आओ वुफछ करके सीखें एक रबड़ की पुरानी गेंद लें एवं उस पर कोइर् रेखाचित्रा बनाएँ। आपउस पर उत्तर एवं दक्ष्िाण ध्रुव कोभी चिित कर सकते हैं। अब चावूफ से इस गेंद को काटें तथा उसे चपटा करने की कोश्िाश करें। देखें कि किस प्रकार रेखा चित्रा का रूप बिगड़ जाता है। 4 मानचित्रा आप पिछले अध्याय में ग्लोब के महत्त्व के बारे में पढ़ चुके हैं। ग्लोब में अध्ययन की वुफछ सीमाएँ होती हैं। जब हम पूरी पृथ्वी का अध्ययनकरना चाहते हैं तब ग्लोब हमारे लिए कापफी उपयोगी साबित होता है। लेकिन, जब हम पृथ्वी के केवल एक भाग जैसे - अपने देश, राज्यों,जिलों, शहरों तथा गाँवों के बारे मे अध्ययन करना चाहते हैं तो यह हमारे लिए उतना उपयोगी साबित नहीं होता है। ऐसी स्िथति में हम मानचित्रों का उपयोग करते हैं। मानचित्रा पृथ्वी की सतह या इसकेएक भाग का पैमाने वेाींचा गया चित्रा है।फ माध्यम से चपटी सतह पर ख्लेकिन एक गोलाकार सतह को पूरी तरह से चपटा करना असंभव है।मानचित्रा हमारी विभ्िान्न जरूरतों के लिए आवश्यक हैं। वुफछ मानचित्रा एक छोटे क्षेत्रा को एवं वुफछ तथ्यों को दशार्ता है। दूसरे मानचित्रा में एक बड़ी किताब की तरह तथ्य हो सकते हैं। जब बहुतसे मानचित्रों को एक साथ रख दिया जाता है तब एक एटलस बन जाता है। एटलस विभ्िान्न प्रकारों तथा अलग - अलग पैमाने से खींचीगइर् मापों पर आधारित होता है। मानचित्रों से एक ग्लोब की अपेक्षा हमें ज्यादा जानकारी प्राप्त होती है। मानचित्रा विभ्िान्न प्रकार के होते हैं। जिनमें से वुफछ को नीचे वण्िार्त किया गया है। भौतिक मानचित्रा पृथ्वी की प्रावृफतिक आवृफतियोंऋ जैसे - पवर्तों, पठारों, मैदानों, नदियों,महासागरों इत्यादि को दशार्ने वाले मानचित्रों को भौतिक या उच्चावच मानचित्रा कहा जाता है। राजनीतिक मानचित्रा राज्यों, नगरों, शहरों तथा गाँवों और विश्व के विभ्िान्न देशों व राज्यों तथा उनकी सीमाओं को दशार्ने वाले मानचित्रा को राजनीतिक मानचित्रा कहा जाता है। थ्िामैटिक मानचित्रा वुफछ मानचित्रा विशेष जानकारियाँ प्रदान करते हैंऋ जैसे - सड़क मानचित्रा, वषार् मानचित्रा, वन तथा उद्योगों आदि के वितरण दशार्ने वाले मानचित्राइत्यादि। इस प्रकार के मानचित्रा को थ्िामैटिक मानचित्रा कहा जाता है। इन मानचित्रों में दी गइर् सूचना के आधार पर उनका उचित नामकरण किया जाता है। मानचित्रा के तीन घटक हैं: दूरी, दिशा और प्रतीक। दूरी मानचित्रा एक आरेखण होता है जो कि पूरे विश्व या उसके एक भाग को छोटा कर कागज के एक पन्ने पर दशार्ता है या यह कह सकते हैं कि मानचित्रा छोटे पैमाने पर खींचे जाते हैं। लेकिन इसे इतनी सावधानी से छोटा किया जाता है ताकि स्थानों के बीच की दूरी वास्तविक रहे। यह तभी संभव हो सकता है जब कागज पर एक छोटी दूरी, स्थल कीबड़ी दूरी को व्यक्त करती हो। इसलिए इस उद्देश्य के लिए एक पैमाना चुना जाता है। पैमाना, स्थल पर वास्तविक दूरी तथा मानचित्रा पर दिखाइर् गइर् दूरी के बीच का अनुपात होता है। उदाहरण के लिए, आपके विद्यालय एवं आपके घर के बीच की दूरी 10 किमी. है जिसे मानचित्रा पर 2 सेमी. की दूरी से व्यक्त किया गया है, इसका अभ्िाप्रायहै कि मानचित्रा का 1 सेमी. स्थल के 5 किमी. को दशार्एगा। आपके रेखाचित्रा का पैमाना होगा, 1 सेमी.त्र 5 किमी.। इस प्रकार पैमानाकिसी भी मानचित्रा के लिए बहुत महत्त्वपूणर् होता है। अगर आपको पैमाने की जानकारी है तो आप मानचित्रा पर दिए गए किसी भी दो स्थानों के बीच की दूरी का पता लगा सकते हैं।जब बड़े क्षेत्रापफल वाले भागों जैसे महाद्वीपों या देशों को कागज पर दिखाना होता है, तब हम लोग छोटे पैमाने का उपयोग करते हैं। उदाहरण के लिए, मानचित्रा पर 5 सेमी., स्थल के 500 किमी. को दशार्ता है। इसको छोटे पैमाने वाला मानचित्रा कहते हैं। जब एक छोटे क्षेत्रापफल वाले भाग जैसे आपके गाँव या शहर कोकागज पर दिखाना होता है तब हम बड़े पैमाने का उपयोग करते हैं जैसे स्थल पर 500 मीटर की दूेेेर्री का मानचित्रा पर 5 समी.स दशाया जाता है्र। इस पकार के मानचित्रा को बड़े पैमाने वाला मानचित्रा कहते हैं। बड़े पैमाने वाले मानचित्रा छोटे पैमाने वाले मानचित्रा की अपेक्षा अध्िक जानकारी प्रदान करते हैं। आओ वुफछ करके सीखें चित्रा 4.1 को देख्िाए वहाँ एक पैमाना बना है। इसका उपयोग स्थानों के बीच की दूरी मापने में किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, एक वुफआँ एवं वृक्ष के बीच की दूरी 5 सेमी. है। इसका मतलब होता है कि वास्तविक दूरी 50 मीटर है। अब एक पोस्ट आॅपिफस ;।द्ध एवं करीम के घर ;म्द्ध के बीच की दूरी 12 सेमी. है। इसका मतलब है कि स्थल पर यह दूरी 120 मीटर है, लेकिन आप एक पक्षी की तरह उड़कर सीधे म् से । पर नहीं जा सकते। आपको सड़क पर चलना होगा। अब हम लोग पैदल तय की जाने वाली दूरी म् से ब्ए उसके बाद ब् से डए ड से ठ तथा ठ से । को मापते हैं। सभी दूरियों को जोड़ दें। यह करीम के घर से पोस्ट आॅपिफस तक की वुफल दूरी होगी। मानचित्रा चित्रा 4ण्1 रू एक गाँव का मानचित्रा चित्रा 4ण्2 ;अद्ध रू प्रधान दिग्िबंदु चित्रा 4ण्2 ;बद्ध रू दिक्सूचक दिशा अिाकतर मानचित्रों में ऊपर दाहिनी तरपफ तीर का निशान बना होताहै, जिसके ऊपर अक्षर उ. लिखा होता है। यह तीर का निशान उत्तरदिशा को दशार्ता है। इसे उत्तर रेखा कहा जाता है। जब आप उत्तर के बारे में जानते हैं तब आप दूसरी दिशाओं जैसे पूवर्, पश्िचम तथा दक्ष्िाण के बारे में पता लगा सकते हैं। चित्रा 4.2 में चार मुख्य दिशाओंउत्तर, दक्ष्िाण, पूवर् एवं पश्िचम को दिखाया गया है। वे प्रधान दि¯ग्बदु कहे जाते हैं। बीच की चार दिशाएँ हैंμ उत्तर - पूवर् ;उ.पू.द्ध,दक्ष्िाण - पूवर् ;द.पू.द्ध, दक्ष्िाण - पश्िचम ;द.प.द्ध तथा उत्तर - पश्िचम ;उ.प.द्ध। इन बीच वाली दिशाओं की मदद से किसी भी स्थान की सही स्िथति का पता लगाया जा सकता है। चित्रा 4.1 से निम्नलिख्िात दिशाओं का पता लगाइएः ;पद्ध विकास के घर से सामुदायिक केंद्र तथा खेल के मैदान की दिशा ;पपद्ध दुकानोंसे विद्यालय की दिशा। पृथ्वी: हमारा आवास हम दिक्सूचक की सहायता से किसी स्थान की दिशा का पता लगा सकते हैं। यह एक यंत्रा है जिसकी सहायता से मुख्य दिशाओं कापता लगाया जाता है। इसकी चुंबकीय सुइर् की दिशा हमेशा उत्तर - दक्ष्िाण दिशा में होती है। ;चित्रा 4.2 ;बद्धद्ध। प्रतीक यह किसी भी मानचित्रा का तीसरा प्रमुख घटक है। किसी भी मानचित्रा पर वास्तविक आकार एवं प्रकार में विभ्िान्न आवृफतियोंऋ जैसे - भवनों, सड़कों, पुलों, वृक्षों, रेल की पटरियों या वुफएँ को दिखाना संभव नहीं होता है। इसलिए, वे निश्िचत अक्षरों, छायाओं, रंगों, चित्रों तथा रेखाओं का उपयोग करके दशार्ए जाते हैं। ये प्रतीक कम स्थान में अिाकजानकारी प्रदान करते हैं। इन प्रतीकों के इस्तेमाल के द्वारा मानचित्रा को आसानी से खींचा जा सकता है तथा इनका अध्ययन करना आसान होता है। अगर आप एक क्षेत्रा की भाषा को नहीं जानते हैं तथा आप किसीसे दिशाओं के बारे में नहीं पूछ सकते हैं तब आप इन चिÉों की सहायता चित्रा 4ण्3 रू रूढ़ चिÉ के द्वारा मानचित्रा से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। मानचित्रों की एक विश्वव्यापी भाषा होती है जिसे सभी आसानी से समझ सकते हैं। इन प्रतीकों के उपयोग के संबंध में एक अंतरार्ष्ट्रीय सहमति है। ये रूढ़ मानचित्रा चित्रा 4.4 को देखें एवं पता लगाएँः ;पद्ध नदी किस दिशा में बह रही है? ;पपद्ध डुमरी गाँव के पास से किस प्रकार की सड़क गुजरती है? ;पपपद्ध किस प्रकार की रेलवे लाइन के पास सुंदरपुर स्िथत है? ;पअद्ध रेलवे पुल के किस तरपफ पुलिस स्टेशन स्िथत है? ;अद्ध निम्नलिख्िात स्थान रेलवे लाइन के किस तरपफ स्िथत हैं: क. छतरी ख. गिरजाघर ग. तालाब घ.मस्िजद च. नदी छ. पोस्ट एवं टेलीग्रापफ आॅपिफस ज. कबि्रस्तान प्रतीक कहे जाते हैं। वुफछ रूढ़ प्रतीक चित्रा 4.3 में दशार्ए गए हैं। विभ्िान्न रंगों का उपयोग भी इसी उद्देश्य से किया जाता है। उदाहरण के लिए सामान्यतः नीले रंग का इस्तेमाल जलाशयों, भूरारंग पवर्तों, पीला रंग पठारों और हरा रंग मैदानों को दशार्ने के लिए किया जाता है। रेखाचित्रा रेखाचित्रा एक आरेखण है, जो पैमाने पर आधारित न होकर याद्दाश्त और स्थानीय प्रेक्षण पर आधारित होता है। कभी - कभी किसी क्षेत्रा केएक कच्चे आरेखण की आवश्यकता वहाँ के एक स्थान को दूसरे स्थान के सापेक्ष दिखाने के लिए होती है। मान लीजिए कि आप अपने मित्रा के घर जाना चाहते हैं, लेकिन आपको रास्ते की जानकारी नहीं है। आपका मित्रा अपने घर के रास्ते को बताने के लिए एक कच्चा आरेखण बना सकता है। इस प्रकार कच्चे आरेख को बिना पैमाने कीसहायता से खींचा जाता है तथा इसे रेखाचित्रा मानचित्रा कहते हैं। पृथ्वी: हमारा आवास एक छोटे क्षेत्रा का बड़े पैेमान पर खींचा गया रेखाचित्रा खाका कहा जाता है। एक बड़े पैे वाले मानचित्रा से हमें बहुत सी जानकारियामानँप्राप्त होती हैं लेकिन वुफछ ऐसी चीशें होती हैं जिन्हें हम कभी - कभी जानना चाहते हैं जैसे किसी कमरे की लंबाइर् एवं चैड़ाइर्, जिसे मानचित्रा में नहीं दिखाया जा सकता है। उस समय, हम लोग बड़े वाला एक रेखाचित्रा खींच सकते हैं जिसे खाका कहा जाता है। 1ण् निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर संक्षेप में दीजिए। ;पद्ध मानचित्रा के तीन घटक कौन - कौन से हैं? ;पपद्ध प्रधन दिग्िबंदु कौन - कौन से हैं? ;पपपद्ध मानचित्रा के पैमाने से आप क्या समझते हैं? ;पअद्ध ग्लोब की अपेक्षा मानचित्रा अिाक सहायक होते हैं, क्यों? ;अद्ध मानचित्रा एवं खाका के बीच अंतर बताएँ। ;अपद्ध कौन - सा मानचित्रा विस्तृत जानकारी प्रदान करता है? ;अपपद्ध प्रतीक किस प्रकार मानचित्रों के अध्ययन में सहायक होते हैं? 2ण् सही उत्तर चिित ;ऽद्ध कीजिए। ;पद्ध वृक्षों के वितरण को दिखाने वाले मानचित्रा हैं - क. भौतिक मानचित्रा ख. थ्िामैटिक मानचित्रा ग. राजनीतिक मानचित्रा ;पपद्ध नीले रंग का इस्तेमाल किसे दिखाने में किया जाता है - क. जलाशयों ख.पवर्तों ग. मैदानों ;पपपद्ध दिक्सूचक का उपयोग किया जाता है - क. प्रतीकों को दिखाने के लिए ख. मुख्य दिशा का पता लगाने के लिए ग. दूरी मापने के लिए ;पअद्ध पैमाना आवश्यक है - क.मानचित्रा के लिए ख. रेखाचित्रा के लिए ग. प्रतीकों के लिए 1ण् अपनी कक्षा के कमरे का रेखाचित्रा खींचें तथा उस कमरे में रखे सामानऋ जैसे - श्िाक्षक की मेज, ब्लैकबोडर्, डेस्क, दरवाजा तथा ख्िाड़कियों को दिखाएँ। 2ण् अपने स्वूफल का एक रेखाचित्रा खींचें एवं निम्नलिख्िात को दशार्एँः अ. प्रधानाध्यापक का कमरा ब. अपने वगर् का कमरा स. खेल का मदैान द.पुस्तकालय य. वुफछ बड़े पेड़ र. पीने के पानी का स्थल 1ण् एक मनोरंजन पाकर् का रेखाचित्रा खींचें जहाँ आप बहुत से मनोरंजक ियाकलापों को कर सकते हैं: उदाहरण के लिए झूला, स्लाइड, झूमा - झूमी, चक्र, नौका - विहार, तैरना, हास्यजनक दपर्ण में देखना आदि अथवा अपने मन के अनुसार दूसरी चीशें। पृथ्वी: हमारा आवास

RELOAD if chapter isn't visible.