वैफपफी आशमी़;1919.2002द्ध अतहर हुसैन रिशवी का जन्म 19 जनवरी 1919 को उत्तर प्रदेश के आशमगढ़ िाले में मजमां गाँव में हुआ। अदब की दुनिया में आगे चलकर वे वैफप़्ाफी आशमी नाम से मशहूर हुए। वैफपफी आशमी की गणना प्रगतिशील उदूर् कवियों की पहली़पंक्ित में की जाती है। वैफप़फी की कविताओं में एक ओर सामाजिक और राजनैतिक जागरूकता का समावेश है तो दूसरी ओर हृदय की कोमलता भी है। अपनी युवावस्था में मुशायरों में वाह - वाही पानेे वाले वफप्ैा़फी आशमी ने प्िाफल्मों के लिए सैकड़ों बेहतरीन गीत भी ़लिखे हैं। 10 मइर् 2002 को इस दुनिया से रफखसत हुए वैफपफी के पाँच कविता संग्रह़झंकार, आख्िार - ए - शब, आवारा सशदे, सरमाया और प्िाफल्मी गीतों का संग्रह़मेरी आवाश सुनो प्रकाश्िात हुए। अपने रचनाकमर् के लिए वैफपफी को साहित्य अकादेमी़पुरस्कार सहित कइर् पुरस्कारों से नवाजा गया। वैफपफी कलाकारों के परिवार से थे।़इनके तीनों बड़े भाइर् भी शायर थे। पत्नी शौकत आशमी, बेटी शबाना आशमी मशहूर अभ्िानेत्रिायाँ हैं। पाठ प्रवेश ¯शदगी प्राणीमात्रा को पि्रय होती है। कोइर् भी इसे यूँ ही खोना नहीं चाहता। असाध्य रोगी तक जीवन की कामना करता है। जीवन की रक्षा, सुरक्षा और उसे जिलाएरखने के लिए प्रकृति ने न केवल तमाम साधन ही उपलब्ध कराए हैं, सभी जीव - जंतुओं में उसे बनाए, बचाए रखने की भावना भी पिरोइर् है। इसीलिए शांतिपि्रय जीव भी अपने प्राणों पर संकट आया जान उसकी रक्षा हेतु मुकाबले के लिए तत्पर हो जाते हंै। लेकिन इससे ठीक विपरीत होता है सैनिक का जीवन, जो अपने नहीं, जब औरों के जीवन पर, उनकी आशादी पर आ बनती है, तब मुकाबले के लिए अपना सीना तान कर खड़ा हो जाता है। यह जानते हुए भी कि उस मुकाबले में औरों की ¯शदगी और आशादी भले ही बची रहे, उसकी अपनी मौत की संभावना सबसे अिाक होती ह।ैप्रस्तुत पाठ जो यु( की पृष्ठभूमि पर बनी प्िाफल्म ‘हकीकत’ के लिए लिखा़गया था, ऐसे ही सैनिकों के हृदय की आवाश बयान करता है, जिन्हें अपने किए - धरे पर नाश है। इसी के साथ इन्हें अपने देशवासियों से वुफछ अपेक्षाएँ भी हैं। चूँकि जिनसे उन्हंे वे अपेक्षाएँ हैं वे देशवासी और कोइर् नहीं, हम और आप ही हैं, इसलिए आइए, इसे पढ़कर अपने आप से पूछें कि हम उनकी अपेक्षाएँ पूरी कर रहे हैं या नहीं? ़ कर चले हम प्िाफदा ़कर चले हम प्ि़ाफदा जानो - तन साथ्िायो अब तुम्हारे हवाले वतन साथ्िायो साँस थमती गइर्, नब्श जमती गइर् पिफर भी बढ़ते कदम को न रफकने दिया कट गए सर हमारे तो वुफछ गम नहीं सर हिमालय का हमने न झुकने दिया मरते - मरते रहा बाँकपन साथ्िायो अब तुम्हारे हवाले वतन साथ्िायो ¯शदा रहने के मौसम बहुत हैं मगर जान देने की रुत रोश आती नहीं हुस्न और इश्क दोनों को रफस्वा करे वो जवानी जो खूँ में नहाती नहीं आज धरती बनी है दुलहन साथ्िायो अब तुम्हारे हवाले वतन साथ्िायो राह वुफबार्नियों की न वीरान हो तुम सजाते ही रहना नए काप्िाफल़े प़्ाफतह का जश्न इस जश्न के बाद है ¯शदगी मातै से मिल रही है गले बाँध लो अपने सर से कप़्ाफन साथ्िायो अब तुम्हारे हवाले वतन साथ्िायो खींच दो अपने खूँ से शमीं पर लकीर इस तरप़्ाफ आने पाए न रावन कोइर् तोड़ दो हाथ अगर हाथ उठने लगे छू न पाए सीता का दामन कोइर् राम भी तुम, तुम्हीं लक्ष्मण साथ्िायो अब तुम्हारे हवाले वतन साथ्िायो। प्रश्न - अभ्यास ;कद्ध निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर दीजिएμ 1.क्या इस गीत की कोइर् ऐतिहासिक पृष्ठभूमि है? 2.‘सर हिमालय का हमने न झुकने दिया’, इस पंक्ित में हिमालय किस बात का प्रतीक है? 3.इस गीत में धरती को दुलहन क्यों कहा गया है? 4.गीत में ऐसी क्या खास बात होती है कि वे जीवन भर याद रह जाते हैं? 5.कवि ने ‘साथ्िायो’ संबोधन का प्रयोग किसके लिए किया है? 6.कवि ने इस कविता में किस काप्िाफले को आगे बढ़ाते रहने की बात कही है? ़7.इस गीत में ‘सर पर कपफन बाँधना’ किस ओर संकेत करता है? ़8.इस कविता का प्रतिपाद्य अपने शब्दों में लिख्िाए। ;खद्ध निम्नलिख्िात का भाव स्पष्ट कीजिएμ 1.साँस थमती गइर्, नब्श जमती गइर् पिफर भी बढ़ते कदम को न रफकने दिया 2.खींच दो अपने खूँ से शमीं पर लकीर इस तरपफ आने पाए न रावन कोइर्र् ़3.छू न पाए सीता का दामन कोइर् राम भी तुम, तुम्हीं लक्ष्मण साथ्िायो भाषा अध्ययन 1.इस गीत में वुफछ विश्िाष्ट प्रयोग हुए हैं। गीत के संदभर् में उनका आशय स्पष्ट करते हुए अपने वाक्यों में प्रयोग कीजिए। कट गए सर, नब्श जमती गइर्, जान देने की रफत, हाथ उठने लगे 2.ध्यान दीजिए संबोधन में बहुवचन ‘शब्द रूप’ पर अनुस्वार का प्रयोग नहीं होताऋ जैसेμभाइयो, बहिनो, देवियो, सज्जनो आदि। योग्यता विस्तार 1.वैफपफी आशमी उदूर् भाषा के एक प्रसि( कवि और शायर थे। येे पहले गशल लिखते थे। बाद में प्ि़ाफल्मों़में गीतकार और कहानीकार के रूप में लिखने लगे। निमार्ता चेतन आनंद की प्िाफल्म ‘हकीकत’ के लिए ़इन्होंने यह गीत लिखा था, जिसे बहुत प्रसिि मिली। यदि संभव हो सके तो यह प्िाफल्म देख्िाए। ़2.‘प्िाफल्म का समाज पर प्रभाव’ विषय पर कक्षा में परिचचार् आयोजित कीजिए। ़3.वैफप़्ाफी आशमी की अन्य रचनाओं को पुस्तकालय से प्राप्त कर पढि़ए और कक्षा में सुनाइए। इसके साथ ही उदूर् भाषा के अन्य कवियों की रचनाओं को भी पढि़ए। 4.एन.सी.इर्.आर.टी. द्वारा वैफप़्ाफी आशमी पर बनाइर् गइर् प्ि़ाफल्म देखने का प्रयास कीजिए। परियोजना कायर् 1.सैनिक जीवन की चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए एक निबंध लिख्िाए। 2.आशाद होने के बाद सबसे मुश्िकल काम है ‘आशादी बनाए रखना’। इस विषय पर कक्षा में चचार् कीजिए। 3.अपने स्वूफल के किसी समारोह पर यह गीत या अन्य कोइर् देशभक्ितपूणर् गीत गाकर सुनाइए। शब्दाथर् और टिप्पण्िायाँ प्ि़ाफदा - न्योछावर हवाले - सौंपना रुत - मौसम हुस्न - सुंदरता रुस्वा - बदनाम खूँ - खून काप्ि़ाफले - यात्रिायों का समूह पफतह़ - जीत जश्न - खुशी मनाना नब्श - नाड़ी वुफबार्नियाँ - बलिदान शमीं - शमीन लकीर - रेखा

>chapter-8>

kaifiAzmi.png

SparshBhag2-008

oSQI+kQh vk”keh

(1919&2002)


vrgj gqlSu fj”koh dk tUe 19 tuojh 1919 dks mÙkj izns'k osQ vk”kex < +f”kys esa eteka xk¡o esa gqvkA vnc dh nqfu;k esa vkxs pydj os oSQI+kQh vk”kehuke ls e'kgwj gq,A oSQI+kQh vk”keh dh x.kuk izxfr'khy mnwZ dfo;ksa dh igyh iafDr esa dh tkrh gSA

oSQI+kQh dh dforkvksa esa ,d vksj lkekftd vkSj jktuSfrd tkx:drk dklekos'k gS rks nwljh vksj ân; dh dkseyrk Hkh gSA viuh ;qokoLFkk esaeq'kk;jksaesa okg&okgh ikuss okys oSQI+kQh vk”keh us fI+kQYeksa osQ fy, lSdM+ksa csgrjhu xhr Hkh fy[ks gSaA

10 ebZ 2002 dks bl nqfu;k ls jQ[klr gq, oSQI+kQh osQ ik¡p dfork laxzg>adkj]vkf[kj&,&'kc] vkokjk l”kns] ljek;kvkSj fI+kQYeh xhrksa dk laxzg esjh vkok”k lquks izdkf'kr gq,A vius jpukdeZ osQ fy, oSQI+kQh dks lkfgR; vdknseh iqjLdkj lfgr dbZ iqjLdkjksa ls uoktk x;kA oSQI+kQh dykdkjksa osQ ifjokj ls FksA buosQ rhuksa cM+s HkkbZ Hkh 'kk;j FksA iRuh 'kkSdr vk”keh] csVh 'kckuk vk”keh e'kgwj vfHkusf=k;k¡ gSaA


ikB izos'k

¯”knxh izk.khek=k dks fiz; gksrh gSA dksbZ Hkh bls ;w¡ gh [kksuk ugha pkgrkA vlkè; jksxh rd thou dh dkeuk djrk gSA thou dh j{kk] lqj{kk vkSj mls ftyk, j[kus osQ fy, izÑfr us u osQoy reke lkèku gh miyCèk djk, gSa] lHkh tho&tarqvksa esa mls cuk,] cpk, j[kus dh Hkkouk Hkh fijksbZ gSA blhfy, 'kkafrfiz; tho Hkh vius izk.kksa ij ladV vk;k tku mldh j{kk gsrq eqdkcys osQ fy, rRij gks tkrs gaSA

ysfdu blls Bhd foijhr gksrk gS lSfud dk thou] tks vius ugha] tc vkSjksa osQ thou ij] mudh vk”kknh ij vk curh gS] rc eqdkcys osQ fy, viuk lhuk rku dj [kM+k gks tkrk gSA ;g tkurs gq, Hkh fd ml eqdkcys esa vkSjksa dh ¯”knxh vkSj vk”kknh Hkys gh cph jgs] mldh viuh ekSr dh laHkkouk lcls vfèkd gksrh gSA

izLrqr ikB tks ;q¼ dh i`"BHkwfe ij cuh fI+kQYe ^gdhdr* osQ fy, fy[kk x;k Fkk] ,sls gh lSfudksa osQ ân; dh vkok”k c;ku djrk gS] ftUgsa vius fd,&èkjs ij uk”k gSA blh osQ lkFk bUgsa vius ns'kokfl;ksa ls oqQN vis{kk,¡ Hkh gSaA pw¡fd ftuls mUgas os vis{kk,¡ gSa os ns'koklh vkSj dksbZ ugha] ge vkSj vki gh gSa] blfy, vkb,] bls i<+dj vius vki ls iwNsa fd ge mudh vis{kk,¡ iwjh dj jgs gSa ;k ugha\

dj pys ge fI+kQnk

dj pys ge fI+kQnk tkuks&ru lkfFk;ks

vc rqEgkjs gokys oru lkfFk;ks

lk¡l Fkerh xbZ] uC”k terh xbZ

fiQj Hkh c<+rs dne dks u jQdus fn;k

dV x, lj gekjs rks oqQN xe ugha

lj fgeky; dk geus u >qdus fn;k


ejrs&ejrs jgk ck¡diu lkfFk;ks

vc rqEgkjs gokys oru lkfFk;ks


¯”knk jgus osQ ekSle cgqr gSa exj

tku nsus dh #r jks”k vkrh ugha

gqLu vkSj b'd nksuksa dks jQLok djs

oks tokuh tks [kw¡ esa ugkrh ugha


vkt èkjrh cuh gS nqYkgu lkfFk;ks

vc rqEgkjs gokys oru lkfFk;ks


jkg oqQckZfu;ksa dh u ohjku gks

rqe ltkrs gh jguk u, dkfI+kQys

I+kQrg dk t'u bl t'u osQ ckn gS

¯”knxh ekSr ls fey jgh gS xys


ck¡èk yks vius lj ls dI+kQu lkfFk;ks

vc rqEgkjs gokys oru lkfFk;ks


[khap nks vius [kw¡ ls ”keha ij ydhj

bl rjI+kQ vkus ik, u jkou dksbZ

rksM+ nks gkFk vxj gkFk mBus yxs

Nw u ik, lhrk dk nkeu dksbZ

jke Hkh rqe] rqEgha y{e.k lkfFk;ks

vc rqEgkjs gokys oru lkfFk;ksA


iz'u&vH;kl

(d) fuEufyf[kr iz'uksa osQ mÙkj nhft,

1- D;k bl xhr dh dksbZ ,sfrgkfld i`"BHkwfe gS\

2- ^lj fgeky; dk geus u >qdus fn;k*] bl iafDr esa fgeky; fdl ckr dk izrhd gS\

3- bl xhr esa èkjrh dks nqygu D;ksa dgk x;k gS\

4- xhr esa ,slh D;k [kkl ckr gksrh gS fd os thou Hkj ;kn jg tkrs gSa\

5- dfo us ^lkfFk;ks* lacksèku dk iz;ksx fdlosQ fy, fd;k gS\

6- dfo us bl dfork esa fdl dkfI+kQys dks vkxs c<+krs jgus dh ckr dgh gS\

7- bl xhr esa ^lj ij dI+kQu ck¡èkuk* fdl vksj laosQr djrk gS\

8- bl dfork dk izfrik| vius 'kCnksa esa fyf[k,A

([k) fuEufyf[kr dk Hkko Li"V dhft,

1- lk¡l Fkerh xbZ] uC”k terh xbZ

fiQj Hkh c<+rs dne dks u jQdus fn;k

2- [khap nks vius [kw¡ ls ”keha ij ydhj

bl rjI+kQ vkus ik, u jkou dksbZZ

3- Nw u ik, lhrk dk nkeu dksbZ

jke Hkh rqe] rqEgha y{e.k lkfFk;ks

Hkk"kk vè;;u

1- bl xhr esa oqQN fof'k"V iz;ksx gq, gSaA xhr osQ lanHkZ esa mudk vk'k; Li"V djrs gq, vius okD;ksa esa iz;ksx dhft,A

dV x, lj] uC”k terh xbZ] tku nsus dh jQr] gkFk mBus yxs

2- è;ku nhft, lacksèku esa cgqopu ^'kCn :i* ij vuqLokj dk iz;ksx ugha gksrk_ tSlsHkkb;ks] cfguks] nsfo;ks] lTtuks vkfnA

;ksX;rk foLrkj

1- oSQI+kQh vk”keh mnwZ Hkk"kk osQ ,d izfl¼ dfo vkSj 'kk;j FksA ;ss igys x”ky fy[krs FksA ckn esa fI+kQYeksa esa xhrdkj vkSj dgkuhdkj osQ :i esa fy[kus yxsA fuekZrk psru vkuan dh fI+kQYe ^gdhdr* osQ fy, bUgksaus ;g xhr fy[kk Fkk] ftls cgqr izflf¼ feyhA ;fn laHko gks losQ rks ;g fI+kQYe nsf[k,A

2- ^fI+kQYe dk lekt ij izHkko* fo"k; ij d{kk esa ifjppkZ vk;ksftr dhft,A

3- oSQI+kQh vk”keh dh vU; jpukvksa dks iqLrdky; ls izkIr dj if<+, vkSj d{kk esa lqukb,A blosQ lkFk gh mnwZ Hkk"kk osQ vU; dfo;ksa dh jpukvksa dks Hkh if<+,A

4- ,u-lh-bZ-vkj-Vh- }kjk oSQI+kQh vk”keh ij cukbZ xbZ fI+kQYe ns[kus dk iz;kl dhft,A

ifj;kstuk dk;Z

1- lSfud thou dh pqukSfr;ksa dks è;ku esa j[krs gq, ,d fucaèk fyf[k,A

2- vk”kkn gksus osQ ckn lcls eqf'dy dke gS ^vk”kknh cuk, j[kuk*A bl fo"k; ij d{kk esa ppkZ dhft,A

3- vius LowQy osQ fdlh lekjksg ij ;g xhr ;k vU; dksbZ ns'kHkfDriw.kZ xhr xkdj lqukb,A

'kCnkFkZ vkSj fVIif.k;k¡

fI+kQnk & U;ksNkoj

gokys & lkSaiuk

#r & ekSle

gqLu & lqanjrk

#Lok & cnuke

[kw¡ & [kwu

dkfI+kQys & ;kf=k;ksa dk lewg

I+kQrg & thr

t'u & [kq'kh eukuk

uC”k & ukM+h

oqQckZfu;k¡ & cfynku

”keha & ”kehu

ydhj & js[kk

Capture23

RELOAD if chapter isn't visible.