हशारीप्रसाद द्विवेदी हशारीप्रसाद द्विवेदी का जन्म सन् 1907 में गाँव आरत दूबे का छपरा,िाला बलिया ;उत्तर प्रदेशद्ध में हुआ। उन्होंने उच्च श्िाक्षा काशी हिंदू विश्वविद्यालय से प्राप्त की तथा शांतिनिकेतन, काशी हिंदू विश्वविद्यालय एवं पंजाब विश्वविद्यालय मंे अध्यापन - कायर् किया। सन् 1979 में उनका देहांत हो गया। साहित्य का इतिहास, आलोचना, शोध, उपन्यास और निबंध् लेखन के क्षेत्रा में द्विवेदी जी का योगदान विशेष उल्लेखनीय है। अशोक के पूफल, वुफटज, कल्पलता, बाणभ‘ की आत्मकथा, पुननर्वा, हिंदी साहित्य का उद्भव और विकास, हिंदी साहित्य की भूमिका, कबीर उनकी प्रसि( कृतियाँ हैं। उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार एवं पद्मभूषण अलंकरण से सम्मानित किया गया। द्विवेदी जी ने साहित्य की अनेक विधाओं में उच्च कोटि की रचनाएँ कीं। उनके ललित निबंध विशेष उल्लेखनीय हैं। जटिल, गंभीर और दशर्न प्रधान बातों को भी सरल, सुबोध एवं मनोरंजक ढंग से प्रस्तुत करना द्विवेदी जी के लेखन की विशेषता है। उनका रचना - कमर् एक सहृदय विद्वान का रचना - कमर् है जिसमें शास्त्रा के ज्ञान, परंपरा के बोध और लोकजीवन के अनुभव का सृजनात्मक सामंजस्य है। 78/क्ष्िातिज एक वुफत्ता और एक मैना निबंध में न केवल पशु - पक्ष्िायों के प्रति मानवीय प्रेम प्रदश्िार्त है, बल्िक पशु - पक्ष्िायों से मिलने वाले प्रेम, भक्ित, विनोद और करुणा जैसे मानवीय भावों का विस्तार भी है। इसमें रवींद्रनाथ की कविताओं और उनसे जुड़ी स्मृतियों के सहारे गुरुदेव की संवेदनशीलता, आंतरिक विराटता और सहजता के चित्रा तो उकेरे ही गए हैं, पशु - पक्ष्िायों के संवेदनशील जीवन का भी बहुत सूक्ष्म निरीक्षण है। यह निबंध सभी जीवों से प्रेम की प्रेरणा देता है। एक वुफत्ता और एक मैना आज से कइर् वषर् पहले गुरुदेव के मन में आया कि शांतिनिकेतन को छोड़कर कहीं अन्यत्रा जाएँ। स्वास्थ्य बहुत अच्छा नहीं था। शायद इसलिए, या पता नहीं क्यों, तै पाया कि वे श्रीनिकेतन के पुराने तिमंिाले मकान में वुफछ दिन रहें। शायद मौज में आकर ही उन्होंने यह निणर्य किया हो। वे सबसे उफपर के तल्ले में रहने लगे। उन दिनों उफपर तक पहुँचने के लिए लोहे की चक्करदार सीढि़याँ थीं, और वृ( और क्षीणवपु रवींद्रनाथ के लिए उस पर चढ़ सकना असंभव था। पिफर भी बड़ी कठिनाइर् से उन्हें वहाँ ले जाया जा सका। उन दिनों छु‘ियाँ थीं। आश्रम के अिाकांश लोग बाहर चले गए थे। एक दिन हमने सपरिवार उनके ‘दशर्न’ की ठानी। ‘दशर्न’ को मैं जो यहाँ विशेष रूप से दशर्नीय बनाकर लिख रहा हूँ, उसका कारण यह है कि गुरुदेव के पास जब कभी मैं जाता था तो प्रायः वे यह कहकर मुसकरा देते थे कि ‘दशर्नाथीर् हैं क्या?’ शुरू - शुरू में मैं उनसे ऐसी बाँग्ला मंे बात करता था, जो वस्तुतः हिंदी - मुहावरों का अनुवाद हुआ करती थी। किसी बाहर के अतिथ्िा को जब मैं उनके पास ले जाता था तो कहा करता था, ‘एक भद्र लोक आपनार दशर्नेर जन्य ऐसे छेन।’ यह बात हिंदी में जितनी प्रचलित है, उतनी बाँग्ला में नहीं। इसलिए गुरुदेव शरा मुसकरा देते थे। बाद में मुझे मालूम हुआ कि मेरी यह भाषा बहुत अिाक पुस्तकीय है और गुरुदेव ने उस ‘दशर्न’ शब्द को पकड़ लिया था। इसलिए जब कभी मैं असमय में पहुँच जाता था तो वे हँसकर पूछते थे ‘दशर्नाथीर् लेकर आए हो क्या?’ यहाँ यह दुख के साथ कह देना चाहता हूँ कि अपने देश के दशर्नाथ्िार्यों में कितने ही इतने प्रगल्भ होते थे कि समय - असमय, स्थान - अस्थान, अवस्था - अनवस्था की एकदम परवा नहीं करते थे और रोकते रहने पर भी आ ही जाते थे। ऐसे ‘दशर्नाथ्िार्यों’ से गुरुदेव वुफछ भीत - भीत से रहते थे। अस्तु, मैं मय बाल - बच्चों के एक दिन श्रीनिकेतन जा पहुँचा। कइर् दिनों से उन्हें देखा नहीं था। गुरुदेव वहाँ बड़े आनंद में थे। अकेले रहते थे। भीड़ - भाड़ उतनी नहीं होती थी, जितनी शांतिनिकेतन में। जब हम लोग उफपर गए तो गुरुदेव बाहर एक वुफसीर् पर चुपचाप बैठे अस्तगामी सूयर् की ओर ध्यान - स्ितमित नयनों से देख रहे थे। हम लोगों को देखकर मुसकराए, बच्चों से शरा छेड़छाड़ की, वुफशल - प्रश्न पूछे औरपिफर चुप हो रहे। ठीक उसी समय उनका वुफत्ता धीरे - धीरे उफपर आया और उनके पैरों के पास खड़ा होकर पूँछ हिलाने लगा। गुरुदेव ने उसकी पीठ पर हाथ पेफरा। वह आँखें मूँदकर अपने रोम - रोम से उस स्नेह - रस का अनुभव करने लगा। गुरुदेव ने हम लोगों की ओर देखकर कहा, फ्देखा तुमने, यह आ गए। वैफसे इन्हें मालूम हुआ कि मैं यहाँ हूँ, आश्चयर् है! और देखो, कितनी परितृप्ित इनके चेहरे पर दिखाइर् दे रही है।य्हम लोग उस वुफत्ते के आनंद को देखने लगे। किसी ने उसे राह नहीं दिखाइर् थी, न उसे यह बताया था कि उसके स्नेह - दाता यहाँ से दो मील दूर हैं और पिफरभी वह पहुँच गया। इसी वुफत्ते को लक्ष्य करके उन्होंने ‘आरोग्य’ में इस भाव कीएक कविता लिखी थी μ ‘प्रतिदिन प्रातःकाल यह भक्त वुफत्ता स्तब्ध होकर आसन के पास तब तक बैठा रहता है, जब तक अपने हाथों के स्पशर् से मैं इसका संगनहीं स्वीकार करता। इतनी - सी स्वीकृति पाकर ही उसके अंग - अंग में आनंद का प्रवाह बह उठता है। इस वाक्यहीन प्राण्िालोक में सिप़्ार्फ यही एक जीव अच्छा - बुरा सबको भेदकर संपूणर् मनुष्य को देख सका है, उस आनंद को देख सका है, जिसे प्राण दिया जा सकता है, जिसमें अहैतुक प्रेम ढाल दिया जा सकता है, जिसकी चेतना असीम चैतन्य लोक में राह दिखा सकती है। जब मैं इस मूक हृदय का प्राणपण आत्मनिवेदन देखता हूँ, जिसमें वह अपनी दीनता बताता रहता है, तब मैं यह सोच ही नहीं पाता कि उसने अपने सहज बोध से मानव स्वरूप में कौन सा मूल्य आविष्कार किया है, इसकी भाषाहीन दृष्िट की करुण व्यावुफलता जो वुफछ समझती है, उसे समझा नहीं पाती और मुझे इस सृष्िट में मनुष्य का सच्चा परिचय समझा देती है।’ इस प्रकार कवि की ममर्भेदी दृष्िट ने इस भाषाहीन प्राणी की करुण दृष्िट के भीतर उस विशाल मानव - सत्य को देखा है, जो मनुष्य, मनुष्य के अंदर भी नहीं देख पाता। मैं जब यह कविता पढ़ता हूँ तब मेरे सामने श्रीनिकेतन के तितल्ले पर की वह घटना प्रत्यक्ष - सी हो जाती है। वह आँख मूँदकर अपरिसीम आनंद, वह ‘मूक हृदय का प्राणपण आत्मनिवेदन’ मूतिर्मान हो जाता है। उस दिन मेरे लिए वह एक छोटी - सी घटना थी, आज वह विश्व की अनेक महिमाशाली घटनाओं की श्रेणी में बैठ गइर् है। एक आश्चयर् की बात और इस प्रसंग मंे उल्लेख की जा सकती है।जब गुरुदेव का चिताभस्म कलकत्ते ;कोलकाताद्ध से आश्रम में लाया गया, उस समय भी न जानेकिस सहज बोध के बल पर वह वुफत्ता आश्रम के द्वार तक आया और चिताभस्म के साथ अन्यान्यआश्रमवासियों के साथ शांत गंभीर भाव से उत्तरायण तक गया। आचायर् क्ष्िातिमोहन सेन सबके आगे थे। उन्होंने मुझे बताया कि वह चिताभस्म के कलश के पास थोड़ी देर चुपचाप बैठा भी रहा। वुफछ और पहले की घटना याद आ रही है। उन दिनों शांतिनिकेतन में नया ही आया था। गुरुदेव से अभी उतना धृष्ट नहीं हो पाया था। गुरुदेव उन दिनों सुबह अपने बगीचे में टहलने के लिए निकला करते थे। मैं एक दिन उनके साथ हो गया था। मेरे साथ एक और पुराने अध्यापक थे और सही बात तो यह है कि उन्होंने हीमुझे भी अपने साथ ले लिया था। गुरुदेव एक - एक पूफल - पत्ते को ध्यान से देखते हुए अपने बगीचे में टहल रहे थे और उक्त अध्यापक महाशय से बातें करते जा रवींद्रनाथ टैगोर रहे थे। मैं चुपचाप सुनता जा रहा था। गुरुदेव ने बातचीत के सिलसिले में एक बार कहा, फ्अच्छा साहब, आश्रम के कौए क्या हो गए? उनकी आवाश सुनाइर् ही नहीं देती?य् न तो मेरे साथी उन अध्यापक महाशय को यह खबर थी और न मुझे ही। बाद में मैंने लक्ष्य किया कि सचमुच कइर् दिनों से आश्रम में कौए नहीं दीख रहे हैं। मैंने तब तक कौओं को सवर्व्यापक पक्षी ही समझ रखा था। अचानक उस दिन मालूम हुआ कि ये भले आदमी भी कभी - कभी प्रवास को चले जाते हैं या चले जाने को बाध्य होते हैं। एक लेखक ने कौओं की आधुनिक साहित्ियकों से उपमा दी है, क्योंकि इनका मोटो है ‘मिसचिप्फ पफार मिसचिप्फ सेक’ ;शरारत के लिए ही शरारतद्ध। तो क्या कौओं का प्रवास भी किसी शरारत के उद्देश्य से ही था? प्रायः एक सप्ताह के बाद बहुत कौए दिखाइर् दिए। एक दूसरी बार मैं सवेरे गुरुदेव के पास उपस्िथत था। उस समय एक लँगड़ी मैना पुफदक रही थी। गुरुदेव ने कहा, फ्देखते हो, यह यूथभ्रष्ट है। रोश पुफदकती है, ठीक यहीं आकर। मुझे इसकी चाल में एक करुण - भाव दिखाइर् देता है।य् गुरुदेव ने अगर कह न दिया होता तो मुझे उसका करुण - भाव एकदम नहीं दीखता। मेरा अनुमान था कि मैना करुण भाव दिखानेवाला पक्षी है ही नहीं। वह दूसरों पर अनुवंफपा ही दिखाया करती है। तीन - चार वषर् से मैं एक नए मकान में रहने लगा हूँ। मकान के निमार्ताओं ने दीवारों में चारों ओर एक - एक सूराख छोड़ रखी है। यहकोइर् आधुनिक वैज्ञानिक खतरे का समाधान होगा। सो, एक मैना - दंपिा नियमित भाव से प्रतिवषर् यहाँ गृहस्थी जमाया करते हैं, तिनके और चीथड़ों का अंबार लगा देते हैं। भलेमानस गोबर के टुकड़े तक ले आना नहीं भूलते। हैरान होकर हम सूराखों में ईंटें भर देते हैं, परंतु वे खाली बची जगह का भी उपयोग कर लेते हैं। पति - पत्नी जब कोइर् एक तिनका लेकर सूराख में रखते हैं तो उनके भाव देखने लायक होते हैं। पत्नी देवी का तो क्या कहना! एक तिनका ले आइर् तो पिफर एक पैर पर खड़ी होकर शरा पंखों को पफटकार दिया, चोंच को अपने ही परों से सापफ कर लिया औऱनाना प्रकार की मधुर और विजयोद्घोषी वाणी में गान शुरू कर दिया। हम लोगों की तो उन्हें कोइर् परवा ही नहीं रहती। अचानक इसी समय अगर पति देवता भी कोइर् कागश का या गोबर का टुकड़ा लेकर उपस्िथत हुए तब तो क्या कहना! दोनों के नाच - गान और आनंद - नृत्य से सारा मकान मुखरित हो उठता है। इसके बाद ही पत्नी देवी शरा हम लोगों की ओर मुखातिब होकर लापरवाही - भरी अदा से वुफछ बोल देती हैं। पति देवता भी मानो मुसकराकर हमारी ओर देखते, वुफछ रिमावर्फ करते और मुँह पेफर लेते हैं। पक्ष्िायों की भाषा तो मैं नहीं जानताऋ पर मेरा निश्िचत विश्वास है कि उनमें वुफछ इस तरह की बातें हो जाया करती हैंः पत्नीμये लोग यहाँ वैफसे आ गए जी? पतिμउँह बेचारे आ गए हैं, तो रह जाने दो। क्या कर लेंगे! पत्नीμलेकिन पिफर भी इनको इतना तो खयाल होना चाहिए कि यह हमारा प्राइवेट घर है। पतिμआदमी जो हैं, इतनी अकल कहाँ? पत्नीμजाने भी दो। पतिμऔर क्या! सो, इस प्रकार की मैना कभी करुण हो सकती है, यह मेरा विश्वास ही नहीं था। गुरुदेव की बात पर मैंने ध्यान से देखा तो मालूम हुआ कि सचमुच ही उसके मुख पर एक करुण भाव है। शायद यह विधुर पति था, जो पिछली स्वयंवर - सभा के यु( में आहत और परास्त हो गया था। या विधवा पत्नी है, जो पिछले बिड़ाल के आक्रमण के समय पति को खोकर यु( में इर्षत् चोट खाकर एकांत विहार कर रही है। हाय, क्यों इसकी ऐसी दशा है! शायद इसी मैना को लक्ष्य करके गुरुदेव ने बाद मंे एक कविता लिखी थी, जिसके वुफछ अंश का सार इस प्रकार हैः फ्उस मैना को क्या हो गया है, यही सोचता हूँ। क्यों वह दल से अलग होकर अकेली रहती है? पहले दिन देखा था सेमर के पेड़ के नीचे मेरे बगीचे मंे। जान पड़ा जैसे एक पैर से लँगड़ा रही हो। इसके बाद उसे रोश सवेरे देखता हूँμसंगीहीन होकर कीड़ों का श्िाकार करती पिफरती है। चढ़ जाती है बरामदे में। नाच - नाचकर चहलकदमी किया करती है, मुझसे शरा भी नहीं डरती। क्यों है ऐसी दशा इसकी? समाज के किस दंड पर उसे निवार्सन मिला है, दल के किस अविचार पर उसने मान किया है? वुफछ ही दूरी पर और मैनाएँ बक - झक कर रही हैं, घास पर उछल - वूफद रही हैं, उड़ती पिफरती हैं श्िारीषवृक्ष की शाखाओं पर। इस बेचारी को ऐसा वुफछ भी शौक नहीं है। इसके जीवन में कहाँ गाँठ पड़ी है, यही सोच रहा हूँ। सवेरे की धूप में मानोसहज मन से आहार चुगती हुइर् झड़े हुए पत्तों पर वूफदती पिफरती है सारा दिन। किसी के उफपर इसका वुफछ अभ्िायोग है, यह बात बिलवुफल नहीं जान पड़ती। इसकी चाल में वैराग्य का गवर् भी तो नहीं है, दो आग - सी जलती आँखें भी तो नहीं दिखतीं।य् इत्यादि। जब मैं इस कविता को पढ़ता हूँ तो उस मैना की करुण मूतिर् अत्यंत साप़्ाफ होकर सामने आ जाती है। वैफसे मैंने उसे देखकर भी नहीं देखा और किस प्रकार कवि की आँखें उस बिचारी के ममर्स्थल तक पहुँच गइर्, सोचता हूँ तो हैरान हो रहता हूँ। एक दिन वह मैना उड़ गइर्। सायंकाल कवि ने उसे नहीं देखा। जब वह अकेले जाया करती है उस डाल के कोने में, जब झींगुर अंधकार में झनकारता रहता है,जब हवा में बाँस के पत्ते झरझराते रहते हैं, पेड़ों की पफाँक से पुकारा करता है नींद तोड़ने वाला संध्यातारा! कितना करुण है उसका गायब हो जाना! प्रश्न - अभ्यास 1.गुरुदेव ने शांतिनिकेतन को छोड़ कहीं और रहने का मन क्यों बनाया? 2.मूक प्राणी मनुष्य से कम संवेदनशील नहीं होते। पाठ के आधार पर स्पष्ट कीजिए। 3.गुरुदेव द्वारा मैना को लक्ष्य करके लिखी कविता के ममर् को लेखक कब समझ पाया? 4.प्रस्तुत पाठ एक निबंध है। निबंध गद्य - साहित्य की उत्कृष्ट विधा है, जिसमें लेखक अपने भावों और विचारों को कलात्मक और लालित्यपूणर् शैली में अभ्िाव्यक्त करता है। इस निबंध में उपयुर्क्त विशेषताएँ कहाँ झलकती हैं? किन्हीं चार का उल्लेख कीजिए। 5.आशय स्पष्ट कीजिएμ इस प्रकार कवि की ममर्भेदी दृष्िट ने इस भाषाहीन प्राणी की करुण दृष्िट के भीतर उस विशाल मानव - सत्य को देखा है, जो मनुष्य, मनुष्य के अंदर भी नहीं देख पाता। रचना और अभ्िाव्यक्ित 6.पशु - पक्ष्िायों से प्रेम इस पाठ की मूल संवेदना है। अपने अनुभव के आधार पर ऐसे किसी प्रसंग से जुड़ी रोचक घटना को कलात्मक शैली में लिख्िाए। भाषा - अध्ययन 7.ऽ गुरुदेव शरा मुसवफरा दिए। ऽ मैं जब यह कविता पढ़ता हूँ। उफपर दिए गए वाक्यों में एक वाक्य में अकमर्क िया है और दूसरे में सकमर्क। इस पाठ को ध्यान से पढ़कर सकमर्क और अकमर्क िया वाले चार - चार वाक्य छाँटिए। 8.निम्नलिख्िात वाक्यों में कमर् के आधार पर िया - भेद बताइए - ;कद्ध मीना कहानी सुनाती है। ;खद्ध अभ्िानव सो रहा है। ;गद्ध गाय घास खाती है। ;घद्ध मोहन ने भाइर् को गेंद दी। ;ड.द्ध लड़कियाँ रोने लगीं। 9.नीचे पाठ में से शब्द - युग्मों के वुफछ उदाहरण दिए गए हैं, जैसे - समय - असमय, अवस्था - अनवस्था इन शब्दों में ‘अ’ उपसगर् लगाकर नया शब्द बनाया गया है। पाठ में से वुफछ शब्द चुनिए और उनमें ‘अ’ एवं ‘अन्’ उपसगर् लगाकर नए शब्द बनाइए। पाठेतर सियता ऽ पशु - पक्ष्िायों पर लिखी कविताओं का संग्रह करें और उनके चित्रों के साथ उन्हें प्रदश्िार्त करें। ऽ हशारीप्रसाद द्विवेदी के वुफछ अन्य ममर्स्पशीर् निबंध, जैसेμ‘अशोक के पूफल’ और ‘नाखून क्यों बढ़ते हैं’ पढि़ए। शब्द - संपदा क्षीणवपु - प्रगल्भ - अस्तगामी - परितृप्ित - आरोग्य - अहैतुक - प्राणपण - ममर्भेदी - तितल्ले - उत्तरायण - ध्ृष्ट - यू्र - थभष्ट अपरिसीम - सवर् - व्यापक अनुवंफपा - मुखातिब - बिड़ाल - इर्षत - निवार् - सन अभ्िायोग - दुबला पतला, कमशोर शरीर वाचाल, बोलने मंे संकोच न करनेवाला डूबता हुआ पूरी तरह संतोष प्राप्त करना बाँग्ला भाषा की एक पत्रिाका अकारण, बिना किसी कारण के जान की बाशी अतिदुखद, दिल को लगने वाला तीसरी मंिाल पर शांतिनिकेतन में उत्तर दिशा की ओर बना रवींद्रनाथ टैगोर का एक निवास - स्थान लज्जा रहित, निःसंकोच समूह या झुंड से निकला या निकाला हुआ असीमित सबमें रहने वाला दया संेोबाित हाकर बिलाव थोड़ा, वुफछ - वुफछ, आंश्िाक रूप से देश निकाला आरोप

>Chap_8_Final>
KshitijBhag1-008

हजारीप्रसाद द्विवेदी 

हजारीप्रसाद द्विवेदी का जन्म सन् 1907 में गाँव आरत दूबे का छपरा, जि़ला बलिया (उत्तर प्रदेश) में हुआ। उन्होंने उच्च शिक्षा काशी हिंदू विश्वविद्यालय से प्राप्त की तथा शांतिनिकेतन, काशी हिंदू विश्वविद्यालय एवं पंजाब विश्वविद्यालय में अध्यापन-कार्य किया। सन् 1979 में उनका देहांत हो गया।

साहित्य का इतिहास, आलोचना, शोध, उपन्यास और निबंध लेखन के क्षेत्र में द्विवेदी जी का योगदान विशेष उल्लेखनीय है। अशोक के फूल, कुटज, कल्पलता इत्यादि ललित निबंध, चार उपन्यास, बाणभट्ट की आत्मकथा, चारूचन्द्र लेख, पुनर्नवा, अनामदास का पोथा और आलोचना साहित्य- हिंदी साहित्य का उद्भव और विकास, हिंदी साहित्य की भूमिका, कबीर उनकी प्रसिद्ध कृतियाँ हैं। उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार एवं पद्मभूषण अलंकरण से सम्मानित किया गया।

द्विवेदी जी ने साहित्य की अनेक विधाओं में उच्च कोटि की रचनाएँ कीं। उनके ललित निबंध विशेष उल्लेखनीय हैं। जटिल, गंभीर और दर्शन प्रधान बातों को भी सरल, सुबोध एवं मनोरंजक ढंग से प्रस्तुत करना द्विवेदी जी के लेखन की विशेषता है। उनका रचना-कर्म एक सहृदय विद्वान का रचना-कर्म है जिसमें शास्त्र के ज्ञान, परंपरा के बोध और लोकजीवन के अनुभव का सृजनात्मक सामंजस्य है।

एक कुत्ता और एक मैना निबंध में न केवल पशु-पक्षियों के प्रति मानवीय प्रेम प्रदर्शित है, बल्कि पशु-पक्षियों से मिलने वाले प्रेम, भक्ति, विनोद और करुणा जैसे मानवीय भावों का विस्तार भी है। इसमें रवींद्रनाथ की कविताओं और उनसे जुड़ी स्मृतियों के सहारे गुरुदेव की संवेदनशीलता, आंतरिक विराटता और सहजता के चित्र तो उकेरे ही गए हैं, पशु-पक्षियों के संवेदनशील जीवन का भी बहुत सूक्ष्म निरीक्षण है। यह निबंध सभी जीवों से प्रेम की प्रेरणा देता है।

एक कुत्ता और एक मैना

आज से कई वर्ष पहले गुरुदेव के मन में आया कि शांतिनिकेतन को छोड़कर कहीं अन्यत्र जाएँ। स्वास्थ्य बहुत अच्छा नहीं था। शायद इसलिए, या पता नहीं क्यों, तै पाया कि वे श्रीनिकेतन के पुराने तिमंजि़ले मकान में कुछ दिन रहें। शायद मौज में आकर ही उन्होंने यह निर्णय किया हो। वे सबसे ऊपर के तल्ले में रहने लगे। उन दिनों ऊपर तक पहुँचने के लिए लोहे की चक्करदार सीढ़ियाँ थीं, और वृद्ध और क्षीणवपु रवींद्रनाथ के लिए उस पर चढ़ सकना असंभव था। फिर भी बड़ी कठिनाई से उन्हें वहाँ ले जाया जा सका।

उन दिनों छुट्टियाँ थीं। आश्रम के अधिकांश लोग बाहर चले गए थे। एक दिन हमने सपरिवार उनके ‘दर्शन’ की ठानी। ‘दर्शन’ को मैं जो यहाँ विशेष रूप से दर्शनीय बनाकर लिख रहा हूँ, उसका कारण यह है कि गुरुदेव के पास जब कभी मैं जाता था तो प्रायः वे यह कहकर मुसकरा देते थे कि ‘दर्शनार्थी हैं क्या?’ शुरू-शुरू में मैं उनसे ऐसी बाँग्ला में बात करता था, जो वस्तुतः हिंदी-मुहावरों का अनुवाद हुआ करती थी। किसी बाहर के अतिथि को जब मैं उनके पास ले जाता था तो कहा करता था, ‘एक भद्र लोक आपनार दर्शनेर जन्य ऐसे छेन।’ यह बात हिंदी में जितनी प्रचलित है, उतनी बाँग्ला में नहीं। इसलिए गुरुदेव ज़रा मुसकरा देते थे। बाद में मुझे मालूम हुआ कि मेरी यह भाषा बहुत अधिक पुस्तकीय है और गुरुदेव ने उस ‘दर्शन’ शब्द को पकड़ लिया था। इसलिए जब कभी मैं असमय में पहुँच जाता था तो वे हँसकर पूछते थे ‘दर्शनार्थी लेकर आए हो क्या?’ यहाँ यह दुख के साथ कह देना चाहता हूँ कि अपने देश के दर्शनार्थियों में कितने ही इतने प्रगल्भ होते थे कि समय-असमय, स्थान-अस्थान, अवस्था-अनवस्था की एकदम परवा नहीं करते थे और रोकते रहने पर भी आ ही जाते थे। ऐसे ‘दर्शनार्थियों’ से गुरुदेव कुछ भीत-भीत से रहते थे। अस्तु, मैं मय बाल-बच्चों के एक दिन श्रीनिकेतन जा पहुँचा। कई दिनों से उन्हें देखा नहीं था।

गुरुदेव वहाँ बड़े आनंद में थे। अकेले रहते थे। भीड़-भाड़ उतनी नहीं होती थी, जितनी शांतिनिकेतन में। जब हम लोग ऊपर गए तो गुरुदेव बाहर एक कुर्सी पर चुपचाप बैठे अस्तगामी सूर्य की ओर ध्यान-स्तिमित नयनों से देख रहे थे। हम लोगों को देखकर मुसकराए, बच्चों से ज़रा छेड़छाड़ की, कुशल-प्रश्न पूछे और फिर चुप हो रहे। ठीक उसी समय उनका कुत्ता धीरे-धीरे ऊपर आया और उनके पैरों के पास खड़ा होकर पूँछ हिलाने लगा। गुरुदेव ने उसकी पीठ पर हाथ फेरा। वह आँखें मूँदकर अपने रोम-रोम से उस स्नेह-रस का अनुभव करने लगा। गुरुदेव ने हम लोगों की ओर देखकर कहा, "देखा तुमने, यह आ गए। कैसे इन्हें मालूम हुआ कि मैं यहाँ हूँ, आश्चर्य है! और देखो, कितनी परितृप्ति इनके चेहरे पर दिखाई दे रही है।"

हम लोग उस कुत्ते के आनंद को देखने लगे। किसी ने उसे राह नहीं दिखाई थी, न उसे यह बताया था कि उसके स्नेह-दाता यहाँ से दो मील दूर हैं और फिर भी वह पहुँच गया। इसी कुत्ते को लक्ष्य करके उन्होंने ‘आरोग्य’ में इस भाव की एक कविता लिखी थी- ‘प्रतिदिन प्रातःकाल यह भक्त कुत्ता स्तब्ध होकर आसन के पास तब तक बैठा रहता है, जब तक अपने हाथों के स्पर्श से मैं इसका संग नहीं स्वीकार करता। इतनी-सी स्वीकृति पाकर ही उसके अंग-अंग में आनंद का प्रवाह बह उठता है। इस वाक्यहीन प्राणिलोक में सिर्फ़ यही एक जीव अच्छा-बुरा सबको भेदकर संपूर्ण मनुष्य को देख सका है, उस आनंद को देख सका है, जिसे प्राण दिया जा सकता है, जिसमें अहैतुक प्रेम ढाल दिया जा सकता है, जिसकी चेतना असीम चैतन्य लोक में राह दिखा सकती है। जब मैं इस मूक हृदय का प्राणपण आत्मनिवेदन देखता हूँ, जिसमें वह अपनी दीनता बताता रहता है, तब मैं यह सोच ही नहीं पाता कि उसने अपने सहज बोध से मानव स्वरूप में कौन सा मूल्य आविष्कार किया है, इसकी भाषाहीन दृष्टि की करुण व्याकुलता जो कुछ समझती है, उसे समझा नहीं पाती और मुझे इस सृष्टि में मनुष्य का सच्चा परिचय समझा देती है।’ इस प्रकार कवि की मर्मभेदी दृष्टि ने इस भाषाहीन प्राणी की करुण दृष्टि के भीतर उस विशाल मानव-सत्य को देखा है, जो मनुष्य, मनुष्य के अंदर भी नहीं देख पाता।

मैं जब यह कविता पढ़ता हूँ तब मेरे सामने श्रीनिकेतन के तितल्ले पर की वह घटना प्रत्यक्ष-सी हो जाती है। वह आँख मूँदकर अपरिसीम आनंद, वह ‘मूक हृदय का प्राणपण आत्मनिवेदन’ मूर्तिमान हो जाता है। उस दिन मेरे लिए वह एक छोटी-सी घटना थी, आज वह विश्व की अनेक महिमाशाली घटनाओं की श्रेणी में बैठ गई है। एक आश्चर्य की बात और इस प्रसंग में उल्लेख की जा सकती है। जब गुरुदेव का चिताभस्म कलकत्ते (कोलकाता) से आश्रम में लाया गया, उस समय भी न जाने किस सहज बोध के बल पर वह कुत्ता आश्रम के द्वार तक आया और चिताभस्म के साथ अन्यान्य आश्रमवासियों के साथ शांत गंभीर भाव से उत्तरायण तक गया। आचार्य क्षितिमोहन सेन सबके आगे थे। उन्होंने मुझे बताया कि वह चिताभस्म के कलश के पास थोड़ी देर चुपचाप बैठा भी रहा।

रवींद्रनाथ टैगोर

कुछ और पहले की घटना याद आ रही है। उन दिनों शांतिनिकेतन में नया ही आया था। गुरुदेव से अभी उतना धृष्ट नहीं हो पाया था। गुरुदेव उन दिनों सुबह अपने बगीचे में टहलने के लिए निकला करते थे। मैं एक दिन उनके साथ हो गया था। मेरे साथ एक और पुराने अध्यापक थे और सही बात तो यह है कि उन्होंने ही मुझे भी अपने साथ ले लिया था। गुरुदेव एक-एक फूल-पत्ते को ध्यान से देखते हुए अपने बगीचे में टहल रहे थे और उक्त अध्यापक महाशय से बातें करते जा रहे थे। मैं चुपचाप सुनता जा रहा था। गुरुदेव ने बातचीत के सिलसिले में एक बार कहा, "अच्छा साहब, आश्रम के कौए क्या हो गए? उनकी आवाज़ सुनाई ही नहीं देती?" न तो मेरे साथी उन अध्यापक महाशय को यह खबर थी और न मुझे ही। बाद में मैंने लक्ष्य किया कि सचमुच कई दिनों से आश्रम में कौए नहीं दीख रहे हैं। मैंने तब तक कौओं को सर्वव्यापक पक्षी ही समझ रखा था। अचानक उस दिन मालूम हुआ कि ये भले आदमी भी कभी-कभी प्रवास को चले जाते हैं या चले जाने को बाध्य होते हैं। एक लेखक ने कौओं की आधुनिक साहित्यिकों से उपमा दी है, क्योंकि इनका मोटो है ‘मिसचिफ् फार मिसचिफ् सेक’ (शरारत के लिए ही शरारत)। तो क्या कौओं का प्रवास भी किसी शरारत के उद्देश्य से ही था? प्रायः एक सप्ताह के बाद बहुत कौए दिखाई दिए।

एक दूसरी बार मैं सवेरे गुरुदेव के पास उपस्थित था। उस समय एक लँगड़ी मैना फुदक रही थी। गुरुदेव ने कहा, "देखते हो, यह यूथभ्रष्ट है। रोज़ फुदकती है, ठीक यहीं आकर। मुझे इसकी चाल में एक करुण-भाव दिखाई देता है।" गुरुदेव ने अगर कह न दिया होता तो मुझे उसका करुण-भाव एकदम नहीं दीखता। मेरा अनुमान था कि मैना करुण भाव दिखानेवाला पक्षी है ही नहीं। वह दूसरों पर अनुकंपा ही दिखाया करती है। तीन-चार वर्ष से मैं एक नए मकान में रहने लगा हूँ। मकान के निर्माताओं ने दीवारों में चारों ओर एक-एक सूराख छोड़ रखी है। यह कोई आधुनिक वैज्ञानिक खतरे का समाधान होगा। सो, एक मैना-दंपत्ति नियमित भाव से प्रतिवर्ष यहाँ गृहस्थी जमाया करते हैं, तिनके और चीथड़ों का अंबार लगा देते हैं। भलेमानस गोबर के टुकड़े तक ले आना नहीं भूलते। हैरान होकर हम सूराखों में ईंटें भर देते हैं, परंतु वे खाली बची जगह का भी उपयोग कर लेते हैं। पति-पत्नी जब कोई एक तिनका लेकर सूराख में रखते हैं तो उनके भाव देखने लायक होते हैं। पत्नी देवी का तो क्या कहना! एक तिनका ले आई तो फिर एक पैर पर खड़ी होकर ज़रा पंखों को फटकार दिया, चोंच को अपने ही परों से साफ़ कर लिया और नाना प्रकार की मधुर और विजयोद्घोषी वाणी में गान शुरू कर दिया। हम लोगों की तो उन्हें कोई परवा ही नहीं रहती। अचानक इसी समय अगर पति देवता भी कोई कागज़ का या गोबर का टुकड़ा लेकर उपस्थित हुए तब तो क्या कहना! दोनों के नाच-गान और आनंद-नृत्य से सारा मकान मुखरित हो उठता है। इसके बाद ही पत्नी देवी ज़रा हम लोगों की ओर मुखातिब होकर लापरवाही-भरी अदा से कुछ बोल देती हैं। पति देवता भी मानो मुसकराकर हमारी ओर देखते, कुछ रिमार्क करते और मुँह फेर लेते हैं। पक्षियों की भाषा तो मैं नहीं जानता; पर मेरा निश्चित विश्वास है कि उनमें कुछ इस तरह की बातें हो जाया करती हैंः

पत्नी-ये लोग यहाँ कैसे आ गए जी?

पति-उँह बेचारे आ गए हैं, तो रह जाने दो। क्या कर लेंगे!

पत्नी-लेकिन फिर भी इनको इतना तो खयाल होना चाहिए कि यह हमारा प्राइवेट घर है।

पति-आदमी जो हैं, इतनी अकल कहाँ?

पत्नी-जाने भी दो।

पति-और क्या!

सो, इस प्रकार की मैना कभी करुण हो सकती है, यह मेरा विश्वास ही नहीं था। गुरुदेव की बात पर मैंने ध्यान से देखा तो मालूम हुआ कि सचमुच ही उसके मुख पर एक करुण भाव है। शायद यह विधुर पति था, जो पिछली स्वयंवर-सभा के युद्ध में आहत और परास्त हो गया था। या विधवा पत्नी है, जो पिछले बिड़ाल के आक्रमण के समय पति को खोकर युद्ध में ईषत् चोट खाकर एकांत विहार कर रही है। हाय, क्यों इसकी ऐसी दशा है! शायद इसी मैना को लक्ष्य करके गुरुदेव ने बाद में एक कविता लिखी थी, जिसके कुछ अंश का सार इस प्रकार हैः

‘‘उस मैना को क्या हो गया है, यही सोचता हूँ। क्यों वह दल से अलग होकर अकेली रहती है? पहले दिन देखा था सेमर के पेड़ के नीचे मेरे बगीचे में। जान पड़ा जैसे एक पैर से लँगड़ा रही हो। इसके बाद उसे रोज़ सवेरे देखता हूँ-संगीहीन होकर कीड़ों का शिकार करती फिरती है। चढ़ जाती है बरामदे में। नाच-नाचकर चहलकदमी किया करती है, मुझसे ज़रा भी नहीं डरती। क्यों है ऐसी दशा इसकी? समाज के किस दंड पर उसे निर्वासन मिला है, दल के किस अविचार पर उसने मान किया है? कुछ ही दूरी पर और मैनाएँ बक-झक कर रही हैं, घास पर उछल-कूद रही हैं, उड़ती फिरती हैं शिरीषवृक्ष की शाखाओं पर। इस बेचारी को ऐसा कुछ भी शौक नहीं है। इसके जीवन में कहाँ गाँठ पड़ी है, यही सोच रहा हूँ। सवेरे की धूप में मानो सहज मन से आहार चुगती हुई झड़े हुए पत्तों पर कूदती फिरती है सारा दिन। किसी के ऊपर इसका कुछ अभियोग है, यह बात बिलकुल नहीं जान पड़ती। इसकी चाल में वैराग्य का गर्व भी तो नहीं है, दो आग-सी जलती आँखें भी तो नहीं दिखतीं।’’ इत्यादि।

जब मैं इस कविता को पढ़ता हूँ तो उस मैना की करुण मूर्ति अत्यंत साफ़ होकर सामने आ जाती है। कैसे मैंने उसे देखकर भी नहीं देखा और किस प्रकार कवि की आँखें उस बिचारी के मर्मस्थल तक पहुँच गई, सोचता हूँ तो हैरान हो रहता हूँ। एक दिन वह मैना उड़ गई। सायंकाल कवि ने उसे नहीं देखा। जब वह अकेले जाया करती है उस डाल के कोने में, जब झींगुर अंधकार में झनकारता रहता है, जब हवा में बाँस के पत्ते झरझराते रहते हैं, पेड़ों की फाँक से पुकारा करता है नींद तोड़ने वाला संध्यातारा! कितना करुण है उसका गायब हो जाना!

प्रश्न-अभ्यास

  1. गुरुदेव ने शांतिनिकेतन को छोड़ कहीं और रहने का मन क्यों बनाया?
  2. मूक प्राणी मनुष्य से कम संवेदनशील नहीं होते। पाठ के आधार पर स्पष्ट कीजिए।
  3. गुरुदेव द्वारा मैना को लक्ष्य करके लिखी कविता के मर्म को लेखक कब समझ पाया?
  4. प्रस्तुत पाठ एक निबंध है। निबंध गद्य-साहित्य की उत्कृष्ट विधा है, जिसमें लेखक अपने भावों और विचारों को कलात्मक और लालित्यपूर्ण शैली में अभिव्यक्त करता है। इस निबंध में उपर्युक्त विशेषताएँ कहाँ झलकती हैं? किन्हीं चार का उल्लेख कीजिए।
  5. आशय स्पष्ट कीजिए-

    इस प्रकार कवि की मर्मभेदी दृष्टि ने इस भाषाहीन प्राणी की करुण दृष्टि के भीतर उस विशाल मानव-सत्य को देखा है, जो मनुष्य, मनुष्य के अंदर भी नहीं देख पाता।

    रचना और अभिव्यक्ति

  6. पशु-पक्षियों से प्रेम इस पाठ की मूल संवेदना है। अपने अनुभव के आधार पर ऐसे किसी प्रसंग से जुड़ी रोचक घटना को कलात्मक शैली में लिखिए।

    भाषा-अध्ययन

  7. गुरुदेव ज़रा मुसकरा दिए।

    मैं जब यह कविता पढ़ता हूँ।

    ऊपर दिए गए वाक्यों में एक वाक्य में अकर्मक क्रिया है और दूसरे में सकर्मक। इस पाठ को ध्यान से पढ़कर सकर्मक और अकर्मक क्रिया वाले चार-चार वाक्य छाँटिए।

  8. निम्नलिखित वाक्यों में कर्म के आधार पर क्रिया-भेद बताइए-

    (क) मीना कहानी सुनाती है।

    (ख) अभिनव सो रहा है।

    (ग) गाय घास खाती है।

    (घ) मोहन ने भाई को गेंद दी।

    (ड.) लड़कियाँ रोने लगीं।

  9. नीचे पाठ में से शब्द-युग्मों के कुछ उदाहरण दिए गए हैं, जैसे-

समय-असमय, अवस्था-अनवस्था

इन शब्दों में ‘अ’ उपसर्ग लगाकर नया शब्द बनाया गया है।

पाठ में से कुछ शब्द चुनिए और उनमें ‘अ’ एवं ‘अन्’ उपसर्ग लगाकर नए शब्द बनाइए।

पाठेतर सक्रियता

  • पशु-पक्षियों पर लिखी कविताओं का संग्रह करें और उनके चित्रों के साथ उन्हें प्रदर्शित करें।
  • हजारीप्रसाद द्विवेदी के कुछ अन्य मर्मस्पर्शी निबंध, जैसे-‘अशोक के फूल’ और ‘नाखून क्यों बढ़ते हैं’ पढ़िए।

शब्द-संपदा

क्षीणवपु - दुबला पतला, कमज़ोर शरीर

प्रगल्भ - वाचाल, बोलने में संकोच न करनेवाला

अस्तगामी - डूबता हुआ

परितृप्ति - पूरी तरह संतोष प्राप्त करना

आरोग्य - बाँग्ला भाषा की एक पत्रिका

अहैतुक - अकारण, बिना किसी कारण के

प्राणपण - जान की बाज़ी

मर्मभेदी - अतिदुखद, दिल को लगने वाला

तितल्ले - तीसरी मंजि़ल पर

उत्तरायण - शांतिनिकेतन में उत्तर दिशा की ओर बना रवींद्रनाथ टैगोर का एक निवास-स्थान

धृष्ट - लज्जा रहित, निःसंकोच

यूथभ्रष्ट - समूह या झुंड से निकला या निकाला हुआ

अपरिसीम - असीमित

सर्वव्यापक - सबमें रहने वाला

अनुकंपा - दया

मुखातिब - संबोधित होकर

बिड़ाल - बिलाव

ईषत - थोड़ा, कुछ-कुछ, आंशिक रूप से

निर्वासन - देश निकाला

अभियोग - आरोप


RELOAD if chapter isn't visible.