अध्याय 13 हम बीमार क्यों होते हैं ियाकलाप ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ13ण्1 ऽ ऽ ऽ ऽ हमने लातूर, भुज, कश्मीर आदि में आए भूकंप अथवा तटवतीर् भाग को प्रभावित करने वाले चक्रवात के विषय में सुना है। आप यह कल्पना करें कि इनके जैसी कितनी संभावित आपदाओं से लोगों का स्वास्थ्य किस प्रकार प्रभावित होगा, यदि ये हमारे आस - पास घटित हों। इन आपदाओं के वास्तव में घटने के समय हमारेऊपर क्या - क्या प्रभाव पड़ेंगे? आपदा घटित होने के पश्चात् कितने समय तक विभ्िान्न प्रकार की स्वास्थ्य संबंध्ी समस्याएँ पैदा होती रहेंगी? पहली स्िथति में ;आपदा के समयद्ध स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ते हैं? तथा दूसरी स्िथति में ;आपदा के पश्चात्द्ध स्वास्थ्य संबंध्ी कौन - कौन सी समस्याएँ उत्पन्न होंगी? इस ियाकलाप के दौरान हमें यह अनुभव होता है कि मानव समुदाय में स्वास्थ्य एवं रोग एक जटिल समस्या है, जिसके लिए एक - दूसरे से संबंिात अनेककारक उत्तरदायी हैं। हम यह भी अनुभव करते हैं कि ‘स्वास्थ्य’ और ‘रोग’ का अथर् स्वयं में बहुत जटिल है। जब हम पूछते हैं कि बीमारियों के क्या कारण हैं और इसकी रोकथाम केस होगी? तो हमें इन अवधारणाओं के अथर् जानने होंगे। हम जानते हैं कि कोश्िाकाएँ सजीवों की मौलिक इकाइर् हैं। कोश्िाकाएँ विभ्िान्न प्रकार के रासायनिक पदाथो±ऋ जैसेμप्रोटीन, काबोर्हाइड्रेट, वसा अथवा लिपिड, आदि से बनी होती हैं। यद्यपि चित्रा में ये स्िथर प्रतीत होती हंै लेकिन इनमें कापफी सियता पाइर् जाती है। ;ॅील क्व ॅम थ्ंसस प्ससद्ध इसके अंदर वुफछ न वुफछ ियाएँ सदैव होती रहती हैं। कोश्िाकाएँ एक स्थान से दूसरे स्थान को गतिशील रहती हंै। यहाँ तक कि जिन कोश्िाकाओं में गति नहीं होती है उनमें भी वुफछ न वुफछ मरम्मत का कायर् चलता रहता है। नइर् - नइर् कोश्िाकाएँ बनती रहती हैं।हमारे अंगों अथवा ऊतकों में बहुत - सी विश्िाष्ट ियाएँ चलती रहती हैंऋ जैसेμहृदय ध्ड़कता है, पफेपफड़े सांस लेते हैं, वृक्क में निस्पंदन द्वारा मूत्रा बनता है, मस्ितष्क सोचता है। ये सभी वि्रफयाएँ परस्पर संबंध्ित हंै। उदाहरणतः यदि वृक्क में निस्पंदन न हो तो विषैले पदाथर् हमारे शरीर में एकत्रा हो जाएँगे। इस परिस्िथति में मस्ितष्क उचित प्रकार से नहीं सोच सकेगा। इन सभी पारस्परिकियाओं को करने के लिए ऊजार् तथा कच्चे पदाथो± की आवश्यकता होती है। ये कच्चे पदाथर् हमारे शरीर को बाहर से प्राप्त होते हैं अथार्त् कोश्िाकाओं तथाऊतकों को कायर् करने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है। ऐसा कोइर् भी कारक जो कोश्िाकाओं एवंऊतकों को उचित प्रकार से कायर् करने से रोकता है, वह हमारे शरीर की समुचित िया में कमी का कारण होगा। उपरोक्त सभी तथ्यों को ध्यान में रखकर हम स्वास्थ्य तथा रोग की अवधरणाओं को समझेंगे। 13ण्1 स्वास्थ्य तथा इसका बिगड़ना 13ण्1ण्1 ‘स्वास्थ्य’ का महत्त्व ;साथर्कताद्ध हम सभी ने ‘स्वास्थ्य’ शब्द को सुना है तथा इस शब्द का प्रयोग भी हम प्रायः करते हैं, जैसे कि हम कहते हैं कि ‘मेरी दादी का स्वास्थ्य अच्छा नहीं है’। हमारे अध्यापक भी इस शब्द का प्रयोग करते हैं जबकहते हैं कि ‘आपकी अभ्िावृिा स्वस्थ नहीं है’। इस ‘स्वास्थ्य’ शब्द का अथर् क्या है? यदि हम इस विषय पर विचार करें तो हमें बोध् होगा कि इनका अथर् ‘अच्छा’ रहने से है। हम इस अच्छापन का अथर् ‘प्रभावी कायर् करना’ सोच सकते हैं। हमारी दादी के लिए बाशार जाना अथवा पास - पड़ोस में जाने योग्य होना ‘अच्छे स्वास्थ्य’ के प्रतीक हैं। यदि वे, ये करने योग्य नहीं हैं तो हम कहते हैं कि उनका स्वास्थ्य अच्छा नहीं है। जब आपकी रुचि कक्षा में पढ़ने की है तो हम कहते हैं किआपकी अभ्िावृिा ठीक है और यदि पढ़ने की रुचिनहीं है तो कहते हैं अभ्िावृिा स्वस्थ नहीं है। अतः ‘स्वास्थ्य’ वह अवस्था है जिसके अंतगर्त शारीरिक, मानसिक तथा सामाजिक कायर् समुचित क्षमता द्वारा उचित प्रकार से किया जा सके। 13ण्1ण्2व्यक्ितगत तथा सामुदायिक समस्याएँः दोनों ही स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं स्वास्थ्य किसी व्यक्ित की शारीरिक, मानसिक तथा सामाजिक जीवन क्षमता की पूणर्रूपेण - समन्वयित स्िथति है तो कोइर् भी व्यक्ित इसे स्वयं ही पूणर्रूपेण प्राप्त नहीं कर सकता। सभी जीवों का स्वास्थ्य उसके पास - पड़ोस अथवा उसके आस - पास के पयार्वरण पर आधरित होता है। पयार्वरण में भौतिक कारक आते हैं। उदाहरणाथर्ः चक्रवात हमारे स्वास्थ्य को अनेक प्रकार से प्रभावित करता है। लेकिन उससे भी महत्वपूणर् यह है कि मानव समाज में रहता है। अतः हमारा सामाजिक पयार्वरण हमारे व्यक्ितगत स्वास्थ्य के लिए अध्िक महत्वपूणर् है। हम गाँवों, कस्बों अथवा शहरों में रहते हैं। ऐसे स्थानों में हमारे भौतिक पयार्वरण का निधर्रण सामाजिक पयार्वरण द्वारा ही होता है। सोचिए कूड़ा - करकट उठाने वाली एजेंसी कचरे का निपटारा न करे तो क्या होगा? सोचिए यदि नालियाँ सापफ न हांे तो क्या होगा? यदि कापफी मात्रा में वूफड़ा - करकट गलियों में पेंफका जाता है अथवा खुले नाले के रुके हुऐ पानी में स्िथर पड़ा रहता है, तो खराब स्वास्थ्य की संभावना बढ़ जाती है। अतः सामुदायिक स्वच्छता व्यक्ितगत स्वास्थ्य के लिए महत्वपूणर् है। ियाकलाप ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ13ण्2 ऽ पता करें कि आपके स्थानीय प्राध्िकरण ;पंचायत/नगर निगमद्ध ने स्वच्छ जल की आपूतिर् के लिए क्या उपाय किए हैं? ऽ क्या आपके मोहल्ले में सभी निवासियों को स्वच्छ जल प्राप्त हो रहा है। ियाकलाप ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ13ण्3 ऽ पता करें कि आपका स्थानीय प्राध्िकरण आपके मोहल्ले में उत्पन्न कचरे का निपटारा वैफसे करता है? ऽ क्या प्राध्िकरण द्वारा किए गए उपाय पयार्प्त हैं? ऽ यदि नहीं, तो इसके सुधर के लिए आप क्या सुझाव देंगे? ऽ आप अपने घर में दैनिक/साप्ताहिक उत्पन्न होने वाले कचरे को कम करने के लिए क्या करेंगे? स्वास्थ्य के लिए हमें भोजन की आवश्यकता होती है। इस भोजन को प्राप्त करने के लिए हमें काम करना पड़ता है। इसके लिए, हमें काम करने के अवसर खोजने पड़ते हैं। अच्छी आथ्िार्क परिस्िथतियाँ तथा कायर् भी व्यक्ितगत स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। स्वस्थ रहने के लिए हमें प्रसन्न रहना आवश्यक है। यदि किसी से हमारा व्यवहार ठीक नहीं है और एक - दूसरे से डर हो तो हम प्रसन्न तथा स्वस्थ नहीं रह सकते। इसलिए व्यक्ितगत स्वास्थ्य के लिए सामाजिक समानता बहुत आवश्यक है। हम इसी प्रकार सोच सकते हैं कि अनेक सामुदायिक समस्याएँ हमारे व्यक्ितगत स्वास्थ्य को वैफसे प्रभावित करती हैं? 13ण्1ण्3‘स्वस्थ रहने’ तथा ‘रोगमुक्त’ में अंतर यदि हम इसे स्वास्थ्य समझते हैं तो रोग अथवा व्याध्ि क्या है? अंग्रेजी का यह शब्द ;क्प्ै़ठ।ैम्द्ध स्वयं को परिभाष्िात करता है ‘बाध्ित आराम’। रोग का दूसरा अथर् है असुविध। यद्यपि इस शब्द के अथर् का प्रयोग बहुत सीमित है। हम रोग के विषय में तब बात करते हैं जब हमें असुविध के विश्िाष्ट कारण का पता होता है। इसका अथर् यह बिलवुफल नहीं है किहम इसका सही तथा अंतिम उत्तर जानंेऋ हम बिना कारण जाने यह कह सकते हैं कि कोइर् व्यक्ित प्रवाहिका से ग्रस्त है। हम यह सरलता से पाते हैं कि बिना किसी विशेष रोग के भी आप अस्वस्थ हो सकते हैं। केवल कोइर् रोग न होने का अथर् यह नहीं कि आप स्वस्थ हैं। नतर्क के लिए अच्छे स्वास्थ्य का अथर् है कि वह श्िाष्टतापूवर्क अपने शरीर द्वारा विषम परिस्िथतियों की मुद्रा अभ्िाव्यक्त कर सके। संगीतकार के लिए इसका अथर् है कि वह लंबा श्वास ले सके जिससे कि वह अपनी बाँसुरी में स्वर को नियंत्रिात कर सके। हमें अपनी विश्िाष्ट क्षमता को प्राप्त करने का अवसर भी वास्तविक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। इस प्रकार हम किसी रोग के लक्षणों की अभ्िाव्यक्ित के बिना भी अस्वस्थ हो सकते हैं। यही कारण है जब हम स्वास्थ्य के विषय में सोचते हैं, हम समाज तथा समुदाय के विषय में सोचते हैं। और रोग के विषय में सोचते समय हम सिपर्फ अपने बारे में विचार करते हैं। श्न 1.अच्छे स्वास्थ्य की दो आवश्यक स्िथतियाँ बताइए।प्र2.रोगमुक्ित की कोइर् दो आवश्यक परिस्िथतियाँ बताइए। 3.क्या उपरोक्त प्रश्नों के उत्तर एक जैसे हैं अथवा भ्िान्न क्यों? 13ण्2 रोग तथा इसके कारण 13ण्2ण्1 रोग किस तरह के दिखाइर् देते हैं? आओ, रोग के विषय में और अध्िक सोचें। पहले यह कि हमें वैफसे पता लगता है कि हमें कोइर् रोग है? अथार्त् वैफसे पता लगता है कि शरीर में वुफछ दोष है? हमने छठे अध्याय में पढ़ा है कि हमारे शरीर में अनेकऊतक होते हैं। ये ऊतक हमारे शरीर के ियात्मक तंत्रों अथवा अंगतंत्रों को बनाते हैं जो शरीर के विभ्िान्न कायो± को संपादित करते हैं। हर अंग तंत्रा का अपना एक विशेष अंग होता है जिसका एक विशेष कायर् होता है। जैसेः पाचन तंत्रा में आमाशय तथा आँत्रा होते हैं, जो हमारे द्वारा खाए गए भोजन को पचाते हं।ैपेश्िायों तथा अस्िथयों से बना पेशी - वंफकाल तंत्रा, हमारे शरीर को संभालता है और शरीर की गति में सहायता करता है। जब कोइर् रोग होता है तब शरीर के एक अथवा अनेक अंगों एवं तंत्रों में िया अथवा संरचना में ‘खराबी’ परिलक्ष्िात होने लगती है। ये बदलाव ;परिवतर्नद्ध रोग के लक्षण दशार्ते हैं। रोग के लक्षण हमें ‘खराबी’ का संकेत देते हैं। इस प्रकार सिरददर्, खाँसी, दस्त, किसी घाव में पस ;मवादद्ध आना, ये सभी लक्षण हैं। इन लक्षणों से किसी - न - किसी रोग का पता लगता है। लेकिन इनसे यह नहीं पता चलता कि कौन - सा रोग है? उदाहरण के लिए, सिरददर् का कारण परीक्षा का भय अथवा इसका अथर् मस्ितष्क का वरण शोथ ;उमदपदहपजपेद्ध होना अथवा दजर्नों विभ्िान्न बीमारियों में से एक हो सकता है।रोग के चिÉ वे हैं जिन्हें चिकित्सक लक्षणों के आधर पर देखते हैं। लक्षण किसी विशेष रोग के बारे में सुनिश्िचत संकेत देते हैं। चिकित्सक रोग के सही कारण को जानने के लिए प्रयोगशाला में वुफछ परीक्षण भी करवा सकता है। 13ण्2ण्2तीव्र ;प्रचंडद्ध तथा दीघर्कालिक रोग ;बीमारीद्ध रोगों की अभ्िाव्यक्ित भ्िान्न - भ्िान्न हो सकती है और कइर् कारकों पर निभर्र करती है। इनमें सबसे स्पष्ट कारक जिससे रोग का पता चलता है, वह है अविा। वुफछ रोगों की अवध्ि कम होती है जिन्हें तीव्र रोग कहते हैं। हम सभी ने अनुभव किया है कि खाँसी - जुकाम बहुत कम अवध्ि तक रहते हंै। अन्य ऐसे रोग हैं जो लंबी अवध्ि तक अथवा जीवनपय±त रहते हैं, ऐसे रोगों को दीघर्कालिक रोग कहते हैं। इसका एक उदाहरण एलिप़ेफनटाइसिस अथवा पफीलपाँव रोग है। यह भारत के वुफछ क्षेत्रों में बहुत आम है। ियाकलाप ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ13ण्4 ऽ निम्न का पता करने के लिए अपने पास - पड़ोस का पयार्वलोकन करंेः ऽ पिछले तीन महीनों में कितने लोग तीव्र रोगों से ग्रसित हुए? ऽ पिछले तीन महीनों में कितने लोग दीघर्कालिक रोग से ग्रसित हुए? ऽ आपके पड़ोस में वुफल कितने लोग दीघर्कालिक रोग से पीडि़त हैं? ऽ क्या उपरोक्त प्रश्न 1 तथा 2 के उत्तर भ्िान्न हैं? ऽ क्या उपरोक्त प्रश्न 2 तथा 3 के उत्तर भ्िान्न हैं? ऽ क्या आप सोच सकते हैं कि इस भ्िान्नता के क्या कारण हो सकते हैं? इस भ्िान्नता का लोगों के सामान्य स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव होगा? 13ण्2ण्3दीघर्कालिक रोग तथा अस्वस्थता जैसा कि हम कल्पना कर सकते हैं कि तीव्र तथा दीघर्कालिक रोगों के हमारे स्वास्थ्य पर भ्िान्न - भ्िान्न प्रभाव होते हंै। कोइर् भी रोग जो हमारे शरीर के किसी भी भाग के कायर् को प्रभावित करता है, तो वह हमारे सामान्य स्वास्थ्य को भी प्रभावित करेगा। क्यांेकि सामान्य स्वास्थ्य के लिए शरीर के सभी अंगों का समुचित कायर् करना आवश्यक है। लेकिन तीव्र रोग, जो बहुत कम समय तक रहता है, उसे सामान्य स्वास्थ्य को प्रभावित करने का समय ही नहीं मिलता। लेकिन दीघर्कालिक रोग हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। हम बीमार क्यों होते हैं उदाहरणतः खाँसी - जुकाम के विषय में सोचो जो हम सभी को प्रायः होता रहता है। हममें से अिाकांश लगभग एक सप्ताह में ठीक हो जाते हैं और हमारे स्वास्थ्य पर कोइर् विशेष वुफप्रभाव नहीं पड़ता। खाँसी - जुकाम के कारण हमारा वजन भी कम नहीं होता, हमारी साँस भी नहीं पूफलती, हम सदैव थकान भी महसूस नहीं करते। लेकिन यदि हम दीघर्कालिक रोग जैसे - पफेपफड़ों के क्षय रोग से संक्रमित हो जाएँ तो कइर् वषो± तक बीमार होने के कारण वजन कम हो जाता है और हर समय थकान महसूस करते हैं। यदि आप तीव्र रोग से पीडि़त हैं तो आप वुफछ दिनों के लिए विद्यालय नहीं जा सकते हैं लेकिन यदि दीघर्कालिक रोग से पीडि़त हैं तो हमें स्वूफल में पढ़ाइर् को समझने में कठिनाइर् होगी और हमारे सीखने की क्षमता भी कम हो जाएगी अथार्त् हम काप़फी समय तक अस्वस्थ रह सकते हैं। इसलिए दीघर्कालिक रोग तीव्र रोग की अपेक्षा लोगों के स्वास्थ्य पर लंबे समय तक विपरीत प्रभाव बनाए रखता है। 13ण्2ण्4रोग के कारक रोग के क्या कारण हंै? जब हम रोग के कारण के विषय में सोचते हैं तब हमें यह याद रखना चाहिए कि इस कारण के बहुत से स्तर होते हैं। आओ, एक उदाहरण लें। यदि कोइर् छोटा बच्चा पतले दस्त ;सववेम उवजपवदेद्ध से ग्रस्त है तो हम कह सकते हैं कि इसका कारण वायरस है। इसलिए रोग का तात्कालिक कारण वायरस है। लेकिन अगला प्रश्न उठता हैμवाइरस कहाँ से आता है ? मान लो कि हमें पता लगता है कि वायरस दूष्िात जल पीने से आता है। लेकिन अन्य बच्चों ने भी तो दूष्िात जल पिया है। तब इसका क्या कारण है कि एक बच्चे को ही दस्त लग गया और दूसरों को नहीं? इसका एक कारण यह हो सकता है कि बच्चा स्वस्थ्य न हो। जिसके परिणामस्वरूप, ऐसा संभव हुआ कि जब यह बच्चा वायरस के संपवर्फ में आता 201 है, तो वह बीमार हो जाता है जबकि अन्य बच्चे नहीं। अब प्रश्न उठता है कि बच्चा स्वस्थ्य क्यों नहीं है? शायद बच्चे का पोषण ठीक न हो और वह पयार्प्त भोजन नहीं करता हो। अतः पयार्प्त पोषण का न होना ही रोग का दूसरा कारण है। बच्चा पयार्प्त पोषण क्यों नहीं पाता? शायद बच्चे के माता - पिता गरीब हों। यह भी संभव है कि बच्चे में आनुवंश्िाक भ्िान्नता हो जो वायरस के संपवर्फ में आने पर पतले दस्त से प्रभावित हो जाता है। केवल आनुवंश्िाक विभ्िान्नता अथवा कम पोषण भी बिना वायरस के पतले दस्त नहीं उत्पन्न कर सकते। लेकिन ये भी रोग के कारण में सहयोगी बनते हैं। बच्चे के लिए साप़फ पानी उपलब्ध् क्यों नहीं था? शायद जहाँ बच्चे का परिवार रहता है वहाँ पर खराब लोक सेवाओं के कारण साप़फ पानी उपलब्ध् न हो। इस प्रकार गरीबी तथा लोक सेवाओं की अनुप्लब्धता बच्चे की बीमारी के तीसरे स्तर के कारण हैं। इस प्रकार अब यह स्पष्ट हो गया है कि सभी रोगों के तात्कालिक कारण तथा सहायक कारण होते हैं। साथ ही विभ्िान्न प्रकार के रोग होने के एक नहीं बल्िक बहुत से कारण होते हैं। 13ण्2ण्5 संक्रामक तथा असंक्रामक कारक हमने देखा कि जब कभी भी रोग के कारण के विषय में सोचंे तो हमें लोक स्वास्थ्य तथा समुदाय स्वास्थ्य संबंध्ी कारकों को ध्यान में रखना आवश्यक है। हम इस विषय में और चचार् करते हैं। रोग के तात्कालिक कारणों के विषय में सोचना अच्छा है, क्योंकि ये दोनों भ्िान्न - भ्िान्न प्रकार के होते हैं। रोग के कारण का एक वगर् है, संक्रामक कारक, जो अध्िकांशतः सूक्ष्म जीव होते हैं। वह रोग जिनके तात्कालिक कारक सूक्ष्म जीव होते हैं उन्हें संक्रामक रोग कहते हैं। इसका कारण यह है कि सूक्ष्म जीव समुदाय में पैफल सकते हैं और इनके कारण होने वाले रोग भी इनके साथ पफैल जाते हैं। इनके विषय में सोचोः 1.क्या रोगी व्यक्ित के संपवर्फ में आने पर सभी रोग पफैल जाते हैं ? 2.ऐसे कौन से रोग हैं जो नहीं पैफलते ? 3.मनुष्यों में वे रोग वैफसे हो जाते हैं, जो रोगी के संपवर्फ में आने से नहीं पैफलते? दूसरी तरप़फ, वुफछ रोग ऐसे होते हैं जो संक्रामक कारकों द्वारा नहीं होते। उनके कारक भ्िान्न होते हैं। लेकिन वे बाहरी कारक जो सूक्ष्म जीव नहीं होते वे समुदाय में पैफल सकते हैं। यद्यपि ये बहुध आंतरिक एवं असंक्रामक हंै। उदाहरणतः, वुफछ प्रकार के वैंफसर आनुवंश्िाक असामान्यता के कारण होते हैं। उच्च रक्त चाप का कारण अिाक वजन होना तथा व्यायाम न करना है। आप ऐसे ही अन्य रोगों के विषय में सोच सकते हैं जो संक्रामक नहीं हैं। पेप्िटक व्रण तथा नोबेल पुरस्कार कइर् वषो± से हम यही सोचते थे कि पेप्िटक व्रण, जो आमाशय तथा ग्रहणी में ऐसिडिटी संबंध्ित ददर् तथा रक्तस्राव करता है, का कारण रहने - सहने का ढंग है। प्रत्येक व्यक्ित सोचता था कि परेशानी भरे जीवन से आमाशय में एसिड का स्राव होता है जिसके कारण पेप्िटक व्रण हो जाता है। दो आस्ट्रेलियाइर् वैज्ञानिकों ने पता लगाया कि एक बैक्टीरिया - हेलीकोबैक्टर पायलोरी पेप्िटक व्रण का कारण है। पथर्, आस्ट्रेलिया के रोग विज्ञानी राॅबिन वाॅरेन ;जन्म सन् 1937द्ध ने इन छोटे - छोटे वक्राकार बैक्टीरियाओं को अनेक रोगियों के आमाशय के निचले भाग में देखा। बैरी माशर्ल ;जन्म सन् 1951द्ध, एक चिकित्सक ने वाॅरेन की खोश में दिलचस्पी ली और उन्होंने इन स्रोतों से बैक्टीरिया का संवधर्न करने में सपफलता प्राप्त की। अपने उपचार अध्ययन में माशर्ल तथा वाॅरेन ने पता लगाया कि रोगी के पेप्िटक व्रण का उपचार तभी हो सकता है जब बैक्टीरियाओं को आमाशय में मार दिया जाए। माशर्ल तथा वाॅरेन के इस अद्भुत कायर् के लिए विश्व समुदाय आभारी है कि पेप्िटक व्रण अब दीघर्कालिक एवं असहाय स्िथति वाला रोग नहीं रहा, बल्िक वुफछ समय तक प्रतिजैविक ;एंटीबायोटिकद्ध के उपचार से ठीक हो जाता है। इस खोश के लिए माशर्ल तथा वाॅरेन को ;चित्रा देखेंद्ध शरीरिया विज्ञान तथा औषध्ि ;उमकपबपदमद्ध के लिए सन् 2005 में संयुक्त रूप में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया। रोगों के पैफलने के तरीके तथा उनके उपचार वफी विध्ियाँ तथा सामुदायिक स्तर पर उनके निवारण वफी विध्ियाँ विभ्िान्न रोगों के लिए भ्िान्न - भ्िान्न होती हैं। यहाँ पर यह निभर्र करता है कि इनके तात्कालिक कारण संक्रामक हैं अथवा असंक्रामक। श्न 1.ऐसे तीन कारण लिख्िाए जिससे आप सोचते हैं कि आप बीमार हैं तथा चिकित्सक के पास जाना चाहते हैंे। यदि इनमें से एक भी लक्षण हो तो क्या आप पिफर भी चिकित्सक के पास जाना चाहेंगे? क्यों अथवा क्यों नहीं ? प्र 2.निम्नलिख्िात में से किसके लंबे समय तक रहने के कारण आप समझते हैं कि आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। तथा क्यों? ऽ यदि आप पीलिया रोग से ग्रस्त हैं। ऽ यदि आपके शरीर पर जूँ ;सपबमद्ध हैं। ऽ यदि आप मुँहासों से ग्रस्त हैं। 13ण्3 संक्रामक रोग 13ण्3ण्1संक्रामक कारक हमने देखा कि सजीव जगत की संपूणर् विविधता को वुफछ ही वगो± में विभाजित किया जा सकता है। विभ्िान्न जीवों का वगीर्करण वुफछ सामान्य गुणों के आधर पर करते हैं। रोग उत्पन्न करने वाले जीव इनमें से अनेक वगो± के अंतगर्त आते हैं। उनमें से वुफछ वाइरस, वुफछ बैक्टीरिया, वुफछ पंफजाइर् ;कवकद्ध, वुफछ एककोश्िाक जंतु अथवा प्रोटोजोआ हैं। वुफछ रोगबहुकोश्िाक जीवों, जैसे अनेक प्रकार के कृमि से भी होते हैं। वाइरस से होने वाले सामान्य रोग हैं खाँसी - जुकाम,इंफ्रलुएंजा, डेंगु बुखार तथा एड्स ;।प्क्ैद्ध। वुफछ रोग जैसे कि टायपफाॅयड बुखार, हैजा, क्षयरोग तथा एंथ्रेक्स बैक्टीरिया द्वारा होते हैं। बहुत से सामान्य त्वचा रोग विभ्िान्न प्रकार की पंफजाइर् द्वारा होते हैं। प्रोटोजोआ से मलेरिया, तथा कालाजार नामक रोग हो जाते हैं। हमआँत्रा कृमि संक्रमण से परिचित हैं। इसी प्रकार पफीलपाँंवनामक रोग भी कृमि की विभ्िान्न स्पीशीश द्वारा होता है। यह क्यों महत्वपूणर् है कि हम संक्रामक कारकोंके इन वगो± के विषय में सोचते हैं? इसका उत्तर यह है कि ये वगर् उपचार की विध्ि निधार्रित करते हैं। इन वगो± के प्रत्येक सदस्यों के जैविक गुणों में समानता है ;जैसे वाइरस, बैक्टीरिया आदिद्ध। उदाहरणतः, सभी वाइरस, परपोषी की कोश्िाकाओं में रहते हैं, लेकिन बैक्टीरिया में ऐसा कम ही होता है। वाइरस, बैक्टीरिया तथा पफंजाइर् में गुणन अत्यंत तेशी से चित्रा 13ण्1;ंद्धरू संक्रमित कोश्िाका से बाहर निकलते हुए ै।त्ै बैक्टीरिया चित्रा में तीर द्वारा इंगित किए गए हैं। चित्रा में सप़ेफद रेखा 500 नैनोमीटर माप को दशार्ती है, जो एक माइक्रोमीटर का आध है। एक माइक्रोमीटर एक मिलीमीटर के एक हशारवें भाग के बराबर है। यह मापचित्रा इस बात को दशार्ता है कि हम कितनी सूक्ष्म वस्तुओं को देख रहे हैं। सौजन्य - इमजि±ग इंपेफक्शस डिसीश, सीडीसी यू. एस. का एक जनर्ल चित्रा 13ण्1;बद्धरू प्रोटोजोआ टिªप्नोसोमा यह निंद्रालु व्याध्ि का कारक है। टिªप्नोसोमा को तस्तरीनुमा लाल रक्त कोश्िाका के साथ प्रदश्िार्त किया गया है जिससे आपको उसके आकार का पता चल सके काॅपीराइटμओरेगाॅज हैल्थ एंड सांइस युनीवसिर्टी, यू.एसचित्रा 13ण्1;कद्धरू लेश्मानियादृकालाशार व्याध्ि कारक प्रोटोजोआ। यह जीव अंडाकार तथा प्रत्येक में एक चाबुकनुमा संरचना होती है। विभाजित होते जीव को तीर द्वारा दशार्या गया है चित्रा 13ण्1;मद्धरू गोलकृमि ;एस्केरिस लुंब्रीकाॅयडिसद्ध छोटी आँत में पाया जाता है। 4बउ के स्केल की माप एक व्यस्क गोलवृफमि के आकार के अनुमान के लिए है होता है जबकि तुलनात्मक रूप से कृमि में गुणन मंद होता है। वगीर्करण के अनुसार सभी बैक्टीरिया एक - दूसरे से वाइरस की अपेक्षा अध्िक निकट होते हैं। ऐसा वाइरस में भी होता है। इसका अथर् यह है कि अनेक जैव प्रियाएँ सभी बैक्टीरियाओं में समान होती हैं, लेकिन वाइरस वगर् से भ्िान्न होंगी। इसके परिणामस्वरूप औषध्ि जो किसी वगर् में किसी एक जैव प्रिया को रोकती है तो यह उस वगर् के अन्य सदस्यों पर भी इसी प्रकार का प्रभाव डालेगी। लेकिन वही औषध्ि अन्य वगर् से संबंध्ित रोगाणुओं पर प्रभाव नहीं डालेगी। हम एंटीबायोटिक का ही उदाहरण लेते हैं। वे सामान्यतः बैक्टीरिया के महत्वपूणर् जैव रासायनिक मागर् को बंद कर देते हैं। उदाहरणतः, बहुत - से बैक्टीरियाअपनी रक्षा के लिए कोश्िाका भ्िािा बना लेते हैं।पेनिसिलीन, एंटीबायोटिक बैक्टीरिया की कोश्िाका भ्िािा बनाने वाली प्रिया को बाध्ित कर देती है। इसकेपरिणामस्वरूप बैक्टीरिया कोश्िाका भ्िािा नहीं बना सकते हैं और वे सरलता से मर जाते हैं। मानव कीकोश्िाकाएँ कोश्िाका भ्िािा नहीं बना सकतीं इसलिए पेनिसिलीन का प्रभाव हम पर नहीं होता। पेनिसिलीन ऐसे सभी बैक्टीरिया को प्रभावित करेंगे जिनमें कोश्िाकाभ्िािा बनाने की प्रिया होती है। इसी प्रकार बहुत से एंटीबायोटिक बैक्टीरिया की अनेक स्पीशीश को प्रभावित करते हैं न कि केवल एक स्पीशीश को। लेकिन वाइरस में ऐसा मागर् नहीं होता और यही कारण है कि कोइर् भी एंटीबायोटिक वाइरस संक्रमण पर प्रभावकारी नहीं है। यदि हम खाँसी - जुकाम से ग्रस्त हैं तो एंटीबायोटिक लेने से रोग की तीव्रता अथवा उसकी समय अविा कम नहीं होती। यद्यपि, यदि वाइरस संव्रफमित खाँसी - जुकाम के साथ बैक्टीरिया संक्रमण होता है तब एंटीबायोटिक का उपयोग लाभदायक होगा लेकिन पिफर भी एंटीबायोटिक बैक्टीरिया संक्रमण पर ही उपयोगी होगा न कि वाइरस संक्रमण पर। ियाकलापऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ13ण्5 ऽ पता कीजिए कि आपकी कक्षा में वुफछ दिनों पहले कितने विद्याथ्िार्यों को जुकाम/ खाँसी/बुखार हुआ था। ऽ उनको बीमारी कितने दिनों तक रही ? ऽ इनमें से कितनों ने एंटीबायोटिक का उपयोग किया ;अपने माता - पिता से पूछो कि आपने एंटीबायोटिक लिया अथवा नहीं।द्ध ऽ जिन्होंने एंटीबायोटिक लिया था वे कितने दिनों तक बीमार रहे ? ऽ जिन्होंने एंटीबायोटिक नहीं लिया था वे कितने दिनों तक बीमार रहे? ऽ क्या इन दोनों वगो± में कोइर् अंतर हैं? ऽ यदि हाँ तो क्योंऋ यदि नहीं तो क्यों नहीं ? 13ण्3ण्2 रोग पफैलने के साध्न संक्रामक रोग वैफसे पफैलते हैं? बहुत से सूक्ष्मजीवीय कारक रोगी से अन्य स्वस्थ मनुष्य तक विभ्िान्न तरीकों से पफैलते हैं अथार्त् वे संचारित हो सकते हैं अतः इन्हें संचारी रोग भी कहते हैं। ऐसे रोगों के सूक्ष्म जीव हवा द्वारा पफैलते हैं। ऐसा तब होता है जब रोगी मनुष्य छींकता है अथवा खाँसी करता है। उस समय छोटे - छोटे बूँदक बाहर निकलते हैं। जब उसके समीप कोइर् अन्य व्यक्ित हो तो श्वास द्वारा ये बूँदक उसके शरीर में प्रवेश कर जाते हैं। इनसे सूक्ष्म जीवों को नए संक्रमण करने का अवसर मिल जाता है। वायु द्वारा पैफलने वाले रोगों के उदाहरण हैं खाँसी - जुकाम, निमोनिया तथा क्षय रोग। हम सभी ने ऐसा अनुभव किया होगा कि जब हम किसी खाँसी - जुकाम से ग्रस्त व्यक्ित के पास बैठते हैं तो हमें भी खाँसी - जुकाम हो जाता है। जहाँ पर अध्िक भीड़ होगी वहाँ पर हवा द्वारा पैफलने वाले रोग भी अध्िक होंगे। जल द्वारा भी रोग पैफल सकते हैं। जब संक्रमणीय रोग यथा हैजा से ग्रसित रोगी के अपश्िाष्ट पेयजल में मिल जाते हैं और यदि कोइर् स्वस्थ व्यक्ित जाने - अनजाने में इस जल को पीता है तो रोगाणुओं को एक नया पोषी मिल जाता है जिससे वह भी इस रोग से ग्रसित हो जाता है। ऐसे रोग अध्िकतर साप़फ पेय जल न मिलने के कारण पैफलते हैं। छोटी - छोटी बूँदवेंफ वायु वेग के साथ मिनटों से घंटों तक वातावरण में प्रवाहित होती रहती हैं। चित्रा 13ण्2रू वायु से वाहित रोगों का संक्रमण रोगी के पास खड़े व्यक्ित को होने की अध्िक संभावना होती है। अिाक भीड़ - भाड़ वाले एवं कम रोशनदान वाले घरों में वायु वाहित रोग होने की संभावना अध्िक होती है लैंगिक ियाओं द्वारा दो लोग शारीरिक रूप से एक - दूसरे के संपवर्फ में आते हैं अतः यह आश्चयर्जनक नहीं है कि वुफछ सूक्ष्मजीवीय रोग जैसे सिपफलिस अथवा एड्स ;।प्क्ैद्ध लैंगिक संपवर्फ के समय एक साथी से दूसरे साथी में स्थानांतरित हो जाए। यद्यपि ऐसे लैंगिक संचारी रोग सामान्य संपवर्फ जैसे हाथ मिलाना अथवा गले मिलना अथवा खेलवूफद जैसे वुफश्ती, अथवा और कोइर् अन्य विध्ि जिसमें हम सामाजिक रूप से एक - दूसरे के संपवर्फ में आते हैं, से नहीं पैफलते। ।प्क्ैए लैंगिक संपवर्फ के अतिरिक्त रक्त स्थानांतरण द्वारा भी संक्रमित होता हैऋ जैसे ।प्क्ै से ग्रसित व्यक्ित का रक्त स्वस्थ व्यक्ित को स्थानांतरित किया जाय अथवा गभार्वस्था में रोगी माता से अथवा श्िाशु को स्तनपान द्वारा। हम ऐसे पयार्वरण में रहते हैं जिसमें हमारे अतिरिक्त अन्य जीव भी रहते हैं। इसलिए वुफछ रोग अन्य जंतुओं द्वारा भी संचारित होते हैं। ये जंतु रोगाणुओं ;संक्रमण करने वाले कारकद्ध को रोगी से लेकर अन्य नए पोषी तक पहुंचा देते हैं। अतः ये मध्यस्थ का काम करते हैं जिन्हें रोगवाहक ;वेक्टरद्ध कहते हैं। सामान्य रोगवाहक का मच्छर एक उदाहरण है। मच्छर की बहुत सी ऐसी स्पीशीश हैं जिन्हें अत्यिाक पोषण की आवश्यकता होती है जिससे कि वे परिपक्व अंडे उत्पन्न कर सकें। मच्छर अनेक समतापी प्राण्िायों ;जिसमें मनुष्य भी शामिल हैंद्ध पर निवार्ह करता है। इस प्रकार वे एक मनुष्य से दूसरे मनुष्य में रोग को पैफलाते हैं। 13ण्3ण्3अंग - विश्िाष्ट तथा ऊतक - विश्िाष्ट अभ्िाव्यक्ित विभ्िान्न साध्नों द्वारा रोग उत्पन्न करने वाले सूक्ष्म जीव शरीर में प्रवेश करते हैं। पिफर ये कहाँ जाते हैं? सूक्ष्मजीव की अपेक्षा शरीर बहुत बड़ा है। इसलिएहमारे शरीर में बहुत से स्थान, अंग, ऊतक आदि हंै जहाँ ये सूक्ष्मजीव जा सकते हैं। क्या सभी सूक्ष्मजीवएक ही अंग अथवा ऊतक में जाते हैं अथवा वे भ्िान्न - भ्िान्न स्थानों पर जाते हैं ? सूक्ष्मजीव के विभ्िान्न स्पीशीश शरीर के विभ्िान्न भागों में विकसित होते हैं। ऐसा चुनाव उनके प्रवेश के स्थान पर निभर्र करता है। यदि ये हवा से नाक द्वारा प्रवेश करें तो ये पेफपफड़ों में जाएँगे। ऐसा बैक्टीरिया से होने वाले क्षय रोग में होता है। यदि ये मुँह के द्वारा प्रवेश करें तो ये आहार नाल में रहेंगे, जैसे टायपफायड रोगउत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया। अथवा ये यकृत में जाएँगे जैसे हेपेटाइटिस बैक्टीरिया जो पीलिया के कारक हैं। लेकिन सदैव ऐसा नहीं होता। भ्प्ट वाइरस जो लैंगिक अंगों द्वारा शरीर में प्रवेश करता है, लसीका गं्रथ्िायों में पफैलता है। मलेरिया उत्पन्न करने वाले सूक्ष्मजीव जो मच्छर के काटने से शरीर में प्रवेश करते हैं, वेयकृत में जाते हैंऋ उसके बाद लाल रुध्िर कोश्िाकाओं में आते हैं। इसी प्रकार जापानी मस्ितष्क ज्वर उत्पन्न करने वाला वाइरस भी मच्छर के काटने से शरीर में पहुँचता है। लेकिन यह मस्ितष्क को संक्रमित करता है।जिस ऊतक अथवा अंग पर सूक्ष्म जीव आक्रमण करता है, रोग के लक्षण तथा चिह्न उसी पर निभर्र करते हैं। यदि पेफपफड़े पर आक्रमण होता है तब लक्षणखाँसी तथा कम साँस आना होंगे। यदि यकृत पर आक्रमण होता है तब पीलिया होगा। यदि मस्ितष्क पर आक्रमण होता है तब सिरददर्, उल्टी आना, चक्कर अथवा बेहोशी आना होगा। यदि हम यह जानते होंकि कौन - से ऊतक अथवा अंग पर आक्रमण हुआ हैऔर उनके क्या कायर् हैं तो हम संक्रमण के चिÉ तथा लक्षण का अनुमान लगा सकते हैं।संक्रामक रोगों के ऊतक - विश्िाष्ट प्रभाव के अतिरिक्त उनके अन्य सामान्य प्रभाव भी होते हैं। अिाकांश सामान्य प्रभाव इस पर निभर्र करते हैं कि संक्रमण से शरीर का प्रतिरक्षा तंत्रा ियाशील हो जाएएक सिय प्रतिरक्षा तंत्रा प्रभावित ऊतक के चारों ओर रोग उत्पन्न करने वाले सूक्ष्मजीवों को मारने के लिए अनेक कोश्िाकाएँ बना देता है। नयी कोश्िाकाओं के बनने के प्रक्रम को शोथ कहते हैं। इस प्रक्रम के अंतगर्त स्थानीय प्रभाव जैसे पूफलना तथा ददर् होना और सामान्य प्रभाव जैसे बुखार होते हैं। वुफछ मामलों में संक्रमण के विश्िाष्ट ऊतक अति सामान्य प्रभाव को लक्ष्िात करते हैं। उदाहरणतः भ्प्ट संक्रमण में वाइरस प्रतिरक्षा तंत्रा में जाते हैं और इसके कायर् को नष्ट कर देते हैं। इस प्रकार भ्प्ट.।प्क्ै से बहुत से प्रभाव इसलिए होते हैं क्योंकि हमारा शरीर प्रतिदिन होने वाले छोटे संक्रमणों का मुकाबला नहीं कर पाता है। हलके खाँसी - जुकाम से भी निमोनिया हो सकता है। इसी प्रकार आहार नाल के संक्रमण से रुध्िरयुक्त प्रवाहिका हो सकता है। अंततः ये अन्य संक्रमण ही भ्प्ट.।प्क्ै के रोगी की मृत्यु के कारण बनते हैं। हमें यह भी स्मरण रखना आवश्यक है कि रोग की तीव्र्रता की अभ्िाव्यक्ित शरीर में स्िथत सूक्ष्मजीवों की संख्या पर निभर्र करती है। यदि सूक्ष्मजीव की संख्या बहुत कम है तो रोग की अभ्िाव्यक्ित भी कम होगी। यदि उसी सूक्ष्म जीव की संख्या अध्िक होगी तो रोग की अभ्िाव्यक्ित इतनी तीव्र होगी कि जीवन को भी खतरा हो सकता है। प्रतिरक्षा तंत्रा एक प्रमुख कारक है जो शरीर में जीवित सूक्ष्मजीवों की संख्या को निधर्रित करता है। इस विषय में हम इस अध्याय के अंत में पढ़ेंगे। 13ण्3ण्4 उपचार के नियम जब आप बीमार हो जाते हैं तो आपके वुफटुंब के सदस्य क्या करते हैं ? क्या आपने कभी सोचा है कि आप वुफछ समय सोेने के बाद अच्छा क्यों अनुभव करते हैं? उपचार में दवाइर् का उपयोग कब करते हैं? अब तक के ज्ञान के आधर पर ऐसा लगता है कि संव्रफामक रोगों के उपचार के दो उपाय हैं। एक तो यह है कि रोग के प्रभाव को कम कर दे और दूसरा रोग के कारण को समाप्त कर दे। पहले, उपाय के लिए हम ऐसा उपचार करते हैं जिससे लक्षण ;ेलउचजवउद्ध कम हो जाते हैं। लक्षण प्रायः शोथ ;पदसिंउउंजपवदद्ध के कारण होते हैं। उदाहरण के लिए हम बुखार, ददर् अथवा दस्त को कम करने के लिए दवाइर् का उपयोग करते हैं। हम आराम करऊजार् का संरक्षण कर सकते हैं जो हमारे स्वस्थ होने में सहायक होगी। लेकिन इस प्रकार के लक्षणμआधरित उपचार स्वयं में संक्रामक सूक्ष्मजीवों को समाप्त नहीं करेंगे और रोग ठीक नहीं होंगे। इसके लिए हमें सूक्ष्म जीवों को मारना ही पड़ेगा। हम सूक्ष्मजीवों को वैफसे मारते हैं? सूक्ष्मजीवों को मारने की एक विध्ि है औषध्ियों का उपयोग करना। हम पहले ही पढ़ चुके हैं कि सूक्ष्मजीव विभ्िान्न वगो± में आते हैं। ये हैं वाइरस, बैक्टीरिया, पफंजाइर् अथवा प्रोटोशोआ। जीवों के प्रत्येक वगर् में वुफछ आवश्यक जैवरासायनिक जैवप्रियाएँ हांेगी जो इस वगर् के लिए विश्िाष्ट होंगी और अन्य वगो± में नहीं होंगी। ये प्रियाएँ नए पदाथर् बनाने के विभ्िान्न चरण अथवा श्वसन हो सकती हैं। इन मागो± का उपयोग हम नहीं करते हैं। उदाहरण के लिए, हमारी कोश्िाकाएँ ऐसे प्रक्रम से नए पदाथर् बना सकती हैं जो बैक्टीरिया के प्रक्रम से भ्िान्न हों। हमें ऐसी औषध्ि का उपयोग करना है जो हमारे शरीर को प्रभावित किए बिना ही बैक्टीरिया के संश्लेषी मागर् को रोक सके। ऐसा एंटीबायोटिक से संभव है। इसी प्रकार वुफछ ऐसी औषध्ियाँ हैं जो मलेरिया के परजीवी प्रोटोशोआ को मारती हैं। एंटीवाइरल औषध्ि का बनाना एंटीबैक्टीरियल औषध्ि के बनाने की अपेक्षा कठिन है। इसका कारण है बैक्टीरिया में अपनी जैव रासायनिक प्रणाली होती है जबकि वाइरस में अपनी जैव रासायनिक प्रणाली बहुत कम होती है। वाइरस हमारे शरीर मंे प्रवेश करते हैं और अपनी जीवन प्रिया के लिए हमारी मशीनरी का उपयोग करते हैं। इसका अथर् यह है कि आक्रमणकरने के लिए अपेक्षाकृत कम वाइरस विश्िाष्ट लक्ष्य होते हैं। इन सीमाओं के बावजूद अब प्रभावशाली एंटीवाइरल औषध्ियाँ भी उपलब्ध् हैं, उदाहरण के लिए, भ्प्ट संक्रमण को नियंत्रिात करने की औषिा। 13ण्3ण्5 निवारण के सि(ांत अभी तक हमने यह पढ़ा है कि किसी व्यक्ित में कोइर् रोग है तो संक्रमण से वैफसे छुटकारा मिल सकता है। संक्रामक रोगों से छुटकारा पाने की तीन सीमाएँ ;कठिनाइयाँद्ध हैं। पहली यह है कि यदि कोइर् एक बार बीमार हो जाए तो उनके शारीरिक कायो± को बहुत हानि होती है और वे पिफर पूरी तरह से स्वस्थ नहीं होते। दूसरी यह है कि उपचार में लंबा समय लग सकता है अथार्त् सही उपचार होने पर भी रोगी को बिस्तर पर लंबे समय तक आराम करना पड़ सकता है। तीसरी यह कि संक्रमित रोगी अन्य व्यक्ितयों में रोग को पैफलाने का स्रोत बन जाए इससे उपरोक्त कठिनाइयाँ और बढ़ जाएँगी। इसीलिए रोगों का निवारण उपचार से अच्छा है। हम रोगों का निवारण वैफसे कर सकते हैं? इसकी दो विध्ियाँ हैं। एक सामान्य तथा दूसरी रोग विश्िाष्ट। संक्रमण से बचने की सामान्य विध्ि है रोगी से दूर रहें। इससे हम संक्रामक सूक्ष्मजीवों से बचाव कर सकते हैं? यदि हम उनके पैफलने की विध्ियों को जानते हैं तो हमें बड़़ी सुगमता होगी। वातोढ़ ;वायु द्वारा पफैलने वालेद्ध सूक्ष्मजीवों से बचाव के लिए हम खुले स्थानों में रहें और भीड़ भरे स्थानों पर न जाएँ। जलोढ़ ;जल द्वारा पैफलनाद्ध सूक्ष्मजीवों से बचने के लिए हम साप़फ जल पिएँ। इसके लिए आप पानी में स्िथत सूक्ष्मजीवों को मारने के लिए उपाय कर सकते हैं। रोग वाहक सूक्ष्मजीवों से बचने के लिए हमें साप़्ाफ पयार्वरण में रहना चाहिए। ऐसे वातावरण में मच्छर उत्पन्न नहीं होते अथार्त् संक्रामक रोगों से बचने के लिए स्वच्छता आवश्यक है। पयार्वरण से संबंध्ित विषयों के अतिरिक्त, संक्रामक रोगों से बचने के और भी अन्य सामान्य नियम हैं। नियमों की बात करने से पहले हम एक प्रश्न पूछते हैं जिसकी ओर अभी तक ध्यान नहीं गया है। प्रायः हम प्रतिदिन संक्रमण से गुजरते हैं। यदि कक्षा में कोइर् विद्याथीर् खाँसी - जुकाम से पीडि़त है तो ऐसा संभव है कि उसके आस - पास के विद्याथीर् भी संक्रमित हो जाएँ। लेकिन हम सभी वास्तव में रोग से पीडि़त नहीं होते हैं। ऐसा क्यों नहीं होता है? इसका कारण है हमारे शरीर में स्िथत प्रतिरक्षा तंत्रा जो रोगाणुओं से लड़ता रहता है। हमारे शरीर में विश्िाष्ट कोश्िाकाएँ होती हैं जो रोगाणुओं को मार देती हैं। हमारे शरीर में जैसे ही कोइर् संक्रामक रोगाणु आता है ये कोश्िाकाएँ सिय हो जाती हैं। यदि ये उन्हें मार देती हैं तो हमें रोग नहीं होगा। प्रतिरक्षी कोश्िाकाएँ संक्रमण को पैफलने से पहले ही समाप्त कर देती हैं। जैसा कि हमने पहले देखा, यदि रोगाणुओं की संख्या नियंत्रिात हो जाती है तो रोग की अभ्िाव्यक्ित बहुत कम होगी। अथार्त्, संक्रामक रोगाणुओं से संक्रमित होने का अथर् यह नहीं है कि हमें कोइर् विशेष बीमारी होगी। गंभीर संक्रामक रोग प्रतिरक्षा तंत्रा की असपफलता को इंगित करता है। प्रतिरक्षा तंत्रा हमारे शरीर में स्िथत अन्य तंत्रों की तरह सपफल नहीं होगा यदि हमें पयार्प्त भोजन तथा पोषण प्राप्त न हो। इसलिए संक्रामक रोगों से बचने के लिए दूसरी मूल आवश्यकता है उचित मात्रा में सबके लिए भोजन की उपलब्ध्ता। ियाकलाप ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ13ण्6 ऽ अपने मोहल्ले में एक सवेर्क्षण करो। दस परिवारों से बात करो जिनका रहन - सहन उच्च स्तर का है जो अच्छी प्रकार रहते हैं, और दस ऐसे परिवार लो जो आपके अनुमान के अनुसार गरीब हैं। इन दोनों परिवारों में बच्चे होने चाहिए जिनकी आयु पाँच वषर् से कम हो। प्रत्येक बच्चे की उफँचाइर् मापो और आयु लिखो तथा एक ग्रापफ बनाओ। ऽ क्या वगर् में कोइर् अंतर है? यदि हाँ, तो क्यों? ऽ यदि उनमें कोइर् अंतर नहीं है तो क्या आप यह निष्कषर् निकालते हैं कि स्वास्थ्य के लिए अमीरीतथा गरीबी का कोइर् महत्त्व नहीं है? हम बीमार क्यों होते हैं ये संक्रमण से बचने की सामान्य विध्ियाँ हैं। विश्िाष्ट विध्ियाँ क्या हैं? ये प्रतिरक्षा तंत्रा के विश्िाष्ट गुणों से संबंध्ित है जो प्रायः रोगाणु से लड़ते रहते हैं। इसे समझने के लिए एक उदाहरण लेते हैं। इन दिनों सारे विश्व में चेचक नही है। लेकिन सौ वषर् पहले चेचक महामारी बहुत होती थी। ऐसी स्िथति में लोग रोगी के पास आने से डरते थे। क्योंकि उन्हें डर होता था कि उन्हें भी चेचक न हो जाए। लेकिन एक ऐसा भी वगर् था जो चेचक से नहीं डरता था। यह वगर् चेचक के रोगी की सेवा करता था। यह वह वगर् था जिन्हें बहुत भयानक चेचक हुआ था। लेकिन पिफर भी जीवित रहे, लेकिन उनके शरीर पर चेचक के बहुत से दाग थे। अथार्त््, यदि आपको एक बार चेचक हो जाए तो आपको चेचक रोग पुनः होने की संभावना नहीं होती। इसलिए एक बार रोग होने पर उसी रोग से बचने की यह एक विध्ि है। ऐसा इसलिए होता है कि जब रोगाणु प्रतिरक्षा तंत्रा पर पहली बार आक्रमण करते हैं तो प्रतिरक्षा तंत्रा रोगाणुओं के प्रति िया करता है और पिफर इसका विश्िाष्ट रूप से स्मरण कर लेता है। इस प्रकार जब वही रोगाणु या उससे मिलता - जुलता रोगाणु संपवर्फ में आता है तो पूरी शक्ित से उसे नष्ट कर देता है। इससे पहले संक्रमण की अपेक्षा दूसरा संक्रमण शीघ्र ही समाप्त हो जाता है। यह प्रतिरक्षाकरण के नियम का आधर है। अब हम कह सकते हैं कि टीकाकरण का सामान्य नियम यह है कि शरीर मंे विश्िाष्ट संक्रमण प्रविष्ट कराकर प्रतिरक्षा तंत्रा को ‘मूखर्’ बना सकते हैं। वह उन रोगाणुओं की नकल करता है जो टीके के द्वारा शरीर में पहुँचे हैं। यह वास्तव में रोग नहीं करते लेकिन यह वास्तव में रोग करने वाले रोगाणुओं को उसके बाद रोग करने से रोकता है। 209 प्रतिरक्षा परंपरा के अनुसार भारतीय तथा चीनी चिकित्सकीय तंत्रा में कभी - कभी जानबूझ कर चेचक से पीडि़त व्यक्ित तथा स्वस्थ व्यक्ित की त्वचा वफो आपस में रगड़ते थे। उन्हें इससे ऐसी आशा थी कि इसके कारण से चेचक के मंद रोगाणु स्वस्थ व्यक्ित के शरीर में रोग के प्रति प्रतिरोध्क क्षमता उत्पन्न कर देंगे। दो सौ वषर् पूवर् एक इंगलिश चिकित्सक, जिसका नाम एडवडर् जेनर था, ने पता लगाया कि ग्वाले जिन्हें गो - चेेचक हुइर् है उन्हें महामारी के समय भी चेचक नहीं हइर्। गौ - चेचक मन्द रोग है। जेनर ने जान बूझकर लोगों को गौ - चेचक दिया ;जैसा कि तस्वीर में दिखाया गया हैद्ध। इससे उन्होंने पाया कि अब वे लोग चेचक के प्रतिरोध्ी हैं। इसका कारण यह है कि चेचक का बैक्टीरिया गौ - चेचक के वाइरस का निकट संबंध्ी है। लैटिन में बवू ;गायद्ध का अथर् है ‘वाक्का’ तथा बवूचवग ;गौ - चेचकद्ध का अथर् है ‘वैक्सीनिया’। इस आधार पर वैक्सीन अथार्त् टीका शब्द आया है, जिसका हम आजकल उपयोग करते हैं। ऐसे बहुत से टीके आजकल उपलब्ध् हैं जो संक्रामक रोगों का निवारण करते हैं और रोग निवारण का विश्िाष्ट साध्न प्रदान करते हैं। टेटनस, डिप्थीरिया, वुफकर खाँसी, चेचक, पोलियो आदि के टीके उपलब्ध् हैं। यह बच्चों की संक्रामक रोगों से रक्षा करने के लिए सरकारी स्वास्थ्य कायर्क्रम है। ऐसे कायर्क्रम तभी सपफल होते हैं जबकि ऐसी स्वास्थ्य सुविधएँ सभी बच्चों को प्राप्त हों। क्या आप इसका कारण सोच सकते हैं कि ऐसा क्यों होना चाहिए? हिपेटाइटिस के वुफछ वाइरस जिससे पीलिया होता है पानी द्वारा संचारित होता है। हिपेटाइटिस श्।श् के लिए टीका उपलब्ध् है। लेकिन देश के अध्िकांश भागों में जब बच्चे की आयु पाँच वषर् हो जाती है तब तक वह हिपेटाइटिस श्।श् के प्रति प्रतिरक्षी हो चुका होता है। इसका कारण यह है कि वह पानी के द्वारा वाइरस के प्रभाव में आ चुका हो। इन परिस्िथतियों में क्या आप टीका लगवाएँगे ? ियाकलाप ऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋऋ13ण्7 प्रऽ संक्रमित वुफत्ते तथा अन्य जंतुओं के काटने से रैबीज वाइरस पफैलता है। मनुष्य तथा जंतु दोनों के लिए प्रति - रैबीश टीके उपलब्ध् हैं। पता करो कि आपके पास - पड़ोस में स्थानीय प्रशासन रैबीश को पफैलने से रोकने के लिए क्या कर रहा है? क्या ये उपाय पयार्प्त हैं? यदि नहीं तो आप इसके सुधर के लिए क्या सुझाव देंगे? श्न 1.जब आप बीमार होते हैं तो आपको सुपाच्य तथा पोषणयुक्त भोजन करने का परामशर् क्यों दिया जाता है? 2.संक्रामक रोग पफैलने की विभ्िान्न विध्ियाँ कौन - कौन सी हैं ? 3.संक्रामक रोगांे को पफैलने से रोकने के लिए आपके विद्यालय में कौन - कौन सी सावधानियाँ आवश्यक हंै? 4.प्रतिरक्षीकरण क्या है ? 5.आपके पास में स्िथत स्वास्थ्य वेंफद्र में टीकाकरण के कौन - से कायर्क्रम उपलब्ध् हैं? आपके क्षेत्रा में कौन - कौन सी स्वास्थ्य संबंधी मुख्य समस्या है? ऽ स्वास्थ्य व्यक्ित की शारीरिक, मानसिक तथा सामाजिक जीवन की एक समग्र समन्वयित अवस्था है। ऽ किसी का स्वास्थ्य उसके भौतिक पयार्वरण तथा आथ्िार्क अवस्था पर निभर्र करता है। ऽ रोगों की अवध्ि के आधर पर इसे तीव्र तथा दीघर्कालिक दो वगो± में विभाजित कर सकते हैं। ऽ रोग के कारक संक्रामक अथवा असंक्रामक हो सकते हैं। ऽ संक्रामक कारक जीवों के विभ्िान्न वगर् से हो सकते हैं। ये एककोश्िाक सूक्ष्मजीव अथवा बहुकोश्िाक हो सकते हैं। ऽ रोग का उपचार उसके कारक रोगाणु के वगर् के आधर पर किया जाता है। ऽ संक्रामक कारक वायु, जल, शारीरिक संपवर्फ अथवा रोगवाहक द्वारा पफैलते हैं। ऽ रोगों का निवारण सपफल उपचार की अपेक्षा अच्छा है। ऽ संक्रामक रोगों का निवारण जन स्वास्थ्य स्वच्छता विध्ियों द्वारा किया जा सकता है जिससे संक्रामक कारक कम हो जाते हैं। ऽ टीकाकरण द्वारा संक्रामक रोगों का निवारण किया जा सकता है। ऽ संक्रामक रोगों के निवारण को प्रभावशाली बनाने के लिए आवश्यक है कि सावर्जनिक स्वच्छता तथा टीकाकरण की सुविध सभी को उपलब्ध् हो। अभ्यास 1. पिछले एक वषर् में आप कितनी बार बीमार हुए? बीमारी क्या थीं? ;ंद्ध इन बीमारियों को हटाने के लिए आप अपनी दिनचयार् में क्या परिवतर्न करेंगे? ;इद्ध इन बीमारियों से बचने के लिए आप अपने पास - पड़ोस में क्या परिवतर्न करना चाहेंगे? 2. डाॅक्टर/नसर्/स्वास्थ्य कमर्चारी अन्य व्यक्ितयों की अपेक्षा रोगियों के संपवर्फ में अध्िक रहते हैं। पता करो कि वे अपने - आपको बीमार होने से वैफसे बचाते हैं? 3.अपने पास - पड़ोस में एक सवेर्क्षण कीजिए तथा पता लगाइए कि सामान्यतः कौन - सी तीन बीमारियाँ होती हैं? इन बीमारियों को पैफलने से रोकने के लिए अपने स्थानीय प्रशासन को तीन सुझाव दीजिए। 4.एक बच्चा अपनी बीमारी के विषय में नहीं बता पा रहा है। हम वैफसे पता करेंगे कि ;ंद्ध बच्चा बीमार है? ;इद्ध उसे कौन - सी बीमारी है? 5.निम्नलिख्िात किन परिस्िथतियों में कोइर् व्यक्ित पुनः बीमार हो सकता है? क्यों? ;ंद्ध जब वह मलेरिया से ठीक हो रहा है। ;इद्ध वह मलेरिया से ठीक हो चुका है और वह चेचक के रोगी की सेवा कर रहा है। ;बद्ध मलेरिया से ठीक होने के बाद चार दिन उपवास करता है और चेचक के रोगी की सेवा कर रहा है? 6.निम्नलिख्िात में से किन परिस्िथतियों में आप बीमार हो सकते हैं? क्यों? ;ंद्ध जब आपकी परीक्षा का समय है? ;इद्ध जब आप बस तथा रेलगाड़ी में दो दिन तक यात्रा कर चुके हैं? ;बद्ध जब आप का मित्रा खसरा से पीडि़त है। 7. यदि आप किसी एक संक्रामक रोग के टीके की खोज कर सकते हो तो आप किसको चुनते हैं ? ;ंद्ध स्वयं की ? ;इद्ध अपने क्षेत्रा में पैफले एक सामान्य रोग की। क्यों ?

>CHAP_13_HIND>
0965CH13




अध्याय 13

हम बीमार क्यों होते हैं

(Why Do We Fall ill)


क्रियाकलाप 13.1

• हमने लातूर, भुज, कश्मीर आदि में आए भूकंप अथवा तटवर्ती भाग को प्रभावित करने वाले चक्रवात के विषय में सुना है। आप यह कल्पना करें कि इनके जैसी कितनी संभावित आपदाओं से लोगों का स्वास्थ्य किस प्रकार प्रभावित होगा, यदि ये हमारे आस-पास घटित हों।

• इन आपदाओं के वास्तव में घटने के समय हमारे ऊपर क्या-क्या प्रभाव पड़ेंगे?

आपदा घटित होने के पश्चात् कितने समय तक विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएँ पैदा होती रहेंगी?

पहली स्थिति में (आपदा के समय) स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ते हैं? तथा दूसरी स्थिति में (आपदा के पश्चात्) स्वास्थ्य संबंधी कौन-कौन सी समस्याएँ उत्पन्न होंगी?


इस क्रियाकलाप के दौरान हमें यह अनुभव होता है कि मानव समुदाय में स्वास्थ्य एवं रोग एक जटिल समस्या है, जिसके लिए एक-दूसरे से संबंधित अनेक कारक उत्तरदायी हैं। हम यह भी अनुभव करते हैं कि ‘स्वास्थ्य’ और ‘रोग’ का अर्थ स्वयं में बहुत जटिल है। जब हम पूछते हैं कि बीमारियों के क्या कारण हैं और इसकी रोकथाम केस होगी? तो हमें इन अवधारणाओं के अर्थ जानने होंगे।

हम जानते हैं कि कोशिकाएँ सजीवों की मौलिक इकाई हैं। कोशिकाएँ विभिन्न प्रकार के रासायनिक पदार्थों; जैसे–प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा अथवा लिपिड, आदि से बनी होती हैं। कोशिका एक क्रियाशील स्थल है जिसमें अंदर कुछ न कुछ क्रियाएँ सदैव होती रहती हैं। कोशिकाओं में जटिल प्रक्रियाएं एवं कुछ न कुछ मरम्मत का कार्य चलता रहता है। नई-नई कोशिकाएँ बनती रहती हैं। हमारे अंगों अथवा ऊतकों में बहुत-सी विशिष्ट क्रियाएँ चलती रहती हैं; जैसे–हृदय धड़कता है, फेफड़े सांस लेते हैं, वृक्क में निस्पंदन द्वारा मूत्र बनता है, मस्तिष्क सोचता है।

ये सभी क्रियाएँ परस्पर संबंधित हैं। उदाहरणतः यदि वृक्क में निस्पंदन न हो तो विषैले पदार्थ हमारे शरीर में एकत्र हो जाएँगे। इस परिस्थिति में मस्तिष्क उचित प्रकार से नहीं सोच सकेगा। इन सभी पारस्परिक क्रियाओं को करने के लिए ऊर्जा तथा कच्चे पदार्थों की आवश्यकता होती है अर्थात् कोशिकाओं तथा ऊतकों को कार्य करने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है। एेसा कोई भी कारक जो कोशिकाओं एवं ऊतकों को उचित प्रकार से कार्य करने से रोकता है, वह हमारे शरीर की समुचित क्रिया में कमी का कारण होगा।

उपरोक्त सभी तथ्यों को ध्यान में रखकर हम स्वास्थ्य तथा रोग की अवधारणाओं को समझेंगे।

13.1 स्वास्थ्य तथा इसका बिगड़ना

13.1.1 ‘स्वास्थ्य’ का महत्त्व (सार्थकता)

हम सभी ने ‘स्वास्थ्य’ शब्द को सुना है तथा इस शब्द का प्रयोग भी हम प्रायः करते हैं, जैसे कि हम कहते हैं कि ‘मेरी दादी का स्वास्थ्य अच्छा नहीं है’। हमारे अध्यापक भी इस शब्द का प्रयोग करते हैं जब कहते हैं कि ‘आपकी अभिवृत्ति स्वस्थ नहीं है’। इस ‘स्वास्थ्य’ शब्द का अर्थ क्या है?

यदि हम इस विषय पर विचार करें तो हमें बोध होगा कि इनका अर्थ ‘अच्छा’ रहने से है। हम इस अच्छापन का अर्थ ‘प्रभावी कार्य करना’ सोच सकते हैं। हमारी दादी के लिए बाज़ार जाना अथवा पास-पड़ोस में जाने योग्य होना ‘अच्छे स्वास्थ्य’ के प्रतीक हैं। यदि वे, ये करने योग्य नहीं हैं तो हम कहते हैं कि उनका स्वास्थ्य अच्छा नहीं है। जब आपकी रुचि कक्षा में पढ़ने की है तो हम कहते हैं कि आपकी अभिवृत्ति ठीक है और यदि पढ़ने की रुचि नहीं है तो कहते हैं अभिवृत्ति स्वस्थ नहीं है। अतः ‘स्वास्थ्य’ वह अवस्था है जिसके अंतर्गत शारीरिक, मानसिक तथा सामाजिक कार्य समुचित क्षमता द्वारा उचित प्रकार से किया जा सके।

13.1.2 व्यक्तिगत तथा सामुदायिक समस्याएँः दोनों ही स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं

स्वास्थ्य किसी व्यक्ति की शारीरिक, मानसिक तथा सामाजिक जीवन क्षमता की पूर्णरूपेण-समन्वयित स्थिति है तो कोई भी व्यक्ति इसे स्वयं ही पूर्णरूपेण प्राप्त नहीं कर सकता। सभी जीवों का स्वास्थ्य उसके पास-पड़ोस अथवा उसके आस-पास के पर्यावरण पर आधारित होता है। पर्यावरण में भौतिक कारक आते हैं। उदाहरणार्थः चक्रवात हमारे स्वास्थ्य को अनेक प्रकार से प्रभावित करता है।

मानव समाज में रहता है। अतः हमारा सामाजिक पर्यावरण हमारे व्यक्तिगत स्वास्थ्य के लिए अधिक महत्वपूर्ण है। हम गाँवों, कस्बों अथवा शहरों में रहते हैं। एेसे स्थानों में हमारे भौतिक पर्यावरण का निर्धारण सामाजिक पर्यावरण द्वारा ही होता है।

21


सोचिए कूड़ा-करकट उठाने वाली एजेंसी कचरे का निपटारा न करे तो क्या होगा? सोचिए यदि नालियाँ साफ न हाें तो क्या होगा? यदि काफी मात्रा में कूड़ा-करकट गलियों में फेंका जाता है अथवा खुले नाले के रुके हुएे पानी में स्थिर पड़ा रहता है, तो खराब स्वास्थ्य की संभावना बढ़ जाती है। अतः सामुदायिक स्वच्छता व्यक्तिगत स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।


क्रियाकलाप 13.2

• पता करें कि आपके स्थानीय प्राधिकरण (पंचायत/नगर निगम) ने स्वच्छ जल की आपूर्ति के लिए क्या उपाय किए हैं?

• क्या आपके मोहल्ले में सभी निवासियों को स्वच्छ जल प्राप्त हो रहा है।

क्रियाकलाप 13.3

• पता करें कि आपका स्थानीय प्राधिकरण आपके मोहल्ले में उत्पन्न कचरे का निपटारा कैसे करता है?

• क्या प्राधिकरण द्वारा किए गए उपाय पर्याप्त हैं?

• यदि नहीं, तो इसके सुधार के लिए आप क्या सुझाव देंगे?

• आप अपने घर में दैनिक/साप्ताहिक उत्पन्न होने वाले कचरे को कम करने के लिए क्या करेंगे?


स्वस्थ रहने के लिए हमें भोजन की आवश्यकता होती है। इस भोजन को प्राप्त करने के लिए हमें काम करना पड़ता है। इसके लिए, हमें काम करने के अवसर खोजने पड़ते हैं।

स्वस्थ रहने के लिए हमें प्रसन्न रहना आवश्यक है। यदि किसी से हमारा व्यवहार ठीक नहीं है और एक-दूसरे से डर हो तो हम प्रसन्न तथा स्वस्थ नहीं रह सकते। इसलिए व्यक्तिगत स्वास्थ्य के लिए सामाजिक समानता बहुत आवश्यक है। हम इसी प्रकार सोच सकते हैं कि अनेक सामुदायिक समस्याएँ हमारे व्यक्तिगत स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करती हैं?

13.1.3 ‘स्वस्थ रहने’ तथा ‘रोगमुक्त’ में अंतर

यदि हम इसे स्वास्थ्य समझते हैं तो रोग अथवा व्याधि क्या है? अंग्रेजी का यह शब्द (DIS+BASE) स्वयं को परिभाषित करता है ‘बाधित आराम’। रोग का दूसरा अर्थ है असुविधा। यद्यपि इस शब्द के अर्थ का प्रयोग बहुत सीमित है। हम रोग के विषय में तब बात करते हैं जब हमें असुविधा के विशिष्ट कारण का पता होता है। इसका अर्थ यह बिलकुल नहीं है कि हम इसका सही तथा अंतिम उत्तर जानें; हम बिना कारण जाने यह कह सकते हैं कि कोई व्यक्ति प्रवाहिका से ग्रस्त है।

हम यह सरलता से पाते हैं कि बिना किसी विशेष रोग के भी आप अस्वस्थ हो सकते हैं। केवल कोई रोग न होने का अर्थ यह नहीं कि आप स्वस्थ हैं। नर्तक के लिए अच्छे स्वास्थ्य का अर्थ है कि वह शिष्टतापूर्वक अपने शरीर द्वारा विषम परिस्थितियों की मुद्रा अभिव्यक्त कर सके। संगीतकार के लिए इसका अर्थ है कि वह लंबा श्वास ले सके जिससे कि वह अपनी बाँसुरी में स्वर को नियंत्रित कर सके। हमें अपनी विशिष्ट क्षमता को प्राप्त करने का अवसर भी वास्तविक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है।

इस प्रकार हम किसी रोग के लक्षणों की अभिव्यक्ति के बिना भी अस्वस्थ हो सकते हैं। यही कारण है जब हम स्वास्थ्य के विषय में सोचते हैं, हम समाज तथा समुदाय के विषय में सोचते हैं। और रोग के विषय में सोचते समय हम सिर्फ अपने बारे में विचार करते हैं।

प्रश्न

1. अच्छे स्वास्थ्य की दो आवश्यक स्थितियाँ बताइए।

2. रोगमुक्ति की कोई दो आवश्यक परिस्थितियाँ बताइए।

3. क्या उपरोक्त प्रश्नों के उत्तर एक जैसे हैं अथवा भिन्न क्यों?


13.2 रोग तथा इसके कारण

13.2.1 रोग किस तरह के दिखाई देते हैं?

आओ, रोग के विषय में और अधिक सोचें। पहले यह कि हमें कैसे पता लगता है कि हमें कोई रोग है? अर्थात् कैसे पता लगता है कि शरीर में कुछ दोष है? हमने छठे अध्याय में पढ़ा है कि हमारे शरीर में अनेक ऊतक होते हैं। ये ऊतक हमारे शरीर के क्रियात्मक तंत्रों अथवा अंगतंत्रों को बनाते हैं जो शरीर के विभिन्न कार्यों को संपादित करते हैं। हर अंग तंत्र का अपना एक विशेष अंग होता है जिसका एक विशेष कार्य होता है। जैसेः पाचन तंत्र में आमाशय तथा आँत्र होते हैं, जो हमारे द्वारा खाए गए भोजन को पचाते हैं। पेशियों तथा अस्थियों से बना पेशी-कंकाल तंत्र, हमारे शरीर को संभालता है और शरीर की गति में सहायता करता है।

जब कोई रोग होता है तब शरीर के एक अथवा अनेक अंगों एवं तंत्रों में क्रिया अथवा संरचना में ‘खराबी’ परिलक्षित होने लगती है। ये बदलाव (परिवर्तन) रोग के लक्षण दर्शाते हैं। रोग के लक्षण हमें ‘खराबी’ का संकेत देते हैं। इस प्रकार सिरदर्द, खाँसी, दस्त, किसी घाव में पस (मवाद) आना, ये सभी लक्षण हैं। इन लक्षणों से किसी-न-किसी रोग का पता लगता है। लेकिन इनसे यह नहीं पता चलता कि कौन-सा रोग है? उदाहरण के लिए, सिरदर्द का कारण परीक्षा का भय अथवा इसका अर्थ मस्तिष्क का वरण शोथ (meningitis) होना अथवा दर्जनों विभिन्न बीमारियों में से एक हो सकता है।

रोग के चिह्न वे हैं जिन्हें चिकित्सक लक्षणों के आधार पर देखते हैं। लक्षण किसी विशेष रोग के बारे में सुनिश्चित संकेत देते हैं। चिकित्सक रोग के सही कारण को जानने के लिए प्रयोगशाला में कुछ परीक्षण भी करवा सकता है।

13.2.2 तीव्र (प्रचंड) तथा दीर्घकालिक रोग (बीमारी)

रोगों की अभिव्यक्ति भिन्न-भिन्न हो सकती है और कई कारकों पर निर्भर करती है। कुछ रोगों की अवधि कम होती है जिन्हें तीव्र रोग कहते हैं। हम सभी ने अनुभव किया है कि खाँसी-जुकाम बहुत कम अवधि तक रहते हैं। अन्य एेसे रोग हैं जो लंबी अवधि तक अथवा जीवनपर्यंत रहते हैं, एेसे रोगों को दीर्घकालिक रोग कहते हैं। इसका एक उदाहरण एलिफ़ेनटाइसिस अथवा फीलपाँव रोग है। यह भारत के कुछ क्षेत्रों में बहुत आम है।


क्रियाकलाप 13.4

• निम्न का पता करने के लिए अपने पास-पड़ोस का पर्यावलोकन करेंः

• पिछले तीन महीनों में कितने लोग तीव्र रोगों से ग्रसित हुए?

• पिछले तीन महीनों में कितने लोग दीर्घकालिक रोग से ग्रसित हुए?

• आपके पड़ोस में कुल कितने लोग दीर्घकालिक रोग से पीड़ित हैं?

क्या उपरोक्त प्रश्न 1 तथा 2 के उत्तर भिन्न हैं?

क्या उपरोक्त प्रश्न 2 तथा 3 के उत्तर भिन्न हैं?

क्या आप सोच सकते हैं कि इस भिन्नता के क्या कारण हो सकते हैं? इस भिन्नता का लोगों के सामान्य स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव होगा?


13.2.3 दीर्घकालिक रोग तथा अस्वस्थता

तीव्र तथा दीर्घकालिक रोगों के हमारे स्वास्थ्य पर भिन्न-भिन्न प्रभाव होते हैं। कोई भी रोग जो हमारे शरीर के किसी भी भाग के कार्य को प्रभावित करता है, तो वह हमारे स्वास्थ्य को भी प्रभावित करेगा। क्याेंकि स्वास्थ्य के लिए शरीर के सभी अंगों का समुचित कार्य करना आवश्यक है। लेकिन तीव्र रोग, जो बहुत कम समय तक रहता है, उसे स्वास्थ्य पर बड़ा प्रभाव डालने का समय ही नहीं मिलता। लेकिन दीर्घकालिक रोग हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।

उदाहरणतः खाँसी-जुकाम के विषय में सोचो जो हम सभी को प्रायः होता रहता है। हममें से अधिकांश लगभग एक सप्ताह में ठीक हो जाते हैं और हमारे स्वास्थ्य पर कोई विशेष कुप्रभाव नहीं पड़ता। लेकिन यदि हम दीर्घकालिक रोग जैसे- फेफड़ों के क्षय रोग से संक्रमित हो जाएँ तो कई वर्षों तक बीमार होने के कारण वजन कम हो जाता है और हर समय थकान महसूस करते हैं।

यदि आप तीव्र रोग से पीड़ित हैं तो आप कुछ दिनों के लिए विद्यालय नहीं जा सकते हैं लेकिन यदि दीर्घकालिक रोग से पीड़ित हैं तो हमें स्कूल में पढ़ाई को समझने में कठिनाई होगी और हमारे सीखने की क्षमता भी कम हो जाएगी अर्थात् हम काफ़ी समय तक अस्वस्थ रह सकते हैं। इसलिए दीर्घकालिक रोग तीव्र रोग की अपेक्षा लोगों के स्वास्थ्य पर लंबे समय तक विपरीत प्रभाव बनाए रखता है।

13.2.4 रोग के कारक

रोग के क्या कारण हैं? जब हम रोग के कारण के विषय में सोचते हैं तब हमें यह याद रखना चाहिए कि इस कारण के बहुत से स्तर होते हैं। आओ, एक उदाहरण लें। यदि कोई छोटा बच्चा पतले दस्त (loose motions) से ग्रस्त है तो हम कह सकते हैं कि इसका संभावित कारण संक्रमण है।

लेकिन अगला प्रश्न उठता है–संक्रमण कहाँ से आता है ? मान लो कि हमें पता लगता है कि संक्रमण दूषित जल पीने से आता है। लेकिन अन्य बच्चों ने भी तो दूषित जल पिया है। तब इसका क्या कारण है कि एक बच्चे को ही दस्त लग गया और दूसरों को नहीं?

इसका एक कारण यह हो सकता है कि बच्चा स्वस्थ्य न हो। जिसके परिणामस्वरूप, एेसा संभव हुआ कि जब यह बच्चा संक्रमण के संपर्क में आता है, तो वह बीमार हो जाता है जबकि अन्य बच्चे नहीं। अब प्रश्न उठता है कि बच्चा स्वस्थ्य क्यों नहीं है? शायद बच्चे का पोषण ठीक न हो और वह पर्याप्त भोजन नहीं करता हो। अतः पर्याप्त पोषण का न होना ही रोग का दूसरा कारण है। बच्चा पर्याप्त पोषण क्यों नहीं पाता? शायद बच्चे के माता-पिता गरीब हों।

यह भी संभव है कि बच्चे में आनुवंशिक भिन्नता हो जो रोगकारक के संपर्क में आने पर पतले दस्त से प्रभावित हो जाता है। केवल आनुवंशिक विभिन्नता अथवा कम पोषण भी बिना रोगकारक के पतले दस्त नहीं उत्पन्न कर सकते। लेकिन ये भी रोग के कारण में सहयोगी बनते हैं।

बच्चे के लिए साफ़ पानी उपलब्ध क्यों नहीं था? शायद जहाँ बच्चे का परिवार रहता है वहाँ पर खराब लोक सेवाओं के कारण साफ़ पानी उपलब्ध न हो। इस प्रकार गरीबी तथा लोक सेवाओं की अनुप्लब्धता बच्चे की बीमारी के तीसरे कारण हैं।

इस प्रकार अब यह स्पष्ट हो गया है कि सभी रोगों के तात्कालिक कारण तथा सहायक कारण होते हैं। साथ ही विभिन्न प्रकार के रोग होने के एक नहीं बल्कि बहुत से कारण होते हैं।

13.2.5 संक्रामक तथा असंक्रामक कारक

हमने देखा कि जब कभी भी रोग के कारण के विषय में सोचें तो हमें लोक स्वास्थ्य तथा समुदाय स्वास्थ्य संबंधी कारकों को ध्यान में रखना आवश्यक है। हम इस विषय में और चर्चा करते हैं। रोग के तात्कालिक कारणों के विषय में सोचना अच्छा है, क्योंकि ये दोनों भिन्न-भिन्न प्रकार के होते हैं। रोग के कारण का एक वर्ग है, संक्रामक कारक, जो अधिकांशतः सूक्ष्म जीव होते हैं। वह रोग जिनके तात्कालिक कारक सूक्ष्म जीव होते हैं उन्हें संक्रामक रोग कहते हैं। इसका कारण यह है कि सूक्ष्म जीव समुदाय में फैल सकते हैं और इनके कारण होने वाले रोग भी इनके साथ फैल जाते हैं।

इनके विषय में सोचोः

1. क्या रोगी व्यक्ति के संपर्क में आने पर सभी रोग फैल जाते हैं ?

2. एेसे कौन से रोग हैं जो नहीं फैलते ?

3. मनुष्यों में वे रोग कैसे हो जाते हैं, जो रोगी के संपर्क में आने से नहीं फैलते?


दूसरी तरफ़, कुछ रोग एेसे होते हैं जो संक्रामक कारकों द्वारा नहीं होते। उनके कारक भिन्न होते हैं। लेकिन वे बाहरी कारक जो सूक्ष्म जीव नहीं होते वे समुदाय में फैल सकते हैं। यद्यपि ये बहुधा आंतरिक एवं असंक्रामक हैं।

उदाहरणतः, कुछ प्रकार के कैंसर आनुवंशिक असामान्यता के कारण होते हैं। उच्च रक्त चाप का कारण अधिक वजन होना तथा व्यायाम न करना है। आप एेसे ही अन्य रोगों के विषय में सोच सकते हैं जो संक्रामक नहीं हैं।

पेप्टिक व्रण तथा नोबेल पुरस्कार

कई वर्षों से हम यही सोचते थे कि पेप्टिक व्रण, जो आमाशय तथा ग्रहणी में एेसिडिटी संबंधित दर्द तथा रक्तस्राव करता है, का कारण रहने-सहने का ढंग है। प्रत्येक व्यक्ति सोचता था कि परेशानी भरे जीवन से आमाशय में एसिड का स्राव होता है जिसके कारण पेप्टिक व्रण हो जाता है।

दो आस्ट्रेलियाई वैज्ञानिकों ने पता लगाया कि एक बैक्टीरिया-हेलीकोबैक्टर पायलोरी पेप्टिक व्रण का कारण है। पर्थ, आस्ट्रेलिया के रोग विज्ञानी रॉबिन वॉरेन (जन्म सन् 1937) ने इन छोटे-छोटे वक्राकार बैक्टीरियाओं को अनेक रोगियों के आमाशय के निचले भाग में देखा। बैरी मार्शल (जन्म सन् 1951), एक चिकित्सक ने वॉरेन की खोज़ में दिलचस्पी ली और उन्होंने इन स्रोतों से बैक्टीरिया का संवर्धन करने में सफलता प्राप्त की।

अपने उपचार अध्ययन में मार्शल तथा वॉरेन ने पता लगाया कि रोगी के पेप्टिक व्रण का उपचार तभी हो सकता है जब बैक्टीरियाओं को आमाशय में मार दिया जाए। मार्शल तथा वॉरेन के इस अद्भुत कार्य के लिए विश्व समुदाय आभारी है कि पेप्टिक व्रण अब दीर्घकालिक एवं असहाय स्थिति वाला रोग नहीं रहा, बल्कि कुछ समय तक प्रतिजैविक (एंटीबायोटिक) के उपचार से ठीक हो जाता है।


इस खोज़ के लिए मार्शल तथा वॉरेन को (चित्र देखें) शरीरक्रिया विज्ञान तथा औषधि (medicine) के लिए सन् 2005 में संयुक्त रूप में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया।

रोगों के फैलने के तरीके तथा उनके उपचार की विधियाँ तथा सामुदायिक स्तर पर उनके निवारण की विधियाँ विभिन्न रोगों के लिए भिन्न-भिन्न होती हैं। यहाँ पर यह निर्भर करता है कि इनके तात्कालिक कारण संक्रामक हैं अथवा असंक्रामक।

प्रश्न

1. एेसे तीन कारण लिखिए जिससे आप सोचते हैं कि आप बीमार हैं तथा चिकित्सक के पास जाना चाहते हैें। यदि इनमें से एक भी लक्षण हो तो क्या आप फिर भी चिकित्सक के पास जाना चाहेंगे? क्यों अथवा क्यों नहीं ?

2. निम्नलिखित में से किसके लंबे समय तक रहने के कारण आप समझते हैं कि आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। तथा क्यों?

• यदि आप पीलिया रोग से ग्रस्त हैं।

• यदि आपके शरीर पर जूँ (lice) हैं।

• यदि आप मुँहासों से ग्रस्त हैं।


13.3 संक्रामक रोग

13.3.1 संक्रामक कारक

हमने देखा कि सजीव जगत की संपूर्ण विविधता को कुछ ही वर्गों में विभाजित किया जा सकता है। विभिन्न जीवों का वर्गीकरण कुछ सामान्य गुणों के आधार पर करते हैं। रोग उत्पन्न करने वाले जीव इनमें से अनेक वर्गों के अंतर्गत आते हैं। उनमें से कुछ वाइरस, कुछ बैक्टीरिया, कुछ फंजाई (कवक), कुछ एककोशिक जंतु अथवा प्रोटोजोआ हैं (चित्र 13.1)। कुछ रोग बहुकोशिक जीवों, जैसे अनेक प्रकार के कृमि से भी होते हैं।

वाइरस से होने वाले सामान्य रोग हैं खाँसी-जुकाम, इंफ्लुएंजा, डेंगु बुखार तथा एड्स (AIDS)। कुछ रोग जैसे कि टायफॉयड बुखार, हैजा, क्षयरोग तथा एंथ्रेक्स बैक्टीरिया द्वारा होते हैं। बहुत से सामान्य त्वचा रोग विभिन्न प्रकार की फंजाई द्वारा होते हैं। प्रोटोजोआ से मलेरिया, तथा कालाजार नामक रोग हो जाते हैं। हम आँत्र कृमि संक्रमण से परिचित हैं। इसी प्रकार फीलपाँंव नामक रोग भी कृमि की विभिन्न स्पीशीज़ द्वारा होता है।

यह क्यों महत्वपूर्ण है कि हम संक्रामक कारकों के इन वर्गों के विषय में सोचते हैं? इसका उत्तर यह है कि ये वर्ग उपचार की विधि निर्धारित करते हैं। इन वर्गों के प्रत्येक सदस्यों के जैविक गुणों में समानता है (जैसे वाइरस, बैक्टीरिया आदि)।

उदाहरणतः, सभी वाइरस, परपोषी की कोशिकाओं में रहते हैं, लेकिन बैक्टीरिया में एेसा कम ही होता है। वाइरस, बैक्टीरिया तथा फंजाई में गुणन अत्यंत तेज़ी से होता है जबकि तुलनात्मक रूप से कृमि में गुणन मंद होता है। वर्गीकरण के अनुसार सभी बैक्टीरिया एक-दूसरे से वाइरस की अपेक्षा अधिक निकट होते हैं। एेसा वाइरस में भी होता है। इसका अर्थ यह है कि अनेक जैव प्रक्रियाएँ सभी बैक्टीरियाओं में समान होती हैं, लेकिन वाइरस वर्ग से भिन्न होंगी। इसके परिणामस्वरूप औषधि जो किसी वर्ग में किसी एक जैव प्रक्रिया को रोकती है तो यह उस वर्ग के अन्य सदस्यों पर भी इसी प्रकार का प्रभाव डालेगी। लेकिन वही औषधि अन्य वर्ग से संबंधित रोगाणुओं पर प्रभाव नहीं डालेगी।



चित्र 13.1(a): संक्रमित कोशिका से बाहर निकलते हुए SARS बैक्टीरिया चित्र में तीर द्वारा इंगित किए गए हैं। चित्र में सफ़ेद रेखा 500 नैनोमीटर माप को दर्शाती है, जो एक माइक्रोमीटर का आधा है। एक माइक्रोमीटर एक मिलीमीटर के एक हज़ारवें भाग के बराबर है। यह मापचित्र इस बात को दर्शाता है कि हम कितनी सूक्ष्म वस्तुओं को देख रहे हैं।

सौजन्य - इमर्जिंग इंफेक्शस डिसीज़, सीडीसी यू. एस. का एक जर्नल


चित्र 13.1(b): स्टेफ़ाइलोकोकाई बैक्टीरिया जो मुँहासे का कारक है। ऊपर बाईं ओर की रेखा 5 माइक्रोमीटर माप को प्रदर्शित करती है



चित्र 13.1(c): प्रोटोजोआ ट्रिप्नोसोमा यह निंद्रालु व्याधि का कारक है। ट्रिप्नोसोमा को तस्तरीनुमा लाल रक्त कोशिका के साथ प्रदर्शित किया गया है जिससे आपको उसके आकार का पता चल सके कॉपीराइट–ओरेगॉज हैल्थ एंड सांइस युनीवर्सिटी, यू.एस.



चित्र 13.1(d): लेश्मानिया–कालाज़ार व्याधि कारक प्रोटोजोआ। यह जीव अंडाकार तथा प्रत्येक में एक चाबुकनुमा संरचना होती है। विभाजित होते जीव को तीर द्वारा दर्शाया गया है

हम एंटीबायोटिक का ही उदाहरण लेते हैं। वे सामान्यतः बैक्टीरिया के महत्वपूर्ण जैव रासायनिक मार्ग को बंद कर देते हैं। उदाहरणतः, बहुत-से बैक्टीरिया अपनी रक्षा के लिए कोशिका भित्ति बना लेते हैं। पेनिसिलीन, एंटीबायोटिक बैक्टीरिया की कोशिका भित्ति बनाने वाली प्रक्रिया को बाधित कर देती है। इसके परिणामस्वरूप बैक्टीरिया कोशिका भित्ति नहीं बना सकते हैं और वे सरलता से मर जाते हैं। मानव की कोशिकाएँ कोशिका भित्ति नहीं बना सकतीं इसलिए पेनिसिलीन का प्रभाव हम पर नहीं होता। पेनिसिलीन एेसे सभी बैक्टीरिया को प्रभावित करेंगे जिनमें कोशिका भित्ति बनाने की प्रक्रिया होती है। इसी प्रकार बहुत से एंटीबायोटिक बैक्टीरिया की अनेक स्पीशीज़ को प्रभावित करते हैं न कि केवल एक स्पीशीज़ को।


चित्र 13.1(e): गोलकृमि (एस्केरिस लुंब्रीकॉयडिस) छोटी आँत में पाया जाता है। 4cm के स्केल की माप एक व्यस्क गोलकृमि के आकार के अनुमान के लिए है


लेकिन वाइरस में एेसा मार्ग नहीं होता और यही कारण है कि कोई भी एंटीबायोटिक वाइरस संक्रमण पर प्रभावकारी नहीं है। यदि हम खाँसी-जुकाम से ग्रस्त हैं तो एंटीबायोटिक लेने से रोग की तीव्रता अथवा उसकी समय अवधि कम नहीं होती। यद्यपि, यदि वाइरस संक्रमित खाँसी-जुकाम के साथ बैक्टीरिया संक्रमण होता है तब एंटीबायोटिक का उपयोग लाभदायक होगा लेकिन फिर भी एंटीबायोटिक बैक्टीरिया संक्रमण पर ही उपयोगी होगा न कि वाइरस संक्रमण पर।

क्रियाकलाप 13.5

• पता कीजिए कि आपकी कक्षा में कुछ दिनों पहले कितने विद्यार्थियों को जुकाम/ खाँसी/बुखार हुआ था।

• उनको बीमारी कितने दिनों तक रही ?

• इनमें से कितनों ने एंटीबायोटिक का उपयोग किया (अपने माता-पिता से पूछो कि आपने एंटीबायोटिक लिया अथवा नहीं।)

• जिन्होंने एंटीबायोटिक लिया था वे कितने दिनों तक बीमार रहे ?

• जिन्होंने एंटीबायोटिक नहीं लिया था वे कितने दिनों तक बीमार रहे?

• क्या इन दोनों वर्गों में कोई अंतर हैं?

• यदि हाँ तो क्यों; यदि नहीं तो क्यों नहीं ?


13.3.2 रोग फैलने के साधन

संक्रामक रोग कैसे फैलते हैं? बहुत से सूक्ष्मजीवीय कारक रोगी से अन्य स्वस्थ मनुष्य तक विभिन्न तरीकों से फैलते हैं अर्थात् वे संचारित हो सकते हैं अतः इन्हें संचारी रोग भी कहते हैं।

एेसे रोगों के सूक्ष्म जीव हवा द्वारा फैलते हैं। एेसा तब होता है जब रोगी मनुष्य छींकता है अथवा खाँसी करता है। उस समय छोटे-छोटे बूँदक बाहर निकलते हैं। जब उसके समीप कोई अन्य व्यक्ति हो तो श्वास द्वारा ये बूँदक उसके शरीर में प्रवेश कर जाते हैं। इनसे सूक्ष्म जीवों को नए संक्रमण करने का अवसर मिल जाता है। वायु द्वारा फैलने वाले रोगों के उदाहरण हैं खाँसी-जुकाम, निमोनिया तथा क्षय रोग।

हम सभी ने एेसा अनुभव किया होगा कि जब हम किसी खाँसी-जुकाम से ग्रस्त व्यक्ति के पास बैठते हैं तो हमें भी खाँसी-जुकाम हो जाता है। जहाँ पर अधिक भीड़ होगी वहाँ पर हवा द्वारा फैलने वाले रोग भी अधिक होंगे।

जल द्वारा भी रोग फैल सकते हैं। जब संक्रमणीय रोग यथा हैजा से ग्रसित रोगी के अपशिष्ट पेयजल में मिल जाते हैं और यदि कोई स्वस्थ व्यक्ति जाने-अनजाने में इस जल को पीता है तो रोगाणु एक स्वस्थ व्यक्ति में प्रवेश कर जाता है जिससे वह भी इस रोग से ग्रसित हो जाता है। एेसे रोग अधिकतर साफ़ पेय जल न मिलने के कारण फैलते हैं। छोटी-छोटी बूँदकें वायु वेग के साथ मिनटों से घंटों तक वातावरण में प्रवाहित होती रहती हैं।

लैंगिक क्रियाओं द्वारा दो लोग शारीरिक रूप से एक-दूसरे के संपर्क में आते हैं अतः यह आश्चर्यजनक नहीं है कि कुछ सूक्ष्मजीवीय रोग जैसे सिफलिस अथवा एड्स (AIDS) लैंगिक संपर्क के समय एक साथी से दूसरे साथी में स्थानांतरित हो जाए। यद्यपि एेसे लैंगिक संचारी रोग सामान्य संपर्क जैसे हाथ मिलाना अथवा गले मिलना अथवा खेलकूद जैसे कुश्ती, अथवा और कोई अन्य विधि जिसमें हम सामाजिक रूप से एक-दूसरे के संपर्क में आते हैं, से नहीं फैलते।

AIDS, लैंगिक संपर्क के अतिरिक्त रक्त स्थानांतरण द्वारा भी संक्रमित होता है; जैसे AIDS से ग्रसित व्यक्ति का रक्त स्वस्थ व्यक्ति को स्थानांतरित किया जाय अथवा गर्भावस्था में रोगी माता से अथवा शिशु को स्तनपान द्वारा।

हम एेसे पर्यावरण में रहते हैं जिसमें हमारे अतिरिक्त अन्य जीव भी रहते हैं। इसलिए कुछ रोग अन्य जंतुओं द्वारा भी संचारित होते हैं। ये जंतु रोगाणुओं (संक्रमण करने वाले कारक) को रोगी से लेकर अन्य नए पोषी तक पहुंचा देते हैं। अतः ये मध्यस्थ का काम करते हैं जिन्हें रोगवाहक (वेक्टर) कहते हैं। सामान्य रोगवाहक का मच्छर एक उदाहरण है। मच्छर की बहुत सी एेसी स्पीशीज़ हैं जिन्हें अत्यधिक पोषण की आवश्यकता होती है जिससे कि वे परिपक्व अंडे उत्पन्न कर सकें। मच्छर अनेक समतापी प्राणियों (जिसमें मनुष्य भी शामिल हैं) पर निर्वाह करता है। इस प्रकार वे एक मनुष्य से दूसरे मनुष्य में रोग को फैलाते हैं।

चित्र 13.2: रोग संक्रमण के सामान्य तरीके


13.3.3 अंग-विशिष्ट तथा ऊतक-विशिष्ट अभिव्यक्ति

विभिन्न साधनों द्वारा रोग उत्पन्न करने वाले सूक्ष्म जीव शरीर में प्रवेश करते हैं। फिर ये कहाँ जाते हैं? सूक्ष्मजीव की अपेक्षा शरीर बहुत बड़ा है। इसलिए हमारे शरीर में बहुत से स्थान, अंग, ऊतक आदि हैं जहाँ ये सूक्ष्मजीव जा सकते हैं। क्या सभी सूक्ष्मजीव एक ही अंग अथवा ऊतक में जाते हैं अथवा वे भिन्न-भिन्न स्थानों पर जाते हैं ?

सूक्ष्मजीव के विभिन्न स्पीशीज़ शरीर के विभिन्न भागों में विकसित होते हैं। एेसा चुनाव उनके प्रवेश के स्थान पर निर्भर करता है। यदि ये हवा से नाक द्वारा प्रवेश करें तो ये फेफड़ों में जाएँगे। एेसा बैक्टीरिया से होने वाले क्षय रोग में होता है। यदि ये मुँह के द्वारा प्रवेश करें तो ये आहार नाल में रहेंगे, जैसे टायफायड रोग उत्पन्न करने वाले बैक्टीरिया। अथवा ये यकृत में जाएँगे जैसे हेपेटाइटिस बैक्टीरिया जो पीलिया के कारक हैं।

लेकिन सदैव एेसा नहीं होता। HIV वाइरस जो लैंगिक अंगों द्वारा शरीर में प्रवेश करता है, लसीका ग्रंथियों में फैलता है। मलेरिया उत्पन्न करने वाले सूक्ष्मजीव जो मच्छर के काटने से शरीर में प्रवेश करते हैं, वे यकृत में जाते हैं; उसके बाद लाल रुधिर कोशिकाओं में आते हैं। इसी प्रकार जापानी मस्तिष्क ज्वर उत्पन्न करने वाला वाइरस भी मच्छर के काटने से शरीर में पहुँचता है। लेकिन यह मस्तिष्क को संक्रमित करता है।

जिस ऊतक अथवा अंग पर सूक्ष्म जीव आक्रमण करता है, रोग के लक्षण तथा चिह्न उसी पर निर्भर करते हैं। यदि फेफड़े पर आक्रमण होता है तब लक्षण खाँसी तथा कम साँस आना होंगे। यदि यकृत पर आक्रमण होता है तब पीलिया होगा। यदि मस्तिष्क पर आक्रमण होता है तब सिरदर्द, उल्टी आना, चक्कर अथवा बेहोशी आना होगा। यदि हम यह जानते हों कि कौन-से ऊतक अथवा अंग पर आक्रमण हुआ है और उनके क्या कार्य हैं तो हम संक्रमण के चिह्न तथा लक्षण का अनुमान लगा सकते हैं।

संक्रामक रोगों के ऊतक-विशिष्ट प्रभाव के अतिरिक्त उनके अन्य सामान्य प्रभाव भी होते हैं। अधिकांश सामान्य प्रभाव इस पर निर्भर करते हैं कि संक्रमण से शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र क्रियाशील हो जाए एक सक्रिय प्रतिरक्षा तंत्र प्रभावित ऊतक के चारों ओर रोग उत्पन्न करने वाले सूक्ष्मजीवों को मारने के लिए अनेक कोशिकाएँ बना देता है। नयी कोशिकाओं के बनने के प्रक्रम को शोथ कहते हैं। इस प्रक्रम के अंतर्गत स्थानीय प्रभाव जैसे फूलना तथा दर्द होना और सामान्य प्रभाव जैसे बुखार होते हैं।

कुछ मामलों में संक्रमण के विशिष्ट ऊतक अति सामान्य प्रभाव को लक्षित करते हैं। उदाहरणतः HIV संक्रमण में वाइरस प्रतिरक्षा तंत्र में जाते हैं और इसके कार्य को नष्ट कर देते हैं। इस प्रकार HIV-AIDS से बहुत से प्रभाव इसलिए होते हैं क्योंकि हमारा शरीर प्रतिदिन होने वाले छोटे संक्रमणों का मुकाबला नहीं कर पाता है। हलके खाँसी-जुकाम से भी निमोनिया हो सकता है। इसी प्रकार आहार नाल के संक्रमण से रुधिरयुक्त प्रवाहिका हो सकता है। अंततः ये अन्य संक्रमण ही HIV-AIDS के रोगी की मृत्यु के कारण बनते हैं।

हमें यह भी स्मरण रखना आवश्यक है कि रोग की तीव्रता की अभिव्यक्ति शरीर में स्थित सूक्ष्मजीवों की संख्या पर निर्भर करती है। यदि सूक्ष्मजीव की संख्या बहुत कम है तो रोग की अभिव्यक्ति भी कम होगी। यदि उसी सूक्ष्म जीव की संख्या अधिक होगी तो रोग की अभिव्यक्ति इतनी तीव्र होगी कि जीवन को भी खतरा हो सकता है। प्रतिरक्षा तंत्र एक प्रमुख कारक है जो शरीर में जीवित सूक्ष्मजीवों की संख्या को निर्धारित करता है। इस विषय में हम इस अध्याय के अंत में पढ़ेंगे।

13.3.4 उपचार के नियम

जब आप बीमार हो जाते हैं तो आपके कुटुंब के सदस्य क्या करते हैं ? क्या आपने कभी सोचा है कि आप कुछ समय सोेने के बाद अच्छा क्यों अनुभव करते हैं? उपचार में दवाई का उपयोग कब करते हैं?

अब तक के ज्ञान के आधार पर एेसा लगता है कि संक्रामक रोगों के उपचार के दो उपाय हैं। एक तो यह है कि रोग के प्रभाव को कम कर दे और दूसरा रोग के कारण को समाप्त कर दे। पहले, उपाय के लिए हम एेसा उपचार करते हैं जिससे लक्षण (symptom) कम हो जाते हैं। लक्षण प्रायः शोथ (inflammation) के कारण होते हैं। उदाहरण के लिए हम बुखार, दर्द अथवा दस्त को कम करने के लिए दवाई का उपयोग करते हैं। हम आराम कर ऊर्जा का संरक्षण कर सकते हैं जो हमारे स्वस्थ होने में सहायक होगी।

लेकिन इस प्रकार के लक्षण–आधारित उपचार स्वयं में संक्रामक सूक्ष्मजीवों को समाप्त नहीं करेंगे और रोग ठीक नहीं होंगे। इसके लिए हमें सूक्ष्म जीवों को मारना ही पड़ेगा।

हम सूक्ष्मजीवों को कैसे मारते हैं? सूक्ष्मजीवों को मारने की एक विधि है औषधियों का उपयोग करना। हम पहले ही पढ़ चुके हैं कि सूक्ष्मजीव विभिन्न वर्गों में आते हैं। ये हैं वाइरस, बैक्टीरिया, फंजाई अथवा प्रोटोज़ोआ। जीवों के प्रत्येक वर्ग में कुछ आवश्यक जैवरासायनिक जैवप्रक्रियाएँ हाेंगी जो इस वर्ग के लिए विशिष्ट होंगी और अन्य वर्गों में नहीं होंगी। ये प्रक्रियाएँ नए पदार्थ बनाने के विभिन्न चरण अथवा श्वसन हो सकती हैं।

इन मार्गों का उपयोग हम नहीं करते हैं। उदाहरण के लिए, हमारी कोशिकाएँ एेसे प्रक्रम से नए पदार्थ बना सकती हैं जो बैक्टीरिया के प्रक्रम से भिन्न हों। हमें एेसी औषधि का उपयोग करना है जो हमारे शरीर को प्रभावित किए बिना ही बैक्टीरिया के संश्लेषी मार्ग को रोक सके। एेसा एंटीबायोटिक से संभव है। इसी प्रकार कुछ एेसी औषधियाँ हैं जो मलेरिया के परजीवी प्रोटोज़ोआ को मारती हैं।

एंटीवाइरल औषधि का बनाना एंटीबैक्टीरियल औषधि के बनाने की अपेक्षा कठिन है। इसका कारण है बैक्टीरिया में अपनी जैव रासायनिक प्रणाली होती है जबकि वाइरस में अपनी जैव रासायनिक प्रणाली बहुत कम होती है। वाइरस हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं और अपनी जीवन प्रक्रिया के लिए हमारी मशीनरी का उपयोग करते हैं। इसका अर्थ यह है कि आक्रमण करने के लिए अपेक्षाकृत कम वाइरस विशिष्ट लक्ष्य होते हैं। इन सीमाओं के बावजूद अब प्रभावशाली एंटीवाइरल औषधियाँ भी उपलब्ध हैं, उदाहरण के लिए, HIV संक्रमण को नियंत्रित करने की औषधि।

13.3.5 निवारण के सिद्धांत

अभी तक हमने यह पढ़ा है कि किसी व्यक्ति में कोई रोग है तो संक्रमण से कैसे छुटकारा मिल सकता है। संक्रामक रोगों से छुटकारा पाने की तीन सीमाएँ (कठिनाइयाँ) हैं। पहली यह है कि यदि कोई एक बार बीमार हो जाए तो उनके शारीरिक कार्यों को बहुत हानि होती है और वे फिर पूरी तरह से स्वस्थ नहीं होते। दूसरी यह है कि उपचार में लंबा समय लग सकता है अर्थात् सही उपचार होने पर भी रोगी को बिस्तर पर लंबे समय तक आराम करना पड़ सकता है। तीसरी यह कि संक्रमित रोगी अन्य व्यक्तियों में रोग को फैलाने का स्रोत बन जाए इससे उपरोक्त कठिनाइयाँ और बढ़ जाएँगी। इसीलिए रोगों का निवारण उपचार से अच्छा है।

हम रोगों का निवारण कैसे कर सकते हैं? इसकी दो विधियाँ हैं। एक सामान्य तथा दूसरी रोग विशिष्ट। संक्रमण से बचने की सामान्य विधि है रोगी से दूर रहें। इससे हम संक्रामक सूक्ष्मजीवों से बचाव कर सकते हैं?

यदि हम उनके फैलने की विधियों को जानते हैं तो हमें बड़़ी सुगमता होगी। वातोढ़ (वायु द्वारा फैलने वाले) सूक्ष्मजीवों से बचाव के लिए हम खुले स्थानों में रहें और भीड़ भरे स्थानों पर न जाएँ। जलोढ़ (जल द्वारा फैलना) सूक्ष्मजीवों से बचने के लिए हम साफ़ जल पिएँ। इसके लिए आप पानी में स्थित सूक्ष्मजीवों को मारने के लिए उपाय कर सकते हैं। रोग वाहक सूक्ष्मजीवों से बचने के लिए हमें साफ़ पर्यावरण में रहना चाहिए। एेसे वातावरण में मच्छर उत्पन्न नहीं होते अर्थात् संक्रामक रोगों से बचने के लिए स्वच्छता आवश्यक है।

पर्यावरण से संबंधित विषयों के अतिरिक्त, संक्रामक रोगों से बचने के और भी अन्य सामान्य नियम हैं। नियमों की बात करने से पहले हम एक प्रश्न पूछते हैं जिसकी ओर अभी तक ध्यान नहीं गया है। प्रायः हम प्रतिदिन संक्रमण से गुजरते हैं। यदि कक्षा में कोई विद्यार्थी खाँसी-जुकाम से पीड़ित है तो एेसा संभव है कि उसके आस-पास के विद्यार्थी भी संक्रमित हो जाएँ। लेकिन हम सभी वास्तव में रोग से पीड़ित नहीं होते हैं। एेसा क्यों नहीं होता है?

इसका कारण है हमारे शरीर में स्थित प्रतिरक्षा तंत्र जो रोगाणुओं से लड़ता रहता है। हमारे शरीर में विशिष्ट कोशिकाएँ होती हैं जो रोगाणुओं को मार देती हैं। हमारे शरीर में जैसे ही कोई संक्रामक रोगाणु आता है ये कोशिकाएँ सक्रिय हो जाती हैं। यदि ये उन्हें मार देती हैं तो हमें रोग नहीं होगा। प्रतिरक्षी कोशिकाएँ संक्रमण को फैलने से पहले ही समाप्त कर देती हैं। जैसा कि हमने पहले देखा, यदि रोगाणुओं की संख्या नियंत्रित हो जाती है तो रोग की अभिव्यक्ति बहुत कम होगी। अर्थात्, संक्रामक रोगाणुओं से संक्रमित होने का अर्थ यह नहीं है कि हमें कोई विशेष
बीमारी होगी।

गंभीर संक्रामक रोग प्रतिरक्षा तंत्र की असफलता को इंगित करता है। प्रतिरक्षा तंत्र हमारे शरीर में स्थित अन्य तंत्रों की तरह सफल नहीं होगा यदि हमें पर्याप्त भोजन तथा पोषण प्राप्त न हो। इसलिए संक्रामक रोगों से बचने के लिए दूसरी मूल आवश्यकता है उचित मात्रा में सबके लिए भोजन की उपलब्धता।


क्रियाकलाप 13.6

• अपने मोहल्ले में एक सर्वेक्षण करो। दस परिवारों से बात करो जिनका रहन-सहन उच्च स्तर का है जो अच्छी प्रकार रहते हैं, और दस एेसे परिवार लो जो आपके अनुमान के अनुसार गरीब हैं। इन दोनों परिवारों में बच्चे होने चाहिए जिनकी आयु पाँच वर्ष से कम हो। प्रत्येक बच्चे की ऊँचाई मापो और आयु लिखो तथा एक ग्राफ बनाओ।

• क्या वर्ग में कोई अंतर है? यदि हाँ, तो क्यों?

• यदि उनमें कोई अंतर नहीं है तो क्या आप यह निष्कर्ष निकालते हैं कि स्वास्थ्य के लिए अमीरी तथा गरीबी का कोई महत्त्व नहीं है?


ये संक्रमण से बचने की सामान्य विधियाँ हैं। विशिष्ट विधियाँ क्या हैं? ये प्रतिरक्षा तंत्र के विशिष्ट गुणों से संबंधित है जो प्रायः रोगाणु से लड़ते रहते हैं। इसे समझने के लिए एक उदाहरण लेते हैं।

इन दिनों सारे विश्व में चेचक नही है। लेकिन सौ वर्ष पहले चेचक महामारी बहुत होती थी। एेसी स्थिति में लोग रोगी के पास आने से डरते थे। क्योंकि उन्हें डर होता था कि उन्हें भी चेचक न हो जाए।

लेकिन एक एेसा भी वर्ग था जो चेचक से नहीं डरता था। यह वर्ग चेचक के रोगी की सेवा करता था। यह वह वर्ग था जिन्हें बहुत भयानक चेचक हुआ था। लेकिन फिर भी जीवित रहे, लेकिन उनके शरीर पर चेचक के बहुत से दाग थे। अर्थात्, यदि आपको एक बार चेचक हो जाए तो आपको चेचक रोग पुनः होने की संभावना नहीं होती। इसलिए एक बार रोग होने पर उसी रोग से बचने की यह एक विधि है।

एेसा इसलिए होता है कि जब रोगाणु प्रतिरक्षा तंत्र पर पहली बार आक्रमण करते हैं तो प्रतिरक्षा तंत्र रोगाणुओं के प्रति क्रिया करता है और फिर इसका विशिष्ट रूप से स्मरण कर लेता है। इस प्रकार जब वही रोगाणु या उससे मिलता-जुलता रोगाणु संपर्क में आता है तो पूरी शक्ति से उसे नष्ट कर देता है। इससे पहले संक्रमण की अपेक्षा दूसरा संक्रमण शीघ्र ही समाप्त हो जाता है। यह प्रतिरक्षाकरण के नियम का आधार है।

अब हम कह सकते हैं कि टीकाकरण का सामान्य नियम यह है कि शरीर में विशिष्ट संक्रमण प्रविष्ट कराकर प्रतिरक्षा तंत्र को ‘मूर्ख’ बना सकते हैं। वह उन रोगाणुओं की नकल करता है जो टीके के द्वारा शरीर में पहुँचे हैं। यह वास्तव में रोग नहीं करते लेकिन यह वास्तव में रोग करने वाले रोगाणुओं को उसके बाद रोग करने से रोकता है।

प्रतिरक्षा

परंपरा के अनुसार भारतीय तथा चीनी चिकित्सकीय तंत्र में कभी-कभी जानबूझ कर चेचक से पीड़ित व्यक्ति तथा स्वस्थ व्यक्ति की त्वचा को आपस में रगड़ते थे। उन्हें इससे एेसी आशा थी कि इसके कारण से चेचक के मंद रोगाणु स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में रोग के प्रति प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न कर देंगे।

दो सौ वर्ष पूर्व एक इंगलिश चिकित्सक, जिसका नाम एडवर्ड जेनर था, ने पता लगाया कि ग्वाले जिन्हें गो-चेेचक हुई है उन्हें महामारी के समय भी चेचक नहीं हई। गौ-चेचक मन्द रोग है। जेनर ने जान बूझकर लोगों को गौ-चेचक दिया (जैसा कि तस्वीर में दिखाया गया है)। इससे उन्होंने पाया कि अब वे लोग चेचक के प्रतिरोधी हैं। इसका कारण यह है कि चेचक का बैक्टीरिया गौ-चेचक के वाइरस का निकट संबंधी है। लैटिन में cow (गाय) का अर्थ है ‘वाक्का’ तथा cowpox (गौ-चेचक) का अर्थ है ‘वैक्सीनिया’। इस आधार पर वैक्सीन अर्थात् टीका शब्द आया है, जिसका हम आजकल उपयोग करते हैं।

एेसे बहुत से टीके आजकल उपलब्ध हैं जो संक्रामक रोगों का निवारण करते हैं और रोग निवारण का विशिष्ट साधन प्रदान करते हैं। टेटनस, डिप्थीरिया, कुकर खाँसी, चेचक, पोलियो आदि के टीके उपलब्ध हैं। यह बच्चों की संक्रामक रोगों से रक्षा करने के लिए सरकारी स्वास्थ्य कार्यक्रम है।

एेसे कार्यक्रम तभी सफल होते हैं जबकि एेसी स्वास्थ्य सुविधाएँ सभी बच्चों को प्राप्त हों। क्या आप इसका कारण सोच सकते हैं कि एेसा क्यों होना चाहिए?

हिपेटाइटिस के कुछ वाइरस जिससे पीलिया होता है पानी द्वारा संचारित होता है। हिपेटाइटिस 'A' के लिए टीका उपलब्ध है। लेकिन देश के अधिकांश भागों में जब बच्चे की आयु पाँच वर्ष हो जाती है तब तक वह हिपेटाइटिस 'A' के प्रति प्रतिरक्षी हो चुका होता है। इसका कारण यह है कि वह पानी के द्वारा वाइरस के प्रभाव में आ चुका हो। इन परिस्थितियों में क्या आप टीका लगवाएँगे ?

क्रियाकलाप 13.7

• संक्रमित कुत्ते तथा अन्य जंतुओं के काटने से रैबीज वाइरस फैलता है। मनुष्य तथा जंतु दोनों के लिए प्रति-रैबीज़ टीके उपलब्ध हैं। पता करो कि आपके पास-पड़ोस में स्थानीय प्रशासन रैबीज़ को फैलने से रोकने के लिए क्या कर रहा है? क्या ये उपाय पर्याप्त हैं? यदि नहीं तो आप इसके सुधार के लिए क्या सुझाव देंगे?


प्रश्न

1. जब आप बीमार होते हैं तो आपको सुपाच्य तथा पोषणयुक्त भोजन करने का परामर्श क्यों दिया जाता है?

2. संक्रामक रोग फैलने की विभिन्न विधियाँ कौन-कौन सी हैं ?

3. संक्रामक रोगाें को फैलने से रोकने के लिए आपके विद्यालय में कौन-कौन सी सावधानियाँ आवश्यक हैं?

4. प्रतिरक्षीकरण क्या है ?

5. आपके पास में स्थित स्वास्थ्य केंद्र में टीकाकरण के कौन-से कार्यक्रम उपलब्ध हैं? आपके क्षेत्र में कौन-कौन सी स्वास्थ्य संबंधी मुख्य समस्या है?


आपने क्या सीखा

• स्वास्थ्य व्यक्ति की शारीरिक, मानसिक तथा सामाजिक जीवन की एक समग्र समन्वयित अवस्था है।

• किसी का स्वास्थ्य उसके भौतिक पर्यावरण तथा आर्थिक अवस्था पर निर्भर करता है।

• रोगों की अवधि के आधार पर इसे तीव्र तथा दीर्घकालिक दो वर्गों में विभाजित कर सकते हैं।

• रोग के कारक संक्रामक अथवा असंक्रामक हो सकते हैं।

• संक्रामक कारक जीवों के विभिन्न वर्ग से हो सकते हैं। ये एककोशिक सूक्ष्मजीव अथवा बहुकोशिक हो सकते हैं।

• रोग का उपचार उसके कारक रोगाणु के वर्ग के आधार पर किया जाता है।

• संक्रामक कारक वायु, जल, शारीरिक संपर्क अथवा रोगवाहक द्वारा फैलते हैं।

• रोगों का निवारण सफल उपचार की अपेक्षा अच्छा है।

• संक्रामक रोगों का निवारण जन स्वास्थ्य स्वच्छता विधियों द्वारा किया जा सकता है जिससे संक्रामक कारक कम हो जाते हैं।

• टीकाकरण द्वारा संक्रामक रोगों का निवारण किया जा सकता है।

• संक्रामक रोगों के निवारण को प्रभावशाली बनाने के लिए आवश्यक है कि सार्वजनिक स्वच्छता तथा टीकाकरण की सुविधा सभी को उपलब्ध हो।

अभ्यास

1. पिछले एक वर्ष में आप कितनी बार बीमार हुए? बीमारी क्या थीं?

(a) इन बीमारियों को हटाने के लिए आप अपनी दिनचर्या में क्या परिवर्तन करेंगे?

(b) इन बीमारियों से बचने के लिए आप अपने पास-पड़ोस में क्या परिवर्तन करना चाहेेंगे?

2. डॉक्टर/नर्स/स्वास्थ्य कर्मचारी अन्य व्यक्तियों की अपेक्षा रोगियों के संपर्क में अधिक रहते हैं। पता करो कि वे अपने-आपको बीमार होने से कैसे बचाते हैं?

3. अपने पास-पड़ोस में एक सर्वेक्षण कीजिए तथा पता लगाइए कि सामान्यतः कौन-सी तीन बीमारियाँ होती हैं? इन बीमारियों को फैलने से रोकने के लिए अपने स्थानीय प्रशासन को तीन सुझाव दीजिए।

4. एक बच्चा अपनी बीमारी के विषय में नहीं बता पा रहा है। हम कैसे पता करेंगे कि

(a) बच्चा बीमार है?

(b) उसे कौन-सी बीमारी है?

5. निम्नलिखित किन परिस्थितियों में कोई व्यक्ति पुनः बीमार हो सकता है? क्यों?

(a) जब वह मलेरिया से ठीक हो रहा है।

(b) वह मलेरिया से ठीक हो चुका है और वह चेचक के रोगी की सेवा कर रहा है।

(c) मलेरिया से ठीक होने के बाद चार दिन उपवास करता है और चेचक के रोगी की सेवा कर रहा है?

6. निम्नलिखित में से किन परिस्थितियों में आप बीमार हो सकते हैं? क्यों?

(a) जब आपकी परीक्षा का समय है?

(b) जब आप बस तथा रेलगाड़ी में दो दिन तक यात्रा कर चुके हैं?

(c) जब आप का मित्र खसरा से पीड़ित है।

7. यदि आप किसी एक संक्रामक रोग के टीके की खोज कर सकते हो तो आप किसको चुनते हैं ?

(a) स्वयं की ?

(b) अपने क्षेत्र में फैले एक सामान्य रोग की। क्यों ?



RELOAD if chapter isn't visible.