लोटे को ले लिया और इसके बदले में उसे इसी प्रकार के दस सोने के लोटे प्रदान किए। यह लोटा सम्राट अकबर को बहुत प्यारा था। इसी से इसका नाम अकबरी लोटा पड़ा। वह बराबर इसी से वजू करता था। सन् 57 तक इसके शाही घराने में रहनेका पता है। पर इसके बाद लापता हो गया। कलकत्ता के म्यूिायम में इसका प्लास्टर का माॅडल रखा हुआ है। पता नहीं यह लोटा इस आदमी के पास वैफसे आया? म्यूिायम वालों को पता चले तो पैंफसी दाम देकर खरीद ले जाएँ। इस विवरण को सुनते - सुनते साहब की आँखों पर लोभ और आश्चयर् का ऐसा प्रभाव पड़ा कि वे कौड़ी के आकार से बढ़कर पकौड़ी के आकार की हो गईं। उसने बिलवासी जी से पूछाμफ्तो आप इस लोटे का क्या करिएगा?य् फ्मुझे पुरानी और ऐतिहासिक चीशों के संग्रह का शौक है।य् फ्मुझे भी पुरानी और ऐतिहासिक चीशों के संग्रह करने का शौक है। जिससमय यह लोटा मेरे ऊपर गिरा था, उस समय मैं यही कर रहा था। उस दुकान से पीतल की वुफछ पुरानी मूतिर्याँ खरीद रहा था।य् फ्जो वुफछ हो, लोटा मैं ही खरीदूँगा।य् फ्वाह, आप वैफसे खरीदेंगे, मैं खरीदूँगा, यह मेरा हक है।य् फ्हक है?य् फ्शरूर हक है। यह बताइए कि उस लोटे के पानी से आपने स्नान किया या मैंने?य् फ्आपने।य् फ्वह आपके पैरों पर गिरा या मेरे?य् फ्आपके।य् फ्अँगूठा उसने आपका भुरता किया या मेरा?य् फ्आपका।य् फ्इसलिए उसे खरीदने का हक मेरा है।य् फ्यह सब बकवास है। दाम लगाइए, जो अिाक दे, वह ले जाए।य् फ्यही सही। आप इसका पचास रुपया लगा रहे थे, मैं सौ देता हूँ।य् फ्मैं डेढ़ सौ देता हूँ।य् फ्मैं दो सौ देता हूँ।य् फ्अजी मैं ढाइर् सौ देता हूँ।य् यह कहकर बिलवासी जी ने ढाइर् सौ के नोटलाला झाऊलाल के आगे पेंफक दिए। साहब को भी ताव आ गया। उसने कहाμफ्आप ढाइर् सौ देते हैं, तो मैं पाँच सौ देता हूँ। अब चलिए।य् बिलवासी जी अप़्ाफसोस के साथ अपने रुपये उठाने लगे, मानो अपनी आशाओं की लाश उठा रहे हों। साहब की ओर देखकर उन्होंने कहाμफ्लोटा आपका हुआ, ले जाइए, मेरे पास ढाइर् सौ से अिाक नहीं हैं।य् यह सुनना था कि साहब के चेहरे पर प्रसन्नता की वूँफची गिर गइर्। उसने झपटकर लोटा लिया और बोलाμफ्अब मैं हँसता हुआ अपने देश लौटूँगा। मेजर डगलस की डींग सुनते - सुनते मेरे कान पक गए थे।य् फ्मेजर डगलस कौन हैं?य् फ्मेजर डगलस मेरे पड़ोसी हैं। पुरानी चीशों के संग्रह करने में मेरी उनकी होड़ रहती है। गत वषर् वे ¯हदुस्तान आए थे और यहाँ से जहाँगीरी अंडा ले गए थे।य् फ्जहाँगीरी अंडा?य् फ्हाँ, जहाँगीरी अंडा। मेजर डगलस ने समझ रखा था कि ¯हदुस्तान से वे ही अच्छी चीशें ले सकते हैं।य् फ्पर जहाँगीरी अंडा है क्या?य् फ्आप जानते होंगे कि एक कबूतर ने नूरजहाँ से जहाँगीर का प्रेम कराया था। जहाँगीर के पूछने पर कि, मेरा एक कबूतर तुमने वैफसे उड़ जाने दिया, नूरजहाँ ने उसके दूसरे कबूतर को उड़ाकर बताया था, कि ऐसे। उसके इस भोलेपन पर जहाँगीर दिलोजान से निछावर हो गया। उसी क्षण से उसने अपने को नूरजहाँ के हाथ कर दिया। कबूतर का यह अहसान वह नहीं भूला। उसके एक अंडे को बड़े जतन से रख छोड़ा। एक बिल्लोर की हाँडी में वह उसके सामने टँगा रहता था। बाद में वही अंडा फ्जहाँगीरी अंडाय् के नाम से प्रसि( हुआ। उसी को मेजर डगलस ने पारसाल दिल्ली में एक मुसलमान सज्जन से तीन सौ रुपये में खरीदा।य् फ्यह बात?य् फ्हाँ, पर अब मेरे आगे दून की नहीं ले सकते। मेरा अकबरी लोटा उनके जहाँगीरी अंडे से भी एक पुश्त पुराना है।य् फ्इस रिश्ते से तो आपका लोटा उस अंडे का बाप हुआ।य्साहब ने लाला झाऊलाल को पाँच सौ रुपये देकर अपनी राह ली। लालाझाऊलाल का चेहरा इस समय देखते बनता था। जान पड़ता था कि मुँह पर छह दिन की बढ़ी हुइर् दाढ़ी का एक - एक बाल मारे प्रसन्नता के लहरा रहा है। उन्होंने पूछाμफ्बिलवासी जी! मेरे लिए ढाइर् सौ रुपया घर से लेकर आए! पर आपके पास तो थे नहीं।य् फ्इस भेद को मेरे सिवाए मेरा इर्श्वर ही जानता है। आप उसी से पूछलीजिए, मैं नहीं बताऊँगा।य् फ्पर आप चले कहाँ? अभी मुझे आपसे काम है दो घंटे तक।य् फ्दो घंटे तक?य् फ्हाँ, और क्या, अभी मैं आपकी पीठ ठोककर शाबाशी दूँगा, एक घंटा इसमें लगेगा। पिफर गले लगाकर धन्यवाद दूँगा, एक घंटा इसमें भी लग जाएगा।य् फ्अच्छा पहले पाँच सौ रुपये गिनकर सहेज लीजिए।य् फ्रुपया अगर अपना हो, तो उसे सहेजना एक ऐसा सुखद मनमोहक कायर् है कि मनुष्य उस समय सहज में ही तन्मयता प्राप्त कर लेता है। लालाझाऊलाल ने अपना कायर् समाप्त करके ऊपर देखा। पर बिलवासी जी इस बीच अंतधार्न हो गए।य् उस दिन रात्रिा में बिलवासी जी को देर तक नींद नहीं आइर्। वे चादर लपेटे चारपाइर् पर पड़े रहे। एक बजे वे उठे। धीरे, बहुत धीरे से अपनी सोइर् हुइर् पत्नी के गले से उन्होंने सोने की वह सिकड़ी निकाली जिसमें एक ताली बँधी हुइर् थी। पिफर उसके कमरे में जाकर उन्होंने उस ताली से संदूक खोला। उसमें ढाइर् सौ के नोट ज्यों - के - त्यों रखकर उन्होंने उसे बंद कर दिया। पिफर दबे पाँव लौटकर ताली को उन्होंने पूवर्वत अपनी पत्नी के गले में डाल दिया। इसके बाद उन्होंने हँसकर अँगड़ाइर् ली। दूसरे दिन सुबह आठ बजे तक चैन की नींद सोए। - अन्नपूणार्नंद वमार् अकबरी लोटा कहानी की बात 1.फ्लाला ने लोटा ले लिया, बोले वुफछ नहीं, अपनी पत्नी का अदब मानते थे।य् लाला झाउफलाल को बेढंगा लोटा बिलवुफल पसंद नहीं था। पिफर भी उन्होंने चुपचाप लोटा ले लिया। आपके विचार से वे चुप क्यों रहे? अपने विचार लिख्िाए। 2.फ्लाला झाउफलाल जी ने पफौरन दो और दो जोड़कर स्िथति को समझ लिया।य् आपके विचार से लाला झाउफलाल ने कौन - कौन सी बातें समझ ली होंगी? 3.अंग्रेश के सामने बिलवासी जी ने झाउफलाल को पहचानने तक से क्यों इनकार कर दिया था? आपके विचार से बिलवासी जी ऐसा अजीब व्यवहार क्यों कर रहे थे? स्पष्ट कीजिए। 4.बिलवासी जी ने रुपयों का प्रबंध् कहाँ से किया था? लिख्िाए। 5.आपके विचार से अंग्रेश ने यह पुराना लोटा क्यों खरीद लिया? आपस में चचार् करके वास्तविक कारण की खोज कीजिए और लिख्िाए। अनुमान और कल्पना 1.फ्इस भेद को मेरे सिवाए मेरा इर्श्वर ही जानता है। आप उसी से पूछ लीजिए। मैं नहीं बताउँफगा।य् बिलवासी जी ने यह बात किससे और क्यों कही? लिख्िाए। 2.फ्उस दिन रात्रिा में बिलवासी जी को देर तक नींद नहीं आइर्।य् समस्या झाउफलाल की थी और नींद बिलवासी की उड़ी तो क्यों? लिख्िाए। 3.फ्लेकिन मुझे इसी जिंदगी में चाहिए।य् फ्अजी इसी सप्ताह में ले लेना।य् फ्सप्ताह से आपका तात्पयर् सात दिन से है या सात वषर् से?य् झाउफलाल और उनकी पत्नी के बीच की इस बातचीत से क्या पता चलता है? लिख्िाए। क्या होता यदि 1.अंग्रेश लोटा न खरीदता? 2.यदि अंग्रेश पुलिस को बुला लेता? 3.जब बिलवासी अपनी पत्नी के गले से चाबी निकाल रहे थे, तभी उनकी पत्नी जाग जाती? पता कीजिए 1.फ्अपने वेग में उल्का को लजाता हुआ वह आँखों से ओझल हो गया।य् उल्का क्या होती है? उल्का और ग्रहों में कौन - कौन सी समानताएँ और अंतर होते हैं? 2.इस कहानी में आपने दो चीशों के बारे में मजेदार कहानियाँ पढ़ींμअकबरी लोटे की कहानी और जहाँगीरी अंडे की कहानी। आपके विचार से ये कहानियाँ सच्ची हैं या काल्पनिक? 3.अपने घर या कक्षा की किसी पुरानी चीश के बारे में ऐसी ही कोइर् मजेदार कहानी बनाइए। 4.बिलवासी जी ने जिस तरीके से रुपयों का प्रबंध् किया, वह सही था या गलत? भाषा की बात 1.इस कहानी में लेखक ने जगह - जगह पर सीध्ी - सी बात कहने के बदले रोचक मुहावरों, उदाहरणों आदि के द्वारा कहकर अपनी बात को और अिाक मजेदार/रोचक बना दिया है। कहानी से वे वाक्य चुनकर लिख्िाए जो आपको सबसे अध्िक मजेदार लगे। 2.इस कहानी में लेखक ने अनेक मुहावरों का प्रयोग किया है। कहानी में से पाँच मुहावरे चुनकर उनका प्रयोग करते हुए वाक्य लिख्िाए।

>ch14>

Vasant Bhag 3 Chapter-14

14

अकबरी लोटा

लाला झाऊलाल को खाने-पीने की कमी नहीं थी। काशी के ठठेरी बाज़ार में मकान था। नीचे की दुकानों से एक सौ रुपये मासिक के करीब किराया उतर आता था। अच्छा खाते थे, अच्छा पहनते थे, पर ढाई सौ रुपये तो एक साथ आँख सेंकने के लिए भी न मिलते थे।

इसलिए जब उनकी पत्नी ने एक दिन एकाएक ढाई सौ रुपये की माँग पेश की, तब उनका जी एक बार ज़ोर से सनसनाया और फिर बैठ गया। उनकी यह दशा देखकर पत्नी ने कहा–"डरिए मत, आप देने में असमर्थ हों तो मैं अपने भाई से माँग लूँ?"

लाला झाऊलाल तिलमिला उठे। उन्होंने रोब के साथ कहा–"अजी हटो, ढाई सौ रुपये के लिए भाई से भीख माँगोगी, मुझसे ले लेना।"

"लेकिन मुझे इसी ज़िंदगी में चाहिए।"

"अजी इसी सप्ताह में ले लेना।"

"सप्ताह से आपका तात्पर्य सात दिन से है या सात वर्ष से?"

लाला झाऊलाल ने रोब के साथ खड़े होते हुए कहा–"आज से सातवें दिन मुझसे ढाई सौ रुपये ले लेना।"

लेकिन जब चार दिन ज्यों-त्यों में यों ही बीत गए और रुपयों का कोई प्रबंध न हो सका तब उन्हें चिंता होने लगी। प्रश्न अपनी प्रतिष्ठा का था, अपने ही घर में अपनी साख का था। देने का पक्का वादा करके अगर अब दे न सके तो अपने मन में वह क्या सोचेगी? उसकी नज़रों में उसका क्या मूल्य रह जाएगा? अपनी वाहवाही की सैकड़ों गाथाएँ सुना चुके थे। अब जो एक काम पड़ा तो चारों खाने चित हो रहे। यह पहली बार उसने मुँह खोलकर कुछ रुपयों का सवाल किया था। इस समय अगर दुम दबाकर निकल भागते हैं तो फिर उसे क्या मुँह दिखलाएँगे?

खैर, एक दिन और बीता। पाँचवें दिन घबराकर उन्होंने पं. बिलवासी मिश्र को अपनी विपदा सुनाई। संयोग कुछ एेसा बिगड़ा था कि बिलवासी जी भी उस समय बिलकुल खुक्ख थे। उन्होंने कहा–"मेरे पास हैं तो नहीं पर मैं कहीं से माँग-जाँचकर लाने की कोशिश करूँगा और अगर मिल गया तो कल शाम को तुमसे मकान पर मिलूँगा।"

वही शाम आज थी। ह ़फ्ते का अंतिम दिन। कल ढाई सौ रुपये या तो गिन देना है या सारी हेंकड़ी से हाथ धोना है। यह सच है कि कल रुपया न आने पर उनकी स्त्री उन्हें डामलफाँसी न कर देगी–केवल ज़रा-सा हँस देगी। पर वह कैसी हँसी होगी, कल्पना मात्र से झाऊलाल में मरोड़ पैदा हो जाती थी।

आज शाम को पं. बिलवासी मिश्र को आना था। यदि न आए तो? या कहीं रुपये का प्रबंध वे न कर सके?

इसी उधेड़-बुन में पड़े लाला झाऊलाल छत पर टहल रहे थे। कुछ प्यास मालूम हुई। उन्होंने नौकर को आवाज़ दी। नौकर नहीं था, खुद उनकी पत्नी पानी लेकर आईं।

वह पानी तो ज़रूर लाईं पर गिलास लाना भूल गई थीं। केवल लोटे में पानी लिए वह प्रकट हुईं। फिर लोटा भी संयोग से वह जो अपनी बेढंगी सूरत के कारण लाला झाऊलाल को सदा से नापसंद था। था तो नया, साल दो साल का ही बना पर कुछ एेसी गढ़न उस लोटे की थी कि उसका बाप डमरू, माँ चिलम रही हो।

लाला ने लोटा ले लिया, बोले कुछ नहीं, अपनी पत्नी का अदब मानते थे। मानना ही चाहिए। इसी को सभ्यता कहते हैं। जो पति अपनी पत्नी का न हुआ, वह पति कैसा? फिर उन्होंने यह भी सोचा कि लोटे में पानी दे, तब भी गनीमत है, अभी अगर चूँ कर देता हूँ तो बालटी में भोजन मिलेगा। तब क्या करना बाकी रह जाएगा?

लाला अपना गुस्सा पीकर पानी पीने लगे। उस समय वे छत की मुँडेर के पास ही खड़े थे। जिन बुजुर्गों ने पानी पीने के संबंध में यह नियम बनाए थे कि खड़े-खड़े पानी न पियो, सोते समय पानी न पियो, दौड़ने के बाद पानी न पियो, उन्होंने पता नहीं कभी यह भी नियम बनाया या नहीं कि छत की मुँडेर के पास खड़े होकर पानी न पियो। जान पड़ता है कि इस महत्वपूर्ण विषय पर उन लोगों ने कुछ नहीं कहा है।

लाला झाऊलाल मुश्किल से दो-एक घूँट पी पाए होंगे कि न जाने कैसे उनका हाथ हिल उठा और लोटा छूट गया।

लोटे ने दाएँ देखा न बाएँ, वह नीचे गली की ओर चल पड़ा। अपने वेग में उल्का को लजाता हुआ वह आँखों से ओझल हो गया। किसी ज़माने में न्यूटन नाम के किसी खुराफाती ने पृथ्वी की आकर्षण शक्ति नाम की एक चीज़ ईजाद की थी। कहना न होगा कि यह सारी शक्ति इस समय लोटे के पक्ष में थी।

लाला को काटो तो बदन में खून नहीं। एेसी चलती हुई गली में ऊँचे तिमंजले से भरे हुए लोटे का गिरना हँसी-खेल नहीं। यह लोटा न जाने किस अनाधिकारी के झोंपड़े पर काशीवास का संदेश लेकर पहुँचेगा।

कुछ हुआ भी एेसा ही। गली में ज़ोर का हल्ला उठा। लाला झाऊलाल जब तब दौड़कर नीचे उतरे तब तक एक भारी भीड़ उनके आँगन में घुस आई।

लाला झाऊलाल ने देखा कि इस भीड़ में प्रधान पात्र एक अंग्रेज़ है जो नखशिख से भीगा हुआ है और जो अपने एक पैर को हाथ से सहलाता हुआ दूसरे पैर पर नाच रहा है। उसी के पास अपराधी लोटे को भी देखकर लाला झाऊलाल जी ने फौरन दो और दो जोड़कर स्थिति को समझ लिया।

गिरने के पूर्व लोटा एक दुकान के सायबान से टकराया। वहाँ टकराकर उस दुकान पर खड़े उस अंग्रेज़ को उसने सांगोपांग स्नान कराया और फिर उसी के बूट पर आ गिरा।

उस अंग्रेज़ को जब मालूम हुआ कि लाला झाऊलाल ही उस लोटे के मालिक हैं तब उसने केवल एक काम किया। अपने मुँह को खोलकर खुला छोड़ दिया। लाला झाऊलाल को आज ही यह मालूम हुआ कि अंग्रेज़ी भाषा में गालियों का एेसा प्रकांड कोष है।

इसी समय पं. बिलवासी मिश्र भीड़ को चीरते हुए आँगन में आते दिखाई पड़े। उन्होंने आते ही पहला काम यह किया कि उस अंग्रेज़ को छोड़कर और जितने आदमी आँगन में घुस आए थे, सबको बाहर निकाल दिया। फिर आँगन में कुर्सी रखकर उन्होंने साहब से कहा–"आपके पैर में शायद कुछ चोट आ गई है। अब आप आराम से कुर्सी पर बैठ जाइए।"

साहब बिलवासी जी को धन्यवाद देते हुए बैठ गए और लाला झाऊलाल की और इशारा करके बोले–"आप इस शख्स को जानते हैं?"

"बिलकुल नहीं। और मैं एेसे आदमी को जानना भी नहीं चाहता जो निरीह राह चलतों पर लोटे के वार करे।"

"मेरी समझ में ‘ही इज ए डेंजरस ल्यूनाटिक’ (यानी, यह खतरनाक पागल है)।"

"नहीं, मेरी समझ में ‘ही इज ए डेंजरस क्रिमिनल’ (नहीं, यह खतरनाक मुजरिम है)।"

परमात्मा ने लाला झाऊलाल की आँखों को इस समय कहीं देखने के साथ खाने की भी शक्ति दे दी होती तो यह निश्चय है कि अब तक बिलवासी जी को वे अपनी आँखों से खा चुके होते। वे कुछ समझ नहीं पाते थे कि बिलवासी जी को इस समय क्या हो गया है।

साहब ने बिलवासी जी से पूछा "तो क्या करना चाहिए?"

"पुलिस में इस मामले की रिपोर्ट कर दीजिए जिससे यह आदमी फौरन हिरासत में ले लिया जाए।"

"पुलिस स्टेशन है कहाँ?"

"पास ही है, चलिए मैं बताऊँ"

"चलिए।"

"अभी चला। आपकी इजाज़त हो तो पहले मैं इस लोटे को इस आदमी से खरीद लूँ। क्यों जी बेचोगे? मैं पचास रुपये तक इसके दाम दे सकता हूँ।"

लाला झाऊलाल तो चुप रहे पर साहब ने पूछा–"इस रद्दी लोटे के आप पचास रुपये क्यों दे रहे हैं?"

"आप इस लोटे को रद्दी बताते हैं? आश्चर्य! मैं तो आपको एक विज्ञ और सुशिक्षित आदमी समझता था।"

"आखिर बात क्या है, कुछ बताइए भी।"

"जनाब यह एक एेतिहासिक लोटा जान पड़ता है। जान क्या पड़ता है, मुझे पूरा विश्वास है। यह वह प्रसिद्ध अकबरी लोटा है जिसकी तलाश में संसार-भर के म्यूज़ियम परेशान हैं।"

"यह बात?"

"जी, जनाब। सोलहवीं शताब्दी की बात है। बादशाह हुमायूँ शेरशाह से हारकर भागा था और सिंध के रेगिस्तान में मारा-मारा फिर रहा था। एक अवसर पर प्यास से उसकी जान निकल रही थी। उस समय एक ब्राह्मण ने इसी लोटे से पानी पिलाकर उसकी जान बचाई थी। हुमायूँ के बाद अकबर ने उस ब्राह्मण का पता लगाकर उससे इस लोटे को ले लिया और इसके बदले में उसे इसी प्रकार के दस सोने के लोटे प्रदान किए। यह लोटा सम्राट अकबर को बहुत प्यारा था। इसी से इसका नाम अकबरी लोटा पड़ा। वह बराबर इसी से वजू करता था। सन् 57 तक इसके शाही घराने में रहने का पता है। पर इसके बाद लापता हो गया। कलकत्ता के म्यूज़ियम में इसका प्लास्टर का मॉडल रखा हुआ है। पता नहीं यह लोटा इस आदमी के पास कैसे आया? म्यूज़ियम वालों को पता चले तो फैंसी दाम देकर खरीद ले जाएँ।

इस विवरण को सुनते-सुनते साहब की आँखों पर लोभ और आश्चर्य का एेसा प्रभाव पड़ा कि वे कौड़ी के आकार से बढ़कर पकौड़ी के आकार की हो गईं। उसने बिलवासी जी से पूछा–"तो आप इस लोटे का क्या करिएगा?"

"मुझे पुरानी और एेतिहासिक चीज़ों के संग्रह का शौक है।"

"मुझे भी पुरानी और एेतिहासिक चीज़ों के संग्रह करने का शौक है। जिस समय यह लोटा मेरे ऊपर गिरा था, उस समय मैं यही कर रहा था। उस दुकान से पीतल की कुछ पुरानी मूर्तियाँ खरीद रहा था।"

"जो कुछ हो, लोटा मैं ही खरीदूँगा।"

"वाह, आप कैसे खरीदेंगे, मैं खरीदूँगा, यह मेरा हक है।"

"हक है?"

"ज़रूर हक है। यह बताइए कि उस लोटे के पानी से आपने स्नान किया या मैंने?"

"आपने।"

"वह आपके पैरों पर गिरा या मेरे?"

"आपके।"

"अँगूठा उसने आपका भुरता किया या मेरा?"

"आपका।"

"इसलिए उसे खरीदने का हक मेरा है।"

"यह सब बकवास है। दाम लगाइए, जो अधिक दे, वह ले जाए।"

"यही सही। आप इसका पचास रुपया लगा रहे थे, मैं सौ देता हूँ।"

"मैं डेढ़ सौ देता हूँ।"

"मैं दो सौ देता हूँ।"

"अजी मैं ढाई सौ देता हूँ।" यह कहकर बिलवासी जी ने ढाई सौ के नोट लाला झाऊलाल के आगे फेंक दिए।

साहब को भी ताव आ गया। उसने कहा–"आप ढाई सौ देते हैं, तो मैं पाँच सौ देता हूँ। अब चलिए।"

बिलवासी जी अफ़सोस के साथ अपने रुपये उठाने लगे, मानो अपनी आशाओं की लाश उठा रहे हों। साहब की ओर देखकर उन्होंने कहा–"लोटा आपका हुआ, ले जाइए, मेरे पास ढाई सौ से अधिक नहीं हैं।"

यह सुनना था कि साहब के चेहरे पर प्रसन्नता की कूँची गिर गई। उसने झपटकर लोटा लिया और बोला–"अब मैं हँसता हुआ अपने देश लौटूँगा। मेजर डगलस की डींग सुनते-सुनते मेरे कान पक गए थे।"

"मेजर डगलस कौन हैं?"

"मेजर डगलस मेरे पड़ोसी हैं। पुरानी चीज़ों के संग्रह करने में मेरी उनकी होड़ रहती है। गत वर्ष वे हिंदुस्तान आए थे और यहाँ से जहाँगीरी अंडा ले गए थे।"

"जहाँगीरी अंडा?"

"हाँ, जहाँगीरी अंडा। मेजर डगलस ने समझ रखा था कि हिंदुस्तान से वे ही अच्छी चीज़ें ले सकते हैं।"

"पर जहाँगीरी अंडा है क्या?"

"आप जानते होंगे कि एक कबूतर ने नूरजहाँ से जहाँगीर का प्रेम कराया था। जहाँगीर के पूछने पर कि, मेरा एक कबूतर तुमने कैसे उड़ जाने दिया, नूरजहाँ ने उसके दूसरे कबूतर को उड़ाकर बताया था, कि एेसे। उसके इस भोलेपन पर जहाँगीर दिलोजान से निछावर हो गया। उसी क्षण से उसने अपने को नूरजहाँ के हाथ कर दिया। कबूतर का यह अहसान वह नहीं भूला। उसके एक अंडे को बड़े जतन से रख छोड़ा। एक बिल्लोर की हाँडी में वह उसके सामने टँगा रहता था। बाद में वही अंडा "जहाँगीरी अंडा" के नाम से प्रसिद्ध हुआ। उसी को मेजर डगलस ने पारसाल दिल्ली में एक मुसलमान सज्जन से तीन सौ रुपये में खरीदा।"

"यह बात?"

"हाँ, पर अब मेरे आगे दून की नहीं ले सकते। मेरा अकबरी लोटा उनके जहाँगीरी अंडे से भी एक पुश्त पुराना है।"

"इस रिश्ते से तो आपका लोटा उस अंडे का बाप हुआ।"

साहब ने लाला झाऊलाल को पाँच सौ रुपये देकर अपनी राह ली। लाला झाऊलाल का चेहरा इस समय देखते बनता था। जान पड़ता था कि मुँह पर छह दिन की बढ़ी हुई दाढ़ी का एक-एक बाल मारे प्रसन्नता के लहरा रहा है। उन्होंने पूछा–"बिलवासी जी! मेरे लिए ढाई सौ रुपया घर से लेकर आए! पर आपके पास तो थे नहीं।"

"इस भेद को मेरे सिवाए मेरा ईश्वर ही जानता है। आप उसी से पूछ लीजिए, मैं नहीं बताऊँगा।"

"पर आप चले कहाँ? अभी मुझे आपसे काम है दो घंटे तक।"

"दो घंटे तक?"

"हाँ, और क्या, अभी मैं आपकी पीठ ठोककर शाबाशी दूँगा, एक घंटा इसमें लगेगा। फिर गले लगाकर धन्यवाद दूँगा, एक घंटा इसमें भी लग जाएगा।"

"अच्छा पहले पाँच सौ रुपये गिनकर सहेज लीजिए।"

"रुपया अगर अपना हो, तो उसे सहेजना एक एेसा सुखद मनमोहक कार्य है कि मनुष्य उस समय सहज में ही तन्मयता प्राप्त कर लेता है। लाला झाऊलाल ने अपना कार्य समाप्त करके ऊपर देखा। पर बिलवासी जी इस बीच अंतर्धान हो गए।"

उस दिन रात्रि में बिलवासी जी को देर तक नींद नहीं आई। वे चादर लपेटे चारपाई पर पड़े रहे। एक बजे वे उठे। धीरे, बहुत धीरे से अपनी सोई हुई पत्नी के गले से उन्होंने सोने की वह सिकड़ी निकाली जिसमें एक ताली बँधी हुई थी। फिर उसके कमरे में जाकर उन्होंने उस ताली से संदूक खोला। उसमें ढाई सौ के नोट ज्यों-के-त्यों रखकर उन्होंने उसे बंद कर दिया। फिर दबे पाँव लौटकर ताली को उन्होंने पूर्ववत अपनी पत्नी के गले में डाल दिया। इसके बाद उन्होंने हँसकर अँगड़ाई ली। दूसरे दिन सुबह आठ बजे तक चैन की नींद सोए।

-अन्नपूर्णानंद वर्मा

प्रश्न-अभ्यास

कहानी की बात

1. "लाला ने लोटा ले लिया, बोले कुछ नहीं, अपनी पत्नी का अदब
मानते थे।"

लाला झाऊलाल को बेढंगा लोटा बिलकुल पसंद नहीं था। फिर भी उन्होंने चुपचाप लोटा ले लिया। आपके विचार से वे चुप क्यों रहे? अपने विचार लिखिए।

2. "लाला झाऊलाल जी ने फौरन दो और दो जोड़कर स्थिति को समझ लिया।"

आपके विचार से लाला झाऊलाल ने कौन-कौन सी बातें समझ ली होंगी?

3. अंग्रेज़ के सामने बिलवासी जी ने झाऊलाल को पहचानने तक से क्यों इनकार कर दिया था? आपके विचार से बिलवासी जी एेसा अजीब व्यवहार क्यों कर रहे थे? स्पष्ट कीजिए।

4. बिलवासी जी ने रुपयों का प्रबंध कहाँ से किया था? लिखिए।

5. आपके विचार से अंग्रेज़ ने यह पुराना लोटा क्यों खरीद लिया? आपस में चर्चा करके वास्तविक कारण की खोज कीजिए और लिखिए।

अनुमान और कल्पना

1. "इस भेद को मेरे सिवाए मेरा ईश्वर ही जानता है। आप उसी से पूछ लीजिए। मैं नहीं बताऊँगा।"

बिलवासी जी ने यह बात किससे और क्यों कही? लिखिए।

2. "उस दिन रात्रि में बिलवासी जी को देर तक नींद नहीं आई।"

समस्या झाऊलाल की थी और नींद बिलवासी की उड़ी तो क्यों? लिखिए।

3. "लेकिन मुझे इसी जिंदगी में चाहिए।"

"अजी इसी सप्ताह में ले लेना।"

"सप्ताह से आपका तात्पर्य सात दिन से है या सात वर्ष से?"

झाऊलाल और उनकी पत्नी के बीच की इस बातचीत से क्या पता चलता है? लिखिए।

क्या होता यदि

1. अंग्रेज़ लोटा न खरीदता?

2. यदि अंग्रेज़ पुलिस को बुला लेता?

3. जब बिलवासी अपनी पत्नी के गले से चाबी निकाल रहे थे, तभी उनकी पत्नी जाग जाती?

पता कीजिए

1. "अपने वेग में उल्का को लजाता हुआ वह आँखों से ओझल हो गया।"

उल्का क्या होती है? उल्का और ग्रहों में कौन-कौन सी समानताएँ और अंतर होते हैं?

2. इस कहानी में आपने दो चीज़ों के बारे में मजेदार कहानियाँ पढ़ीं–अकबरी लोटे की कहानी और जहाँगीरी अंडे की कहानी।

आपके विचार से ये कहानियाँ सच्ची हैं या काल्पनिक?

3. अपने घर या कक्षा की किसी पुरानी चीज़ के बारे में एेसी ही कोई मजेदार कहानी बनाइए।

4. बिलवासी जी ने जिस तरीके से रुपयों का प्रबंध किया, वह सही था या गलत?

भाषा की बात

1. इस कहानी में लेखक ने जगह-जगह पर सीधी-सी बात कहने के बदले रोचक मुहावरों, उदाहरणों आदि के द्वारा कहकर अपनी बात को और अधिक मजेदार/रोचक बना दिया है। कहानी से वे वाक्य चुनकर लिखिए जो आपको सबसे अधिक मजेदार लगे।

2. इस कहानी में लेखक ने अनेक मुहावरों का प्रयोग किया है। कहानी में से पाँच मुहावरे चुनकर उनका प्रयोग करते हुए वाक्य लिखिए।

शब्दार्थ

अदब – शिष्टाचार, लिहाज

डामलफाँसी – आजीवन कारावास का दंड, देश निकाला

मुँडेर – छत के आस-पास बनाई जाने वाली दीवार

सायबान – वह छप्पर या कपड़ा आदि का परदा जो धूप और वर्षा से बचाव के लिए मकान या दुकान के आगे लगाया जाता है

खुराफाती – शरारती

गढ़न – बनावट

सांगोपांग – पूरी तरह, ऊपर से नीचे तक

ईज़ाद – खोज, अन्वेषण

पारसाल – पिछले वर्ष

तन्मयता – मग्न हो जाना

अंतर्धान – अदृश्य


RELOAD if chapter isn't visible.