बोलो भाइर् कितने? आओ, सब मिलकर एक खेल खेलें। इस खेल को तो तुम शरूर जानते होगे। सब बच्चे एक गोले में खड़े हो जाओ। एक बच्ची गोले के बीच खड़े होकर कोइर् ताल बजाए। जब तक ताल बजता रहे तब तक सब गोले में भागते रहो। ताल बजाने वाली बच्ची अचानक ताल रोककर कोइर् भी छोटी संख्या जैसे - ‘पाँच’, ‘चार’ या ‘दो’, शोर से पुकारे। ताल रुकने पर, जितनी संख्या पुकारी गइर् हो, उतनी ही संख्या की टोलियों में बँट जाओ। जो बच्चे किसी भी गुट में नहीं जुड़ पाते, वे खेल से बाहर हो जाएँ। जब तक केवल दो बच्चे गोले में न रह जाएँ, यह खेल खेलते रहो। आओ, अब खेल के बारे में कु छ बातें करें ❉ जब तुम सही संख्या के गुट में शामिल हुए तो तुम्हेवफसा लगा? क्यों?ंै❉ अगर तुम किसी गुट में शामिल न हो पाए तब तुम्हें वैफसा लगा? क्यों? ❉ क्या तुम्हें लोगों के साथ रहना पसंद है? ❉ तुम किन - किन के साथ रहना पसंद करते हो? ❉ अगर तुम्हें हमेशा अकेले ही रहना पड़े तो तुम्हें वैफसा लगेगा? ‘बोलो भाइर् कितने’ खेल में ताल बजाने और संख्या पुकारने का काम कोइर् भी कर सकता ह।ैबच्चों की संख्या के अनुसार पुकारी जाने वाली संख्या कम या श्यादा की जा सकती है। हम सब अकेले न रह कर लोगों के साथ रहना पसंद करते हैं। हम सब किसी - न - किसी गुट में जुड़कर जीते हैं। चलो देखते हैं एक ऐसे गुट को μ गुरलीन, नागराजन और उनके बच्चे तान्या और समर। ये लोग एक - दूसरे से वैफसे जुड़े हैं? जो चित्रा तुमने देखा उसमें दिखाए गए लोग एक परिवार के हैं। ऐसे परिवार के चित्रा या प़्ाफोटो हम कइर् बार देखते हैं। कहाँ - कहाँ देखते हैं हम ऐसा परिवार? क्या सभी परिवार ऐसे ही होते हैं? आओ! अब वुफछ परिवारों के बारे में पढ़ें। सीताम्मा सीताम्मा एक छोटे शहर गुंटूर में पुश्तैनी मकान में रहती है। मकान में नीचे दादा, दादी, छोटे चाचा और बुआ रहते हैं। पहली मंजिल के एक हिस्से में सीताम्मा अपने पिताजी, माँ और छोटी बहन गीताम्मा के साथ रहती है। दूसरे हिस्से में ताउफजी और उनके तीनों बच्चे रहते हैं। वुफछ ही महीनों पहले उसकी ताइर्जी की मौत हो गइर् थी। बच्चों के स्वयं के परिवार के बारे में पाठ चार में हुइर् चचार् को ध्यान में रखना अच्छा होगा। कक्षा में मौजूद बच्चों के परिवारों में विविध्ता से पाठ की शुरुआत हो सकती है। उसके बड़े चाचा और नइर् चाची अलग बरसाती के एक कमरे मंे रहते हैं। उनकी नइर् - नइर् शादी हुइर् है। रात के खाने के पहले सीताम्मा की माँ सब बच्चों को पढ़ाइर् करवाती है। सब का खाना नीचे रसोइर् में इकट्टòा बनता है। कोश्िाश होती है कि रात को सब मिलकर खाएँ। आजकल रात को ताउफजी की छोटी लड़की, सीताम्मा की माँ के पास ही सोती है। सुबह सीताम्मा उसे स्वूफल के लिए तैयार करती है। ❉ सीताम्मा के परिवार में कौन - कौन हैं? ❉ इन अलग - अलग लोगों का आपस में वैफसा रिश्ता है? ❉ इस परिवार में पिछले वुफछ महीनों में क्या - क्या बदलाव आए हैं? तारा तारा अपनी अम्मा और नाना के साथ चैन्नइर् में रहती है। उसकी अम्मा मीनाक्षी ने शादी नहीं की है और तारा को गोद लिया है। मीनाक्षी सुबह आॅपिफस जाती है और शाम को घर आती है। स्वूफल से लौटने के बाद तारा की देखभाल उसके नाना जी करते हैं। वे ही उसे खाना ख्िालाते हैं, स्वूफल का काम करने में मदद करते हैं। उसके साथ खेलते भी हैं। छुट्टðेी वफ दिनों में तीनों दूर घूमने निकल जाते हैं, खूब मशे करते हैं। कभी - कभी तारा की मौसी, मौसा 139 और उनके बच्चे भी आ जाते हैं। तब वे सब मिलकर खूब खेलते हैं और गप - शप करते हैं। ❉ तारा की देखभाल कौन करता है? वैफसे? ❉ परिवार के लोग मिलकर क्या - क्या करते हैं? सारा और हबीब सारा और हबीब एक शहर में रहते हैं। दोनों नौकरी करते हैं। हबीब सरकारी दफ्ऱतर में क्लवर्फ है और सारा स्वूफल में पढ़ाती है। हबीब के अब्बू रिटायर हो चुके हैं और उनके साथ रहते हैं। शाम को तीनों साथ बैठकर टी.वी. देखते हैं या ताश खेलते हैं। अब्बू को सब के साथ टी.वी. देखने में मशा आता है μ देखने के साथ - साथ बहस जो होती है। छुट्टðी के दिन पड़ोस के बच्चे उनके घर में खूब ध्माल मचाते हैं। सब साथ मिलकर मशे करते हैं - कभी खेल - वूफद कर, कभी घूमने जाकर, कभी नाटक देखकर। ❉ इस परिवार में कौन - कौन है? ❉ पिताजी को सब के साथ टी.वी. देखने में श्यादा मशा आता है। क्यों? ❉ परिवार के लोग वैफसे मशे करते हैं? तोताराम तोताराम अपने पिताजी, चाचा और चचेरे भाइर्यों के साथ मुंबइर् की बस्ती में रहता है। तोताराम और उसके भाइर् मंुबइर् पढ़ने के लिए आए हैं। उसके पिताजी और चाचाजी यहाँ नौकरी करते हैं। घर का सारा काम सभी मिलकर करते हैं। तोताराम के चाचा के हाथ का खाना सभी को बहुत पसंद है। उसके पिताजी खरीदारी का सारा काम सँभालते हैं। वे जितना पैसा कमाते ह,ंै उसका वुफछ हिस्सा वे गाँव में तोताराम के दादा को भेजते हैं। तोताराम की माँ, दादा, दादी, चाची और छोटे भाइर् - बहन गाँव के घर में रहते हैं। तोताराम साल में एक बार गाँव जाता ह।ैउसेे अपनी माँ की बहुत याद आती है। वह उन्हें बहुत लंबी चिट्टòी लिखता है। ❉ तोताराम के परिवार के लोग एक - दूसरे से संपवर्फ वैफसे बनाए रखते हैं? ❉ तोताराम के परिवार में कौन - से लोग शहर में रहते हैं? और कौन - से गाँव में? क्यों? कृ ष्णा और कावेरी वृफष्णा और कावेरी अपने पिताजी के साथ रहते हैं। सुबह तैयार होकर तीनों इकट्टेò निकलते हैं। वृफष्णा और कावेरी को स्वूफल छोड़कर काॅलेज जाता है। पिताजी दुकान जाते हैं, दिन भर के लिए। दोपहर में कावेरी स्वूफल से लौटकर ताला खोलती है और वृफष्णा का इंतशार करती है। काॅलेज से आकर वृफष्णा खाना गमर् करता है और दोनों मिलकर खाते हैं। स्वूफल का काम करने के बाद कावेरी बाहर खेलने जाती है। लौटकर भाइर् के साथ कभी वैफरम खेलती है, कभी टेलीविशन देखती है। पिताजी जब आ जाते हैं तब तीनों मिलकर खाना बनाते हैं और खाते हैं। छु ðियों में कावेरी अपनी माँ के पास रहने जाती है। वृफष्णा भी वुफछ दिन वहीं माँ के पास रहता है, पर उसे अपने घर में ही रहना पसंद है μ उसकी सारी चीशें और पिताजी जो यहाँ हैं। ❉ वृफष्णा अपनी बहन का ध्यान वैफसे रखता है? ❉ परिवार में क्या - क्या काम इकट्टेòकरते हैं? तुमने कइर् परिवारों के बारे में पढ़ा। वुफछ सवालों पर चचार् भी की। परिवार क्या है? परिवार वैफसे - वैफसे होते हैं? इस बारे में तुमने अपनी राय तो बना ली होगी। परिवार में क्या - क्या होता है? दिए गए वाक्यों में से जो परिवार में होता है उन पर ‘9’ का निशान लगाओ। ❉ एक परिवार के लोग अक्सर एक - दूसरे जैसे दिखते हैं। ❉ परिवार के लोगों को एक - दूसरे से बहुत प्यार होता है। ❉ एक परिवार में जन्म होने से या शादी होने से हम उस परिवार का हिस्सा हो जाते हैं। ❉ परिवार के लोग अक्सर एक घर में एक साथ रहते हैं। ❉ परिवार के बड़े लोग अपने परिवार के लिए पैसे कमाते हैं। पाठ में वुफछ परिवारों के बारे में बताया गया है। इनके अलावा भी कइर् तरह के परिवार होते ह।ंैइस विविध्ता को समझने के लिए बच्चों से उनके परिवार के बारे में चचार् की जा सकती ह।ै❉ परिवार के लोगों का आपस में झगड़ा हो तो भी सभी साथ रहते हैं। ❉ परिवार में बच्चों और बूढ़ों की देखभाल होती है। अपने परिवार की वुफछ और बातें सोचो और खाली जगह में लिखो। सीताम्मा का परिवार क्या तुम परिवार की कल्पना एक पेड़ के रूप में कर सकते हो? यहाँ सीताम्मा के परिवार को चित्रा द्वारा दशार्या गया है।

content="width=1200, height=1577" name="viewport" /> >Page1>
page 1

RELOAD if chapter isn't visible.