कः रक्षति कः रक्ष्िातः ¹प्रस्तुत पाठ पयार्वरण पर केन्िद्रत है। हमारे जीवन में प्लास्िटक का इस सीमा तक प्रवेश हो चुका है कि हम इसके बिना दैनिक जीवन चलाने की कल्पना भी नहीं कर पाते जबकि प्लास्िटक पयार्वरण के लिए घातक है। प्लास्िटक के बढ़ते हुए उपयोग परप्रश्नचिÉ लगाते हुए इस पाठ में पयार्वरण तथा प्रदूषण की समस्या के प्रति संवेदनशील समझ विकसित करने का प्रयास किया गया है।ह् ;काश्चन बालिकाः भ्रमणाय निगर्ताः परस्परमालपन्ितद्ध रिप×ची - परमिन्दर्! परमिन्दर्! एहि आगच्छ, उपवनं प्रविशामः। परमिन्दर् - अरे! उपवनस्य द्वारे एव प्लास्िटकस्यूतकानि क्ष्िाप्तानि इतस्ततः कचनार् - जनाः प्रमादं वुफवर्न्ित। प्लास्िटकपुटकेषु खाद्यवस्तूनि गृहीत्वा भक्षयन्ित, परं तानि पुटकानि मागेर् यत्रा वुफत्रापि क्ष्िापन्ित। रोजलिन् - महती इयं समस्या। अपि प्रविशामः? रिप×ची - अस्तु प्रविशामः। ;सवार्ः उपवने प्रविशन्ित।द्ध कचनार् - वुफत्रा उपविशामः? रिप×ची - अस्िमन् काष्ठपीठे उपविशामः। ;सवार्ः उपविशन्ितद्ध रिप×ची - अपि पश्यथ, वयं यत्रोपविष्टाः तत्रा कानि वस्तूनि सन्ित? परमिन्दर् - आम्। आम्। बहूनि वस्तूनि परितो विकीणार्नि। कचनार् - यथा स्यूतः, जलवूफपी, वफन्दुकम् इत्यादीनि। रोजलिन् - हला, आत्मानमपि पश्य। चेनम्मा - आम्। आम्। पश्यामि एव। मम सविध्े कघड्ढतम्, वुफण्डलम्, केशबन्धः, घटिप‘िका, कघड्ढणम् इत्यादीनि सवार्ण्िा विराजन्ते। किमसि वक्तुकामा? रिप×ची - इदं ध्यातव्यं यद् एतानि सवार्ण्िा वस्तूनि प्रायः प्लास्िटकेन निमिर्तानि सन्ित। कचनार् - पूव± तु प्रायः कापार्सेन, चमर्णा, लौहेन, लाक्षया, मृिाकया काष्ठेन वा निमिर्तानि वस्तूनि एव प्राप्यन्ते स्म। अध्ुना तत् स्थाने प्लास्िटवफ - निमिर्तानि वस्तूनि परितः विकीणार्नि सन्ित। एतानि अल्पमूल्यानि अपि सन्ित। चेनम्मा - अहो! कलमस्तु विस्मृतः। को{पि एतत् अनुमातुं शक्नोति यत् एकस्िमन् कलमे कति मसियष्टयः प्रयुज्यन्ते। परमिन्दर् - अनुमीयते यत् प्रत्येवंफ छात्रा प्रतिसप्ताहं स्वकलमे एकां मसियष्िटं पूरयति। तात्पयर्म् इदमस्ित यत् एकस्िमन्नेव वषेर् न्यूनान्न्यूनं प्रायः प×चाशत् मसियष्टयः तया प्रयुक्ताः भवन्ित। चेनम्मा - परं ¯क वयम् एकस्िमन् वषेर् एकस्यैव कलमस्य प्रयोगं वुफमर्ः? सामूहिकस्वरः - नहि नहि। वषेर् तु प्रायशः बहवः कलमाः विलुप्यन्ते। रिप×ची - एका छात्रा त्रिाषु मासेषु एवंफ कलमं क्रीणाति। अथार्त् एकस्िमन् वषेर् चतुरः कलमान् क्रीणाति। रोजलिन् - अपरं च कलमेन सह मसियष्िटः अपि प्लास्िटकावरणे समावेश्यते। तहिर् आहत्य प्रतिवषर्म् एका छात्रा प्रायः प×चाशन्मसियष्टीनां चतुभ्िर्ाः कलमैः चतुःप×चाशिः आवरणैः प्रयोगं करोति। कचनार् - भवतु, बहुध प्रयुक्तस्य प्लास्िटकस्य दूरगामिनः घातकान् परिणामान् वयं न द्रष्टुं शक्नुमः। प्लास्िटवंफ कदापि न गलति, न च अपक्षीयते।यथा - अन्यानि वस्तूनि विनश्य मृिाकायां विलीयन्ते। चेनम्मा - प्लास्िटकस्य मृिाकायां लयाभावात् अस्मावंफ पयार्वरणस्य कृते महती क्षतिः भवति। रिप×ची - एकेन पदाथेर्न अपरः पदाथर्ः सृज्यते, अथवा विनष्टं वस्तु मृिाकायां मिलति। परं प्लास्िटके इयं प्रिया असम्भवा एव। परमिन्दर् - कल्पयतु, यदि शतं वषार्ण्िा यावत् प्लास्िटक - निमिर्तानां पदाथार्नां निमार्णप्रिया पृथ्िाव्यां प्रचलिष्यति तहिर् किं स्यात्? ;सवार्ः सखेदं विमृशन्ित।द्ध रोजलिन् - अत्रा विषादेन किम्? सवर्प्रथमं तु श्िाक्षकाणां सहयोगेन प्लास्िटकस्य विविध्पक्षाः विचारणीयाः। अस्मावंफ प्रयासो{पि पयार्वरणस्य रक्षणे अपेक्ष्िातः। शब्दाथार्ः काश्चन ;काः$चनद्ध - वुफछ चचर्यन्ित - चचार् करते हैं पुटकेषु - छोटी थैली ;पाउचद्ध स्यूतः - थैला/थैली जलवूफपी - पानी की बोतल हला - सखी के लिए सम्बोध्न कघड्ढतम् - वंफघा/वंफघी कघड्ढणम् - वंफगन कापार्सेन - कपास से लाक्षया - लाख से मृिाकया - मि‘ी से विकीणार्नि - बिखरी हुइर्/पैफली हुइर् प्रमादम् - आलस्य काष्ठपीठे - लकड़ी की बैंच पर आहत्य - वुफल मिलाकर मसियष्ट्या - रिपिफल से न्यूनान्न्यूनम् ;न्यूनात्$न्यूनम्द्ध - कम से कम प्रायशः - प्रायः, लगभग विलुप्यन्ते - लुप्त हो जाते हैं अपक्षीयते - नष्ट हो जाता है विलीयन्ते - विलीन हो जाते हैं लयाभावात् ;लय$अभावात्द्ध - लीन/नष्ट न होने के कारण सृज्यते - निमिर्त किया जाता है कल्पयतु - कल्पना कीजिए विमृशन्ित - विचार करते हैं 1.उच्चारणं वुफरुतμ प×चाशत् षष्िटः सप्ततिः अशीतिः नवतिः त्रिाप×चाशत् द्वाषष्िटः चतुस्सप्ततिः द्वड्ढशीतिः त्रिानवतिः प×चप×चाशत् चतुष्षष्िटः प×चसप्ततिः चतुरशीतिः प×चनवतिः सप्तप×चाशतअष्टाप×चाशत् नवषष्िटः अष्टासप्ततिः नवाशीतिः शतम् 2.अधेलिख्िातेषु पदेषु प्रयुक्तां विभक्ितं वचनं च लिखतμ पदानि विभक्ितः वचनम् यथा - भ्रमणाय चतुथीर् एकवचनम् वस्तूनि ................................प्लास्िटकेन ...............................विकीणार्नि ...............................मसियष्ट्या ...............................स्यूतकेषु ................................काष्ठपीठे ...............................पृथ्िाव्याम् ...............................3.एकपदेन उत्तरतμ ;कद्ध मसियष्टी - जलवूफपी - प्रभृतिनि वस्तूनि केन पदाथेर्न निमिर्तानि? ;खद्ध उपवनस्य द्वारे कानि क्ष्िाप्तानि सन्ित? ;गद्ध मृिाकायां ¯क वस्तु न कदापि विनश्यति? ;घद्ध अस्मावंफ प्रयासः कस्य रक्षणे अपेक्ष्िातः? प×चषष्िटः सप्तसप्ततिः प×चाशीतिः षण्णवतिः ्45 प्रश्नानाम् उत्तराण्िा लिखतμ ;कद्ध चेनम्मायाः सविध्े कानि वस्तूनि आसन्? ;खद्ध पूव± प्रायः केन पदाथेर्न निमिर्तानि वस्तूनि प्राप्यन्ते स्म? ;गद्ध कानि कानि वस्तूनि पयार्वरणं दूषयन्ित? ;घद्ध प्लास्िटकस्य मृिाकायां लयाभावात् ¯क भवति? अधेलिख्िातानां पदानां लकारं पुरुषं वचन×च लिखत - पदानि धतुः लकारः पुरुषः यथा - सन्ित अस् लट्लकारः प्रथमपुरुषः वचनम् बहुवचनम् वुफमर्ः ........... ........... ........... ........... क्रीणाति ........... ........... ........... ........... पश्य ........... ........... ........... ........... आगच्छ ........... ........... ........... ........... प्रचलिष्यति ........... ........... ........... ........... 6 म×जूषातः अघड्ढानां कृते पदानि चिनुत - चतुःप×चाशत् सप्तषष्िटः द्वासप्ततिः चनुनर्वतिः सप्तनवतिः प×चसप्ततिः षडशीतिः अष्टानवतिः 67 .................... 86 .................... 98 .................... 97 .................... 54 .................... 72 .................... संस्कृत में अकारान्त स्त्राीलिघõ शब्द के रूप प्राप्त नहीं होते हैं। लेकिन लड़कियों के अकारान्त नाम होते हैं। इनके उदाहरण हैं - परमिन्दर, रोजलिन, कचनार आदि। यहाँ प्रश्नउठता है कि किस रूप में इन नामों को संस्कृत में लिखा जाए। इसलिये इस पाठ मेंव्य×जनान्त ;परमिन्दर्द्ध रूप में रखा गया है। संस्कृत में इन्हें व्य×जनान्त ;परमिन्दर्, रोजलिन्, कचनार्द्ध मानकर रूप चलाये जाने चाहिए। परियोजना - कायर्म् चलिए, आगामी अवकाश में एक अभ्यास करते हैं। सुबह जगने से लेकर रात सोने के समय तक बाजार से आनेवाली और प्रतिदिन काम में आने वाली वस्तुओं को ध्यानपूवर्कदेखें और इनकी एक सूची बनाएँ। उनके लिए संस्कृत में क्या प्रयोग होता है यह जानने का प्रयास करें। सूची में हर वस्तु के नाम के आगे यह लिखें कि वह किस चीश की बनी है। इसमें प्लास्िटक की बनी हुइर् चीशों को छाँटकर एक जगह लिखें और यह आकलन करने का प्रयत्न करें कि प्रतिदिन हम कितनी मात्रा में प्लास्िटक का उपयोग करते हैं। संस्कृत में वाक्य में पहले ‘अपि’ लगाने से वाक्य प्रश्न वाचक हो जाता है। जैसे - अपि प्रविशामः? क्या हम भीतर चलें? धतु - संयुक्त तुमुन् प्रत्यय के अनुस्वार का लोप करके उसके आगे कामा/कामः जोड़ने से अमुक कायर् करना चाहने वाली/चाहने वाला - यह मुहावरेदार प्रयोग होता है।जैसे - गन्तुकामा, वक्तुकामा, कत्तर्ुकामः इत्यादि। इस प्रिया के आधर पर नीचे लिखेवाक्यों का संस्कृत में अनुवाद करें - ;कद्ध राम क्या कहना चाहता है? ;खद्ध िस्तीना कहाँ जाना चाहती है? ;गद्ध वह करना क्या चाहता है?

RELOAD if chapter isn't visible.