संघषर् के कारण मंै तुनुकमिशाज हो गया: धनराज की के सुप्रसि( ख्िालाड़ी धनराज पिल्लै जब पैतींस वषर् के हो गए, उनका एक साक्षात्कार विनीता पाण्डेय ने लिया था। इस साक्षात्कार वफा संपादित अंश यहाँ दिया जा रहा है। विनीताμ ख्िाड़की, पुणे की तंग गलियों से लेकर मुंबइर् के हीरानंदानी पवइर् काॅम्प्लेक्स तक आपका सपफर बहुत लंबा और कष्टसाध्य़रहा है। उस सप़्ाफर के बारे में वुफछ बताएँ। धनराजμ बचपन मुश्िकलों से भरा रहा। हम बहुत गरीब थे। मेरे दोनों बड़े भाइर् हाॅकी खेलते थे। उन्हीं के चलते मुझे भी उसका शौक हुआ। पर, हाॅकी - स्िटक खरीदने तक की हैसियत नहीं थी मेरी। इसलिए अपने साथ्िायों की स्िटक उधार माँगकर काम चलाता था। वह मुझे तभी मिलती, जब वे खेल चुके होते थे। इसके लिए बहुत धीरज के साथ अपनी बारी का इंतशार करना पड़ता था। मुझे अपनी पहली स्िटक तब मिली, जब मेरे बड़े भाइर् को भारतीय वैंफप के लिए चुन लिया गया। उसने मुझे अपनी पुरानी स्िटक दे दी। वह नयी तो नहीं थी लेकिन मेरे लिए बहुत कीमती थी, क्योंकि वह मेरी अपनी थी। मैंने अपनी जूनियर राष्ट्रीय हाॅकी सन् 1985 में मण्िापुर में खेली। तब मैं सिप़्ार्फ 16 साल का थाμदेखने में दुबला - पतला और छोटे बच्चे वसंत भाग - 2 जैसा चेहरा...। अपनी दुबली कद - काठी के बावजूद धनराज पिल्लै के व्यक्ितत्व को मेरा ऐसा दबदबा था कि कोइर् मुझसे भ्िाड़ने कीरेखांकित करते हुए विनीता पाण्डेय कोश्िाश नहीं करता था। मैं बहुत जुझारू थाμमैदानने लिखा हैμ‘वह आपको कभी में भी और मैदान से बाहर भी। 1986 में मुझेहँसाता है, कभी रफलाता है, कभी विस्मय से भर देता है, तो कभी सीनियर टीम में डाल दिया गया और मैं खीझ से भी। उसके व्यक्ितत्व बोरिया - बिस्तरा बाँधकर मुंबइर् चला आया। उस में कइर् रंग हैं और कइर् भाव। साल मैंने और मेरे बड़े भाइर् रमेश ने मुंबइर् लीगउसने ठेठ शमीन से उठकर में बेहतरीन खेल खेलाμहमने खूब धूम मचाइर्।आसमान का सितारा बनने की इसी के चलते मेरे अंदर एक उम्मीद जागी कियात्रा तय की है।’ मुझे ओलंपिक ;1988द्ध के लिए नेशनल वैंफप से बुलावा शरूर आएगा, पर नहीं आया। मेरा नाम 57 ख्िालाडि़यों की लिस्ट में भी नहीं था। बड़ी मायूसी हुइर्। मगर एक साल बाद ही आॅलविन एश्िाया कप के वैंफप के लिए मुझे चुन लिया गया। तब से लेकर आज तक मैंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। विनीताμ आपका विद्याथीर् जीवन वैफसा रहा? अपने स्वूफल के दिनों से आपकी किस प्रकार की यादें जुड़ी हैं? धनराजμ मैं पढ़ने में एकदम पिफसंी था। किसी तरह दसवीं तक पहुँचा, मगर उसके आगे तो मामला बहुत कठिन था। एक बात कहूँμअगर मैं हाॅकी ख्िालाड़ी न होता तो शायद एक चपरासी की नौकरी भी मुझे न मिलती। आज मैं बैचलर आॅप़्ाफ साइंस या आट्र्स भले ही न होउँफ पर गवर् से कह सकता हूँ कि मैं बैचलर आॅप़्ाफ हाॅकी हूँ। ;हँसते हुएद्ध...और मेरी शादी के लिए आप मुझे मास्टर आॅप़्ाफ हाॅकी कह सकते हैं। विनीताμ आप इतने तुनुकमिशाज क्यों हैं? कभी - कभी आप आक्रामक भी हो जाते हैं! धनराजμ इस बात का संबंध मेरे बचपन से जुड़ा हुआ है। मैं हमेशा से ही 130 अपने आपको बहुत असुरक्ष्िात महसूस करता रहा। मैंने अपनी माँ को संघषर् के कारण मंै तुनुकमिशाज हो गया: धनराज देखा है कि उन्हें हमारे पालन - पोषण में कितना संघषर् करना पड़ा है। मेरी तुनुकमिशाजी के पीछे कइर् वजहें हैं। लेकिन मैं बिना लाग - लपेट वाला आदमी हूँ। मन में जो आता है, सीधे - सीधे कह डालता हूँ और बाद को कइर् बार पछताना भी पड़ता है। मुझसे अपना गुस्सा रोका नहीं जाता। दूसरे लोगों को भी मुझे उकसाने मेंं मशा आता है। मुझे ¯शदगी में हर छोटी - बड़ी चीश के लिए जूझना पड़ा, जिससे मैं चिड़चिड़ा हो गया हूँ। साथ - ही - साथ मैं बहुत भावुक इनसान भी हूँ। मैं किसी को तकलीप़्ाफ में नहीं देख सकता। मैं अपने दोस्तों और अपने परिवार की बहुत कद्र करता हूँ। मुझे अपनी गलतियों के लिए माप़्ाफी माँगने में कोइर् शरम महसूस नहीं होती। विनीताμ आपके परिवार की आपके लिए क्या अहमियत है? धनराजμ सबसे अध्िक प्रेरणा मुझे अपनी माँ से मिली। उन्होंने हम सब भाइर् - बहनों में अच्छे संस्कार डालने की कोश्िाश की। मैं उनके सबसे नशदीक हँू। मैं चाहे भारत में रहूँ या विदेश में, रोश रात में सोने से पहले माँ से शरूर बात करता हूँ। मेरी माँ ने मुझे अपनी प्रसिि को विनम्रता के साथ सँभालने की सीख दी है। मेरी सबसे बड़ी भाभीकविता भी मेरे लिए माँ की तरह हैं और वह भी मेरे लिए प्रेरणा - ड्डोत रही हैं। विनीताμ आपने सबसे पहले कृत्रिाम घास ;एस्ट्रोटपर्फद्ध पर हाॅकी कब खेली?़धनराजμ मैंने सबसे पहले कृत्रिाम घास तब देखी जब राष्ट्रीय खेलों ;नेशनल्सद्ध में भाग लेने 1988 में नयी दिल्ली आया। मुझे याद है कि किस तरहसोमÕया और ;जोक्िवमद्ध कावार्ल्हो मुझे एक कोने में ले जाकर कृत्रिाम घास पर खेलने के गुर बता रहे थे। और जब वे बताने में लगे हुए थे, मैं झुक - झुककर उस मैदान को छू रहा था। मुझे विश्वास ही नहीं होरहा था कि विज्ञान इस कदर तरक्की कर सकता है, जिससे कृत्रिाम घास तक उगाइर् जा सके! विनीताμ हर युवक का यह सपना होता है कि उसके पास एक कार हो। आपके 131पास अपनी पहली कार कब आइर्? वसंत भाग - 2 धनराजμ मेरी पहली कार एक सेवेंफड हैंड अरमाडा थी, जो मुझे मेरे पहले के इम्प्लाॅयर ने दी थी। तब तक मैं काप़्ाफी नामी ख्िालाड़ी बन चुका था। मगर यह कोइर् शरूरी नहीं कि शोहरत पैसा साथ लेकर आए! मैं तब भी मुंबइर् की लोकल ट्रेनों और बसों में सप़्ाफर करता था। क्योंकि टैक्सी में चढ़ने की हैसियत मुझमें नहीं थी। मुझे याद है, एक बार किसी प़्ाफोटोग्राप़्ाफर ने एक भीड़ से भरे रेलवे स्टेशन पर मेरी तसवीर खींचकर अगली सुबह अखबार में यह खबर छाप दी कि ‘हाॅकी का सितारा पिल्लै अभी भी मुंबइर् की लोकल टेªनों में सप़्ाफर करता है।’ उस दिन मैंने महसूस किया कि मैं एक मशहूर चेहरा बन चुका हूँ और मुझे लोकल ट्रेनों में सप़्ाफर करने से बचना चाहिए। लेकिन मंै कर ही क्या सकता था? मैं जो भी थोड़ा बहुत कमाता, उससे अपना परिवार चलाना पड़ता था। धीरे - धीरे पैसे जमा करके बहन की शादी की और अपनी माँ के लिए हर महीने पुणे पैसा भेजना शुरू किया। आज मेरे पास एक प़्ाफोडर् आइकाॅन है, जिसे मंैने सन् 2000 में खरीदा था। मगर वह किसी काॅरपोरेट हाउस का दिया हुआ तोहप़्ाफा नहीं, बल्िक मेरी मेहनत की गाढ़ी कमाइर् से खरीदी हुइर् कार है। विनीताμ सपफलता का आपके लिए क्या महत्त्व है? हाॅकी को आपने इतना वुफछ दिया, इसके बदले आपको क्या मिला? धनराजμ वुफछ रफपये इर्नाम में मिले थे, मगर आज ख्िालाडि़यों को जितना मिलता है, उसके मुकाबले में पहले वुफछ नहीं मिलता था। मेरी पहली िाम्मेदारी थी परिवार में आ£थक तंगी को दूर करना और उन सबको एक बेहतर ¯शदगी देना। विदेश में जाकर खेलने से जो कमाइर् हुइर्, उससे मंैने 1964 में पुणे के भाउफ पाटिल रोड पर दो बेडरूम का एक छोटा साफ्ऱलैट खरीदा। घर छोटा शरूर है पर हम सबके लिए काप़्ाफी है। 1999में महाराष्ट्र सरकार ने मुझे पवइर् में एक फ्ऱलैट दिया। वह ऐसा घर है जिसे खरीदने की मेरी खुद की हैसियत कभी नहीं हो पाती। 132 विनीताμ सेलेबि्रटीश के साथ एक ही मंच पर बैठना वैफसा लगता है? धनराजμ बहुत अच्छा! जब हम राष्ट्रपति से मिले तब यह महसूस हुआ कि हम कितने खास हैं। हाॅकी ही है जिसके चलते हर जगह प्रतिष्ठा मिली। साक्षात्कार से 1.साक्षात्कार पढ़कर आपके मन में धनराज पिल्लै की वैफसी छवि उभरती है? वणर्न कीजिए। 2.धनराज पिल्लै ने शमीन से उठकर आसमान का सितारा बनने तक की यात्रा तय की है। लगभग सौ शब्दों में इस सप़्ाफर का वणर्न कीजिए। 3.‘मेरी माँ ने मुझे अपनी प्रसिि को विनम्रता से सँभालने की सीख दी है’μ धनराज पिल्लै की इस बात का क्या अथर् है? साक्षात्कार से आगे 1331.ध्यानचंद को हाॅकी का जादूगर कहा जाता है। क्यों? पता लगाइए। वसंत भाग - 2 2.किन विशेषताओं के कारण हाॅकी भारत का राष्ट्रीय खेल माना जाता है? 3.आप समाचार - पत्रों, पत्रिाकाओं में छपे हुए साक्षात्कार पढ़ें और अपनी रुचि से किसी व्यक्ित को चुनें, उसके बारे में जानकारी प्राप्त कर वुफछ प्रश्न तैयार करें और साक्षात्कार लें। अनुमान और कल्पना 1.‘यह कोइर् शरूरी नहीं कि शोहरत पैसा भी साथ लेकर आए’μक्या आप धनराज पिल्लै की इस बात से सहमत हैं? अपने अनुभव और बड़ों से बातचीत के आधार पर लिख्िाए। 2.;कद्ध अपनी गलतियों के लिए मापफी माँगना आसान होता है या मुश्िकल?़;खद्ध क्या आप और आपके आसपास के लोग अपनी गलतियों के लिए मापफी़माँग लेते हैं? ;गद्ध माप़्ाफी माँगना मुश्िकल होता है या माप़्ाफ करना? अपने अनुभव के आधार पर लिख्िाए। भाषा की बात 1.नीचे वुफछ शब्द लिखे हैं जिनमें अलग - अलग प्रत्ययों के कारण बारीक अंतर है। इस अंतर को समझाने के लिए इन शब्दों का वाक्य में प्रयोग कीजिएμ प्रेरणा प्रेरक प्रेरित संभव संभावित संभवतः उत्साह उत्साहित उत्साहवधर्क 2.तुनुकमिशाज शब्द तुनुक और मिशाज दो शब्दों के मिलने से बना है। क्षण्िाक, तनिक और तुनुक एक ही शब्द के भ्िान्न रूप हैं। इस प्रकार का रूपांतर दूसरे शब्दों में भी होता है, जैसेμबादल, बादर, बदरा, बदरियाऋ मयूर, मयूरा, मोरऋ दपर्ण, दपर्न, दरपन। शब्दकोश की सहायता लेकर एक ही शब्द के दो या दो से अध्िक रूपों को खोजिए। कम - से - कम चार शब्द और उनके अन्य रूप लिख्िाए। 3.हर खेल के अपने नियम, खेलने के तौर - तरीके और अपनी शब्दावली होती है। जिस खेल में आपकी रुचि हो उससे संबंध्ित वुफछ शब्दों को लिख्िाए,134 जैसेμपुफटबाॅल के खेल से संबंध्ित शब्द हैंμगोल, बै¯कग, पा¯सग, बूट इत्यादि। हमारी ख़्वाहिश सरपफरोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है,़देखना है शोर कितना, बाशू - ए - व़्ाफातिल में है। रहबरे राहे मुहब्बत, रह न जाना राह में, लश्शते सहरा नवदीर्, दूरी - ए - मंिाल में है। वक़्त आने दे, बता देंगे तुझे, ऐ आसमाँ! हम अभी से क्या बताएँ, क्या हमारे दिल में है! अब न अगले वलवले हैं, और न अरमानों की भीड़, एक मिट जाने की हसरत, अब दिले ‘बिस्िमल’ में है। आज मव़्ाफतल में ये व़्ाफातिल, कह रहा है बार - बार, क्या तमन्ना - ए - शहादत, भी किसी के दिल में है! ऐ शहीदे - मुल्को - मिल्लत, तेरे जश्बों के निसार, तेरी व़़़्ाुफबार्नी का चचार्, गैर की महप्िाफल में है। ऽ रामप्रसाद ‘बिस्िमल’

>vasant-2_Chp18>

संघर्ष के कारण

मैं तुनुकमिज़ाज हो गया धनराज


हॉकी के सुप्रसिद्ध खिलाड़ी धनराज पिल्लै जब पैतींस वर्ष के हो गए, उनका एक साक्षात्कार विनीता पाण्डेय ने लिया था। इस साक्षात्कार का संपादित अंश यहाँ दिया जा रहा है।


विनीता- खिड़की, पुणे की तंग गलियों से लेकर मुंबई के हीरानंदानी पवई कॉम्प्लेक्स तक आपका सफ़र बहुत लंबा और कष्टसाध्य रहा है। उस सफ़र के बारे में कुछ बताएँ।


धनराज- बचपन मुश्किलों से भरा रहा। हम बहुत गरीब थे। मेरे दोनों बड़े भाई हॉकी खेलते थे। उन्हीं के चलते मुझे भी उसका शौक हुआ। पर, हॉकी-स्टिक खरीदने तक की हैसियत नहीं थी मेरी। इसलिए अपने साथियों की स्टिक उधार माँगकर काम चलाता था। वह मुझे तभी मिलती, जब वे खेल चुके होते थे। इसके लिए बहुत धीरज के साथ अपनी बारी का इंतज़ार करना पड़ता था। मुझे अपनी पहली स्टिक तब मिली, जब मेरे बड़े भाई को भारतीय कैंप के लिए चुन लिया गया। उसने मुझे अपनी पुरानी स्टिक दे दी। वह नयी तो नहीं थी लेकिन मेरे लिए बहुत कीमती थी, क्योंकि वह मेरी अपनी थी।

मैंने अपनी जूनियर राष्ट्रीय हॉकी सन् 1985 में मणिपुर में खेली। तब मैं सिर्फ़ 16 साल का था-देखने में दुबला-पतला और छोटे बच्चे जैसा चेहरा...। अपनी दुबली कद-काठी के बावजूद मेरा ऐसा दबदबा था कि कोई मुझसे भिड़ने की कोशिश नहीं करता था। मैं बहुत जुझारू था-मैदान में भी और मैदान से बाहर भी। 1986 में मुझे सीनियर टीम में डाल दिया गया और मैं बोरिया-बिस्तरा बाँधकर मुंबई चला आया। उस साल मैंने और मेरे बड़े भाई रमेश ने मुंबई लीग में बेहतरीन खेल खेला-हमने खूब धूम मचाई। इसी के चलते मेरे अंदर एक उम्मीद जागी कि मुझे ओलंपिक (1988) के लिए नेशनल कैंप से बुलावा ज़रूर आएगा, पर नहीं आया। मेरा नाम 57 खिलाड़ियों की लिस्ट में भी नहीं था। बड़ी मायूसी हुई। मगर एक साल बाद ही ऑलविन एशिया कप के कैंप के लिए मुझे चुन लिया गया। तब से लेकर आज तक मैंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

धनराज पिल्लै के व्यक्तित्व को रेखांकित करते हुए विनीता पाण्डेय ने लिखा है-‘वह आपको कभी हँसाता है, कभी रुलाता है, कभी विस्मय से भर देता है, तो कभी खीझ से भी। उसके व्यक्तित्व में कई रंग हैं और कई भाव। उसने ठेठ ज़मीन से उठकर आसमान का सितारा बनने की यात्रा तय की है।’

विनीता- आपका विद्यार्थी जीवन कैसा रहा? अपने स्कूल के दिनों से आपकी किस प्रकार की यादें जुड़ी हैं?

धनराज- मैं पढ़ने में एकदम फिसड्डी था। किसी तरह दसवीं तक पहुँचा, मगर उसके आगे तो मामला बहुत कठिन था। एक बात कहूँ-अगर मैं हॉकी खिलाड़ी न होता तो शायद एक चपरासी की नौकरी भी मुझे न मिलती। आज मैं बैचलर ऑफ़ साइंस या आर्ट्स भले ही न होऊँ पर गर्व से कह सकता हूँ कि मैं बैचलर ऑफ़ हॉकी हूँ।
(हँसते हुए)...और मेरी शादी के लिए आप मुझे मास्टर ऑफ़ हॉकी कह सकते हैं।

विनीता- आप इतने तुनुकमिज़ाज क्यों हैं? कभी-कभी आप आक्रामक भी हो जाते हैं!

धनराज- इस बात का संबंध मेरे बचपन से जुड़ा हुआ है। मैं हमेशा से ही अपने आपको बहुत असुरक्षित महसूस करता रहा। मैंने अपनी माँ को देखा है कि उन्हें हमारे पालन-पोषण में कितना संघर्ष करना पड़ा है। मेरी तुनुकिमज़ाजी के पीछे कई वजहें हैं। लेकिन मैं बिना लाग-लपेट वाला आदमी हूँ। मन में जो आता है, सीधे-सीधे कह डालता हूँ और बाद को कई बार पछताना भी पड़ता है। मुझसे अपना गुस्सा रोका नहीं जाता। दूसरे लोगों को भी मुझे उकसाने में मज़ा आता है। मुझे ज़िंदगी में हर छोटी-बड़ी चीज़ के लिए जूझना पड़ा, जिससे मैं चिड़चिड़ा हो गया हूँ। साथ-ही-साथ मैं बहुत भावुक इनसान भी हूँ। मैं किसी को तकलीफ़ में नहीं देख सकता। मैं अपने दोस्तों और अपने परिवार की बहुत कद्र करता हूँ। मुझे अपनी गलतियों के लिए माफ़ी माँगने में कोई शरम महसूस नहीं होती।

विनीता- आपके परिवार की आपके लिए क्या अहमियत है?

धनराज- सबसे अधिक प्रेरणा मुझे अपनी माँ से मिली। उन्होंने हम सब भाई-बहनों में अच्छे संस्कार डालने की कोशिश की। मैं उनके सबसे नज़दीक हूँ। मैं चाहे भारत में रहूँ या विदेश में, रोज़ रात में सोने से पहले माँ से ज़रूर बात करता हूँ। मेरी माँ ने मुझे अपनी प्रसिद्धि को विनम्रता के साथ सँभालने की सीख दी है। मेरी सबसे बड़ी भाभी कविता भी मेरे लिए माँ की तरह हैं और वह भी मेरे लिए प्रेरणा-स्त्रोत रही हैं।

विनीता- आपने सबसे पहले कृत्रिम घास (एस्ट्रो टर्फ़) पर हॉकी कब खेली?

धनराज- मैंने सबसे पहले कृत्रिम घास तब देखी जब राष्ट्रीय खेलों (नेशनल्स) में भाग लेने 1988 में नयी दिल्ली आया। मुझे याद है कि किस तरह सोमय्या और जोक्विम कार्वाल्हो मुझे एक कोने में ले जाकर कृत्रिम घास पर खेलने के गुर बता रहे थे। और जब वे बताने में लगे हुए थे, मैं झुक-झुककर उस मैदान को छू रहा था। मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि विज्ञान इस कदर तरक्की कर सकता है, जिससे कृत्रिम घास तक उगाई जा सके!

विनीता- हर युवक का यह सपना होता है कि उसके पास एक कार हो। आपके पास अपनी पहली कार कब आई?

धनराज- मेरी पहली कार एक सेकेंड हैंड अरमाडा थी, जो मुझे मेरे पहले के इम्प्लॉयर ने दी थी। तब तक मैं काफ़ी नामी खिलाड़ी बन चुका था। मगर यह कोई ज़रूरी नहीं कि शोहरत पैसा साथ लेकर आए! मैं तब भी मुंबई की लोकल ट्रेनों और बसों में सफ़र करता था। क्योंकि टैक्सी में चढ़ने की हैसियत मुझमें नहीं थी। मुझे याद है, एक बार किसी फ़ोटोग्राफ़र ने एक भीड़ से भरे रेलवे स्टेशन पर मेरी तसवीर खींचकर अगली सुबह अखबार में यह खबर छाप दी कि ‘हॉकी का सितारा पिल्लै अभी भी मुंबई की लोकल ट्रेनों में सफ़र करता है।’ उस दिन मैंने महसूस किया कि मैं एक मशहूर चेहरा बन चुका हूँ और मुझे लोकल ट्रेनों में सफ़र करने से बचना चाहिए। लेकिन मैं कर ही क्या सकता था? मैं जो भी थोड़ा बहुत कमाता, उससे अपना परिवार चलाना पड़ता था। धीरे-धीरे पैसे जमा करके बहन की शादी की और अपनी माँ के लिए हर महीने पुणे पैसा भेजना शुरू किया। आज मेरे पास एक फ़ोर्ड आइकॉन है, जिसे मैंने सन् 2000 में खरीदा था। मगर वह किसी कॉरपोरेट हाउस का दिया हुआ तोहफ़ा नहीं, बल्कि मेरी मेहनत की गाढ़ी कमाई से खरीदी हुई कार है।

विनीता- सफलता का आपके लिए क्या महत्त्व है? हॉकी को आपने इतना कुछ दिया, इसके बदले आपको क्या मिला?

धनराज- कुछ रुपये ईनाम में मिले थे, मगर आज खिलाड़ियों को जितना मिलता है, उसके मुकाबले में पहले कुछ नहीं मिलता था। मेरी पहली जि़म्मेदारी थी परिवार में आर्थिक तंगी को दूर करना और उन सबको एक बेहतर ज़िंदगी देना। विदेश में जाकर खेलने से जो कमाई हुई, उससे मैंने 1994 में पुणे के भाऊ पाटिल रोड पर दो बेडरूम का एक छोटा सा फ़्लैट खरीदा। घर छोटा ज़रूर है पर हम सबके लिए काफ़ी है। 1999 में महाराष्ट्र सरकार ने मुझे पवई में एक फ़्लैट दिया। वह ऐसा घर है जिसे खरीदने की मेरी खुद की हैसियत कभी नहीं हो पाती।


विनीता- सेलेब्रिटीज़ के साथ एक ही मंच पर बैठना कैसा लगता है?

धनराज- बहुत अच्छा! जब हम राष्ट्रपति से मिले तब यह महसूस हुआ कि हम कितने खास हैं। हॉकी ही है जिसके चलते हर जगह प्रतिष्ठा मिली।

प्रश्न-अभ्यास

साक्षात्कार से

  1. साक्षात्कार पढ़कर आपके मन में धनराज पिल्लै की कैसी छवि उभरती है? वर्णन कीजिए।
  2. धनराज पिल्लै ने ज़मीन से उठकर आसमान का सितारा बनने तक की यात्रा तय की है। लगभग सौ शब्दों में इस सफ़र का वर्णन कीजिए।
  3. ‘मेरी माँ ने मुझे अपनी प्रसिद्धि को विनम्रता से सँभालने की सीख दी है’- धनराज पिल्लै की इस बात का क्या अर्थ है?

    साक्षात्कार से आगे

  1. ध्यानचंद को हॉकी का जादूगर कहा जाता है। क्यों? पता लगाइए।
  2. किन विशेषताओं के कारण हॉकी भारत का राष्ट्रीय खेल माना जाता है?
  3. आप समाचार-पत्रों, पत्रिकाओं में छपे हुए साक्षात्कार पढ़ें और अपनी रुचि से किसी व्यक्ति को चुनें, उसके बारे में जानकारी प्राप्त कर कुछ प्रश्न तैयार करें और साक्षात्कार लें।

    अनुमान और कल्पना

  1. ‘यह कोई ज़रूरी नहीं कि शोहरत पैसा भी साथ लेकर आए’-क्या आप धनराज पिल्लै की इस बात से सहमत हैं? अपने अनुभव और बड़ों से बातचीत के आधार पर लिखिए।
  2. (क) अपनी गलतियों के लिए माफ़ी माँगना आसान होता है या मुश्किल?

    (ख) क्या आप और आपके आसपास के लोग अपनी गलतियों के लिए माफ़ी माँग लेते हैं?

    (ग) माफ़ी माँगना मुश्किल होता है या माफ़ करना? अपने अनुभव के आधार पर लिखिए।

    भाषा की बात

  1. नीचे कुछ शब्द लिखे हैं जिनमें अलग-अलग प्रत्ययों के कारण बारीक अंतर है। इस अंतर को समझाने के लिए इन शब्दों का वाक्य में प्रयोग कीजिए-

    प्रेरणा प्रेरक प्रेरित
    संभव संभावित संभवतः

    उत्साह उत्साहित उत्साहवर्धक

  2. तुनुकमिज़ाज शब्द तुनुक और मिज़ाज दो शब्दों के मिलने से बना है। क्षणिक, तनिक और तुनुक एक ही शब्द के भिन्न रूप हैं। इस प्रकार का रूपांतर दूसरे शब्दों में भी होता है, जैसे-बादल, बादर, बदरा, बदरिया; मयूर, मयूरा, मोर; दर्पण, दर्पन, दरपन। शब्दकोश की सहायता लेकर एक ही शब्द के दो या दो से अधिक रूपों को खोजिए। कम-से-कम चार शब्द और उनके अन्य रूप लिखिए।
  3. हर खेल के अपने नियम, खेलने के तौर-तरीके और अपनी शब्दावली होती है। जिस खेल में आपकी रुचि हो उससे संबंधित कुछ शब्दों को लिखिए, जैसे-फुटबॉल के खेल से संबंधित शब्द हैं-गोल, बैकिंग, पासिंग, बूट इत्यादि।

केवल

पढ़ने

के

लिए

हमारी ख़्वाहिश

सरफ़रोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है,

देखना है ज़ोर कितना, बाज़ू-ए-क़ातिल में है।

रहबरे राहे मुहब्बत, रह न जाना राह में,

लज़्ज़ते सहरा नवर्दी, दूरी-ए-मंजि़ल में है।

वक़्त आने दे, बता देंगे तुझे, ऐ आसमाँ!

हम अभी से क्या बताएँ, क्या हमारे दिल में है!

अब न अगले वलवले हैं, और न अरमानों की भीड़,

एक मिट जाने की हसरतए अब दिले ‘बिस्मिल’ में है।

आज मक़ातल में ये क़ातिल, कह रहा है बार-बार,

क्या तमन्ना-ए-शहादत, भी किसी के दिल में है!

ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत, तेरे जज़्बों के निसार,

तेरी क़ुर्बानी का चर्चा, ग़ैर की महफ़िल में है।

रामप्रसाद ‘बिस्मिल’

RELOAD if chapter isn't visible.