प्रहेलिकाः ¹पहेलियाँ मनोर×जन की प्राचीन विध है। ये प्रायः विश्व की सारी भाषाओं में उपलब्ध्हैं। संस्कृत के कवियों ने इस परम्परा को अत्यन्त समृ( किया है। पहेलियाँ जहाँ हमें आनन्द देती हैं, वहीं समझ - बूझ की हमारी मानसिक व बौिक प्रिया को तीव्रतरबनाती हंै। इस पाठ में संस्कृत प्रहेलिका ;पहेलीद्ध बूझने की परम्परा के वुफछ रोचक उदाहरण प्रस्तुत किए गए हैं।ह् कस्तूरी जायते कस्मात्? को हन्ित करिणां वुफलम्? ¯क वुफयार्त् कातरो यु(े? मृगात् ¯सहः पलायते ।।1।। सीमन्ितनीषु का शान्ता? राजा को{भूत् गुणोत्तमः? विद्वद्भ्िाः का सदा वन्द्या? अत्रौवोक्तं न बुध्यते ।।2।। वंफ स×जघान कृष्णः? का शीतलवाहिनी गघõा? के दारपोषणरताः? वंफ बलवन्तं न बाध्ते शीतम् ।।3।। वृक्षाग्रवासी न च पक्ष्िाराजः त्रिानेत्राधरी न च शूलपाण्िाः। त्वग्वस्त्राधरी न च सि(योगी भोजनान्ते च ¯क पेयम्? जयन्तः कस्य वै सुतः? कथं विष्णुपदं प्रोक्तम्? तक्रं शक्रस्य दुलर्भम् ।।5।। हन्ित - मारता/मारती है कातरः - कमजोर सीमन्ितनीषु - नारियों में को{भूत् ;कः$अभूत्द्ध - कौन हुआ स×जघान - मारा वंफस×जघान ;वंफसं$जघानद्ध - वंफस को मारा शीतलवाहिनी - ठंडी धरा वाली दारपोषणरताः - पत्नी के पोषण में संलग्न केदारपोषणरताः - खेत के कायर् में संलग्न वंफबलवन्तम् - वह व्यक्ित जिसके पास वंफबल है वृक्षाग्रवासी - पेड़ के उफपर रहने वाला ;वृक्ष$अग्रवासीद्ध पक्ष्िाराजः - पक्ष्िायों का राजा ;गरुड़द्ध त्रिानेत्राधरी - तीन नेत्रों वाला ;श्िावद्ध शूलपाण्िाः - जिनके हाथ में त्रिाशूल है ;शंकरद्ध त्वग् - त्वचा, छाल बिभ्रन् - धरण करता हुआ विष्णुपदम् - स्वगर्, मोक्ष तक्रम् - छाछ, मठा शक्रस्य - इन्द्र का 1.श्लोकांशेषु रिक्तस्थानानि पूरयत - ;कद्ध सीमन्ितनीषु का राजा गुणोत्तमः। ;खद्ध वंफ स×जघान ...............................................का गघा?õ;गद्ध के ...............................................वंफ न बाधते शीतम्।। ;घद्ध वृक्षाग्रवासी न च न च शूलपाण्िाः। 2.श्लोकांशान् योजयत - क ख ¯क वुफयार्त् कातरो यु(े अत्रौवोक्तं न बुध्यते। विद्वद्भ्िाः का सदा वन्घा तक्रं शक्रस्य दुलर्भम्। वंफ स×जघान कृष्णः 3.उपयुक्तकथनानां समक्षम् ‘आम्’ अनुपयुक्तकथनानां समक्षं न इति लिखत - यथा - ¯सहः करिणां वुफलं हन्ित। ;कद्ध कातरो यु(े युद्ध्यते। ;खद्ध कस्तूरी मृगात् जायते। ;गद्ध मृगात् ¯सहः पलायते। ;घद्ध वंफसः जघान कृष्णम्। ;घद्ध तक्रं शक्रस्य दुलर्भम्। ;चद्धजयन्तः कृष्णस्य पुत्राः। आम् 4.अधेलिख्िातानां पदानां लिघं विभक्ितं वचन×च लिखत - õपदानि यथा - करिणाम् कस्तूरी यु(े सीमन्ितनीषु बलवन्तम् शूलपाण्िाः शक्रस्य लिघõम् विभक्ितः वचनम् पुँल्िलघõम् षष्ठी बहुवचनम् ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... ............... 5.कोष्ठकान्तगर्तानां पदानामुपयुक्तविभक्ितप्रयोगेन अनुच्छेदं पूरयत - एकः काकः ................;आकाशद्ध डयमानः आसीत्। तृषातर्ः सः ................;जलद्ध अन्वेषणं करोति। तदा सः ;घटद्ध अल्पं ;जलद्ध पश्यति। सः ;उपलद्ध आनीय ;घटद्ध पातयति। जलं ;घटद्ध उपरि आगच्छति। ;काकद्ध सानन्दं जलं पीत्वा तृप्यति। योग्यता - विस्तारः प्रस्तुत पाठ में दी गयी पहेलियों के अतिरिक्त वुफछ अन्य पहेलियाँ अधेलिख्िात हैं। उन्हें पढ़कर स्वयं समझने की कोश्िाश करें और ज्ञानवध्र्न करें यदि न समझ पायें तो उत्तर देखें। ;कद्ध चक्री त्रिाशूली न हरो न विष्णुः। महान् बलिष्ठो न च भीमसेनः। स्वच्छन्दगामी न च नारदो{पि सीतावियोगी न च रामचन्द्रः।। ;खद्धन तस्यादिनर् तस्यान्तः मध्ये यस्तस्य तिष्ठति। तवाप्यस्ित ममाप्यस्ित यदि जानासि तद्वद।। ;गद्ध अपदो दूरगामी च साक्षरो न च पण्िडतः। अमुखः स्पुफटवक्ता च यो जानाति स पण्िडतः।। उत्तर - ;कद्ध वृषभः, ;खद्ध नयनम्, ;गद्ध पत्राम्

RELOAD if chapter isn't visible.