भगवदज्जुकम् ¹भगवदज्जुकम् संस्कृत का एक प्रसि( प्रहसन है। इसके रचयिता बोधयन कहे गये हैं। इसमें वसन्तसेना नामक गण्िाका अपनी सेविका परभृतिका के साथ उद्यान में विहार के लिए आती है। उसका प्रेमी रामिलक उससे मिलने वहाँ आता है। इसी बीच यम के द्वारा भेजा गया दूत जिसे वसन्तसेना नाम की किसी अन्य स्त्राी के प्राण ले जाना है, सपर् बनकर गलती से इस वसन्तसेना को डस लेता है और उसका जीव लेकर यमलोक चला जाता है। इसी उद्यान में एक परिव्राजक ;संन्यासीद्ध अपने श्िाष्य के साथ आये हुए हैं। वसन्तसेना को मृत देखकर श्िाष्य शाण्िडल्य दुःखी हो जाता है। तब परिव्राजक योग से अपना जीव गण्िाका की काया में प्रवेश करा देते हैं। गण्िाका जीवित हो जाती है। उधर गलत जीव लाने पर यमराज यमपुरुष को डाँट - डपटकर वापस भेजते हैं। उद्यान में वापस आकर यमपुरुष देखता है कि जिस गण्िाका के प्राण वह ले गया था वह संन्यासी की तरह सबको उपदेश दे रही है। तब यमपुरुष संन्यासी के खेल को आगे बढ़ाने के लिए गण्िाका का जीव संन्यासी के देह में डाल देता है। गण्िाका संन्यासी की तरह बोलती है, संन्यासी गण्िाका की तरह - इस उलट पेफर से इस नाटक में एक विसंगत हास्यपूणर् एवं रोचक स्िथति बन जाती है।ह् ;ततः प्रविशन्ित एकतः परिव्राजकस्य जीवेन आविष्टा वसन्तसेना, चेटी, रामिलकश्चऋ परिव्राजकस्य निजीर्वदेहेन सह श्िाष्यः शाण्िडल्यः अपरतः अन्यया चेट्या सह वैद्यःद्ध वैद्यः - वुफत्रा सा? चेटी - एषा खलु अज्जुका न तावत् सत्त्वस्िथता। वैद्यः - अरे इयं सपेर्ण दष्टा। चेटी - कथमायोर् जानाति? वैद्यः - महान्तं विकारं करोतीति। विषतन्त्राम् आरभे। वुफण्डल - वुफटिलगामिनि! मण्डलं प्रविश प्रविश। वासुकिपुत्रा! तिष्ठ तिष्ठ। श्रू श्रू। अहं ते सिरावेधं करिष्यामि। वुफत्रा वुफठारिका। गण्िाका - मूखर् वैद्य! अलं परिश्रमेण। वैद्यः - पित्तमप्यस्ित। अहं ते पित्तं वातं कपंफ च नाशयामि। रामिलकः - भोः! ियतां यत्नः। न खल्वकृतज्ञा वयम्। वैद्यः - गुलिकाः आनयामि। ;निष्क्रान्तःद्ध ;ततः प्रविशति यमपुरुषःद्ध यमपुरुषः - भोः! भत्िसर्तो{हं यमेन। न सा वसन्तसेनेयं क्ष्िाप्रं तत्रौव नीयताम्। अन्या वसन्तसेना या क्षीणायुस्तामिहा{नय।। यावदस्याश्शरीरमग्िनसंयोगं न स्वीकरोति तावत्सप्राणामेनां करोमि। ;विलोक्यद्ध अये! उत्िथता खल्िवयम्। भो! किन्नु खल्िवदम्। अस्या जीवो मम करे उत्िथतैषा वराघõना। आश्चय± परमं लोके भुवि पूव± न दृश्यते।। अये! अयमत्राभवान् योगी परिव्राजकः क्रीडति। किमिदानीं करिष्ये। भवतु, दृष्टम्। अस्या गण्िाकाया आत्मानं परिव्राजकशरीरे न्यस्य अवसिते कमर्ण्िा यथास्थानं विनियोजयामि। ;तथा कृत्वा निष्क्रान्तःद्ध परिव्राजकः - ;उत्थाय गण्िाकायाः स्वरेणद्ध परभृतिके! परभृतिके! शाण्िडल्यः - अरे! प्रत्यागतप्राणः खलु भगवान्। परिव्राजकः - वुफत्रा वुफत्रा रामिलकः। रामिलकः - भगवन्नयमस्िम। शाण्िडल्यः - भगवन् किमिदम्? रुद्राक्षग्रहणोचितः वामहस्तः शघ्खवलयपूरित इव मे प्रतिभाति। नैव नैव। परिव्राजकः - रामिलक! आलिघõ माम्। ;ततः प्रविशति वैद्यःद्ध वैद्यः - गुलिकाः मया आनीताः। उदकम् उदकम्। चेटी - इदम् उदकम्। वैद्यः - गुलिकाः अवघ‘यामि। गण्िाका - ;संन्यासिनः स्वरेणद्ध मूखर् वैद्य! जानासि कतमेन सपेर्ण इयं स्त्राी दष्टा? वैद्यः - अरे, इयं प्रेतेन आविष्टा। गण्िाका - शास्त्रां जानासि? वैद्यः - अथ किम्? गण्िाका - ब्रूहि वैद्यशास्त्राम्। वैद्यः - शृणोतु भवती। वातिकाः पैिाकाश्चैव श्लैष्िमकाश्च महाविषाः। गण्िाका - अयमपशब्दः। त्रायः सपार् इति वक्तव्यम्। ‘त्राीण्िा’ नपुंसवंफ भवति। वैद्यः - अरे, अरे! इयं वैयाकरणसपेर्ण खादिता भवेत्। गण्िाका - कियन्तो विषवेगाः? वैद्यः - विषवेगाः शतम्। गण्िाका - न न, सप्त ते विषवेगाः। तद्यथा। रोमा×चो मुखशोषश्च वैवण्य± चैव वेपथुः।हिक्का श्वासश्च संमोहः सप्तैता विषविियाः।। वैद्यः - न खल्वस्मावंफ विषयः। नमो भगवत्यै। गच्छामि तावदहम्। ;निष्क्रान्तःद्ध ;प्रविश्यद्ध यमपुरुषः - भगवन्मुच्यतां गण्िाकायाः शरीरम्। गण्िाका - अस्तु। यमपुरुषः - यथा अस्याः जीवविनिमयं कृत्वा यावदहमपि स्वकायर्मनुतिष्ठामि। ;तथा कृत्वा निष्क्रान्तःद्ध परिव्राजकः - श्िावमस्तु सवर्जगतां परहितनिरता भवन्तु भूतगणाः। दोषाः प्रयान्तु नाशं सवर्त्रा सुखी भवतु लोकः।। अज्जुका - सम्मान्य महिला/गण्िाका के लिये संज्ञा और संबोध्न एकतः - एक ओर परिव्राजकस्य - संन्यासी का जीवेन - प्राण के साथ आविष्टा - प्रविष्ट हुइर् चेटी - सत्त्वस्िथता - दष्टा - विषतन्त्राम् - आरभे - वुफण्डलवुफटिलगामिनि! - मण्डलम् - सिरावेध्म् - वुफठारिका - पित्तम्, वातम् - ियताम् - यत्नः - अकृतज्ञा - गुलिकाः - निष्क्रान्तः - भत्िसर्तः - क्ष्िाप्रम् - नीयताम् - क्षीणायुः ;क्षीण$आयुःद्ध - इह - अग्िनसंयोगम् - दासी, नौकरानी प्राण में स्िथत डस ली गयी झाड़ - पूँफक को/विष भगाने की विद्या को आरम्भ करता हूँ/शुरू करता हूँ हे वुफण्डल के समान टेढ़ी चाल वाली ओझाओं के द्वारा साँप पकड़ने के लियेपृथ्वीतल पर बनायी जाने वाली वृत्ताकारआकृति नाड़ी काटना छोटी वुफल्हाड़ी पित्त एवं वात ;वायुद्ध से उत्पन्न होने वाले रोग करें श्रम, परिश्रम, मेहनत कृतघ्न दवाइर् की गोलियाँ निकल गया डाँटा गया शीघ्र ले जायें जिसकी आयु समाप्त हो गयी है यहाँ आग से संयोग उत्िथता - उठ गयी वराघõना ;वर$अघõनाद्ध - श्रेष्ठ नारी भुवि - पृथ्वी पर न्यस्य - रखकर अवसिते - समाप्त होने पर प्रत्यागतप्राणः - जिसका प्राण लौट आया है शघ्खवलयपूरित - शघ्ख निमिर्त कड़ा से युक्त अवघ‘यामि - घोंटता हूँ/पीसता हूँ कतमेन - किस कियन्तः - कितने मुखशोषः - मुँह का सूखना वैवण्यर्म् - चेहरे का रंग उड़ना वेपथुः - काँपना/कँपकँपी हिक्का - हिचकी संमोहः - बेहोशी, मूच्छार् विषवेगाः - विष के प्रभाव विषविियाः - विष के विकार मुच्यताम् - छोड़ दें उपगम्य - पास जाकर जीवविनिमयम् - प्राण की अदला - बदली भूतगणाः - प्राण्िागण प्रयान्तु - जायें 1 अधेलिख्िातानां प्रश्नानाम् उत्तराण्िा एकपदेन लिखत - ;कद्ध गण्िाकायाः नाम किम्? ;खद्ध परिव्राजकस्य श्िाष्यः कः आसीत्? ;गद्ध यमदूतः गण्िाकायाः जीवं कस्य शरीरे निदधति? ;घद्ध परहितनिरता के भवन्तु? 2 सन्िध्विच्छेदं वुफरुत - यथा - तत्रौव तत्रा $ एव भगवन्नयम् ............... $ ............... श्वासश्च खल्वकृतज्ञाः .............................. $ $ .............................. सप्तैताः ............... $ ............... करोतीति ............... $ ............... 3 उदाहरणानुसारं अव्ययपदानि चिनुत - यथा - राध अपि नृत्यति। ;कद्ध त्वं कदा गृहं गमिष्यसि। ;खद्ध अध्ुना कः समयः। ;गद्ध महात्मागान्ध्ी सदा सत्यं वदति स्म। ;घद्ध अहं श्वः विद्यालयं गमिष्यामि। ;घद्ध इदानीं त्वं श्लोवंफ पठ। अपि ........................................................................... 4.अधेलिख्िातानि कथनानि कः/का वंफ/कां प्रति कथयाति? कः/का वंफ/कां प्रति ;कद्ध मूखर् वैद्य! अलं परिश्रमेण। ...............................;खद्ध वुफत्रा वुफत्रा रामिलकः। ...............................;गद्ध विषवेगाः शतम्। ...............................;घद्ध गुलिकाः मया आनीताः। ...............................;घद्ध इदम् उदकम्। ...............................;चद्ध अरे! प्रत्यागतप्राणः खलु भगवान्। ...............................5.विपरीताथर्काः शब्दाः लेखनीयाः - गुणाः स्वीकारः दक्ष्िाणहस्तः अनन्या कृतज्ञः 6.अधेलिख्िातानि पदानि प्रयुज्य वाक्यानि रचयत - गुलिकाः - ...........................................................................वुफठारिका - ...........................................................................क्ष्िाप्रम् - ........................................................................... - ...........................................................................यत्नः लोके - ...........................................................................7. उदाहरणानुसारेण पदनिमार्णं वुफरुत - मूलशब्दाः वचनम् पदानि यथा - श्िाल्िपन् प्रथमा - एकवचने श्िाल्पी ध्निन् द्वितीया - एकवचने ज्ञानिन् तृतीया - एकचने महत्त्वाकांक्ष्िान् द्वितीया - बहुवचने बहुभाष्िान् तृतीया - बहुवचने दण्िडन् द्वितीया - बहुवचने योग्यता - विस्तारः पयार्यवाचिनः शब्दाः सपर्ः - भुजगः, व्यालः, विषध्रः चक्री, अहिः, पवनाशनः, भोगी। लोकः - संसारः, जगत्, भुवनम्, विश्वम्। शरीरम् - देहः, तनुः, गात्राम्, वपुः, कायः, विग्रहः। भूः - ध्रा, पृथ्वी, ध्रणी, अचला, अनन्ता, ध्रित्राी, वसुध, वसुन्ध्रा, वसुमती। क्ष्िाप्रम् - द्रुतम्, शीघ्रम्, त्वरितम्, सत्वरम्, चपलम्, तूणर्म्, अविलम्िबतम्। ’ प्रहसन रूपक का भेद है जो हास्यरस प्रधन होता है। भगवदज्जुकम् संस्कृत नाट्यसाहित्य का प्रसि( प्रहसन है। यह हमारे देश में तथा विदेशों में भी मूल संस्कृत तथा अन्य भाषाओं में अनूदित हो कर विश्व के श्रेष्ठ नाट्यनिदेर्शकों के निदेर्शन में मंच पर अनेक बार खेला गया है। इस प्रहसन का अभ्िानय केरल के मंदिरों में प्राचीन काल से ही पारंपरिक रूप से होता रहा है। इसकी दाशर्निक व आध्यात्िमक व्याख्या भी की जाती रही है।’ राष्िट्रय नाट्य विद्यालय ;एन्.एस्.डीद्ध, दिल्ली के पाठ्यक्रम में यह स्वीकृत है। ’ दूरदशर्न धरावाहिक के रूप में ;सात कडि़यों मेंद्ध भी इसका प्रसारण हो चुका है।

>Chap-03>

Our Past -3

तृतीयः पाठः

डिजीभारतम्




[प्रस्तुत पाठ "डिजिटलइण्डिया" के मूल भाव को लेकर लिखा गया निबन्धात्मक पाठ है। इसमें वैज्ञानिक प्रगति के उन आयामों को छुआ गया है, जिनमें हम एक "क्लिक" द्वारा बहुत कुछ कर सकते हैं। आज इन्टरनेट ने हमारे जीवन को कितना सरल बना दिया है। हम भौगोलिक दृष्टि से एक दूसरे के अत्यन्त निकट आ गए हैं। इसके द्वारा जीवन के प्रत्येक क्रियाकलाप सुविधाजनक हो गए हैं। एेसे ही भावों को यहाँ सरल संस्कृत में व्यक्त किया गया है।]



अद्य सम्पूर्णविश्वे "डिजिटलइण्डिया" इत्यस्य चर्चा श्रूयते। अस्य पदस्य कः भावः इति मनसि जिज्ञासा उत्पद्यते। कालपरिवर्तनेन सह मानवस्य आवश्यकताऽपि परिवर्तते। प्राचीनकाले ज्ञानस्य आदान-प्रदानं मौखिकम् आसीत्, विद्या च श्रुतिपरम्परया गृह्यते स्म। अनन्तरं तालपत्रोपरि भोजपत्रोपरि च लेखनकार्यम् आरब्धम्। परवर्तिनि काले कर्गदस्य लेखन्याः च आविष्कारेण सर्वेषामेव मनोगतानां भावानां कर्गदोपरि लेखनं प्रारब्धम्। टङ्कणयन्त्रस्य आविष्कारेण तु लिखिता सामग्री टङ्किता सती बहुकालाय सुरक्षिता अतिष्ठत्। वैज्ञानिकप्रविधेः प्रगतियात्रा पुनरपि अग्रे गता। अद्य सर्वाणि कार्याणि सङ्गणकनामकेन यन्त्रेण साधितानि भवन्ति। समाचार-पत्राणि, पुस्तकानि च कम्प्यूटरमाध्यमेन पठ्यन्ते लिख्यन्ते च। कर्गदोद्योगे वृक्षाणाम् उपयोगेन वृक्षाः कर्त्यन्ते स्म, परम् सङ्गणकस्य अधिकाधिक-प्रयोगेण वृक्षाणां कर्तने न्यूनता भविष्यति इति विश्वासः। अनेन पर्यावरणसुरक्षायाः दिशि महान् उपकारो भविष्यति।


अधुना आपणे वस्तुक्रयार्थम् रूप्यकाणाम् अनिवार्यता नास्ति। "डेबिट कार्ड", "क्रेडिट कार्ड" इत्यादयः सर्वत्र रूप्यकाणां स्थानं गृहीतवन्तः। वित्तकोशस्य (बैंकस्य) चापि सर्वाणि कार्याणि सङ्गणकयन्त्रेण सम्पाद्यन्ते। बहुविधाः अनुप्रयोगाः (APP) मुद्राहीनाय विनिमयाय (Cashless Transaction) सहायकाः सन्ति।



कुत्रापि यात्रा करणीया भवेत् रेलयानयात्रापत्रस्य, वायुयानयात्रापत्रस्य अनिवार्यता अद्य नास्ति। सर्वाणि पत्राणि अस्माकं चलदूरभाषयन्त्रे ‘ई-मेल’ इति स्थाने सुरक्षितानि भवन्ति यानि सन्दर्श्य वयं सौकर्येण यात्रायाः आनन्दं गृह्णीमः। चिकित्सालयेऽपि उपचारार्थं रूप्यकाणाम् आवश्यकताद्य नानुभूयते। सर्वत्र कार्डमाध्यमेन, ई-बैंकमाध्यमेन शुल्कं प्रदातुं शक्यते।



तद्दिनं नातिदूरम् यदा वयम् हस्ते एकमात्रं चलदूरभाषयन्त्रमादाय सर्वाणि कार्याणि साधयितुं समर्थाः भविष्यामः। वस्त्रपुटके रूप्यकाणाम् आवश्यकता न भविष्यति। ‘पास्बुक’ चैक्बुक’ इत्यनयोः आवश्यकता न भविष्यति। पठनार्थं पुस्तकानां समाचारपत्राणाम् अनिवार्यता समाप्तप्राया भविष्यति। लेखनार्थम् अभ्यासपुस्तिकायाः कर्गदस्य वा, नूतनज्ञानान्वेषणार्थं शब्दकोशस्याऽपि आवश्यकता न भविष्यति। अपरिचित-मार्गस्य ज्ञानार्थं मार्गदर्शकस्य मानचित्रस्य आवश्यकतायाः अनुभूतिः अपि न भविष्यति। एतत् सर्वं एकेनेेव यन्त्रेण कर्तुं, शक्यते। शाकादिक्रयार्थम्, फलक्रयार्थम्, विश्रामगृहेषु कक्षं सुनिश्चितं कर्तुं, चिकित्सालये शुल्कं प्रदातुम्, विद्यालये महाविद्यालये चापि शुल्कं प्रदातुम्, किं बहुना दानमपि दातुं चलदूरभाषयन्त्रमेव अलम्। डिजीभारतम् इति अस्यां दिशि वयं भारतीयाः द्रुतगत्या अग्रेसरामः।


शब्दार्थाः

जिज्ञासा - जानने की इच्छा

उत्पद्यते - उत्पन्न होता है/होती है

परवर्तिनि काले - परिवर्तन के समय में

अनन्तरम् - बाद में

कर्गदस्य - कागज़ का

प्रविधिः - तकनीक, विधि

चलदूरभाषयन्त्रम् - मोबाइल फोन

रेलयानयात्रापत्रम् - रेल टिकट

वायुयानयात्रापत्रम् - हवाई जहाज का टिकट

सौकर्येण - आसानी से, सुगमता से

सन्दर्श्य - दिखलाकर

चिकित्सालयः - अस्पताल

वस्त्रपुटके - जेब में

द्रुतगत्या - तीव्र गति से

शुल्कम् - फ़ीस


अभ्यासः

1. अधोलिखितानां प्रश्नानाम् उत्तराणि एकपदेन लिखत-

(क) कुत्र "डिजिटल इण्डिया" इत्यस्य चर्चा भवति?

(ख) केन सह मानवस्य आवश्यकता परिवर्तते?

(ग) आपणे वस्तूनां क्रयसमये केषाम् अनिवार्यता न भविष्यति?

(घ) कस्मिन् उद्योगे वृक्षाः उपयुज्यन्ते?

(ङ) अद्य सर्वाणि कार्याणि केन साधितानि भवन्ति?

2. अधोलिखितान् प्रश्नान् पूर्णवाक्येन उत्तरत-

(क) प्राचीनकाले विद्या कथं गृह्यते स्म?

(ख) वृक्षाणां कर्तनं कथं न्यूनतां यास्यति?

(ग) चिकित्सालये कस्य आवश्यकता अद्य नानुभूयते?

(घ) वयं कस्यां दिशि अग्रेसरामः?

(ङ) वस्त्रपुटके केषाम् आवश्यकता न भविष्यति?

3. रेखाङ्कितपदान्यधिकृत्य प्रश्ननिर्माणं कुरुत-

(क) भोजपत्रोपरि लेखनम् आरब्धम्।

(ख) लेखनार्थं कर्गदस्य आवश्यकतायाः अनुभूतिः न भविष्यति।

(ग) विश्रामगृहेषु कक्षं सुनिश्चितं भवेत्।

(घ) सर्वाणि पत्राणि चलदूरभाषयन्त्रे सुरक्षितानि भवन्ति

(ङ) वयम् उपचारार्थं चिकित्सालयं गच्छामः?

4. उदाहरणमनुसृत्य विशेषण विशेष्यमेलनं कुरुत-

यथा - विशेषण विशेष्य
सम्पूर्णे
भारते
(क) मौखिकम् (1) ज्ञानम्
(ख) मनोगताः
(2) उपकारः
(ग) टङ्किता
(3) काले
(घ) महान्
(4) विनिमयः
(ङ) मुद्राविहीनः
(5) कार्याणि

5. अधोलिखितपदयोः सन्धिं कृत्वा लिखत-

पदस्य + अस्य

तालपत्र + उपरि

च + अतिष्ठत

कर्गद + उद्योगे

क्रय + अर्थम्

इति + अनयोः

उपचार + अर्थम्

6. उदाहरणमनुसृत्य अधोलिखितेन पदेन लघु वाक्य निर्माणं कुरुत-

यथा - जिज्ञासा - मम मनसि वैज्ञानिकानां विषये जिज्ञासा अस्ति

(क) आवश्यकता -

(ख) सामग्री -

(ग) पर्यावरण सुरक्षा -

(घ) विश्रामगृहम् -

7. उदाहरणानुसारम् कोष्ठकप्रदत्तेषु पदेषु चतुर्थी प्रयुज्य रिक्तस्थानपूर्तिं कुरुत-

यथा – भिक्षुकाय धनं ददातु। (भिक्षुक)

(क) ............ पुस्तकं देहि। (छात्र)

(ख) अहम् ............. वस्त्राणि ददामि। (निर्धन)

(ग) .............. पठनं रोचते। (लता)

(ङ) रमेशः ................. अलम्। (सुरेश)

(च) ................. नमः। (अध्यापक)

योग्यता-विस्तारः

इन्टरनेट - ज्ञान का महत्त्चपूर्ण स्रोत है

इन्टरनेट के माध्यम से किसी भी विषय की जानकारी सरलतापूर्वक मिल सकती है। सिर्फ एक "क्लिक" द्वारा ज्ञान के विभिन्न आयामों को छुआ जा सकता है। यह ज्ञान का सागर है जिसमें एक बैक्टीरिया जैसे सूक्ष्म जीवाणु से लेकर ब्लैकहोल तक, राजनीति से लेकर व्यापार तक, अन्तर्राष्ट्रीय संबंधों से लेकर वैज्ञानिक चरमोत्कर्ष तक की सूचना प्राप्त हो जाती है। सामान्यतः हमें किसी भी जानकारी के लिए पुस्तकालय तक जाने की आवश्यकता होती है, पर अब हम घर बैठे उसे प्राप्त कर सकते हैं। यह एक सामाजिक प्लेटफार्म है जहाँ हम दुनियाँ के किसी भी कोने में बैठे लोगों से किसी भी विषय पर विचार विमर्श कर सकते हैं। इस पर ईमेल सुविधा, वीडियो कॉलिंग आदि आसानी से उपलब्ध है। अॉनलाइन दूरस्थ शिक्षा (Online Distance Education) के माध्यम से लोग घर बैठे अपना पाठ्यक्रम पूरा कर सकते हैं। यह मनोरंजन का मुफ़्त साधन है। इसकी Navigation facility हमें एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँचाने में सक्षम है। इसकी कभी छुट्टी नहीं होती। यह हमें 24 ×7 उपलब्ध है।


1. अनेक शब्दों के लिए एक शब्द-

ज्ञातुम् इच्छा - जिज्ञासा - जानने की इच्छा

कर्तुम् इच्छा - चिकीर्षा - करने की इच्छा

पातुम् इच्छा - पिपासा - पीने की इच्छा

भोक्तुम् इच्छा - बुभुक्षा - खाने की इच्छा

जीवितुम् इच्छा - जिजीविषा - जीने की इच्छा

गन्तुम् इच्छा - जिगमिषा - जाने की इच्छा


2. "तुमुन्" प्रत्यय में ‘तुम्’ शेष बचता है। यह प्रत्यय के लिए अर्थ में प्रयुक्त होता है। जैसे -

कृ + तुमुन् - कर्तुम् - करने के लिए

दा + तुमुन् - दातुम् - देने के लिए

खाद् + तुमुन् - खादितुम् - खाने के लिए

पठ् + तुमुन् - पठितुम् - पढ़ने के लिए

लिख् + तुमुन् - लिखितुम्- लिखने के लिए

गम् + तुमुन् - गन्तुम् - जाने के लिए

RELOAD if chapter isn't visible.