अध्याय 1 में आप पढ़ चुके हैं कि ‘प्रारंभ्िाक मानव’ भोजन, वस्त्रा एवं आवास के लिए पूणर् रूप से प्रवृफति पर निभर्र थाऋ लेकिन समय के साथ उसने नए कौशल विकसित करके खाद्य पदाथो± का उत्पादन, घर बनाने, यातायात एवं संचार के बेहतर साध्नों का विकास किया। इस प्रकार उसने अपने आवास के वातावरण को अपने अनुवूफल बनाया। बस्ितयाँ, वे स्थान हंै जहाँ लोग अपने लिए घर बनाते हैं। प्रारंभ्िाक मनुष्य वृक्षों एवं गुपफाओं में निवास करते थे। जब उन्होंने प़्ाफसलें उगाना आरंभ किया, तो उनके लिए एक जगह स्थायी घर बनाना आवश्यक हो गया। बस्ितयों का विकास नदी घाटियों के निकट हुआ, क्योंकि वहाँ पयार्प्त मात्रा में जल उपलब्धथा एवं भूमि उपजाऊ थी। व्यापार, वाण्िाज्य एवं विनिमार्ण के विकास के साथ ही मानव बस्ितयाँ बड़ी होती गईं। नदी घाटी के निकट बस्ती पनपने लगीं एवं सभ्यता का विकास हुआ। क्या आपको सिंध्ु, टिगरिस, नील एवं ह्वांग - ही नदियों के किनारे विकसित हुइर् सभ्यताओं के नाम याद हैं? बस्ितयाँ, स्थायी या अस्थायी हो सकती हैं। जो बस्ितयाँ वुफछ समय के लिए बनाइर् जाती हैं, उन्हंे अस्थायी बस्ितयाँ कहते हैं। घने जंगलों, गमर् एवं ठंडे रेगिस्तानों तथा पवर्तों के निवासी अकसर अस्थायी बस्ितयों में रहते है। वे आखेट, संग्रहण, स्थानांतरी वृफष्िा एवं ट्टतु - प्रवास करते हैं। यद्यपि अध्िकांश बस्ितयाँ आज स्थायी बस्ितयाँ हैं। इन बस्ितयों में लोग रहने के लिए घर बनाते हैं। )तु - प्रवास: लोगों के मौसमी आवागमन को )तु - प्रवास कहते हैं। जो लोग पशु पालते हैं, वे मौसम में परिवतर्न के अनुसार नए चरागाहों की खोज में निकल जाते हैं। मैरी का जन्मदिन था। वेे के लिए वह अपने मित्रों के साथ फक काटनगुरप्रीत की प्रतीक्षा कर रही थी। आख्िारकार थकी, खाँसती और हाँपफती हुइर् गुरप्रीत पहुँची। उसने बताया कि अत्यध्िक यातायात शाम था। मैरी की माँ मिसेस थाॅमस ने गुरप्रीत की पीठ थपथपाकर गहरी साँस भरी, ‘‘ओह!... हमारे शहर में बहुत प्रदूषण है!य् प्रसाद हाल ही में गाँव से आया था। उसने पूछा, ‘‘शहरों में इतना प्रदूषण तथा यातायात शाम क्यों होता है?य् फ्शहरों में बढ़ती आबादी के कारण दिन - प्रतिदिन वाहनों की संख्या बढ़ती जा रही है,य् मैरी के पिता मि. थाॅमस ने कहा। मैरी ने पूछा, फ्तब लोग शहर क्यों आते हैं?य् उसकीमाँ ने उत्तर दिया, फ्वे यहाँ नौकरी, बेहतर श्िाक्षा एवं चिकित्सीय सुविध की तलाश मंे आते हैं।य् मैरी ने पिफर पूछा, फ्यदि इतनी अध्िक संख्या में लोग शहर में आते रहेंगे तो ये सारे लोग कहाँ रहेंगे?य् मि. थाॅमस ने कहा, फ्यही कारण है कि अत्यध्िक संख्या में गंदी बस्ितयाँ एवं अवैध् कब्शे वाली बस्ितयाँ दिखाइर् देती हैं, जहाँ लोग भीड - भाड़ एवं अस्वास्थ्यकारी परिस्िथतियों में रहते हंै। शहरों में जल एवं विद्युत की कमी एक सामान्य समस्या हैं।य् प्रसाद ने कहा, फ्हमारे गाँव में बड़े सिनेमा घर, अच्छी सुविधओं वाले स्वूफल एवं अच्छे अस्पताल नहीं हैं, लेकिन हमारे यहाँ बहुत सारी खुली भूमि एवं साँस लेने के लिए ताशी हवा मिलती है। जब मेरे दादा जी बीमार थे, तो उनको शहर के अस्पताल में लाना पड़ा था।य् ऊपर दिए गए संवाद से बस्ितयों के दो विभ्िान्न चित्राण हमारे सामने आते हैंμ ग्रामीण एवं शहरी बस्ितयाँ। गाँव, ग्रामीण बस्ती होती हैऋ जहाँ लोग वृफष्िा, मत्स्य पालन, वानिकी, दस्तकारी एवं पशुपालन संबंध्ी कायर् करते हैं। ग्रामीण बस्ती सघन या प्रकीणर् हो सकती हैैं। सघन बस्ितयों में घर पास - पास बने होते हैं ;चित्रा 7.2द्ध। प्रकीणर् बस्ितयों में लोगों के घर दूर - दूर व्यापक क्षेत्रा में पैफले होते हैं। इस प्रकार की बस्ितयाँ मुख्यतः पहाड़ी क्षेत्रों, घने जंगल एवं अतिविषम जलवायु वाले क्षेत्रों में पाइर् जाती हैं ;चित्रा 7.3द्ध। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग अपने पयार्वरण के अनुवूफल घर बनाते हंै। अत्यध्िक वषार् वाले क्षेत्रों में ढाल वाली छत बनाते हैं। जिन स्थानों में वषार् के समय जल का जमाव होता है, वहाँ ऊँचे प्लेटपफाॅमर् अथवा स्िटल्ट पर घर बनाए जाते हैं ;चित्रा 7.4द्ध। गमर् जलवायु वाले क्षेत्रों में मि‘ी की मोटी दीवार वाले घर पाए जाते हैं, जिनकी छतें पूफस की बनी होती हैं। स्थानीय सामग्री, जैसे - पत्थर, पंक, चिकनी मिट्टðी, तृण आदि का उपयोग घर बनाने में किया जाता है। नगरीय बस्ितयों में नगर छोटी एवं शहर उनसे बड़ी बस्ितयाँ होती हैं। नगरीय क्षेत्रों में लोग निमार्ण, व्यापार एवं सेवा क्षेत्रों में कायर्रत होते हैं। अपने राज्य के वुफछ गाँवों, नगरों एवं शहरों के नाम लिख्िाए। परिवहन परिवहन लोगों एवं सामान के आवागमन के साध्न होते हैं। पुराने समय में अध्िक दूरी की यात्रा करने में अत्यध्िक समय लगता था। उस समय लोग पैदल चलते थे एवं अपने सामान को ढोने के लिए पशुओं का उपयोग करते थे। पहिए की खोज से परिवहन आसान हो गया। समय के साथ परिवहन के विभ्िान्न साध्नों का विकास होता गया, लेकिन आज भी लोग परिवहन के लिए पशुओं का उपयोग करते हैं ;चित्रा 7.5द्ध। हमारे देश में सामान्यतः गध्े, खच्चर, बैल एवं ऊँट का उपयोग किया जाता है। दक्ष्िाणी अप़फीका के ऐंडीज पवर्त के क्षेत्रा में लामा का उपयोग उसी तरह होता्रहै, जैसे तिब्बत में याक का उपयोग होता है। प्रारंभ में अन्य देशों के व्यापारियों को भारत पहुँचने में अनेक महीने लग जाते थे। वे समुद्री मागर् से या थलीय मागर् से आते थे। हवाइर् यात्रा ने परिवहन को द्रुत बना दिया है। आज भारत से यूरोप की यात्रा करने में केवल 6 से 8 घंटे का समय लगता है। इस प्रकार परिवहनके आध्ुनिक साध्न समय एवं ऊजार् की बचत करते हैं। परिवहन के उन साध्नों की एक सूची बनाएँ जिनका उपयोग आपकी कक्षा के छात्रा स्वूफल आने के लिए करते हैं। मानवीय पयार्वरण: बस्ितयाँ, परिवहन एवं संचार 49 परिवहन के चार मुख्य साध्न हैं - सड़कमागर्, रेलमागर्, जलमागर् एवं वायुमागर्। सड़कमागर् कम दूरी यातायात के सबसे अध्िक उपयोग किए जाने वाले मागर् सड़क हैं। सड़वेंफ पक्की एवं कच्ची हो सकती हंै ;चित्रा 7.6 एवं 7.7द्ध। मैदानी क्षेत्रों मेंसड़कों का घना जाल बिछा है। मरुस्थलों, वनों एवं ऊँचे पवर्त जैसे स्थानों पर भीसड़वेंफ बनी हुइर् हैं। हिमालय पवर्त पर मनाली - लेह राजमागर् विश्व के सबसे ऊँचे सड़क मागो± में से एक है। भूमिगत सड़कों को भूमिगत मागर् ;सब वेद्ध कहतेहैं। फ्रलाइर्ओवर, उत्िथत संरचनाओं के ऊपर बनाए जाते हैं। चित्रा 7.6: पक्की सड़क शायनिंग से ल्हासा के बीच चलने वाली रेलगाड़ी समुद्रतल से 4,000 मीटर की उँचाइर् पर चलती है,जिसका सबसे ऊँचा ¯बदु समुद्र तल से 5,072 मीटर है।चित्रा 7.7: कच्ची सड़क रेलमागर् रेलमागर् के द्वारा तीव्रता से एवं कम खचर् में लोगों का आवागमन एवं भारी सामान को ढोने वफा कायर् होता है। वाष्प के इंजन की खोज एवं औद्योगिक क्रांति ने रेल परिवहन के तीव्र विकास में सहायता प्रदान की। डीशल एवं विद्युत इंजनों ने व्यापक रूप से वाष्प के इंजनों का स्थान ले लिया है। सुपरपफास्ट रेलगाडि़यों से परिवहन की गति और तीव्र हो गइर् है। मैदानी भागांे में रेलमागो± का जाल व्यापक रूप से पैफला है। उन्नत प्रौद्योगिकीय कौशल से दुगर्म पहाड़ी क्षेत्रों में भी रेलमागर् बनाना संभव हो गया है, लेकिन इनकी संख्या काप़फी कम है। भारतीय रेलमागो± का जाल भली - भाँति विकसित है। यह एश्िाया में सबसे बड़ा है। जलमागर् आप पहले पढ़ चुके हंै कि प्रारंभ्िाक समय में परिवहन के लिए जलमागर् का उपयोग किया जाता था। अध्िक दूरी में भारी एवं बड़े आकार वाले सामानों को ढानेे के लिए जलमागर् सबसे सस्ता साध्न होता है। ये मुख्यतः दो प्रकार के होते हैंμअंतदेर्शीय जलमागर् एवं समुद्रीमागर्। नाव्य नदियों एवं झीलों का उपयोग अंतदेर्शीय जलमागर् के लिए होता है। वुफछमहत्त्वपूणर् अंतदेर्शीय जलमागर् हैं: गंगा - ब्रह्मपुत्रा नदी तंत्रा,उत्तरी अमेरिका में ग्रेट लेक एवं अप़्रफीका में नील नदी। समुद्री एवं महासागरीय मागोंर् का उपयोग सामान्यतः व्यापारिक माल एवं समान को एक देश से दूसरे देश मेंपहुँचाने के लिए करते हैं। ये मागर् पत्तनों से जुड़े होते हैं।विश्व के वुफछ महत्त्वपूणर् पत्तन हैंμएश्िाया में सिंगापुर एवंमुंबइर्, उत्तर अमेरिका में न्यूयाॅवर्फ एवं लाॅस एंजिल्स, दक्ष्िाण अमेरिका में रियो डि जेनेरियो, अप़फीका में डरबन्रएवं केपटाउन, आस्ट्रेलिया में सिडनी, यूरोप में लंदन;चित्रा 7.11द्ध। क्या आप विश्व के वुफछ और पत्तनों के चित्रा 7.8: अंतदेर्शीय जलमागर्भी नाम बता सकते हैं? मानवीय पयार्वरण: बस्ितयाँ, परिवहन एवं संचार 51 चित्रा 7.9: हेलीकाॅप्टर अंग्रेशी, हिंदी एवं क्षेत्राीय भाषा के वुफछ समाचारपत्रों एवं टी.वी. चैनलों के नाम लिखें। वायुमागर् बीसवीं सदी के आरंभ में विकसित यह परिवहन का सबसे तीव्र मागर् है। ईंधन की लागत अध्िक होने के कारण यह सवार्ध्िक मँहगा साध्न है। वायु यातायात खराब मौसम, जैसेाफान से वुफप्रभावित होता है। यह यातायात का ़- वुफहरे एवं तूप्अकेला साध्न है, जो सवार्ध्िक दुगर्म एवं दुरूह स्थानों तक पहुँच सकता है, विशेष रूप से जहाँ सड़क एवं रेलमागर् नहीं हैं। हेलीकाॅप्टर अगम्य स्थानों एवं संकटकालीन स्िथतियों में लोगों को बचाने एवं भोजन, जल, कपड़े एवं दवाएँबाँटने के लिए एक बहुत ही उपयोगी साध्न है ;चित्रा 7.9द्ध। वुफछ महत्त्वपूणर्हवाइर् पत्तन हैं: दिल्ली, मुंबइर्, न्यूयाॅवर्फ, लंदन, पेरिस, प्रैंफकपफटर् एवं काहिरा ;चित्रा 7.11द्ध। संचार संचार दूसरों के पास तक सूचना पहुँचाने की प्रिया है। तकनीकी विकास के साथ मानव ने संचार के नए एवं तीव्र साध्नों को विकसित कर लिया है। चित्रा 7.10 संचार तंत्रा के विकास का वणर्न करता है। संचार के क्षेत्रा में विकास से विश्व में सूचना क्रांति आइर् है। सूचना प्रदान करने के लिए श्िाक्षा तथा मनोरंजन के लिए संचार के विभ्िान्न साध्नों का उपयोग होता है। समाचारपत्रों, रेडियो एवं टेलीविजन के द्वारा हम बड़ी संख्या में लोगों के साथ संचार कर सकते हैं। इसलिए इनको जनसंपवर्फ माध्यम कहते हैं। सेटेलाइट से संचार में तीव्रता आइर् है। तेल की खोज, वनों का सवेर्क्षण, भूमिगत जल, खनिज संपदा, मौसम पूवार्नुमान एवं आपदा पूवर् चेतावनी आदि में सेटेलाइट सहायक होते हैं। अब हम इंटरनेट के माध्यम से इलेक्ट्राॅनिक मेल या इर् - मेल भेज सकते हैं। आज सेल्युलर पफोन के द्वारा बेतार टेलिपफोनिक संचार अत्यध्िक लोकपि्रय हो चुका है। इंटरनेट के माध्यम से विश्वभर में केवल सूचना एवं परस्पर समीपता ही नहीं मिलती, अपितु इनसे हमारा जीवन अध्िक सुखमय भी बन गया है। अब हम घर बैठे ही रेल, हवाइर्जहाज एवं सिनेमा या होटल तक के लिए टिकट आरक्ष्िात करवा सकते हैं। संपूणर् विश्व में इस प्रकार लोगों के बीच, लोगों एवं सेवाओं तथा संस्थाओं के बीच तीव्र गति से आपसी संपवर्फ संभव होने के कारण आज हम एक बृहद् विश्व समाज के रूप में विकसित हो रहे हैं। चित्रा 7.10: संचार माध्यमों का विकास मानवीय पयार्वरण: बस्ितयाँ, परिवहन एवं संचार 53 1.निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिएμ ;कद्ध परिवहन के चार प्रकार क्या हैं? ;खद्ध बस्ती से आप क्या समझते हैं? ;गद्ध ग्रामीण लोगों के ियाकलाप क्या हैं? ;घद्ध रेलमागर् के किन्हीं दो गुणांे के बारे में बताएँ। ;चद्ध संचार से आप क्या समझते हैं? ;छद्ध जनसंपवर्फ माध्यम क्या हैं? 2.सही ;ऽद्ध उत्तर चिित कीजिएμ ;कद्ध इनमें से कौन संचार वफा साध्न नही है? ;पद्ध टेलीप़फोन ;पपद्ध पुस्तक ;पपपद्ध मेश ;घद्ध इनमें से कौन - सा सड़क का भूमिगत निमाण्र्ा है?ंफ्रलाइर्ओवर;पद्ध ;पपद्ध एक्सप्रेस वे ;पपपद्ध सब वे ;गद्ध किसी द्वीप पर पहुँचने के लिए, निम्न में से कौन - सा यातायात का साध्न उपयुक्त है? ;पद्ध जहाश ;पपद्ध रेलगाड़ी ;पपपद्ध कार ;घद्ध यातायात का कौन - सा साध्न पयार्वरण को प्रदूष्िात नहीं करता? ;पद्ध साइकिल ;पपद्ध बस ;पपपद्ध हवाइर्जहाश 3.निम्नलिख्िात स्तंभों को मिलाकर सही जोडे़ बनाइएμ ;कद्ध इंटरनेट ;खद्ध नहर मागर् ;गद्ध नगरीय क्षेत्रा ;पद्ध ;पपद्ध ;पपपद्ध क्षेत्रा जहाँ लोग उत्पादन, व्यापार एवं सेवा क्षेत्रा में कायर् करते हैं। आस - पास निमिर्त घरों वाले क्षेत्रा स्िटल्ट पर मकान ;घद्ध सघन बस्ती ;पअद्ध ;अद्ध अंतदेर्शीय जलमागर् संचार का एक साध्न 4.कारण बताइएμ आज विश्व सिमटता जा रहा है। 5.ियाकलापμ ;कद्ध अपने स्थानीय क्षेत्रा में एक सवेर्क्षण करें एवं देखें कि लोग अपने कायर्स्थलों पर जाने के लिए कितने साधनांे का उपयोग करते हैं - ;पद्ध परिवहन के दो से अध्िक साध्न। ;पपद्ध परिवहन के तीन से अध्िक साध्न। ;पपपद्ध पैदल तय की जाने वाली दूरी में ही रहते हैं। ;खद्ध निम्नलिख्िात परिस्िथतियों में आप संचार के किस साध्न को प्राथमिकता देंगे? ;पद्ध आपके दादाजी अचानक बीमार पड़ गए। आप डाॅक्टर को वैफसे सूचित करेंगे? ;पपद्ध आपकी माँ पुराने घर को बेचना चाहती है। आप इस समाचार को दूसरों तक वैफसे पहुँचाएँगे? ;पपपद्ध आप अपने चचेरे भाइर् के विवाह में सम्िमलित होने जा रहे हैं, जिसके कारण आप अगले दो दिन तक स्वूफल से अनुपस्िथत रहेंगे। आप अपने श्िाक्षक को वैफसे सूचित करेंगे? ;पअद्ध आपका मित्रा अपने परिवार के साथ न्यूयाॅवर्फ घूमने जा रहा है। आप उसके साथ प्रतिदिन वैफसे संपवर्फ में रहेंगे?

RELOAD if chapter isn't visible.