बादल आए, बारिश लाए अप्पू ने के ला खाया अप्पू हाथी को केले बहुत पसंद हैं। वह रोश केले के पेड़ों से केले तोड़कर खाता है। एक दिन उसने देखा कि केले के पेड़ मुरझा रहे हैं। बहुत दिनों से बारिश जो नहीं हुइर् थी। अप्पू बोला μ मैं अभी अपनी सूँड़ में पानी भरकर लाता हँू। वह नदी की ओर चल पड़ा। नदी से अप्पू ने जी भरकर पानी पिया। सूँड़ में पानी भर - भर कर वह खूब नहाया। में पानी भरा और जाकर केले के पेड़ों को भी नहला दिया। पानी मिलते ही केले के पेड़ख्िाल उठे। अप्पू बोलाμ अब मैं रोश तुम्हारे लिए पानी लाउँफगा, तुम मुझे मीठे - मीठे केले जो देते हो। पिफरसूड़ँ57 ❉ अप्पू को वैफसे पता लगा कि केले के पेड़ों को पानी चाहिए? ❉ तुम्हारे घर के आस - पास के पेड़ - पौधें को पानी कहाँ से मिलता है? ❉ अप्पू हाथी ने नदी से जी भर कर पानी पिया। तुमने जानवरों को कहाँ - कहाँ पानी पीते देखा है? ❉ क्या तुमने कभी किसी जानवर को पानी पिलाया है? अगर हाँ, तो किसको? ❉ जिन जानवरों को कोइर् पानी नहीं पिलाता, वे पानी कहाँ से पीते हैं? कहानी में तुमने पढ़ा कि केले के पेड़ को अप्पू हाथी ने पानी दिया। असल में तो हाथी पेड़ों को ऐसे पानी नहीं देते। तो पिफर उन पेड़ - पौधें को पानी कहाँ से मिलता है, जिन्हें कोइर् पानी नहीं देता? पेड़ - पौधें को श्यादातर पानी बारिश से मिलता है। बारिश आते ही पेड़ - पौधे ख्िाल उठते हैं। आओ, बारिश के बारे में एक कविता पढ़ें। कवि को बादलों मेें बहुत वुफछ दिखा। क्या तुम्हें भी बादलों में कभी वुफछ दिखा है? क्या? ❉ बादल क्या - क्या करते हैं? ❉ बारिश आने पर तुम्हें वैफसा लगता है? ❉ बारिश आने पर बादलों के अलावा और क्या - क्या दिखाइर् देता है? ❉ क्या तुमने कभी इंद्रध्नुष देखा है? इंद्रध्नुष कब दिखाइर् देता है? ❉ बारिश होने पर क्या - क्या होता है? बारिश होने पर नाव बनाने और उसे पानी में चलाने में मशा आता है ना? कागश की नाव बनाओ और उसे पानी में तैराओ। क्या तुमने बारिश में कोइर् परेशानी झेली है या देखी है? अपने अनुभवों के आधर पर चित्रा बनाओ। वाह रे बारिश तेरी शान, कोइर् है खुश, कोइर् परेशान। बच्चों के बारिश से जुड़े अनुभवों को सुनने से, बारिश से होने वाले प्रभावों μ अच्छे या बुरे μ दोनों पर गहराइर् से चचार् हो सकती है।

>Cover> charset="utf-8"/> name="viewport" content="width=1208, height=1573"/>
ckny vk,] ckfj'k yk,
vIiw us ds yk [kk;k
vIiw gkFkh dks osQys cgqr ilan gSaA
og jks”k osQys osQ isM+ksa ls osQys
rksM+dj [kkrk gSA
,d fnu mlus ns[kk fd osQys
osQ isM+ eqj>k jgs gSaA cgqr fnuksa ls
ckfj'k tks ugha gqbZ FkhA
vIiw cksyk µ eSa vHkh viuh lw¡M+
esa ikuh Hkjdj ykrk g¡wA
og unh dh vksj py iM+kA
unh ls vIiw us th Hkjdj ikuh
fi;kA lw¡M+ esa ikuh Hkj&Hkj dj og
[kwc ugk;kA
fiQj lw¡M+ esa ikuh Hkjk vkSj tkdj
osQys osQ isM+ksa dks Hkh ugyk fn;kA
ikuh feyrs gh osQys osQ isM+ f[ky
mBsA vIiw cksyk µ vc eSa jks”k rqEgkjs
fy, ikuh ykm¡Qxk] rqe eq>s ehBs&ehBs
osQys tks nsrs gksA
57
57
9

RELOAD if chapter isn't visible.