श्िाक्षण बिंदु जाउफँगा - जाओगे। जाएगा - जाएँगे। निशा: पिता जी, दशहरे की छु‘ियों में हम मैसूर जाएँगे। निशांत: नहीं पापा, पिछले साल मैं स्वूफल की टीम में मैसूर गया था। इसलिए कहीं और जाएँगे। निशा: मैं तो मैसूर का दशहरा ही देखना चाहूँगी। पिता: अब मैसूर के लिए रिशवेर्शन मिलना कठिन है। अबकी बार हम कन्यावुफमारी जाएँगे। निशा: तब तो बड़ा मशा आएगा। कन्यावुफमारी में तीन सागरों का संगम होता है। वहाँँ हम सूयार्ेदय भी देखेंगे और सूयार्स्त भी देखेंगे। पिता: हाँ बेटी, पूण्िार्मा के दिन शाम को कन्यावुफमारी में चंद्रमा का उदय और सूयर् का अस्त होना एक साथ देख सकते हैं। क्यों मीना तुम भी चलोगी न? छु‘ी मिल जाएगी? माँ: क्यों नहीं? मेरी तो कापफी छु‘ियाँ बाकी हैं। आराम से मिल जाएँगी। हम लोग कन्यावुफमारी वैफसे जाएँगे? पिता: हम तिरफअनंतपुरम् तक राजधनी एक्सप्रेस से जाएँगे। वहाँँ से कन्यावुफमारी ज्यादा दूर नहीं है। रेल या बस से जा सकते हैं। निशांत: शाम से पहले कन्यावुफमारी पहुँचना अच्छा रहेगा। तभी हम सूयार्स्त देख सकते हैं। हम रात को विवेकानंद नगर में ठहरेंगे। सुबह जल्दी उठकर समुद्र के किनारे पहुँचेंगे और सूयोर्दय देख्ेंागे। पिता: सूयोर्दय देखने के बाद हम नाश्ता करेंगे और विवेकानंद स्मारक देखने जाएँगे। माँ: विवेकानंद स्मारक में क्या है? पिता: विवेकानंद स्मारक कन्यावुफमारी के पास समुद्र के किनारेें थोड़ी दूर पर एक बड़ी च‘ान पर बना है। हम लोग मोटर लांच से स्मारक पहुँचेंगे। वहाँँ पर विवेकानंद और रामकृष्ण परमहंस की मूतिर्याँ हैं। च‘ान पर खडे़ होकर हम समुद्र की लहरों का आनंद लेंगे। निशा: बहुत अच्छा। वहाँँ से सीपियाँ और शंख लाउँफगी। पिता: निशांत, आज ही जाकर रिजवेर्शन करा लाओ। हाँँ एक बात याद रखना यात्रा में कम सामान रखना चाहिए। कहा भी है कि कम सामान बहुत आराम, अपनी यात्रा सुखद बनाइए। 1.पढ़ो और सुनो दशहरा सागर सूयार्ेदय विवेकानंद कन्यावुफमारी मोटर लांच पूण्िार्मा संगम सूयार्स्त विशाल मूतिर् च‘ान लहर एक साथ पहुचनँा तिरफअनंतपुरम् आनंद लेना रामवृफष्ण परमहंस याद रखना सीपियाँ और शंख राजधनी एक्सप्रेस 2.पढ़ो और समझो मुश्िकल - कठिन श्यादा - कम मशा - उमंग पास - दूर श्यादा - अध्िक ुमश्िकल - आसान लहर - तरंग उदय - अस्त सुखद - सुख देनेवाला, अरामदायक बैठना - खड़ा होना। 3.तालिका के प्रत्येक कालम से एक - एक शब्द लेकर वाक्य बनाओ रूगा ँ ँतुम काम जाओगे, करोगे जाओगी, करोगी वह जाएगा, करेगा जाएगी, करेगी हम जाएँगे, करेंगे जाएँगी, करेंगी आप वे ;खद्ध राजेश जयपुर जाएगी गौरी बंेगलूर जाएगा पिता जी जाएँगी जाएंगे माता जी लड़कियाँ 4.समान अथर्वाले शब्दों को रेखा खींचकर मिलाओ ;कद्ध मंै घर जाउँफगा, करूगा जाउँफगा, क5.कोष्ठक में दिए गए शब्दों की सहायता से वाक्य पूरे करो काप़्ाफी, संगम, राजधनी, मोटर लांच 1.कन्यावुफमारी में तीन सागरों का ....................होता है। 2.हम तिरफअनंतपुरम् तक ....................एक्सपे्रस से जाएँगे। 3.मेरी तो ...................छु‘ियाँ बाकी हैं। ग ...................4.हम लो से स्मारक पहुँचेंगे। 6.नमूने के अनुसार वाक्य बदलो नमूनाः तुम्हें यात्रा में सामान कम रखना चाहिए। देखो, सामान कम रखना। 1.सभी को मिठाइर् कम खानी चाहिए। 2.हमें रात को भोजन कम करना चाहिए। 3.सभा में कम बोलना चाहिए। 7.नमूने के अनुसार वाक्य बदलकर लिखो नमूनाः गोपाल बाशार जा रहा है। वह बाशार जाएगा। 1.पिता जी चिऋी लिख रहे हैं। 2.लता साइकिल चला रही है। 3.हम पिफल्म देख रहे हैं। 4.मैं तेलुगु पढ़ रही हूँ। 5.तुम क्या कर रहे हो? 8. प्रश्नों के उत्तर दो 1.निशा मैसूर क्यों जाना चाहती थी? 2.निशा का परिवार कन्यावुफमारी वैफसे जाएगा? 3.शाम से पहले कन्यावुफमारी पहुँचना क्यों शरूरी है? 4.पूण्िार्मा की संध्या को कन्यावुफमारी में क्या देख सकते हैं? 5.लोग विवेकानंद स्मारक वैफसे पहुँचते हैं।? योग्यता विस्तार ऽ विद्याथीर् शैक्ष्िाक टूर/पिकनिक पर जाने की योजना पर चचार् करें और इसके बारे में सभी विद्याथ्िर्ायों की राय लेें। ऽ किसी दशर्नीय स्थल या शहर के बारे में वणर्न करें।

RELOAD if chapter isn't visible.