वीर वुँफवर ¯सह पने सुभद्रा वुफमारी चैहान की कविता ‘झाँसी की रानी’ छठी कक्षा में पढ़ी होगी। इस कविता में ठावुफर वुँफवर ¯सह का नाम भी आया है। आपको कविता की पंक्ितयाँ याद आ रही होंगी। एक बार पिफर से इन पंक्ितयों को पढि़एμ यहाँ स्वतंत्राता संग्राम के उसी वीर वुँफवर ¯सह के बारे में जानकारी दी जा रही है। सन् 1857 के व्यापक सशस्त्रा - विद्रोह ने भारत में बि्रटिश शासन की जड़ों को हिला दिया। भारत में बि्रटिश शासन ने जिस दमन नीति को आरंभ किया उसके विरु( विद्रोह शुरू हो गया था। माचर् 1857 में बैरकपुर में अंग्रेशों के विरु( बगावत करने पर मंगल पांडे को 8 अप्रैल 1857 को पफाँसी दे दी गइर्। 10 मइर् 1857 को मेरठ में भारतीय सैनिकों ने बि्रटिश अिाकारियों के विरु( आंदोलन किया और सीधे दिल्ली की ओर वूफच कर गए। दिल्लीवुँफवर ¯सह में तैनात सैनिकों के साथ मिलकर 11 मइर् को उन्होंने दिल्ली पर कब्शा कर लिया और अंतिम मुगल शासक बहादुरशाह शपफर को भारत़का शासक घोष्िात कर दिया। यह विद्रोह जंगल की आग की भाति दूर - दूर तक पैफलँवीर वुँफवर ¯सह गया। कइर् महीनों तक उत्तरी और मध्य भारत के विस्तृत भूभाग पर विद्रोहियों का कब्शा रहा। दिल्ली के अतिरिक्त जहाँ अत्यिाक भीषण यु(हुआ, वे वेंफद्र थेμकानपुर, लखनऊ, बरेली, बुंदेलखंड और आरा। इसके साथ ही देश के अन्य कइर् भागों में भी स्थानीय विद्रोह हुए। विद्रोह के मुख्य नेताओं में नाना साहेब, ताँत्या टोपे, बख्त खान, अशीमुल्ला खान, रानी लक्ष्मीबाइर्, बेगम हशरत महल,बेगम हशरत महल वुँफवर ¯सह, मौलवी अहमदुल्लाह, बहादुर खान और राव तुलाराम थे। 1857 का आंदोलन स्वतंत्राता प्राप्ित की दिशा में एक दृढ़ कदम था। आगे चलकर जिस राष्ट्रीय एकता और आंदोलन की नींव पड़ी, उसकी आधारभूमि को नि£मत करने का काम 1857 के आंदोलन ने किया। भारत में सांप्रदायिकसद्भाव को बढ़ाने की दिशा में भी इस आंदोलन का विशेष महत्त्व है। 1857 के आंदोलन में वीर वुँफवर ¯सह का नाम कइर् दृष्िटयों से उल्लेखनीय है। वुँफवर ¯सह जैसे वयोवृ( व्यक्ित ने बि्रटिश शासन के ख्िालापफ बहादुरी वेफ़साथ यु( किया। वीर वुँफवर ¯सह के बचपन के बारे में बहुत अिाक जानकारी नहीं मिलती। कहा जाता है कि वुँफवर ¯सह का जन्म बिहार में शाहाबाद िाले के जगदीशपुर में सन् 1782 इर्॰ में हुआ था। उनके पिता का नाम साहबशादा ¯सह और माता का नाम पंचरतन वुँफवर था। उनके पिता साहबशादा ¯सह जगदीशपुर रियासत के शमींदार थे, परंतु उनको अपनी शमींदारी हासिल करने में बहुत संघषर् करना पड़ा। पारिवारिक उलझनों के कारण वुँफवर ¯सह के पिता बचपन में उनकी ठीक से देखभाल नहीं कर सके। जगदीशपुर लौटने के बाद ही वे वुँफवर ¯सह की पढ़ाइर् - लिखाइर् की ठीक से व्यवस्था कर पाए। वुँफवर ¯सह के पिता वीर होने के साथ - साथ स्वाभ्िामानी एवं उदार स्वभाव के व्यक्ित थे। उनके व्यक्ितत्व का प्रभाव वुँफवर ¯सह पर भी पड़ा। वुँफवर ¯सह की श्िाक्षा - दीक्षा की व्यवस्था उनके पिता ने घर पर ही की, वहीं उन्होंने ¯हदी, 123 वसंत भाग - 2 ़संस्कृत और पफारसी सीखी। परंतु पढ़ने - लिखने से अिाक उनका मन घुड़सवारी, तलवारबाशी और वुफश्ती लड़ने में लगता था। बाबू वुँफवर ¯सह ने अपने पिता की मृत्यु के बाद सन् 1827 में अपनी रियासत की िाम्मेदारी सँभाली। उन दिनों बि्रटिश हुवूफमत का अत्याचार चरम सीमा पर था। इससे लोगों में बि्रटिश हुवूफमत के ख्िालाप़्ाफ भयंकरबहादुरशाह शप़्ाफर असंतोष उत्पन्न हो रहा था। कृष्िा, उद्योग और व्यापार का तो बहुत ही बुरा हाल था। रजवाड़ों के राजदरबार भी समाप्त हो गए थे। भारतीयोंको अपने ही देश में महत्त्वपूणर् और उँफची नौकरियों से वंचित कर दिया गया था।इससे बि्रटिश सत्ता के विरु( देशव्यापी संघषर् की स्िथति बन गइर् थी। ऐसी स्िथति में वुँफवर ¯सह ने बि्रटिश हुवूफमत से लोहा लेने का संकल्प लिया। जगदीशपुर के जंगलों में ‘बसुरिया बाबा’ नाम के एक सि( संत रहते थे। उन्होंने ही वुँफवर ¯सह में देशभक्ित एवं स्वाधीनता की भावना उत्पन्न की थी।उन्होंने बनारस, मथुरा, कानपुर, लखनऊ आदि स्थानों पर जाकर विद्रोह की सिय योजनाएँ बनाईं। वे 1845 से 1846 तक काप़्ाफी सिय रहे और गुप्त ढंग से बि्रटिश हुवूफमत के ख्िालाप़्ाफ विद्रोह की योजना बनाते रहे। उन्होंने बिहार के प्रसि( सोनपुर मेले को अपनी गुप्त बैठकों की योजना के लिए चुना। सोनपुर के मेले को एश्िाया का सबसे बड़ा पशु मेला माना जाता है। यह मेला का£तक पू£णमा के अवसर पर लगता है। यह हाथ्िायों के क्रय - विक्रय के लिए भी विख्यात है। इसी ऐतिहासिक मेले में उन दिनों स्वाधीनता के लिए लोग एकत्रा होकर क्रांति के बारे में योजना बनाते थे। 25 जुलाइर् 1857 को दानापुर की सैनिक टुकड़ी ने विद्रोह कर दिया और सैनिक सोन नदी पार कर आरा की ओर चल पड़े। वुँफवर ¯सह से उनका संपवर्फ पहले से ही था। इस मुक्ितवाहिनी के सभी बागी सैनिकों ने वुँफवर ¯सह का जयघोष करते हुए आरा पहुँचकर जेल की सलाखें तोड़ दीं और वैफदियों को आशाद कर दिया। 27 जुलाइर् 1857 को वुँफवर ¯सह ने आरा पर विजय प्राप्त की। 124 सिपाहियों ने उन्हें पफौजी सलामी दी। यद्यपि वुँफवर ¯सह बूढ़े हो चले थे परंतु वह़वीर वुँफवर ¯सह बूढ़ा शूरवीर इस अवस्था में भी यु( के लिए तत्पर होगया और आरा क्रांति का महत्त्वपूणर् वेंफद्र बन गया। दानापुर और आरा की इस लड़ाइर् की ज्वाला बिहार में सवर्त्रा व्याप्त हो गइर् थी। लेकिन देशी सैनिकों में अनुशासन की कमी, स्थानीय शमींदारों का अंग्रेशों के साथ सहयोग करना एवं आधुनिकतम शस्त्रों की कमी के कारण जगदीशपुर का पतन रोका न जा सका। 13 अगस्त को जगदीशपुर मेंमंगल पांडे वुँफवर ¯सह की सेना अंग्रेशों से परास्त हो गइर्। ¯कतु इससे वीरवर वुँफवर ¯सह का आत्मबल टूटा नहीं और वे भावी संग्राम की योजना बनाने में तत्पर हो गए। वे क्रांति के अन्य संचालक नेताओं से मिलकर इस आशादी की लड़ाइर् को आगे बढ़ाना चाहते थे। वुँफवर ¯सह सासाराम से मिशार्पुर होते हुए रीवा, कालपी,कानपुर एवं लखनऊ तक गए। लखनऊ में शांति नहीं थी इसलिए बाबू वुँफवर ¯सह ने आशमगढ़ की ओर प्रस्थान किया। उन्होंने आशादी की इस आग को बराबर जलाएरखा। उनकी वीरता की कीतिर् पूरे उत्तर भारत में पैफल गइर्। वुँफवर ¯सह की इस विजय यात्रा से अंग्रेशों के होश उड़ गए। कइर् स्थानों के सैनिक एवं राजा वुँफवर ¯सह की अधीनता में लड़े। उनकी यह आशादी की यात्रा आगे बढ़ती रही, लोग शामिल होते गए और उनकी अगुवाइर् में लड़ते रहे। इस प्रकार ग्वालियर, जबलपुर के सैनिकों केसहयोग से सपफल सैन्य रणनीति का प्रदशर्न करते हुए वे लखनऊ पहुँचे। आशमगढ़ की ओर जाने का उनका उद्देश्य थाμइलाहाबाद एवं बनारस पर आक्रमण कर शत्राुओं को पराजित करना और अंततः जगदीशपुर पर अिाकार करना। अंग्रेशों और वुँफवर ¯सह की सेना के बीच घमासान यु( हुआ। उन्होंने 22 माचर् 1858 को आशमगढ़ पर कब्शा कर लिया। अंग्रेशों ने दोबारा आशमगढ़ पर आक्रमण किया। वुँफवर ¯सह ने एक बार पिफर आशमगढ़ में अंग्रेशों को हराया। इस प्रकार अंग्रेशी सेना को परास्त कर वीर वुँफवर ¯सह 23 अप्रैल 1858 को स्वाधीनता की विजय पताका पफहराते हुए जगदीशपुर पहुँच गए। ¯कतु इस बूढ़े शेर को बहुत अिाक दिनों तक इस विजय का आनंद लेने का सौभाग्य न मिला। इसी दिन विजय उत्सव मनाते हुए लोगों ने यूनियन जैक ;अंग्रेशों का झंडाद्ध उतारकर अपना झंडा पफहराया। इसके तीन दिन बाद ही 26 अप्रैल 1858 को यह वीर इस 125संसार से विदा होकर अपनी अमर कहानी छोड़ गया। वसंत भाग - 2 स्वाधीनता सेनानी वीर वुँफवर ¯सह यु( - कला में पूरी तरह वुफशल थे। छापामार यु( करने में उन्हें महारत हासिल थी। वुँफवर ¯सह के रणकौशल को अंग्रेशी सेनानायक समझने में पूणर्तः असमथर् थे। दुश्मन को उनके सामने से या तो भागना पड़ता था या कट मरना पड़ता था। 1857 के स्वतंत्राता संग्राम में इन्होंने तलवार की जिस धार से अंग्रेशी सेना को मौत के घाट उतारा उसकी चमक आज भी भारतीय इतिहास के पृष्ठों पर अंकित है। उनकी बहादुरी के बारे में अनेक किस्से प्रचलित हैं। कहा जाता है एक बार वीर वुँफवर ¯सह को अपनी सेना के साथ गंगा पार करनी थी। अंग्रेशी सेना निरंतर उनका पीछा कर रही थी, पर वुँफवर ¯सह भी कम चतुर नहीं थे। उन्होंने अपफवाह पैफला दी कि वे अपनी सेना को बलिया के पास हाथ्िायों पऱचढ़ाकर पार कराएँगे। पिफर क्या था, अंग्रेश सेनापति डगलस बहुत बड़ी सेना लेकर बलिया के निकट गंगा तट पर पहुँचा और वुँफवर ¯सह की प्रतीक्षा करने लगा। वुँफवर ¯सह ने बलिया से सात मील दूर श्िावराजपुर नामक स्थान पर अपनी सेना को नावों से गंगा पार करा दिया। जब डगलस को इस घटना की सूचना मिली तो वह भागते हुए श्िावराजपुर पहुँचा, पर वुँफवर ¯सह की तो पूरी सेना गंगा पार कर चुकी थी। एक अंतिम नाव रह गइर् थी और वुँफवर ¯सह उसी पर सवार थे। अंग्रेश सेनापति डगलस को अच्छा मौका मिल गया। उसने गोलियाँ बरसानी आरंभ कर दीं, तब वुँफवर ¯सह के बाएँ हाथ की कलाइर् को भेदती हुइर् एक गोली निकल गइर्। वुँफवर ¯सह को लगा कि अब हाथ तो बेकार हो ही गया और गोली का शहर भी पैफलेगा, उसी क्षण उन्होंने गंगा मैया की ओर भावपूणर् नेत्रों से देखा और अपने बाएँ हाथ को काटकर गंगा मैया को अपिर्त कर दिया। वुँफवर ¯सह ने अपने ओजस्वी स्वर में कहा, फ्हे गंगा मैया! अपने प्यारे की यह अ¯कचन भेंट स्वीकार करो।य् वीर वुँफवर ¯सह ने बि्रटिश हुवूफमत के साथ लोहा तो लिया ही उन्होंने अनेक सामाजिक कायर् भी किए। आरा िाला स्वूफल के लिए शमीन दान में दी जिस पर स्वूफल के भवन का निमार्ण किया गया। कहा जाता है कि उनकी आ£थक स्िथति बहुत अच्छी नहीं थी, पिफर भी वे निधर्न व्यक्ितयों की सहायता करते थे। उन्होंने अपने इलाके में अनेक सुविधाएँ प्रदान की थीं। उनमें से एक हैμआरा - जगदीशपुर सड़क और आरा - बलिया सड़क का निमार्ण। उस समय जल की पूतिर् के लिए लोग वुफएँ खुदवाते थे और तालाब बनवाते थे। वीर वुँफवर ¯सह ने अनेक वुफएँ126 खुदवाए और जलाशय भी बनवाए। वुँफवर ¯सह उदार एवं अत्यंत संवेदनशील व्यक्ित थे। इब्राहीम खाँ और किपफायत हुसैन उनकी सेना में उच्च पदों पर आसीन थे। उनके यहाँ ¯हदुओं औऱमुसलमानों के सभी त्योहार एक साथ मिलकर मनाए जाते थे। उन्होंने पाठशालाएँ और मकतब भी बनवाए। बाबू वुँफवर ¯सह की लोकपि्रयता इतनी थी कि बिहार की कइर् लोकभाषाओं में उनकी प्रशस्ित लोकगीतों के रूप में आज भी गाइर् जाती है। बिहार के प्रसि( कवि मनोरंजन प्रसाद ¯सह ने उनकी वीरता और शौयर् का वणर्न करते हुए लिखा हैμ 127वीर वुँफवर ¯सह ने मेले का उपयोग किस रूप में किया? निबंध से आगे 1.सन् 1857 के आंदोलन में भाग लेनेवाले किन्हीं चार सेनानियों पर दो - दो वाक्य लिख्िाए। 2.सन् 1857 के क्रांतिकारियों से संबंिात गीत विभ्िान्न भाषाओं और बोलियों में गाए जाते हैं। ऐसे वुफछ गीतों को संकलित कीजिए। अनुमान और कल्पना 1.वीर वुँफवर ¯सह का पढ़ने के साथ - साथ वुफश्ती और घुड़सवारी में अध्िक मन लगता था। आपको पढ़ने के अलावा और किन - किन गतिवििायों या कामों में खूब मशा आता है? लिख्िाए। 2.सन् 1857 में अगर आप 12 वषर् के होते तो क्या करते? कल्पना करके लिख्िाए। 3.आपने भी कोइर् मेला देखा होगा। सोनपुर के मेले और इस मेले में आप क्या अंतर पाते हैं? भाषा की बात ऽ आप जानते हैं कि किसी शब्द को बहुवचन में प्रयोग करने पर उसकी वतर्नी में बदलाव आता है। जैसेμसेनानी एक व्यक्ित के लिए प्रयोग करते हैं और सेनानियों एक से अिाक के लिए। सेनानी शब्द की वतर्नी में बदलाव यह 128

>vasant-2_Chp17>

VasantBhag2-017

वीर कुँवर सिंह 17

आपने सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता ‘झाँसी की रानी’ छठी कक्षा में पढ़ी होगी। इस कविता में ठाकुर कुँवर सिंह  का नाम भी आया है। आपको कविता की पंक्तियाँ याद आ रही होंगी। एक बार फिर से इन पंक्तियों को पढ़िए-

इस स्वतंत्रता-महायज्ञ में कई वीरवर आए काम,

नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम।

अहमद शाह मौलवी, ठाकुर कुँवर सिंह सैनिक अभिराम,

भारत के इतिहास-गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम।।

यहाँ स्वतंत्रता संग्राम के उसी वीर कुँवर सिंह के बारे में जानकारी दी जा रही है। सन् 1857 के व्यापक सशस्त्र-विद्रोह ने भारत में ब्रिटिश शासन की जड़ों को हिला दिया। भारत में ब्रिटिश शासन ने जिस दमन नीति को आरंभ किया उसके विरुद्ध विद्रोह शुरू हो गया था। मार्च 1857 में बैरकपुर में अंग्रेज़ों के विरुद्ध बगावत करने पर मंगल पांडे को 8 अप्रैल 1857 को फाँसी दे दी गई। 10 मई 1857 को मेरठ में भारतीय सैनिकों ने ब्रिटिश अधिकारियों के विरुद्ध आंदोलन किया और सीधे दिल्ली की ओर कूच कर गए। दिल्ली में तैनात सैनिकों के साथ मिलकर 11 मई को उन्होंने दिल्ली पर कब्ज़ा कर लिया और अंतिम मुगल शासक बहादुरशाह ज़फ़र को भारत का शासक घोषित कर दिया। यह विद्रोह जंगल की आग की भाँति दूर-दूर तक फैल गया। कई महीनों तक उत्तरी और मध्य भारत के विस्तृत भूभाग पर विद्रोहियों का कब्ज़ा रहा।


कुँवर सिंह 

दिल्ली के अतिरिक्त जहाँ अत्यधिक भीषण युद्ध हुआ, वे केंद्र थे-कानपुर, लखनऊ, बरेली, बुंदेलखंड और आरा। इसके साथ ही देश के अन्य कई भागों में भी स्थानीय विद्रोह हुए। विद्रोह के मुख्य नेताओं में नाना साहेब, ताँत्या टोपे, बख्त खान, अज़ीमुल्ला खान, रानी लक्ष्मीबाई, बेगम हज़रत महल, कुँवर सिंह , मौलवी अहमदुल्लाह, बहादुर खान और राव तुलाराम थे। 1857 का आंदोलन स्वतंत्रता प्राप्ति की दिशा में एक दृढ़ कदम था। आगे चलकर जिस राष्ट्रीय एकता और आंदोलन की नींव पड़ी, उसकी आधारभूमि को निर्मित करने का काम 1857 के आंदोलन ने किया। भारत में सांप्रदायिक सद्भाव को बढ़ाने की दिशा में भी इस आंदोलन का विशेष महत्त्व है।


बेगम हज़रत महल

1857 के आंदोलन में वीर कुँवर सिंह का नाम कई दृष्टियों से उल्लेखनीय है। कुँवर सिंह जैसे वयोवृद्ध व्यक्ति ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ़ बहादुरी के साथ युद्ध किया।

वीर कुँवर सिंह के बचपन के बारे में बहुत अधिक जानकारी नहीं मिलती। कहा जाता है कि कुँवर सिंह का जन्म बिहार में शाहाबाद जि़ले के जगदीशपुर में सन् 1782 ई॰ में हुआ था। उनके पिता का नाम साहबज़ादा सिंह और माता का नाम पंचरतन कुँवर था। उनके पिता साहबज़ादा सिंह जगदीशपुर रियासत के ज़मींदार थे, परंतु उनको अपनी ज़मींदारी हासिल करने में बहुत संघर्ष करना पड़ा। पारिवारिक उलझनों के कारण कुँवर सिंह के पिता बचपन में उनकी ठीक से देखभाल नहीं कर सके। जगदीशपुर लौटने के बाद ही वे कुँवर सिंह की पढ़ाई-लिखाई की ठीक से व्यवस्था कर पाए।

कुँवर सिंह के पिता वीर होने के साथ-साथ स्वाभिमानी एवं उदार स्वभाव के व्यक्ति थे। उनके व्यक्तित्व का प्रभाव कुँवर सिंह पर भी पड़ा। कुँवर सिंह की शिक्षा-दीक्षा की व्यवस्था उनके पिता ने घर पर ही की, वहीं उन्होंने हिंदी, संस्कृत और फ़ारसी सीखी। परंतु पढ़ने-लिखने से अधिक उनका मन घुड़सवारी, तलवारबाज़ी और कुश्ती लड़ने में लगता था।

बहादुरशाह ज़फ़र

बाबू कुँवर सिंह ने अपने पिता की मृत्यु के बाद सन् 1827 में अपनी रियासत की जि़म्मेदारी सँभाली। उन दिनों ब्रिटिश हुकूमत का अत्याचार चरम सीमा पर था। इससे लोगों में ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ़ भयंकर असंतोष उत्पन्न हो रहा था। कृषि, उद्योग और व्यापार का तो बहुत ही बुरा हाल था। रजवाड़ों के राजदरबार भी समाप्त हो गए थे। भारतीयों को अपने ही देश में महत्त्वपूर्ण और ऊँची नौकरियों से वंचित कर दिया गया था। इससे ब्रिटिश सत्ता के विरुद्ध देशव्यापी संघर्ष की स्थिति बन गई थी। ऐसी स्थिति में कुँवर सिंह ने ब्रिटिश हुकूमत से लोहा लेने का संकल्प लिया।

जगदीशपुर के जंगलों में ‘बसुरिया बाबा’ नाम के एक सिद्ध संत रहते थे। उन्होंने ही कुँवर सिंह में देशभक्ति एवं स्वाधीनता की भावना उत्पन्न की थी। उन्होंने बनारस, मथुरा, कानपुर, लखनऊ आदि स्थानों पर जाकर विद्रोह की सक्रिय योजनाएँ बनाईं। वे 1845 से 1846 तक काफ़ी सक्रिय रहे और गुप्त ढंग से ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ़ विद्रोह की योजना बनाते रहे। उन्होंने बिहार के प्रसिद्ध सोनपुर मेले को अपनी गुप्त बैठकों की योजना के लिए चुना। सोनपुर के मेले को एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला माना जाता है। यह मेला कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर लगता है। यह हाथियों के क्रय-विक्रय के लिए भी विख्यात है। इसी ऐतिहासिक मेले में उन दिनों स्वाधीनता के लिए लोग एकत्र होकर क्रांति के बारे में योजना बनाते थे।

25 जुलाई 1857 को दानापुर की सैनिक टुकड़ी ने विद्रोह कर दिया और सैनिक सोन नदी पार कर आरा की ओर चल पड़े। कुँवर सिंह से उनका संपर्क पहले से ही था। इस मुक्तिवाहिनी के सभी बागी सैनिकों ने कुँवर सिंह का जयघोष करते हुए आरा पहुँचकर जेल की सलाखें तोड़ दीं और कैदियों को आज़ाद कर दिया। 27 जुलाई 1857 को कुँवर सिंह ने आरा पर विजय प्राप्त की। सिपाहियों ने उन्हें फ़ौजी सलामी दी। यद्यपि कुँवर सिंह बूढ़े हो चले थे परंतु वह बूढ़ा शूरवीर इस अवस्था में भी युद्ध के लिए तत्पर हो गया और आरा क्रांति का महत्त्वपूर्ण केंद्र बन गया।

दानापुर और आरा की इस लड़ाई की ज्वाला बिहार में सर्वत्र व्याप्त हो गई थी। लेकिन देशी सैनिकों में अनुशासन की कमी, स्थानीय ज़मींदारों का अंग्रेज़ों के साथ सहयोग करना एवं आधुनिकतम शस्त्रों की कमी के कारण जगदीशपुर का पतन रोका न जा सका। 13 अगस्त को जगदीशपुर में कुँवर सिंह की सेना अंग्रेज़ों से परास्त हो गई। किंतु इससे वीरवर कुँवर सिंह का आत्मबल टूटा नहीं और वे भावी संग्राम की योजना बनाने में तत्पर हो गए। वे क्रांति के अन्य संचालक नेताओं से मिलकर इस आज़ादी की लड़ाई को आगे बढ़ाना चाहते थे। कुँवर सिंह सासाराम से मिज़ार्पुर होते हुए रीवा, कालपी, कानपुर एवं लखनऊ तक गए। लखनऊ में शांति नहीं थी इसलिए बाबू कुँवर सिंह ने आज़मगढ़ की ओर प्रस्थान किया। उन्होंने आज़ादी की इस आग को बराबर जलाए रखा। उनकी वीरता की कीर्ति पूरे उत्तर भारत में फैल गई। कुँवर सिंह की इस विजय यात्रा से अंग्रेज़ों के होश उड़ गए। कई स्थानों के सैनिक एवं राजा कुँवर सिंह की अधीनता में लड़े। उनकी यह आज़ादी की यात्रा आगे बढ़ती रही, लोग शामिल होते गए और उनकी अगुवाई में लड़ते रहे। इस प्रकार ग्वालियर, जबलपुर के सैनिकों के सहयोग से सफल सैन्य रणनीति का प्रदर्शन करते हुए वे लखनऊ पहुँचे।

मंगल पांडे

आज़मगढ़ की ओर जाने का उनका उद्देश्य था-इलाहाबाद एवं बनारस पर आक्रमण कर शत्रुओं को पराजित करना और अंततः जगदीशपुर पर अधिकार करना। अंग्रेज़ों और कुँवर सिंह की सेना के बीच घमासान युद्ध हुआ। उन्होंने 22 मार्च 1858 को आज़मगढ़ पर कब्ज़ा कर लिया। अंग्रेज़ों ने दोबारा आज़मगढ़ पर आक्रमण किया। कुँवर सिंह ने एक बार फिर आज़मगढ़ में अंग्रेज़ों को हराया। इस प्रकार अंग्रेज़ी सेना को परास्त कर वीर कुँवर सिंह 23 अप्रैल 1858 को स्वाधीनता की विजय पताका फहराते हुए जगदीशपुर पहुँच गए। किंतु इस बूढ़े शेर को बहुत अधिक दिनों तक इस विजय का आनंद लेने का सौभाग्य न मिला। इसी दिन विजय उत्सव मनाते हुए लोगों ने यूनियन जैक (अंग्रेज़ों का झंडा) उतारकर अपना झंडा फहराया। इसके तीन दिन बाद ही 26 अप्रैल 1858 को यह वीर इस संसार से विदा होकर अपनी अमर कहानी छोड़ गया।

स्वाधीनता सेनानी वीर कुँवर सिंह युद्ध-कला में पूरी तरह कुशल थे। छापामार युद्ध करने में उन्हें महारत हासिल थी। कुँवर सिंह के रणकौशल को अंग्रेज़ी सेनानायक समझने में पूर्णतः असमर्थ थे। दुश्मन को उनके सामने से या तो भागना पड़ता था या कट मरना पड़ता था। 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में इन्होंने तलवार की जिस धार से अंग्रेज़ी सेना को मौत के घाट उतारा उसकी चमक आज भी भारतीय इतिहास के पृष्ठों पर अंकित है। उनकी बहादुरी के बारे में अनेक किस्से प्रचलित हैं।

कहा जाता है एक बार वीर कुँवर सिंह को अपनी सेना के साथ गंगा पार करनी थी। अंग्रेज़ी सेना निरंतर उनका पीछा कर रही थी, पर कुँवर सिंह भी कम चतुर नहीं थे। उन्होंने अफ़वाह फैला दी कि वे अपनी सेना को बलिया के पास हाथियों पर चढ़ाकर पार कराएँगे। फिर क्या था, अंग्रेज़ सेनापति डगलस बहुत बड़ी सेना लेकर बलिया के निकट गंगा तट पर पहुँचा और कुँवर सिंह की प्रतीक्षा करने लगा। कुँवर सिंह ने बलिया से सात मील दूर शिवराजपुर नामक स्थान पर अपनी सेना को नावों से गंगा पार करा दिया। जब डगलस को इस घटना की सूचना मिली तो वह भागते हुए शिवराजपुर पहुँचा, पर कुँवर सिंह की तो पूरी सेना गंगा पार कर चुकी थी। एक अंतिम नाव रह गई थी और कुँवर सिंह उसी पर सवार थे। अंग्रेज़ सेनापति डगलस को अच्छा मौका मिल गया। उसने गोलियाँ बरसानी आरंभ कर दीं, तब कुँवर सिंह के बाएँ हाथ की कलाई को भेदती हुई एक गोली निकल गई। कुँवर सिंह को लगा कि अब हाथ तो बेकार हो ही गया और गोली का ज़हर भी फैलेगा, उसी क्षण उन्होंने गंगा मैया की ओर भावपूर्ण नेत्रों से देखा और अपने बाएँ हाथ को काटकर गंगा मैया को अर्पित कर दिया। कुँवर सिंह ने अपने ओजस्वी स्वर में कहा, "हे गंगा मैया! अपने प्यारे की यह अकिंचन भेंट स्वीकार करो।"

वीर कुँवर सिंह ने ब्रिटिश हुकूमत के साथ लोहा तो लिया ही उन्होंने अनेक सामाजिक कार्य भी किए। आरा जि़ला स्कूल के लिए ज़मीन दान में दी जिस पर स्कूल के भवन का निर्माण किया गया। कहा जाता है कि उनकी आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी, फिर भी वे निर्धन व्यक्तियों की सहायता करते थे। उन्होंने अपने इलाके में अनेक सुविधाएँ प्रदान की थीं। उनमें से एक है-आरा-जगदीशपुर सड़क और आरा-बलिया सड़क का निर्माण। उस समय जल की पूर्ति के लिए लोग कुएँ खुदवाते थे और तालाब बनवाते थे। वीर कुँवर सिंह ने अनेक कुएँ खुदवाए और जलाशय भी बनवाए।

कुँवर सिंह उदार एवं अत्यंत संवेदनशील व्यक्ति थे। इब्राहीम खाँ और किफ़ायत हुसैन उनकी सेना में उच्च पदों पर आसीन थे। उनके यहाँ हिदुओं और मुसलमानों के सभी त्योहार एक साथ मिलकर मनाए जाते थे। उन्होंने पाठशालाएँ और मकतब भी बनवाए। बाबू कुँवर सिंह की लोकप्रियता इतनी थी कि बिहार की कई लोकभाषाओं में उनकी प्रशस्ति लोकगीतों के रूप में आज भी गाई जाती है। बिहार के प्रसिद्ध कवि मनोरंजन प्रसाद सिंह ने उनकी वीरता और शौर्य का वर्णन करते हुए लिखा है-

चला गया यों कुँअर अमरपुर, साहस से सब अरिदल जीत,

उसका चित्र देखकर अब भी, दुश्मन होते हैं भयभीत।

वीर-प्रसविनी-भूमि धन्य वह, धन्य वीर वह धन्य अतीत,

गाते थे और गावेंगे हम, हरदम उसकी जय का गीत।

स्वतंत्रता का सैनिक था, आज़ादी का दीवाना था,

सब कहते हैं कुँअर सिंह भी, बड़ा वीर मरदाना था।।

प्रश्न-अभ्यास

निबंध से

  1. वीर कुँवर सिंह के व्यक्तित्व की कौन-कौन सी विशेषताओं ने आपको प्रभावित किया?
  2. कुँवर सिंह को बचपन में किन कामों में मज़ा आता था? क्या उन्हें उन कामों से स्वतंत्रता सेनानी बनने में कुछ मदद मिली?
  3. सांप्रदायिक सद्भाव में कुँवर सिंह की गहरी आस्था थी-पाठ के आधार पर कथन की पुष्टि कीजिए।
  4. पाठ के किन प्रसंगों से आपको पता चलता है कि कुँवर सिंह साहसी, उदार एवं स्वाभिमानी व्यक्ति थे?
  5. आमतौर पर मेले मनोरंजन, खरीद फ़रोख्त एवं मेलजोल के लिए होते हैं।
    वीर कुँवर सिंह ने मेले का उपयोग किस रूप में किया?

    निबंध से आगे

  1. सन् 1857 के आंदोलन में भाग लेनेवाले किन्हीं चार सेनानियों पर दो-दो वाक्य लिखिए।
  2. सन् 1857 के क्रांतिकारियों से संबंधित गीत विभिन्न भाषाओं और बोलियों में गाए जाते हैं। ऐसे कुछ गीतों को संकलित कीजिए।

    अनुमान और कल्पना

  1. वीर कुँवर सिंह का पढ़ने के साथ-साथ कुश्ती और घुड़सवारी में अधिक मन लगता था। आपको पढ़ने के अलावा और किन-किन गतिविधियों या कामों में खूब मज़ा आता है? लिखिए।
  2. सन् 1857 में अगर आप 12 वर्ष के होते तो क्या करते? कल्पना करके लिखिए।
  3. अनुमान लगाइए, स्वाधीनता की योजना बनाने के लिए सोनपुर के मेले को क्यों चुना गया होगा?

    भाषा की बात

    आप जानते हैं कि किसी शब्द को बहुवचन में प्रयोग करने पर उसकी वर्तनी में बदलाव आता है। जैसे-सेनानी एक व्यक्ति के लिए प्रयोग करते हैं और सेनानियों एक से अधिक के लिए। सेनानी शब्द की वर्तनी में बदलाव यह हुआ है कि अंत के वर्ण ‘नी’ की मात्रा दीर्घ ‘ी’ (ई) से ”स्व ‘ि’ (इ) हो गई है। ऐसे शब्दों को, जिनके अंत में दीर्घ ईकार होता है, बहुवचन बनाने पर वह इकार हो जाता है, यदि शब्द के अंत में ह्रस्व इकार होता है, तो उसमें परिवर्तन नहीं होता जैसे-दृष्टि से दृष्टियों।

    नीचे दिए गए शब्दों का वचन बदलिए-

    नीति................. ज़िम्मेदारियों................. सलामी...............

    स्थिति............... स्वाभिमानियों............... गोली..................


RELOAD if chapter isn't visible.