चैथा पाठ ओस हरी घास पर बिखेर दी हैं ये किसने मोती की लडि़याँ? कौन रात में गूँथ गया है ये उज्ज्वल हीरों की कडि़याँ? जुगनू से जगमग जगमग ये कौन चमकते हैं यों चमचम? नभ के नन्हें तारों से ये कौन दमकते हैं यों दमदम? लुटा गया है कौन जौहरी अपने घर का भरा खशाना?पत्तों पर, पूफलों पर, पग पग बिखरे हुए रतन हैं नाना। बड़े सबेरे मना रहा है कौन खुशी में यह दीवाली? वन उपवन में जला दी है किसने दीपावली निराली? जी होता, इन ओस कणों को अंजलि में भर घर ले आउँफ? इनकी शोभा निरख निरख कर इन पर कविता एक बनाउँफ। μ सोहनलाल द्विवेदी गूँथना - पिरोना रतन - रत्न उज्ज्वल - चमकता हुआ, उजला नाना - अनेक जुगनू - एक कीड़ा ;रात में उड़ने निराली - सुंदर, मनोहर पर इसकी दुम से रोशनी अं - दोनों हथेलियों को जलि निकलती हैद्ध मिलाने से बनने वाली नभ - आकाश, आसमान मुद्रा जौहरी - रत्नों की जाँच - परख करने जी - मन वाला शोभा - सौंदयर् खशाना - रफपया, सोना - चाँदी रखने निरख - निरख - देख - देखकर का स्थान, कोश, ध्नागार बहुमूल्य - कीमती, मूल्यवान 1.कविता से ;कद्ध कविता में रतन किसे कहा गया है और वे कहाँ - कहाँ बिखरे हुए हैं? ;खद्ध ओस कणों को देखकर कवि का मन क्या करना चाहता है? 2.कविता से आगे ;कद्ध पता करो कि सुबह के समय खुले स्थानों पर ओस की बूँदें वैफसे बन जाती हैं? इसे अपने श्िाक्षक को बताओ। ;खद्ध क्या ओस, कोहरा और वषार् में कोइर् संबंध् है? इसके बनने और होने के कारणों का पता लगाओ और उसे अपने ढंग से लिखकर श्िाक्षक को दिखाओ। ;गद्ध सूरज निकलने के वुफछ समय बाद ओस कहाँ चली जाती है? इसका उत्तर तुम अपने मित्रों, बड़ों, पुस्तकों और इंटरनेट की सहायता से प्राप्त करो और श्िाक्षक को बताओ। दूवार्ध्24 3.तुम्हारी कल्पना फ्इनकी शोभा निरख - निरख कर,इन पर कविता एक बनाउँफ।य् कवि ओस की सुंदरता पर एक कविता बनाना चाहता है। यदि तुम कवि के स्थान पर होते, तो कौन - सी कविता बनाते? अपने मनपसंद विषय पर कोइर् कविता बनाओ। 4 मौसम की बात ;कद्ध तुम्हारे विचार से यह किस मौसम की कविता हो सकती है? ;खद्ध तुम्हारे प्रदेश में कौन - कौन से मौसम आते हैं? उसकी सूची बनाओ। ;गद्ध तुम्हें कौन सा मौसम सबसे अध्िक पसंद है और क्यों? 5 अंजलि में फ्जी होता इन ओस कणों को अंजलि में भर घर ले आऊँय् कवि ओस को अपनी अंजलि में भरना चाहता है। तुम नीचे दी गइर् चीशों में से किन चीशों को अपनी अंजलि में भर सकते हो? सही ;3द्ध का चिÉ लगाओμ रेत ओस ध्ुआँ हवा पानी तेल लड्डू गेंद 6 उलट - पेफर फ्हरी घास पर बिखेर दी हैं ये किसने मोती की लडि़याँ?य् ऊपर की पंक्ितयों को उलट - पेफर कर इस तरह भी लिखा जा सकता हैμ फ्हरी घास पर ये मोती की लडि़याँ किसने बिखेर दी हैं?य् इसी तरह नीचे लिखी पंक्ितयों में उलट - पेफर कर तुम भी उसे अपने ढंग से लिखो। ;कद्ध फ्कौन रात में गँूथ गया है ये उज्ज्वल हीरों की कडि़याँ?य् ;खद्ध फ्नभ के नन्हें तारों में ये कौन दमकते हैं यों दमदम?य् ओसध्25 7.शब्दों की पहेली फ्ये उज्ज्वल हीरों की कडि़याँय् ऊपर की पंक्ित में उज्ज्वल शब्द में ‘ज’ वणर् दो बार आया है परंतु यह आध ;ज् द्ध है। तुम भी इसी तरह के वुफछ और शब्द खोशो। ध्यान रहे, उस शब्द में कोइर् एक वणर् ;अक्षरद्ध दो बार आया हो, मगर आध - आध। इस काम में तुम शब्दकोश की सहायता ले सकते हो। देखें, कौन सबसे अध्िक शब्द खोश पाता है। 8.कौन ऐसा नीचे लिखी चीशों जैसी वुफछ और चीशों के नाम सोचकर लिखोμ ;कद्ध जुगनू जैसे चमकीले ......................................;खद्ध तारों जैसे झिलमिल ......................................;गद्ध हीरों जैसे दमकते ......................................;घद्ध पूफलों जैसे सुंदर ......................................9.बूझो मतलब फ्जी होता, इन ओस कणों को अंजलि में भर घर ले आउँफय् ‘घर’ शब्द का प्रयोग हम कइर् तरह से कर सकते हैं। जैसेμ ;कद्ध वह घर गया। ......................................;खद्ध यह बात मेरे मन में घर कर गइर्। ......................................;गद्ध यह तो घर - घर की बात है। ......................................;घद्ध आओ, घर - घर खेलें। ......................................‘बस’ शब्द का प्रयोग कइर् तरह से किया जा सकता है। तुम ‘बस’ शब्द का प्रयोग करते हुए अपने मन से वुफछ वाक्य बनाओ। ;संकेतμबस, बस - बस, बस इतना साद्ध दूवार्ध्26 10.रूप बदलकर चमकμचमकनाμचमकानाμचमकवाना ‘चमक’ शब्द के वुफछ रूप ऊपर लिखे हैं। इसी प्रकार नीचे लिखे शब्दों का रूप बदलकर सही जगह पर भरो - दमक, सरक, बिखर, बन ;कद्ध शरा सा रगड़ते ही हीरे ने ....................................... शुरू कर दिया। ;खद्ध तुम यह कमीश किस दशीर् से ....................................... चाहते हो? ;गद्ध साँप ने ध्ीरे - ध्ीरे ....................................... शुरू कर दिया। ;घद्ध लकी को मूखर् ....................................... तो बहुत आसान है। ;घद्ध तुमने अब ख्िालौने ....................................... बंद कर दिए? ओसध्27

>ch4>

pkSFkk ikB

vksl

gjh ?kkl ij fc[ksj nh gSa

;s fdlus eksrh dh yfM+;k¡\

dkSu jkr esa xw¡Fk x;k gS

;s mTToy ghjksa dh dfM+;k¡\

          tqxuw ls txex txex ;s

          dkSu pedrs gSa ;ksa pepe\

          uHk osQ uUgsa rkjksa ls ;s

          dkSu nedrs gSa ;ksa nene\

yqVk x;k gS dkSu tkSgjh

vius ?kj dk Hkjk [k”kkuk\

iÙkksa ij] iwQyksa ij] ix ix

fc[kjs gq, jru gSa ukukA

           cM+s lcsjs euk jgk gS

           dkSu [kq'kh esa ;g nhokyh\

           ou miou esa tyk nh gS

           fdlus nhikoyh fujkyh\

th gksrk] bu vksl d.kksa dks

vatfy esa Hkj ?kj ys vkm¡Q\

                                                budh 'kksHkk fuj[k fuj[k dj

                                                bu ij dfork ,d cukm¡QA

- lksguyky f}osnh

vH;kl

'kCnkFkZ

xw¡Fkuk & fijksuk

mTToy & pedrk gqvk] mtyk

tqxuw & ,d dhM+k (jkr esa mM+us ij bldh nqe ls jks'kuh fudyrh gS)

uHk & vkdk'k] vkleku

tkSgjh & jRuksa dh tk¡p&ij[k djus okyk

[k”kkuk & jQi;k] lksuk&pk¡nh j[kus dk LFkku] dks'k] /ukxkj

jru & jRu

ukuk & vusd

fujkyh & lqanj] euksgj

vatfy & nksuksa gFksfy;ksa dks feykus ls cuus okyh eqnzk

th & eu

'kksHkk & lkSan;Z

fuj[k&fuj[k & ns[k&ns[kdj

cgqewY; & dherh] ewY;oku

1- dfork ls

(d) dfork esa jru fdls dgk x;k gS vkSj os dgk¡&dgk¡ fc[kjs gq, gSa\

([k) vksl d.kksa dks ns[kdj dfo dk eu D;k djuk pkgrk gS\

2- dfork ls vkxs

(d) irk djks fd lqcg osQ le; [kqys LFkkuksa ij vksl dh cw¡nsa oSQls cu tkrh gSa\ bls vius f'k{kd dks crkvksA

([k) D;k vksl] dksgjk vkSj o"kkZ esa dksbZ laca/ gS\ blosQ cuus vkSj gksus osQ dkj.kksa dk irk y

xkvks vkSj mls vius <ax ls fy[kdj f'k{kd dks fn[kkvksA

(x) lwjt fudyus osQ oqQN le; ckn vksl dgk¡ pyh tkrh gS\

bldk mÙkj rqe vius fe=kksa] cM+ksa] iqLrdksa vkSj baVjusV dh lgk;rk ls izkIr djks vkSj f'k{kd dks crkvksA

3- rqEgkjh dYiuk

¶budh 'kksHkk fuj[k&fuj[k dj]

bu ij dfork ,d cukm¡QA¸

dfo vksl dh lqanjrk ij ,d dfork cukuk pkgrk gSA ;fn rqe dfo osQ LFkku ij gksrs] rks dkSu&lh dfork cukrs\ vius euilan fo"k; ij dksbZ dfork cukvksA

4- ekSle dh ckr

(d) rqEgkjs fopkj ls ;g fdl ekSle dh dfork gks ldrh gS\

([k) rqEgkjs izns'k esa dkSu&dkSu ls ekSle vkrs gSa\ mldh lwph cukvksA

(x) rqEgsa dkSu lk ekSle lcls vf/d ilan gS vkSj D;ksa\

5- vatfy esa

¶th gksrk bu vksl d.kksa dks

vatfy esa Hkj ?kj ys vkÅ¡¸

dfo vksl dks viuh vatfy esa Hkjuk pkgrk gSA rqe uhps nh xbZ ph”kksa esa ls fdu ph”kksa dks viuh vatfy esa Hkj ldrs gks\ lgh () dk fpÉ yxkvks-

jsr       vksl       /qvk¡       gok       ikuh       rsy        yM~Mw        xsan

6- myV&isQj

¶gjh ?kkl ij fc[ksj nh gSa

;s fdlus eksrh dh yfM+;k¡\¸

Åij dh iafDr;ksa dks myV&isQj dj bl rjg Hkh fy[kk tk ldrk gS-

¶gjh ?kkl ij ;s eksrh dh yfM+;k¡ fdlus fc[ksj nh gSa\¸

blh rjg uhps fy[kh iafDr;ksa esa myV&isQj dj rqe Hkh mls vius <ax ls fy[kksA

(d) ¶dkSu jkr esa x¡wFk x;k gS

      ;s mTToy ghjksa dh dfM+;k¡\¸

([k) ¶uHk osQ uUgsa rkjksa esa ;s

      dkSu nedrs gSa ;ksa nene\¸

7- 'kCnksa dh igsyh

¶;s mTToy ghjksa dh dfM+;k¡¸

Åij dh iafDr esa mTToy 'kCn esa ^t* o.kZ nks ckj vk;k gS ijarq ;g vk/k (T ) gSA rqe Hkh blh rjg osQ oqQN vkSj 'kCn [kks”kksA è;ku jgs] ml 'kCn esa dksbZ ,d o.kZ (v{kj) nks ckj vk;k gks] exj vk/k&vk/kA bl dke esa rqe 'kCndks'k dh lgk;rk ys ldrs gksA ns[ksa] dkSu lcls vf/d 'kCn [kks”k ikrk gSA

8- dkSu ,slk

uhps fy[kh ph”kksa tSlh oqQN vkSj ph”kksa osQ uke lkspdj fy[kks-

(d) tqxuw tSls pedhys ---------------------------------------

([k) rkjksa tSls f>yfey ---------------------------------------

(x) ghjksa tSls nedrs ---------------------------------------

(?k) iwQyksa tSls lqanj ---------------------------------------

9- cw>ks eryc

¶th gksrk] bu vksl d.kksa dks

vatfy esa Hkj ?kj ys vkm¡Q¸

^?kj* 'kCn dk iz;ksx ge dbZ rjg ls dj ldrs gSaA tSls-

(d) og ?kj x;kA ---------------------------------------

([k) ;g ckr esjs eu esa ?kj dj xbZA ---------------------------------------

(x) ;g rks ?kj&?kj dh ckr gSA ---------------------------------------

(?k) vkvks] ?kj&?kj [ksysaA ---------------------------------------

^cl* 'kCn dk iz;ksx dbZ rjg ls

fd;k tk ldrk gSA rqe ^cl*

'kCn dk iz;ksx djrs gq, vius

eu ls oqQN okD; cukvksA

(laosQr-cl] cl&cl] cl bruk lk)

10- :i cnydj

ped-peduk-pedkuk-pedokuk

^ped* 'kCn osQ oqQN :i Åij fy[ks gSaA blh izdkj uhps fy[ks 'kCnksa dk :i cnydj lgh txg ij Hkjks&

ned] ljd] fc[kj] cu

(d) ”kjk lk jxM+rs gh ghjs us --------------------------------------- 'kq: dj fn;kA

([k) rqe ;g deh”k fdl n”khZ ls --------------------------------------- pkgrs gks\

(x) lk¡i us /hjs&/hjs --------------------------------------- 'kq: dj fn;kA

(?k) ydh dks ew[kZ --------------------------------------- rks cgqr vklku gSA

(Ä) rqeus vc f[kykSus --------------------------------------- can dj fn,\



RELOAD if chapter isn't visible.