बारहवाँ पाठ आषाढ़ का पहला दिन हवा का शोर वषार् की झड़ी, झाड़ों का गिर पड़ना कहीं गरजन का जाकर दूर सिर के पास पिफर पड़ना उमड़ती नदी का खेती की छाती तक लहर उठना ध्वजा की तरह बिजली का दिशाओें में पफहर उठना ये वषार् के अनोखे दृश्य जिसको प्राण से प्यारे जो चातक की तरह तकता है बादल घने कजरारे जो भूखा रहकर, धरती चीरकर जग को ख्िालाता है जो पानी वक्त पर आए नहीं तो तिलमिलाता है अगर आषाढ़ के पहले दिवस के प्रथम इस क्षण में वही हलधर अिाक आता है, कालिदास से मन में तो मुझको क्षमा कर देना। μभवानी प्रसाद मिश्र 1.पाठ से ;कद्ध किसान को बादलों का इंतशार क्यों रहता है? ;खद्ध कवि को वषार् होने पर किसान की याद क्यों आती है। ;गद्ध कवि ने किसान की तुलना चातक पक्षी से क्यों की है? 2.पाठ से आगे ;कद्ध कवि ने कविता में वषार् ट्टतु का वणर्न किया है। वषार् ट्टतु के बाद कौन - सी ट्टतु आती है? उसके बारे में अपना अनुभव बताओ। 3सकते हो। 4.सोचो - समझो और बताओ क्या होगाμ ;कद्ध अगर वषार् बिलवुफल ही न हो। ;खद्ध अगर वषार् बहुत अध्िक हो। ;गद्ध अगर वषार् बहुत ही कम हो। ;घद्ध वषार् हो मगर आँध्ी - तू.पफान के साथ हो। ;घद्ध वषार् हो मगर तुम्हारे स्वूफल में छु‘ियाँ हों। 5.कल्पना की बात कवि अपनी कल्पना से शब्दों के हेर - पेफर द्वारा वुफछ चीशों के बारे में ऐसी बातें कह देता है, जिसे पढ़कर बहुत अच्छा लगता है। तुम भी अपनी कल्पना से किसी चीज के बारे में जैसी भी बात बताना चाहो, बता सकते हो। हाँ, ध्यान रहे कि उन बातों से किसी को कोइर् नुकसान न हो। शब्दों के पेफर - बदल में तुम पूरी तरह से स्वतंत्रा हो। 6.तुम्हारा कवि और सबकी कविता तुमने इस कविता में एक कवि, जिसने इस कविता को लिखा है, उसके बारे में जाना और इसी कविता में एक और कवि कालिदास के बारे में भी जाना। अब तुम बताओμ ;कद्ध तुम्हारे प्रदेश और तुम्हारी मातृभाषा में तुम्हारी पसंद के कवि कौन - कौन हैं? ;खद्ध उनमें से किसी एक कवि की कोइर् सुंदर - सी कविता, जो तुम्हें पसंद हो, को हिंदी में अनुवाद कर अपने साथ्िायों को दिखाओ। 7.नमूने के अनुसार नीचे शब्दों के बदलते रूप को दशार्ने वाला नमूना दिया गया है। उसे देखो और अपनी सुविधानुसार तुम भी दिए गए शब्दों को बदलो।μ गिरना - गिराना - गिरवाना उठना पढ़ना करना पफहरना सुनना दूवार्ध्84

>ch12>

ckjgok¡ ikB

vk"kk<+ dk igyk fnu

gok dk ”kksj o"kkZ dh >M+h] >kM+ksa dk fxj iM+uk

dgha xjtu dk tkdj nwj flj osQ ikl fiQj iM+uk

meM+rh unh dk [ksrh dh Nkrh rd ygj mBuk

èotk dh rjg fctyh dk fn'kkvkssa esa iQgj mBuk

;s o"kkZ osQ vuks[ks n`'; ftldks izk.k ls I;kjs

tks pkrd dh rjg rdrk gS ckny ?kus dtjkjs

tks Hkw[kk jgdj] èkjrh phjdj tx dks f[kykrk gS

tks ikuh oDr ij vk, ugha rks fryfeykrk gS

vxj vk"kk<+ osQ igys fnol osQ izFke bl {k.k esa

ogh gyèkj vfèkd vkrk gS] dkfynkl ls eu esa

rks eq>dks {kek dj nsukA

-Hkokuh izlkn feJ

vH;kl

'kCnkFkZ

”kksj & rs”kh

>M+h & gYdh fdarq yxkrkj o"kkZ

>kM+ & oaQVhys ikS/ksa dk lewg

xjtu & cknyksa dh xM+xM+kgV

èotk & >aMk

iQgjuk & gok esa ygjkuk

rkduk & ns[kuk

dtjkjs & dkty tSls dkys

fryfeykuk & cspSu gksuk

{k.k & iy

pkrd & iihgk (,slk dgk tkrk gS fd ;g i{kh osQoy Lokrh u{k=k esa gksus okyh o"kkZ dk ty ihrk gS blfy, lnk cknyksa dh vksj VdVdh yxk, jgrk gSA)

gy/j & fdlku

1- ikB ls

(d) fdlku dks cknyksa dk bar”kkj D;ksa jgrk gS\

([k) dfo dks o"kkZ gksus ij fdlku dh ;kn D;ksa vkrh gSA

(x) dfo us fdlku dh rqyuk pkrd i{kh ls D;ksa dh gS\

2- ikB ls vkxs

(d) dfo us dfork esa o"kkZ Írq dk o.kZu fd;k gSA o"kkZ Írq osQ ckn dkSu&lh Írq vkrh gS\ mlosQ ckjs esa viuk vuqHko crkvksA

([k) o"kkZ ½rq ls igys yksx D;k&D;k rS;kfj;k¡ djrs gSa\ muesa ls oqQN yksxksa osQ ckjs esa tkudkjh ,d=k dj lwph cukvksA

3- igyk fnu

(d) rqe viuh d{kk esa tc igys fnu vk, Fks rks ml fnu D;k&D;k gqvk Fkk\ viuh ;kn ls vius vuqHko dks nl okD;ksa esa fy[kdj fn[kkvksA

([k) rqe pkgks rks ^igyk fnu* 'kh"kZd ij oqQN iafDr;ksa dh dksbZ dfork Hkh fy[kdj fn[kk ldrs gksA

4- lkspks&le>ks vkSj crkvks

D;k gksxk-

(d) vxj o"kkZ fcyoqQy gh u gksA

([k) vxj o"kkZ cgqr vf/d gksA

(x) vxj o"kkZ cgqr gh de gksA

(?k) o"kkZ gks exj vk¡/h&rw-IkQku osQ lkFk gksA

(Ä) o"kkZ gks exj rqEgkjs LowQy esa Nqfêð;k¡ gksaA

5- dYiuk dh ckr

dfo viuh dYiuk ls 'kCnksa osQ gsj&isQj }kjk oqQN ph”kksa osQ ckjs esa ,slh ckrsa dg nsrk gS] ftls i<+dj cgqr vPNk yxrk gSA rqe Hkh viuh dYiuk ls fdlh pht osQ ckjs esa tSlh Hkh ckr crkuk pkgks] crk ldrs gksA gk¡] è;ku jgs fd mu ckrksa ls fdlh dks dksbZ uqdlku u gksA 'kCnksa osQ isQj&cny esa rqe iwjh rjg ls Lora=k gksA

6- rqEgkjk dfo vkSj lcdh dfork

rqeus bl dfork esa ,d dfo] ftlus bl dfork dks fy[kk gS] mlosQ ckjs esa tkuk vkSj blh dfork esa ,d vkSj dfo dkfynkl osQ ckjs esa Hkh tkukA vc rqe crkvks-

(d) rqEgkjs izns'k vkSj rqEgkjh ekr`Hkk"kk esa rqEgkjh ilan osQ dfo dkSu&dkSu gSa\

([k) muesa ls fdlh ,d dfo dh dksbZ lqanj&lh dfork] tks rqEgsa ilan gks] dks fganh esa vuqokn dj vius lkfFk;ksa dks fn[kkvksA

7- uewus osQ vuqlkj

uhps 'kCnksa osQ cnyrs :i dks n'kkZus okyk uewuk fn;k x;k gSA mls ns[kks vkSj viuh lqfoèkkuqlkj rqe Hkh fn, x, 'kCnksa dks cnyksA

12.1

RELOAD if chapter isn't visible.