शामμएक किसान काश का साप़्ाफा बाँधकर सूरज की चिलम खींचता बैठा है पहाड़, घुटनों पर पड़ी है नदी चादर - सी, पास ही दहक रही है पलाश के जंगल की अँगीठी अँधकार दूर पूवर् में सिमटा बैठा है भेड़ों के गल्ले - सा। अचानकμबोला मोर। जैसे किसी ने आवाश दीμ ‘सुनते हो’। चिलम औंधी धुआँ उठाμ सूरज डूबा अँधेरा छा गया। ऽ सवेर्श्वरदयाल सक्सेना कविता से 1.इस कविता में शाम के दृश्य को किसान के रूप में दिखाया गया हैμयह एक रूपक है। इसे बनाने के लिए पाँच एकरूपताओं की जोड़ी बनाइर् गइर् है। उन्हें उपमा कहते हैं। पहली एकरूपता आकाश और साप़्ोफ में दिखाते हुए कविता में ‘आकाश का सापफा’ वाक्यांश आया है। इसी तरह तीसरी एकरूपता नदी औऱचादर में दिखाइर् गइर् है, मानो नदी चादर - सी हो। अब आप दूसरी, चैथी और पाँचवी एकरूपताओं को खोजकर लिख्िाए। 2.शाम का दृश्य अपने घर की छत या ख्िाड़की से देखकर बताइएμ ;कद्धशाम कब से शुरू हुइर्? ;खद्ध तब से लेकर सूरज डूबने में कितना समय लगा? ;गद्धइस बीच आसमान में क्या - क्या परिवतर्न आए? शामμएक किसान 3.मोर के बोलने पर कवि को लगा जैसे किसी ने कहा होμ‘सुनते हो’। नीचे दिए गए पक्ष्िायों की बोली सुनकर उन्हें भी एक या दो शब्दों में बाँिाएμ कबूतर कौआ मैना तोता चील हंस कविता से आगे 1. इस कविता को चित्रिात करने के लिए किन - किन रंगों का प्रयोग करना होगा? 2. शाम के समय ये क्या करते हैं? पता लगाइए और लिख्िाएμ पक्षी ख्िालाड़ी पफलवाले माँ पेड़ - पौधे पिता जी किसान बच्चे 3. ¯हदी के एक प्रसि( कवि सुमित्रानंदन पंत ने संध्या का वणर्न इस प्रकार किया हैμ संध्या का झुटपुटμ बाँसों का झुरमुटμ है चहक रहीं चिडि़याँ टी - वी - टी - - टुट् - टुट् ऽ ऊपर दी गइर् कविता और सवेर्श्वरदयाल जी की कविता में आपको क्या मुख्य अंतर लगा? लिख्िाए। अनुमान और कल्पना ऽ शाम के बदले यदि आपको एक कविता सुबह के बारे में लिखनी हो तो किन - किन चीशों की मदद लेकर अपनी कल्पना को व्यक्त करेंगे? नीचे दी गइर् कविता की पंक्ितयों के आधर पर सोचिएμ पेड़ों के झुनझुने बजने लगेऋ लुढ़कती आ रही है सूरज की लाल गेंद। उठ मेरी बेटी, सुबह हो गइर्। 65दृसवेर्श्वरदयाल सक्सेना वसंत भाग - 2 भाषा की बात 1. नीचे लिखी पंक्ितयों में रेखांकित शब्दों को ध्यान से देख्िाएμ ;कद्धघुटनों पर पड़ी है नदी चादर - सी ;खद्ध सिमटा बैठा है भेड़ों के गल्ले - सा ;गद्धपानी का परदा - सा मेरे आसपास था हिल रहा ;घद्ध मँडराता रहता था एक मरियल - सा वुफत्ता आसपास;घद्ध दिल है छोटा - सा छोटी - सी आशा ;चद्धघास पर पुफदकती नन्ही - सी चिडि़या ्र इन पंक्ितयों में सा/सी का प्रयोग व्याकरण की दृष्िट से वैफसे शब्दों के साथ हो रहा है? 2.निम्नलिख्िात शब्दों का प्रयोग आप किन संदभो± में करेंगे? प्रत्येक शब्द के लिए दो - दो संदभर् ;वाक्यद्ध रचिए। आँधी दहक सिमटा

>vasant-2_Chp.8>

शाम-एक किसान 8


आकाश का साफ़ा बाँधकर

सूरज की चिलम खींचता

बैठा है पहाड़,

घुटनों पर पड़ी है नदी चादर-सी,

पास ही दहक रही है

पलाश के जंगल की अँगीठी

अँधकार दूर पूर्व में

सिमटा बैठा है भेड़ों के गल्ले-सा।



अचानक-बोला मोर।

जैसे किसी ने आवाज़ दी-

‘सुनते हो’।

चिलम औंधी

धुआँ उठा-

सूरज डूबा

अँधेरा छा गया।
सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

कविता के बारे में

कवि ने किसान के रूप में जाड़े की शाम के प्राकृतिक दृश्य का चित्रण किया है। इस प्राकृतिक दृश्य में पहाड़-बैठे हुए एक किसान की तरह दिखाई दे रहा है, आकाश-उसके सिर पर बँधे साफ़े के समान, पहाड़ के नीचे बहती हुई नदी-घुटनों पर रखी चादर-सी, पलाश के पेड़ों पर खिले लाल-लाल फूल-जलती अँगीठी के समान, पूर्व क्षितिज पर घना होता अँधकार-झुँड में बैठी भेड़ों जैसा और पश्चिम दिशा में डूबता सूरज-चिलम पर सुलगती आग की भाँति दिख रहा है। यह पूरा दृश्य शांत है। अचानक मोर बोल उठता है। मानो किसी ने आवाज़ लगाई-‘सुनते हो’। इसके बाद यह दृश्य घटना में बदल जाता है-चिलम उलट जाती है, आग बुझ जाती है, धुआँ उठने लगता है, सूरज डूब जाता है, शाम ढल जाती है और रात का अँधेरा छा जाता है।

प्रश्न-अभ्यास

कविता से


  1. इस कविता में शाम के दृश्य को किसान के रूप में दिखाया गया है-यह एक रूपक है। इसे बनाने के लिए पाँच एकरूपताओं की जोड़ी बनाई गई है। उन्हें उपमा कहते हैं। पहली एकरूपता आकाश और साफ़े में दिखाते हुए कविता में ‘आकाश का साफ़ा’ वाक्यांश आया है। इसी तरह तीसरी एकरूपता नदी और चादर में दिखाई गई है, मानो नदी चादर-सी हो। अब आप दूसरी, चौथी और पाँचवी एकरूपताओं को खोजकर लिखिए।
  2. शाम का दृश्य अपने घर की छत या खिड़की से देखकर बताइए-

    (क) शाम कब से शुरू हुई?

    (ख) तब से लेकर सूरज डूबने में कितना समय लगा?

    (ग) इस बीच आसमान में क्या-क्या परिवर्तन आए?

  3. मोर के बोलने पर कवि को लगा जैसे किसी ने कहा हो-‘सुनते हो’। नीचे दिए गए पक्षियों की बोली सुनकर उन्हें भी एक या दो शब्दों में बाँधिए-

    कबूतर कौआ मैना

    तोता चील हंस

    कविता से आगे

  1. इस कविता को चित्रित करने के लिए किन-किन रंगों का प्रयोग करना होगा?
  2. शाम के समय ये क्या करते हैं? पता लगाइए और लिखिए-

    पक्षी खिलाड़ी फलवाले माँ

    पेड़-पौधे पिता जी किसान बच्चे

  3. हिंदी के एक प्रसिद्ध कवि सुमित्रानंदन पंत ने संध्या का वर्णन इस प्रकार 
    किया है-

    संध्या का झुटपुट-

    बाँसों का झुरमुट-

    है चहक रहीं चिड़ियाँ

    टी-वी-टी--टुट्-टुट्

    ऊपर दी गई कविता और सर्वेश्वरदयाल जी की कविता में आपको क्या मुख्य अंतर लगा? लिखिए।

    अनुमान और कल्पना

    शाम के बदले यदि आपको एक कविता सुबह के बारे में लिखनी हो तो किन-किन चीज़ों की मदद लेकर अपनी कल्पना को व्यक्त करेंगे? नीचे दी गई कविता की पंक्तियों के आधार पर सोचिए-

    पेड़ों के झुनझुने

    बजने लगे;

    लुढ़कती आ रही है

    सूरज की लाल गेंद।

    उठ मेरी बेटी, सुबह हो गई।

    –सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

    भाषा की बात

  1. नीचे लिखी पंक्तियों में रेखांकित शब्दों को ध्यान से देखिए-

    (क) घुटनों पर पड़ी है नदी चादर-सी

    (ख) सिमटा बैठा है भेड़ों केल्ले-सा

    (ग) पानी का परदा-सा मेरे आसपास था हिल रहा

    (घ) मँडराता रहता था एक मरियल-सा कुत्ता आसपास

    (ङ) दिल है छोटा-सा छोटी-सी आशा

    (च) घास पर फुदकती न्ही-सी चिड़िया

    इन पंक्तियों में सा/सी का प्रयोग व्याकरण की दृष्टि से कैसे शब्दों के साथ हो रहा है?

    2. निम्नलिखित शब्दों का प्रयोग आप किन संदर्भों में करेंगे? प्रत्येक शब्द से दो-दो वाक्य बनाइए -

    औंधी दहक सिमटा



RELOAD if chapter isn't visible.