नगर प्रशासन एक गाँव के मुकाबले शहर श्यादा बड़ा और अध्िक पफैला हुआ होता है। शहर की गलियाँ श्यादा चैड़ी होती हैं, यहाँ के बाशारों में श्यादा भीड़ - भाड़ होती है। पानी और बिजली की सुविधएँ होती हैं, अस्पताल होते हैं। यहाँ बहुत श्यादा वाहन होते हैं और यातायात को नियंत्रिात करना पड़ता है। क्या आपने कभी सोचा है कि यह सब इतने सुचारु रूप से कैसे चलता है, कौन - सी संस्था इन सबके लिए िाम्मेदार होती है? कैसे निणर्य लिए जाते हैं? कैसे योजनाएँ बनाइर् जाती हैं? कौन लोग हैंजो यह सारा काम करते हैं? आइए, उत्तर ढूँढ़ने की कोश्िाश करते हैं। इ जहाँेेिवेेल रहेगीर और रहाना गली मं फट खथेंबड़ेें। शकर ना अच्छा आवर पफका था और हाना आउट हाततहाना वफरेे - होेे बची थी। रेेआउटनहोे ेशंेनसकर हताश हारहा था। इसीलिए उसने इस उम्मीद से कि वह कैच आउट हो जाएगी एक शाटर् बाॅेक दी। हुल पफंआ उल्टा ही। रेे ेे ुमाया हाना नइतनी तशी सबल्ला घकि गंेद ऊपर गइर् और गली की ट्यूबलाइट टूट गइर्।रेेंहाना चिल्लाइर्, फ्अर! यह मैनक्या कर गेद से गली की ट्यूट जाएगी तो तमुंबलाइट टूआउट मानी जाओेनही तब शकर गी।य् तीनां े ंको विकेट की चिंता छाडे़ने वेफ लिए कहा क्योकि जाहुे उस बारमेश्यादा चिंंेआवें तित और परेे रहे थेशान हा। पिछले हफ्ऱते उनसे निमर्ला मौसी की ख्िाड़की टट गइर् थी जिसको ेूे बदलनवफ लिए अपने ेेसेपैसेदनपड़ेजब - खचर् मं ेे े थ। क्या बारा जब - खचर् मे ेे ेगेअबदोेंसपैसेदनपड़ं? और ये पैसे दंेगे किसको? गली की ट्यूबलाइट बदलता कौन है? माला का घर सबसे पास था। चारांेभाग कर माला के घर गए और उसकी माँ को सब कुुछ बता दिया। सारी बात सनकर माला की माँ े ेंइसबारेमं ुनकहा कि उन्हेकछ खास तोंूपता नही, बस यही मालम है कि यह नगर निगम की िाम्मेेती है। उन्हांे सझाया, दारीहोनुफ्यास्मीन खाला से ूेपछना चाहिए, वहाल ही मेनगर निगम से सवानिवृइर् है। जाआं ेत्तहुंे उनसेूे ुपछ लाऔर माला, तम जल्दी घर वापस आना।य् यास्मीन खाला उसी गली मंेरहती थीं और माला की माँ से उनकी बहुेत अच्छी दास्ती भी थी। चारांेदौड़कर खाला के घर पहुँचे और जैसे ही उन्होनदरवाजा खोे एक साथ परा ंेलावूकिस्सा सुे लगेुनान। उनका सवाल सनकर यास्मीन खाला बडे़जोर से हँस पड़ीं और बों, फ्काइर् एक व्यक्ित नहीे ुलीेंहैजिसकातम पैसादेसकते े।एकबहतबडंेहाु़ी सस्था हाती है जिसको नगर निगम कहते हैं। यह सड़कांेपररोू़ेशनी की व्यवस्था, कडा इकऋा करन, पानी की सुे और सड़ेविध उपलब्ध् करानकां व बाशारांेकी सप़फाइर् का काम करती है।य् मालाबोँँंेनगरनिगमवेली, फ्हा - हा, मैनफ ं ुंे ेडर्दखबारे मेसना है। मैनशहर मं बोेे हैं जो गारिया वेनगर निगम द्वारा लोें को मलेफ बारे में बताने के लिए लगाए जाते है।य् ंखाला बों, फ्तम बिल्कलीुलसहीकहरही ुहोु। नगर निगम का काम यह सनिश्िचत करना भी है कि शहर मेबीमारियान पफैलंूं ँ ।यहस्केल स्थापित करता है और उन्हंेचलाता है। शहर मंेदवाखाने और अस्पताल चलाता है। यह बाग - बगीचों का रख - रखाव भी करता है।य् उन्होनंे आगे जाडे़ा, फ्हमारा पुणे शहर बहुत ही बडा़शहर है और यहाँ नगर प्रशासन चलाने वाले ंेनगरनिगमकहते ंेेसस्थान काहै। छाटकस्बों में इसे नगर पालिका कहते हैं।य् क्या आप नगर पालिका के कायो± की सूची बनाने में शंकर की मदद कर सकती हैंः 1234निगम पाषर्ं ्रर्द एवपशासनिक कमचारी झी उत्सफ्यास्मीन खाला, मुे बड़ुकता हो रही है कि यह पफैसला लेता कौन है कि पाकर् कहाँ बनाया जाए? जब आप नगर निगम में काम करती थीं तो क्या एसेे मशदार निणर्य भी लेनेे पड़तथेेे पूछा।े ?य् रहाना नखालाने ंरेंतोजवाब दिया, फ्नहीहाना, मैनिगमवेेंथी,बसफ लखा विभाग ;एकाउटद्ध मलोगों की मासिक तनख्वाह की पचिर्याँ बनाती थी। चूकि शहर का आकार बहुा हाता है,ँतबड़ेइसलिए नगर निगम को कइर् निणर्य लेने होते हैंे़ेे। इसी तरह शहर कासापफ रखनवफ लिए बहु़त काम करना पडता है। श्यादातर निगम पाषर्द ही यह निणर्य लतेे हैं कि अस्पताल या पावर्फ कहाँ ेबनगा।य् शहरको ेमं ँअलग - अलग वाडा± ेबाटा जाता हैऔरहरवाडर्से ुेएक पाषर्द का चनाव हाता है।नगरनिगमवेुेे ेतंजोफ कछ निणर्य एसहो हैशहर काप्रभावित करत। एससारे े ेहैंेेजटिल निणर्य पाषर्दोवेह द्वारा लिए जातहै। कुंफसमूेंछ पाषर्द मिलकर समितियाँ बनाते हैं जो विभ्िान्न मद्दाुें पर विचार - विमशर् करके निणर्य लें - ती हैउदाहरणस्वरूप एक बस स्टैंे ेड काबहतर बनाना है या किसी भीड़भाड़ वाले बाशार का कचरा श्यादा नियमित रूप से साप़फ करना है या पिफर शहरवेुे ़ेेफ मख्य नालकी सपफाइर् हानी है। पाषर्दां की समितियाँ ही पानी, कचरा जमा करने और सड़ेपर रोकां शनी आदि की व्यवस्था करती हैं। नगर प्रशासन ध् 67 निम्नलिख्िात वाक्यों के खाली स्थान भरिए: ’ पंचायत के चुने हुए सदस्यों को कहते हैं। ’ शहर विभ्िान्न में बँटा हुआ होता है। ’ नगर निगम के चुने हुए सदस्यों को कहते हैं। ’ पाषर्दों के समूह उन मुद्दों पर काम करते हैं जो को प्रभावित करते हैं। ’ पंचायत और नगर पालिका के चुनाव प्रत्येक वषर् में होते हैं ’ पाषर्द अगर निणर्य लेते हैं तो आयुक्त के नेतृत्व में दफ्रतर के प्रशासनिक कमर्चारी उन निणर्यों । जब एक वाडर् के अंदर की समस्या होती है तो वाडर् के लोग पाषर्द से संपवर्फ कर सकते हैं। उदाहरण के लिए अगर बिजली के खतरनाक तार लटक कर नीचे आ जाएँ तो स्थानीय पाषर्द बिजली विभाग के अध्िकारियों से बात करने में मदद कर सकते हैं। जहाँ पाषर्दों की समितियाँ एवं पाषर्द विभ्िान्न मद्दाुंेपर निणर्य लनेे का काम करते हैं। वहीं उन्हंेलागू करने का काम आयुक्त ;कमिश्नरद्ध और प्रशासनिक कमर्चारी करते है।ंआयुेकी सरकारक्त और प्रशासनिक कमर्चारियां द्वारा नियुक्ित की जाती है, जबकि पाषर्द निवार्चित हातेे है।ंफ्तो नगर निगम मंेये निणर्य लिए कैसे जातेंेूेंहै?य् रहाना नपछा। वह कभी साचना बद ही नहीं करती। बच्चोवेंसे ुेतहुं फ सवालोखश हो ए यास्मीन खालाने े ेवेजवाब दिया, फ्सारवाडा± फ पाषर्द मिलते हैं और सबकी सम्िमलित राय से एक बजट बनाया जाता है। उसी बजट वेुफ अनसार पैसा खचर् किया जाता है। पाषर्द यह प्रयास करते हैं कि उनवेें परिषद् वफफ वाडर् की विश्िाष्ट शरूरतेसामने रखी जा सवफें। पिफर ये निणर्य प्रशासनिक कमर्चारियांेद्वारा ियान्िवत किए जाते है।य्ंखाला बड़ुं क्योकि किसी बडेी खश थीं़व्यक्ित ने ेआजतकउनवेेे ेपछाताफकामवफबारमं ूनगर निगम को पैसा कहाँ से मिलता है? इतने सारे काम करने के लिए बहुत सारा पैसा चाहिए। निगम यह राश्िा अलग - अलग तरीकों से इकऋा करता है। इस राश्िा का बड़ा भाग लोगों द्वारा दिए गए कर ;टैक्सद्ध से आता है। कर वह राश्िा है जो लोग सरकार द्वारा उपलब्ध् कराइर् गइर् सुविधओं के लिए सरकार को देते हैं। जिन लोगों के अपने घर होते हैं उन्हें संपिा कर देना होता है और साथ ही पानी एवं अन्य सुविधओं के लिए भी कर देना होता है। जितना बड़ा घर उतना श्यादा कर। निगम के पास जितना पैसा आता है उसमें संपिा कर से केवल 25 - 30 प्रतिशत पैसा ही आता है। श्िाक्षा पर भी कर लगता है। अगर आप किसी दुकान या होटल के मालिक हैं तो उस पर भी कर देना पड़ता है। अगली बार जब आप सिनेमा देखने जाइएगा तो टिकट पर ध्यान से देख्िाएगा, हमें मनोरंजन के लिए भी कर देना पड़ता है। इस तरह अमीर लोग संपिा कर देते हैं, वहीं जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा सामान्य तरह के कर अध्िक देता है। नहीं था। बच्चांेके सवालों ने उन्हंेअपने अनुँे का एक मौका दिया था।भव बाटनशंे़ुेूकर नबडी उत्सकता सपछा, फ्अपना शहर तो इतना बड़ेेफा है। इसकी दखभाल वलिए बहुलोंकीज़़ेगी!त गोरूरत पडती हाखाला, तब तो नगर निगम में ढेर सारे लोग काम करते हांेगे?य् वह अब तक िकेट के मैच और अपने अध्ूरे ओवर की बात बिल्वुफल भूुल चका था। फ्दरअसल शहर मंेकाम को अलग - अलग विभागोमं बाँेे ं। जैसे ें ेट दतहैजल विभाग हाता है, कचरा जमा करने का विभाग, बागों की देका विभाग, सडक व्यवस्था काखभाल ़विभाग इत्यादि। मैनगर - निगम वेर्ं फ सपफाइविभाग में थी, उसी के लेखा विभाग मंेहिसाब - किताब का काम करती थी।य् खाला बडे़इत्मीनान से बता रहीं थीं। पिफर बच्चों वफेखाने ेेे ेचलपड़ंवफ लिए रसाइर् सकबाब लानी। गीर नइर् मं ़ - खडतअपनजहाँे रसोेखडे़े ेशी से े कबाब खा लिए, पिफर उफची आवाश मँें वहीं से बोास्मीन खाला, नगर निगम जिसला, फ्यवफडूे़ - कचरे को इकट्ठा करता है वह जाता कहाँ है?य् बाकी बच्चे अभी कबाब खा ही रहे थे। यास्मीन खाला ने बताना शरू किया, फ्इसुसवाल का जवाब बड़ा मशेदार है। जैसा कि तमुजानते हो कचरा लगभग हर गली में ही पैफला रहता है। पहले े पड़ेहमारास का भी यही हाल था, चारां फड़फडेेतरपफ वूा पफैला रहता था। अगर वू़को òेा न जाए तो मक्िखयाँइकट्टा करवफ हटायभ्िानभ्िानाती रहती हैं और आस - पास वुफत्तोंहांे, चूनगर प्रशासन ध् 69 का जमावडा हा़े जाता है। लोू सबीमार ग इसकी बदबे भी पड़ जाते हैं। एक और बुांरी बत यह थी कि बच्चोने गली मंेिवेेलना फट खछोड़ दिया था क्योकि उनवंेफ घरवालांेको यही डर लगा रहता था कि गली में अध्िक समय रहने से बच्चे बीमार न पड़ जाएँ। लोगांेका विरोध् यास्मीन खाला ने अपनी बात जारी रखी, फ्मोेहल्लकी औरतंेइन सबसे बड़ी नाराश थींे सलाह लेे।वनमेरे पास भी आईं। मैनंे उन्हें कहा कि मैं विभाग के किसी अध्िकारी से इस मामले मेबात करनकी कोगी। मगर ं े श्िाश करूँमैं भी निश्िचत तौर पर यह बात नहीं कह सकती थी कि इसमंेकितना समय लगेगा। इस परगंे ेअपनवाडर्वफगाबाइर् नबताया कि हमं े ेपाषर्द वेे ेफ पास इस समस्या कालकर जाना चाहिए, आख्िार वोेे े ुट दकर उसहमनचना है। उसवेे ेविरोफ सामनहमं ध् प्रदशर्न करना चाहिए। गंे महिलाओवेटसमहगाबाइर्नं फएकछोे ूकोइकट्टòेुँ।ा किया और पाषर्द वफ घर पहच गईंसभी औरतें घर वफ सामनेे जाकर नारे लगाने लगीं ेेतब पाषर्द घर वफ बाहर निकलऔर उन्हांेने उनकी समस्या के बारे में पछा। गूंर्गाबाइने े मोे की खराब हालत बयान की। अपनहल्लपाषर्द ने उन महिलाआंेसे वादा किया कि वे अगले दिन उनवफ साथ आयुे मिलनेेक्त सजाएँेेनगंेमोेवफेग। साथ ही उन्हांे गाबाइर् काहल्लसारे वयस्कों से एक अशीर् पर दस्तखत करवाने वेेेेफ लिए कहा। अशीर् यह थी कि उनवफ माहल्लसे कचरा उठाने की नियमित व्यवस्था की जाए। उन्हों सुुक्त सेनझाव दिया कि कल आयमिलने जाते समय स्थानीय सपफाइर् अभ्िायता ंयानी इंे े जाना अच्छा जीनियर काभी साथ लरहेइससपफायदा होक्योकि ़र्गा। े़गा ंसपफाइअभ्िायंुे ेता भी आयक्त काबता सवफगा कि हालत कितनी ख़राब है। उस दिन परी ूशाम बच्चे घर - घर का चक्कर लगाते रहे ताकि अशीर् पर श्यादा से श्यादा परिवारोवफ लों ें ेगोवफ दस्तखत लिए जा सवेंुुबडीसंेफ। अगली सबह बहत ़ख्या मं महिलाएँ, पाषर्द और सपंे़फाइर् अभ्िायता वफ साथ नगर निगम वे़तर गईं। आयक्त पुरे ूफ दफ्रूसमह से ेे बहाना बनाने लगे कि नगर मिल, पर वनिगम वेंट्रक उपलब्ध् फ पास पयार्प्त सख्या मं नहीं ं। गगाबाइर् ने े ेहैंतपाक सकहा, फ्लकिन लगता है कि आपवेेंफ पास अमीर इलाकासे कचराउठाने ेूे ªकहैवफलिएपरट।य् ंजहाँे झट से कहा, फ्इससे ुक्त गीर नआयका तो मुह ही बँद हांे गया होगा।य् फ्और नहीं तो क्या! उसने प़फौरन इंतशाम करनेेेवफ लिए कहा।य् यास्मीन खाला नबताया, फ्गंगाबाइर् ने आयक्त काुे ेचतावनी दी कि अगर दो ेंुेदिन वफ अदर काम नहीहआ तानगर निगम के सामने बहुी स़ंेमहिलाएध्रनेतबडख्यामँ पर बैठ जाएँगीय्। फ्तो क्या गलियांेकी सप़फाइर् हो गइर्?य् रेहाना ने झट से पछा, जाूे कभी चीशांेको अध्ूंे़रा नहीछाडती थी। फ्दो ुं हुआ। वो तोदिन तक वफछ भी नहीजब एक बहु़समह नविरोत बडे ूे ध् प्रदशर्न किया, शोेरदार नारलगाए तब जाकर बात बनी। अब मोे ़फाइर् नियमित रूप सहोनेहल्लकीसपे लगी है।य् गंबात का विराध् कर गाबाइर् किस ेरही थी? आपवेे गंे पाषर्द केफ हिसाब सगाबाइर् नपास जाने की बात क्यांेसोची? जबआयुे ेक्त नयहकहाकि शहर मं ट्रकों की संख्या पयार्प्त नहीं है तो गंेगाबाइर् नक्या कहा? फ्यहतो ुंेबिल्कल बबइया सिनमा की तरह सुंुे ेखद अत हआय्, माला नकहा। वह अपनआप को ेृत्व करने वाली गंनतगाबाइर् की भूें दखने ख रही थी। मिकामेकासपनादेसभी बच्चों को गंनकर गाबाइर् की कहानी सुबहुेइसका आभास तो था त मशा आया। उन्हं नगर प्रशासन ध् 71 ही कि मोे ें गाबाइर् की खासी इज़्प्लास्िटक, काँच जैसी न गलनेहल्लमगंशत वाली चीशों थी और लोेबहुथेग उन्हं त मानते , मगर उसका को दूसरे कूड़ेदान में। जब हम अपने कचरे कारण उन्हंेअब समझ मंेआया था। की छँटाइर् कर देते हैं तो निगम वालों का काम बच्चों ने खाला का शुिया अदा किया थोड़ा आसान हो जाता है।य् और जाने के लिए उठ खडे़हुए। जाते - जाते बच्चांेने इतने सारे सवालांेका जबाब देने रेहाना ने कहा, फ्खाला, बस एक आख्िारी वेे ुफ लिए खाला का पिफर सशिया अदा किया दाकेएगलीकीतरपफचलपडेुसवाल और है! घर पर अभी जो े डू़दान और टहलते हु़। बहत हैं ेभीक्यागंुदेहो ुेजल्दीसजल्दीवागाबाइर् का सझाव था?य् र चकी थी और उन्हं े चना था। आज हमुेफ मकाबलेखाला हँसने लगीं। बोलीं, फ्अरे घर पहँशा वेुगली नहीं - नहीं! यह तो नगर निगम ने ही सुझाव मं ँेे़़ेनऊपर दखा,ेअध्रा थाडा ज्यादा था। उन्हांे ेदिया था कि हम खाने - पीने और गलने वाली पिफर मस्वफरातुे हुए एक - दूसरे को देखा और चीशों को एक कूड़ेदान में डालें और े़ ़वापस खाला वफ घर की तरपफ दौडपडे1994 मेसरत शहर मं भयंेूेफ सबसें ूेकर प्लग पफैला था। सरत भारत वगंे शहरोमं एक था। लोेका और हों ू़ा - कचरादं ेग घरां टलोका भी कडपास की नाली मेया सड़ंेे थेे सप़फाइर्ं कपरहीपफेकदत।इससकमर्चारियांेको कूड़ा - कचरा उठाने तथा उसे ठिकाने लगाने में कापफी मुेे नगर निगम अपना काम नियमित रूप सेश्िकल हाती थी। ऊपर सनहीं कर रही थी जिससे स्िथति और भी बदतर हो गयी थी। ग हवा वफ शरिए पफैलता है। जिन लागोजाए उन्हेप्लेेेंकोप्लगहो ं सरां ़रतमतसगांेदूेसेअलगरखनापडताहै।सूेंउससालबहुेलोेनअपनी जान गँे ेेको शहर छाडनावाइर्। करीब तीन लाख सअध्िक लागां े़पड़ेेे ुा। प्लग वफ डर नयह अनिवायर् कर दिया कि नगर पालिका मस्तैदी से ेे े़ुकाम कर। सारशहर की अच्छी तरह ससपफाइर् हइर्। आज की तारीख मेचं़ के सबससाप़ेमेदूसरा स्थानं डीगढफ बाद भारत वेे फ शहरां ं सूरत का है। क्या आप जानती हैं कि आपवेेहल्लेकब और कितनी बार कड़फमोमं ूा उठाया जाता है? क्या आपको लगता है कि सभी मोेमेहल्लां ं उतनी ही बारकू़ं,तों ं।डा उठाया जाता है ? यदि नहीे क्या? चचार् करेअभ्यास 1 बच्चे यास्मीन खाला के घर पर क्यों गए? 2 नगर निगम के कायर् शहर के निवासियों के जीवन को किस तरह प्रभावित करते हैं? ऐसे चार तरीकों के बारे में लिख्िाए। 3 नगर निगम पाषर्द कौन होता है? 4 गंगाबाइर् ने क्या किया और क्यों? पफोटो 1 नगर प्रशासन ध् 73 पफोटो 2 5चचार् कीजिए: ऊपर वेे चित्रोमेे कू़े एवं उसको ठिकाने ेफदां ंआपनडाइकऋा करनलगानकी विभ्िान्न विध्ियांेको देखा। ;कद्ध आपके विचार से कौन - सी विध्ि कडूे़का निपटारण करने वाले व्यक्ित वेुफ लिए सरक्ष्िात है? ;खद्ध पहले चित्रा में कूडा इक़ऋा करने का जो तरीका दिखाया गया है उसमें क्या - क्या जोख्िाम है? ;गद्ध आप क्या सों े लोेमं काम करते ं उनकेचती हैकि जाग नगर निगमां ेहैपास अपने ू़वफ निपटारण की व्यवस्िथत सुँ क्यां ं ंकडे ेविधऐनहीहै? 6नगर निगम अपने काम वफ लिए ध्न कहोँ से प्राप्त करता है? 7शहर में बहुे लोग घरलेू नौकरों की तरह काम करते हैं और दसरूत सारे वेेंकोसापे ंुेलोेफ घरा़फ रखतहै। उसी तरह बहत सग नगर निगम वफ लिए काम करते ं और शहर को ़फ - सुे ंेूहैसापथरा रखतहै। इसवफ बावजद जिन बस्ितयोमं वे े ंँ ़फी गदगी हों ेरहतहै, वहाकापंती है। इसका कारण यह है कि इन बस्ितयोमं पानी एवं ़फाइर् की सुे ही हों ेसपविध विरलती है। नगर निगम इसवेेकाही दाषी ठहराती है कि जिस फ लिए अक्सर बस्तीवासियां े ेशमीन पर वे गरीब लोे ं ं होग अपना मकान बनातहैवह उनकी नहीती और नहीवेसरकारको ेेेहैंेेकाइर् कर दत। जबकि मध्यवगर् वफ रिहायशी इलाकां मेपावर्फ बनान, गलियां मेरोे और नियमित कड़ां ेें शनी की व्यवस्था करनूजमा करने ेआदि वफ काम पर जितना नगर निगम खचर् करता है, उसकी ेवहोगबहेंतुलना मं ँ रहने वाललोुत कम कर दते है। पाठ मंेभी आपने पढ़ै े ंपिाकरसुा हकि नगर निगम कासे कल 25 - 30 प्रतिशत ही आय होती है। क्या आपको लगता है कि निगम को बस्ितयोकी सप़फाइर् पर ज़्ं यादा खचर् करना चाहिए? यह क्योमहत्त्वपूंं णर् है? और यह क्योशरूरी है कि शहर मेनगर निगम जासुँ ध्नी व्यक्ितयां को ुं े विधऐमहैया कराता है वही गरीबांेको भी मिल?ें

RELOAD if chapter isn't visible.