12 सुदामा चरित सीस पगा न झँगा तन में, प्रभु! जाने को आहि बसे केहि ग्रामा। धेती पफटी - सी लटी दुपटी, अरु पाँय उपानह को न¯ह सामा।। द्वार खड़ो द्विज दुबर्ल एक, रह्यो चकिसांे बसुध अभ्िारामा। पूछत दीनदयाल को धम, बतावत आपनो नाम सुदामा।। ऐसे बेहाल बिवाइन सों, पग वंफटक जाल लगे पुनि जोए। हाय! महादुख पायो सखा, तुम आए इतै न कितै दिन खोए।। देख्िा सुदामा की दीन दसा, करुना करिवैफ करुनानिध्ि रोए। पानी परात को हाथ छुयो नहिं, नैनन के जल सों पग धेए।। कछु भाभी हमको दियो, सो तुम काहे न देत। चाँपि पोटरी काँख में, रहे कहो केहि हेतु।। आगे चना गुरुमातु दए ते, लए तुम चाबि हमें नहिं दीने। स्याम कह्यो मुसकाय सुदामा सों, फ्चोरी की बान में हौ जू प्रवीने।। पोटरि काँख में चाँपि रहे तुम, खोलत नाहिं सुध रस भीने। पाछिलि बानि अजौ न तजो तुम, तैसइर् भाभी के तंदुल कीन्हे।।य् वसंत भाग 3वह पुलकनि, वह उठि मिलनि, वह आदर की बात। पठवनि गोपाल की, कछू न जानी जात।। कर ओड़त पिफरे, तनक दही के काज। भयो जो अब भयो, हरि को राज - समाज। आवत नाहीं हुतौ, वाही पठयो ठेलि।। अब कहिहौं समुझाय वैफ, बहु ध्न ध्रौ सकेलि।। वैसोइर् राज - समाज बने, गज, बाजि घने मन संभ्रम छायो। वैफधें पर्यो कहुँ मारग भूलि, कि पैफरि वैफ मैं अब द्वारका आयो।। भौन बिलोकिबे को मन लोचत, सोचत ही सब गाँव मझायो। पूँछत पाँडे पिफरे सब सों, पर झोपरी को कहुँ खोज न पायो। वैफ वह टूटी - सी छानी हती, कहँ वंफचन के अब धम सुहावत। वैफ पग में पनही न हती, कहँ लै गजराजहु ठाढ़े महावत।। भूमि कठोर पै रात कटै, कहँ कोमल सेज पै नींद न आवत।। वैफ जुरतो नहिं कोदो सवाँ, प्रभु के परताप तें दाख न भावत।। - नरोत्तमदास कविता से 1.सुदामा की दीनदशा देखकर श्रीकृष्ण की क्या मनोदशा हुइर्? अपने शब्दों में लिख्िाए। 2.फ्पानी परात को हाथ छुयो नहिं, नैनन के जल सों पग धेए।य् पंक्ित में वण्िार्त भाव का वणर्न अपने शब्दों में कीजिए। 3.फ्चोरी की बान में हौ जू प्रवीने।य् सुदामा चरित 69 ;कद्ध उपयुर्क्त पंक्ित कौन, किससे कह रहा है? ;खद्ध इस कथन की पृष्ठभूमि स्पष्ट कीजिए। ;गद्ध इस उपालंभ ;श्िाकायतद्ध के पीछे कौन - सी पौराण्िाक कथा है? 4.द्वारका से खाली हाथ लौटते समय सुदामा मागर् मंे क्या - क्या सोचते जा रहेथे? वह कृष्ण के व्यवहार से क्यों खीझ रहे थे? सुदामा के मन की दुविधा को अपने शब्दों में प्रकट कीजिए। 5.अपने गाँव लौटकर जब सुदामा अपनी झोंपड़ी नहीं खोज पाए तब उनके मन में क्या - क्या विचार आए? कविता के आधर पर स्पष्ट कीजिए। 6.निध्र्नता के बाद मिलनेवाली संपन्नता का चित्राण कविता की अंतिम पंक्ितयों में वण्िार्त है। उसे अपने शब्दों में लिख्िाए। कविता से आगे 1.द्रुपद और द्रोणाचायर् भी सहपाठी थे, इनकी मित्राता और शत्राुता की कथा महाभारत से खोजकर सुदामा के कथानक से तुलना कीजिए। 2.उच्च पद पर पहुँचकर या अध्िक समृ( होकर व्यक्ित अपने निध्र्न माता - पिता - भाइर् - बंध्ुओं से नजर पेफरने लग जाता है, ऐसे लोगों के लिए सुदामा चरित वैफसी चुनौती खड़ी करता है? लिख्िाए। अनुमान और कल्पना 1.अनुमान कीजिए यदि आपका कोइर् अभ्िान्न मित्रा आपसे बहुत वषो± बाद मिलने आए तो आप को वैफसा अनुभव होगा? 2.कहि रहीम संपति सगे, बनत बहुत बहु रीति। विपति कसौटी जे कसे तेइर् साँचे मीत।। इस दोहे में रहीम ने सच्चे मित्रा की पहचान बताइर् है। इस दोहे से सुदामा चरित की समानता किस प्रकार दिखती है? लिख्िाए। भाषा की बात ऽ फ्पानी परात को हाथ छुयो नहिं, नैनन के जल सो पग धेएय् उफपर लिखी गइर् पंक्ित को ध्यान से पढि़ए। इसमें बात को बहुत अध्िक वसंत भाग 3 बढ़ा - चढ़ाकर चित्रिात किया गया है। जब किसी बात को इतना बढ़ा - चढ़ाकर प्रस्तुत किया जाता है तो वहाँ पर अतिशयोक्ित अलंकार होता है। आप भी कविता में से एक अतिशयोक्ित अलंकार का उदाहरण छाँटिए। 1.इस कविता को एकांकी में बदलिए और उसका अभ्िानय कीजिए। 2.कविता के उचित सस्वर वाचन का अभ्यास कीजिए। 3.‘मित्राता’ संबंध्ी दोहों का संकलन कीजिए।

>ch12>

Vasant Bhag 3 Chapter-12






12

सुदामा चरित


सीस पगा न झँगा तन में, प्रभु! जाने को आहि बसे केहि ग्रामा।

धोती फटी-सी लटी दुपटी, अरु पाँय उपानह को नहिं सामा।।

द्वार खड़ो द्विज दुर्बल एक, रह्यो चकिसाें बसुधा अभिरामा।

पूछत दीनदयाल को धाम, बतावत आपनो नाम सुदामा।।



एेसे बेहाल बिवाइन सों, पग कंटक जाल लगे पुनि जोए।

हाय! महादुख पायो सखा, तुम आए इतै न कितै दिन खोए।।

देखि सुदामा की दीन दसा, करुना करिकै करुनानिधि रोए।

पानी परात को हाथ छुयो नहिं, नैनन के जल सों पग धोए।।


कछु भाभी हमको दियो, सो तुम काहे न देत।

चाँपि पोटरी काँख में, रहे कहो केहि हेतु।।


आगे चना गुरुमातु दए ते, लए तुम चाबि हमें नहिं दीने।

स्याम कह्यो मुसकाय सुदामा सों, "चोरी की बान में हौ जू प्रवीने।।

पोटरि काँख में चाँपि रहे तुम, खोलत नाहिं सुधा रस भीने।

पाछिलि बानि अजौ न तजो तुम, तैसई भाभी के तंदुल कीन्हे।।"


वह पुलकनि, वह उठि मिलनि, वह आदर की बात।

वह पठवनि गोपाल की, कछू न जानी जात।।

घर-घर कर ओड़त फिरे, तनक दही के काज।

कहा भयो जो अब भयो, हरि को राज-समाज।

हौं आवत नाहीं हुतौ, वाही पठयो ठेलि।।

अब कहिहौं समुझाय कै, बहु धन धरौ सकेलि।।


वैसोई राज-समाज बने, गज, बाजि घने मन संभ्रम छायो।

कैधों पर्यो कहुँ मारग भूलि, कि फैरि कै मैं अब द्वारका आयो।।

भौन बिलोकिबे को मन लोचत, सोचत ही सब गाँव मझायो।

पूँछत पाँडे फिरे सब सों, पर झोपरी को कहुँ खोज न पायो।


कै वह टूटी-सी छानी हती, कहँ कंचन के अब धाम सुहावत।

कै पग में पनही न हती, कहँ लै गजराजहु ठाढ़े महावत।।

भूमि कठोर पै रात कटै, कहँ कोमल सेज पै नींद न आवत।।

कै जुरतो नहिं कोदो सवाँ, प्रभु के परताप तें दाख न भावत।।


-नरोत्तमदास

प्रश्न-अभ्यास


कविता से

1. सुदामा की दीनदशा देखकर श्रीकृष्ण की क्या मनोदशा हुई? अपने शब्दों
में लिखिए।

2. "पानी परात को हाथ छुयो नहिं, नैनन के जल सों पग धोए।" पंक्ति में वर्णित भाव का वर्णन अपने शब्दों में कीजिए।

3. "चोरी की बान में हौ जू प्रवीने।"

(क) उपर्युक्त पंक्ति कौन, किससे कह रहा है?

(ख) इस कथन की पृष्ठभूमि स्पष्ट कीजिए।

(ग) इस उपालंभ (शिकायत) के पीछे कौन-सी पौराणिक कथा है?

4. द्वारका से खाली हाथ लौटते समय सुदामा मार्ग में क्या-क्या सोचते जा रहे थे? वह कृष्ण के व्यवहार से क्यों खीझ रहे थे? सुदामा के मन की दुविधा को अपने शब्दों में प्रकट कीजिए।

5. अपने गाँव लौटकर जब सुदामा अपनी झोंपड़ी नहीं खोज पाए तब उनके मन में क्या-क्या विचार आए? कविता के आधार पर स्पष्ट कीजिए।

6. निर्धनता के बाद मिलनेवाली संपन्नता का चित्रण कविता की अंतिम पंक्तियों में वर्णित है। उसे अपने शब्दों में लिखिए।

कविता से आगे

1. द्रुपद और द्रोणाचार्य भी सहपाठी थे, इनकी मित्रता और शत्रुता की कथा महाभारत से खोजकर सुदामा के कथानक से तुलना कीजिए।

2. उच्च पद पर पहुँचकर या अधिक समृद्ध होकर व्यक्ति अपने निर्धन माता-पिता-भाई-बंधुओं से नजर फेरने लग जाता है, एेसे लोगों के लिए सुदामा चरित कैसी चुनौती खड़ी करता है? लिखिए।

अनुमान और कल्पना

1. अनुमान कीजिए यदि आपका कोई अभिन्न मित्र आपसे बहुत वर्षों बाद मिलने आए तो आप को कैसा अनुभव होगा?

2. कहि रहीम संपति सगे, बनत बहुत बहु रीति।

विपति कसौटी जे कसे तेई साँचे मीत।।

इस दोहे में रहीम ने सच्चे मित्र की पहचान बताई है। इस दोहे से सुदामा चरित की समानता किस प्रकार दिखती है? लिखिए।

भाषा की बात

 "पानी परात को हाथ छुयो नहिं, नैनन के जल सो पग धोए"

ऊपर लिखी गई पंक्ति को ध्यान से पढ़िए। इसमें बात को बहुत अधिक बढ़ा-चढ़ाकर चित्रित किया गया है। जब किसी बात को इतना बढ़ा-चढ़ाकर प्रस्तुत किया जाता है तो वहाँ पर अतिशयोक्ति अलंकार होता है। आप भी कविता में से एक अतिशयोक्ति अलंकार का उदाहरण छाँटिए।

कुछ करने को

1. इस कविता को एकांकी में बदलिए और उसका अभिनय कीजिए।

2. कविता के उचित सस्वर वाचन का अभ्यास कीजिए।

3. ‘मित्रता’ संबंधी दोहों का संकलन कीजिए।

शब्दार्थ

पगा – पगड़ी

झँगा – ढीला कुरता

आहि – है

लटी – लटकना

दुपटी – अंगोछा, गमछा

उपानह – जूता

द्विज – ब्राह्मण

चकिसाें – चकित, विस्मित

वसुधा – पृथ्वी

बिवाइन – पाँव की एड़ी का

फटना

अभिरामा – सुंदर

जोए – ढूँढ़ना

परात – थाली की तरह का पीतल आदि धातु से बना एक बड़ा और गहरा बरतन

पाछिली – पिछला

पुलकनि – खुशी, उमंग

पठवनि – भेजना, विदाई

बिलोकिबे – देखना

मझायो – बीच में

सुहावत – सुंदर/भला लगना

पनही – जूता

महावत – हाथीवान

जुरत – जुटना, प्राप्त होना


RELOAD if chapter isn't visible.