सुभाष्िातानि ¹‘सुभाष्िात’ शब्द ‘सु $ भाष्िात’ इन दो शब्दों के मेल से सम्प होता है। सु का अथर् सुन्दर, मध्ुर तथा भाष्िात का अथर् वचन है। इस तरह सुभाष्िात का अथर् सुन्दर/मधुर वचन है। प्रस्तुत पाठ में सूक्ितम×जरी, नीतिशतकम्, मनुस्मृतिः, श्िाशुपालवधम्, प×चतन्त्राम्से रोचक और विचारोत्तेजक श्लोकों को संगृहीत किया गया है।ह् गुणा गुणज्ञेषु गुणा भवन्ित ते निगुर्णं प्राप्य भवन्ित दोषाः। सुस्वादुतोयाः प्रभवन्ित नद्यः समुद्रमासाद्य भवन्त्यपेयाः ।।1।। साहित्यसघõीतकलाविहीनः साक्षात्पशुःपुच्छविषाणहीनः। तृणं न खादÂपि जीवमानः तद्भागध्ेयं परमं पशूनाम् ।।2।। लुब्ध्स्य नश्यति यशः पिशुनस्य मैत्राी नष्टियस्य वुफलमथर्परस्य ध्मर्ः। विद्यापफलं व्यसनिनः कृपणस्य सौख्यं राज्यं प्रमत्तसचिवस्य नराध्िपस्य ।।3।। पीत्वा रसं तु कटुवंफ मध्ुरं समानं माध्ुयर्मेव जनयेन्मध्ुमक्ष्िाकासौ। सन्तस्तथैव समसज्जनदुजर्नानां श्रुत्वा वचः मध्ुरसूक्तरसं सृजन्ित ।।4।। महतां प्रकृतिः सैव वध्िर्तानां परैरपि।न जहाति निजं भावं संख्यासु लाकृतियर्था ।।5।। स्ित्रायां रोचमानायां सव± तद् रोचते वुफलम्। तस्यां त्वरोचमानायां सवर्मेव न रोचते ।।6।। शब्दाथार्ः गुणज्ञेषु - गुण्िायों में सुस्वादुतोयाः - स्वादिष्ट जल प्रभवन्ित - निकलती हैं/उत्पन्न होती हैं समुद्रमासाद्य ;समुद्रम्$आसाद्यद्ध - समुद्र में मिलकर/पहुँचकर भवन्त्यपेयाः ;भवन्ित$अपेयाःद्ध - पीने योग्य नहीं होती विषाणहीनः - सींग के बिना खादन्नपि ;खादन्$अपिद्ध - खाते हुए भी जीवमानः - जिन्दा रहता हुआ पिशुनस्य - चुगलखोर/चुगली करने वाले की व्यसनिनः - बुरी लत वालों की नराध्िपस्य ;नर$अध्िपस्यद्ध - राजा का/के/की जनयेन्मध्ुमक्ष्िाकासौ - यह मध्ुमक्खी पैदा करती/ ;जनयेत्$मध्ुमक्ष्िाका$असौद्ध निमार्ण करती है सन्तस्तथैव ;सन्तः$तथा$एवद्ध - वैसे ही सज्जन सृजन्ित - निमार्ण करते हैं प्रकृतिः - स्वभाव/आदत वध्िर्तानाम् - बढ़ाये गए/प्रशंसित परैरपि ;परैः$अपिद्ध - दूसरों से भी/परायों से भी जहाति - छोड़ता है लाकृतियर्था ;लृ$आकृतिः$यथाद्ध - जैसे नौ का आकार/स्वभाव रोचमानायाम् - अच्छी लगने पर 1.पाठे दत्तानां पद्यानां सस्वरवाचनं वुफरुत। 2.श्लोकांशेषु रिक्तस्थानानि पूरयत - ;कद्ध समुद्रमासाद्य । ;खद्ध वचः मध्ुरसूक्तरसं सृजन्ित। ;गद्ध तद्भागध्ेयं पशूनाम्। ;घद्ध विद्यापफलं कृपणस्य सौख्यम्। ;घद्ध स्ित्रायां .................सव± तद् ................वुफलम्। 3.प्रश्नानाम् उत्तराण्िा एकपदेन लिखत - ;कद्ध व्यसनिनः ¯क नश्यति? ;खद्ध कस्यां रोचमानायां सव± वुफलं रोचते? ;गद्ध कस्य यशः नश्यति? ;घद्ध मध्ुंमक्ष्िाका विफ जनयति? ;घद्ध मध्ुरसूक्तरसं के सृजन्ित? 4.अधेलिख्िात - तद्भव - शब्दानां कृते पाठात् चित्वा संस्कृतपदानि लिखत - यथा - वंफजूस कृपणः कड़वा पूँछ लोभी मध्ुमक्खी तिनका 5.अधेलिख्िातेषु वाक्येषु कतृर्पदं ियापदं च चित्वा लिखत - वाक्यानि कत्तार् िया यथा - सन्तः मध्ुरसूक्तरसं सृजन्ित। सन्तः सृजन्ित ;कद्ध निगर्ुणं प्राप्य भवन्ित दोषाः। ;खद्ध गुणज्ञेषु गुणाः भवन्ित। ;गद्ध मध्ुमक्ष्िाका माध्ुय± जनयेत्। ;घद्ध पिशुनस्य मैत्राी यशः नाशयति। ;घद्ध नद्यः समुद्रमासाद्य अपेयाः भवन्ित। 6.रेखाितानि पदानि आध्ृत्य प्रश्ननिमार्णं वुफरुत - ड्ढ;कद्ध गुणाः गुणज्ञेषु गुणाः भवन्ित। ;खद्ध नद्यः सुस्वादुतोयाः भवन्ित। ;गद्ध लुब्ध्स्य यशः नश्यति। ;घद्ध मध्ुमक्ष्िाका माध्ुयर्मेव जनयति। 7.उदाहरणानुसारं पदानि पृथव्फ वुुफरुत - यथा - समुद्रमासाद्य μ समुद्रम् $ आसाद्य माध्ुयर्मेव μ ...............$ ..............अल्पमेव μ ...............$ ..............सवर्मेव μ ...............$ ..............समानमपि μ ...............$ ..............महात्मनामुक्ितः μ ...............$ ..............योग्यता - विस्तारः प्रस्तुत पाठ में महापुरुषों की प्रकृति, गुण्िायों की प्रशंसा, सज्जनों की वाणी,साहित्य - संगीत - कला की महत्ता, चुगलखोरों की दोस्ती से होने वाली हानि, स्ित्रायों केप्रसन्न रहने में सबकी खुशहाली को आलघड्ढारिक भाषा में प्रस्तुत किया गया है। पाठ के श्लोकों के समान अन्य सुभाष्िातों को भी स्मरण रखें तथा जीवन मेंउनकी उपादेयता/संगति पर विचार करें। ;कद्ध येषां न विद्या न तपो न दानम्ज्ञानं न शीलं न गुणो न ध्मर्ः।ते मत्यर्लोके भुवि भारभूताःमनुष्यरूपेण मृगाश्चरन्ित।।;खद्ध गुणाः पूजास्थानं गुण्िाषु न च लिघõं न च वयः।;गद्ध प्रारभ्य चोत्तमजनाः न परित्यजन्ित।;घद्ध दुजर्नः परिहतर्व्यो विद्यया{लघड्ढतो{पि सन्।ृ ;घद्ध न प्राणान्ते प्रकृतिविकृतिजार्यते चोत्तमानाम्।;चद्ध उदये सविता रक्तो रक्तश्चास्तघõते तथा। सम्पत्तौ च विपत्तौ च महतामेकरूपता।।उपयर्ुक्त सुभाष्िातों के अंशों को पढ़कर स्वयं समझने का प्रयत्न करें तथा संस्कृतएवं अन्य भारतीय - भाषाओं के सुभाष्िातों का संग्रह करें। ‘गुणा गुणज्ञेषु गुणा भवन्ित’μइस पंक्ित में विसगर् सन्िध् के नियम में ‘गुणाः’ के विसगर्का दोनों बार लोप हुआ है। सन्िध् के बिना पंक्ित ‘गुणाः गुणज्ञेषु गुणाः भवन्ित’ होगी।

RELOAD if chapter isn't visible.