अध्याय - 3 जनसंख्या संघटन किसी भी देश में विविध् प्रकार के लोग रहते हैं। प्रत्येक व्यक्ित अपने आप में अद्वितीय है। लोगों को आयु, लिंग तथा उनके निवास स्थान के आधार पर पृथव्फ किया जा सकता है। जनसंख्या को पृथव्फ करने वाली वुफछ अन्य विशेषताएँ हैं - व्यवसाय, श्िाक्षा और जीवन - प्रत्याशा। लिंग संघटन स्ित्रायों और पुरुषों की संख्या किसी देश की महत्त्वपूणर् जनांकिकीय विशेषता होती है। जनसंख्या में स्ित्रायों और पुरुषों की संख्या के बीच के अनुपात को लिंग अनुपात कहा जाता है। वुफछ देशों में यह निम्न सूत्रा द्वारा परिकलित किया जाता है। परुुष जनसख्ंया × 1000 स्त्राी जनसंख्या अथवा प्रति हशार स्ित्रायों पर पुरुषों की संख्या। भारत में इस सूत्रा का प्रयोग कर लिंग अनुपात ज्ञात किया जाता हैः स्ित्रायों की जनसंाख्य× 1000 पुरुषां ेकी जनसंख्या अथवा प्रति हशार पुरुषों पर स्ित्रायों की संख्या। लिंग अनुपात किसी देश में स्ित्रायों की स्िथति के संबंधमें महत्त्वपूणर् सूचना होती है। जिन प्रदेशों में लिंग भेदभाव अनियंत्रिात होता है, वहाँ लिंग अनुपात निश्िचत रूप से स्ित्रायों के प्रतिवूफल होता है। इन क्षेत्रों में स्त्राी भ्रूण हत्या तथा स्त्राी - श्िाशु हत्या और स्ित्रायों के प्रति घरेलू हिंसा की प्रथा प्रचलित है। इसका एक कारण इन क्षेत्रों में स्ित्रायों की सामाजिक - आथ्िार्क स्तर का निम्न होना हो सकता है। आपको स्मरण होना चाहिए कि जनसंख्या में अिाक स्ित्रायों के होने का अथर् यह नहीं है कि उनका स्तर बेहतर है। यह भी हो सकता है कि पुरुष रोशगार के लिए अन्य क्षेत्रों में प्रवास कर गए हों। प्राकृतिक लाभ बनाम सामाजिक हानि स्ित्रायों को पुरुषों की तुलना में जैविक लाभ प्राप्त है,क्योंकि वे पुरुषों की तुलना में अिाक स्िथति - स्थापकहोती है, पिफर भी, यह लाभ उन सामाजिक हानियांे वभेदभाव द्वारा, जिन्हें वे अनुभव करती है, समाप्त होजाता है। विश्व की जनसंख्या का औसत लिंग अनुपात, प्रति हशार पुरुषों पर 990 स्ित्रायाँ हैं। विश्व में उच्चतम लिंग अनुपात लैटविया में दशर् किया गया है जहाँ प्रति हशार पुरुषों की तुलना में 1187 स्ित्रायाँ हैं। इसके विपरीत निम्नतम लिंग अनुपात संयुक्त अरब अमीरात में दशर् किया गया है जहाँ प्रति हशार पुरुषों की तुलना में 468 स्ित्रायाँ है। लिंग अनुपात के विश्व प्रतिरूप से विश्व के विकसित प्रदेशों में कोइर् अलग अंतर नहीं दिखाइर् पड़ता है। संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा सूचीब( 139 देशों में लिंग अनुपात स्ित्रायों के लिए अनुवूफल है, जबकि शेष 72 देशों में यह उनके लिए प्रतिवूफल है। सामान्यतः एश्िाया में लिंग अनुपात निम्न है। चीन, भारत,सऊदी अरब, पाकिस्तान व अपफगानिस्तान जैसे देशों में लिंग अनुपात और भी निम्न है। दूसरी ओर, रूस सहित यूरोप के एक बड़े भाग में पुरुष अल्प संख्या में हैं। यूरोप के अनेक देशों में पुरुषों की कमी, वहाँ स्ित्रायों की बेहतर स्िथति तथा भूतकाल में विश्व के विभ्िान्न भागों में अत्यिाक पुरुष उत्प्रवास के कारण है। आयु संरचना आयु संरचना विभ्िान्न आयु वगा±े में लोगों की संख्या को प्रदश्िार्तकरती है। जनसंख्या संघटन का यह एक महत्त्वपूणर् सूचक है, क्योंकि 15 से 59 आयु वगर् के बीच जनसंख्या का बड़ा आकार एक विशाल कायर्शील जनसंख्या को इंगित करता है। 60 वषर् से अिाक आयु वाली जनसंख्या का एक बड़ा अनुपात उस वृ( जनसंख्या को प्रदश्िार्त करता है, जिसे स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं के लिए अिाक खचर् की आवश्यकता है। इसी प्रकार युवा जनसंख्या के उच्च अनुपात का अथर् है कि प्रदेश में जन्मदर ऊँची है व जनसंख्या युवा है। आयु - लिंग पिरामिड जनसंख्या की आयु - लिंग संरचना का अभ्िाप्राय विभ्िान्न आयु वगा±े में स्ित्रायों और पुरुषों की संख्या से है। जनसंख्या पिरामिड का प्रयोग जनसंख्या की आयु - लिंग संरचना को दशार्ने के लिए किया जाता है।जनसंख्या पिरामिड की आकृति जनसंख्या की विशेषताओं को परिलक्ष्िात करती है। प्रत्येक आयु वगर् में बायाँ भाग पुरुषों का प्रतिशत तथा दायाँ भाग स्ित्रायों का प्रतिशत दशार्ता है। चित्रा 3.1, 3.2 और 3.3 जनसंख्या पिरामिड के विभ्िान्न प्रकार दशार्ते हैं। विस्तारित होती जनसंख्या नाइजीरिया का आयु - लिंग पिरामिड, जैसा कि आप देख सकते हैं, विस्तृत आकार वाला त्रिाभुजाकार पिरामिड है जो अल्प विकसित देशों का प्रतिरूपी है। इस पिरामिड में उच्च जन्म दर के कारण निम्न आयु वगा±े में विशाल जनसंख्या पाइर् जाती है। यदि आप बांग्लादेश और मैक्िसको के लिए पिरामिड की रचना करें तो वे भी ऐसे ही दिखाइर् देंगे। नाइजीरिया, 2003आयु वगर् वषर्आयु वगर् वषर्वुफल जनसंख्या का प्रतिशत आँकड़ा ड्डोतः जनांकिकीय इर्अर, 2003, संयुक्त राष्ट्र सांख्ियकी प्रभाग, आँकड़े राष्ट्रीय संदभर् में प्रेक्षेपित हैं। चित्रा 3.1: विस्तारित होती जनसंख्या स्िथर जनसंख्या आस्ट्रेलिया का आयु - लिंग पिरामिड घंटी के आकार का है जो शीषर् की ओर शुंडाकार होता जाता है। यह दशार्ता है कि जन्म दर और मृत्यु दर लगभग समान है जिसके परिणामस्वरूप जनसंख्या स्िथर हो जाती है। आस्ट्रेलिया, 2003 वुफल जनसंख्या का प्रतिशत आँकड़ा ड्डोतः जनांकिकीय इर्अर, 2003, संयुक्त राष्ट्र सांख्ियकी प्रभाग, चित्रा 3.2: स्िथर जनसंख्या जनसंख्या संघटन 19 ”ासमान जनसंख्या जापान के पिरामिड का संकीणर् आधार और शुंडाकार शीषर् निम्न जन्म और मृत्यु दरों को दशार्ता है। इन देशों में जनसंख्या वृि शून्य अथवा )णात्मक होती है।जापान, 2003 85़ 80.84 75.79 70.74 65.69 60.64 55.59 50.54 45.49 40.44 35.39 30.34 25.29 20.24 15.19 10.14 5.9 0.4 वुफल जनसंख्या का प्रतिशतआँकड़ा ड्डोतः जनांकिकीय इर्अर, 2003, संयुक्त राष्ट्र सांख्ियकी प्रभाग, क्षेत्रा में रह रहे बाह्य देशों के वूफटनीतिज्ञों, विदेशी सैन्य एवं नागरिक कामिर्कों और उनके आश्रितों के अतिरिक्त। चित्रा 3.3: ”ासमान जनसंख्या ियाकलाप अपने स्वूफल के बच्चों का एक जनसंख्या पिरामिड बनाएँ और उसकी विशेषताओं का वणर्न करें। वृ( होती जनसंख्या जनसंख्या का वृ( होना एक ऐसी प्रिया है जिससे बुजुगर् जनसंख्या का हिस्सा अनुपात की दृष्िट से बड़ा हो जाता है। यह 20वीं शताब्दी की नयी परिघटना है। विश्व के अिाकांश विकसित देशों में उच्च आयु वगा±े में बढ़ी हुइर् जीवन - प्रत्याशा के कारण जनसंख्या बढ़ गइर् है। जन्म दरों में ”ास के साथ जनसंख्या में बच्चों का अनुपात घट गया है। ग्रामीण - नगरीय संघटन जनसंख्या का ग्रामीण और नगरीय में विभाजन निवास के आधार पर होता है। यह विभाजन आवश्यक है क्योंकि ग्रामीण और नगरीय जीवन आजीविका और सामाजिक दशाओं में एक - दूसरे से भ्िान्न होते हैं। ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में आयु - लिंग संघटन, व्यावसायिक संरचना, जनसंख्या का घनत्व तथा विकास के स्तर अलग - अलग होते हैं। 20 मानव भूगोल के मूल सि(ांत यद्यपि ग्रामीण और नगरीय जनसंख्या में अंतर करने के मापदंड एक देश से दूसरे देश में भ्िान्न होती है। सामान्य रूप से ग्रामीण क्षेत्रा वे होते हैं, जिनमें लोग प्राथमिक ियाओं में संलग्न होते हैं और नगरीय क्षेत्रा वे होते हैं जिनमें अिाकांश कायर्शील जनसंख्या गैर - प्राथमिक ियाओं में संलग्न होती है। चित्रा 3.4 वुफछ चुने हुए देशों की ग्रामीण - नगरीय लिंग संघटन को ंदशार्ता है। कनाडा और पिफनलैड जैसे पश्िचमी यूरोपीय देशों में ग्रामीण और नगरीय लिंग अनुपात में अंतर अÚीकी और एश्िायाइर् देशों क्रमशः जिंेबाब्व तथा नेपाल के ग्रामीण और नगरीय लिंग अनुपात वेफ विपरीत हैं। पश्िचमी देशों में ग्रामीण क्षेत्रों में स्ित्रायों की अपेक्षा पुरुषों की संख्या अिाक है, जबकि नगरीय क्षेत्रों में स्ित्रायों की संख्या पुरुषों की अपेक्षा अिाक है। नेपाल, पाकिस्तान और भारत जैसे देशों में स्िथति इससे विपरीत है। नगरीय क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों की अध्िक संभावनाओं वे्रामीण क्षेत्रों से फ कारण गमहिलाओं के आगमन के परिणामस्वरूप यूरोप, कनाडा और संयुक्त राज्य अमेरिका के नगरीय क्षेत्रों में महिलाओं कीअिाकता है। कृष्िा भी इन विकसित देशों में अत्यिाक मशीनीवृफत है और यह लगभग पुरुष प्रधान व्यवसाय है। इसके विपरीत एश्िाया के नगरीय क्षेत्रों में पुरुष प्रधान प्रवास के कारण लिंग अनुपात भी पुरुषों के अनुवूफल है। उल्लेखनीयहै कि भारत जैसे देशों में ग्रामीण क्षेत्रों के कृष्िा काया±े में महिलाओं की सहभागिता काप़्ाफी ऊँची है। नगरों में आवास की कमी, रहन - सहन की उच्च लागत, रोशगार के अवसरों की कमी और सुरक्षा की कमी महिलाओं के गाँव से नगरीय क्षेत्रों में प्रवास को रोकते हैं। साक्षरता किसी देश में साक्षर जनसंख्या का अनुपात उसके सामाजिक - आथ्िार्क विकास का सूचक होता है, क्योंकि इससे रहन - सहन के स्तर, महिलाओं की सामाजिक स्िथति, शैक्षण्िाक सुविधाओं की उपलब्धता तथा सरकार की नीतियों का पता चलता है। आथ्िार्क विकास का स्तर साक्षरता का कारण एवं परिणाम दोनों ही है। भारत में साक्षरता दर 7 वषर् से अिाकआयु वाले जनसंख्या के उस प्रतिशत को सूचित करता है, जो पढ़ लिख सकता है और जिसमें समझ के साथ अंकगण्िातीय परिकलन करने की योग्यता है। व्यावसायिक संरचना कायर्शील जनसंख्या ;अथार्त 15 - 59 आयु वगर् में स्त्राी और 1200प्रति 1000 पुरुषों की तुलना में ियाँ1000 800 600 400 200 0 चित्रा 3.4: ग्रामीण नगरीय लिंग संघटन, 2003 ;चयनित देशद्ध पुरुषद्ध कृष्िा, वानिकी, मत्स्यन, विनिमार्ण, निमार्ण, व्यावसायिकपरिवहन, सेवाओं, संचार तथा अन्य अवगीर्कृत सेवाओं जैसे व्यवसायों में भाग लेते हैं।कृष्िा, वानिकी, मत्स्यन तथा खनन को प्राथमिक ियाओं, विनिमार्ण को द्वितीयक िया, परिवहन, संचार और अन्य सेवाओं को तृतीयक ियाओं तथा अनुसंधान और वैचारिक विकास से जुड़े काया±े को चतुथर्क ियाओं के रूप मेंवगीर्कृत किया जाता है। इन चार खंडों में कायर्शील जनसंख्या का अनुपात किसी राष्ट्र के आथ्िार्क विकास के स्तरों का एक अच्छा सूचक है। इसका कारण यह है कि केवल उद्योगों और अवसंरचना से युक्त एक विकसित अथर्व्यवस्था ही द्वितीयक, तृतीयक और चतुथर्क सैक्टरों में अिाक कमिर्यों को समायोजित कर सकती है। यदि अथर्व्यवस्था अभी भी आदिम अवस्था में है, तब प्राथमिक ियाओं में संलग्न लोगों का अनुपात अिाक होगा क्योंकि इसमें मात्राप्राकृतिक संसाधनों का विदोहन होता है। अभ्यास 1ण् नीचे दिए गए चार विकल्पों में सही उत्तर को चुनिए: ;पद्ध निम्नलिख्िात में से किसने संयुक्त अरब अमीरात के लिंग अनुपात को निम्न किया है? ;कद्ध पुरुष कायर्शील जनसंख्या का चयनित प्रवास। ;खद्ध पुरुषों की उच्च जन्म दर। ;गद्ध स्ित्रायों की निम्न जन्म दर। ;घद्ध स्ित्रायों का उच्च उत्प्रवास। जनसंख्या संघटन 21 ;पपद्ध निम्नलिख्िात में से कौन - सी संख्या जनसंख्या के कायर्शील आयु वगर् का प्रतिनििात्व करती है? ;कद्ध 15 से 65 वषर् ;खद्ध 15 से 66 वषर् ;गद्ध 15 से 64 वषर् ;घद्ध 15 से 59 वषर् ;पपपद्ध निम्नलिख्िात में से किस देश का लिंग अनुपात विश्व में सवार्िाक है? ;कद्ध लैटविया ;खद्ध जापान ;गद्ध संयुक्त अरब अमीरात ;घद्ध Úांस 2ण् निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए: ;पद्ध जनसंख्या संघटन से आप क्या समझते हैं? ;पपद्ध आयु - संरचना का क्या महत्त्व है? ;पपपद्ध लिंग - अनुपात वैफसे मापा जाता है? 3ण् निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर 150 शब्दों से अिाक में न दें: ;पद्ध जनसंख्या के ग्रामीण - नगरीय संघटन का वणर्न कीजिए। ;पपद्ध विश्व के विभ्िान्न भागों में आयु - लिंग में असंतुलन के लिए उत्तरदाइर् कारकों तथा व्यावसायिक संरचना की विवेचना कीजिए। अपने िाला/राज्य के आयु - लिंग पिरामिड की रचना कीजिए। 22 मानव भूगोल के मूल सि(ांत

RELOAD if chapter isn't visible.