वीरेन डंगवाल;1947द्ध 5 अगस्त 1947 को उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल िाले के कीतिर्नगर में जन्मे वीरेन डंगवाल ने आरंभ्िाक श्िाक्षा नैनीताल में और उच्च श्िाक्षा इलाहाबाद में पाइर्। पेशे से प्राध्यापक डंगवाल पत्राकारिता से भी जुड़े हुए हैं। समाज के साधारण जन और हाश्िाए पर स्िथत जीवन के विलक्षण ब्योरे और दृश्य वीरेन की कविताओं की विश्िाष्टता मानी जाती है। इन्होंने ऐसी बहुत - सी चीशों और जीव - जंतुओं को अपनी कविता का आधार बनाया है जिन्हें हम देखकर भी अनदेखा किए रहते हैं। वीरेन के अब तक दो कविता संग्रह इसी दुनिया में और दुष्चक्र में स्रष्टा प्रकाश्िात हो चुके हैं। पहले संग्रह पर प्रतिष्िठत श्रीकांत वमार् पुरस्कार और दूसरे पर साहित्य अकादेमी पुरस्कार के अलावा इन्हें अन्य कइर् पुरस्कारों से भीसम्मानित किया गया। वीरेन डंगवाल ने कइर् महत्त्वपूणर् कवियों की अन्य भाषाओं में लिखी गइर् कविताओं का ¯हदी में अनुवाद भी किया है। पाठ प्रवेश प्रतीक और धरोहर दो किस्म की हुआ करती हैं। एक वे जिन्हें देखकर या जिनके बारे में जानकर हमें अपने देश और समाज की प्राचीन उपलब्िधयों का भान होता है और दूसरी वे जो हमें बताती हैं कि हमारे पूवर्जों से कब, क्या चूक हुइर् थी, जिसके परिणामस्वरूप देश की कइर् पीढि़यांें को दारुण दुख और दमन झेलना पड़ा था। प्रस्तुत पाठ में ऐसे ही दो प्रतीकों का चित्राण है। पाठ हमें याद दिलाता है कि कभी इर्स्ट इंडिया वंफपनी भारत में व्यापार करने के इरादे से आइर् थी। भारत ने उसका स्वागत ही किया था, लेकिन करते - कराते वह हमारी शासक बन बैठी। उसने वुफछ बाग बनवाए तो वुफछ तोपें भी तैयार कीं। उन तोपों ने इस देश को पिफर से आशाद कराने का सपना साकार करने निकले जाँबाशों को मौत के घाटउतारा। पर एक दिन ऐसा भी आया जब हमारे पूवर्जों ने उस सत्ता को उखाड़ पेंफका। तोप को निस्तेज कर दिया। पिफर भी हमें इन प्रतीकों के बहाने यह याद रखना होगा कि भविष्य में कोइर् और ऐसी वंफपनी यहाँ पाँव न जमाने पाए जिसके इरादे नेक न हों और यहाँ पिफर वही तांडव मचे जिसके घाव अभी तक हमारे दिलों में हरे हैं। भले ही अंत में उनकी तोप भी उसी काम क्यों न आए जिस काम में इस पाठ की तोप आ रही है..तोप वंफपनी बाग के मुहाने पर धर रखी गइर् है यह 1857 की तोप इसकी होती है बड़ी सम्हाल, विरासत में मिले वंफपनी बाग की तरह साल में चमकाइर् जाती है दो बार। सुबह - शाम वंफपनी बाग में आते हैं बहुत से सैलानी उन्हें बताती है यह तोप कि मैं बड़ी जबर उड़ा दिए थे मैंने अच्छे - अच्छे सूरमाओं के धज्जे अपने शमाने में अब तो बहरहाल छोटे लड़कों की घुड़सवारी से अगर यह पफारिग हो़तो उसके उफपर बैठकर चिडि़याँ ही अकसर करती हैं गपशप कभी - कभी शैतानी में वे इसके भीतर भी घुस जाती हैं खास कर गौरैयें वे बताती हैं कि दरअसल कितनी भी बड़ी हो तोप एक दिन तो होना ही है उसका मुँँह बंद। प्रश्न - अभ्यास ;कद्ध निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर दीजिएμ 1 विरासत में मिली चीशों की बड़ी सँभाल क्यों होती है? स्पष्ट कीजिए। 2 इस कविता से आपको तोप के विषय में क्या जानकारी मिलती है? 3 वंफपनी बाग में रखी तोप क्या सीख देती है? 4 कविता में तोप को दो बार चमकाने की बात की गइर् है। ये दो अवसर कौन - से होंगे? ;खद्ध निम्नलिख्िात का भाव स्पष्ट कीजिएμ 1.अब तो बहरहाल छोटे लड़कांे की घुड़सवारी से अगर यह प़्ाफारिग हो तो उसके उफपर बैठकर चिडि़याँ ही अकसर करती हैं गपशप। 2.वे बताती हैं कि दरअसल कितनी भी बड़ी हो तोप एक दिन तो होना ही है उसका मुँह बंद। 3.उड़ा दिए थे मैंने अच्छे - अच्छे सूरमाओं के धज्जे। भाषा अध्ययन 1.कवि ने इस कविता में शब्दों का सटीक और बेहतरीन प्रयोग किया है। इसकी एक पंक्ित देख्िाए ‘धर रखी गइर् है यह 1857 की तोप’। ‘धर’ शब्द देशज है और कवि ने इसका कइर् अथो± में प्रयोग किया है। ‘रखना’, ‘धरोहर’ और ‘संचय’ के रूप में। 2.‘तोप’ शीषर्क कविता का भाव समझते हुए इसका गद्य में रूपांतरण कीजिए। योग्यता विस्तार 1.कविता रचना करते समय उपयुक्त शब्दों का चयन और उनका सही स्थान पर प्रयोग अत्यंत महत्त्वपूणर् है। कविता लिखने का प्रयास कीजिए और इसे समझिए। 2.तेशी से बढ़ती जनसंख्या और घनी आबादी वाली जगहों के आसपास पाको± का होना क्यों शरूरी है? कक्षा में परिचचार् कीजिए। परियोजना कायर् 1.स्वतंत्राता सैनानियों की गाथा संबंध्ी पुस्तक को पुस्तकालय से प्राप्त कीजिए और पढ़कर कक्षा में सुनाइए। शब्दाथर् और टिप्पण्िायाँ मुहाने - प्रवेश द्वार पर धर रखी - रखी गइर् सम्हाल - देखभाल विरासत - पूवर् पीढि़यों से प्राप्त वस्तुएँ सैलानी - दशर्नीय स्थलों पर आने वाले यात्राी सूरमा;ओंद्ध - वीर धज्जे - चिथड़े - चिथड़े करना पफारिग ़ - मुक्त / खाली वंफपनी बाग - गुलाम भारत में ‘इर्स्ट इंडिया वंफपनी’ द्वारा जगह - जगह पर बनवाए गए बाग - बगीचों में से कानपुर में बनवाया गया एक बाग

>chapter-7>

SparshBhag2-007

ohjsu Maxoky

(1947 - 2015)

2100


5 vxLr 1947 dks mÙkjk[kaM osQ fVgjh x<+oky f”kys osQ dhfrZuxj esa tUes ohjsu Maxoky us vkjafHkd f'k{kk uSuhrky esa vkSj mPp f'k{kk bykgkckn esa ikbZA is'ks ls izkè;kid Maxoky i=kdkfjrk ls Hkh tqM+s gq, gSaA

lekt osQ lkèkkj.k tu vkSj gkf'k, ij fLFkr thou osQ foy{k.k C;ksjs vkSj n`'; ohjsu dh dforkvksa dh fof'k"Vrk ekuh tkrh gSA bUgksaus ,slh cgqr&lh ph”kksa vkSj tho&tarqvksa dks viuh dfork dk vkèkkj cuk;k gS ftUgsa ge ns[kdj Hkh vuns[kk fd, jgrs gSaA

ohjsu osQ vc rd nks dfork laxzg blh nqfu;k esa vkSj nq"pØ esa lz"Vk izdkf'kr gks pqosQ gSaA igys laxzg ij izfrf"Br Jhdkar oekZ iqjLdkj vkSj nwljs ij lkfgR; vdknseh iqjLdkj osQ vykok bUgsa vU; dbZ iqjLdkjksa ls Hkh lEekfur fd;k x;kA ohjsu Maxoky us dbZ egÙoiw.kZ dfo;ksa dh vU; Hkk"kkvksa esa fy[kh xbZ dforkvksa dk ¯gnh esa vuqokn Hkh fd;k gSA 28 flracj 2015 dks budk nsgkolku gqvkA

ikB izos'k

izrhd vkSj èkjksgj nks fdLe dh gqvk djrh gSaA ,d os ftUgsa ns[kdj ;k ftuosQ ckjs esa tkudj gesa vius ns'k vkSj lekt dh izkphu miyfCèk;ksa dk Hkku gksrk gS vkSj nwljh os tks gesa crkrh gSa fd gekjs iwoZtksa ls dc] D;k pwd gqbZ Fkh] ftlosQ ifj.kkeLo:i ns'k dh dbZ ihf<+;kasa dks nk#.k nq[k vkSj neu >syuk iM+k FkkA

izLrqr ikB esa ,sls gh nks izrhdksa dk fp=k.k gSA ikB gesa ;kn fnykrk gS fd dHkh bZLV bafM;k oaQiuh Hkkjr esa O;kikj djus osQ bjkns ls vkbZ FkhA Hkkjr us mldk Lokxr gh fd;k Fkk] ysfdu djrs&djkrs og gekjh 'kkld cu cSBhA mlus oqQN ckx cuok, rks oqQN rksisa Hkh rS;kj dhaA mu rksiksa us bl ns'k dks fiQj ls vk”kkn djkus dk liuk lkdkj djus fudys tk¡ck”kksa dks ekSr osQ ?kkV mrkjkA ij ,d fnu ,slk Hkh vk;k tc gekjs iwoZtksa us ml lÙkk dks m[kkM+ isaQdkA rksi dks fuLrst dj fn;kA fiQj Hkh gesa bu izrhdksa osQ cgkus ;g ;kn j[kuk gksxk fd Hkfo"; esa dksbZ vkSj ,slh oaQiuh ;gk¡ ik¡o u tekus ik, ftlosQ bjkns usd u gksa vkSj ;gk¡ fiQj ogh rkaMo eps ftlosQ ?kko vHkh rd gekjs fnyksa esa gjs gSaA Hkys gh var esa mudh rksi Hkh mlh dke D;ksa u vk, ftl dke esa bl ikB dh rksi vk jgh gS---

rksi

oaQiuh ckx osQ eqgkus ij

èkj j[kh xbZ gS ;g 1857 dh rksi

bldh gksrh gS cM+h lEgky] fojklr esa feys

oaQiuh ckx dh rjg

lky esa pedkbZ tkrh gS nks ckjA


lqcg&'kke oaQiuh ckx esa vkrs gSa cgqr ls lSykuh

mUgsa crkrh gS ;g rksi

fd eSa cM+h tcj

mM+k fn, Fks eSaus

vPNs&vPNs lwjekvksa osQ èkTts

vius ”kekus esa


vc rks cgjgky

NksVs yM+dksa dh ?kqM+lokjh ls vxj ;g I+kQkfjx gks

rks mlosQ mQij cSBdj

fpfM+;k¡ gh vdlj djrh gSa xi'ki

dHkh&dHkh 'kSrkuh esa os blosQ Hkhrj Hkh ?kql tkrh gSa

[kkl dj xkSjS;sa


os crkrh gSa fd njvly fdruh Hkh cM+h gks rksi

,d fnu rks gksuk gh gS mldk eq¡¡g canA

iz'u&vH;kl

(d) fuEufyf[kr iz'uksa osQ mÙkj nhft,

1- fojklr esa feyh ph”kksa dh cM+h l¡Hkky D;ksa gksrh gS\ Li"V dhft,A

2- bl dfork ls vkidks rksi osQ fo"k; esa D;k tkudkjh feyrh gS\

3- oaQiuh ckx esa j[kh rksi D;k lh[k nsrh gS\

4- dfork esa rksi dks nks ckj pedkus dh ckr dh xbZ gSA ;s nks volj dkSu&ls gksaxs\

([k) fuEufyf[kr dk Hkko Li"V dhft,

1- vc rks cgjgky

NksVs yM+dkas dh ?kqM+lokjh ls vxj ;g I+kQkfjx gks

rks mlosQ mQij cSBdj

fpfM+;k¡ gh vdlj djrh gSa xi'kiA

2- os crkrh gSa fd njvly fdruh Hkh cM+h gks rksi

,d fnu rks gksuk gh gS mldk eq¡g canA

3- mM+k fn, Fks eSaus

vPNs&vPNs lwjekvksa osQ èkTtsA

Hkk"kk vè;;u

1- dfo us bl dfork esa 'kCnksa dk lVhd vkSj csgrjhu iz;ksx fd;k gSA bldh ,d iafDr nsf[k, ^èkj j[kh xbZ gS ;g 1857 dh rksi*A ^èkj* 'kCn ns'kt gS vkSj dfo us bldk dbZ vFkks± esa iz;ksx fd;k gSA ^j[kuk*] ^èkjksgj* vkSj ^lap;* osQ :i esaA

2- ^rksi* 'kh"kZd dfork dk Hkko le>rs gq, bldk x| esa :ikarj.k dhft,A

;ksX;rk foLrkj

1- dfork jpuk djrs le; mi;qDr 'kCnksa dk p;u vkSj mudk lgh LFkku ij iz;ksx vR;ar egÙoiw.kZ gSA dfork fy[kus dk iz;kl dhft, vkSj bls lef>,A

2- rs”kh ls c<+rh tula[;k vkSj ?kuh vkcknh okyh txgksa osQ vklikl ikdks± dk gksuk D;ksa ”k:jh gS\ d{kk esa ifjppkZ dhft,A

ifj;kstuk dk;Z

1- Lora=krk lSukfu;ksa dh xkFkk laca/h iqLrd dks iqLrdky; ls izkIr dhft, vkSj i<+dj d{kk esa lqukb,A

'kCnkFkZ vkSj fVIif.k;k¡

eqgkus & izos'k }kj ij

èkj j[kh & j[kh xbZ

lEgky & ns[kHkky

fojklr & iwoZ ihf<+;ksa ls izkIr oLrq,¡

lSykuh & n'kZuh; LFkyksa ij vkus okys ;k=kh

lwjek(vksa) & ohj

èkTts & fpFkM+s&fpFkM+s djuk

I+kQkfjx & eqDr @ [kkyh

oaQiuh ckx & xqyke Hkkjr esa ^bZLV bafM;k oaQiuh* }kjk txg&txg ij cuok, x, ckx&cxhpksa esa ls dkuiqj esa cuok;k x;k ,d ckx

Capture23

RELOAD if chapter isn't visible.