7 पौधें को जानिए बाहर निकलकर अपने चारों ओर के पौधें का प्रेक्षण कीजिए। क्या आप देखते हैं कि वुफछ पौधे छोटे हैं और वुफछ विशालकाय, जबकि वुफछ धरती पर हरे धब्बों की तरह दिखाइर् देते हैं?वुफछ पौधंे की पिायाँ हरी होती हैंजबकि वुफछ की पिायाँ लालिमायुक्त होती हैं। वुफछ पौधंे के पूफल बड़े एवं लाल हैं, वुफछ नीले तथा वुफछ पौधें में पुष्प ही नहीं होते। आपने अपने घर के आस - पास, विद्यालय के रास्ते में, बाग - बगीचे एवं विद्यालय प्रांगण में अनेक हरे पौध्े देखे होंगे। आइए, हम पौध्े के विभ्िान्न भागांे के विषय में जानें इससे हमें विभ्िान्न प्रकार के पौधें के बीच अंतर समझने में सहायता मिलेगी। क्या आप चित्रा 7.1 में पौध्े के तने, शाखाओं,जड़, पिायों इत्यादि को नामांकित कर सकते हैं? इन भागों में रंग भरिए। चित्रा 7.1 पौध्े के भाग आइए, प्रकृति की सैर करें और पौधें से मित्राता कर उनके विषय में अध्िक जानकारी प्राप्त करें ;चित्रा 7.2द्ध। 7.1 शाक, झाड़ी एवं वृक्ष ियाकलाप 1 उन पौधें के तने एवं शाखाओं को ध्यानपूवर्क देख्िाए: ऽ जो आपसे कम लंबे हैं। ऽ जिनकी लंबाइर् लगभग आपके बराबर है तथा ऽ जो आपसे बहुत अध्िक लंबे हैं। तने को स्पशर् कीजिए तथा यह जानने के लिए कि तना कोमल है अथवा कठोर, इसे ध्ीरे से एक ओर मोड़ने का प्रयास कीजिए। ध्यान रखें कि वह टूटे नहीं। लंबे पौधें के तने की मोटाइर् मापने का प्रयास करें। विज्ञान सारणी 7.1: पौधें के संवगर् पौध्े कानाम काॅलम 1ऊँचाइर् काॅलम 2तना काॅलम 3शाखाएँ कहाँ से निकली हैं काॅलम 4 हरा कोमल मोटा कठोर तने के आधर से तने के ऊपर से पौध्े का संवगर् टमाटर मुझसे छोटा हाँ हाँ शाक आम मुझसे बहुत लंबा हाँ हाँ हाँ वृक्ष नींबू मुझसे थोड़ा लंबा हाँ हाँ झाड़ी हमें यह भी जानना चाहिए कि शाखाएँ भूमि केपास तने के आधर से अथवा वुफछ ऊँचाइर् के बाद निकलती हैं। अब हम प्रेक्ष्िात सभी पौधों को सारणी 7.1 मेंवगीर्कृत करेंगे। वुफछ उदाहरण दिखाए गए हैं। आप और अिाक पौधों के लिए 1, 2 एवं 3 काॅलमों को भर सकते हैं। इस अनुच्छेद के बाद के अंश को पढ़कर काॅलम 4 को भरें। सुझाव: पौधें को कम से कम क्षति पहुँचे इसलिए आप 4 - 5 विद्याथ्िार्यों के समूह में कायर् कर सकते हैं। कोमल तने वाले पौधें के अध्ययन के लिए खरपतवार का प्रयोग करें। क्या आप जानते हैं कि खरपतवार क्या हैं? खेतों में, बगीचे एवं गमलों में वुफछ अनचाहे पौधे स्वतः ही उग आते हैं। क्या आपने किसानों को इन खरपतवारों को खेतों से उखाड़ते हुए देखा है? पौधें को जानिए इन लक्षणों के आधर पर हम अध्िकांशपौधें को 3 संवगो± में वगीर्कृत कर सकते हैं। ये वगर् हैं: शाक, झाड़ी एवं वृक्ष। इन्हें चित्रा 7.3 में दशार्या गया है। हरे एवं कोमल तने वाले पौध्े शाक कहलाते हैं। ये सामान्यतः छोटे होते हैं ख्चित्रा 7.3 ;ंद्ध, और अक्सर इनमें कइर् शाखाएँ नहीं होतीं। ;ंद्ध चित्रा 7.3 ;ंद्ध शाक, ;इद्ध झाड़ी एवं ;बद्ध वृक्ष 53 वुफछ पौधें में शाखाएँ तने के आधर के समीप से निकलती हैं। तना कठोर होता है परंतु अध्िक मोटा नहीं होता। इन्हें झाड़ी कहते हैं ख्चित्रा 7.3 ;इद्ध,। वुफछ पौध्े बहुत ऊँचे होते हैं तथा इनके तने सुदृढ़ एवं गहरे भूरे होते हैं। इनमें शाखाएँ भूमि से अध्िकऊँचाइर् पर तने के ऊपरी भाग से निकलती हैं। इन्हें वृक्ष कहते हैं ख्चित्रा 7.3 ;बद्ध,। उपयुर्क्त अभ्िालक्षणांे के आधर पर क्या आपसूचीबद्व पौधंे को सही प्रकार से वगीर्कृत कर सारणी 7.1 में काॅलम 4 को भर सकते हैं? 7.2 तना ियाकलाप 2 आवश्यक सामग्रीः एक गिलास, जल, लाल स्याही, शाकीय पौध तथा एक ब्लेड। गिलास को एक तिहाइर् जल से भरें। जल में लाल स्याही की वुफछ बूंदें डाल दें। शाक के तने को आधर से काटकर गिलास में रखें, जैसा कि चित्रा 7.5 में दिखाया गया है। अगले दिन इन शाखाओं का अवलोकन कीजिए। चित्रा 7.6 ;ंद्ध तने में जल ऊपर चढ़ता है। ;इद्ध तने के खुले कमजोर तने वाले पौध्े सीध्े खड़े नहीं हो सकते और ये भूमि पर पैफल जाते हैं। इन्हें विसपीर् लता कहते हैं। जब कि वुफछ पौध्े चित्रा 7.5 तना क्या कायर् करता है? क्या इस शाक के वुफछ भाग लाल नजर आते हैं! यदि हाँ, तो क्या आप बता सकते हैं कि यह लाल रंग यहाँ तक वैफसे पहुँचा? चे की सहायता से उफपर चढ़ जाते हैं। ऐसे पौध्े आरोही ;चित्रा 7.4द्ध कहलाते हैं। ये शाक, झाड़ी और पेड़ांे से भ्िान्न हैं। चित्रा 7.4संभवतः आप अपने विद्यालय सिरे का विवध्िर्त दृश्यआरोही लताअथवा घर पर वुफछ पौधें की इस ियाकलाप में हमने देखा कि जल तने मेंदेखभाल करते होंगे। अपने घर अथवा विद्यालय में ऊपर की ओर चढ़ता है अथार्त् तना जल का पाए जाने वाले वृक्ष, झाड़ी अथवा विसपीर् लता के संवहन करता है। लाल स्याही की भाँति जल में दो - दो पौधों के नाम लिख्िाए। विलीन खनिज, जल ेवफ साथ तने में उफपर आस - पास के ढाँविज्ञान पहँुच जाते हैं। जल तथा खनिज तने की पतलीनलिकाओं द्वारा पिायों तथा पौध्े के अन्य भागों तक पहुँचते हैं। पहेली ने सपेफद पूफलों वाले शाकों के साथ यह ियाकलाप किया। उसने सपेफद पूफलवाली एक शाखा को गिलास । में रखा तथा उसमें लाल स्याही की वुफछ बूंदें डाल दीं। दूसरी शाखा के साथ उसने कौतूहलपूणर् कायर् किया। उसने इसे लंबाइर् के अनुदिश आध्ी दूरी तक दो भागों में काटा। एक भाग को गिलास ठ में तथा दूसरे को गिलास ब् में रखा ;चित्रा 7.7द्ध। उसने गिलास ठ में लाल स्याही तथा गिलास ब् में नीली स्याही की वुफछ बूंदें डालीं। ।ठ ब् चित्रा 7.7 पहेली के पूफल गिलास । के पूफलवाली शाखा पर तथा आप गिलास ठ एवं ब् में रखी दूसरी संयुक्त पूफलवाली शाखा पर पड़ने वाले प्रभाव के विषय में अनुमान लगाएं। जब आपने ियाकलाप 2 में तने को मोटाइर् में काटा था तब क्या आपने ध्यान दिया था कि लाल रंगके अनेक ध्ब्बे तने के अंदर वृत्ताकार रूप में व्यवस्िथत हैं? क्या इससे पहेली द्वारा प्राप्त परिणाम की व्याख्या हो जाती है? आप स्वयं इस ियाकलाप को करने का प्रयास कीजिए। 7.3 पत्ती अपने आस - पास के पौधें की पिायों को देखकर अपनी नोटबुक में उनके चित्रा बनाइए। क्या इन सभीकी आकृति, आकार एवं रंग एक जैसे हैं?यह तने से किस प्रकार जुड़ी हैं? पत्ती का वह भाग जिसके द्वारा वह तने से जुड़ी होती है, पणर्वृंत पटल पणर्वृंत चित्रा 7.8 पत्ती कहलाता है। पत्ती के चपटे हरे भाग को पफलक कहते हैं ;चित्रा 7.8द्ध। क्या आप आपने आस - पासके पौधों की पिायों में इन भागों की पहचान करसकते हैं? क्या सभी पिायों में पणर्वंृत होता है।पत्ती के विषय में और अध्िक जानकारी प्राप्त करने के लिए आइए उसकी छाप लें। यदि आपसोचते हैं कि पत्ती विशेष छाप नहीं छोड़ सकती तो यह ियाकलाप आपको पुनविर्चार पर मजबूर कर देगा। ियाकलाप 3 एक पत्ती को एक सपेफद कागश अथवा अपनी काॅपी के पन्ने के नीचे रख्िाए। इसे चित्रा 7.9 में दशार्ए गए तरीके से एक ही स्थान पर दबाकर पकड़ कर रखें। अपनी पेंसिल को तिरछा पकडि़ए तथा इसकी नोक सेकागश के उस भाग को जिसके नीचे पत्ती है, धीरे - धीरे रगडि़ए। क्या आपको वुफछ रेखाओं के साथछाप दिखाइर् देती है? क्या यह छाप पत्ती की तरह है?पत्ती की इन रेख्िात संरचनाओं को श्िारा कहतेहैं। क्या आपको पत्ती के मध्य में एक मोटी श्िारा दिखाइर् देती है। इसे मध्य श्िाराकहते हैं। पिायांे पर श्िाराओं द्वारा बनाए गए डिजाइन को श्िारा - विन्यास कहते हैं। यदि यह डिजाइन मध्य श्िारा के दोनों ओर जाल जैसा है, तो यह श्िारा - विन्यास, जालिका चित्रा 7.9 पत्ती की छाप लेना पौधें को जानिए ;ंद्ध ;इद्ध चित्रा 7.10 पिायों में श्िारा - विन्यास ;ंद्ध जालिका रूपी ;इद्ध समांतर रूपी कहलाता है ख्चित्रा 7.10 ;ंद्ध,। आपने देखा होगाकि घास की पिायों में यह श्िाराएँपाॅलीथीन की खाली थैली पर भी धगा बाँध् कर धूप में रख दीजिए। वुफछ घंटों के बाद पाॅलिथीन की थैली के आंतरिक पृष्ठ को ध्यानपूवर्क देख्िाए। आप क्या देखते हैं? क्या किसी थैली के अंदर जल की बूँदें दिखाइर् देती हैं? किस थैली में जल की बूँदें दिखाइर् देती हैं? क्या आप बता सकते हैं कि यह बूंदें कहाँ से आइर्। ;ियाकलाप के बाद पाॅलिथीन की थैली को हटाना मत भूलोद्धजल की यह बूंदें पत्ती से जल वाष्प के रूप में निकलीं है। इस िया को वाष्पोत्सजर्न कहते हैं। इस क्रम वफ द्वारा पौध्े बड़ी मात्रा में जल को वायुमंडल मेंएक दूसरे के समांतर प्रेहैं। ऐसे श्िारा - विन्यास को समांतर श्िारा - विन्यास कहते हैं ख्चित्रा 7.10 ;इद्ध,। विभ्िान्न पौधें की पिायों को बिना तोड़े उनके श्िारा - विन्यास का अध्ययन कीजिए।आइए, अब यह जानने का प्रयास करें कि पिायाँं क्या कायर् करती हैं? ियाकलाप 4 आवश्यक सामग्रीः शाक ;पौधद्ध, पाॅलिथीन के दो पारदशीर् थैले तथा वुफछ धगा। इस ियाकलाप को दिन के समय करना चाहिए जब ध्ूप ख्िाली हो। इस ियाकलाप के लिए आपको स्वस्थ, भली - भाँति सिंचित और ध्ूप में रखे हुएपौधे को लेना चाहिए। किसी पौध्े की पत्ती वाली शाखा को चित्रानुसार एक पाॅलिथीन की थैली से ढककर धगे से बाँध् दीजिए ;चित्रा 7.11द्ध। दूसरे चित्रा 7.11 पिायाँ क्या कायर् करती हैं? छोड़ते हैं। आप इसके विषय में अध्याय 14 में पढ़ंेगे।हमने पिायों के ऊपर थैली को क्यों बांध? क्या पौधें के वाष्पोत्सजर्न से निकली जल वाष्प को हम अन्यथा देख पाते हैं? अध्याय 5 के उन ियाकलापों के विषय में स्मरण कीजिए जिसमें जल विभ्िान्न अवस्थाओं में बदल जाता है। क्या आप इनके नाम बता सकते हैं? उस प्रक्रम का नाम बताइए जिसके कारण जल बूंदों के रूप में पुनः पालिथीन की थैली पर दिखाइर् देने लगता है।पिायों का और भी कायर् है। आइए इसका अध्ययन करें। ियाकलाप 5 आवश्यक सामग्री: पत्ती, स्िप्रट, बीकर, परखनली, बनर्र, जल, प्लेट एवं आयोडीन विलयन।परखनली में एक पत्ती रख्िाए तथा उसमें पयार्प्तमात्रा में स्िप्रट डालें जिससे पत्ती उसमें पूणर्तः डूबी रहे। अब इस परखनली को जल से आध्े भरे बीकर में रख्िाए। बीकर को उस समय तक गमर् करते रहें जबतक पत्ती से हरा रंग पूणर्तः बाहर नहीं निकल जाता। अब पत्ती को परखनली से सावधनीपूवर्क बाहर निकालकर जल से भलीभाँति धेएँ। इसे प्लेट में रखकर आयोडीन विलयन की वुफछ बूँदें डालिए ;चित्रा 7.12द्ध। विज्ञान टिप्पणीः क्योंकि इस ियाकलाप में स्िप्रट को गमर् करना होता है। अतः अध्यापक को कक्षा में यह प्रयोग स्वयं करके दिखाना चाहिए। आप क्या देखते हैं? अपने प्रेक्षण की तुलना अध्याय 2 में खाद्य पदाथो± में विभ्िान्न पोषकों की उपस्िथति का परीक्षण के समय किए गए प्रेक्षण सेकीजिए। क्या इसका अथर् है कि पत्ती में मंड है? हमने अध्याय 2 में देखा था कि कच्चे आलू में भी मंड उपस्िथत होता है। आलू में यह मंड पौधे के अन्य भाग से आकर एकत्रिात हो जाता है। परंतु, पिायाँ प्रकाश और हरे रंग के एक पदाथर् की उपस्िथति में अपना भोजन बनाती हैं। इस प्रिया में जल एवं काबर्न डाइआक्साइड का उपयोग करती हैं। इस प्रक्रम को प्रकाश - संश्लेषण कहते हैं। इस प्रक्रम में आॅक्सीजन निष्कासित होती है।पिायों द्वारा संश्लेष्िात भोजन अंततः पौध्े के विभ्िान्न भागों में मंडल के रूप में संग्रहित हो जाता है।हम वैफसे कह सकते हैं कि पत्ती ने ही मंड का संश्लेषण किया है तथा यह पौधे के किसी और भाग से यहाँ से नहीं पहुँचा है? इसे जानने के लिए उपरोक्त ियाकलाप को वुफछ दूसरी विध्ि से दोहरा सकते हैं। पौधेयुक्त एक गमले को एक अथवा दो दिनों केलिए अंधेरे कमरे में रख्िाए। इस पौधे की एक पत्ती के आंश्िाक भाग को दोनों ओर से काले कागश से ढक दीजिए। अब इस पौधे को पूरे दिन के लिए सूयर् के प्रकाश में रख दीजिए। अब आंश्िाक रूप से काले पौधें को जानिए कागश से ढकी पत्ती को तोड़कर इसमंे मंड का परीक्षण कीजिए। आप क्या देखते हैं? क्या इस प्रयोग से आपकोयह समझने में सहायता मिली कि पत्ती का वह भाग जो सूयर् के प्रकाश में था, उसमें मंड उपस्िथत है, परंतु काले कागश से ढके भाग में नहीं। इसका अथर्है कि पत्ती सूयर् के प्रकाश की उपस्िथति में ही मंड का संश्लेषण करती है। अब तक हमने जो ियाकलाप किए उनसे हमनेदेखा कि तना पत्ती को जल पहुँचाता है। पत्ती जल का उपयोग अपना भोजन बनाने के लिए करती है,पिायांे से जल की वुफछ मात्रा का ”ास वाष्पोत्सजर्न द्वारा होता है। तने और पत्ती को जल वैफसे प्राप्त होता है? यह कायर् जड़ें करती हैं। 7.4 जड़ चित्रा 7.13 को ध्यानपूवर्क देख्िाए। पहेली और बूझो में से कौन अपने पौध्े को ठीक प्रकार से जल दे रहा है? पौध्े का कौन - सा भाग मिट्टðी के अंदर है? आइए निम्न ियाकलापों के द्वारा पौध्े के इस भाग के बारे में और अध्िक जानकारी प्राप्त करते हैं। ियाकलाप 6 आवश्यक सामग्री: दो गमले, वुफछ मिट्टðी, खुरपी, ब्लेड अथवा वैंफची एवं जल। यह ियाकलाप 4 - 5 विद्याथ्िार्यों के समूह में करना चाहिए। 57 चित्रा 7.15 रुइर् पर नवोद्भ्िाद नहीं बन जाएँ। एक सप्ताह बाद उन्हें खींचकर रुइर् से बाहर निकालने का प्रयास कीजिए ;चित्रा 7.15द्ध। क्या नवोद्भ्िाद सरलता से रुइर् से बाहर ख्िांच आता है? क्यों? ियाकलाप 6 में हमने देखा कि हम पौधें को भूमि से खींचकर आसानी से नहीं निकाल पाते। उन्हें मिट्टðी खोदकर निकालना पड़ता है। जड़ें पौधे को मिट्टð़ेद्धी में मजबूती से जमाए ;जकडरखती हैं। इन्हें मि‘ी में पौध्े का स्िथरक कहा जाता है।आपने देखा कि तने एवं पिायाँ विभ्िान्न प्रकार की होती हैं। क्या जड़ों में भी विविध्ता दिखाइर् देेती है? आइए इसका पता लगाएँ। ियाकलाप 8 चित्रा 7.16 ;ंद्ध एवं 7.16 ;इद्ध को ध्यानपूवर्क प्रेक्षण कीजिए। अब चने के पौध्े की जड़ों को देख्िाए। क्या यह चित्रा 7.16 ;ंद्ध के समान दिखती हैं अथवा चित्रा 7.16 ;इद्ध की तरह? मक्का के पौधे की जड़ें वैफसी हैं? जड़ों की आकृतियांे के चित्रा के साथ मिलान कर खाली स्थान में मक्का अथवा चना लिख्िाए। चने एवं मक्का की जड़ों में क्या समानता है? वे किस रूप में एक - दूसरे से भ्िान्न हैं? ऐसा प्रतीत होता है कि जड़ें दो प्रकार की होती हैं। क्या जड़ों के वुफछ और भी प्रकार हैं? आइए, इसका पता लगाएँ। विज्ञान चित्रा 7.16 ;ंद्ध - - - - - - - - - की जड़ें;इद्ध - - - - - - - - - की जड़ें ियाकलाप 9 खुले मैदान में जाइए जहाँ बहुत से खरपतवार उग रहे हों। वुफछ खरपतवार पौधें की मि‘ी खोद कर निकालिए और जड़ों से मिट्टðी धेकर अलग कर उनका निरीक्षण कीजिए। क्या आपने ध्यान दिया कि सभी खरपतवार पौधें की जड़ें या तो चित्रा 7.17 ;ंद्ध की तरह हैं अथवा चित्रा 7.17 ;इद्ध की तरह? जिन पौधें की जड़ें चित्रा 7.17 ;ंद्ध की तरह हैं, उनकी मुख्य जड़ को मूसला जड़ कहते हैं तथा छोटी जड़ों को पाश्वर् जड़ कहते हैं। जिन पौधें की जड़ें चित्रा 7.17 ;इद्ध के समान हैं, उनमें कोइर् मुख्य जड़ नहीं होती। सभी जड़ें एक समान दिखाइर् देती हैं। इन्हें झकड़ा जड़ अथवा रेशेदार जड़ कहते हैं। एकत्रा किए गए खरपतवार पौधें को उनकी जड़ ;ंद्ध ;इद्ध चित्रा 7.17 ;ंद्ध मूसला जड़ ;इद्ध रेशेदार जड़ पौधें को जानिए पौधंे को समूह ;ंद्ध में तथा रेशेदार जड़ वाले पौधंे को समूह ;इद्ध में रख्िाए। समूह ;ंद्ध के पौधें की पिायों को देख्िाए। इनका श्िारा - विन्यास किस प्रकार का है? समूह ;इद्ध के पौधें की पिायों का श्िारा - विन्यास किस प्रकार का है? क्या आपने ध्यान दिया कि पौध्े की पत्ती के श्िारा - विन्यास एवं जड़ के प्रकार में एक रोचक संबंध् है? क्या उन सभी पौधें, जिनका आप अध्ययन करचुके हैं, की पिायों का श्िारा - विन्यास एवं जड़ के प्रकार को सारणी 7.2 में सही रूप में भर सकते हैं? सारणी 7.2: जड़ के प्रकार एवं पिायों में श्िारा - विन्यास के प्रकार पौध्े का नाम श्िारा - विन्यासका प्रकार जड़ के प्रकार हमने देखा कि जड़ें मि‘ी से जल का अवशोषणकरती हैं तथा तना, जल एवं खनिज को पत्ती एवंपौध्े के अन्य भागों तक पहुँचाता है। पिायाँ भोजन संश्लेष्िात करती हैं। यह भोजन तने से होकर पौध्े के विभ्िान्न भागांे में संग्रहित हो जाता है। इस प्रकार की वुफछ जड़ों जैसे - गाजर, मूली, शकरवंफद, शलजम एवं टेपियोका आदि को हम खाते हैं। हम पौध्े के अन्य भागों को भी खाते हैं जहाँ भोजन भंडारित रहता है। 59 चित्रा 7.18 एक तना दो - तरपफा मागर् की तरह क्या आप इस बात से सहमत हैं कि तना दो - तरपफा मागर् ;चित्रा 7.18द्ध की तरह कायर् करता है? चित्रा मेंलिख्िाए कि तने से कौन - से पदाथर् ऊपर की ओर जाते हैं और कौन - से नीचे की ओर आते हैं। अगले परिच्छेद में हम पुष्प की संरचना का अध्ययन करेंगे। 7.5 पुष्प गुलाब के पौध्े के तीन आरेख चित्रा 7.19 ;ंद्ध, ;इद्ध, तथा ;बद्ध में दशार्ए गए हैं। कौन - सी स्िथति में आप पौधें को भली - भाँति पहचान सकते हैं? क्यों? चित्रा 7.1 में पुष्प को रंगने के लिए आपने किस रंग का प्रयोग किया था? क्या सभी पुष्प रंग - बिरंगे होते हैं? क्या आपने घास, गेहूँ, मक्का, आम अथवा ;ंद्ध ;इद्ध ;बद्ध चित्रा 7.19 गुलाब ;ंद्ध पत्ती विहीन शाखा ;इद्ध पत्ती सहित शाखा;बद्ध पत्ती एवं पुष्प सहित शाखा अध्ययन के लिए पुष्पों का चयन करते समय गेंदा, सूरजमुखी अथवा गुलंदाउदी न लें, क्योंकि यह एक पुष्प नहीं है वरन्् पुष्पों का गुच्छ है, जैसा कि आप अगली कक्षाओं में पढ़ेंगे। अमरूद के पुष्प भी देखे हैं? क्या वे चटकीले हैं? आइए, वुफछ पुष्पों का अध्ययन करेें। ियाकलाप 10 आवश्यक सामग्रीः एक पुष्प कलिका तथा निम्न में से किसी पौध्े के दो पुष्प: ध्तूरा, गुड़हल, गुलाब, सरसों, बैंगन, भ्िांडी, गुलमोहरऋ एक ब्लेड, स्लाइड अथवा कागश, आवध्र्क लेंस एवं जल। चित्रा 7.20 का ध्यानपूवर्क अवलोकन करंे। ख्िाले हुए पुष्प का प्रमुख भाग कौन - सा है? यह पुष्प की पंखुडि़याँ हैं। विभ्िान्न पुष्पों की पंखुडि़याँ अलग - अलग रंगों की होती हैं। आपके विचार में कलिका में यह पंखुडि़याँ कहाँ बंद थीं? कली का प्रमुख भाग कौन - सा है? क्याआपने ध्यान दिया कि यह भाग छोटी पत्ती की भाँति दिखाइर् देता है? इन्हें बाह्यदल कहते हैं पुष्प के बाह्यदल एवं पंखुडि़यों का भलीभांति अवलोकन कीजिएतथा निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिएः ऽ इसमें कितने बाह्यदल हैं? ऽ क्या ये आपस में जुड़े हैं अथवा स्वतंत्रा हैं? ऽ बाह्यदल एवं पंखुडि़याँ किन रंगों की हैं? ऽ आपके पूफल में पंखुडि़यों की संख्या कितनी है? विज्ञान सारणी 7.3: पुष्पों का प्रेक्षण पुष्प कानाम पंखुडि़यों केरंग एवं उनकीसंख्या बाह्यदलों कीसंख्या एवं रंग पंखुडि़याँ जुड़ी हैंअथवा स्वतंत्रा? पुंकेसर स्वतंत्रा अथवापंखुड़ी से जुड़े हुए स्त्राीकेसरउपस्िथत/ अनुपस्िथत गुलाब अनेक ;रंग ?द्ध 5 ;रंग ?द्ध पृथक स्वतंत्रा उपस्िथत ऽ क्या वे एक - दूसरे से जुड़ी हैं अथवा स्वतंत्रा हैं? ऽ क्या जुड़े हुए बाह्यदल वाले पुष्प की पंखुडि़याँ अलग - अलग हैं या संयुक्त हैं? अपनी कक्षा के सभी विद्याथ्िार्यों द्वारा विभ्िान्न पुष्पों के अध्ययन संबंध्ी प्रेक्षण सारणी 7.3 में लिख्िाए। विद्यालय अथवा किसी अन्य बगीचे में जाकर विभ्िान्न पुष्पों का अध्ययन कीजिए तथा अपने प्रेक्षण इस सारणी में लिखें। इस सारणी के अंतिम दो काॅलम भरने के लिए इस परिच्छेद को पूरा पढ़ लें। आप पुष्प के आंतरिक भाग को स्पष्ट रूप से कब देख सवफगें, जब पंखुड़ी जुड़ी हों अथवा जब वे स्वतंत्रा हों? उदाहरण के लिए ध्तूरे एवं अन्य चित्रा 7.21 घंटाकार पुष्प घंटाकार पुष्प की पंखुडि़यों को लंबाइर् में काटकर आप पुष्प के आंतरिक अंगों को स्पष्ट रूप से देख सकते हैं ;चित्रा 7.21द्ध। पुष्प के आंतरिक भागों को स्पष्ट रूप से देखने के लिए बाह्य दल एवं पंखुडि़यों को हटा दीजिए। पौधें को जानिए वतिर्का वतिर्काग्र अंडाशय चित्रा 7.24 स्त्राीकेसर के भाग पुष्प के वेंफद्र में स्िथत भाग को स्त्राीकेसर कहते हैं। यदि आप इसे पूरी तरह से नहीं देख पा रहे हों, तो पुंकेसर हटा दीजिए। चित्रा 7.24 की सहायता से स्त्राीकेसर के भागों को पहचानिए। अपने पुष्प के स्त्राीकेसर का स्वच्छ नामांकित चित्रा बनाइए। ियाकलाप 11 आइए, अब एक पुष्प के अंडाशय की संरचना का अध्ययन करें ;चित्रा 7.24द्ध। यह स्त्राीकेसर का सबसे निचला एवं पूफला हुआ भाग है। इसकी आंतरिक संरचना के अध्ययन के लिए इसे काटना पड़ता है। यह जानने के लिए कि अंडाशय को किस प्रकार काटा जाए, चित्रा 7.25 ;ंद्ध एवं ;इद्ध को ध्यान से देख्िाए। ;ंद्ध ;इद्ध चित्रा 7.25 अंडाशय का कतर्न ;ंद्ध अनुदैध्यर् काट ;इद्ध अनुप्रस्थ काट बीजाण्ड चित्रा 7.26 अंडाशय की आंतरिक संरचना ;ंद्ध लंबाइर् में काट ;इद्ध अनुप्रस्थ काट अलग - अलग पुष्पों से दो अंडाशय लीजिए। आप अंडाशय को एक स्लाइड अथवा प्लेट पर चित्रा 7.25 के अनुसार रखकर उसे दो प्रकार से काट सकते हैं। अंडाशय की काट को सूखने से बचाने के लिए प्रत्येक काट ;सेक्शनद्ध पर जल की बूंद रख्िाए। आवध्र्क लेंस की सहायता से अंडाशय की आंतरिक रचना का अध्ययन कीजिए ;चित्रा 7.26द्ध। क्या आपको अंडाशय में छोटी - छोटी गोल संरचनाएँ दिखाइर् देती हैं? इन्हें बीजांड कहते हैं। अंडाशय के आंतरिक भागांे का अपनी नोटबुक में चित्रा बनाइए। वुफछ और पुष्पांे का अध्ययन करने के लिए अपने अध्यापक के साथ विद्यालय अथवा किसी पावर्फ के बगीचे में जाइए एवं अध्िक से अध्िक पुष्पों का अध्ययन कीजिए। पुष्प के नाम जानने के लिए आप माली की सहायता ले सकते हैं। ध्यान रहे कि आवश्यकता से अध्िक पुष्प न तोड़ें। नोटबुक में जो वुफछ आपने सारणी 7.3 में लिखाहै उसके आधर पर निम्न प्रश्नांे के उत्तर दीजिए। क्या सभी पूफलों में बाह्यदल, पंखुड़ी, पुंकेसर एवं स्त्राीकेसर पाए जाते हैं? क्या पुष्प ऐसे भी है जिनमें उपयुर्क्त पुष्पांगों में से कोइर् भाग नहीं पाया जाता। क्या किसी पूफल में इनसे अलग भाग भी मिलते हैं? विज्ञान क्या आपने ऐसे पुष्प भी देखे हैं जिनमें बाह्यदल और पंखुड़ी समान दिखते हों। क्या कोइर् पुष्प ऐसा भी है जिसमें बाह्यदलों की संख्या एवं पंखुडि़यों की संख्या असमान होती है? क्या अब आप इस बात से सहमत हैं कि सभी पुष्पों की संरचना सदैव एक जैसी नहीं होती? विभ्िान्न पुष्पों में बाह्यदल, पंखुड़ी, पुंकेसर एवं स्त्राीकेसर की संख्या में अंतर हो सकता है। वुफछ पुष्पों में इनमें से वुफछ भाग अनुपस्िथत भी हो सकते हैं।आपने पत्ती, तना एवं जड़ के लक्षण एवं वुफछ कायो± के विषय में पढ़ा। हमने विभ्िान्न पुष्पों की संरचना का भी अध्ययन किया। आप पुष्पांे के कायो± के विषय में अगली कक्षाओं में पढ़ेंगे। हम पफलों के विषय में भी अगली कक्षाओं में पढ़ेंगे। आरोही संवहन शाक पाश्वर् जड़ मध्य श्िारा श्िारा - विन्यास बीजांड सामांतर श्िारा - विन्यास पंखुडि़याँ पणर्वृंत प्रकाश - संश्लेषण स्त्राीकेसर झाड़ी पुंकेसर मूसला जड़ श्िारा पौधें को जानिए ऽ पिायाँ वाष्पोत्सजर्न िया द्वारा जलवाष्प को वायु में निष्कासित करती हैं। ऽ हरी पिायाँ सूयर् के प्रकाश की उपस्िथति में वायु एवं जल से प्रकाश - संश्लेषण िया द्वारा भोजन बनाती हैं। ऽ जड़ें मिट्टðी से जल एवं खनिज पदाथो± का अवशोषण करती हैं तथा पौधें को मिट्टðी में दृढ़ता से जमाए रखती हैं। ऽ जड़ें मुख्यतः दो प्रकार की होती हैः मूसला जड़ एवं रेशेदार जड़। ऽ जालिका रुपी श्िारा - विन्यास युक्त पिायों वाले पौधें की जड़ें मूसला जड़ होती हैं जबकिसमांतर श्िारा - विन्यास युक्त पिायांे वाले पौधंे की जड़े रेशेदार होती हैं। ऽ तने द्वारा जड़ांे से पिायांे ;और दूसरे भागांेद्ध को जल और पिायांे से भोजन, पौधंे के अन्य भागों चता है।ँुतक पहऽ पुष्प के विभ्िान्न भाग हैं - बाह्यदल, पंखुड़ी, पुंकेसर एवं स्त्राीकेसर। 1. निम्न कथनों को ठीक करके लिख्िाए: ;कद्ध तना मिट्टðी से जल एवं खनिज अवशोष्िात करता है। ;खद्ध पिायाँ पौध्े को सीध खड़ा रखती हैं। ;गद्ध जड़ें जल को पिायों तक पहुँचाती हैं। ;घद्ध पुष्प में बाह्यदल एवं पंखुडि़यों की संख्या सदा समान होती है। ;घद्ध यदि किसी पुष्प के बाह्यदल परस्पर जुड़े हों तो उसकी पंखुडि़याँ भी आपस में जुड़ी होंगी। ;चद्ध यदि किसी पुष्प की पंखुडि़याँ परस्पर जुड़ी हों तो स्त्राीकेसर पंखुडि़यों से जुड़ा होगा। 2.निम्न के चित्रा बनाइएः ;कद्धपत्ती ;खद्ध मूसला जड़ ;गद्ध एक पुष्प जिसका आपने सारणी 7.3 में अध्ययन किया हो। 3.क्या आप अपने घर के आस - पास ऐसे पौध्े को जानते हैं जिसका तना लंबा परंतु दुबर्ल हो? इसका नाम लिख्िाए। आप इसे किस वगर् में रखेंगें? 4. पौध्े में तने का क्या कायर् है? 5.निम्न में से किन पिायों में जालिका रूपी श्िारा - विन्यास पाया जाता है? गेहूँ, तुलसी, मक्का, घास, धनिया, गुड़हल 6. यदि किसी पौध्े की जड़ रेशेदार हो तो उसकी पत्ती का श्िारा - विन्यास किस प्रकार का होगा? 7. यदि किसी पौध्े की पत्ती में जालिका रूपी श्िारा - विन्यास हो तो उसकी जडें़ किस प्रकार की होंगी? 64 विज्ञान 8.क्या आप किसी पौध्े की पत्ती की छाप को देखकर यह पहचान कर सकते हैं कि उसकी जड़ मूसला जड़ होगी अथवा झकड़ा जड़? वैफसे? 9.किसी पुष्प के विभ्िान्न भागों के नाम लिख्िाए। 10.निम्न में से किन पौधें के पूफल आपने देखे हैं? घास, मक्का, गेहूँ, मिचर्, टमाटर, तुलसी, पीपल, शीशम, बरगद, आम, जामुन, अमरूद, अनार, पपीता, केला, नीबू, गन्ना, आलू, मूँगपफली। 11.पौधें के उस भाग का नाम लिख्िाए जो अपना भोजन बनाता है। इस प्रक्रम को क्या कहते हैं? 12.पुष्प के किस भाग में अंडाशय मिलता है? 13.ऐसे दो पुष्पों के नाम लिख्िाए जिनमें से प्रत्येक में संयुक्त और अलग - अलग पंखुडि़याँ हों। प्रस्तावित परियोजनाएँ एवं ियाकलाप 1. पत्ती विशेषज्ञ बनिए वुफछ सप्ताह तक अनेक पिायों के साथ यह ियाकलाप कीजिए। जिस पत्ती का आपअध्ययन करना चाहते है, उसे तोड़कर एक गीले कपड़े में लपेट कर घर लाइए। अब पत्ती को अखबार के कागश के बीच पैफलाकर रख दीजिए। कागश पर एक मोटी पुस्तक रखदीजिए। आप इसे अपने गद्दे अथवा बक्से के नीचे भी रख सकते हैं। एक सप्ताह बाद पत्ती को बाहर निकालिए तथा इसके विषय में कोइर् कविता अथवा कहानी लिख्िाए। इस प्रकारपिायों के संग्रह से तैयार पुस्तक से आप पत्ती विशेषज्ञ बन सकते हैं। 2.निम्न गि्रड में पौध्े के विभ्िान्न भागों के नाम छिपे हुए हैं। ऊपर, नीचे, दाएँ, बाएँ और तियर्क दिशा में जाकर उन नामों को ढूँढिए। नाम को घेरा लगाइए और आनंद लीजिए। व् ट न् स् म् स् ल् ज् ै ज् म् ड ट म् प् छ ॅ फ भ् म् त् ठ च् प् । छ प् ड । स् र् म् ग् त् छ क् त् थ् प् स् । ड म् छ ज् ड न् त् ल् । त् । ठ स् ब् व् क् ठ म् प् स् म् म् न् व् थ् व् स् ळ भ् प् ठ । स् भ् प् प् त् श्र । स् ज्ञ न् त् ज् ड ज् छ व् ज् च् च् फ त् त् । म् म् छ ै ज् न् थ् म् भ् ट ॅ छ च् ल् । ड ळ प् ज् ै र् र् छ ब् थ् स् व् ॅ म् त् म् भ् ज् छ । भ् ै ज् । ड म् छ छ ै म् च् । स् पौधें को जानिए

RELOAD if chapter isn't visible.