नौवाँ पाठ एक ख्िालाड़ी की वुफछ यादें 60 साल की बात करने से पहले मैं वुफछ साल और पीछे जाना चाहता हूँ। लाहौर को याद करना चाहता हूँ, जब मैं बैडमिंटन चैंपियन था। स्वूफल ग्राउंड में एक दिन ध्यानचंद को हाॅकी खेलते देखा। उसके बाद मैं हाॅकी का ही हो गया। यह बताता है कि बड़े ख्िालाड़ी को देखना आप पर कितना असर डालता है। 1948 ओलंपिक से पहले हालात बहुत खराब थे। हमें भी लाहौर से भागना पड़ा था। किसी तरह बंबइर् ;मुम्बइर्द्ध में वैंफप लगा। सब वुफछ बिखरा हुआ था। हमारी टीम में कोइर् घर ऐसा नहीं था जहाँ कोइर् टैªजडी न हुइर् हो। दिमाग खेल से श्यादा भारत - पाकिस्तान के अलगाव और टैªजडी पर था। हम लंदन पहुँचे। वहाँ भी विश्व यु( के बाद के हालात थे। शहर सँभल नहीं पाया था। बि¯ल्डग में गोलियों के निशान दिखाइर् देते थे। ओलंपिक ड्राॅ निकला। भारत और पाकिस्तान अलग - अलग हाॅपफ में थे। सबको यही लग रहा था कि इन्हीं दोनों मुल्कों का पफाइनल होगा। सेमीपफाइनल में एक दिन हमें हाॅलैंड और पाकिस्तान को इंग्लैड से खेलना था। वेंबली स्टेडियम था जहाँ आमतौर पर पुफटबाॅल होता था। बारिश के बीच हम बड़ी मुश्िकल से हाॅलैंड को 2 - 1 से हरा पाए। इंग्लैंड ने पाकिस्तान को हरा दिया। अब इंग्लैंड से पफाइनल था। क्वीन मौजूद थीं। हमने इंग्लैंड को 4 - 0 से हराया। हमारी टीम में कोइर् ऐसा नहीं था जिसकी आँख में आँसू न हों। उसी मुल्क में आकर हम जीते थे, जिसने हम पर राज किया। उसी के घर में हराया था। पहली इंग्लैंड में हुआ। इससे बड़ा लम्हा नहीं हो सकता। सारे दुख - ददर् भूल गए थे। आशाद भारत ने पहली बार दुनिया को दिखाया था कि वह क्या कर सकता है। मुझे अ.पफसोस है कि उसके बाद हाॅकी का स्तर गिरा है। गिरावट सि.पर्फ हाॅकी में ही नहीं, कइर् खेलों में है। वुफल मिलाकर टीम गेम की हालत खराब हुइर् है। व्यक्ितगत खेलों में शरूर सपफलताएँ मिली हैं। विश्वनाथन आनंद हैं, सानिया मिजार् हैं। लेकिन उन्हें उफपर लाने में कोइर् सिस्टम काम नहीं आया। यह उनकी अपनी मेहनत और परिवार के सपोटर् का नतीजा है। मैं यही कहना चाहता हूँ कि सिस्टम गड़बड़ है। इसे ठीक करना पडे़गा। बेसिक सुविधाएँ देनी ही पडे़गीं। जैसे, आपको हाॅकी खेलने के लिए सिंथेटिक टपर्फ शरूर चाहिए। लेकिन हमारे मुल्क में कितने हैं। अंगे्रशों के समय में एक बात अच्छी थी कि हर स्वूफल में खेल बहुत शरूरी था। तब खेलना एक ख्िालाड़ी की वुफछ यादेंध्61 मतलब यह है कि ख्िालाडि़यों में जश्बा शरूरी है। शूटिंग में भारत ने तरक्की की है। वि्रफकेट में वुफछ सपफलताएँ मिली हैं। लेकिन 60 साल में हम हाॅकी सहित उन खेलों में पिछड़े हैं जिनमें सबसे आगे थे। जिनमें आगे आए हैं, वहाँ सबसे आगे नहीं हैं। ;देश के बेहतरीन हाॅकी ख्िालाडि़यों में एक श्री केशवदत्त 1948 और 1952 की स्वणर् विजेता ओलंपिक टीम का हिस्सा थे। इस समय वह कोलकाता में रहते हैं।द्ध - केशवदत्त 1.पाठ से ;कद्ध लेखक बैडमिंटन चैंपियन था। उसे हाॅकी खेलने की प्रेरणा किससे और वैफसे मिली? ;खद्ध इंग्लैंड से मैच जीतने के बाद सबकी आँखों में आँसू क्यों थे? ;गद्ध ‘ख्िालाडि़यों में जश्बा शरूरी है।’ लेखक ने किस जश्बे की बात की है? यह जश्बा क्यों शरूरी है? 2.याद करना फ्60 साल की बात करने से पहले मैं वुफछ साल और पीछे जाना चाहता हूँ। लाहौर को याद करना चाहता हूँ।य् उफपर के वाक्यों को पढ़ो और बताओ कि - दूवार्ध्62 ;कद्ध लेखक 60 साल की बात करने के लिए क्या करना चाहता है? ;खद्ध तुम्हें अगर अपने तीन साल के हिंदी सीखने की बात को कहने को कहा जाए तो उसके लिए क्या - क्या करोगे? ;गद्ध क्या पिछली किसी बात को याद करने के लिए बार - बार रटना शरूरी होता है या सोच - समझ के साथ उस पर चचार्, विचार और उसका आवश्यकतानुसार व्यवहार करना शरूरी होता है? तुम्हें जो भी उचित लगे उसे कारण सहित बताओ। 3.बिखरा हुआ ;कद्ध पता करो कि कोइर् सामान, विचार और ध्यान क्यों बिखरता है? ;खद्ध उनके बिखरने से क्या - क्या होता है? ;गद्ध लेखक का दिमाग खेल से श्यादा भारत - पाकिस्तान के अलगाव और टैªजडी होने के कारण वैफसी मुश्िकलों में उलझा होगा? 4.पि़फल्म और गीत पि़फल्मों में दृश्यों के साथ गीत गाए जाते हैं। पिफल्म के अतिरिक्त ऐसे बहुत से अवसर होते हैं जहाँ उसी के अनुवूफल गीत भी गाए - बजाए जाते हैं। इस पाठ में भी ‘पहली बार विश्व स्तर पर कहीं जन - गण - मन बजा’ का उल्लेख हुआ है। तुम पि़फल्मों के वुफछ मशहूर गीतों के बोलों की सूची बनाओ जो पि़फल्मों में दृश्यों के साथ तो गाए ही गए हों, जिन्हें विशेष अवसरों पर भी गाया बजाया जाता हो। 5.खेल - वूफद नीचे वुफछ खेलों के नाम दिए गए हैं। इन्हें खेलने के लिए किन - किन चीशों की शरूरत होती है, उसकी सूची बनाओ। ;कद्ध हाॅ.............. .............. .............. .............की ;खद्ध िकेट .............. .............. .............. .............;गद्ध लाॅन टेनिस .............. .............. .............. .............;घद्ध तैराकी .............. .............. .............. .............;घद्ध तीरंदाशी .............. .............. .............. .............;चद्ध कबîóी .............. .............. .............. .............एक ख्िालाड़ी की वुफछ यादेंध्63 6.पता लगाओ ;कद्ध िकेट, पुफटबाॅल और हाॅकी के मैदान में क्या अंतर होता है? ;खद्ध िकेट, पुफटबाॅल और हाॅकी में कितने - कितने ख्िालाड़ी होते हैं। ;गद्ध हाॅकी से जुड़े शब्दों की सूची बनाओ। 7.तुम्हारी बात ;कद्ध तुम्हें कौन - सा खेल पसंद है? अपने किसी स्थानीय खेल के नियम, ख्िालाडि़यों की संख्या और सामान के बारे में बताओ। ;खद्ध अपने जीवन की किसी ऐसी घटना के बारे में बताओμ ऽ जब तुम्हारी आँखों में आँसू आए हों। ऽ जब तुम अपना दुख - ददर् भूल गए हो। 8.खेल और सिनेमा ;कद्ध खेलों पर बनी वुफछ .ि.पफल्मों के बारे में पता लगाओ। उनमें से वुफछ पि़फल्मों के नामों और उनमें दशार्ए गए खेलों के नामों को साथ मिलाकर एक सूची बनाओ। कक्षा में उन पि़फल्मों के बारे में बातचीत भी करो। 9.जगह - जगह के खेल वुफछ खेल वुफछ खास जगहों में ही खेले जा सकते हैं और वुफछ खेल प्रचलन के कारण वुफछ खास लोगों द्वारा ही खास स्थानों पर खेले जाते हैं। बताओ किμ ;कद्ध कौन - से खेल अंदर खेले जाते हैं? ;खद्ध कौन - से खेल बाहर खेले जाते हैं? ;गद्ध कौन - से खेल अकेले खेले जाते हैं? दूवार्ध्64

>ch9>

ukSok¡ ikB

,d f[kykM+h dh oqQN ;knsa


60 lky dh ckr djus ls igys eSa oqQN lky vkSj ihNs tkuk pkgrk gw¡A ykgkSj dks ;kn djuk pkgrk gw¡] tc eSa cSMfeaVu pSafi;u FkkA LowQy xzkmaM esa ,d fnu è;kupan dks gkWdh [ksyrs ns[kkA mlosQ ckn eSa gkWdh dk gh gks x;kA ;g crkrk gS fd cM+s f[kykM+h dks ns[kuk vki ij fdruk vlj Mkyrk gSA

1948 vksyafid ls igys gkykr cgqr [kjkc FksA gesa Hkh ykgkSj ls Hkkxuk iM+k FkkA fdlh rjg cacbZ (eqEcbZ) esa oSaQi yxkA lc oqQN fc[kjk gqvk FkkA gekjh Vhe esa dksbZ ?kj ,slk ugha Fkk tgk¡ dksbZ VSªtMh u gqbZ gksA fnekx [ksy ls ”;knk Hkkjr&ikfdLrku osQ vyxko vkSj VSªtMh ij FkkA

ge yanu igq¡psA ogk¡ Hkh fo'o ;q¼ osQ ckn osQ gkykr FksA 'kgj l¡Hky ugha ik;k FkkA fc¯YMx esa xksfy;ksa osQ fu'kku fn[kkbZ nsrs FksA vksyafid MªkW fudykA Hkkjr vkSj ikfdLrku vyx&vyx gkWiQ esa FksA lcdks ;gh yx jgk Fkk fd bUgha nksuksa eqYdksa dk iQkbuy gksxkA lsehiQkbuy esa ,d fnu gesa gkWySaM vkSj ikfdLrku dks baXySM ls [ksyuk FkkA osacyh LVsfM;e Fkk tgk¡ vkerkSj ij iqQVckWy gksrk FkkA ckfj'k osQ chp ge cM+h eqf'dy ls gkWySaM dks 2&1 ls gjk ik,A baXySaM us ikfdLrku dks gjk fn;kA vc baXySaM ls iQkbuy FkkA Dohu ekStwn FkhaA

     


geus baXySaM dks 4&0 ls gjk;kA gekjh Vhe esa dksbZ ,slk ugha Fkk ftldh vk¡[k esa vk¡lw u gksaA mlh eqYd esa vkdj ge thrs Fks] ftlus ge ij jkt fd;kA mlh osQ ?kj esa gjk;k FkkA igyh ckj fo'o Lrj ij dgha tu&x.k&eu ctkA gesa xoZ gS fd ;g baXySaM esa gqvkA blls cM+k yEgk ugha gks ldrkA lkjs nq[k&nnZ Hkwy x, FksA vk”kkn Hkkjr us igyh ckj nqfu;k dks fn[kk;k Fkk fd og D;k dj ldrk gSA


eq>s v-IkQlksl gS fd mlosQ ckn gkWdh dk Lrj fxjk gSA fxjkoV fl-IkZQ gkWdh esa gh ugha] dbZ [ksyksa esa gSA oqQy feykdj Vhe xse dh gkyr [kjkc gqbZ gSA O;fDrxr [ksyksa esa ”k:j liQyrk,¡ feyh gSaA fo'oukFku vkuan gSa] lkfu;k fetkZ gSaA ysfdu mUgsa mQij ykus esa dksbZ flLVe dke ugha vk;kA ;g mudh viuh esgur vkSj ifjokj osQ liksVZ dk urhtk gSA eSa ;gh dguk pkgrk gw¡ fd flLVe xM+cM+ gSA

bls Bhd djuk iMs+xkA csfld lqfoèkk,¡ nsuh gh iMs+xhaA tSls] vkidks gkWdh [ksyus osQ fy, flaFksfVd ViZQ ”k:j pkfg,A ysfdu gekjs eqYd esa fdrus gSaA



vaxsz”kksa osQ le; esa ,d ckr vPNh Fkh fd gj LowQy esa [ksy cgqr ”k:jh FkkA rc [ksyuk mruk gh ”k:jh Fkk] ftruk i<+uk A ysfdu ;g cnykA [ksy [kkl txg ugha ik ldkA oqQN cnyko gSA ysfdu bruk dkiQh ugha gSA gj LowQy esa eSnku ”k:jh gSaA vkcknh osQ lkFk [ksy dh txg [kRe gksrh tk jgh gSA gekjs le; esa dksfpax ”k:j vkt tSlh ugha FkhA lhfu;j f[kykM+h ,d rjg ls dksp gksrs FksA ysfdu ”k:jr ls ”;knk dksfpax vkSj rduhd osQ bLrseky dk D;k okdbZ gesa -IkQk;nk gqvk gS\ esjk eryc ;g gS fd f[kykfM+;ksa esa t”ck ”k:jh gSA 'kwfVax esa Hkkjr us rjDdh dh gSA fozQosQV esa oqQN liQyrk,¡ feyh gSaA ysfdu 60 lky esa ge gkWdh lfgr mu [ksyksa esa fiNM+s gSa ftuesa lcls vkxs FksA ftuesa vkxs vk, gSa] ogk¡ lcls vkxs ugha gSaA


(ns'k osQ csgrjhu gkWdh f[kykfM+;ksa esa ,d Jh osQ'konÙk 1948 vkSj 1952 dh Lo.kZ fotsrk vksyafid Vhe dk fgLlk FksA bl le; og dksydkrk esa jgrs gSaA)

&osQ'konÙk

vH;kl

'kCnkFkZ

vlj & izHkko

gkykr & fLFkfr

VSªtMh & nq[kkar ?kVuk

yEgk & {k.k] iy

flLVe & O;oLFkk

dksfpax & izf'k{k.k] f'k{k.k nsuk

t”ck & Hkko] tks'k

'kwfVax & fu'kkusck”kh

1- ikB ls

(d) ys[kd cSMfeaVu pSafi;u FkkA mls gkWdh [ksyus dh izsj.kk fdlls vkSj oSQls feyh\

([k) baXySaM ls eSp thrus osQ ckn lcdh vk¡[kksa esa vk¡lw D;ksa Fks\

(x) ^f[kykfM+;ksa esa t”ck ”k:jh gSA* ys[kd us fdl t”cs dh ckr dh gS\ ;g t”ck D;ksa ”k:jh gS\

2- ;kn djuk

¶60 lky dh ckr djus ls igys eSa oqQN lky vkSj ihNs tkuk pkgrk gw¡A ykgkSj dks ;kn djuk pkgrk gw¡A¸

mQij osQ okD;ksa dks i<+ks vkSj crkvks fd&

(d) ys[kd 60 lky dh ckr djus osQ fy, D;k djuk pkgrk gS\

([k) rqEgsa vxj vius rhu lky osQ fganh lh[kus dh ckr dks dgus dks dgk tk, rks mlosQ fy, D;k&D;k djksxs\

(x) D;k fiNyh fdlh ckr dks ;kn djus osQ fy, ckj&ckj jVuk ”k:jh gksrk gS ;k lksp&le> osQ lkFk ml ij ppkZ] fopkj vkSj mldk vko';drkuqlkj O;ogkj djuk ”k:jh gksrk gS\ rqEgsa tks Hkh mfpr yxs mls dkj.k lfgr crkvksA

3- fc[kjk gqvk

(d) irk djks fd dksbZ lkeku] fopkj vkSj è;ku D;ksa fc[kjrk gS\

([k) muosQ fc[kjus ls D;k&D;k gksrk gS\

(x) ys[kd dk fnekx [ksy ls ”;knk Hkkjr&ikfdLrku osQ vyxko vkSj VSªtMh gksus osQ dkj.k oSQlh eqf'dyksa esa my>k gksxk\

9.1

4- fi+QYe vkSj xhr

fi+QYeksa esa n`';ksa osQ lkFk xhr xk, tkrs gSaA fiQYe osQ vfrfjDr ,sls cgqr ls volj gksrs gSa tgk¡ mlh osQ vuqowQy xhr Hkh xk,&ctk, tkrs gSaA bl ikB esa Hkh ^igyh ckj fo'o Lrj ij dgha tu&x.k&eu ctk* dk mYys[k gqvk gSA rqe fi+QYeksa osQ oqQN e'kgwj xhrksa osQ cksyksa dh lwph cukvks tks fi+QYeksa esa n`';ksa osQ lkFk rks xk, gh x, gksa] ftUgsa fo'ks"k voljksa ij Hkh xk;k ctk;k tkrk gksA

5- [ksy&owQn

uhps oqQN [ksyksa osQ uke fn, x, gSaA bUgsa [ksyus osQ fy, fdu&fdu ph”kksa dh ”k:jr gksrh gS] mldh lwph cukvksA

(d) gkWdh -------------- -------------- -------------- --------------

([k) fØosQV -------------- -------------- -------------- --------------

(x) ykWu Vsful -------------- -------------- -------------- --------------

(?k) rSjkdh -------------- -------------- -------------- --------------

(Ä) rhjank”kh -------------- -------------- -------------- --------------

(p) dcîóh -------------- -------------- -------------- --------------

6- irk yxkvks

(d) fØosQV] iqQVckWy vkSj gkWdh osQ eSnku esa D;k varj gksrk gS\

([k) fØosQV] iqQVckWy vkSj gkWdh esa fdrus&fdrus f[kykM+h gksrs gSaA

(x) gkWdh ls tqM+s 'kCnksa dh lwph cukvksA

7- rqEgkjh ckr

(d) rqEgsa dkSu&lk [ksy ilan gS\ vius fdlh LFkkuh; [ksy osQ fu;e] f[kykfM+;ksa dh la[;k vkSj lkeku osQ ckjs esa crkvksA

([k) vius thou dh fdlh ,slh ?kVuk osQ ckjs esa crkvks-

tc rqEgkjh vk¡[kksa esa vk¡lw vk, gksaA

tc rqe viuk nq[k&nnZ Hkwy x, gksA

8- [ksy vkSj flusek

(d) [ksyksa ij cuh oqQN f-IkQYeksa osQ ckjs esa irk yxkvksA muesa ls oqQN fi+QYeksa osQ ukeksa vkSj muesa n'kkZ, x, [ksyksa osQ ukeksa dks lkFk feykdj ,d lwph cukvksA d{kk esa mu fi+QYeksa osQ ckjs esa ckrphr Hkh djksA

9- txg&txg osQ [ksy

oqQN [ksy oqQN [kkl txgksa esa gh [ksys tk ldrs gSa vkSj oqQN [ksy izpyu osQ dkj.k oqQN [kkl yksxksa }kjk gh [kkl LFkkuksa ij [ksys tkrs gSaA crkvks fd-

(d) dkSu&ls [ksy vanj [ksys tkrs gSa\

([k) dkSu&ls [ksy ckgj [ksys tkrs gSa\

(x) dkSu&ls [ksy vosQys [ksys tkrs gSa\


RELOAD if chapter isn't visible.