Unit 5 26 शिक्षकों के लिए ये दो अध्याय बाजारों से जुड़े जीवन और व्यवसाय के और उसकी प्रक्रिया में आने वाले बाजारों के उदाहरण चक्रों से संबंधित हैं। इनमें से कई प्रक्रियाएँ तो हमें से इस मुद्दे को प्रस्तुत किया गया है। एक कमीज के देखने को मिल जाती हैं और उनका अवलोकन किया उत्पादन और वितरण के प्रत्येक कदम को समझते जा सकता है, किंतु कई अन्य गतिविधियाँ हमारे लिए हुए, हम यह अहसास कर पाते हैं कि इसमें होने वाली अनजानी भी बनी रहती हैं। लेन-देन की प्रक्रियाओं में कुछ लोग काफ़ी फायदे में रहते हैं और कुछ को बहुत कम या ना के बराबर ही अध्याय 8 है – 'हमारे आस-पास के बाजार'। लाभ मिल पाता है। लोगों को मिलने वाले अवसर इसमें हम एक स्तर पर बाजारों के अलग-अलग स्थानों बहुत ही असमान हैं। उत्पादनकर्ता के लिए बेहतर का अध्ययन करते हैं- एक साप्ताहिक बाजार, मोहल्ले आमदनी सुनिश्चित करने के भी तरीके हैं, जैसे- की दुकाने, एक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, इत्यादि। एक अलग सहकारी संस्थाएँ बना कर माल बेचना। फिर भी, स्तर पर हम एक पेचीदा सवाल की जाँच-पड़ताल भी समतापूर्ण वितरण के कई और व्यावहारिक व कारगर करते हैं - ‘इन बाजारों में माल कैसे पहुँचता है?' रास्तों की तलाश की जानी चाहिए। सब्ज़ी के थोक बाज़ार के एक विशेष अध्ययन के द्वारा हम समझने की कोशिश करते हैं कि बाजारों की जुड़ी | आपके स्थानीय बाजारों के अनुभवों को कक्षा की हुई एक श्रृंखला कैसे काम करती है और उसमें थोक चर्चाओं में शामिल करने का मौका भी इन अध्यायों में बाजार की क्या भूमिका होती है। वैसे तो हम 'बाजार' मिलता है। आस-पास के किसी थोक बाजार का भ्रमण शब्द को बाजार के स्थानों का पर्याय मानते रहते हैं, पर करना अच्छा रहेगा और विद्यार्थियों को कई बारीकियाँ असल में खरीदना और बेचना विभिन्न तरीकों से चलता खोजने का मौका मिलेगा, जैसे कि खरीद-फरोख्त में रहता है। इस अध्याय में इस बात पर विचार किया गया मुनाफ़े की कितनी गुंजाइश मौजूद होती है, लोगों की है कि कैसे यह सब बाजार की एक व्यापक समझ दैनिक आमदनी कितनी होती है आदि। इस खोजबीन से बनाने के लिए महत्त्वपूर्ण है। वे समाज की असमानताओं को सीधे तौर पर परख सकेंगे। लोगों के बाजार के अनुभव बहुत गहरे और | अध्याय 9 में यह देखने की कोशिश है कि विविध होते हैं। इसलिए कक्षा की चर्चाओं में ऐसे बाज़ार किस तरह अलग-अलग लोगों को अलग-अलग सवालों को समय दिया जाना चाहिए, जो अध्याय में तो अवसर उपलब्ध कराता है। एक कमीज़ की कहानी' नहीं हैं, परंतु जिन पर बच्चे बातचीत करना चाहते हों। 93 अध्याय 8 हमारे आस-पास के बाज़ार हम बाज़ार जाते हैं और बाज़ार से बहुत-सी चीजें खरीदते हैं, जैसे- सब्ज़ियाँ, साबुन, दंतमंजन, मसाले, ब्रेड, बिस्किट, चावल, दाल, कपड़े, किताबें, कॉपियाँ, आदि। हम जो कुछ खरीदते हैं, यदि उन सब की सूची बनाई जाए, तो वह काफ़ी लंबी होगी। बाज़ार भी कई प्रकार के होते हैं, जहाँ हम अपनी रोज़मर्रा की जरूरतों के लिए जाते हैं, जैसे - हमारे पड़ोस की गुमटी, साप्ताहिक हाट ( बाज़ार), बड़े-बड़े शॉपिंग कॉम्प्लेक्स और शॉपिंग मॉल। इस अध्याय में हम बाजार के इन्हीं प्रकारों को समझने की कोशिश करेंगे और यह जानने कि कोशिश करेंगे कि यहाँ बेची जाने वाली चीजें खरीदारों तक कैसे आती हैं, ये खरीदार कौन हैं, ये बेचने वाले कौन है? और इस सब के बीच कैसी और क्या समस्याएँ सामने आती हैं? लोग साप्ताहिक बाजारों में क्यों जाते हैं? तीन कारण बताइए। साप्ताहिक बाज़ार इन साप्ताहिक बाजारों में दुकानदार कौन होते हैं? बड़े व्यापारी इन बाजारों में क्यों नहीं दिखते? साप्ताहिक बाज़ार का यह नाम ही इसीलिए पड़ा है, क्योंकि यह सप्ताह के किसी एक निश्चित दिन लगता है। इस साप्ताहिक बाज़ार में रोज़ खुलनेवाली पक्की दुकानें नहीं होती हैं। व्यापारी दिन में दुकान लगाते हैं और शाम होने पर उन्हें समेट लेते हैं। अगले दिन वे अपनी दुकानें किसी और जगह पर लगाते हैं। देश-भर में ऐसे हज़ारों बाज़ार लगते हैं और लोग इनमें अपनी रोजमर्रा की ज़रूरतों की चीजें खरीदने आते हैं। साप्ताहिक बाजारों में सामान सस्ते दामों में क्यों मिल जाता है? एक उदाहरण देकर समझाइए कि लोग बाजारों में कैसे मोल-तोल करते हैं? क्या आप ऐसी स्थिति के बारे में। सोच सकते हैं, जहाँ मोल-तोल करना। अन्यायपूर्ण होगा? साप्ताहिक बाजारों में बहुत-सी चीजें सस्ते दामों पर मिल जाती हैं। ऐसा इसलिए, कि जो पक्की दकानें होती हैं, उन्हें अपनी दकानों के कई तरह के खर्चे जोड़ने होते हैं। उन्हें दुकानों का किराया, बिजली का बिल, सरकारी शुल्क आदि देना पड़ता है। इन दुकानों पर काम करने वाले कर्मचारियों की तनख्वाह भी इन्हीं खर्चे में जोड़नी होती है। साप्ताहिक बाजारों में बेची जाने वाली चीजों को दुकानदार अपने घरों में ही जमा करके रखते हैं। इन दुकानदारों के घर के लोग अकसर इनकी सहायता करते हैं, जिससे इन्हें अलग से कर्मचारी नहीं रखने पड़ते। साप्ताहिक बाज़ार में एक ही तरह के सामानों के लिए कई दुकानें होती हैं, जिससे उनमें आपस में प्रतियोगिता भी होती है। यदि एक दुकानदार किसी वस्तु के लिए अधिक कीमत माँगता है, तो लोगों के पास यह विकल्प होता है कि वे अगली दुकानों पर वही सामान देख लें, जहाँ संभव है कि वही वस्तु कम कीमत में मिल जाए। ऐसी स्थितियों में खरीदारों के पास यह अवसर भी होता है कि वे मोल-तोल करके भाव कम करवा सकें। समीर, रेडीमेड वस्त्रों का एक व्यापारी साप्ताहिक बाजारों का एक फ़ायदा यह भी होता है कि ज़रूरत का सभी सामान एक ही जगह पर मिल जाता है। सब्ज़ियों, कपड़ों, किराना सामान से लेकर बर्तन तक सभी चीजें यहाँ उपलब्ध होती हैं। अलग-अलग तरह के सामान के लिए अलग-अलग क्षेत्रों में जाने की ज़रूरत भी नहीं होती है। लोग अकसर उन बाजारों में जाना पसंद करते हैं, जहाँ सामान के विविध विकल्प उपलब्ध हों। समीर साप्ताहिक बाज़ार का एक छोटा व्यापारी है। वह शहर के एक बड़े व्यवसायी से कपड़े खरीदता है और सप्ताह भर में छः अलग-अलग जगहों के साप्ताहिक बाजारों में कपड़ों को। बेचता है। समीर और दूसरे कपड़ा व्यापारी इकट्ठे आते-जाते हैं। इसके लिए वे किराए की मिनी वैन ले लेते हैं। उसके ग्राहक सामान्यतः आस-पास के ग्रामीण होते हैं। दीपावली, पोंगल या ऐसे ही त्यौहारों के मौकों पर वह अच्छा व्यवसाय कर लेता है। मोहल्ले की दुकानें हमने देखा कि साप्ताहिक बाजार हमें कई तरह का सामान उपलब्ध करवाते हैं। बहरहाल हम अन्य तरह के बाजारों से भी 96 सामाजिक एवं राजनीतिक जीवन सुजाता और कविता एक दिन अपने मोहल्ले की दुकान से किराने का कुछ सामान खरीदने पहुँचीं। वे इस दुकान पर अकसर खरीदारी के लिए आती हैं। आज यहाँ भीड़ थी। दुकान मालकिन दो सहायकों की मदद से दुकान का काम संभाल रही थीं। जब सुजाता और कविता दुकान के अंदर पहुँची, तो सुजाता ने दुकान मालकिन को जरूरत के सामान की सूची बोल कर लिखवा दी। वे इनकी सूची के अनुसार सामान तोलने और पैक करवाने के लिए अपने कर्मचारियों को निर्देश देने लगीं। इस बीच कविता चारों तरफ़ नजर दौड़ा रही थी... बाएँ हाथ की सबसे ऊपरी शेल्फ पर अलग-अलग ब्रांड की साबुन की टिकिया रखी थीं। दूसरी शेल्फों पर दंतमंजन, टेल्कम पाउडर, शैंपू, बाल के तेल आदि रखे थे। अलग-अलग ब्रांड के और अलग-अलग रंगों में सजे सामान मन लुभा रहे थे। फ़र्श पर कुछ बोरे पड़े हुए थे। सारा सामान तोलने और बाँधने में करीब 20 मिनट लग गए। फिर सुजाता ने अपनी नोटबुक सामने कर दी। दुकान मालकिन ने नोटबुक में 1550 रुपए की संख्या दर्ज की और वापिस कर दी। उसने अपने बड़े रजिस्टर में भी यह संख्या लिख कर रख ली। अब सुजाता अपने भारी थैले लेकर बाहर निकली। अगले महीने के पहले हफ्ते में उसके घर से दुकान का हिसाब चुका दिया जाएगा। सुजाता नोटबुक लेकर दुकान क्यों गई? सामान खरीदते हैं। ऐसी बहुत-सी दुकानें हमारे मोहल्ले में भी होती क्या यह तरीका उपयोगी है? क्या इसमें हैं, जो हमें कई तरह की सेवाएँ और सामान उपलब्ध करवाती हैं। कोई समस्या भी आ सकती है? हम पास की डेयरी से दूध, किराना व्यापारी से तेल-मसाले व अन्य। खाद्य पदार्थ तथा स्टेशनरी के व्यापारी से कागज-कलम या फिर आपके मोहल्ले में अलग-अलग प्रकार दवाइयों की दुकान से दवाई भी खरीद सकते हैं। इस तरह की दुकानें । | की कौन-सी दुकानें हैं? आप उनसे | क्या-क्या खरीदते हैं? अकसर पक्की और स्थायी होती हैं, जबकि सड़क किनारे फुटपाथ पर सब्जियों के कुछ छोटे दुकानदार, फल विक्रेता और कुछ गाड़ी सड़क किनारे की दुकानों या मैकेनिक आदि भी दिखाई देते हैं। साप्ताहिक बाजार में मिलने वाले सामान की तुलना में पक्की दुकानों पड़ोस की दुकानें कई अर्थों में बहुत उपयोगी होती हैं। हमारे घरों से मिलने वाला सामान मँहगा क्यों के करीब तो वे होती ही हैं और हम सप्ताह के किसी भी दिन और | होता है? अध्याय 8 – हमारे आस-पास के बाजार 97 किसी भी समय इन दुकानों पर जा सकते हैं। समान्यतः दुकानदार और खरीदार एक-दूसरे से परिचित भी हो जाते हैं और दुकानदार, ग्राहकों के लिए उधार भी देने को तैयार होते हैं। यानी कि आज अंजल मॉल एक पाँच-मंजिला शॉपिंग कॉम्प्लेक्स है। कविता और सुजाता इसमें लिफ्ट से ऊपर जाने और नीचे आने का आनंद ले रहीं थीं। यह काँच की बनी लगती थी और वे इसमें से बाहर का नजारा देखती हुई ऊपर-नीचे जा रहीं थीं। उन्हें यहाँ आइसक्रीम, बर्गर, पिज्जा आदि खाने की चीजें, घरेलू उपयोग का सामान, चमड़े के जूते, किताबें आदि तरह-तरह की दुकानों को देखना चमत्कृत कर रहा था। मॉल के तीसरे तल पर घूमते हुए वे दोनों एक ब्रांडेड रेडीमेड कपड़ों की दुकान में पहुँच गईं। सुरक्षा कर्मचारी ने उन्हें कुछ इस तरह देखा कि वह इन्हें रोक देना चाहता हो, परंतु उसने कुछ कहा नहीं। उन्होंने कुछ कपड़े और उन पर लगी कीमत की पर्चियाँ देखीं। एक भी कपड़ा 2000 रुपए से कम का नहीं था। यह कीमत साप्ताहिक बाज़ार के कपड़ों की तुलना में लगभग पाँच गुना अधिक थी। सुजाता, कविता से फुसफुसाती हुई बोली “मैं तुम्हें एक दूसरी दुकान पर ले चलूंगी जहाँ अच्छी किस्म का कपड़ा ज्यादा ठीक दामों पर मिल जाएगा।” खरीदे गए सामान का भुगतान बाद में भी करने की सुविधा होती है, जैसा कि सुजाता के उदाहरण में हमने देखा।। आप क्या सोचते हैं, सुरक्षा कर्मचारी ने सुजाता और कविता को अंदर जाने से रोकना क्यों चाहा होगा? यदि कहीं। किसी बाज़ार में कोई आपको ऐसी ही । | दुकान में अंदर जाने से रोके, तो आप क्या कहेंगे? आपने ध्यान दिया होगा कि हमारे पड़ोस में भी कई तरह के दुकानदार होते हैं। कुछ तो पक्की दुकानों वाले होते हैं और कुछ सड़क किनारे दुकानें सजाकर सामान बेचते हैं। 98 सामाजिक एवं राजनीतिक जीवन शॉपिंग कॉम्प्लेक्स और मॉल इस प्रकार अभी हमने दो प्रकार के बाज़ार देखे पहला, साप्ताहिक बाज़ार ऐसा क्यों होता है कि लोग मॉल में और दूसरा, पड़ोस की दुकानों का बाज़ार। शहरों में कुछ अन्य प्रकार के दुकानदारों से मोल-तोल नहीं करते हैं; बाजार भी होते हैं, जहाँ एक साथ कई तरह की दुकानें होती हैं। इन्हें लोग जबकि साप्ताहिक बाजारों में ऐसा खूब शॉपिंग कॉम्प्लेक्स के नाम से जानते हैं। अब तो कुछ शहरी इलाकों में किया जाता है? आपको बहुमंज़िला वातानुकूलित दुकानें भी देखने को मिलेंगी, जिनकी अलग-अलग मंज़िलों पर अलग-अलग तरह की वस्तुएँ मिलती हैं। इन्हें मॉल कहा जाता है। इन शहरी दुकानों में आपको बड़ी-बड़ी कंपनियों का ब्रांडेड सामान भी मिलता है और कुछ बिना ब्रांड का सामान भी मिलता है। विज्ञापन वाले अध्याय में आपने पढ़ा था कि ब्रांडेड सामान जिसे कंपनियाँ बड़े-बड़े विज्ञापन देकर और क्वालिटी के दावे करके बेचती हैं, महँगा होता है। कंपनियाँ अपने ब्रांडेड उत्पादों को बड़े शहरी बाजारों और अपने विशेष शोरूमों में बेचने के लिए रखती हैं। बिना ब्रांड के उत्पादों की तुलना में इस ब्रांडेड सामान की कीमत का बोझ केवल कुछ लोग ही आपको क्या लगता है, आपके मोहल्ले उठा पाते हैं। की दुकान में सामान कैसे आता है? पता लगाइए और कुछ उदाहरणों से समझाइए। बाज़ारों की श्रृंखला थोक व्यापारी की भूमिका जरूरी क्यों पहले हिस्से में आपने विभिन्न तरह के बाजारों के बारे में पढ़ा, जहाँ होती है? हम सामान खरीदने जाते हैं। क्या आप सोच सकते हैं कि ये सभी दुकानदार अपनी दुकानों के लिए सामान कहाँ से लेकर आते हैं? सामानों का उत्पादन कारखानों, खेतों और घरों में होता है, लेकिन हम कारखानों और खेतों से सीधे सामान नहीं खरीदते हैं। चीजों का उत्पादन करने वाले भी हमें कम मात्रा में, जैसे - एक किलो सब्ज़ी या एक प्लास्टिक कप आदि बेचने में रुचि नहीं रखेंगे। आज़ाद पुर | वे लोग, जो वस्तु के उत्पादक और वस्तु के उपभोक्ता के बीच में होते हैं, उन्हें व्यापारी कहा जाता है। पहले थोक व्यापारी बड़ी दरियागंज केशोपुर मात्रा या संख्या में सामान खरीद लेता है। जैसे - सब्ज़ियों का थोक व्यापारी कुछ किलो सब्ज़ी नहीं खरीदता है बल्कि वह बड़ी मात्रा में 3710ml 25 से 100 किलो तक सब्ज़ियाँ खरीद लेता है। इन्हें वह दूसरे व्यापारियों को बेचता है। यहाँ खरीदने वाले और बेचने वाले दोनों व्यापारी होते हैं। व्यापारियों की लंबी श्रृंखला का वह अंतिम व्यापारी जो अंततः वस्तुएँ उपभोक्ता को बेचता है, खुदरा या फुटकर व्यापारी कहलाता है। यह वही दुकानदार होता है, जो आपको पड़ोस की दिल्ली के 10 थोक बाज़ारों में से चार ऊपर दिए दिल्ली के 10 थोक बाजारों में से चार ऊपर दिए दुकानों, साप्ताहिक बाजार या फिर शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में सामान गए नक्शे में दिखाए गए हैं। बेचता मिलता है। T अध्याय 8 - हमारे आस-पास के बाजार 99 हम इसे यहाँ दिए गए उदाहरणों से समझेंगे - हर शहर में थोक बाज़ार का एक क्षेत्र होता है। यहाँ वस्तुएँ पहले पहुँचती हैं और यहीं से वे अन्य व्यापारियों तक पहुँचती हैं। सड़क किनारे की दुकान का छोटा व्यापारी, जिसके बारे में आपने पहले पढ़ा था, बड़ी संख्या में प्लास्टिक का सामान शहर के थोक व्यापारी से आफ़ताब- शहर में सब्ज़ियों का थोक व्यापारी आफ़ताब उन थोक व्यापारियों में से एक है, जो बहुत बड़ी मात्रा में खरीदारी करते हैं। उसका व्यवसाय सुबह लगभग 3 बजे से आरंभ होता है। इसी समय सब्ज़ियाँ, बाज़ार में पहुँचती हैं। यही समय है, जब सब्ज़ी बाज़ार या सब्जी मंडी में गतिविधियाँ तेज हो रही होती हैं। आस-पास और दूर-दराज के खेतों से ट्रकों, मेटाडोर, ट्रैक्टर की ट्रॉलियों में सब्जियाँ यहाँ आने लगती हैं। जल्दी ही नीलामी की प्रकिया आरंभ हो जाती है। आफ़ताब भी इस नीलामी में शामिल होता है। सब्ज़ियाँ देखकर वह तय करता है कि आज वह क्या खरीदेगा। उदाहरण के लिए - वह आज 5 क्विंटल फूल गोभी और 10 क्विटल प्याज खरीदता है। शहर में उसकी एक दुकान और गोदाम है, जहाँ वह सब्जियों को रखता और बेचता है। यहाँ वह फुटकर व्यापारियों को सब्ज़ियाँ बेचता है, जो सुबह छह बजे के आस-पास वहाँ आने लगते हैं। यहाँ से दिन-भर के लिए खरीदारी करने के बाद ये छोटे व्यापारी लगभग 10 बजे के आस-पास अपने क्षेत्र में अपनी दुकानें खोल लेते हैं। खरीदता है। हो सकता है कि वह बड़ा व्यापारी अपने से भी बड़े थोक व्यापारी से स्वयं सामान खरीदता हो। शहर का बड़ा थोक व्यापारी प्लास्टिक का यह सामान कारखाने से खरीदता है और उन्हें बड़े गोदामों में रखता है। इस तरह से बाजार की एक श्रृंखला बनती है। जब हम एक सामान खरीदते हैं, तब हम यह ध्यान नहीं देते हैं कि वह सामान किस-किस के पास से सफ़र करता हुआ हम तक पहुँचता है। हर जगह बाज़ार हमने देखा कि अलग-अलग जगहों पर तरह-तरह के बाजार हैं, जहाँ तरह-तरह की वस्तुएँ खरीदी-बेची जाती हैं। ये बाज़ार अपनी-अपनी जगहों और समय पर अपनी तरह से काम करते हैं। कई बार तो यह भी आवश्यक नहीं होता है, कि आप सामान खरीदने के लिए बाज़ार जाएँ। अब तो तरह-तरह के सामान के लिए फोन या इंटरनेट पर भी ऑर्डर दे दिए जाते हैं और सामान आपके घर तक पहुँचा दिया जाता 1 0 0 सामाजिक एवं राजनीतिक जीवन शहरी क्षेत्रों के लोग इन्टरनेट के जरिए घर से बाहर कदम रखे बिना ही बाजार में प्रवेश कर लेते हैं। वे अपने क्रेडिट कार्ड से ऑनलाइन खरीदारी कर लेते हैं। है। आपने देखा होगा कि नर्सिंग होम और डॉक्टर के क्लीनिक में भी कुछ कंपनियों के प्रतिनिधि अपना सामान बेचने का कार्य कर रहे होते हैं। इस तरह हम देखते हैं कि बेचना-खरीदना कई तरीकों से चलता रहता है। यह जरूरी नहीं है कि वह केवल बाजार की दुकानों से ही होता हो। ये तो बाज़ार के वे रूप हैं, जो हमें सीधे तौर पर दिखाई देते हैं। ऐसे भी कुछ बाज़ार होते हैं, जिनके बारे में हमारी जानकारी कम ही होती है, क्योंकि यहाँ बिकने और खरीदी जाने वाली चीजें हम सीधे प्रयोग नहीं करते हैं। जैसे - एक किसान अपनी फ़सल की पैदावार बढ़ाने के लिए कुछ खाद और उर्वरकों का इस्तेमाल करता है। ये उर्वरक वह शहर की कुछ खास दुकानों से खरीदता है, जहाँ खाद के कारखानों से माल मँगाया जाता है। एक कार के कारखाने के द्वारा इंजन, गियर्स, पेट्रोल टंकियाँ, एक्सेल, पहिए आदि अलग-अलग कारखानों से खरीदे जाते हैं, परंतु इस सबसे बेखबर हम कार के । शोरूम में अंतिम उत्पाद, कार को ही देखते हैं। सभी चीजों के बनाने और बेचने की ऐसी ही कहानी होती है। एक कारखाने में जोड़ी जा रही है कार बाज़ार और समानता इस अध्याय में हमने अपने आस-पास के कुछ बाज़ारों पर नजर डाली। हमने साप्ताहिक बाजार से लेकर शॉपिंग कॉम्प्लेक्स तक की दुकानों और दुकानदारों को देखा। इन दोनों दुकानदारों में बड़ा अंतर है। एक छोटी पूँजी से व्यवसाय करने वाला दुकानदार है, अध्याय 8 - हमारे आस-पास के बाज़ार 101 ऐसे मॉल ब्रांडेड और महंगी वस्तुएँ बेचते हैं। जबकि दूसरा अपनी दुकान के लिए बड़ी पूँजी खर्च कर सकता है। इनकी आमदनी भी अलग-अलग होती है। साप्ताहिक बाजार का छोटा दुकानदार शॉपिंग कॉम्प्लेक्स के व्यापारी की तुलना में बहुत कम लाभ कमा पाता है। इसी तरह खरीदारों की भी अलग-अलग स्थितियाँ हैं। ऐसे बहुत से लोग हैं, जो सबसे सस्ता मिलने वाला सामान भी खरीद पाने की स्थिति में नहीं हैं, जबकि दूसरी ओर लोग मॉलों में महँगी खरीदारी करने में व्यस्त रहते हैं। इस तरह कुछ हद तक अन्य कारणों के अलावा हमारी आर्थिक स्थिति ही यह तय करती है कि हम किन बाजारों में खरीदार या दुकानदार हो सकते हैं। हमने सामान के उत्पादन से लेकर, हम तक पहुँचने से बनने वाली बाज़ारों की श्रृंखला को समझा। इस श्रृंखला से ही यह संभव होता है कि एक जगह उत्पादित होने वाला सामान, लोगों के लिए हर जगह उपलब्ध हो जाए। वस्तुओं के बिकने से वस्तुओं का उत्पादन सीधे जुड़ा होता है। बनी हुई चीजों के बिकने से ही लोगों को रोजगार मिलता है और उत्पादन भी बढ़ाया जाता है, परंतु क्या इससे श्रृंखला के प्रत्येक स्तर पर लाभ के समान अवसर मिलते हैं? आगे ‘एक कमीज की कहानी' अध्याय में हम इस सवाल को समझने का प्रयास करेंगे। 102 सामाजिक एवं राजनीतिक जीवन 1. एक फेरीवाला, किसी दुकानदार से कैसे भिन्न है? 2. निम्न तालिका के आधार पर एक साप्ताहिक बाजार और एक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स की तुलना करते हुए उनका अंतर स्पष्ट कीजिए। बाज़ार वस्तुओं का मूल्य । विक्रेता बेची जाने वाली वस्तुओं के प्रकार ग्राहक साप्ताहिक बाजार शॉपिंग कॉम्प्लेक्स 3. स्पष्ट कीजिए कि बाजारों की श्रृंखला कैसे बनती है? इससे किन उद्देश्यों की पूर्ति होती है? 4. सब लोगों को बाजार में किसी भी दुकान पर जाने का समान अधिकार है। क्या आपके विचार से महँगे उत्पादों की दुकानों के बारे में यह बात सत्य है? उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए। 5. बाजार में जाए बिना भी खरीदना और बेचना हो सकता है। उदाहरण देकर इस कथन की व्याख्या कीजिए। शब्द-संकलन साप्ताहिक बाजार - ये बाजार नियमित बाजार नहीं होते हैं वरन् एक नियत स्थान पर सप्ताह में एक या दो बार लगाए जाते हैं। इन बाजारों में घरेलू सामान की लगभग सभी चीजे बिकती हैं, जैसे- सब्ज़ी से लेकर कपड़े और बर्तन आदि। मॉल - यह चारों ओर से घिरा हुआ दुकानदारी का स्थान होता है। इसकी इमारत बहुत बड़ी होती है, जिसमें कई मंजिलें, दुकानें, रेस्तराँ और कभी-कभी सिनेमाघर तक होते हैं। इन दुकानों में प्रायः ब्रांडों वाले उत्पाद बिकते हैं। थोक - इसका आशय बहुत बड़ी मात्रा में खरीदना और बेचना होता है। अधिकांश उत्पादों जिनमें सब्जी, फल और फूल आदि भी सम्मिलित हैं, के अपने-अपने विशेष थोक बाज़ार होते हैं। बाज़ारों की श्रृंखला - यह बाजारों की एक श्रृंखला है, जो परस्पर एक-दूसरे से कड़ियों की तरह जुड़ी होती है, क्योंकि उत्पाद एक बाज़ार से होते हुए दूसरे बाजार में पहुँचते हैं। अध्याय 8 - हमारे आस-पास के बाज़ार 103

RELOAD if chapter isn't visible.