4 वस्तुओं के समूह बनाना 4.1 हमारे चारों ओर की वस्तुएँ हमने देखा कि हमारे भोजन तथा वस्त्रों में बहुत अिाक विविध्ता है। हर स्थान पर इसी प्रकार की विविध्ता वाली अनेक वस्तुएँ होती हैं। हम अपने चारों ओर वुफसिर्याँ, बैलगाडि़याँ, साइर्किलें, खाना पकाने के बतर्न, पुस्तवेंफ, वस्त्रा, ख्िालौने, जल, पत्थर तथा अन्य बहुत - सी वस्तुएँ देखते हैं। इन सभी वस्तुओं की आवृफतियाँ, रंग;वणर्द्ध तथा गुण भ्िान्न - भ्िान्न होते हैं;चित्रा 4.1द्ध।अपने चारों ओर देख्िाए तथा गोल आकृति की वस्तुएँ पहचानिए। हमारी इस सूची में विभ्िान्न प्रकार की गंेद, जैसे रबड़ की गेंद, पुफटबाॅल तथा वंफचे सम्िमलित हो सकते हैं। यदि हम अपनी सूची में लगभग गोल वस्तुओं को भी सम्िमलित कर लें तो इस में सेब, संतरे तथा घड़े जैसी वस्तुओं को भी रखा जा सकता है। मान लीजिए, हम ऐसी वस्तुओं पर ध्यान दे रहेें हैं जिन्हें खाया जा सकता है, तब हम इस सूची में उन सभी मदों ;वस्तुओंद्ध को सम्िमलित कर सकते हैं जिन्हें हमने अध्याय 1 की सारण्िायों 1.1, 1.2 एवं 1.3 में सूचीब( किया था। यह भी हो सकता है कि जिन गोल वस्तुआंे की सूची हमने अभी बनाइर् है उनमें से वुफछ वस्तुएँ इस समूह में भी सम्िमलित हों। मान लीजिए, हम प्लास्िटक की बनी वस्तुओं का एक समूह बनाना चाहते हैं। बाल्िटयाँ, लंच - बाॅक्स, ख्िालौने, जल - पात्रा, पाइप ;नलियाँद्ध तथा इसी प्रकार की बहुत - सी वस्तुओं को इस समूह में स्थान मिल सकता है। अतः वस्तुओं के समूह बनाने के बहुत - से ढंग हंै। उपयुर्क्त उदाहरण में हमने वस्तुओं को समूहोंमें उनकी आकृतियों तथा जिस पदाथर् से वे बने हैं, के आधर पर बाँटा है। हमारे चारों ओर की वस्तुएँ एक अथवा एक से अिाक पदाथो± से बनी होती हैं। ये पदाथर् काँच, धतुएँ, प्लास्िटक, लकड़ी, रुइर्, कागश, पंक तथा मृदा हो सकते हैं। क्या आप पदाथो± के और अध्िक उदाहरणांे के विषय में विचार कर सकते हैं? ियाकलाप 1 आइए, अब हम अपने चारों ओर से जितनी संभव हो सके, उतनी वस्तुएँ एकत्रा करते हैं। हममें से प्रत्येक अपने घर से प्रतिदिन उपयोग होने वाली एक वस्तु ला सकता है तथा वुफछ वस्तुएँ कक्षा के कमरे से अथवा विद्यालय के बाहर से एकत्रा कर सकता है। हमारे इस संग्रह में हमारे पास क्या होगा? चाक, पेंसिल, नोटबुक, रबड़, डस्टर ;झाड़नद्ध, हथौड़ा, कील, साबुन, पहिए का आरा, बैट;बल्लाद्ध, माचिस की डिब्बी, नमक एवं आलू! हम वस्तुओं की एक ऐसी सूची भी बना सकते हंै जिनके बारे में हम केवल सोच ही सकते हैं, कक्षा के कमरे में ला नहीं सकते। उदाहरण के लिए दीवार, वृक्ष, दरवाशे, ट्रैक्टर और सड़वेंफ। इस संग्रह से उन सभी वस्तुओं को पृथक कीजिए जो कागश अथवा लकड़ी से बनी हैं। इस प्रकार आप सभी वस्तुओं को दो समूहों में बाँट सकते हैं। इनमें एक समूह की सभी वस्तुएँ कागश अथवा लकड़ी से बनी हैं तथा दूसरे समूह की वस्तुएँ इन पदाथो± से नहीं बनी हैं। इसी प्रकार हम खाना पकाने में उपयोग होने वाली वस्तुओं को पृथक कर सकते हैं। आइए, अब हम वुफछ अध्िक योजनाब( होते हैं। एकत्रा की गईं सभी वस्तुओं की सारणी 4.1 में सूची बनाइए। प्रत्येक वस्तु जिन - जिन पदाथो± से बनी है उनको पहचानने का प्रयास कीजिए। इतनी लंबी सारणी बनाना, जिसमें जितनी वस्तुएँ संभव हैं उन सभी के बारे में सूचना एकत्रा करके लिखना एक कौतुक हो सकता है। एकत्रा की गइर्ं वस्तुओं में से वुफछ वस्तुओं के पदाथो± के बारे में पता लगाना कठिन कायर् प्रतीत हो सकता है। ऐसे प्रकरणों में पदाथो± की पहचान के लिए अपने मित्रों, श्िाक्षक तथा अभ्िाभावकों से विचार - विमशर् कीजिए। वस्तुओं के समूह बनाना सारणी 4.1: वस्तुएँ तथा पदाथर् जिनसे ये बनी हैं वस्तुएँ पदाथर् जिनसे ये बनी हैं प्लेट;थालीद्ध इस्पात, काँच, प्लास्िटक ;अन्य कोइर्?द्ध पेन प्लास्िटक, धतु ियाकलाप 2 सारणी 4.2 में वुफछ सामान्य पदाथो± की सूची दी गइर् है। इनके अतिरिक्त अपनी जानकारी के और अध्िक पदाथर् आप इस सारणी के काॅलम 1 में जोड़ सकतंे हैं। अब प्रयास करके अपनी जानकारी की दैनिक उपयोग में आने वाली उन वस्तुओं के बारे में विचार कीजिए जो मुख्यतः इन्हीं पदाथो± से बनी हैं और उन्हें काॅलम 2 में सूचीब( कीजिए। इन सब सारण्िायों से हमें क्या पता चलता है? पहले हमने वस्तुओं को कइर् ढंग से समूहों में रखा। इसके पश्चात हमने यह पाया कि हमारे चारों ओर की वस्तुएँ विभ्िान्न पदाथो± से बनी हैं। कइर् बार तो कोइर् वस्तु एक ही पदाथर् से बनी होती है तो ऐसा भी होता है कि एक ही वस्तु कइर् पदाथो± से भी बनी हो सकती ह, और पिफर एक ही पदाथर् के उपयोग से कइर् वस्तुएँ ैंबनाइर् जा सकती हैं। यह वैफसे निश्िचत किया जाता है कि किसी दी गइर् वस्तु को बनाने के लिए कौन - सा पदाथर् उपयोग किया जाना चाहिए? ऐसा लगता है कि अभी हमें विभ्िान्न पदाथो± के बारे में और अिाक जानकारी प्राप्त करने की आवश्यकता है? सारणी 4.2: समान पदाथर् से बनी विभ्िान्न प्रकार की वस्तुएँ पदाथर् इन पदाथो± से बनी वस्तुएँ लकड़ी वुफसीर्, मेश, हल, बैलगाड़ी और इसके पहिए ३ कागश पुस्तवेंफ, नोटबुक, समाचारपत्रा, ख्िालौने, वैफलेंडर ३ चमड़ा प्लास्िटक रुइर् 4.2 पदाथो± के गुण क्या आपने कभी यह जानने का प्रयास किया है कि गिलास कपड़े का क्यों नहीं बनाया जाता? अध्याय 3 में कपड़े के टुकड़ों के साथ जो प्रयोग हमने किया था उसे याद कीजिए और यह ध्यान में रख्िाए कि हम गिलास का उपयोग सामान्यतः द्रवों को रखने के लिए करते हैं। इसलिए अब यदि हम कपड़े का गिलास बनाएँ तो क्या हमारा यह कायर् कापफी हास्यास्पद प्रतीत नहीं होगा ;चित्रा 4.2द्ध। गिलास बनाने के लिए हमें काँच, प्लास्िटक, धातु अथवा कोइर् ऐसा पदाथर् चित्रा 4.2 कपड़े के गिलास का उपयोग करते हुए चाहिए जो जल को रोक सकता हो। इसी प्रकार खाना पकाने वाले पात्रा बनाने के लिए कागश का उपयोग करना भी कोइर् बुिमानी का कायर् नहीं माना जाएगा। तब हम यह देखते हैं कि हमारे द्वारा किसी वस्तु को बनाने के लिए किसी पदाथर् का चयन किया जाना उस पदाथर् के गुणों तथा उपयोग की जाने वाली वस्तु के प्रयोजन पर निभर्र करता है। अतः पदाथो± के वह सब गुण क्या हैं जो उसके उपयोग के लिए महत्वपूणर् होते हैं? नीचे वुफछ गुणों की विवेचना की गइर् है। दिखावट पदाथर् प्रायः एक - दूसरे से भ्िान्न दिखाइर् देते हैं। लकड़ी लोहे से बिल्वुफल भ्िान्न दिखाइर् देती है। लोहा, ताँबे अथवा ऐलुमिनियम से भ्िान्न दिखाइर् पड़ता है। परंतु पिफर भी लोहे, ताँबे तथा ऐलुमिनियम में वुफछ समानताएँ हो सकती हैं, जो लकड़ी में नहीं पाइर्ं जाती। ियाकलाप 3 विभ्िान्न पदाथो± कृ गत्ता, लकड़ी, ताँबे का तार, ऐलुमिनियम की शीट और चाक के छोटे - छोटे टुकड़े एकत्रा कीजिए। क्या इनमें से कोइर् चमकीली दिखाइर् पड़ती है? चमकीले पदाथो± को एक समूह में पृथक कीजिए। अब जैसे ही आपके श्िाक्षक प्रत्येक पदाथर् को दो भागों में काटें, ताशे - कटे पृष्ठों को ध्यान से देख्िाए ;चित्रा 4.3द्ध। आपने क्या पाया? क्या इन पदाथो± में से वुफछ के ताशे - कटे पृष्ठ चमकीले हैं? इन वस्तुओं को भी चमकीले पदाथो± के समूह में सम्िमलित कीजिए। क्या आप अन्य पदाथो± में इसी प्रकार की कोइर् चमक अथवा द्युति देखते हैं? जैसे भी संभव हो सके किसी भी ढंग से इन्हें काटिए, ऐसा आप कक्षा में जितने भी पदाथो± के साथ कर सकते हैं, देखने के लिए काटना कीजिए तथा द्युतिवान तथा द्युतिहीन पदाथो± की सूची बनाइए। काटने के स्थान पर आप पदाथोर्ं के पृष्ठों को रेगमाल से रगड़कर यह देख सकते हैं कि वे द्युतिवान हैं अथवा नहीं। पदाथर् जिनमें इस प्रकार की द्युति होती है, वे प्रायः धतु होते हैं। लोहा, ताँबा, ऐलुमिनियम तथा सोना, धतुओं के उदाहरण हंै। वुफछ धतुएँ बहुध अपनी चमक खो देती हैं और द्युतिहीन ;निष्प्रभद्ध दिखाइर् देने लगती हैं। ऐसा उन पर वायु तथा नमी की अभ्िाियाओं के कारण होता है। इसीलिए हमें केवल ताशे - कटे पृषें पर ही द्युति दिखाइर् देती है। जब आप किसी लोहार अथवा ववर्फशाॅप का भ्रमण करें तो धतु की छड़ों के ताशे - कटे पृष्ठों को देखने का प्रयास करें और यह देखें कि इनमें द्युति है अथवा नहीं? कठोरता जब आप विभ्िान्न पदाथो± को अपने हाथों से दबाते हैं, तो उनमें से वुफछ को दबाना ;संपीडित करनाद्ध कठिन होता है, जब कि वुफछ अन्य आसानी से संपीडित हो जाते हैं। धतु की एक चाबी लीजिए तथा इससेलकड़ी, ऐलुमिनियम, पत्थर का टुकड़ा, कील, मोमबत्ती, चाक, अन्य कोइर् पदाथर् अथवा वस्तु के पृष्ठों को खरोंचने का प्रयास कीजिए। आप वुफछ पदाथो± को आसानी से खरोंच सकते हैं, जबकि वुफछ अन्य पदाथो± को इतनी आसानी से नहीं खरोंचा जा सकता। वे पदाथर् जिन्हें आसानी से संपीडित किया अथवा खरोंचा जा सकता है, कोमल पदाथर् कहलाते हैं, जबकि अन्य पदाथर् जिन्हें संपीडित करना कठिन होता है, कठोर पदाथर् कहलाते हैं। उदाहरण के लिए रुइर् अथवा स्पंज कोमल हंै, जबकि लकड़ी कठोर है। दिखावट में, पदाथो± में विभ्िान्न गुण हो सकते हैं, जैसे द्युति, कठोरता, रुक्ष ;खुरदराद्ध अथवा चिकना होना। क्या आप अन्य गुणों के बारे में सोच सकते हैं जो किसी पदाथर् की दिखावट का वणर्न करते हैं? विलेय अथवा अविलेय? ियाकलाप 4 वुफछ ठोस पदाथो± जैसे चीनी, नमक, चाक पाउडर, बालू ;रेतद्ध तथा लकड़ी के बुरादे के नमूने एकत्रा कीजिए। काँच के पाँच गिलास लीजिए। प्रत्येक गिलास के लगभग 2/3 भाग में जल भरिए। पहले गिलास में वुफछ मात्रा में ;चम्मच भरकरद्ध चीनी, दूसरे में नमक तथा इसी प्रकार शेष गिलासों में अन्य पदाथर् मिलाइए। प्रत्येक गिलास की अंतवर्स्तु को चम्मच से विलोडित़कीजिए ;ध्ीरे - ध्ीरे हिलाइएद्ध। वुफछ मिनट तक प्रतीक्षा कीजिए। प्रेक्षण कीजिए और पता लगाइए कि जल में मिलाए गए पदाथो± का क्या होता है ;चित्रा 4.4द्ध। अपने प्रेक्षणों को सारणी 4.3 में दशार्ए अनुसार नोट कीजिए। चित्रा 4.4 क्या लुप्त होता है और क्या नहीं? सारणी 4.3: विभ्िान्न ठोस पदाथो± को जल में मिश्रित करना पदाथर् जल में लुप्त हो जाता है/ लुप्त नहीं होता नमक जल में पूणर्तः लुप्त हो जाता है चीनी बालू चाक पाउडर लकड़ी का बुरादा आप यह पाएँगे कि वुफछ पदाथर् जल में पूणर्तः लुप्त हो गए, अथार्त घुल गए ;विलीन हो गएद्ध हैं। हम यह कहते हैं कि ये पदाथर् जल में विलेय हैं। अन्य पदाथर् जल के साथ मिश्रित नहीं होते तथा कापफी समय तक गिलास में विलोडि़त करने पर भी जल में लुप्त नहीं होते। ये पदाथर् जल में अविलेय हैं। चूंकि जल बहुत - से पदाथो± को विलीन कर सकता है इसीलिए हमारे शरीर के प्रकायो± में इसकी एक महत्वपूणर् भूमिका है। क्या द्रव भी जल में विलीन हो जाते हैं? ियाकलाप 5 सिरका, नीबू का रस, सरसों का तेल अथवा नारियल का तेल, मि‘ी का तेल अथवा अन्य किसी द्रव के नमूने एकत्रा कीजिए। काँच का एक गिलास लीजिए। इसे आध जल से भरिए। अब इसमें चम्मच भरकर कोइर् द्रव मिलाइए, और भली - भाँति विलोडि़त कीजिए। इसे पाँच मिनट के लिए छोड़ दीजिए। प्रेक्षण कीजिए कि क्या यह द्रव जल के साथ मिश्रित हो जाता है चित्रा 4.5 ;ंद्ध वुफछ द्रव जल में भली - भांति मिश्रित हो जाते हैं जबकि ;इद्ध वुफछ नहीं होते। ;चित्रा 4.5द्ध। जितने अध्िक अन्य द्रव आपको उपलब्ध् हो सवेंफ उन सभी के साथ इस प्रयोग को दोहराइए। अपने प्रेक्षणों को सारणी 4.4 में लिख्िाए। हम यह देखते हैं कि वुफछ द्रव जल में पूणर्तः मिश्रित हो जाते हैं। वुफछ अन्य द्रव जल में मिश्रित नहीं होते और वुफछ समय तक ऐसे ही छोड़ देने पर अपनी पृथक परत बना लेते हैं। सारणी 4.4: वुफछ सामान्य द्रवों की जल में विलेयता द्रव भली - भाँति मिश्रित होता है/ मिश्रित नहीं होता है सिरका नींबू का रस भली - भाँति मिश्रित होता है। सरसों का तेल नारियल का तेल किरोसिन वुफछ गैसें जल में विलेय हैं, जबकि अन्य नहीं हैं। सामान्यतः जल में वुफछ गैसें थोड़ी मात्रा में विलीन होती हैं। उदाहरण के लिए जल में विलीन आॅक्सीजन गैस, जलमें रहने वाले जंतुओं एवं पादपों की उत्तरजीविता के लिए अत्यंत महत्वपूणर् है। वस्तुएँ जल में तैर अथवा डूब सकती हैं ियाकलाप 4 करते समय आपने यह ध्यान दिया होगा कि जल में अविलेय ठोस जल से पृथक हो जाते हैं। ियाकलाप 5 में भी आपने वुफछ द्रवों के साथ ऐसा ही देखा होगा। इनमें से वुफछ पदाथर्, जो जल में मिश्रित नहीं हो पाए वे जल के पृष्ठ पर विज्ञान चित्रा 4.6 जल में डूबती तथा तैरती वस्तुएँ आकर तैरने लगे थे। अन्य डूबकर गिलास की तली में पहुँच गए थे, क्या यह सही नहीं है? हम ऐसे बहुत - से उदाहरण देखते हैं, जिनमें पदाथर् जल में तैरते रहते हैं अथवा डूब जाते हैं ;चित्रा 4.6द्ध। किसी तालाब कीसतह पर गिरी सूखी पिायाँ, वह कंकड़ जो आप इसी तालाब में पफेंक देते हैं, शहद की वुफछ बूंदें जिन्हें आप गिलास के जल में डालते हैं, इन सबका क्या होता है? बूझो यह चाहता है कि आप उसे जल में तैरने वाले तथा जल में डूबने वाले पदाथो± के पाँच - पाँच उदाहरण दें। अन्य द्रवों, जैसे तेल में यही पदाथर् तैरते हैं अथवा डूब जाते हैं, इसे देखने के लिए आप किस प्रकार परीक्षण करेंगे? पारदश्िार्ता आपने लुका - छिपी का खेल खेला होगा। उन स्थानों के बारे में विचार करिए जहाँ आप खेलते समय छिपना चाहेंगे ताकि आप दूसरों को दिखाइर् न दें। आपने इन स्थानों को ही क्यों चुना? क्या आपने कभी शीशे की ख्िाड़की के पीछे छिपने का प्रयास किया है? स्पष्ट रूप से नहीं, क्योंकि ऐसा करने पर आपका मित्रा शीशे से देखकर आपका पता लगा लेगा। उन पदाथो± अथवा सामगि्रयों जिनसे होकर वस्तुओं को देखा जा सकता है, उन्हें पारदशीर् कहते हैं ;चित्रा 4.7द्ध। काँच, जल, वायु तथा वुफछ प्लास्िटक पारदशीर् पदाथो± के उदाहरण हैं। प्रायः दुकानदार बिस्वुफट, मिठाइयाँ तथा अन्य खाद्य पदाथो± को काँच अथवा प्लास्िटक के पारदशीर् पात्रों में रखना अध्िक पसंद वस्तुओं के समूह बनाना चित्रा 4.7 मुखावरण अपारदशीर्, पारदशीर्, पारभासी चित्रा 4.8 दुकान में रखी पारदशीर् बोतलें इसके विपरीत, वुफछ ऐसे पदाथर् भी हैं जिनसे होकर आप वस्तुओं को नहीं देख सकते। इन पदाथो± को अपारदशीर् कहते हैं। आप यह नहीं बता सकतेकि बंद लकड़ी के बाॅक्स, गत्ते के डिब्बे अथवा धतुके पात्रा के भीतर क्या रखा है? लकड़ी, गत्ता तथा धातुएँ अपारदशीर् पदाथो± के उदाहरण हैं। क्या अब हम यह समझते हैं कि हम बिना किसी भ्रांति के सभी पदाथो± एवं वस्तुओं को पारदशीर् अथवा अपारदशीर् में समूहित कर सकते हैं? ियाकलाप 6 कागश की एक शीट लीजिए और इससे होकर किसी प्रदीप्त बल्ब को देख्िाए। इस संबंध् में, अपने प्रेक्षण नोट कीजिए। अब कागश की शीट के बीच में 2 - 3 31 बूंद खाने का तेल या मक्खन डालकर इसे पफैलाइए। कागश के उस भाग से, जहाँ तेल पैफला है, प्रदीप्त बल्ब को दुबारा ध्यान से देख्िाए। अब आप क्या देखते हैं? क्या आप यह पाते हैं कि अब बल्ब हमें पहले की अपेक्षा और अध्िक स्पष्ट दिखाइर् देता है? परंतु क्या आप इस चिकने कागश से होेकर प्रत्येक वस्तु को पूणर्तः स्पष्ट देख लेते हैं। कदाचित् नहीं। ऐसे पदाथो±, जिनसे होकर वस्तुओं को देख तो सकते हैं, परंतु बहुत स्पष्ट नहीं देखा जा सकता, उन्हें पारभासी कहते हैं। कागश पर लगे उस तैलीय धब्बे को याद कीजिए जिसका उपयोग हमने खाद्य पदाथो± का वसा के लिए परीक्षण करने में किया था? वह भी पारभासी ही था। क्या आप पारभासी पदाथो± के वुफछ और उदाहरणों पर सोच - विचार कर सकते हैं। अतः हम पदाथो± को अपारदशीर्, पारदशीर् तथा पारभासी के रूप में समूहों में बाँट सकते हैं। पहेली किसी अंध्ेरे वाले स्थान पर टाॅचर् के काँच को हथेली से ढकने का सुझाव देती है। टाॅचर् का स्िवच ‘आॅन’ करके हथेली के दूसरी ओर का प्रेक्षण कीजिए। वह यह जानना चाहती है कि क्या चित्रा 4.9 क्या टाॅचर् का प्रकाश आपकी हथेली अपारदशीर् है, आपकी हथेली से गुजरता है पारदशीर् है अथवा पारभासी? कठोर अविलेय द्युतिमय ;चमकीलाद्ध पदाथर् धतु हमने यह सीख लिया है कि पदाथो± की अपनी भ्िान्न दिखावट होती हैं तथा इनके जल अथवा अन्य द्रवों में मिश्रित होने के ढंग भ्िान्न - भ्िान्न होते हैं। वे जल में तैर अथवा डूब सकते हैं अथवा पारदशीर्, अपारदशीर् और पारभासी हो सकते हैं। पदाथो± का समूहन उनके गुणों में समानताओं अथवा विभ्िान्नताओं के आधर पर किया जा सकता है।हमें पदाथो± को समूहों में रखने की आवश्यकता क्यों पड़ती है? दैनिक जीवन में हम प्रायः पदाथो± का समूहन अपनी सुविध के लिए करते हैं। घर में हम अपनी वस्तुओं का भंडारण सामान्यतः इस प्रकार करते हैं कि एक जैसी वस्तुएँ एक साथ रखी हों। इस प्रकार की व्यवस्था द्वारा हम आसानी से उनका पता लगा सकते हैं। इसी प्रकार कोइर् पंसारी प्रायः सभी प्रकार के बिस्वुफटों को अपनी दुकान के एक कोने में रखता है, सभी साबुनों को अन्य स्थान पर जबकि अनाज तथा दालों का भंडारण किसी अन्य स्थान पर करता है। इस प्रकार के समूहन के लाभप्रद होने का एक दूसरा कारण भी है। पदाथो± को इस प्रकार समूहों में बाँटकर उनके गुणों का अध्ययन तथा इन गुणों में किन्हीं भी पैटनो± का अवलोकन करना सुविधाजनक बन जाता है। इसके विषय में और अध्िक अध्ययन हम उच्च कक्षाओं में करेंगे। अपारदशीर् रुक्ष ;खुरदराद्ध विलेय पारभासी पारदशीर् 1.लकड़ी से बनाइर् जा सकने वाली पाँच वस्तुओं के नाम लिख्िाए। 2.निम्नलिख्िात में से चमकदार पदाथो± का चयन कीजिए: काँच की प्याली, प्लास्िटक का ख्िालौना, स्टील का चम्मच, सूती कमीश 3.निम्नलिख्िात वस्तुओं का मिलान उन पदाथो± से कीजिए जिनसे उन्हें बनाया जा सकता है। याद रख्िाए कोइर् वस्तु एक से अध्िक पदाथोर्ं से भी मिलकर बनी हो सकती है तथा किसी दिए गए पदाथर् का उपयोग बहुुत - सी वस्तुआंे को बनाने मंे भी किया जा सकता है। वस्तुएँ पदाथर् पुस्तक काँच गिलास लकड़ी वुफसीर् कागश ख्िालौना चमड़ा जूते प्लास्िटक 4. नीचे दिए गए कथन सत्य हैं अथवा असत्य। इसका उल्लेख कीजिए: ;कद्ध पत्थर पारदशीर् होता है जबकि काँच अपारदशीर् होता है। ;खद्ध नोटबुक में द्युति होती है जबकि रबड़ ;इरेशरद्ध में नहीं होती। ;गद्ध चाक जल में विलीन हो जाता है। ;घद्ध लकड़ी का टुकड़ा जल पर तैरता है। ;घद्ध चीनी जल में विलीन नहीं होती। ;चद्ध तेल जल के साथ मिश्रणीय है। ;छद्ध बालू ;रेतद्ध जल में निःसादित हो जाता है। ;जद्ध सिरका जल में विलीन हो जाता है। 5. नीचे वुफछ वस्तुआंे तथा पदाथोर्ं के नाम दिए गए हैं: जल, बाॅस्केट बाल, संतरा, चीनी, ग्लोब, सेब तथा मि‘ी का घड़ा इनको इस प्रकार, समूहित कीजिएः ;कद्ध गोल आवृफति तथा अन्य आवृफतियाँ ;खद्ध खाद्य तथा अखाद्य 6.जल में तैरने वाली जिन वस्तुआंे को आप जानते हैं उनकी सूची बनाइए। जाँच कीजिए और देख्िाए कि क्या वे तेल अथवा मि‘ी के तेल पर तैरती हैं। 7.निम्नलिख्िात समूह में मेल न खाने वाला ज्ञात कीजिए: ;कद्ध वुफसीर्, पलंग, मेश, बच्चा, अलमारी ;खद्ध गुलाब, चमेली, नाव, गेंदा, कमल ;गद्ध ऐलुमिनियम, आयरन, ताँबा, चाँदी, रेत ;घद्ध चीनी, नमक, रेत, काॅपर सल्पेफट

RELOAD if chapter isn't visible.