पिछले अध्याय में आपने पढ़ा कि जंतु किस प्रकार जनन करते हैं। मानव एवं बहुत से अन्य जंतु एक निश्िचत आयु तक पहँुचने के बाद ही जनन कर सकते हैं। मानव किसी निश्िचत आयु के बाद ही क्यों जनन कर सकते हैं? इस अध्याय में आप मानव के शरीर में होने वाले उन परिवतर्नों के विषय में पढ़ेंगे जिनके उपरान्त वह जनन हेतु सक्षम हो पाता है। अध्याय 9 में आप मानव जननांगों के विषय में पढ़ चुके हैं। इस अध्याय में हम उन हामोर्नों के विषय में चचार् करेंगे जो श्िाशु ;बच्चेद्ध में होने वाले उन परिवतर्नों में महत्वपूणर् भूमिका निभाते हैं जिनके कारण बच्चा बड़ा होकर वयस्क हो जाता है। 10.1 किशोरावस्था एवं यौवनारम्भ बूझो अपना 12वाँ जन्मदिन मना रहा था। मित्रों के चले जाने के पश्चात् बूझो और पहेली अपने माता - पिता के साथ बातें करने लगे। पहेली एक कन्या विद्यालय में पढ़ती है। वह हँसने लगी। उसने टिप्पणी की कि बूझो के कइर् मित्रों जिनसे वह एक वषर् बाद मिली थी, की लंबाइर् एकाएक कितनी बढ़ गइर् है। उनमें से वुफछ तो मूँछें आने से जोकर ;काटूर्नद्ध नशर आ रहे थे। उसकी माँ ने समझाया कि लड़के बड़े हो गए हैं। वृि जन्म के समय से ही होने लगती है। परन्तु 10 या 11 वषर् की आयु के बाद वृि में एकाएक तीव्रता आती है और वृि साप़फ दिखाइर् देने लगती है। शरीर में होने वाले परिवतर्न वृि प्रिया का एक भाग हैं। यह इस बात का संकेत है कि अब आप बच्चे नहीं रहे तथा युवावस्था में कदम रख रहे हैं। जीवन का यह ऐसा अजीब काल है विफ इसमें आप न तो बच्चे रहते हैं और न ही बड़े। मैं जिज्ञासु हूँ कि क्या बाल्यकाल एवं युवावस्था के मध्य की इस अविा का कोइर् विशेष नाम है। वृि एक प्रावृफतिक प्रव्रफम है। जीवन काल की वह अविा जब शरीर में ऐसे परिवतर्न होते हैं जिसके परिणामस्वरूप जनन परिपक्वता आती है, किशोरावस्था ;।कवसमेबमदबमद्ध कहलाती है। किशोरावस्था लगभग 11 वषर् की आयु से प्रारम्भ होकर 18 अथवा 19 वषर् की आयु तक रहती है। यह अविा क्योंकि अंग्रेजी के ष्जममदेष् ;ज्ीपतजममद से म्पहीजममद या छपदमजममद वषर् की आयुद्ध तक होती है, किशोरों को ‘टीनेजसर्’ ;ज्ममदंहमतेद्ध भी कहा जाता है। लड़कियों में यह अवस्था लड़कों की अपेक्षा एक या दो वषर् पूवर् प्रारम्भ हो जाती है। किशोरावस्था की अविा व्यक्ितयों में भ्िान्न - भ्िान्न होती है। किशोरावस्था के दौरान मनुष्य के शरीर में अनेक परिवतर्न आते हैं। यह परिवतर्न यौवनारम्भ का संकेत हैं। इनमें से सबसे महत्वपूणर् परिवतर्न है, लड़के एवं लड़कियों की जनन क्षमता का विकास। किशोर की जनन परिपक्वता के साथ ही यौवनारम्भ समाप्त हो जाता है। पहेली और बूझो को अहसास होता है कि लंबाइर् में एकाएक वृि एवं लड़कों में हलकी दाढ़ी - मूँछों का आना किशोरावस्था के लक्षण हैं। वे यौवनारम्भ में होने वाले अन्य परिवतर्नों के विषय में जानना चाहते हैं। 10.2 यौवनारम्भ में होने वाले परिवतर्न लंबाइर् में वृि लंबाइर् में एकाएक वृि यौवनारम्भ के दौरान होने वाला सबसे अिाक दृष्िटगोचर परिवतर्न है। इस समय शरीर की लंबी अस्िथयों की, अथार्त् हाथ एवं पैरों की अस्िथयों ;हडि्डयोंद्ध की, लंबाइर् में वृि होती है और व्यक्ित लंबा हो जाता है। वि्रफयाकलाप 10.1 निम्न चाटर् में लड़के व लड़कियों की आयु के साथ लंबाइर् में वृि की औसत दर को दशार्या गया है। काॅलम 2 और 3 में किसी व्यक्ित की लंबाइर् को प्रतिशत में दशार्या गया है जो किसी आयु पर पहुँचने पर होती है। आयु को काॅलम 1 में दशार्या गया है। उदाहरणतः 11 वषर् की आयु तक एक लड़का अपनी पूणर् लंबाइर् का 81» लक्ष्य प्राप्त करता है, जबकि एक लड़की अपनी पूणर् लंबाइर् की 88» तक पहुँच जाती है। यह आँकड़े प्रतिनििात्व मात्रा हैं जो व्यक्ितयों में भ्िान्न हो सकते हैं। अपने मित्रों के लिए सारणी का प्रयोग करके उनकी पूणर् लंबाइर् का अनुमान लगाइए। पता लगाइए कि आपकी कक्षा में कौन सबसे लंबा और कौन सबसे बौना हो सकता है। आयु ;वषो± मेंद्ध पूणर् लंबाइर् का » लड़के लड़कियाँ 8 72ः 77ः 9 75ः 81ः 10 78ः 84ः 11 81ः 88ः 12 84ः 91ः 13 88ः 95ः 14 92ः 98ः 15 95ः 99ः 16 98ः 99ण्5ः 17 99ः 100ः 18 100ः 100ः पूणर् लंबाइर् के लिए गणना ;बउ मेंद्धः वतर्मान लंबाइर् ;बउद्ध मान आÕाु मं पण×100 वतर्ेूर्लम्बाइर् का» ;चाटर् में दिए गए मान के अनुसारद्ध उदाहरण - एक लड़का जिसकी आयु 9 वषर् है तथा लंबाइर् 120 बउ है। वृि काल की समाप्ित पर उसकी अनुमानित लंबाइर् होगी - 120 ◊ 100बउ त्र 160बउ 75 वि्रफयाकलाप 10.2 वि्रफयाकलाप 10.1 मंे दिए गए आंकड़ों का उपयोग करके एक ग्रापफ बनाइए। आयु को ‘ग् - अक्ष’ पर तथा लंबाइर् में वृि का प्रतिशत ‘ल् - अक्ष’ पर लीजिए। अपनी आयु को ग्रापफ पर विश्िाष्ट रूप सेचिित कीजिए। आप लंबाइर् के जिस प्रतिशत को प्राप्त कर चुके हैं उसका पता लगाइए। आप अन्ततः जिस लंबाइर् को प्राप्त कर सकेंगे उसका परिकलन कीजिए। आप अपने ग्रापफ की तुलना निम्न ग्रापफ से कीजिए ;चित्रा 10.1द्ध। चित्रा 10.1: आयु के साथ बढ़ती ऊँचाइर् का प्रतिशत प्रदश्िार्त करने वाला ग्रा.पफ। प्रारंभ में लड़कियाँ लड़कों की अपेक्षा अिाक तीव्रता से बढ़ती हैं। परन्तु लगभग 18 वषर् की आयु तक दोनों अपनी अिाकतम लंबाइर् प्राप्त कर लेते हैं। अलग - अलग व्यक्ितयों की लंबाइर् में वृि की दर भी भ्िान्न - भ्िान्न होती है। वुफछ यौवनारम्भ में तीव्र गति से बढ़ते हैं तथा बाद में यह गति धीमी हो जाती है, जबकि वुफछ धीरे - धीरे वृि करते हैं। मैं चिंतित हँू। यद्यपि मैं लंबी हो गइर् हूँ, परन्तु शरीर की तुलना में मेरा चेहरा छोटा है। पहेली को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। शरीर के सभी अंग समान दर से वृि नहीं करते। कभी - कभी किशोर के हाथ अथवा पैर शरीर के अन्य अंगों की अपेक्षा बड़े दिखाइर् देते हैं। परन्तु शीघ्र ही दूसरे भाग भी वृि कर शारीरिक अनुपात को संतुलित कर देते हैं पफलतः शरीर सुडौल हो जाता है। आपने ध्यान दिया होगा कि किसी व्यक्ित की लंबाइर् उसके परिवार के किसी न किसी सदस्य के लगभग समान होती है। इसका कारण यह है कि लंबाइर् माता - पिता से प्राप्त जीन पर निभर्र करती है। परन्तु, वृि के इन वषो± में उचित प्रकार का संतुलित आहार आवश्यक है। यह अस्िथयों, पेश्िायों एवं शरीर के अन्य भागों को सही ढंग से वृि करने हेतु पयार्प्त पोषण करने में सहायता करता है। आप किशोर की पोषक आवश्यकताओं के विषय में इस अध्याय में आगे पढ़ेंगे। शारीरिक आकृति में परिवतर्न क्या आपने ध्यान दिया है कि आपकी कक्षा के छात्रों के कंधे एवं सीना निचली कक्षा के छात्रों की अपेक्षा अिाक चैड़े होते हैं? इसका कारण यह है कि वे यौवनारम्भ में प्रवेश कर चुके हैं जब वृि के कारण कंधे पफैल कर चैड़े हो जाते हैं। लड़कियों में कमर का निचला भाग चैड़ा हो जाता है। वृि के कारण लड़कों में शारीरिक पेश्िायाँ लड़कियों की अपेक्षा सुस्पष्ट एवं गठी दिखाइर् देती हैं। अतः किशोरावस्था के दौरान लड़कों एवं लड़कियों में होने वाले परिवतर्न अलग - अलग हैं। स्वर में परिवतर्न क्या आपने ध्यान दिया है कि कभी - कभी आपकी कक्षा के वुफछ लड़कों की आवाज़्ा पफटने लगती है? यौवनारम्भ में स्वरयंत्रा अथवा लैरिन्क्स में वृि का प्रारंभ होता है। लड़कों का स्वरयंत्रा विकसित होकर अपेक्षावृफत बड़ा हो जाता है। लड़कों में बढ़ता हुआ ‘स्वरयंत्रा’ गले के सामने की ओर सुस्पष्ट उभरे भाग के रूप में दिखाइर् देता है जिसे ऐडॅम्स ऐपॅल ;वंफठमण्िाद्ध कहते हैं ;चित्रा 10.2द्ध।लड़कियों में ‘स्वरयंत्रा’ अपेक्षाकृत छोटा होता है अतः बाहर से सामान्यतः दिखाइर् नहीं देता। सामान्यतः लड़कियों का स्वर उच्चतारत्व वाला होता है जबकि लड़कों का स्वर गहरा होता है। किशोर लड़कों में कभी - कभी स्वरयंत्रा की पेश्िायों में अनियंत्रिात वृि हो जाती है और आवाश पफटने या भरार्ने लगती है। यह स्िथति वुफछ दिनों अथवा वुफछ सप्ताह तक बनी रह सकती है जिसके बाद स्वर सामान्य हो जाता है। चित्रा 10.2: किशोर लड़के का स्वरयंत्रा ‘ऐडॅम्स ऐपॅल’। स्वेद एवं तैलग्रंथ्िायों की ियाशीलता में वृि किशोरावस्था में स्वेद एवं तैलग्रंथ्िायों का स्राव बढ़ जाता है। इन ग्रंथ्िायों की अिाक ियाशीलता के कारण वुफछ स्वेदग्रंथ्िा, तैलग्रंथ्िा तथा लारग्रंथ्िा जैसी वुफछ ग्रंथ्िायाँअपना ड्डाव वाहियों द्वारा ड्डावित करती हैं। अंतःड्डावी ग्रंथ्िायाँ हामोर्नों को सीधे रुिार प्रवाह में निमोर्चित करती हैं। इसलिए इन्हें नलिका - विहीन गं्रथ्िायाँ भी कहते हैं। व्यक्ितयों के चेहरे पर पंुफसियाँ और मुँहासे आदि हो जाते हैं। जनन अंगों का विकास पिछले अध्याय में चित्रा 9.1 एवं 9.3 में दशार्ए गए मानव जननांगों का पुनरावलोकन कीजिए। यौवनारम्भ में नर जननांग, जैसे कि वृषण एवं श्िाश्न, पूणर्तः विकसित हो जाते हैं। वृषण से शुव्रफाणुओं का उत्पादन भी प्रारंभ हो जाता है। लड़कियों में अंडाशय साइश में वृि हो जाती है तथा अंड परिपक्व होने लगते हैं। अंडाशय से अंडाणुओं का निमोर्चन भी प्रारंभ हो जाता है। मानसिक, बौिक एवं संवेदनात्मक परिपक्वता प्राप्त होना किशोरावस्था व्यक्ित के सोचने के ढंग में परिवतर्न की अवध्ि भी है। पहले की अपेक्षा किशोर अिाक स्वतंत्रा एवं अपने प्रति अिाक सचेत होता है। उनमें बौिक विकास भी होता है तथा वे सोचने - विचारने में कापफी समय लेते हैं। वास्तव में किसी व्यक्ित के जीवन में यह वह समय है जब उसके मस्ितष्क की सीखने की क्षमता सवार्िाक होती है। कभी - कभी, यद्यपि, किशोर शारीरिक एवं मानसिक परिवतर्नों के प्रति अपने आपको ढालने हेतु प्रयास करता हुआ स्वयं को असुरक्ष्िात महसूस करता है। परन्तु किशोर होने के नाते आपको समझना चाहिए कि असुरक्ष्िात महसूस करने का कोइर् कारण नहीं है। ये परिवतर्नप्राकृतिक हैं जो शारीरिक वृि के कारण उत्पन्न हो रहे हैं। 10.3 गौण लैंगिक लक्षण आप अध्याय 9 में पढ़ चुके हैं कि वृषण एवं अंडाशय जनन अंग हैं। वे युग्मक अथार्त शुव्रफाणु एवं अंडाणु उत्पन्न करते हैं। युवावस्था में लड़कियों में स्तनों का विकास होने लगता है तथा लड़कों के चेहरे पर बाल उगने लगते हैं अथार्त् दाढ़ी - मूँछ आने लगती है। ये लक्षण क्योंकि लड़कियों को लड़कों से पहचानने में सहायता करते हैं अतः इन्हें गौण लैंगिक लक्षण कहते हैं। लड़कों के सीने पर भी बाल आ जाते हैं। लड़कों एवं लड़कियों दोनों में ही बगल एवं जाँघ के उफपरी भाग अथवा प्यूबिक क्षेत्रा में भी बाल आ जाते हैं। बूझो और पहेली दोनों ही जानना चाहते हैं कि यौवनारम्भ में होने वाले इन परिवतर्नों का प्रारंभ कौन करता है। किशोरावस्था में होने वाले परिवतर्न हामोर्न द्वारा नियंत्रिात होते हैं। हामोर्न रासायनिक पदाथर् हैं। यहअंतःड्डावी ग्रंथ्िायों अथवा अंतःड्डावी तंत्रा द्वारा ड्डावित किए जाते हैं। यौवनारम्भ के साथ ही वृषण पौरुष हामोर्न अथवा टेस्टोस्टेराॅन का ड्डवण प्रारम्भ कर देता है। यह लड़कों में परिवतर्नों का कारक है जिनके बारे में आपने अभी - अभी पढ़ा है। उदाहरण के लिए चेहरे पर बालों का आना। लड़कियों में यौवनारम्भ के साथ ही अंडाशय स्त्राी हामोर्न अथवा एस्ट्रोजन उत्पादित करना प्रारम्भ कर देता है जिससे स्तन विकसित हो जाते हैं। दुग्धस्रावी ग्रंथ्िायाँ अथवा दुग्ध ग्रंथ्िायाँ स्तन के अंदर विकसित होती हैं। इन हामोर्नों के उत्पादन का नियंत्राण एक अन्य हामोर्न द्वारा किया जाता है जो पीयूष ग्रंथ्िा अथवा पिट्यूटरी ग्रंथ्िा द्वारा ड्डावित किया जाता है। 10.4 जनन प्रकायर् प्रारम्भ करने में हामोर्न की भूमिका अंतःड्डावी ग्रंथ्िायाँ हामोर्न रुिारप्रवाह में ड्डावित करती हैं जिससे वह शरीर के विश्िाष्ट भाग अथवा लक्ष्य - स्थल तक पहुँच सवेंफ। लक्ष्य - स्थल हामोर्न केप्रति अनुिया करता है। हमारे शरीर में अनेक अंतःड्डावी ग्रंथ्िायाँ हैं। वृषण एवं अंडाशय लैंगिक हामोर्न ड्डावित करते हैं। आपने अभी - अभी पढ़ा है कि यह हामोर्नगौण लैंगिक लक्षणों के लिए उत्तरदायी हैं। लैंगिकहामोर्न भी पीयूष ग्रंथ्िा द्वारा ड्डावित हामोर्न के नियंत्राणमें हैं ;चित्रा 10.3द्ध। पीयूष ग्रंथ्िा अनेक हामोर्न ड्डावित करती है। उनमें से एक हामोर्न अंडाशय में अंडाणु एवं वृषण में शुक्राणु के परिपक्व होने को नियंत्रिात करता है। पहेली और बूझो अब समझ गए हैं कि यौवनारम्भ व्यक्ित में जनन अविा का प्रारम्भ है जब व्यक्ित जनन की क्षमता प्राप्त करता है। परन्तु, वे जानना चाहते हैं कि क्या जनन - काल एक बार प्रारंभ होने के बाद जीवन पयर्न्त तक चलता रहता है या कभी समाप्त होता है। 10.5 मानव में जनन - काल की अवध्ि जब किशोरों के वृषण तथा अंडाशय युग्मक उत्पादित करने लगते हैं तब वे जनन के योग्य हो जाते हैं। युग्मक की परिपक्वता एवं उत्पादन की क्षमता पुरुषों में स्ित्रायों की अपेक्षा अिाक अविा तक रहती है। स्ित्रायों में जननावस्था का प्रारम्भ यौवनारम्भ ;10 से 12 वषर् की आयुद्ध से हो जाता है तथा सामान्यतः 45 से 50 वषर् की आयु तक चलता रहता है। यौवनारम्भ पर अंडाणु परिपक्व होने लगते हैं। अंडाशयों में एक अंडाणु परिपक्व होता है तथा लगभग 28 से 30 दिनों के अंतराल पर किसी एक अंडाशय द्वारा निमोर्चित होता है। इस अविा में गभार्शय की दीवार मोटी हो जाती है जिससे वह अंडाणु के निषेचन के पश्चात्् युग्मनज को ग्रहण कर सके। जिसके पफलस्वरूप गभर्धारण होता है। यदि अंडाणु का निषेचन नहीं हो पाता तब उस स्िथति में अंडाणु तथा गभार्शय का मोटा स्तर उसकी रुिार वाहिकाओं सहित निस्तारित होजाता है। इससे स्ित्रायों में रक्तड्डाव होता है जिसे)तुड्डाव अथवा रजोधमर् कहते हैं। ट्टतुड्डाव लगभग28 से 30 दिन में एक बार होता है। पहला ट्टतुड्डाव यौवनारम्भ में होता है जिसे रजोदशर्न कहते हैं।लगभग 45 से 50 वषर् की आयु में ट्टतुड्डाव होनारुक जाता है। ट्टतुड्डाव के रुक जाने को रजोनिवृिाकहते हैं। प्रारंभ में ट्टतुड्डाव चव्रफ अनियमित हो सकता है तथा उसके नियमित होने में वुफछ समय लग सकता है। पहेली कहती है कि स्ित्रायों में जनन - काल की अविारजोदशर्न से रजोनिवृिा तक होती है। क्या वह सही है? ट्टतुड्डाव चक्र का नियंत्राण हामोर्न द्वारा होता है। इस चक्र में अंडाणु का परिपक्व होना, इसका निमोर्चन, गभार्शय की दीवार का मोटा होना एवं निषेचन न होने की स्िथति में उसका टूटना शामिल है। यदि अंडाणु का निषेचन हो जाता है तो वह विभाजन करता है तथा गभार्शय में विकास के लिए स्थापित हो जाता है जैसा कि आप पिछले अध्याय में पढ़ चुके हैं ;चित्रा 9.8द्ध। 10.6 संतति का लिंग - निधार्रण किस प्रकार होता है? मैंने अपनी माँ और चाची को बातें करते सुना कि मेरी चचेरी बहन का होने वाला बच्चा लड़का होगा या लड़की। मुझे यह जानने की उत्सुकता है कि इस बात का निधार्रण वैफसे होता है कि निषेचित अंडाणु लड़के में अथवा लड़की में विकसित होगा। लड़का अथवा लड़की? निषेचित अंडाणु अथवा युग्मनज में, जन्म लेने वाले श्िाशु के लिंग निधार्रण का संदेश होता है। यह संदेश निषेचित अंडाणु में धागे - सी संरचना अथार्त गुणसूत्रों में निहित होता है। अध्याय 8 का स्मरण कीजिए कि गुणसूत्रा प्रत्येक कोश्िाका के वेंफद्रक में उपस्िथत होते हैं। सभी मनुष्यों की कोश्िाकाओं के केन्द्रक में 23 जोड़े गुणसूत्रा पाए जाते हैं। इनमें से 2 गुणसूत्रा ;1 जोड़ीद्ध लिंग - सूत्रा हैं जिन्हें ग् एवं ल् कहते हैं। स्त्राी में दो ग् गुणसूत्रा होते हैं जबकि पुरुष में एक ग् तथा एक ल् गुणसूत्रा होता है। युग्मक ;अंडाणु तथा शुव्रफाणुद्ध में गुणसूत्रों का एक जोड़ा होता है। अनिषेचित अंडाणु में सदा एक ग् गुणसूत्रा होता है। परन्तु शुव्रफाणु दो प्रकार के होते हैं जिनमें एक प्रकार में ग् गुणसूत्रा एवं दूसरे प्रकार में ल् गुणसूत्रा होता है। चित्रा 10.4 को देख्िाए। जब ग् गुणसूत्रा वाला शुक्राणु अंडाणु को निषेचित करता है तो युग्मनज में दो ग् गुणसूत्रा होंगे तथा वह मादा श्िाशु में विकसित होगा। यदि अंडाणु को निषेचित करने वाले शुक्राणु में ल् गुणसूत्रा है तो युग्मनज नर श्िाशु में विकसित होगा। शुक्राणु अंडाणु नर ;लड़काद्ध मादा ;लड़कीद्ध चित्रा 10.4: मनुष्य में लिंग निधार्रण। अब आप जान गये हैं कि जन्म से पूवर् श्िाशु के लिंग का निधार्रण उसके पिता के लिंग गुणसूत्रों द्वारा किया जाता है। यह धारणा कि बच्चे के लिंग केलिए उसकी माँ उत्तरदायी है, पूणर्तः निराधार है एवं अन्यायसंगत है। 10.7 लिंग हामोर्न के अतिरिक्त अन्य हामोर्न चित्रा 10.3 का पुनः अवलोकन कीजिए। पीयूष ग्रंथ्िाद्वारा ड्डावित हामोर्न जननांगों को उनके हामोर्न उत्पन्न करने के लिए उद्दीपित करते हैं। आप पढ़ ही चुकेहैं कि पीयूष ग्रंथ्िा एक अंतःड्डावित ग्रंथ्िा है जो मस्ितष्क से जुड़ी होती है। पीयूष ग्रंथ्िा, वृषण एवं अंडाशय के अतिरिक्त हमारे शरीर में थायराॅइड, अग्न्याशय एवं एडिªनल;अिावृक्कद्ध जैसी वुफछ अन्य अंतःड्डावी ग्रंथ्िायाँ भी हैं ;चित्रा 10.5द्ध। पीयूष ग्रंथ्िा थायराॅइड ग्रंथ्िा एडिªनल ग्रंथ्िा अग्न्याशय स्ित्रायों में अंडाशय की स्िथति वृषण चित्रा 10.5: मनुष्य के शरीर में अंतःड्डावी ग्रंथ्िायों की स्िथति। बूझो और पहेली को याद है कि एक बार जब वह अपनी डाॅक्टर बुआ के यहाँ गए थे तब उन्होंने वहाँ काका नाम के एक लड़के को देखा था जिसका गला बहुत पफूला हुआ एवं उभरा हुआ था। उनकी बुआ ने उन्हें बताया कि काका ‘गाॅयटर’ नामक व्यािा से ग्रस्त है जो थायराॅइड ग्रंथ्िा का रोग है। काका की थायराॅइड ग्रंथ्िा थायराॅक्िसन हामोर्न का उत्पादन नहीं कर रही थी। उनकी बुआ ने यह भी बताया कि उनके पफूपफाजी मध्ुमेह से पीडि़त हैं क्योंकि उनका अग्न्याशय इन्सूलिन हामोर्न का उत्पादन पयार्प्त मात्रा में नहीं कर रहा है। बूझो एवं पहेली ने उनके दवाखाने में टँगे चाटर् में दशार्ए गये एडिªनल ग्रंथ्िा के विषय में पूछा। उनकी बुआ ने उन्हें बताया किएडिªनल ग्रंथ्िा ऐसे हामोर्न ड्डावित करती है जो रुिार में नमक की मात्रा को संतुलित करता है। एडिªनल एडिªनेलिन नामक हामोर्न का ड्डवण भी करती हैं।एडिªनेलिन क्रोध, चिंता एवं उत्तेजना की अवस्था में तनाव के संयोजन का कायर् करता है। थायराॅइड एवं एडिªनल ग्रंथ्िा पीयूष ग्रंथ्िा द्वाराड्डावित हामोर्न के माध्यम से प्राप्त आदेश के अनुसारही अपने हामोर्न का ड्डवण करती है। पीयूष ग्रंथ्िा वृि हामोर्न भी ड्डावित करती है जो व्यक्ित की सामान्य वृि के लिए आवश्यक है। क्या अन्य जंतुओं में भी हामोर्नड्डावित होते हैं? क्या जनन प्रिया में उनका कोइर् योगदान है? 10.8 कीट एवं मेंढक में जीवन - चक्र पूणर् करने में हामोर्न का योगदान आप रेशम के कीट एवं मेंढक के जीवन - चक्र के विषय में तो पढ़ ही चुके हैं। इल्ली को वयस्क शलभ बनने तक अनेक चरणों से गुजरना पड़ता है। कक्षा टप्प् में पढ़े रेशम के कीट के जीवन - चक्र का स्मरण कीजिए। इसी प्रकार टैडपोल को भी वयस्क मेंढक बनने के लिए अनेक चरणों से गुजरना पड़ता है ;अध्याय 9द्ध। लारवा से वयस्क बनने के इस परिवतर्न को कायांतरण ;चित्रा 9.10द्ध कहते हैं। कीटों में कायांतरण का नियंत्राण कीट हामोर्न द्वारा होता है। मेंढक में थायराॅइड द्वाराड्डावित हामोर्न थायराॅक्िसन इसका नियमन करता है। थायराॅक्िसन के उत्पादन के लिए जल में आयोडीन की उपस्िथति आवश्यक है। यदि जल में जिसमें टैडपोल वृि कर रहे हैं, पयार्प्त मात्रा में आयोडीन नहीं है तो टैडपोल वयस्क मेंढक में परिविार्त नहीं हो सकते। यदि व्यक्ित के आहार में पयार्प्त आयोडीन न हो तो क्या उन्हें थायराॅक्िसन की कमी के कारण ‘गाॅयटर’ हो जाएगा? ियाकलाप 10.3 किसी पत्रिाका अथवा डाॅक्टर से सूचना एकत्रा कर आयोडीनयुक्त नमक के उपयोग पर एक नोट तैयार कीजिए। आप इसकी जानकारी इंटरनेट पर भी देख सकते हैं। 10.9 जननात्मक स्वास्थ्य व्यक्ित का कायिक एवं मानसिक विसंगतिमुक्त होना उस व्यक्ित का स्वास्थ्य कहलाता है। किसी भी आयु के व्यक्ित के शरीर को स्वस्थ रखने के लिए उसे संतुलित आहार की आवश्यकता होती है। व्यक्ित को वैयक्ितक स्वच्छता एवं सप़फाइर् का नियमित रूप से पालन एवं पयार्प्त शारीरिक व्यायाम भी करना चाहिए। किशोरावस्था में, जब शरीर वृि करता है तो उपरोक्त बातें और भी अिाक आवश्यक हो जाती हैं। किशोर की पोषण आवश्यकताएँ किशोरावस्था तीव्र वृि एवं विकास की अवस्था है। अतः किसी भी किशोर को आहार नियोजन अत्यंत सावधानीपूवर्क करना चाहिए। आप पढ़ ही चुके हैं कि संतुलित आहार क्या है। स्मरण कीजिए कि संतुलित आहार का अथर् है भोजन में प्रोटीन, काबोर्हाइड्रेट्स, वसा, विटामिन एवं खनिज का पयार्प्त मात्रा में समावेश। हमारा भारतीय भोजन जिसमें रोटी, चावल, दाल एवं सब्िजयाँ होती हैं, एक संतुलित आहार है। दूध अपने आप में संतुलित भोजन है। पफल भी हमें पोषण देते हैं। श्िाशुओं को माँ के दूध से सम्पूणर् पोषण मिलता है जिसकी उन्हें जरूरत है।लोह ;आयरनद्ध तत्त्व रुिार का निमार्ण करता हैतथा लोह - प्रचुर खाद्य जैसे कि पत्तीदार सब्िजयाँ, गुड़, मांस, संतरा, आँवला इत्यादि किशोर के लिए अच्छे खाद्य हैं। अपने दोपहर एवं रात्रिा के भोजन के खाद्य पदाथो± की जाँच कीजिए। क्या भोजन संतुलित एवं पोषक है?क्या इसमें ऐसे खाद्यान्न सम्िमलित हैं जो ऊजार् प्रदान करते हैं तथा क्या इनमें दूध, मांस, नट एवं दालें भी शामिल हैं जो वृि हेतु प्रोटीन प्रदान करते हैं? क्याइसमें वसा एवं शक्कर भी शामिल हैं जो ऊजार् प्रदान करते हैं? पफल एवं सब्िजयों का क्या स्थान है जो रक्षी भोजन हैं? चिप्स तथा पैक किए हुए अथवा डिब्बाबंद खाद्य यद्यपि स्वादिष्ट होते हैं परन्तु उन्हें नियमित भोजन के स्थान पर नहीं खाना चाहिए क्योंकि उनमें पोषक मात्रा पयार्प्त नहीं होती। ियाकलाप 10.4 अपने मित्रों के साथ एक समूह बनाइए। उन खाद्य पदाथो± के नाम लिख्िाए जो आपने पिछले दिन ;कलद्ध नाश्ते, दोपहर के भोजन एवं रात्रिाकालीन भोजन में खाए थे। उन खाद्य पदाथो± की पहचानकीजिए जो समुचित वृि के लिए उत्तरदायी हैं। ‘जंक पूफड’ की भी पहचान कीजिए जो आपने पिछले दिन खाया था। ियाकलाप 10.5 चित्रा 10.6 से प्रेरणा लेकर चाटर् अथवा पोस्टर बनाकर अपनी कक्षा में लगाइए जिससे आप किशोर की आहार संबंधी आवश्यकता के प्रति सचेत रहें। इसके लिए आप अपनी रचनात्मक शक्ित का प्रयोग कर इसे विज्ञापन के रूप में भी प्रदश्िार्त कर सकते हैं। आप इस विषय पर प्रतियोगिता का आयोजन भी कर सकते हैं। मांस सब्िजयाँ पफल खाद्यान्न चित्रा 10.6: भोजन के पोषक पदाथर्। व्यक्ितगत स्वच्छता प्रत्येक व्यक्ित को प्रतिदिन एक बार स्नान करना चाहिए। यह किशोरों के लिए और भी आवश्यक है क्योंकि स्वेद ग्रंथ्िायों की अिाक ियाशीलता के कारण शरीर से गंध आने लगती है। शरीर के सभी भागों को स्नान करते समय भली प्रकार धेकर करना चाहिए। यदि सप़फाइर् नहीं रखी गइर् तो जीवाणु संक्रमण होने का खतरा रहता है।लड़कियों को ट्टतुड्डाव के समय सप़फाइर् का विशेष ध्यान रखना चाहिए। उन्हें अपने ट्टतुड्डाव चक्र का ध्यान रखतेहुए ट्टतुड्डाव के लिए तैयार रहना चाहिए। शारीरिक व्यायाम ताशी हवा में टहलना एवं खेलना शरीर को चुस्त एवं स्वस्थ रखता है। सभी युवा/किशोर लड़के एवं लड़कियों को टहलना, व्यायाम करना एवं बाहर खेलना चाहिए। भ्रांतियाँ एवं असत्य अवधारणाएँ - करें और न करें अध्याय 9 एवं इस अध्याय में आपने मनुष्य के जनन संबंधी वैज्ञानिक तथ्य एवं सि(ांतों के विषय में पढ़ा। ऐसी बहुत सी असत्य अवधारणाएँ प्रचलित हैं जिन्हें आपको जानकार किशोर होने के नाते छोड़ना चाहिए। उदाहरण के लिए, किशोरों के शारीरिक परिवतर्न संबंधी अनुभवों को लेकर अनेक भ्रांतियाँ एवं असत्य अवधारणाएँ हैं। इनमें से वुफछ को नीचे दिया जा रहा है। अब आप इस संबंध में तकर् प्रस्तुत कर सकते हैं कि यह ‘मिथ’ अथवा असत्य धारणा है जिनका कोइर् आधार नहीं है। 1.ट्टतुड्डाव के समय यदि कोइर् लड़की किसी लड़के को देखती है तो वह गभर्वती हो जाती है। 2.संतान के लिंग के लिए उसकी माँ उत्तरदायी है। 3.ट्टतुड्डाव की अवस्था में लड़की का रसोइर् का काम करना निष्िा( है। आपको ऐसे अन्य अनेक कथन या मिथ मिलेंगे जिनका कोइर् आधार नहीं है। उनको उखाड़ पफेंकिए/छोड़ दीजिए। ियाकलाप 10.6 अपनी कक्षा में उन सहपाठियों के आँकड़े एकत्रा कीजिए जो नियमित रूप से व्यायाम करते हैं तथा उनके आँकड़े भी एकत्रा कीजिए जो व्यायाम नहीं करते। क्या आपको उनकी चुस्ती एवं स्वास्थ्य में कोइर् अंतर दिखाइर् देता है? नियमित व्यायाम के लाभ पर एक रिपोटर् तैयार कीजिए। नशीली दवाओं ;ड्रग्सद्ध का ‘निषेध’ करें किशोरावस्था व्यक्ित के शारीरिक एवं मानसिक रूप से अिाक सियता का समय है जो वृिकाल का एक सामान्य भाग है। अतः भ्रमित अथवा असुरक्ष्िात न महसूस करें। यदि कोइर् व्यक्ित आपको यह बताता है कि किसी ‘ड्रग’ ;नशीली दवाद्ध के सेवन से आप अच्छा अथवा तनावमुक्त महसूस करेंगे, तो आपको इसके लिए ‘न’ ही कहना चाहिए जब तक वह दवा डाॅक्टर द्वारा न दी गइर् हो। ड्रग्स नशीले पदाथर् हैं जिनकी लत पड़ जाती है। यदि आप इन्हें एक बार लेते हैं तो आपको इन्हें बार - बार लेने की इच्छा होती है। परन्तु कालांतर में यह हानिकारक है। यह स्वास्थ्य एवं खुशी दोनों को ही बरबाद कर देते हैं। आपने ।प्क्ै के विषय में तो अवश्य ही सुना होगा जो भ्प्ट नामक खतरनाक विषाणु ;वायरसद्ध द्वारा होता है। यह वायरस एक पीडि़त व्यक्ित से स्वस्थ व्यक्ित में ड्रग के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सीरिंज द्वारा भी जा सकता है। वायरस का संक्रमण दूसरे माध्यमों जैसे कि पीडि़त ;रोगीद्ध माँ से दूध द्वारा उसके श्िाशु में हो सकता है। भ्प्ट से पीडि़त व्यक्ित के साथ लैंगिक संपकर् स्थापित करने द्वारा भी इस रोेग का संक्रमण हो सकता है। किशोर द्वारा गभर्धारण आप संभवतः जानते होंगे कि हमारे देश में विवाह की वििासंगत ;कानूनीद्ध आयु लड़कियों के लिए 18 वषर् एवं लड़कों के लिए 21 वषर् है। इसका कारण है कि टीन - आयु ;किशोरद्ध लड़कियाँ/माँ शारीरिक एवं मानसिक रूप से मातृत्व के लिए तैयार नहीं होतीं। बाल विवाह ;कम उम्र में विवाहद्ध तथा मातृत्व से माँ एवं संतान दोनों में ही स्वास्थ्य संबंधी समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं। इससे युवा स्ित्रायों के लिए व्यवसाय के अवसरों में भी कमी आती है क्योंकि वे मातृत्व की जिम्मेदारी उठाने के लिए सक्षम नहीं होतीं। अतः वह मानसिक पीड़ा से ग्रस्त रहती हैं। आपने क्या सीखा रू यौवनारम्भ होने पर व्यक्ित जनन के सक्षम हो जाता है। 11 वषर् की आयु से 19 वषर् तक की अविा किशोरावस्था कहलाती है। रू यौवनारम्भ का प्रारम्भ होने पर जनन अंगों में वृि होती है तथा शरीर के विभ्िान्न स्थानों पर बाल आने लगते हैं। लड़कियों में स्तन विकसित हो जाते हैं तथा लड़कों के चेहरे पर दाढ़ी - मूँछें आ जाती हैं। किशोरावस्था में स्वरयंत्रा की वृि होने के कारण लड़कों की आवाश पफटने लगती है। रू किशोरावस्था में लंबाइर् में वृि होती है। रू यौवनारम्भ एवं जनन अंगों का परिपक्व होना हामोर्नों द्वारा नियंत्रिात होता है। रू हामोर्न अंतःड्डावी ग्रंथ्िायों द्वारा ड्डावित पदाथर् हैं जो रुिार में सीधे पहुँचते हैं। रू पीयूष ग्रंथ्िा हामोर्न स्रावित करते हैं जैसे कि वृि हामोर्न, तथा अन्य ग्रंथ्िायों - वृषण, अंडाशय, थायराॅइड तथा एडिªनेल को हामोर्न स्रावित करने के लिए उद्दीपित करते हैं। अग्न्याशय इन्सुलिन का, थायराॅइड थाइराॅक्िसन का तथा एडिªनल एडिªनेलिन हामोर्न का उत्पादन करते हैं। रू टेस्टोस्टेराॅन नर हामोर्न है तथा एस्ट्रोजन मादा हामोर्न है। गभार्शय की दीवार निषेचित अंडाणु ;युग्मनजद्ध को ग्रहण के लिए अपने आपको तैयार करती है। निषेचन न होने की स्िथति में गभार्शय की दीवार की आंतरिक सतह निस्तारित होकर शरीर से बाहर रक्त के साथ प्रवाहित हो जाती है। इसे ट्टतुड्डाव अथवा रजोधमर् कहते हैं। रू अजन्मे श्िाशु का लिंग निधार्रण इस बात पर निभर्र करता है कि युग्मनज में ग्ग् गुणसूत्रा हैं अथवा ग्ल् गुणसूत्रा। रू किशोरावस्था में संतुलित आहार करना तथा व्यक्ितगत स्वच्छता का पालन करना महत्त्वपूणर् है। अभ्यास 1.शरीर में होने वाले परिवतर्नों के लिए उत्तरदायी अंतःड्डावी ग्रंथ्िायों द्वारा ड्डावित पदाथर् का क्या नाम है? 2.किशोरावस्था को परिभाष्िात कीजिए। 3.ट्टतुड्डाव क्या है? वणर्न कीजिए। 4.यौवनारम्भ के समय होने वाले शारीरिक परिवतर्नों की सूची बनाइए। 5.दो काॅलम वाली एक सारणी बनाइए जिसमें अंतःड्डावी ग्रंथ्िायों के नाम तथा उनके द्वारा ड्डावित हामोर्न के नाम दशार्ए गए हों। 6.लिंग हामोर्न क्या हैं? उनका नामकरण इस प्रकार क्यों किया गया? उनके प्रकायर् बताइए। 7.सही विकल्प चुनिए - ;कद्ध किशोर को सचेत रहना चाहिए कि वह क्या खा रहे हैं, क्योंकि ;पद्ध उचित भोजन से उनके मस्ितष्क का विकास होता है। ;पपद्ध शरीर में तीव्रगति से होने वाली वृि के लिए उचित आहार की आवश्यकता होती है। ;पपपद्ध किशोर को हर समय भूख लगती रहती है। ;पअद्ध किशोर में स्वाद कलिकाएँ ;ग्रंथ्िायाँद्ध भलीभाँति विकसित होती हैं। ;खद्ध स्ित्रायों में जनन आयु ;कालद्ध का प्रारम्भ उस समय होता है जब उनके: ;पद्ध ट्टतुड्डाव प्रारम्भ होता है। ;पपद्ध स्तन विकसित होना प्रारम्भ करते हैं। ;पपपद्ध शारीरिक भार में वृि होने लगती है। ;पअद्ध शरीर की लंबाइर् बढ़ती है। ;गद्ध निम्न में से कौन सा आहार किशोर के लिए सवोर्चित है: ;पद्ध चिप्स, नूडल्स, कोक ;पपद्ध रोटी, दाल, सब्िजयाँ ;पपपद्ध चावल, नूडल्स, बगर्र ;पअद्ध शाकाहारी टिक्की, चिप्स तथा लेमन पेय 8.निम्न पर टिप्पणी लिख्िाए - ;पद्ध ऐडॅम्स ऐपॅल ;पपद्ध गौण लैंगिक लक्षण ;पपपद्ध गभर्स्थ श्िाशु में लिंग निधार्रण अ भ् या स9.शब्द पहेली: शब्द बनाने के लिए संकेत संदेश का प्रयोग कीजिए - बाईं से दाईं ओर 3.एडिªनल ग्रंथ्िा से स्रावित हामोर्न 4.मेंढक में लारवा से वयस्क तक होने वाला परिवतर्न 5.अंतःस्रावी ग्रंथ्िायों द्वारा स्रावित पदाथर् 6.किशोरावस्था को कहा जाता है ऊपर से नीचे की ओर 1.अंतःस्रावी गं्रथ्िायों का दूसरा नाम 2.स्वर पैदा करने वाला अंग 3.स्त्राी हामोर्न 10.नीचे दी गइर् सारणी में आयु वृि के अनुपात में लड़कों एवं लड़कियों की अनुमानित लंबाइर् के आँकड़े दशार्ए गए हैं। लड़के एवं लड़कियों दोनों की लंबाइर् एवं आयु को प्रदश्िार्त करते हुए एक ही ग्रापफ कागज़्ा पर ग्रापफ खींचिए। इस ग्रापफ से आप क्या निष्कषर् निकाल सकते हैं?

>Chapter-10>

APactWiththeSun-001





अध्याय 10

किशोरावस्था की ओर

पिछले अध्याय में आपने पढ़ा कि जंतु किस प्रकार जनन करते हैं। मानव एवं बहुत से अन्य जंतु एक निश्चित आयु तक पहुँचने के बाद ही जनन कर सकते हैं। मानव किसी निश्चित आयु के बाद ही क्यों जनन कर सकते हैं?

इस अध्याय में आप मानव के शरीर में होने वाले उन परिवर्तनों के विषय में पढ़ेंगे जिनके उपरान्त वह जनन हेतु सक्षम हो पाता है।

अध्याय 9 में आप मानव जननांगों के विषय में पढ़ चुके हैं। इस अध्याय में हम उन हार्मोनों के विषय में चर्चा करेंगे जो शिशु (बच्चे) में होने वाले उन परिवर्तनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं जिनके कारण बच्चा बड़ा होकर वयस्क हो जाता है।

10.1 किशोरावस्था एवं यौवनारम्भ

बूझो अपना 12वाँ जन्मदिन मना रहा था। मित्रों के चले जाने के पश्चात् बूझो और पहेली अपने माता-पिता के साथ बातें करने लगे। पहेली एक कन्या विद्यालय में पढ़ती है। वह हँसने लगी। उसने टिप्पणी की कि बूझो के कई मित्रों जिनसे वह एक वर्ष बाद मिली थी, की लंबाई एकाएक कितनी बढ़ गई है। उनमें से कुछ तो मूँछें आने से जोकर (कार्टून) नज़र आ रहे थे। उसकी माँ ने समझाया कि लड़के बड़े हो गए हैं

शरीर में होने वाले इस परिवर्तन की अवधि कब तक रहती है!

वृद्धि जन्म के समय से ही होने लगती है। परन्तु 10 या 11 वर्ष की आयु के बाद वृद्धि में एकाएक तीव्रता आती है और वृद्धि साफ़ दिखाई देने लगती है। शरीर में होने वाले परिवर्तन वृद्धि प्रक्रिया का एक भाग हैं। यह इस बात का संकेत है कि अब आप बच्चे नहीं रहे तथा युवावस्था में कदम रख रहे हैं।
जीवन का यह एेसा अजीब काल है कि इसमें आप न तो बच्चे रहते हैं और न ही बड़े। मैं जिज्ञासु हूँ कि क्या बाल्यकाल एवं युवावस्था के मध्य की इस अवधि का कोई विशेष नाम है।

वृद्धि एक प्राकृतिक प्रक्रम है। जीवन काल की वह अवधि जब शरीर में एेसे परिवर्तन होते हैं जिसके परिणामस्वरूप जनन परिपक्वता आती है, किशोरावस्था (Adolescence) कहलाती है। किशोरावस्था लगभग 11 वर्ष की आयु से प्रारम्भ होकर 18 अथवा 19 वर्ष की आयु तक रहती है। यह अवधि क्योंकि अंग्रेजी के "teens" (Thirteen से Eighteen या Nineteen वर्ष की आयु) तक होती है, किशोरों को ‘टीनेजर्स’ (Teenagers) भी कहा जाता है। लड़कियों में यह अवस्था लड़कों की अपेक्षा एक या दो वर्ष पूर्व प्रारम्भ हो जाती है। किशोरावस्था की अवधि व्यक्तियों में भिन्न-भिन्न होती है।

किशोरावस्था के दौरान मनुष्य के शरीर में अनेक परिवर्तन आते हैं। यह परिवर्तन यौवनारम्भ का संकेत हैं। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तन है, लड़के एवं लड़कियों की जनन क्षमता का विकास। किशोर की जनन परिपक्वता के साथ ही यौवनारम्भ समाप्त हो जाता है।

पहेली और बूझो को अहसास होता है कि लंबाई में एकाएक वृद्धि एवं लड़कों में हलकी दाढ़ी-मूँछों का आना किशोरावस्था के लक्षण हैं। वे यौवनारम्भ में होने वाले अन्य परिवर्तनों के विषय में जानना चाहते हैं।

10.2 यौवनारम्भ में होने वाले परिवर्तन लंबाई में वृद्धि

लंबाई में एकाएक वृद्धि यौवनारम्भ के दौरान होने वाला सबसे अधिक दृष्टिगोचर परिवर्तन है। इस समय शरीर की लंबी अस्थियों की, अर्थात् हाथ एवं पैरों की अस्थियों (हड्डियों) की, लंबाई में वृद्धि होती है और व्यक्ति लंबा हो जाता है।

क्रियाकलाप 10.1

निम्न चार्ट में लड़के व लड़कियों की आयु के साथ लंबाई में वृद्धि की औसत दर को दर्शाया गया है। कॉलम 2 और 3 में किसी व्यक्ति की लंबाई को प्रतिशत में दर्शाया गया है जो किसी आयु पर पहुँचने पर होती है। आयु को कॉलम 1 में दर्शाया गया है। उदाहरणतः 11 वर्ष की आयु तक एक लड़का अपनी पूर्ण लंबाई का 81% लक्ष्य प्राप्त करता है, जबकि एक लड़की अपनी पूर्ण लंबाई की 88% तक पहुँच जाती है। यह आँकड़े प्रतिनिधित्व मात्र हैं जो व्यक्तियों में भिन्न हो सकते हैं।

अपने मित्रों के लिए सारणी का प्रयोग करके उनकी पूर्ण लंबाई का अनुमान लगाइए। पता लगाइए कि आपकी कक्षा में कौन सबसे लंबा और कौन सबसे बौना हो सकता है।

10.1

पूर्ण लंबाई के लिए गणना (cm में):

(चार्ट में दिए गए मान के अनुसार)

उदाहरण–

एक लड़का जिसकी आयु 9 वर्ष है तथा लंबाई 120 cm है। वृद्धि काल की समाप्ति पर उसकी अनुमानित लंबाई होगी -

 


क्रियाकलाप 10.2

क्रियाकलाप 10.1 में दिए गए आंकड़ों का उपयोग करके एक ग्राफ बनाइए। आयु को ‘X-अक्ष’ पर तथा लंबाई में वृद्धि का प्रतिशत ‘Y-अक्ष’ पर लीजिए। अपनी आयु को ग्राफ पर विशिष्ट रूप से चिह्नित कीजिए। आप लंबाई के जिस प्रतिशत को प्राप्त कर चुके हैं उसका पता लगाइए। आप अन्ततः जिस लंबाई को प्राप्त कर सकेंगे उसका परिकलन कीजिए। आप अपने ग्राफ की तुलना निम्न ग्राफ से कीजिए (चित्र 10.1)।


चित्र 10.1 : आयु के साथ बढ़ती ऊँचाई का प्रतिशत प्रदर्शित करने वाला ग्रा.फ। 

प्रारंभ में लड़कियाँ लड़कों की अपेक्षा अधिक तीव्रता से बढ़ती हैं। परन्तु लगभग 18 वर्ष की आयु तक दोनों अपनी अधिकतम लंबाई प्राप्त कर लेते हैं। अलग-अलग व्यक्तियों की लंबाई में वृद्धि की दर भी भिन्न-भिन्न होती है। कुछ यौवनारम्भ में तीव्र गति से बढ़ते हैं तथा बाद में यह गति धीमी हो जाती है, जबकि कुछ धीरे-धीरे वृद्धि करते हैं।

मैं चिंतित हूँ। यद्यपि मैं लंबी हो गई हूँ, परन्तु शरीर की तुलना में मेरा चेहरा छोटा है।

पहेली को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। शरीर के सभी अंग समान दर से वृद्धि नहीं करते। कभी-कभी किशोर के हाथ अथवा पैर शरीर के अन्य अंगों की अपेक्षा बड़े दिखाई देते हैं। परन्तु शीघ्र ही दूसरे भाग भी वृद्धि कर शारीरिक अनुपात को संतुलित कर देते हैं फलतः शरीर सुडौल हो जाता है।

आपने ध्यान दिया होगा कि किसी व्यक्ति की लंबाई उसके परिवार के किसी न किसी सदस्य के लगभग समान होती है। इसका कारण यह है कि लंबाई माता-पिता से प्राप्त जीन पर निर्भर करती है। परन्तु, वृद्धि के इन वर्षों में उचित प्रकार का संतुलित आहार आवश्यक है। यह अस्थियों, पेशियों एवं शरीर के अन्य भागों को सही ढंग से वृद्धि करने हेतु पर्याप्त पोषण करने में सहायता करता है। आप किशोर की पोषक आवश्यकताओं के विषय में इस अध्याय में आगे पढ़ेंगे।

शारीरिक आकृति में परिवर्तन

क्या आपने ध्यान दिया है कि आपकी कक्षा के छात्रों के कंधे एवं सीना निचली कक्षा के छात्रों की अपेक्षा अधिक चौड़े होते हैं? इसका कारण यह है कि वे यौवनारम्भ में प्रवेश कर चुके हैं जब वृद्धि के कारण कंधे फैल कर चौड़े हो जाते हैं। लड़कियों में कमर का निचला भाग चौड़ा हो जाता है।

वृद्धि के कारण लड़कों में शारीरिक पेशियाँ लड़कियों की अपेक्षा सुस्पष्ट एवं गठी दिखाई देती हैं। अत: किशोरावस्था के दौरान लड़कों एवं लड़कियों में होने वाले परिवर्तन अलग-अलग हैं।

स्वर में परिवर्तन

क्या आपने ध्यान दिया है कि कभी-कभी आपकी कक्षा के कुछ लड़कों की आवाज़ फटने लगती है? यौवनारम्भ में स्वरयंत्र अथवा लैरिन्क्स में वृद्धि का प्रारंभ होता है। लड़कों का स्वरयंत्र विकसित होकर अपेक्षाकृत बड़ा हो जाता है। लड़कों में बढ़ता हुआ ‘स्वरयंत्र’ गले के सामने की ओर सुस्पष्ट उभरे भाग के रूप में दिखाई देता है जिसे एेडॅम्स एेपॅल (कंठमणि) कहते हैं (चित्र 10.2)। लड़कियों में ‘स्वरयंत्र’ अपेक्षाकृत छोटा होता है अतः बाहर से सामान्यतः दिखाई नहीं देता। सामान्यतः लड़कियों का स्वर उच्चतारत्व वाला होता है जबकि लड़कों का स्वर गहरा होता है। किशोर लड़कों में कभी-कभी स्वरयंत्र की पेशियों में अनियंत्रित वृद्धि हो जाती है और आवाज़ फटने या भर्राने लगती है। यह स्थिति कुछ दिनों अथवा कुछ सप्ताह तक बनी रह सकती है जिसके बाद स्वर सामान्य हो जाता है।

10.3

चित्र 10.2 : किशोर लड़के का स्वरयंत्र ‘एेडॅम्स एेपॅल’।

मेरे अनेक सहपाठियों की फटी आवाज़ है। अब मैं जान गया हूँ एेसा क्यों है?


स्वेद एवं तैलग्रंथियों की क्रियाशीलता में वृद्धि

किशोरावस्था में स्वेद एवं तैलग्रंथियों का स्राव बढ़ जाता है। इन ग्रंथियों की अधिक क्रियाशीलता के कारण कुछ व्यक्तियों के चेहरे पर फुंसियाँ और मुँहासे आदि हो जाते हैं।

स्वेदग्रंथि, तैलग्रंथि तथा लारग्रंथि जैसी कुछ ग्रंथियाँ अपना स्राव वाहियों द्वारा स्रावित करती हैं। अंतःस्रावी ग्रंथियाँ हार्मोनों को सीधे रुधिर प्रवाह में निर्मोचित करती हैं। इसलिए इन्हें नलिका-विहीन ग्रंथियाँ भी कहते हैं।

जनन अंगों का विकास

पिछले अध्याय में चित्र 9.1 एवं 9.3 में दर्शाए गए मानव जननांगों का पुनरावलोकन कीजिए। यौवनारम्भ में नर जननांग, जैसे कि वृषण एवं शिश्न, पूर्णतः विकसित हो जाते हैं। वृषण से शुक्राणुओं का उत्पादन भी प्रारंभ हो जाता है। लड़कियों में अंडाशय साइज़ में वृद्धि हो जाती है तथा अंड परिपक्व होने लगते हैं। अंडाशय से अंडाणुओं का निर्मोचन भी प्रारंभ हो जाता है।


मानसिक, बौद्धिक एवं संवेदनात्मक परिपक्वता प्राप्त होना

किशोरावस्था व्यक्ति के सोचने के ढंग में परिवर्तन की अवधि भी है। पहले की अपेक्षा किशोर अधिक स्वतंत्र एवं अपने प्रति अधिक सचेत होता है। उनमें बौद्धिक विकास भी होता है तथा वे सोचने-विचारने में काफी समय लेते हैं। वास्तव में किसी व्यक्ति के जीवन में यह वह समय है जब उसके मस्तिष्क की सीखने की क्षमता सर्वाधिक होती है। कभी-कभी, यद्यपि, किशोर शारीरिक एवं मानसिक परिवर्तनों के प्रति अपने आपको ढालने हेतु प्रयास करता हुआ स्वयं को असुरक्षित महसूस करता है। परन्तु किशोर होने के नाते आपको समझना चाहिए कि असुरक्षित महसूस करने का कोई कारण नहीं है। ये परिवर्तन प्राकृतिक हैं जो शारीरिक वृद्धि के कारण उत्पन्न हो रहे हैं।

10.3 गौण लैंगिक लक्षण

आप अध्याय 9 में पढ़ चुके हैं कि वृषण एवं अंडाशय जनन अंग हैं। वे युग्मक अर्थात शुक्राणु एवं अंडाणु उत्पन्न करते हैं। युवावस्था में लड़कियों में स्तनों का विकास होने लगता है तथा लड़कों के चेहरे पर बाल उगने लगते हैं अर्थात् दाढ़ी-मूँछ आने लगती है। ये लक्षण क्योंकि लड़कियों को लड़कों से पहचानने में सहायता करते हैं अतः इन्हें गौण लैंगिक लक्षण कहते हैं। लड़कों के सीने पर भी बाल आ जाते हैं। लड़कों एवं लड़कियों दोनों में ही बगल एवं जाँघ के ऊपरी भाग अथवा प्यूबिक क्षेत्र में भी बाल आ जाते हैं।

बूझो और पहेली दोनों ही जानना चाहते हैं कि यौवनारम्भ में होने वाले इन परिवर्तनों का प्रारंभ कौन करता है।

किशोरावस्था में होने वाले परिवर्तन हार्मोन द्वारा नियंत्रित होते हैं। हार्मोन रासायनिक पदार्थ हैं। यअंतःस्रावी ग्रंथियों अथवा अंतःस्रावी तंत्र द्वारा स्रावित किए जाते हैं। यौवनारम्भ के साथ ही वृषण पौरुष हार्मोन अथवा टेस्टोस्टेरॉन का स्रवण प्रारम्भ कर देता है। यह लड़कों में परिवर्तनों का कारक है जिनके बारे में आपने अभी-अभी पढ़ा है। उदाहरण के लिए चेहरे पर बालों का आना। लड़कियों में यौवनारम्भ के साथ ही अंडाशय स्त्री हार्मोन अथवा एस्ट्रोजन उत्पादित करना प्रारम्भ कर देता है जिससे स्तन विकसित हो जाते हैं। दुग्धस्रावी ग्रंथियाँ अथवा दुग्ध ग्रंथियाँ स्तन के अंदर विकसित होती हैं। इन हार्मोनों के उत्पादन का नियंत्रण एक अन्य हार्मोन द्वारा किया जाता है जो पीयूष ग्रंथि अथवा पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा स्रावित किया जाता है।

10.4 जनन प्रकार्य प्रारम्भ करने में हार्मोन की भूमिका

अंतःस्रावी ग्रंथियाँ हार्मोन रुधिरप्रवाह में स्रावित करती हैं जिससे वह शरीर के विशिष्ट भाग अथवा 

लक्ष्य-स्थल तक पहुँच सकें। लक्ष्य-स्थल हार्मोन के प्रति अनुक्रिया करता है। हमारे शरीर में अनेक अंतःस्रावी ग्रंथियाँ हैं। वृषण एवं अंडाशय लैंगिक हार्मोन स्रावित करते हैं। आपने अभी-अभी पढ़ा है कि यह हार्मोन गौण लैंगिक लक्षणों के लिए उत्तरदायी हैं। लैंगिक हार्मोन भी पीयूष ग्रंथि द्वारा स्रावित हार्मोन के नियंत्रण में हैं (चित्र 10.3)। पीयूष ग्रंथि अनेक हार्मोन स्रावित करती है। उनमें से एक हार्मोन अंडाशय में अंडाणु एवं वृषण में शुक्राणु के परिपक्व होने को नियंत्रित करता है।

चित्र 10.3 : यौवनारम्भ में शारीरिक परिवर्तन हार्मोन द्वारा नियंत्रित होते हैं।

पहेली और बूझो अब समझ गए हैं कि यौवनारम्भ व्यक्ति में जनन अवधि का प्रारम्भ है जब व्यक्ति जनन की क्षमता प्राप्त करता है। परन्तु, वे जानना चाहते हैं कि क्या जनन-काल एक बार प्रारंभ होने के बाद जीवन पर्यन्त तक चलता रहता है या कभी समाप्त होता है।

10.5 मानव में जनन-काल की अवधि

जब किशोरों के वृषण तथा अंडाशय युग्मक उत्पादित करने लगते हैं तब वे जनन के योग्य हो जाते हैं। युग्मक की परिपक्वता एवं उत्पादन की क्षमता पुरुषों में स्त्रियों की अपेक्षा अधिक अवधि तक रहती है।

स्त्रियों में जननावस्था का प्रारम्भ यौवनारम्भ (10 से 12 वर्ष की आयु) से हो जाता है तथा सामान्यतः 45 से 50 वर्ष की आयु तक चलता रहता है। यौवनारम्भ पर अंडाणु परिपक्व होने लगते हैं। अंडाशयों में एक अंडाणु परिपक्व होता है तथा लगभग 28 से 30 दिनों के अंतराल पर किसी एक अंडाशय द्वारा निर्मोचित होता है। इस अवधि में गर्भाशय की दीवार मोटी हो जाती है जिससे वह अंडाणु के निषेचन के पश्चात्् युग्मनज को ग्रहण कर सके। जिसके फलस्वरूप गर्भधारण होता है। यदि अंडाणु का निषेचन नहीं हो पाता तब उस स्थिति में अंडाणु तथा गर्भाशय का मोटा स्तर उसकी रुधिर वाहिकाओं सहित निस्तारित हो जाता है। इससे स्त्रियों में रक्तस्राव होता है जिसे ऋतुस्राव अथवा रजोधर्म कहते हैं। ऋतुस्राव लगभग 28 से 30 दिन में एक बार होता है। पहला ऋतुस्राव यौवनारम्भ में होता है जिसे रजोदर्शन कहते हैं। लगभग 45 से 50 वर्ष की आयु में ऋतुस्राव होना रुक जाता है। ऋतुस्राव के रुक जाने को रजोनिवृत्ति कहते हैं। प्रारंभ में ऋतुस्राव चक्र अनियमित हो सकता है तथा उसके नियमित होने में कुछ समय लग सकता है।

पहेली कहती है कि स्त्रियों में जनन-काल की अवधि रजोदर्शन से रजोनिवृत्ति तक होती है। क्या वह सही है?

ऋतुस्राव चक्र का नियंत्रण हार्मोन द्वारा होता है। इस चक्र में अंडाणु का परिपक्व होना, इसका निर्मोचन, गर्भाशय की दीवार का मोटा होना एवं निषेचन न होने की स्थिति में उसका टूटना शामिल है। यदि अंडाणु का निषेचन हो जाता है तो वह विभाजन करता है तथा गर्भाशय में विकास के लिए स्थापित हो जाता है जैसा कि आप पिछले अध्याय में पढ़ चुके हैं (चित्र 9.8)।

10.6 संतति का लिंग-निर्धारण किस प्रकार होता है?

मैंने अपनी माँ और चाची को बातें करते सुना कि मेरी चचेरी बहन का होने वाला बच्चा लड़का होगा या लड़की। मुझे यह जानने की उत्सुकता है कि इस बात का निर्धारण कैसे होता है कि निषेचित अंडाणु लड़के में अथवा लड़की में विकसित होगा।

लड़का अथवा लड़की?

निषेचित अंडाणु अथवा युग्मनज में, जन्म लेने वाले शिशु के लिंग निर्धारण का संदेश होता है। यह संदेश निषेचित अंडाणु में धागे-सी संरचना अर्थात गुणसूत्रों में निहित होता है। अध्याय 8 का स्मरण कीजिए कि गुणसूत्र प्रत्येक कोशिका के केंद्रक में उपस्थित होते हैं। सभी मनुष्यों की कोशिकाओं के केन्द्रक में 23 जोड़े गुणसूत्र पाए जाते हैं। इनमें से 2 गुणसूत्र (1 जोड़ी) लिंग-सूत्र हैं जिन्हें X एवं Y कहते हैं। स्त्री में दो X गुणसूत्र होते हैं जबकि पुरुष में एक X तथा एक Y गुणसूत्र होता है। युग्मक (अंडाणु तथा शुक्राणु) में गुणसूत्रों का एक जोड़ा होता है। अनिषेचित अंडाणु में सदा एक X गुणसूत्र होता है। परन्तु शुक्राणु दो प्रकार के होते हैं जिनमें एक प्रकार में X गुणसूत्र एवं दूसरे प्रकार में Y गुणसूत्र होता है।

चित्र 10.4 को देखिए। जब X गुणसूत्र वाला शुक्राणु अंडाणु को निषेचित करता है तो युग्मनज में दो X गुणसूत्र होंगे तथा वह मादा शिशु में विकसित होगा। यदि अंडाणु को निषेचित करने वाले शुक्राणु में Y गुणसूत्र है तो युग्मनज नर शिशु में विकसित होगा।
10.4

चित्र 10.4 : मनुष्य में लिंग निर्धारण।

अब आप जान गये हैं कि जन्म से पूर्व शिशु के लिंग का निर्धारण उसके पिता के लिंग गुणसूत्रों द्वारा किया जाता है। यह धारणा कि बच्चे के लिंग के लिए उसकी माँ उत्तरदायी है, पूर्णतः निराधार है एवं अन्यायसंगत है।

10.7 लिंग हार्मोन के अतिरिक्त अन्य हार्मोन

चित्र 10.3 का पुनः अवलोकन कीजिए। पीयूष ग्रंथि द्वारा स्रावित हार्मोन जननांगों को उनके हार्मोन उत्पन्न करने के लिए उद्दीपित करते हैं। आप पढ़ ही चुके हैं कि पीयूष ग्रंथि एक अंतःस्रावित ग्रंथि है जो मस्तिष्क से जुड़ी होती है।

पीयूष ग्रंथि, वृषण एवं अंडाशय के अतिरिक्त हमारे शरीर में थायरॉइड, अग्न्याशय एवं एड्रिनल (अधिवृक्क) जैसी कुछ अन्य अंतःस्रावी ग्रंथियाँ भी हैं (चित्र 10.5)।

10.5

चित्र 10.5 : मनुष्य के शरीर में अंतःस्रावी ग्रंथियों की स्थिति।

बूझो और पहेली को याद है कि एक बार जब वह अपनी डॉक्टर बुआ के यहाँ गए थे तब उन्होंने वहाँ काका नाम के एक लड़के को देखा था जिसका गला बहुत फूला हुआ एवं उभरा हुआ था। उनकी बुआ ने उन्हें बताया कि काका ‘गॉयटर’ नामक व्याधि से ग्रस्त है जो थायरॉइड ग्रंथि का रोग है। काका की थायरॉइड ग्रंथि थायरॉक्सिन हार्मोन का उत्पादन नहीं कर रही थी। उनकी बुआ ने यह भी बताया कि उनके फूफाजी मधुमेह से पीड़ित हैं क्योंकि उनका अग्न्याशय इन्सूलिन हार्मोन का उत्पादन पर्याप्त मात्रा में नहीं कर रहा है। बूझो एवं पहेली ने उनके दवाखाने में टँगे चार्ट में दर्शाए गये एड्रिनल ग्रंथि के विषय में पूछा। उनकी बुआ ने उन्हें बताया कि एड्रिनल ग्रंथि एेसे हार्मोन स्रावित करती है जो रुधिर में नमक की मात्रा को संतुलित करता है। एड्रिनल एड्रिनेलिन नामक हार्मोन का स्रवण भी करती हैं। एड्रिनेलिन क्रोध, चिंता एवं उत्तेजना की अवस्था में तनाव के संयोजन का कार्य करता है।

थायरॉइड एवं एड्रिनल ग्रंथि पीयूष ग्रंथि द्वारा स्रावित हार्मोन के माध्यम से प्राप्त आदेश के अनुसार ही अपने हार्मोन का स्रवण करती है। पीयूष ग्रंथि वृद्धि हार्मोन भी स्रावित करती है जो व्यक्ति की सामान्य वृद्धि के लिए आवश्यक है।
क्या अन्य जंतुओं में भी हार्मोन स्रावित होते हैं? क्या जनन प्रक्रिया में उनका कोई  योगदान है?

10.8 कीट एवं मेंढक में जीवन-चक्र पूर्ण करने में हार्मोन का योगदान

आप रेशम के कीट एवं मेंढक के जीवन-चक्र के विषय में तो पढ़ ही चुके हैं। इल्ली को वयस्क शलभ बनने तक अनेक चरणों से गुजरना पड़ता है। कक्षा VII में पढ़े रेशम के कीट के जीवन-चक्र का स्मरण कीजिए। इसी प्रकार टैडपोल को भी वयस्क मेंढक बनने के लिए अनेक चरणों से गुजरना पड़ता है (अध्याय 9)। लारवा से वयस्क बनने के इस परिवर्तन को कायांतरण (चित्र 9.10) कहते हैं। कीटों में कायांतरण का नियंत्रण कीट हार्मोन द्वारा होता है। मेंढक में थायरॉइड द्वारा स्रावित हार्मोन थायरॉक्सिनसका नियमन करता है। थायरॉक्सिन के उत्पादन के लिए जल में आयोडीन की उपस्थिति आवश्यक है। यदि जल में जिसमें टैडपोल वृद्धि कर रहे हैं, पर्याप्त मात्रा में आयोडीन नहीं है तो टैडपोल वयस्क मेंढक में परिवर्धित नहीं हो सकते।

यदि व्यक्ति के आहार में पर्याप्त आयोडीन न हो तो क्या उन्हें थायरॉक्सिन की कमी के कारण ‘गॉयटर’ हो जाएगा?


क्रियाकलाप 10.3

किसी पत्रिका अथवा डॉक्टर से सूचना एकत्र कर आयोडीनयुक्त नमक के उपयोग पर एक नोट तैयार कीजिए। आप इसकी जानकारी इंटरनेट पर भी देख सकते हैं।

10.9 जननात्मक स्वास्थ्य

व्यक्ति का कायिक एवं मानसिक विसंगतिमुक्त होना उस व्यक्ति का स्वास्थ्य कहलाता है। किसी भी आयु के व्यक्ति के शरीर को स्वस्थ रखने के लिए उसे संतुलित आहार की आवश्यकता होती है। व्यक्ति को वैयक्तिक स्वच्छता एवं सफ़ाई का नियमित रूप से पालन एवं पर्याप्त शारीरिक व्यायाम भी करना चाहिए।

किशोरावस्था में, जब शरीर वृद्धि करता है तो उपरोक्त बातें और भी अधिक आवश्यक हो जाती हैं।

किशोर की पोषण आवश्यकताएँ

किशोरावस्था तीव्र वृद्धि एवं विकास की अवस्था है। अतः किसी भी किशोर को आहार नियोजन अत्यंत सावधानीपूर्वक करना चाहिए। आप पढ़ ही चुके हैं कि संतुलित आहार क्या है। स्मरण कीजिए कि संतुलित आहार का अर्थ है भोजन में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, वसा, विटामिन एवं खनिज का पर्याप्त मात्रा में समावेश। हमारा भारतीय भोजन जिसमें रोटी, चावल, दाल एवं सब्जियाँ होती हैं, एक संतुलित आहार है। दूध अपने आप में संतुलित भोजन है। फल भी हमें पोषण देते हैं। शिशुओं को माँ के दूध से सम्पूर्ण पोषण मिलता है जिसकी उन्हें जरूरत है।

लोह (आयरन) तत्त्व रुधिर का निर्माण करता है तथा लोह-प्रचुर खाद्य जैसे कि पत्तीदार सब्जियाँ, गुड़, मांस, संतरा, आँवला इत्यादि किशोर के लिए अच्छे खाद्य हैं।

अपने दोपहर एवं रात्रि के भोजन के खाद्य पदार्थों की जाँच कीजिए। क्या भोजन संतुलित एवं पोषक है? क्या इसमें एेसे खाद्यान्न सम्मिलित हैं जो ऊर्जा प्रदान करते हैं तथा क्या इनमें दूध, मांस, नट एवं दालें भी शामिल हैं जो वृद्धि हेतु प्रोटीन प्रदान करते हैं? क्या इसमें वसा एवं शक्कर भी शामिल हैं जो ऊर्जा प्रदान करते हैं?

फल एवं सब्जियों का क्या स्थान है जो रक्षी भोजन हैं? चिप्स तथा पैक किए हुए अथवा डिब्बाबंद खाद्य यद्यपि स्वादिष्ट होते हैं परन्तु उन्हें नियमित भोजन के स्थान पर नहीं खाना चाहिए क्योंकि उनमें पोषक मात्रा पर्याप्त नहीं होती।

क्रियाकलाप 10.4

अपने मित्रों के साथ एक समूह बनाइए। उन खाद्य पदार्थों के नाम लिखिए जो आपने पिछले दिन (कल) नाश्ते, दोपहर के भोजन एवं रात्रिकालीन भोजन में खाए थे। उन खाद्य पदार्थों की पहचान कीजिए जो समुचित वृद्धि के लिए उत्तरदायी हैं। ‘जंक फूड’ की भी पहचान कीजिए जो आपने पिछले दिन खाया था।

क्रियाकलाप 10.5

चित्र 10.6 से प्रेरणा लेकर चार्ट अथवा पोस्टर बनाकर अपनी कक्षा में लगाइए जिससे आप किशोर की आहार संबंधी आवश्यकता के प्रति सचेत रहें। इसके लिए आप अपनी रचनात्मक शक्ति का प्रयोग कर इसे विज्ञापन के रूप में भी प्रदर्शित कर सकते हैं। आप इस विषय पर प्रतियोगिता का आयोजन भी कर सकते हैं।

 

मांस                                    सब्जियाँ

  

फल                                        दूध एवं अंडे

  खाद्यान्न

चित्र 10.6 : भोजन के पोषक पदार्थ।   


व्यक्तिगत स्वच्छता

प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन एक बार स्नान करना चाहिए। यह किशोरों के लिए और भी आवश्यक है क्योंकि स्वेद ग्रंथियों की अधिक क्रियाशीलता के कारण शरीर से गंध आने लगती है। शरीर के सभी भागों को स्नान करते समय भली प्रकार धोकर करना चाहिए। यदि सफ़ाई नहीं रखी गई तो जीवाणु संक्रमण होने का खतरा रहता है। लड़कियों को ऋतुस्राव के समय सफ़ाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। उन्हें अपने ऋतुस्राव चक्र का ध्यान रखते हुए ऋतुस्राव के लिए तैयार हना चाहिए। हमेशा साफ़ सैनेट्री नैपकिन अथवा घर पर तैयार किए गए कपड़े के पैड इत्यादि का उपयोग करें। आवश्यकतानुसार हर 4-5 घंटे में नैपकिन अथवा घर पर तैयार किए गए पैड को बदलें।

शारीरिक व्यायाम

ताज़ी हवा में टहलना एवं खेलना शरीर को चुस्त एवं स्वस्थ रखता है। सभी युवा/किशोर लड़के एवं लड़कियों को टहलना, व्यायाम करना एवं बाहर खेलना चाहिए।

भ्रांतियाँ एवं असत्य अवधारणाएँ  करें और  करें
अध्याय 9 एवं इस अध्याय में आपने मनुष्य के जनन संबंधी वैज्ञानिक तथ्य एवं सिद्धांतों के विषय में पढ़ा। एेसी बहुत सी असत्य अवधारणाएँ प्रचलित हैं जिन्हें आपको जानकार किशोर होने के नाते छोड़ना चाहिए। उदाहरण के लिए, किशोरों के शारीरिक परिवर्तन संबंधी अनुभवों को लेकर अनेकभ्रांतियाँ एवं असत्य अवधारणाएँ हैं। इनमें से कुछ को नीचे दिया जा रहा है। अब आप इस संबंध में तर्क प्रस्तुत कर सकते हैं कि यह ‘मिथ’ अथवा असत्य धारणा है जिनका कोई आधार नहीं है।

1. ऋतुस्राव के समय यदि कोई लड़की किसी लड़के को देखती है तो वह गर्भवती हो जाती है।

2. संतान के लिंग के लिए उसकी माँ उत्तरदायी है।

3. ऋतुस्राव की अवस्था में लड़की का रसोई का काम करना निषिद्ध है।

आपको एेसे अन्य अनेक कथन या मिथ मिलेंगे जिनका कोई आधार नहीं है। उनको उखाड़ फेंकिए/छोड़ दीजिए। 

क्रियाकलाप 10.6

अपनी कक्षा में उन सहपाठियों के आँकड़े एकत्र कीजिए जो नियमित रूप से व्यायाम करते हैं तथा उनके आँकड़े भी एकत्र कीजिए जो व्यायाम नहीं करते। क्या आपको उनकी चुस्ती एवं स्वास्थ्य में कोई अंतर दिखाई देता है? नियमित व्यायाम के लाभ पर एक रिपोर्ट तैयार कीजिए।

नशीली दवाओं (ड्रग्स) का ‘निषेध’ करें

किशोरावस्था व्यक्ति के शारीरिक एवं मानसिक रूप से अधिक सक्रियता का समय है जो वृद्धिकाल का एक सामान्य भाग है। अतः भ्रमित अथवा असुरक्षित न महसूस करें। यदि कोई व्यक्ति आपको यह बताता है कि किसी ‘ड्रग’ (नशीली दवा) के सेवन से आप अच्छा अथवा तनावमुक्त महसूस करेंगे, तो आपको इसके लिए ‘न’ ही कहना चाहिए जब तक वह दवा डॉक्टर द्वारा न दी गई हो। ड्रग्स नशीले पदार्थ हैं जिनकी लत पड़ जाती है। यदि आप इन्हें एक बार लेते हैं तो आपको इन्हें बार-बार लेने की इच्छा होती है। परन्तु कालांतर में यह हानिकारक है। यह स्वास्थ्य एवं खुशी दोनों को ही बरबाद कर देते हैं।

आपने AIDS के विषय में तो अवश्य ही सुना होगा जो HIV नामक खतरनाक विषाणु (वायरस) द्वारा होता है। यह वायरस एक पीड़ित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति में ड्रग के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सीरिंज द्वारा भी जा सकता है। वायरस का संक्रमण दूसरे माध्यमों जैसे कि पीड़ित (रोगी) माँ से दूध द्वारा उसके शिशु में हो सकता है। HIV से पीड़ित व्यक्ति के साथ लैंगिक संपर्क स्थापित करने द्वारा भी इस रोेग का संक्रमण हो सकता है।

किशोर द्वारा गर्भधारण

आप संभवतः जानते होंगे कि हमारे देश में विवाह की विधिसंगत (कानूनी) आयु लड़कियों के लिए 18 वर्ष एवं लड़कों के लिए 21 वर्ष है। इसका कारण है कि टीन-आयु (किशोर) लड़कियाँ/माँ शारीरिक एवं मानसिक रूप से मातृत्व के लिए तैयार नहीं होतीं। बाल विवाह (कम उम्र में विवाह) तथा मातृत्व से माँ एवं संतान दोनों में ही स्वास्थ्य संबंधी समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं। इससे युवास्त्रियों के लिए व्यवसाय के अवसरों में भी कमी आती है क्योंकि वे मातृत्व की जिम्मेदारी उठाने के लिए सक्षम नहीं होतीं। अतः वह मानसिक पीड़ा से ग्रस्त रहती हैं। 

प्रमुख शब्द

एेडॅम्स एेपॅ

किशोरावस्था

एड्रिनेलिन

संतुलित आहार

अंतःस्रावी ग्रंथियाँ

एस्ट्रोजन

हार्मोन

इन्सुलिन

पीयूष ग्रंथि

यौवनारम्भ

जननात्मक स्वास्थ्य

गौण लैंगिक लक्षण

लिंग गुणसूत्र

लक्ष्य-स्थल

टेस्टोस्टेरॉन

थायरॉक्सिन

स्वरयंत्र


आपने क्या सीखा

यौवनारम्भ होने पर व्यक्ति जनन के सक्षम हो जाता है।
11 वर्ष
की आयु से 19 वर्ष तक की अवधि किशोरावस्था कहलाती है।

यौवनारम्भ का प्रारम्भ होने पर जनन अंगों में वृद्धि होती है तथा शरीर के विभिन्न स्थानों पर बाल आने लगते हैं। लड़कियों में स्तन विकसित हो जाते हैं तथा लड़कों के चेहरे पर दाढ़ी-मूँछें आ जाती हैं। किशोरावस्था में स्वरयंत्र की वृद्धि होने के कारण लड़कों की आवाज़ फटने लगती है।

किशोरावस्था में लंबाई में वृद्धि होती है।

यौवनारम्भ एवं जनन अंगों का परिपक्व होना हार्मोनों द्वारा नियंत्रित होता है।

हार्मोन अंतःस्रावी ग्रंथियों द्वारा स्रावित पदार्थ हैं जो रुधिर में सीधे पहुँचते हैं।

पीयूष ग्रंथि हार्मोन स्रावित करते हैं जैसे कि वृद्धि हार्मोन, तथा अन्य ग्रंथियों - वृषण, अंडाशय, थायरॉइड तथा एड्रिनेल को हार्मोन स्रावित करने के लिए उद्दीपित करते हैं। अग्न्याशय इन्सुलिन का, थायरॉइड थाइरॉक्सिन का तथा एड्रिनल एड्रिनेलिन हार्मोन का उत्पादन करते हैं।

टेस्टोस्टेरॉन नर हार्मोन है तथा एस्ट्रोजन मादा हार्मोन है। गर्भाशय की दीवार निषेचित अंडाणु (युग्मनज) को ग्रहण के लिए अपने आपको तैयार करती है। निषेचन न होने की स्थिति में गर्भाशय की दीवार की आंतरिक सतह निस्तारित होकर शरीर से बाहर रक्त के साथ प्रवाहित हो जाती है। इसे ऋतुस्राव अथवा रजोधर्म कहते हैं।

अजन्मे शिशु का लिंग निर्धारण इस बात पर निर्भर करता है कि युग्मनज में XX गुणसूत्र हैं अथवा XY गुणसूत्र।

किशोरावस्था में संतुलित आहार करना तथा व्यक्तिगत स्वच्छता का पालन करना महत्त्वपूर्ण है। 


अभ्यास 

1. शरीर में होने वाले परिवर्तनों के लिए उत्तरदायी अंतःस्रावी ग्रंथियों द्वारा स्रावित पदार्थ का क्या नाम है?

2. किशोरावस्था को परिभाषित कीजिए।

3. ऋतुस्राव क्या है? वर्णन कीजिए।

4. यौवनारम्भ के समय होने वाले शारीरिक परिवर्तनों की सूची बनाइए।

5. दो कॉलम वाली एक सारणी बनाइए जिसमें अंतःस्रावी ग्रंथियों के नाम तथा उनके द्वारा स्रावित हार्मोन के नाम दर्शाए गए हों।

6. लिंग हार्मोन क्या हैं? उनका नामकरण इस प्रकार क्यों किया गया? उनके प्रकार्य बताइए।

7. सही विकल्प चुनिए

(क) किशोर को सचेत रहना चाहिए कि वह क्या खा रहे हैं, क्योंकि

(i) उचित भोजन से उनके मस्तिष्क का विकास होता है।

(ii) शरीर में तीव्रगति से होने वाली वृद्धि के लिए उचित आहार की आवश्यकता होती है।

(iii) किशोर को हर समय भूख लगती रहती है।

(iv) किशोर में स्वाद कलिकाएँ (ग्रंथियाँ) भलीभाँति विकसित होती हैं।

(ख) स्त्रियों में जनन आयु (काल) का प्रारम्भ उस समय होता है जब उनके :

(i) ऋतुस्राव प्रारम्भ होता है।

(ii) स्तन विकसित होना प्रारम्भ करते हैं।

(iii) शारीरिक भार में वृद्धि होने लगती है।

(iv) शरीर की लंबाई बढ़ती है।

(ग) निम्न में से कौन सा आहार किशोर के लिए सर्वोचित है :

(i) चिप्स, नूडल्स, कोक

(ii) रोटी, दाल, सब्जियाँ

(iii) चावल, नूडल्स, बर्गर

(iv) शाकाहारी टिक्की, चिप्स तथा लेमन पेय

8. निम्न पर टिप्पणी लिखिए–

(i) एेडॅम्स एेपॅल

(ii) गौण लैंगिक लक्षण

(iii) गर्भस्थ शिशु में लिंग निर्धारण

9. शब्द पहेली : शब्द बनाने के लिए संकेत संदेश का प्रयोग कीजिए–

बाईं से दाईं ओर

3. एड्रिनल ग्रंथि से स्रावित हार्मोन

4. मेंढक में लारवा से वयस्क तक होने वाला परिवर्तन

5. अंतःस्रावी ग्रंथियों द्वारा स्रावित पदार्थ

6. किशोरावस्था को कहा जाता है

ऊपर से नीचे की ओर

1. अंतःस्रावी ग्रंथियों का दूसरा नाम

2. स्वर पैदा करने वाला अंग

3. स्त्री हार्मोन


10. नीचे दी गई सारणी में आयु वृद्धि के अनुपात में लड़कों एवं लड़कियों की अनुमानित लंबाई के आँकड़े दर्शाए गए हैं। लड़के एवं लड़कियों दोनों की लंबाई एवं आयु को प्रदर्शित करते हुए एक ही ग्राफ कागज़ पर ग्राफ खींचिए। इस ग्राफ से आप क्या निष्कर्ष निकाल सकते हैं?

10.2

Exercise_11_graph



विस्तारित अधिगम – क्रियाकलाप एवं परियोजनाएँ

1. अपने से बड़े संबंधियों से बाल विवाह के कानूनी पहलू के संबंध में जागरूकता का पता लगाइए। आप स्वयं इस संबंध में अपने अध्यापक, माता-पिता, डॉक्टर अथवा इंटरनेट से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। बाल विवाह दंपति के लिए क्यों उचित नहीं है। इस विषय पर दो मिनट का व्याख्यान लिखिए।

2. HIV/AIDS के बारे में समाचारपत्र एवं पत्रिकाओं से कटिंग एकत्रित कीजिए। HIV/AIDS पर 15 से 20 वाक्यों का लेख लिखिए।

3. 2011 जनगणना के अनुसार हमारे देश में प्रति 1000 पुरुषों के लिए 940 स्त्रियाँ हैं। पता लगाइए कि–

(क) कम अनुपात के लिए समाज की क्या चिंताएँ हैं? याद रखिए कि लड़का अथवा लड़की होने की संभावना एकसमान है।

(ख) एम्नियोसेंटेसिस क्या है तथा यह तकनीक किस प्रकार उपयोगी है? भारत में इस तकनीक द्वारा गर्भस्थ शिशु के लिंग की पहचान करने पर प्रतिबंध क्यों है?

4. अपने समग्र विचारों को समाहित करते हुए जनन संबंधी तथ्यों की जानकारी के महत्त्व पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए। 

RELOAD if chapter isn't visible.