ुै ेु 6ण्1 भूमिका । आप देख चुके हैं कि त्रिाभुज, तीन रेखाखंडों से बनी एक बंद सरल आ.ति है । इसके तीन षीषर्, तीन भुजाएँ व तीन कोण होते हैं । यहाँ एक Δ।ठब् ;आ.ति 6ण्1द्ध है। इसमें हैं: भुजाएँ रू ।ठ ए ठब् ए ब्। कोण रू ∠ठ।ब्ए ∠।ठब्ए ∠ठब्। ठ आण्ति 6ण्1 षीषर् रू ।ए ठए ब् षीषर् ।की सम्मुुुेुेेंख भजा ठब् है । क्या आप भजा ।ठ वफ सम्मख काण का नाम बता सकतहै? आपजानते ंकित्रिाभुेकावगीर्करण ;पद्ध भजाआं;पपद्ध कोेवफआधरपरकिसपकारकिया ्रहैजां ुेणांेजाता है । ;पद्ध भजाआं ेुुेवफ आधर पर: विषमबाहु, समद्विबाहु तथा समबाहु त्रिाभज । ;पपद्ध काणांेूेेेुेेवफ आधर पर: न्यन काण, अध्िक काण तथा समकाण त्रिाभज । उफपरबताएगए,सभी प्रेुेवफआकारांवेूे।कार वफ त्रिाभजां ेेफ नमन, काग अपने नमूेकी, साथ्िायां वेूेसतलना कीजिए आर उनवफ बारमं चचार् कीजिए । नां ेफनमनांेुैेेेपयास कीजिए 1ण् Δ।ठब् वफ छः अवयवां ;तीन भुेतथा तीन काणांेेेजाआं ेेफ नाम लिख्िाए । द्धव2ण् लिख्िाएः ;पद्ध Δच्फत् के षीषर् फ की सम्मुख भजा ु;पपद्ध Δस्डछ की भुजा स्ड का सम्मुख काण े;पपपद्ध Δत्ैज् की भुजा त्ज् का सम्मुख षीषर् गण्िात 3ण् आ.ति 6ण्2 देख्िाए तथा त्रिाभुजों मंेप्रत्येक का वगीर्करण कीजिए: ;ंद्ध भुेवफ आधर पर ;इद्ध कोेवफ आधर पर जाआं ेणां ेआण्ति 6ण्2 आइए,त्रिाभुेवफबारमंवुैेकाप्रे।जां ेे ेफछ आर अध्िक जाननयास करं6ण्2 त्रिाभुँज की माियकाएआपजानते ं ेंहैकि एक दिए गए रखाखड का लब समद्विभाजक काग वैेफसज्ञात किया जाता है। काग ।ठब् काटिए ;आ.ति6ण्3द्ध । इसकी कोइर् एक भुजा, मानों ठब् लीजिए । काग ठब् का लब समद्विभाजक ज्ञात कीजिए । काग ंकी तह,भुेक् पर काटती है जो उसका मŁय flबदु है । षीषर् । को ेजा ठब् काक् समिलाइए । आण्ति 6ण्3 रेंभुेु क् को सम्मुर् े मिलाता है, त्रिाभुखाखड ।क्ए जाजा ठब् वफ मŁयflबदख षीष। सजकी एक माियका है । भुँ ।ठ तथा ब्। लेुेऔँजाएकर, इस त्रिाभज की दार माियकाएखींचिए । माियका,त्रिाभुेर् ेुुेे ैज वफ एक षीषका, सम्मख भजा वफ मŁय flबदु समिलाती ह। त्रिाभुैेुज आर उसवफ गण 1ण् एक त्रिाभुज में कितनी माियकाएँ हो सकती हैं ? 2ण् क्या एक माियका पणतया त्रिाभज वफ अदर मं ेे ंूर्ुेंस्िथतहाती है?;यदिआपसमझतहैकि यह सत्य नहीं है तो ेउस स्िथति वफ लिए एक आ.ति खींचिए ।द्ध 6ण्3 त्रिाभुेर्ंज वफ षीषलब त्रिाभुेे ुेज वफ आकार वाला ग ाका एक टकड़ा ।ठब् लीजिए । इसएक मेर्ँर्ज पर सीध उफŁवाध्र खड़ा कीजिए । इसकी उफचाइकितनी है ? यह उँर्षीषर् ेभुूफचाइ। सजा ठब् तक की दरी है ;आ.ति 6.4द्ध । षीषर्ेभुेेंजासकते ं। सजा ठब् तक अनक रखाखड खींचहै;आ.ति 6ण्5द्ध। इनमेसत्रिाभज की उफचाइर् कान - सी रखाखड पद£षत ंेुँैें्रकरती है ? वह रें षीषर् े सीध उफŁवार्े ठब् तक औखाखड जा। सध्र नीचर उसपरलंेँर् ेबवत हाता है, इसकी उफचाइहाती है । खाखड।स् त्रिाभज का एक षीषलब है । षीषर्लंतflबदुुेर्परऔूंुसम्मुुजा बकाएकअ,त्रिाभजवफएकषीषरदसराअतflबदखभबनाने वाली रेेता है । प्रेक षीषर् े एक षीषर्ंैखा पर स्िथत हात्यसलब खींचा जा सकता ह। न्यूेसमकाण अध्िक कोन काण ेण ;पद्ध ;पपद्ध ;पपपद्ध आण्ति6ण्6 3ण् क्या एक षीषलंणतया त्रिाभज वफ अभ्यतर मं सदैेेर्बपूर्ुेंवस्िथतहागा?;यदिआपसमझतहैंेेेकि यह सत्य हाना आवष्यक नहीं है ताउस स्िथति वफ लिए एक आ.ति खींचिए । 4ण् क्या आप काइर् ऐज साच सकते हैऋ जिसवेे षीषर्ंे भुँ ही हो?ेसात्रिाभुेंफदालबउसकी दाजाएं 5ण् क्या किसी त्रिाभुज की माियका व षीषर्लंब एक ही रेखाखंड हो सकता है ? ;संे्रे्रे्रेुेर्ंेवफतः पष्न 4 व 5 वफ लिए, पत्यक पकार वफ त्रिाभज वफ षीषलब खींचकर खाज करिए ।द्ध गण्िात 1ण् Δ च्फत् मंुुेभजा फत् का मŁय flबदक् है च्ड ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ है । च्क् ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ है । क्याफड त्र डत् ? 2ण् निम्न के लिए अनुमान से आ.ति खींचिए । ;ंद्ध Δ।ठब् मंे,ठम् एक माियका है । ;इद्ध Δच्फत् मंुेर्ं।ए च्फ तथा च्त् त्रिाभलेज वफ षीषब है;बद्ध Δग्ल्र् मेंलर्ंफ बहिभोर्ग मंेहै । , ल्स् एक षीषब उसव3ण् आ.ति खींचकर पष्िट कीजिए कि एक समद्विबाहु त्रिाभज मं र्ंुुेषीषलब व माियका एक ही रेंसकताहै। खाखड हा6ण्4 त्रिाभुें ेुज का बामय काण एवइसवफ गण

RELOAD if chapter isn't visible.