सातवाँ पाठ उठ किसान ओ उठ किसान ओ, उठ किसान ओ, बादल घ्िार आए हैं तेरे हरे - भरे सावन के साथी ये आए हैं आसमान भर गया देख तो इध्र देख तो, उध्र देख तो नाच रहे हैं उमड़ - घुमड़ कर काले बादल तनिक देख तो तेरे प्राणों में भरने को नये राग लाए हैं यह संदेशा लेकर आइर् सरस मध्ुर, शीतल पुरवाइर् तेरे लिए, अकेले तेरे लिए, कहाँ से चल कर आइर् पिफर वे परदेसी पाहुन, सुन, तेरे घर आए हैं उड़ने वाले काले जलध्र नाच - नाच कर गरज - गरज कर ओढ़ पुफहारों की सित चादर देख उतरते हैं ध्रती पर छिपे खेत में, आँखमिचैनी सी करते आए हैं 1.कविता से नीचे लिखी पंक्ितयाँ पढ़ो। आपस में चचार् करके इसके नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर दो - ;कद्ध फ्तेरे हरे - भरे सावन के साथी ये आए हैंय् क्या बादल हरे - भरे सावन के साथी हैं अथवा किसान के? या दोनों के। ;खद्ध फ्तेरे प्राणों में भरने को नया राग लाए हैंय् बादल ऐसा क्या लाए हैं जिससे किसान के प्राणों में नया राग भर जाएगा? ;गद्ध फ्यह संदेशा ले कर आइर्, सरस मध्ुर शीतल पुरवाइर्य् पुरवाइर् किसान के लिए क्या संदेशा लेकर आइर् होगी? ;घद्ध फ्तेरे लिए, अकेले तेरे लिए, कहाँ से चलकर आइर्य् क्या सचमुच पुरवाइर् केवल किसान के लिए चलकर आइर् है? वह कहाँ से चलकर आइर् होगी? 2.कविता के आधर पर बताओ कि ;कद्ध जब हरा खेत लहरायेगा तो क्या होगा? ;खद्ध बादलों के घ्िार आने पर कवि किसान को उठने के लिए क्यों कहता है? ;गद्ध रूप बदल कर बादल किसान के कौन से सपनों को साकार करेगा? 3.छिपा है कौन? फ्हरा खेत जब लहराएगा हरी पताका पफहराएगा छिपा हुआ बादल तब उसमें रूप बदलकर मुसकाएगाय् कविता में हम पाते हैं कि सावन की हरियाली बादलों के कारण ही हुइर् है इसलिए कवि को उस हरियाली में मुसवफराते बादल ही दिखाइर् देते हैं। बताओ, कवि को इन सब में कौन दिखाइर् दे सकता हैμ ;कद्ध गमर् हवा। लू के थपेड़े। ;खद्ध सागर में उठती ऊँची - ऊँची लहरें। ;गद्ध सुगंध् पैफलाता हुआ पूफल। ;घद्ध चैन की नींद सोती हुइर् बालिका। उठ किसान ओध्47 4.किस्म - किस्म की खेती आजकल पुराने जमाने की अपेक्षा किसान बहुत अध्िक चीशों की खेती करने लगे हैं। खेती का स्वरूप बहुत विशाल हो गया है। पता करो कि आजकल भारत के लोग किन - किन चीशों की खेती करते हैं? अपने साथ्िायों के साथ मिलकर एक सूची तैयार करो। 5.मातृभाषा की कविता अपनी मातृभाषा में ‘किसान’ पर लिखी गइर् कविता को अपने मित्रों व श्िाक्षक को सुनाओ। 6.खेल - खेल में फ्छिपे खेत में, आँखमिचैनी सी करते आए हैंय् तुम जानते हो कि आँखमिचैनी एक खेल है जिसमें एक ख्िालाड़ी आँखें बंद कर लेता है और बाकी ख्िालाड़ी छिप जाते हैं। तुम भी अपने आस - पास खेले जाने वाले ऐसे ही वुफछ खेलों के नाम लिखो। यह भी बताओ कि इन खेलों को वैफसे खेलते हैं? 7.गरजना - बरसना फ्उड़ने वाले काले जलध्र नाच - नाच कर गरज - गरज कर ओढ़ पुफहारों की सित चादर देख उतरते हैं ध्रती परय् बादल गरज - गरज कर ध्रती पर बरसते हैं परंतु इसके बिलवुफल उलट एक मुहावरा हैμ जो गरजते हैं, वे बरसते नहीं। कक्षा में पाँच - पाँच बच्चों के समूह बनाकर चचार् करो कि दोनों बातों में से कौन - सी बात अिाक सही है। अपने उत्तर का कारण भी बताओ। चचार् के बाद प्रत्येक समूह का एक प्रतिनिध्ि पूरी कक्षा को अपने समूह के विचार बताएगा। 8.और मुहावरे वषार् से जुडे़ या वषार् के बारे में वुफछ और मुहावरे खोशो। उनका प्रयोग करते हुए एक - एक वाक्य बनाओ। 9.तनिक फ्काले बादल तनिक देख तो।य् तुम भी अपने ढंग से ‘तनिक’ शब्द का इस्तेमाल करते हुए पाँच वाक्य बनाओ। दूवार्ध्48 10.गीत/गाने तुमने वषार् )तु से संबंध्ित वुफछ गीत/गानों को अवश्य सुना होगा। अगर नहीं तो इससे संबंिात वुफछ गीत/गानों की सूची बनाओ और अपनी आवश्यकता और सुलभता के अनुसार उन्हें सुनो। उनमें से किसी गीत - गाने को तुम सुविधनुसार किसी अवसर पर गा भी सकते हो। उठ किसान ओध्49

>ch7>

lkrok¡ ikB

mB fdlku vks

mB fdlku vks] mB fdlku vks]

ckny f?kj vk, gSa

rsjs gjs&Hkjs lkou osQ

lkFkh ;s vk, gSa

vkleku Hkj x;k ns[k rks

b/j ns[k rks] m/j ns[k rks

ukp jgs gSa meM+&?kqeM+ dj

                    dkys ckny rfud ns[k rks

rsjs izk.kksa esa Hkjus dks

u;s jkx yk, gSa

;g lans'kk ysdj vkbZ

ljl e/qj] 'khry iqjokbZ

rsjs fy,] vosQys rsjs

fy,] dgk¡ ls py dj vkbZ

fiQj os ijnslh ikgqu] lqu]

rsjs ?kj vk, gSa

mM+us okys dkys ty/j

ukp&ukp dj xjt&xjt dj

vks<+ iqQgkjksa dh flr pknj

ns[k mrjrs gSa /jrh ij

fNis [ksr esa] vk¡[kfepkSuh

lh djrs vk, gSa

gjk [ksr tc ygjk,xk

gjh irkdk iQgjk,xk

fNik gqvk ckny rc mlesa

:i cny dj eqldk,xk

rsjs liuksa osQ ;s ehBs

xhr vkt Nk, gSa

-f=kykspu









vH;kl

'kCnkFkZ

f?kjuk & pkjksa vksj ls vkuk] Nkuk

rfud & FkksM+k&lk

lans'kk & lekpkj] [kcj

iqjokbZ & iwoZ dh vksj ls pyus okyh gok

'khry & BaMh

ijnslh & nwljs ns'k esa jgus okyk

ikgqu & esgeku] vfrfFk

ty/j & ikuh ls Hkjs ckny

iqQgkj & ckSNkj] uUgha&uUgha cw¡ns

flr & lI+ksQn

vks<+uk & <k¡iuk] fdlh diMs+ vkfn ls cnu <duk

irkdk & >aMk

vk¡[k fepkSuh & ,d iy fn[kuk vkSj fNi tkuk] yqdk&Nqih dk [ksy

xjt & cknyksa dh ”kksjnkj èofu

1- dfork ls

uhps fy[kh iafDr;k¡ i<+ksA vkil esa ppkZ djosQ blosQ uhps fn, x, iz'uksa osQ mÙkj nks&

(d) ¶rsjs gjs&Hkjs lkou osQ lkFkh ;s vk, gSa¸

D;k ckny gjs&Hkjs lkou osQ lkFkh gSa vFkok fdlku osQ\ ;k nksuksa osQA

([k) ¶rsjs izk.kksa esa Hkjus dks u;k jkx yk, gSa¸

ckny ,slk D;k yk, gSa ftlls fdlku osQ izk.kksa esa u;k jkx Hkj tk,xk\

(x) ¶;g lans'kk ys dj vkbZ] ljl e/qj 'khry iqjokbZ¸

iqjokbZ fdlku osQ fy, D;k lans'kk ysdj vkbZ gksxh\

(?k) ¶rsjs fy,] vosQys rsjs fy,] dgk¡ ls pydj vkbZ¸

D;k lpeqp iqjokbZ osQoy fdlku osQ fy, pydj vkbZ gS\ og dgk¡ ls pydj vkbZ gksxh\

2- dfork osQ vk/kj ij crkvks fd

(d) tc gjk [ksr ygjk;sxk rks D;k gksxk\

([k) cknyksa osQ f?kj vkus ij dfo fdlku dks mBus osQ fy, D;ksa dgrk gS\

(x) :i cny dj ckny fdlku osQ dkSu ls liuksa dks lkdkj djsxk\

3- fNik gS dkSu\

¶gjk [ksr tc ygjk,xk

gjh irkdk iQgjk,xk

fNik gqvk ckny rc mlesa

:i cnydj eqldk,xk¸

dfork esa ge ikrs gSa fd lkou dh gfj;kyh cknyksa osQ dkj.k gh gqbZ gS blfy, dfo dks ml gfj;kyh esa eqLkoQjkrs ckny gh fn[kkbZ nsrs gSaA crkvks] dfo dks bu lc esa dkSu fn[kkbZ ns ldrk gS-

(d) xeZ gokA yw osQ FkisM+sA

([k) lkxj esa mBrh Å¡ph&Å¡ph ygjsaA

(x) lqxa/ iSQykrk gqvk iwQyA

(?k) pSu dh uhan lksrh gqbZ ckfydkA

4- fdLe&fdLe dh [ksrh

vktdy iqjkus tekus dh vis{kk fdlku cgqr vf/d ph”kksa dh [ksrh djus yxs gSaA [ksrh dk Lo:i cgqr fo'kky gks x;k gSA irk djks fd vktdy Hkkjr osQ yksx fdu&fdu ph”kksa dh [ksrh djrs gSa\ vius lkfFk;ksa osQ lkFk feydj ,d lwph rS;kj djksA

5- ekr`Hkk"kk dh dfork

viuh ekr`Hkk"kk esa ^fdlku* ij fy[kh xbZ dfork dks vius fe=kksa o f'k{kd dks lqukvksA

6- [ksy&[ksy esa

¶fNis [ksr esa] vk¡[kfepkSuh lh djrs vk, gSa¸

rqe tkurs gks fd vk¡[kfepkSuh ,d [ksy gS ftlesa ,d f[kykM+h vk¡[ksa can dj ysrk gS vkSj ckdh f[kykM+h fNi tkrs gSaA

rqe Hkh vius vkl&ikl [ksys tkus okys ,sls gh oqQN [ksyksa osQ uke fy[kksA ;g Hkh crkvks fd bu [ksyksa dks oSQls [ksyrs gSa\

7- xjtuk&cjluk

¶mM+us okys dkys ty/j

ukp&ukp dj xjt&xjt dj

vks<+ iqQgkjksa dh flr pknj

ns[k mrjrs gSa /jrh ij¸

ckny xjt&xjt dj /jrh ij cjlrs gSa ijarq blosQ fcyoqQy myV ,d eqgkojk gS-

tks xjtrs gSa] os cjlrs ughaA

d{kk esa ik¡p&ik¡p cPpksa osQ lewg cukdj ppkZ djks fd nksuksa ckrksa esa ls dkSu&lh ckr vfèkd lgh gSA vius mÙkj dk dkj.k Hkh crkvksA ppkZ osQ ckn izR;sd lewg dk ,d izfrfuf/ iwjh d{kk dks vius lewg osQ fopkj crk,xkA

8- vkSj eqgkojs

o"kkZ ls tqMs+ ;k o"kkZ osQ ckjs esa oqQN vkSj eqgkojs [kks”kksA mudk iz;ksx djrs gq, ,d&,d okD; cukvksA

9- rfud

¶dkys ckny rfud ns[k rksA¸

rqe Hkh vius <ax ls ^rfud* 'kCn dk bLrseky djrs gq, ik¡p okD; cukvksA

10- xhr@xkus

rqeus o"kkZ ½rq ls lacaf/r oqQN xhr@xkuksa dks vo'; lquk gksxkA vxj ugha rks blls lacafèkr oqQN xhr@xkuksa dh lwph cukvks vkSj viuh vko';drk vkSj lqyHkrk osQ vuqlkj mUgsa lquksA muesa ls fdlh xhr&xkus dks rqe lqfo/kuqlkj fdlh volj ij xk Hkh ldrs gksA

RELOAD if chapter isn't visible.