वित्तीय विवरणों का विश्लेषण 4 अध्िगम उद्देश्य इस अध्याय को पढ़ने के उपरांतआप: ऽ वित्तीय विवरण से तात्पयर् एवं उनके विश्लेषणों की व्याख्या कर सकेंगे ऋ ऽ वित्तीय विश्लेषणों के महत्त्व की पहचान कर सकेंगेऋ ऽ वित्तीय विश्लेषण की तकनीक का वणर्न कर सकेंगेऋ ऽ वित्तीय विश्लेषणों की सीमाओं को बता सकेंगेऋ ऽ तुलनात्मक एवं सामान्य आकार के विवरणों को तैयार करना तथा उसमें दिए गए आँकड़ों की व्याख्या कर सकेंगेऋ ऽ प्रवृिा प्रतिशत का परिकलन एवं उनकी व्याख्या कर सकेंगे। पिछले अध्याय में आप कंपनी के वित्तीय विवरणों ;आय विवरण एवंतुलनपत्राद्ध के बारे में पढ़ चुके हैं। सामान्यतः ये संक्ष्िाप्त वित्तीयप्रतिवेदन हैं जो कंपनियों की प्रचालन एवं वित्तीय स्िथति दशार्ते हैं। साथ ही इन प्रतिवेदनों में समाप्ित विस्तृत सूचनाएँ प्रचालन, कायर्क्षमता औरवित्तीय सुटृढ़ता के मूल्यांकन हेतु सहायक होती है। इसके लिए सही विश्लेषण और व्याख्या की आवश्यकता पड़ती है जिसके लिए विशेषज्ञों द्वारा भ्िान्न - भ्िान्न तरह की तकनीकों का गठन किया है। इस अध्याय में हम इन तकनीकों का अवलोकन करेंगे। 4.1 वित्तीय विवरणμविश्लेषण का तात्पयर् वित्तीय विवरणों में सन्िनहित वित्तीय सूचनाओं को समझने के व्रफम में तथा पफमर् के संचालन संबंध्ी निणर्यों को लेने के लिएविवेचनात्मक परीक्षण प्रव्रफम को वित्तीय विवरण विश्लेषण कहतेहैं। यह मूलभूत रूप से वित्तीय विवरण में दिए गए विभ्िाÂ संख्याओं और तथ्यों के बीच संबंधें का अध्ययन तथा व्याख्या है जिससे किसी भी पफमर् की लाभप्रदता और प्रचालन कायर्क्षमता दृष्िटगतहोती है जो वित्तीय स्िथति एवं भविष्य परिदृश्य के मूल्यांकन में सहायक होती हैं।वित्तीय विश्लेषण में विश्लेषण और व्याख्या दोनों का समावेशहै। विश्लेषण से आश्य वित्तीय विवरणों में दिए गए वित्तीय आंकड़ों का विध्िवत वगीर्करण द्वारा सरलीकरण करना है। व्याख्या से आश्य आंकड़ों के अथर् एवं अभ्िाप्राय स्पष्ट करने से है। यह दोनों एक दूसरे के पूरक हैं। विश्लेषण बिना व्याख्या अथर्हीन है और व्याख्या बिना विश्लेषण कठिन ही नहीं असंभव है। बाॅक्स वित्तीय विवरणों के विश्लेषण को ब्रंस्टेन ने इस प्रकार परिभाष्िात किया हैः एक निणार्यक प्रिया जो भूतपूवर्और पूवार्नुमानि वतर्मान वित्तीय स्िथति की ओर अंकित करती है, जिसका प्राथमिक उद्देश्य भविष्यकालीनपरिस्िथतियों के लिए सवोर्च्य अनुमान ज्ञात करना है। इसमें मुख्यतः वित्तीय विवरणों में दशार्यी गइर् सूचनाओं का पुनः समूहीकरण और व्याख्या का समावेश होता है जो व्यावसायिक इकाइयों की क्षमता और कमजोरियों पर प्रकाश डालता है, जो कि अन्य पफमोर्ं से तुलना ;अनुप्रस्थ व्याख्याद्ध और पफमर् की विभ्िान्न समयवििायों पर स्वयं का निषपादन ;समय श्रृंखला विश्लेषणद्ध संबंध्ी निणर्य लेने में सहायक हो सकते हैं। 4.2 वित्तीय विश्लेषण का महत्व वित्तीय विश्लेषण एक पफमर् की वित्तीय सुदृढ़ता एवं कमजोरियों को पहचानने का एक प्रव्रफम है, जिसमें तुलनपत्रा तथा लाभ व हानि खाता वफी मदों के बीच उचित संबंधें को देखा जाता है। वित्तीय विश्लेषण की जिम्मेदारी पफमर् के प्रबंध्न द्वारा या पफमर् से बाहर के पक्षों द्वारा ली जा सकती है जैसे कि पफमर् का स्वामिव्यापारिक लेनदार, ट्टणदाता, निवेशक श्रम संगठन, विश्लेषक तथा अन्य। विश्लेषण की प्रवृफति, उपयोगकतार्अथार्त, विश्लेषक के उद्देश्य पर आधरित होती है जो भ्िाÂ - भ्िाÂ हो सकती है। एक विश्लेषक द्वारा प्रायः प्रयुक्त की जानेवाली तकनीक आवश्यक नहीं है कि दूसरे विश्लेषक के उद्देश्य को पूरा करें, क्योंकि विश्लेषणकी रूचि में भ्िाÂता होती है। वित्तीय विश्लेषण विभ्िाÂ उपयोगकतार्ओं के लिए निम्न प्रकार से उपयोगी एवंमहत्त्वपूणर् होता है - ;पद्ध वित्त प्रबंध्क - इसमें वित्तीय विश्लेषण का केन्द्र बिन्दु कंपनी के प्रबंध्कीय निष्पादन, निगमसक्षमता, वित्तीय सुदृढ़ता तथा कमजोरियों और कंपनी के लिए साथर्क लेनदारों से संबंध्ित तथ्योंएवं संबंधें पर होता है। एक वित्त प्रबंध्क को निश्िचत रूप से विश्लेषण के विभ्िाÂ साध्नों से सुसज्िजत होना चाहिए ताकि पफमर् के लिए उचित तथा निष्पक्ष निणर्य लिए जा सवेंफ। विश्लेषण के साध्न लेखांकन आँकड़ों के अध्ययन में सहायता करते हैं ताकि संचालन नीतियों की सत्यता,व्यवसाय का निवेश मूल्य, ट्टण दरें तथा संचालन की सक्षमता की जाँच का निधर्रण हो सके। येतकनीकें वित्तीय नियंत्राण के क्षेत्रों तथा पफमर् के लिए आंश्िाक या पूणर्तः वास्तविक वित्तीय संचालनकी निरंतर समीक्षा में सक्षम बनाने हेतु समान रूप से महत्त्वपूणर् होती है। इसके साथ ही प्रमुख विचलनों के कारणों को विश्लेष्िात करने में सहायक होता है जिसके परिणामस्वरूप जब कभी संकेत मिलते हैं तो सुधरात्मक कायर्वाही की जाती है। ;पपद्ध उच्चतर प्रबंध्न: वित्तीय विश्लेषणों का महत्त्व केवल वित्त प्रबंध्कों तक ही सीमित नहीं है। इसकेमहत्त्व का परिक्षेत्रा पयार्प्त व्यापक है जिसके अंतगर्त सामान्यतः उच्च प्रबंध्न तथा विशेष रूप से उच्चप्रबंध्कमीर् शामिल होते हैं। पफमर् का प्रबंध्न वित्तीय विश्लेषण के प्रत्येक पहलू में रूचि दिखा सकता है। यह वुफल मिलाकर उनकी ही जिम्मेदारी होती है कि वे देखें कि पफमर् के संसाध्नों कोअध्िकतम सक्षमता के साथ इस्तेमाल किया जाए ताकि पफमर् की वित्तीय स्िथति सुदृढ़ रहे। वित्तीय विश्लेषण प्रबंध्न की सपफलता को मापने में सहायता करते हैं। दूसरे शब्दों में, कंपनी के संचालन, वैयक्ितक निष्पादन मूल्यांकन तथा अंतरिम नियंत्राण की व्यवस्था के आँकलन में सहायता करते हैं। ;पपपद्ध व्यापारिक लेनदार - एक लेनदार, वित्तीय विवरणों के विश्लेषण द्वारा न केवल कंपनी की क्षमता कोआँकलित करता है, बल्िक एक समय विशेष पर उसकी स्िथति, वित्तीय देयताओं को पूरा करने कीक्षमता के साथ - साथ सातत्य रूप से वित्तीय देयताओं को पूरा करने की संभावना को भी देखता है। व्यापारिक लेनदार एक पफमर् की क्षमता में विशेष रूप से रूचि रखते हैं जो एक बहुत छोटी सी अवध्ि में उनके दावे को पूरा करने की क्षमता रखती है। इस प्रकार से, उनका विश्लेषण पफमर् की द्रवता स्िथति के मूल्यांकन को सुनिश्िचत करता है। ;पअद्ध )णदाता - दीघर्कालिक ट्टण या उधर के पूतिर्कार, पफमर् के दीघर्कालिक ट्टण शोध्न क्षमता एवंउत्तरजीविता से चिंतित होते हैं। यह समयोपरि पफमर् की लाभप्रदता, ब्याज तथा मूलपूँजी को चुकानेके लिए रोकड़ पैदा करने की क्षमता तथा विभ्िाÂ निध्ियों का स्रोत का विश्लेषण करते हैं।दीघर्कालिक लेनदार ऐतिहासिक वित्तीय विवरणों का विश्लेषण करते हैं, ताकि वे अपने भविष्य कीट्टण शोध्न क्षमता एवं लाभप्रदता के बारे में विश्लेषण कर सकें। ;अद्ध निवेशकμ निवेशक, जोकि पफमर् के अंशों में अपना ध्न निवेश करते हैं, पफमर् के अजर्न के संदभर् में रूचि रखते हैं। इस तरह से, वे पफमर् की वतर्मान एवं भावी लाभप्रदता के बारे में विश्लेषण करतेहैं। इसके साथ ही पफमर् के वित्तीय ढांचे में रूचि रखते है ताकि वे पफमर् के अजर्न एवं जोख्िामों को प्रभावित करने वाली सीमाओं के बारे में जान सकें। अंश धरक या निवेशक प्रबंध्न की सक्षमता का मूल्यांकन करते हैं और यह निधर्रित करते हैं कि बदलाव की जरूरत है या नहीं। हांलांकि वुफछ बड़ी कपनियों में, अंश धरकों की रूचि, इस बारे में सीमित होती है कि वे अंश खरीदे, बेचे या उन्हें धरित रखें अथवा नहीं। ;अपद्ध श्रम संगठनμ श्रम संगठन वित्तीय विवरणों का विश्लेषण यह जानने के लिए करते है कि क्या कंपनीनिवेश्िात पूँजी पर उचित दर दे रही है या नहीं, वे वतर्मान में मजदूरी में बढ़ोत्तरी वहन कर सकते हैं या नहीं या पिफर उत्पादकता बढ़ाकर तथा कीमत उफँची करके बढ़ी हुइर् मजदूरी को समाहित कर सकते या नहीं। ;अपपद्ध अन्यμ अथर्शास्त्राी तथा अनुसंधनकतार् वित्तीय विवरणों का विश्लेषण वतर्मान व्यवसाय तथा आथ्िार्क स्िथतियों के बारे में अध्ययन करने के लिए करते हैं। सरकारी संस्थाओं को मूल्य नियमन, दर निधार्रण तथा अन्य ऐसे ही उद्देश्यों के लिए विश्लेषण की आवश्यकता होती है। 4ण्3 वित्तीय विवरणों के विश्लेषण का उद्देश्य वित्तीय विवरणों के विश्लेषण महत्त्वपूणर् तथ्यों तथा प्रबंध्कीय निष्पादनों एवं पफमर् की सक्षमता से सम्ब(संबंधें को प्रकट करते है। व्यापक तौर पर विश्लेषण के उद्देश्यों को वित्तीय विवरणों में समाहित पफमर् की सुदृढ़ता एवं कमजोरियों की दृष्िट से सूचनाओं के जानने में तथा पफमर् के भविष्य की संभावनाओं के पूवार्नुमानको समझने में निहित है और इसी कारण वित्तीय विश्लेषण पफमर् के संचालन से संबंध्ित विभ्िाÂ निणयो±को लेने के योग्य बनाते हैं। सामान्यतः वित्तीय विश्लेषणों को निम्नलिख्िात उद्देश्यों की पूतिर् के लिए अपनाया जाता हैः ऽ वुफल मिलाकर पफमर् की वतर्मान लाभप्रदता एवं संचालन सक्षमता के साथ इसके विभ्िाÂ विभागों कोमूल्यांकित किया जाता है इस तरह से पफमर् की वित्तीय स्िथति को निणीर्त करता है। ऽ पफमर् की वित्तीय स्िथतियों के विभ्िाÂ संघटकों के सापेक्ष्िाक महत्त्व को पता करने के लिए। ऽ पफमर् की लाभप्रदता/ वित्तीय स्िथति में बदलाव के कारणों को समझने व जानने के लिए। ऽ पफमर् द्वारा मूलध्न एवं ब्याज को चुकता करने, ट्टणों के लिए उपलब्ध् प्रत्याभूतों एवं ट्टणों की परिशोध्न के लिए व्यवस्था को निणीर्त करने के लिए तथा पफमर् की अल्पकालिक तथा दीघर्कालिक द्रवता की स्िथति के मूल्यांकन के लिए।विभ्िान्न पफमोंर् के वित्तीय विवरणों के विश्लेषण द्वारा एक अथर्शास्त्राी चालू वित्तीय नीतियों में केंदि्रतआथ्िार्क सामथयर् और कमियों की सीमा को माप सकता है। वित्तीय विवरणों के विश्लेषण बहुत सारी सरकारी कायर्वाहियों की संब(ताओं जैसे लाइसेंसिंग, नियंत्राण, मूल्य अंकन, व्यापारिवफ लाभ की सीमा लाभांश स्िथरण, कर छूट तथा अन्य रियायतें आदि के लिए आधर होते हैं।वित्तीय विवरणों के विश्लेषण अंशधरकों को भी मदद पहुँचाते हैं, तथा अन्य हेतु प्रबंध्न की निष्पादन को निणीर्त करने में सहायक होते हैं। 4ण्4 वित्तीय विश्लेषण के साध्न वित्तीय विवरणों के विश्लेषण की सवार्ध्िक ज्ञान तकनीकें ये हैं - ;पद्ध तुलनात्मक विवरण विश्लेषणः यह वे विवरण है जो दो अथवा अध्िक समयावध्ियों में एक पफमर् की लाभप्रदता एवं वित्तीय अवस्था को दशार्ते हैं जिससे कि दो या अध्िक समयावध्ियों में पफमर् की स्िथति का पता चलता है। यह समान्यतः तुलनात्मक रूप से तुलनपत्रा और आय विवरण नामक दो महत्त्वपूणर् वित्तीय विवरणों पर लागू होता है। वित्तीय आंकड़े केवल तभी तुलनात्मक होते हैं जब समान लेखांकन सि(ांत का प्रयोग इनके निमार्ण में किया जाता है। यदि ऐसा नहीं है तो लेखांकन सि(ांतों से व्यतिक्रम को पादटिप्पणी के रूप में दशार्या जाना चाहिये। तुलनात्मक आंकड़े वित्तीय स्िथति और प्रचालन परिणामों की प्रवृिा और दिशा को इंगित करते हैं। ;पपद्ध समरूप/सामान्य आकार विवरण विश्लेषणः यह विवरण वुफछ सामान्य मदों के साथ एक वित्तीय विवरण के विभ्िाÂ मदों के बीच संबंध् का संकेत देते हैं जिसमें सामान्य मद के प्रत्येक मद को प्रतिशत के रूप में व्यक्त करता है। इस प्रकार से परिकलित प्रतिशत को अन्य पफमोर्ं के अनुवूफल प्रतिशत के साथ आसानी से समझा या तुलना की जा सकती है। जैसा कि ये संख्याएं सामान्य आधर अथार्त प्रतिशत से लाइर् जाती है। इस प्रकार के विवरण एक विश्लेषक को एक ही उद्योग की भ्िाÂ आकार की दो कंपनियों की संचालन एवं वित्तीय विश्िाष्टताओं की तुलना करने की अनुमति देते हैं। सामान्य आकार के विवरण पफमर् के विभ्िाÂ वषोर्ं के बीच आंतरिक तुलना और साथ ही साथ उसी वषर् या अनेक वषोर्ं के लिए अंतर पफमर् की तुलना, दोनों ही, के लिए उपयोगी होते हैं। इन विश्लेषणों को ‘अनुलंब विश्लेषणों’ के नाम से भी जाना जाता है। ;पपपद्ध प्रवृिा विश्लेषणः यह कइर् वषो± की एक श्ांृखला के अनेकों वित्तीय विवरणों के अध्ययन की एक तकनीक है। एक व्यावसायिक उद्योग/उद्यम के पिछले वषोर्ं के आँकड़ों का उपयोग करतेहुए, प्रवृिा का विश्लेषण संकलित आँकड़ों में एक अवध्ि के दौरान आए बदलावों का अवलोकनकरके किया जा सकता है। प्रवृिा प्रतिशत एक प्रतिशत संबंध् है जिसमें भ्िाÂ वषो± को प्रत्येकमद आधर वषर् के उसी समान मद को वहन करता है। प्रवृिा विश्लेषण इसलिए महत्त्वपूणर् है, क्योंकि इसमें दीघर्कालिक दृष्िटकोण होता है, अतः यह व्यवसाय की प्रवृफति के आधरभूतबदलाव के बिंदु को उभार सकता है। एक विश्िाष्ट अनुपात में एक प्रवृिा को देखकर, कोइर् व्यक्ित यह जान सकता है कि अनुपात गिर रहा है या बढ़ रहा है या लगातार सापेक्ष्िाक तौर पर स्िथर है। इस अवलोकन से, समस्या का पता लगाया जा सकता है या अच्छे प्रबंध्न के संकेत देखे जा सकते हैं। ;पअद्ध अनुपात विश्लेषणः यह महत्त्वपूणर् संबंधें का वणर्न करता है जोकि तुलन पत्रा में, लाभ व हानि खाते में, बजट नियंत्राण तंत्रा या लेखांकन संगठन के किसी अन्य भाग में दशार्ए गए आँकड़ों के बीचविद्यमान होते हैं। वित्तीय विश्लेषण की तकनीक के रूप में लेखांकन अनुपात आय एवं तुलन पत्राके व्यष्िट मदों के बीच तुलनात्मक महत्त्व को मापते हैं। यह भी संभव है कि अनुपात विश्लेषणकी तकनीक से एक उद्यम की लाभप्रदता ट्टण शोध्न क्षमता तथा सक्षमता को मूल्यांकित किया जा सकता है। ;अद्ध रोकड़ प्रवाह विश्लेषणः यह किसी संस्थान वेफ रोकड़ के वास्तविक अंतवार्ह एवं बाहिवार्ह को दशार्ता है। एक व्यवसाय में आवक रोकड़ के बहाव को रोकड़ अंतवार्ह तथा पफमर् से बाहर जाने वाली रोकड़ के बाहिवार्ह रोकड़ प्रवाह कहते हैं। रोकड़ के अंतवार्ह एक बाहिवार्ह के बीच अंतर यह है कि निवल रोकड़ प्रवाह अध्िशेष है रोकड़ प्रवाह विवरण यह दशार्ते हुए इस प्रकार से तैयार किया जाता है जिसमें प्राप्त रोकड़ एक लेखांकन वषर् के दौरान उपयोग की जाती है। इसमें प्रत्येक लेनदेन सम्िमलित होता है। यह वह विवरण है जिसमें रोकड़ प्राप्ित के स्रोतों को दशार्ता जाता है और इसके साथ ही वह उद्देश्य भी जिसमें रोकड़ भुगतान किया गया है। अतः यह एक उद्यम की रोकड़ स्िथति के बदलावों के लिए दो तुलन पत्रा की तिथ्िायों के बीच ;रोकड़ स्िथतिद्ध के कारणों के संक्षेपीवृफत करता है। इस अध्याय में हम प्रथम तीन तकनीकों का अध्ययन करेंगे क्रमशः तुलनात्मक विवरण, समरूप आकारविवरण और प्रवृिा विश्लेषण। अनुपात विश्लेषण और रोकड़ प्रवाह विवरण को विस्तारपूवर्क अध्याय 5 व 6 में बताया गया है। स्वयं जाँचिये 1 उपयुक्त शब्दों के साथ रिक्त स्थानों को भरें - 1ण् विश्लेषण का साधरण तात्पयर् .............. आँकड़े हैं। 2ण् प्रतिपादन का तात्पयर् ................. आँकड़े हैं। 3ण् तुलनात्मक विश्लेषण को ..................... विश्लेषण के नाम से भी जानते हैं। 4ण् सामान्य आकार के विश्लेषण को ................. विश्लेषण के नाम से भी जानते हैं। 5ण् एक संस्थान/कारोबार में ध्न की आवक एवं जावक की वास्तविक चाल को ..............विश्लेषण भी कहते हैं। 4ण्5 तुलनात्मक विवरण जैसा कि पहले बताया गया है, यह विवरण लाभ व हानि खाता और तुलन पत्रा के निमार्ण में वतर्मान और गत वषर् सहित वषर् के दौरान हुए परिवतर्न के आकड़ों को अलग स्तंभ में परिशु( निरपेक्ष और सापेक्ष आधर पर प्रस्तुत करता है। परिणामस्वरूप इस विवरण के माध्यम से भ्िान्न तिथ्िायों पर खाता शेष और विभ्िान्न समयावध्ि पर भ्िान्न भ्िान्न प्रचालन गतिविध्ियों की गणना ही केवल संभव नहीं है बल्िक इन तिथ्िायों के मध्य अभ्िाष्ट अथवा अधेवृि की सीमा का मापन भी संभव हैं, तुलनात्मक विवरणों में दिये गये आंकड़ों का प्रयोग परिवतर्न कीदिशा की पहचान करता है और एक संस्था के निष्पादन सूचकों की प्रवृिा को भी इंगित करता है। तुलनात्मक विवरणों को तैयार करने के लिए निम्नलिख्िात चरणों का अनुकरण किया जा सकता हैः चरण 1ः परिशु( आँकड़ों/संख्याओं को दो समय बिन्दुओं पर रूपये में सूचीब( करना ;जैसा कि उदाहरण 1 के स्तंभ 2 तथा 3 में दिखाया गया है।द्ध चरण 2ः परिशु( आँकड़ों में, प्रथम वषर् ;स्तंभ 2द्ध से द्वितीय वषर् ;स्तंभ 3द्ध को घटाकर, बदलाव का पता करना तथा अभ्िावृि को ;़द्ध से तथा अधेवृि ;कमीद्ध को ;दृद्ध से संकेतित करना तथा स्तंभ 4 में भरना। चरण 3ः प्रतिशत में आए बदलाव को परिकलित करना और जो परिणाम मिले, उसे पाँचवे स्तंभ में भरना या चढ़ाना है। द्वितीय वष र्वें3द्ध परिश( आँकडे़ं/संख्याएफ ;स्तभ ुं प्रथम वषर्2 ु आँकडे़/ संख्याएं के ;स्तभ ंद्ध परिश(× 100 दृ 100 विवरण प्रथम वषर् द्वितीय वषर् परिशु( अभ्िावृि ;़द्ध या अधेवृि ;दृद्ध प्रतिशत अभ्िावृि ;़द्ध या अधेवृि ;दृद्ध स्तंभ 1 2 3 4 5 रु रु रु: चित्रा 4.1 उदाहरण 1 बी सी आर वंफ. लिमिटेड के निम्नलिख्िात आय विवरण को तुलनात्मक आय विवरण में परिवतिर्त कीजिए और 2004 की स्िथति की तुलना में 2005 के बदलावों की व्याख्या कीजिए। विवरण 2004 ;रु.द्ध 2005 ;रु.द्ध सकल विव्रफय घटायाः विव्रफय वापसी निवल विव्रफय घटायाः बेचे गये माल की लागत सकल लाभ घटायाः संचालन व्यय प्रशासकीय व्यय विव्रफय व्यय वुफल प्रचालन व्यय प्रचालन से लाभ जोड़ाः अप्रचालन व्यय घटायाः अप्रचालन व्यय करों से पहले निवल लाभघटायाः कर / 50ः करों के पश्चात निवल लाभ 3ए06ए600 600 कृकृकृकृ 30ए000 18ए200 कृकृकृकृ 11ए800 कृकृकृकृ 3ए000 6ए000 कृकृकृकृ 9ए000 कृकृकृकृ 2ए800 300 कृकृकृकृ 3ए100 400 कृकृकृकृ 2ए7001ए350 कृकृकृकृ 1ए350 कृकृकृकृ 36ए720 700 कृकृकृकृ 36ए020 20ए250 कृकृकृकृ 15ए770 कृकृकृकृ 3ए400 6ए600 कृकृकृकृ 10ए000 कृकृकृकृ 5ए770 400 कृकृकृकृ 6ए170 600 कृकृकृकृ 5ए570 2ए785 कृकृकृकृ 2ए785 कृकृकृकृ हल 31 माचर्, 2004 और 31 माचर्, 2005 की अवध्ि के लिए तुलनात्मक आय विवरण विवरण 2004 2005 परिशु( अभ्िावृि ;़द्ध या अधेवृि ;दृद्ध प्रतिशत परिवतिर्त अभ्िावृि ;़द्ध या अधेवृि ;दृद्ध स्तंभ 1 2 3 4 5 रु रु रु: सकल लाभ 30ए600 36ए720 ़6ए120 ़20ण्00 घटायाः विव्रफय वापसी ;600द्ध ;700द्ध ़100 ़16ण्67 निवल विव्रफय 30ए000 36ए020 ़6ए020 ़20ण्07 घटायाः बेचे गये माल की लागत ;18ए200द्ध ;20ए250द्ध ़2ए050 ़11ण्26 सकल लाभ ;अद्ध 11ए800 15ए770 ़3ए970 ़33ण्64 घटायाः प्रचालन व्यय ;नद्ध प्रशासकीय व्यय 3ए000 3ए400 ़400 ़13ण्33 विव्रफय व्यय 6ए000 6ए600 ़600 ़10ण्00 ;9ए000द्ध ;10ए000द्ध ़1ए000 ़11ण्11 प्रचालन लाभ ;अ - बद्ध 2ए800 5ए770 ़2ए970 ़106ण्07 जोड़ाः अप्रचालन आय 300 400 ़100 ़33ण्33 3ए100 6ए170 ़3ए070 ़99ण्03 घटायाः अप्रचालन व्यय ;400द्ध ;600द्ध ़200 ़50ण्00 कर से पहले निवल लाभ 2ए700 5ए570 ़2ए870 ़106ण्30 घटायाः कर / 50ः ;1ए350द्ध ;2ए785द्ध ़1ए435 ़106ण्30 कर के पश्चात निवल लाभ 1ए350 2ए785 ़1ए435 ़106ण्30 प्रतिपादन 1ण् कंपनी ने बेचे गये माल की लागत पर लागत को कम करने के लिए प्रयास किए और महत्त्वपूणर् रूप से लागत में कमी आइर्। 2ण् वषर् 2004 की अपेक्षा वषर् 2005 में तुलनात्मक रूप से लाभ में अभ्िावृि हुइर् जैसा कि विव्रफय में भी अभ्िावृि हुइर्। 3ण् इसके साथ ही कंपनी ने संचालन लागत को भी घटाने पर ध्यान दिया अतैव संचालन लाभ के प्रतिशत में भी अभ्िावृि हुइर्। इस प्रकार से वषर् 2005 में वुफल मिलाकर कंपनी के निष्पादन में सुधर हुआ और लागत की तुलना में बिव्रफी में अध्िक वृि हुइर्। उदाहरण 2 मध्ु कं. लिमिटेड के निम्नलिख्िात आय विवरण से वषर् 2005 से वषर् 2006 के लिए तुलनात्मक आय विवरण तैयार करें तथा इसका प्रतिपादन भी करें। विवरण 2005 ;रु.द्ध 2006 ;रु.द्ध विव्रफय 4ए00ए000 6ए50ए000 क्रय 2ए00ए000 2ए50ए000 प्रारंभ्िाक स्टाॅक 20ए600 32ए675 अंतिम स्टाॅक 32ए675 20ए000 वेतन 16ए010 18ए000 किराया 5ए100 6ए000 डाक एवं लेखन सामग्री 3ए200 4ए100 विज्ञापन 2ए600 4ए600 विव्रफय पर कमीशन 3ए160 3ए500 मूल्य“ास 200 500 परिसंपिायों की बिव्रफी पर हानि 4ए000 2ए000 निवेश की बिव्रफी पर लाभ 3ए000 4ए500 हल वषार्न्त माचर् 31, 2005 और 2006 को मध्ु कं. लिमिटेड का तुलनात्मक आय विवरण विवरण 2005 2006 परिशु( अभ्िावृि ;़द्ध/ कमी ;दृद्ध प्रतिशत: अभ्िावृि ;़द्ध/ कमी ;दृद्ध ;रु.द्ध ;रु.द्ध ;रु.द्ध ;रु.द्ध विव्रफय घटायाः बेचे गये माल की लागतμ प्रारंभ्िाक स्टाक जोड़ाः क्रय घटायाः अंतिम स्टाक सकल लाभ ;अद्ध 4ए00ए000 26ए600 2ए00ए000 ;32ए675द्ध 1ए87ए925 2ए12ए075 6ए50ए000 32ए675 2ए50ए000 ;20ए000द्ध 2ए62ए675 3ए87ए325 ़2ए50ए000 ़12ए075 ़50ए000 ;दृद्ध 12ए675 ़74ए750 ़1ए75ए250 ़62ण्50 ़58ण्62 ़25ण्00 ;दृद्ध 38ण्79 ़39ण्78 ़82ण्64 घटायाः प्रचालन व्यय ;16ए010द्ध ;18ए000द्ध ़1ए990 ़12ण्43 वेतन 5ए100 6ए000 ़900 ़17ण्65 किराया 3ए200 4ए100 ़900 ़28ण्13 डाक व लेखन सामग्री विज्ञापन 2ए600 4ए600 ़2ए000 ़76ण्92 विक्रय पर कमीशन 3ए160 3ए500 ़340 ़10ण्76 मूल्य“ास 200 500 ़300 ़150ण्00 30ए270 3ए50ए625 ़6ए430 ़21ण्24 प्रचालन लाभ ;अ - बद्ध जोड़ाμ अप्रचालन व्यय लाभμ 1ए81ए805 3ए50ए625 ़1ए68ए820 ़92ण्86 निवेश की बिव्रफी पर लाभ ;3ए000द्ध ;4ए500द्ध ़1ए500 ़50ण्00 घटायाः अप्रचालन व्यय 1ए84ए805 3ए55ए125 परिसंपिायाँ की बिव्रफी पर हानि 4ए000 2ए000 ;दृद्ध 2ए000 ;दृद्ध 50ण्00 निवल लाभ 1ए80ए805 3ए53ए125 ़1ए72ए320 ़95ण्31 प्रतिपादन 1ण् कंपनी का तुलनात्मक तुलन पत्रा यह प्रकट करता है कि बिव्रफी में 62ः अथार्त् 2ए50ए000 रु. की अभ्िावृि हुइर्, जबकि बेचे गए माल की लागत में 39.78ः अथार्त् केवल 74ए750 रु. की अभ्िावृि हुइर्। इससे यह भी प्रकट होता है कि कंपनी ने महत्त्वपूणर् रूप से बिव्रफी माल की लागत में कमी पाइर् है। कंपनी के सकल लाभ में 82.64ः अथार्त् 1ए75ए250 रुअभ्िावृि हुइर्। 2ण् कंपनी के खचोर् में केवल 6ए430 रु. अथार्त् 21.24ः की वृि हुइर् और संचालन लाभ 1ए68ए820 रु. अथार्त् 92.86ः की अभ्िावृि हुइर्। 3ण् कंपनी के निवल लाभ में 1ए72ए320 रु. अथार्त् 95.31ः की अभ्िावृि हुइर्। 4ण् वुफल मिलाकर कंपनी की वित्तीय स्िथति बहुत सुदृढ़ है। उदाहरण 3 वषर् 2005 व 2006 के अंत में जे लि. का तुलन पत्रा निम्नानुसार है - कंपनी के लिए तुलनात्मक तुलन पत्रा बनाइए तथा संबंध्ित कारोबार की वित्तीय स्िथति का अध्ययन करें। तुलन पत्रा रु. ;ए000द्ध दायित्व 2005 ;रु.द्ध 2006 ;रु.द्ध परिसंपिायाँ 2005 ;रु.द्ध 2006 ;रु.द्ध समता अंश आरक्ष्िात एवं अध्िशेषट्टण पत्रा दीघर्कालिक ट्टण देय विपत्रा विविध् लेनदार अन्य वतर्मान दायित्व 600 330 200 150 50 100 5 800 222 300 200 45 120 10 भूमि एवं भवन संयत्रा एवं मशीनरीपफनीर्चर एवं िकसचर अन्य स्िथर परिसंपिायाँ हस्तस्थ एवं बैंकस्थ रोकड़ प्राप्य विपत्रा विविध् देनदार स्टाॅक पूवर्दत्त व्यय 370 400 20 25 20 150 200 250 . 270 600 25 30 80 90 250 350 2 1ए435 1ए697 1ए435 1ए697 हल वषार्न्त 31 दिसम्बर, 2005 एवं 31 दिसम्बर, 2006 को जे. लिमिटेड का तुलनात्मक तुलन पत्रा ;रु.000द्ध विवरण 2005 ;रु.द्ध 2006 ;रु.द्ध परिशु( अभ्िावृि/कमी ;रु.द्ध परिवतिर्तः अभ्िावृि ;़द्ध ;अधेवृिद्ध ;दृद्ध परिसंपिायाँचालू परिसंपिायाँ रोकड़ व बैंक 20 80 ़60 ़300 प्राप्य विपत्रा 150 90 ;दृद्ध 60 ;दृद्ध 40 विविध् देनदार 200 250 ़50 ़25 स्टाॅक 250 350 ़100 ़40 पूवर्दत व्यय दृ 2 ़2 ़200 वुफल चालू परिसंपिायाँस्िथर परिसंपिायाँ 620 772 ़152 ़24ण्52 भूमि व भवन 370 270 ;दृद्ध 100 ;दृद्ध 27ण्30 संयत्रा व मशीनरी 400 600 ़200 ़50 पफनीर्चर एवं पिफक्सचसर् 20 25 ़5 ़25 अन्य स्िथर परिसंपिायाँ 25 30 ़5 ़20 वुफल स्िथर परिसंपिायाँ 815 925 ़110 ़13ण्5 वुफल परिसंपिायाँ 1ए435 1ए697 ़262 ़18ण्26 दायित्वः चालू दायित्व देय विपत्रा 50 45 ;दृद्ध 5 ;दृद्ध 10 विविध् लेनदार 100 120 ़20 ़20 अन्य चालू दायित्व 5 10 ़5 ़100 वुफल चालू दायित्व 155 175 ़20 ़12ण्90 ट्टण पत्रा 200 300 ़100 ़50 दीघर्कालिक )ण 150 200 ़50 ़33ण्33 वुफल बाहय दियित्व 505 675 ़170 33ण्66 समता अंश पूंजी 600 800 ़200 ़33ण्33 आरक्ष्िात एवं अध्िशेष 330 222 ;दृद्ध 108 ;दृद्ध 32ण्73 अंशधरी निध्ि 930 1022 92 ़ 0ण्98 वुफल दायित्व एवं पूँजी 1ए435 1ए697 ़ 262 ़18ण्26 नोटः - विश्लेषण उद्देश्य हेतु, तुलन पत्रा का लम्बवत प्रस्तुतिकरण परिसंपिायों और देयताओं के मुख्य शीषर्कों में किया जा सकता है। प्रतिपादन 1ण् कंपनी का तुलनात्मक तुलन पत्रा यह दशार्ता है कि वषर् 2006 के दौरान स्िथर परिसंपिायों में 1,10,000 रुअथार्त् 13.5ः की वृि है जबकि दीघर्कालिक दायित्व अपेक्षावृफत 1,50,000 रु. तथा समता अंश पूँजी में 2,00,000 रु. की अभ्िावृि हुइर् है। यह तथ्य दशार्ते हैं कि कंपनी ने दीघर्कालिक वित्तीय स्रोत केरूप में स्िथर परिसंपिायों के क्रय की नीति अपनाइर् है, इसलिए कायर्शील पूंजी नहीं बड़ रहा है। 2ण् कंपनी की चालू परिसंपिायों में 1,52,000 रु. अथार्त् 24.52ः की अभ्िावृि हुइर् है। चालू दायित्वों 20,000 रु. अथार्त् 12.9ः की अभ्िावृि हुइर् है। चालू दायित्वों में 20,000 रु. अथार्त् 12.9ः की अभ्िावृि हुइर् है। यह पुनः प्रभावित करता है कि कंपनी ने, यहाँ तक कि चालूपरिसंपिायों दीघर्कालिक वित्त खंड किए हैं परिणामस्वरूप कंपनी की द्रवता स्िथति में सुधर हुआ है। 3ण् अंशधरी निध्ि में 92ए000 रु. की अभ्िावृि हुइर्। 4ण् वुफल मिलाकर कंपनी की वित्तीय स्िथति सुदृढ़ एवं संतोषजनक है। प्रदशर् 1 स्टलार्इर्ट आम्िटकल टैक्नोलोजिज लिवित्तीय विवरण 2001 - 2005 यूएस डालर ;मिलियन मेंद्ध 2005.06 2004.05 2003.04 2002.03 2001.02 आगम ;सकलद्ध 140ण्90 82ण्46 22ण्49 27ण्27 146ण्72 आगम ;निवलद्धब्याज, कर एवं ”ास से पूवर् आय 123ण्61 72ण्72 20ण्02 25ण्05 130ण्28 18ण्81 10ण्53 4ण्24 ;6ण्93द्ध 34ण्60 ब्याज़ 3ण्64 2ण्32 2ण्81 5ण्14 3ण्13 ”ास एवं कर से पूवर् लाभ 15ण्16 8ण्22 1ण्42 ;12ण्07द्ध 31ण्47 ”ास 6ण्55 5ण्93 6ण्13 5ण्72 4ण्49 कर पूवर् लाभ 8ण्64 2ण्28 ;4ण्12द्ध ;17ण्79द्ध 26ण्98 कर ;0ण्59द्ध 0ण्01 ;0ण्58द्ध . 5ण्98 लाभ के पश्चात कर 9ण्21 2ण्27 ;4ण्12द्ध ;17ण्79द्ध 21ण्00 प्रति अंश ;अजर्नद्ध 0ण्16 0ण्04 ;0ण्07द्ध ;0ण्32द्ध 0ण्38 पूँजी विनियोजितरु. मिलियन में 127ण्71 93ण्15 96ण्42 126ण्36 119ण्47 आवतर् 6ए239ण्33 2ए706ण्74 1ए032ण्95 1ए319ण्84 6ए997ण्78 ः वृि 68ण्32 258ण्85 ;21ण्74द्ध ;81ण्14द्ध . आवतर् ;निवलद्ध 5ए473ण्72 3ए268ण्76 919ण्23 1ए212ण्46 6ए213ण्49 ः वृि 67ण्46 255ण्60 ;24ण्18द्ध ;80ण्49द्ध . ः निवल विक्रय 15ण्22 14ण्48 21ण्16 ;27ण्67द्ध 26ण्55 ब्याज़ 161ण्36 104ण्12 129ण्16 248ण्78 149ण्21 लाभ पूवर् ”ास व कर 671ण्49 369ण्28 65ण्38 ;584ण्25द्ध 1ए500ण्78 ः निवल विक्रय 12ण्27 11ण्30 7ण्11 ;48ण्19द्ध 24ण्15 ”ास 289ण्92 266ण्76 281ण्66 276ण्90 214ण्05 लाभ पूवर् कर 381ण्57 102ण्52 ;216ण्28द्ध ;861ण्15द्ध 1ए286ण्73 ः निवल विक्रय 6ण्97 3ण्14 ;23ण्53द्ध ;71ण्03द्ध 20ण्71 कर ;26ण्10द्ध 0ण्32 ;26ण्58द्ध . 284ण्98 लाभ के पश्चात कर 407ण्66 102ण्20 ;189ण्43द्ध ;861ण्15द्ध 1ए001ण्75 ः निवल विक्रय 7ण्45 3ण्13 ;20ण्61द्ध ;71ण्03द्ध 16ण्12 पूँजी विनियोजित 5ए696ण्95 4ए075ण्28 4ए183ण्71 6ए002ण्03 5ए830ण्11 पूँजी विनियोजित पर प्रत्याय: 9ण्53 5ण्07 ;2ण्08द्ध ;10ण्20द्ध 24ण्63 ब्याज व्याप्ित अनुपात 5ण्16 4ण्55 1ण्51 ;1ण्35द्ध 11ण्06 कायर्शील पूँजी अनुपात 2ण्91 1ण्64 2ण्06 2ण्86 2ण्24 ट्टण इक्िवटी अनुपात 0ण्72 0ण्56 0ण्67 0ण्95 0ण्47 प्रति अंश अजर्न 7ण्27 1ण्83 .3ण्38 .15ण्38 17ण्86 स्वयं करें प्रतिवषर् 2002 व 2003 के लिए निम्नलिख्िात डे ड्रीमिंग कं. लिमिटेड का तुलन पत्रा एवं आय विवरण है। आप तुलनात्मक विवरण तैयार करें - आय विवरण ;रु. लाखों मेंद्ध विवरण 2005 2006 वुफल विव्रफय बेचे गये माल की लागत प्रशासकीय व्यय विव्रफय व्यय निवल लाभ 900 650 40 20 190 1ए050 850 40 20 140 तुलन पत्रा 2005 2006 समता अंश पूँजी 6ः अध्िमान अंश पूँजी आरक्ष्िातट्टण पत्रा प्राप्य विपत्रा लेनदार देय कर 600 500 400 300 250 150 150 600 500 445 350 275 200 200 वुफल दायित्व 2ए350 2ए570 भूमि भवन संयत्रा पफनीर्चर स्टाक रोकड़ 300 500 400 300 400 450 300 470 470 340 500 490 वुफल परिसंपिायाँ 2ए350 2ए570 4ण्6 समरूप वित्तीय विवरण विश्लेषण सपरूप वित्तीय विवरण को संघटक प्रतिशत विवरण के नाम से भी जानते हैं। यह एक कंपनी के वित्तीयपरिणामों ;लाभ व हानि खाताद्ध एवं वित्तीय स्िथति ;तुलन पत्राद्ध की प्रवृिा एवं बदलाव जानने का साध्न या उपकरण है। यहाँ पर विवरण में दिए गए प्रत्येक मद को वुफल राश्िा के प्रतिशत के रूप में दशार्ते हैं जोकि उस प्रतिशत का ही एक हिस्सा होता है। इसी प्रकार समरूप आय विवरण में, खचर् मदों को निवल विक्रय के प्रतिशत के रूप में दशार्या जाता है। यदि ऐसा विवरण लगातार जमाविध्ियों में हुए परिवतर्नों को दशार्ता है। ;देखें एश्िायन पेन्टस ;इंडियाद्ध पाँच वषीर्य पुनरावलोकनद्धउद्यमों की तुलना के लिए समरूप वित्तीय विश्लेषणों के असीमित उपयोग होते हैं, जोकि मूलतःआकार में भ्िाÂ होते हैं परन्तु वित्तीय विवरण की संरचना में एक अंतरदृष्िट प्रदान करते हैं। वुफल मिलाकर अंतर - पफमर् तुलना या संबंध्ित उद्योग वाली कंपनी की स्िथति की तुलना भी समरूप विवरण विश्लेषण की सहायता से संभव है। सामान्य आकार विश्लेषण को तैयार करने के लिए निम्न प्रक्रम अपनाया जा सकता है। 1ण् परिशु( संख्याओं ;आँकड़ोंद्ध को दो समय बिन्दुओं जैसे कि वषर् 1 और वषर् 2 ;प्रदशर् या उदाहरण 2 में स्तंभ 2 एवं 4द्ध, पर सूचीब( करें। 2ण् एक सामान्य आधर ;जैसे कि 100द्ध को चुनें। उदाहरणाथर् लाभ व हानि खाते के मामले में बिव्रफी राजस्व के योग को आधर ;100द्ध के रूप में और तुलनपत्रा के मामले में वुफल परिसंपिायों अथवा वुफल देनदारियों ;त्र100द्ध के रूप में आधर ले सकते हैं। 3ण् स्तंभ 2 एवं 4 की सभी मदों को वुफल योग के प्रतिशत के रूप में बदलें। प्रदशर्/ उदाहरण 4ण्2 में, स्तंभ 3 और 4 इन प्रतिशतों को चिहित किया गया है। सामान्य आकार विवरण विवरण स्तंभ 1 वषर् एक 2 प्रतिशत 3 वषर् दो 4 प्रतिशत 5 चित्रा 4ण्2 उदाहरण 4 इस निम्नलिख्िात तुलन पत्रा को समरूप या सामान्य आकार तुलन पत्रा में बदलें और परिणामों का प्रतिपादन करें। 31 दिसंबर, 2004 व 31 दिसंबर, 2005 पर तुलन पत्रा ;राश्िा लाखों मेंद्ध दायित्व 2004 2005 परिसंपिायाँ 2004 2005 रु रु रु रु समता अंश पूँजी 1ए000 1ए200 देनदार 450 390 आरक्ष्िात पूँजी 90 185 रोकड़ 200 15 सामान्य आरक्ष्िात 500 450 स्टाक 320 250 निक्षेप निध्ि 90 100 निवेश 300 250 ट्टण व्यय 450 650 मूल्य ”ास के बाद भवन 800 1ए400 विविध् लेनदार 200 150 भूमि 198 345 अन्य 15 20 पफनीर्चर व पिफटिग्ंस 77 105 योग 2ए345 2ए755 योग 2ए345 2ए755 हल वषर्ान्त 2004 तथा 2005 को समरूप तुलन पत्रा ;लाखों मेंद्ध विवरण 2004 2005 ;रु.द्ध : ;रु.द्ध : अंश पूँजी समता अंश पूँजी 1ए000 42ण्64 1ए200 43ण्56 आरक्ष्िात पूँजी 90 3ण्84 185 6ण्72 सामान्य आरक्ष्िात 500 21ण्32 450 16ण्33 निक्षेप निध्ि 90 3ण्84 100 3ण्63 अंश धरक निध्िदीघर्कालिक ट्टण ;निवलद्धः 1ए680 71ण्64 1ए935 70ण्24 ट्टण पत्रा चालू देनदारियाँ 450 19ण्19 650 23ण्59 विविध् लेनदार 200 8ण्53 150 5ण्44 अन्य लेनदार 15 0ण्64 20 0ण्73 215 9ण्17 170 6ण्17 वुफल दायित्व 2ए345 100ण्00 2ए755 100ण्00 स्िथर परिसंपिायाँ भवन भूमि पफनीर्चर एवं पिफटिंग्सवुफल स्िथर परिसंपिायाँचालू परिसंपिायाँ देनदार रोकड़ स्टाक वुफल चालू परिसंपिायाँ निवेश 800 198 77 1ए075 450 200 320 970 300 34ण्12 8ण्44 3ण्28 45ण्84 19ण्19 8ण्53 13ण्64 41ण्36 12ण्8 1ए400 345 105 1ए850 390 15 250 655 250 50ण्82 12ण्52 3ण्81 67ण्15 14ण्16 0ण्50 9ण्07 23ण्78 9ण्07 वुफल परिसंपिायाँ 2ए345 100 2ए755 100 प्रतिपादनः 1ण् वषर् 2005 में, चालू परिसंपिायाँ तथा चालू देनदारियाँ दोनों ही वषर् 2004 की तुलना में घटी है परन्तु चालूदेनदारियों की अपेक्षा चालू परिसंपिायों में कमी अध्िक आइर् है। चालू देनदारियों में कमी मात्रा 3ः की हैजबकि चालू परिसंपिायों में यह कमी 41.36ः से 23ण्78ः है। रोकड़ में यह कमी किसी अन्य चालूपरिसंपिा की तुलना में अध्िक है जिसके परिणामस्वरूप पफमर् को दैनिक व्ययों के भुगतान में भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। 2ण् वषर् 2005 में, स्िथर परिसंपिायों एवं स्िथर देनदारियों, दोनों में ही अभ्िावृि हुइर् है, लेकिन यह अभ्िावृिस्िथर देनदारियों की अपेक्षा स्िथर परिसंपिायों में अध्िक हुइर् है। पफमर् ने स्िथर परिसंपिायों की प्राप्त हेतु निवेशको बेच दिया। पफमर् की पूँजी एवं आरक्ष्िातों में अभ्िावृि की अपेक्षा स्िथर परिसंपिायों में अभ्िावृि अध्िक है। 3ण् पफमर् ने भूमि व भवन खरीद कर विस्तार कायर्व्रफम की जिम्मेदारी ली है। इसलिए आने वाले वषो± में पफमर् की उत्पादक क्षमता में अभ्िावृि हो सकती है। वुफल मिलाकर पफमर् की आथ्िार्क स्िथति संतोषजनक है। इसे अपनी रोकड़ स्िथति बेहतर बनानी चाहिए। उदाहरण 5 नीचे दिए गए वित्तीय विवरण से, एक सामान्य आकार विश्लेषण प्रपत्रा तैयार करें। वित्तीय विवरणों का विश्लेषण 221 वषर् 2004 व 2005 का आय विवरण विवरण 2004 2005 रु रु निवल विक्रय 5ए00ए000 4ए95ए000 बेचे गये माल की लागत 3ए78ए000 3ए60ए000 प्रचालन व्यय 62ए500 60ए000 मूल्य”ास 22ए000 22ए000 निवेश से आय 70ए000 89ए000 आयकर 32ए500 40ए000 31 माचर्, 2004 व 2005 को तुलन पत्रा विवरण 31 माचर् 31 माचर् 2004 2005 ;रु.द्ध ;रु.द्ध दायित्व अंश पूँजी 2ए00ए000 2ए90ए000 आरक्ष्िात 40ए220 40ए000 लाभ व हानि खाता 15ए555 14ए292 दीघर्कालिक ट्टण 18ए965 19ए262 देनदार 5ए125 5ए125 देय विपत्रा 2ए300 2ए195 देय खाते 13ए000 15ए000 बकाया व्यय 2ए220 1ए011 कुल दायित्व 2ए97ए385 3ए86ए885 परिसंपिायाँ भूमि एवं भवन 50ए000 70ए000 संयंत्रा व मशीनरी 1ए00ए000 1ए00ए000 पफनीर्चर 30ए000 62ए500 स्टाक 7ए165 8ए192 देनदार 40ए000 52ए000 प्राप्य विपत्रा 50ए000 49ए020 रोकड़ - 20ए000 पूवर्दत्त व्यय 20ए220 25ए173 2ए97ए385 3ए86ए885 222 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण हल वषर्ान्त 31 माचर्, 2004 एवं 31 माचर्, 2005 के लिए समरूप आय विवरण विवरण 2004 2005 ;रु.द्ध : ;रु.द्ध : निवल विव्रफय घटायाः बेचे गये माल पर लागत सकल लाभ घटायाः प्रचालन व्यय घटायाः मूल्य ”ास प्रचालन लाभ जोड़ाः निवेश से आय करों से पूवर् लाभ घटायाः आयकर करों के बाद निवल लाभ 5ए00ए000 ;3ए78ए000द्ध 1ए22ए000 ;62ए500द्ध ;22ए000द्ध 37ए500 70ए000 1ए07ए500 ;32ए500द्ध 75ए000 100 75ण्6 24ण्4 12ण्5 4ण्4 11ण्9 14 21ण्5 6ण्5 15 4ए95ए000 ;3ए60ए000द्ध 1ए35ए000 ;60ए000द्ध ;22ए000द्ध 53ए000 89ए000 1ए42ए000 ;40ए000द्ध 1ए40ए000 100 72ण्72 27ण्70 12ण्12 4ण्44 15ण्15 16ण्16 28ए68 8ए08 28ण्28 वषर्ान्त 31 माचर्, 2004 तथा 31 माचर्, 2005 पर समरूप तुलनपत्रा ;रु. लाखों मेंद्ध विवरण 2004 2005 ;रु.द्ध : ;रु.द्ध : दायित्व अंश पूँजी आरक्ष्िात लाभ व हानि खातादीघर्कालिक ट्टण लेनदार देय विपत्रा लेनदार बकाया व्यय 2ए00ए000 40ए220 15ए555 18ए965 5ए125 2ए300 13ए000 2ए220 67ण्25 13ण्52 5ण्23 6ण्38 1ण्72 0ण्77 4ण्34 0ण्75 2ए90ए000 40ए000 14ए292 19ए262 5ए125 2ए195 15ए000 1ए011 74ण्96 10ण्34 3ण्69 4ण्98 1ण्32 0ण्57 3ण्88 0ण्26 वुफल दायित्व 2ए97ए385 100ण्00 3ए86ए885 100ण्00 परिसंपिायाँ भूमि व भवन सयंत्रा व मशीनरी 50ए000 1ए00ए000 16ण्81 33ण्63 70ए000 1ए00ए000 18ण्09 22ण्85 पफनीर्चर स्टाक देनदार प्राप्य विपत्रा रोकड़पूवर्दत्त व्यय 30ए000 7ए165 40ए000 50ए000 दृ 20ए220 10ण्09 2ण्41 13ण्45 16ण्81 दृ 6ण्80 62ए500 8ए192 52ए000 49ए020 20ए000 25ए173 16ण्15 2ण्12 13ण्44 12ण्67 5ण्17 6ण्51 वुफल परिसंपिायाँ 2ए97ए385 100ण्00 3ए86ए885 100ण्00 प्रतिपादन 1ण् बेचे गये माल की लागत की तुलना में दोनों वषर् विव्रफय का प्रतिशत बेहतर है और कंपनी ने लागत घटाकर लाभ को बढ़ाने की कोश्िाश की है। 2ण् पूवर् वषर् की तुलना में इस वषर् कंपनी की लाभप्रदता का प्रतिशत 13.28ः बढ़ा है जो तुलनात्मक रूप से पहले वषर् से बेहतर है। 3ण् कंपनी ने दीघर्कालिक ट्टण के व्रफम में अंश पूँजी को निगर्मित किए हैं। अतैव पफनीर्चर तथा भूमि व भवनजैसी स्िथर परिसंपिायाँ खरीदी हैं। 4ण् इसके साथ ही कंपनी की द्रवता स्िथति में सुधर हुआ है जैसा कि चालू परिसंपिायों में अभ्िावृि की है। मुख्यतः रोकड़ शेष 5.17ः प्रतिशत बढ़ा है। अत: कंपनी के संचालन बढि़या है और वषर् दर वषर् सुधर हो रहे हैं। उदाहरण 6 करन लिमिटेड के निम्नलिख्िात 31 माचर्, 2006 के आय विवरण से सामान्य आकार विवरण विश्लेषण तैयार कीजिए - आय विवरण विवरण ;रु.000 मेंद्ध आय विव्रफय विविध् आय 2ए538 26 वुफल आय व्यय बेचे गये माल की लागत प्रशासकीय व्यय विव्रफय व्यय अन्य अप्रचालन व्यय 2ए564 1ए422 184 720 40 वुफल व्यय 2ए366 कर 68 224 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण हल वषर्ान्त 30 जून, 2006 को करन लि. का समरूप आय विवरण विवरण रु.000 : विव्रफय 2ए538 100 घटायाः बेचे गये माल की लागत ;1ए422द्ध ;56ण्03द्ध सकल लाभ ;अद्धप्रचालन व्यय 1ए116 43ण्97 प्रशासकीय व्यय 184 7ण्25 विव्रफय व्यय 720 28ण्37 वुफल व्यय ;बद्ध 904 35ण्62 प्रचालन लाभ ;अ - बद्ध 212 8ण्35 जोड़ाः विविध् आय 26 1ण्02 238 9ण्38 घटायाः अप्रचालन व्यय ;40द्ध ;7ण्38द्ध कर से पूवर् लाभ 198 घटायाः कर ;68द्ध ;2ण्68द्ध कर के पश्चात लाभ 130 5ण्12 प्रतिपादनः कंपनी की लाभप्रदता विक्रय को प्रतिशत के रूप में कम है। इसका प्रमुख कारण उच्च प्रचालन व्यय ही है। अतः कंपनी की बेचे गये माल की लागत और प्रचालन व्यय में कमी करने के साध्न ढूंडने होंगे। प्रदशर्दृ2 एश्िायन पेंटस ;इंडियाद्ध लिमिटेड लेखांकन वषर् के परिणाम 2004.2005 2003.2004 2002.2003 2001.2002 2000.2001 आगम खाताμ सकल विक्रय 22ए388ण्04 20ए259ण्05 18ए066ण्06 15ए984ण्05 14ए695ण्01 निवल विक्रय व प्रचालन आय 19ए415ण्01 16ए966ण्05 15ए302ण्05 13ए613ण्05 12ए333ण्05 वृि दर ;ःद्ध 14ण्43 10ण्87 12ण्41 10ण्38 13ण्18 सामग्री उपयोग 11ए154ण्00 9ए441ण्05 8ए023ण्05 7ए173ण्6 6ए611ण्06 ः निवल विक्रय 57ण्45 55ण्65 52ण्43 52ण्70 53ण्61 उपरिव्यय 5ए323ण्03 4ए829ण्06 4ए587ण्07 4ए176ण्08 3ए699ण्04 ः निवल विक्रय 27ण्42 28ण्47 29ण्98 30ण्68 29ण्99 प्रचालन लाभ 3ए253ण्09 2ए912ण्02 2ए817ण्02 2ए407ण्08 2ए115ण्00 ब्याज प्रभार 27ण्05 52ण्07 83ण्05 145ण्08 221ण्02 मूल्य”ास 476ण्01 480ण्01 485ण्02 447ण्09 334ण्09 कर और विश्िाष्टमदों से पूवर् लाभ 2ए750ण्03 2ए379ण्04 2ए248ण्05 1ए814ण्01 1ए558ण्09 ः निवल विक्रय 14ण्17 14ण्02 14ण्69 13ण्33 12ण्64 विश्िाष्ट मदें 42ण्3 68ण्1 . . . कर से पूवर् और विश्िाष्ट 2ए708ण्00 2ए311ण्03 2ए248ण्50 1ए814ण्10 1ए558ण्90 मदों के पश्चात लाभ ः निवल विक्रय 13ण्95 13ण्62 14ण्69 13ण्33 12ण्64 कर के पश्चात लाभ 1ए738ण्02 1ए475ण्08 1ए433ण्07 1ए153ण्03 1ए063ण्09 पूवर् अवध्ि मदें ;3ण्3द्ध 2ण्1 ;13ण्6द्ध ;10ण्2द्ध ;8ण्1द्ध मदों के पश्चात लाभ 1ए734ण्08 1ए477ण्09 1ए420ण्01 1ए143ण्01 1ए055ण्08 औसत निवल संपिा पर प्रत्याय 31ण्43 29ण्32 32ण्01 27ण्82 27ण्47 ;त्व्छॅ:द्ध पूँजी खाता अंश पूँजी 959ण्02 959ण्02 641ण्09 641ण्09 641ण्09 आरक्ष्िात व अध्िशेष 4ए763ण्00 4ए356ण्02 4ए124ण्03 3ए463ण्07 3ए470ण्01 स्थगित कर दायित्व ;निवलद्ध 305ण्04 486ण्06 581ण्06 611ण्08 . ट्टण निध्ि 838ण्08 704ण्07 1ए036ण्02 1ए107ण्07 2ए268ण्02 स्िथर परिसंपिा 3ए195ण्01 3ए444ण्03 3ए662ण्04 3ए895ण्00 3ए804ण्06 निवेश 2ए584ण्03 2ए424ण्09 1ए476ण्09 633ण्04 440ण्07 निवल चालू परिसंपिा 1ए087ण्02 637ण्05 1ए244ण्58 1ए296ण्07 2ए134ण्09 ट्टण समता अनुपात 0ण्15रू1 0ण्13रू1 0ण्22रू1 0ण्27रू1 0ण्55रू1 प्रति अंश आंकड़े ;रु.द्ध 18ण्5 रु16ण्1 रु14ण्8 17ण्8 16ण्5 लाभांश ;ःद्ध 95ण्0 $85ण्0 110ण्0 90ण्0 70ण्0 पुस्तक मूल्य ;रु.द्ध 59ण्7 $55ण्4 74ण्3 64ण्0 64ण्1 अन्य सूचना कमर्चारियों की संख्या 3ए627 3ए430 3ए400 3ए258 3ए197 ;अद्ध त्व्छॅ की गणना वषर् 2004 - 2005 में स्िथर परिसंपिायों पर क्षति के प्रावधन के पश्चात की जायेगी। ;बद्ध म्च्ै की गणना लेखा मानक 20 के अनुसार बोनस निणर्य के समायोजन और पनवासिया इंवेस्टमेन्टस लि. के विलय पर पूँजी में कमी पर की गइर् है। ;सद्धपूँजी की वृि पर। स्वयं करें निम्नलिख्िात तुलन पत्रा 31 माचर्, 2006 व 31 माचर् 2007 के वषर् समापन पर हषार् लिमिटेड का है। दायित्व 2005 ;रु.द्ध 2006 ;रु.द्ध परिसंपिायाँ 2005 ;रु.द्ध 2006 ;रु.द्ध समता अंश पूँजीअध्िमान पूँजीआरक्ष्िातलाभ व हानि खाताबैंक अध्िविकषर्लेनदारकराधन प्रावधनप्रस्तावित लाभांश 1ए00ए000 50ए000 10ए000 7ए500 25ए000 20ए000 10ए000 7ए500 1ए65ए000 75ए000 15ए000 10ए000 25ए000 25ए000 12ए500 12ए500 स्िथर परिसंपिायाँस्टाॅक देनदारप्राप्य विपत्रापूवर्दत्त व्ययबैंकस्थ रोकड़हस्तस्थ रोकड़ 1ए20ए000 20ए000 50ए000 10ए000 5ए000 20ए000 5ए000 1ए75ए000 25ए000 62ए500 30ए000 6ए000 26ए500 15ए000 2ए30ए000 3ए40ए000 2ए30ए000 3ए40ए000 इसका समरूप तुलन पत्रा तैयार करें तथा प्रतिपादन भी करें। स्वयं जाँचिएदृ2 सही उत्तर का चुनाव करेंः 1.एक व्यावसायिक उद्यम के वित्तीय विवरण में सम्िमलित होते हैंμ ;अद्ध तुलन पत्रा ;बद्ध लाभ व हानि खाता ;सद्ध रोकड़ प्रवाह विवरण ;दद्ध उपरोक्त सभी 2.वित्तीय विश्लेषण हेतु प्रयोग में आने वाले सामान्य साध्न हैंμ ;अद्ध क्षैतिज विश्लेषण ;बद्ध लम्बवत विश्लेषण ;सद्ध अनुपात विश्लेषण ;दद्ध उपरोक्त सभी 3ण् कंपनी की वाष्िार्क रिपोटर् को निगर्मित किया जाता हैμ ;अद्ध संचालकों के लिए ;बद्ध अंकेक्षकों के लिए ;सद्ध अंशधरकों के लिए ;दद्ध प्रबंध् के लिए 4ण् तुलन पत्रा उद्यम की वित्तीय स्िथति संबंध्ी सूचनाएँ प्रस्तुत करता हैμ ;अद्ध दी गइर् विशेष अवध्ि पर ;बद्ध विशेष अवध्ि के दौरान ;सद्ध विशेष अवध्ि के लिए ;दद्ध उपरोक्त में से कोइर् नहीं 5ण् तुलनात्मक विवरणों को यह भी कहते हैंμ ;अद्ध ियाशील विश्लेषण ;बद्ध क्षैतिज विश्लेषण ;सद्ध लम्बवत विश्लेषण ;दद्ध बाहय विश्लेषण 4.7 प्रवृिा विश्लेषण सूचना की शृंखला की प्रवृिायों के परिकलन द्वारा वित्तीय विवरणों को विश्लेष्िात किया जा सकता है। प्रवृिा विश्लेषण अधेगामी या उफध्वर्गामी दिशा को निधर्रित करते है तथा इसमें प्रतिशत संबंध् परिगणना सम्िमलित होती है जिसमें प्रत्येक मद उसी मद के आधर वषर् को धरण करता है। यदि तुलनात्मक विश्लेषण का मामला है तो एक मद को स्वतः ही पूवर् वषर् से तुलना करके यह जाना जाता है कि क्या उसमें अभ्िावृि हुइर् है या कमी आइर् है या उसी जगह पर अभी भी स्िथत है। यदि समरूप विश्लेषण का मामला है तो एक मद ;मान लो, बेचे गये माल की लागतद्ध को अवलोकित करके यह जाना जाता है कि क्या सामान्य आधर;विव्रफयद्ध में उसका अनुपात बढ़ा है या घटा है। लेकिन प्रवृिा विश्लेषण के मामले में हम उसी मद के आचरण को एक समयावध्ि के दौरान चुनना चाहते हैं। जैसे कि पिछले पाँच वषोर्ं के दौरान उदाहरण के लिए,प्रशासकीय व्यय, क्या वे अभ्िावृि की प्रवृिा दशार्ते हैं या पिफर कमी की प्रवृिा या निरंतर एक अवध्ि केदौरान तुलनात्मक रूप से स्िथरता दशार्ते हैं। सामान्यतः प्रवृिा विश्लेषण एक युक्ितसंगत दीघर् अवध्ि के लिएकिया जाता है। कइर् कंपनियाँ इस वित्तीय आँकड़ों को 5 - 10 वषर् की समयावध्ि के लिए वाष्िार्क प्रतिवेदनोंमें विभ्िाÂ प्रारूपों में प्रस्तुत करते हैं। 4ण्7ण्1प्रवृिा प्रतिशत परिकलन के लिए प्रवि्रफया एक वषर् को आधर वषर् के रूप में लिया जाता है। सामान्यतः प्रथम वषर् या अंतिम वषर् के आधर वषर् केरूप में लेते हैं। प्रतिशत की प्रवृिा को इसी आधर वषर् के सापेक्ष परिकलित किया जाता है। यदि आधरवषर् से दूसरे वषर् की संख्याएं/आँकड़ें कम होते हैं तो प्रवृिा प्रतिशत 100 से कम होगा और यदि आधर वषर् से संख्या अध्िक होती है तो यह संख्या 100 से अध्िक होगी। प्रत्येक वषर् की संख्याओं को आधर वषर् की संख्याओं से विभाजित किया जाता है - वतमर्ान वषर् मल्ूयप्रवृि त्त प्रतिशत 100 आधर वषर् मल्ूय प्रवृिा विश्लेषण के प्रतिपादन में सावधनीपूणर् अध्ययन समाहित होता है। प्रतिशत में एक थोड़ी सी अभ्िावृि या कमी भी भ्रमपूणर् परिणाम प्रदान कर सकते हैं। उदाहरण 7 एक्स लिमिटेड के लिए 2001 के आधर वषर् मानते हुए निम्नलिख्िात बिव्रफी, स्टाॅक तथा लाभ की संख्याओं;आकड़ोंद्ध से प्रवृिा प्रतिशत का परिकलन कीजिए और उन्हें प्रतिपादित भी कीजिए। वषर् बिव्रफी स्टाक लाभ ;रु.द्ध ;रु.द्ध ;कर से पूवर्द्ध ;रु.द्ध 2001 1ए881 709 321 2002 2ए340 781 435 2003 2ए655 816 458 2004 3ए021 944 527 2005 3ए768 1ए154 627 228 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण हल प्रवृति प्रतिशत ;आधर वषर् 2001 त्र100द्ध ;रु. लाखों मेंद्ध वषर् बिव्रफी ;रु.द्ध प्रवृिा: स्टाक ;रु.द्ध प्रवृिा: लाभ ;रु.द्ध प्रवृिा: 2001 1ए881 100 709 100 321 100 2002 2ए340 124 781 110 435 136 2003 2ए655 141 816 115 458 143 2004 3ए021 161 944 133 527 164 2005 3ए768 200 1ए154 163 627 195 प्रतिपादनः 1ण् विव्रफय लगातार वषोर्ं में 2005 तक अभ्िावृि करती गइर् 2001 में 100 तुलना में वषर् 2005 का प्रतिशत 200 है जो कि दो गुना है। विव्रफय में अभ्िावृि प्रयार्प्त संतोषजनक हैं। 2ण् 5 वषोर्ं की अवध्ि में स्टाॅक में भी अभ्िावृि हुइर् है। पहले के वषोर्ं की अपेक्षा वषर् 2004 व 2005 में स्टाक की अध्िक अभ्िावृि हुइर् है। 3ण् लाभ में तत्वतः अभ्िावृि हुइर् है। लाभ वस्तुतः बिव्रफी के हिसाब में बढ़ा है जो यह प्रकट करती है कि यहाँ पर बेचे गये माल की लागत पर उचित नियंत्राण रहा है। वषर् 2003 की तुलना में वषर् 2004 व 2005 में लाभ की अभ्िावृि तुलनात्मक रूप से अध्िक हुइर् है। स्वयं करे निम्नलिख्िात आँकड़े दीपक लिमिटेड के लाभ व हानि खाते से उपलब्ध् हुए हैंः विवरण 2003 ;रु.द्ध 2004 ;रु.द्ध 2005 ;रु.द्ध 2006 ;रु.द्ध विव्रफय मजदूरी विव्रफय व्यय सकल लाभ 3ए10ए000 1ए07ए500 27ए250 90ए000 3ए27ए500 1ए07ए500 29ए000 95ए000 3ए20ए000 1ए15ए000 29ए750 77ए500 3ए32ए500 1ए20ए000 27ए750 80ए000 आप को उपयुर्क्त के प्रवृिा प्रतिशत तैयार करने की जरूरत है। उदाहरण 8 31 दिसंबर, 2003 से 31 दिसंबर, 2006 की अवध्ि के निम्नलिख्िात आँकड़ें ए बी सी लिमिटेड के तुलनपत्रा से परिसंपिा पक्ष से संबंध्ित हैं। वृफपया प्रवृिा प्रतिशत परिकलित करें। ;रु. लाख मेंद्ध विवरण 2003 2004 2005 2006 रोकड़ देनदार स्टाॅक अन्य चालू परिसंपिायाँ भूमि भवन संयंत्रा 100 200 300 50 400 800 1ए000 120 250 400 75 500 1ए000 1ए000 80 325 350 125 500 1ए200 1ए200 140 400 500 150 500 1ए500 1ए500 हल प्रवृिा प्रतिशत ;रु. लाखों मेंद्ध 2003 प्रवृिा: 2004 प्रवृिा: 2005 प्रवृिा: 2006 प्रवृिा: चालू पसिंपिायाँ रोकड़ देनदार स्टाॅक अन्य चालू परिसंपिायाँ स्िथर परिसंपिायाँ भूमि भवन संयंत्रा 100 200 300 50 650 400 800 1ए000 2ए200 100 100 100 100 100 100 100 100 100 120 250 400 75 845 500 1ए000 1ए000 2ए500 120 125 133ण्33 150 130 125 125 100 113ण्64 80 325 350 125 880 500 1ए200 1ए200 2ए900 80 1ए625 116ण्67 250 135ण्88 125 150 120 131ण्82 140 400 500 150 1ए190 500 1ए500 1ए500 3ए500 140 200 166ण्67 300 183ण्08 125 187ण्5 150 15ए900 कुल परिसंपिायाँ 2ए850 100 3ए345 117ण्36 3ए780 132ण्63 4ए690 164ण्56 प्रतिपादनः 1ण् परिसंपिायाँ एक अवध्ि में प्रवृिा प्रतिशत में एक निरंतर अभ्िावृि को दशार्ती है। 2ण् स्िथर परिसंपिायों की तुलना में चालू परिसंपिायों में कापफी तीव्र अभ्िावृि प्रदश्िार्त हो रही है। 3ण् विविध् देनदारों, अन्य चालू परिसंपिायों तथा भवन आदि स्िथर परिसंपिायों में उच्चतर वृि प्रकट होती है। उदाहरण 9 निम्नलिख्िात आँकड़े 31 दिसंबर, 2003 से 31 दिसंबर, 2006 की अवध्ि के लिए एक्स लिमिटेड के तुलन पत्रा के दायित्व पक्ष से संबंध्ित है। 2003 को आधर वषर् मानते हुए प्रवृिा प्रतिशत को परिकलित कीजिए। ;रु. लाखों मेंद्ध दायित्व 2003 2004 2005 2006 समता अंश पूँजी सामान्य आरक्ष्िात 12ः ट्टण पत्रा बैंक अध्िविकषर् देय विपत्रा विविध् देनदार बकाया दायित्व 1ए000 800 400 300 100 300 50 1ए000 1ए000 500 400 120 400 75 1ए200 1ए200 500 550 80 500 125 1ए500 1ए500 500 500 140 600 150 हल प्रवृिा प्रतिशत ;रु. लाखों मेंद्ध दायित्व 2003 प्रवृिा: 2004 प्रवृिा: 2005 प्रवृिा: 2006 प्रवृिा: अंश धरक पफंड समता अंश पूँजी 1ए000 100 1ए000 100 1ए200 120 1ए500 150 सामान्य आरक्ष्िात 800 100 1ए000 125 1ए200 150 1ए500 1ए875 दीघर्कालिक ट्टण 1ए800 100 2ए000 111ण्11 2ए400 133ण्33 3ए000 166ण्67 ट्टण पत्रा 400 100 500 125 500 125 500 125 चालू देनदारियाँ 400 100 500 125 500 125 500 125 बैंक अध्िविकषर् 300 100 400 133ण्33 550 183ण्33 500 166ण्67 देय विपत्रा 100 100 120 120 80 80 140 140 विविध् लेनदार 300 100 400 133ण्33 500 166ण्67 600 200 बकाया दायित्व 500 100 75 150 125 250 150 30 750 100 995 132ण्67 12ण्55 167ण्33 1ए390 185ण्33 वुफल दायित्व 2ए950 100 3ए495 118ण्47 4ए155 140ण्85 4ए890 165ण्76 वित्तीय विवरणों का विश्लेषण प्रतिपादनः 1ण् एक अवध्ि के बाद अंशधरक निध्ि में अभ्िावृि हुइर् क्योंकि व्यवसाय में आरक्ष्िात के रूप में लाभ कोप्रतिधरित बनाए रखा गया। अंश पूँजी में भी अभ्िावृि हुइर्, जो शायद नए अंश या बोनस अंश के निगर्मनके कारण हो सकता है। 2ण् चालू परिसंपिायों में अभ्िावृि दीघर्कालिक दायित्व की अपेक्षा अध्िक हुइर् है। प्रदशर्दृ3 यूनिचेम लैबोरेट्रीस लिमिटेडपाँच वषो± का वित्तीय अवलोकन लाभ व हानि खाता वषार्न्त 31 माचर् 2002 2003 2004 2005 2006 प्रचालन से विक्रय और आय 3ए010ण्60 3ए250ण्10 3ए817ण्96 4ए245ण्61 4ए777ण्06 अन्य आय 25ण्30 29ण्26 12ण्04 119ण्85 42ण्08 वुफल आय 3ए035ण्90 3ए279ण्36 3ए884ण्00 4ए365ण्46 4ए819ण्14 माल का उपयोग 815ण्78 858ण्27 1ए037ण्06 1ए045ण्53 1ए183ण्14 माल का विक्रयस्टाॅक में वृि ;कमीद्ध 401ण्26 512ण्26 610ण्20 741ण्75 796ण्29 अध्र्निमिर्त व निमिर्त ;13ण्87द्ध ;45ण्83द्ध ;49ण्78द्ध ;37ण्57द्ध ;27ण्27द्ध अनुसंधन व विकास व्यय 53ण्30 66ण्60 68ण्23 85ण्13 100ण्63 भण्डार और पुजर्े 8ण्54 15ण्79 21ण्31 24ण्67 33ण्33 विद्युत और उजार् 63ण्58 70ण्55 88ण्08 90ण्66 119ण्63 कमर्चारी व्यय 233ण्88 259ण्97 320ण्99 378ण्93 439ण्86 उत्पाद शुल्क 309ण्22 308ण्03 337ण्47 310ण्95 219ण्52 विक्रय व्यय 343ण्56 336ण्68 336ण्80 400ण्70 434ण्11 अन्य व्यय 340ण्10 388ण्37 473ण्86 581ण्87 567ण्50 वुफल लागत 2ए555ण्45 2ए770ण्69 3ए244ण्22 3ए622ण्63 3ए866ण्74 मूल्य”ास और कर पूवर् लाभ ;च्ठप्क्ज्द्ध 480ण्45 508ण्67 639ण्78 742ण्83 952ण्40 ब्याज 44ण्94 48ण्78 31ण्23 23ण्07 22ण्74 च्ठक्ज् 435ण्51 459ण्89 608ण्55 719ण्76 929ण्67 मूल्य”ास 65ण्54 69ण्85 83ण्78 93ण्13 114ण्20 कर से पूवर् लाभ 369ण्97 390ण्04 524ण्77 626ण्63 815ण्47 विश्िाष्ट एवं पूवर् अवध्ि मदें 0ण्55 ;0ण्27द्ध 1ण्85 0ण्12 ;133ण्48द्ध वतर्मान कर 41ण्50 83ण्46 127ण्57 141ण्50 81ण्00 अनुषंगी लाभ . . . . 19ण्00 चालू कर के पश्चात लाभ 327ण्92 306ण्85 395ण्35 485ण्01 848ण्95 स्थगित कर 20ण्37 36ण्00 16ण्43 37ण्80 15ण्00 कर के पश्चात लाभ 307ण्55 270ण्85 378ण्92 447ण्21 833ण्95 थ्व्ठ मूल्य कर नियार्त 194ण्85 242ण्85 411ण्26 591ण्18 890ण्62 समता लाभांश 68ण्24 68ण्24 102ण्36 119ण्42 180ण्02 त् - क् पर खचर् μ पूंजी 47ण्41 19ण्82 16ण्04 68ण्80 22ण्62 μ आवतीर् 53ण्30 66ण्60 68ण्23 85ण्13 100ण्63 वुफल त् - क् खचर् 100ण्71 86ण्42 84ण्27 153ण्93 123ण्25 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण यूनिचेम लैबोरेट्रीस लिमिटेडतुलन पत्रा माचर् 31 को 2002 2003 2004 2005 2006 निध्ि के स्रोत समता अंश पूँजी 85ण्30 85ण्30 170ण्60 170ण्60 180ण्02 आरक्ष्िात एवं अध्िशेष 901ण्69 1ए096ण्55 1ए340ण्12 1ए655ण्62 2ए826ण्09 निवल संपिा 986ण्99 1ए181ण्85 1ए510ण्72 1ए826ण्22 3ए006ण्11 सुरक्ष्िात ट्टण 186ण्76 211ण्80 228ण्83 258ण्31 104ण्67 असुरक्ष्िात ट्टण 191ण्06 337ण्49 248ण्56 190ण्55 178ण्16 वुफल ट्टण 377ण्82 549ण्29 477ण्39 448ण्86 282ण्83 वुफल दायित्व 1ए364ण्80 1ए731ण्14 1ए988ण्11 2ए275ण्08 3ए288ण्94 निध्ि का उपयोग सकल खंड 1ए247ण्36 1ए545ण्95 1ए672ण्47 1ए977ण्48 2ए436ण्69 मूल्य”ास 336ण्20 395ण्09 474ण्03 557ण्23 656ण्19 निवल खंड 911ण्16 1ए150ण्86 1ए198ण्44 1ए420ण्25 1ए780ण्50 पूँजी कायर् प्रगति 85ण्62 23ण्84 72ण्33 365ण्82 100ण्48 छठ ़ ब्ॅच् 996ण्78 1ए174ण्70 1ए270ण्77 1ए786ण्07 1ए880ण्98 निवेश 6ण्17 147ण्33 142ण्58 31ण्18 274ण्93 चालू परिसंपिायाँ माल सूची 286ण्89 379ण्62 472ण्57 540ण्80 597ण्46 देनदार 522ण्00 569ण्39 657ण्29 711ण्45 956ण्56 रोकड़ व बैंक शेष 19ण्79 14ण्45 26ण्78 18ण्95 436ण्15 ट्टण व अगि्रम 104ण्71 165ण्95 240ण्43 189ण्91 219ण्40 वुफल चालू दायित्व 933ण्39 1ए129ण्41 1ए397ण्06 1ए461ण्11 2ए209ण्57 चालू दायित्व लेनदार 322ण्33 428ण्12 459ण्88 534ण्47 522ण्45 अन्य चालू दायित्व 43ण्59 43ण्05 59ण्60 87ण्93 72ण्86 प्रावधन 70ण्72 78ण्22 115ण्48 155ण्74 241ण्09 वुफल चालू दायित्व 436ण्65 549ण्40 634ण्96 778ण्14 836ण्40 स्थगित कर दायित्व निवल चालू संपिायाँ 134ण्91 361ण्85 170ण्91 409ण्11 187ण्34 574ण्77 225ण्14 457ण्83 240ण्14 1ए133ण्03 वुफल परिसंपिायाँ 1ए364ण्80 1ए731ण्14 1ए988ण्11 2ए275ण्08 3ए288ण्94 निवल संपिा औरच्त्व्थ्प्ज् ठम्थ्व्त्म् ज्।ग् - कर से पूवर् लाभ औरछम्ज् ॅव्त्ज्भ् - वित्तीय विवरणों का विश्लेषणश्00.श्01सकल विक्रय व निवल विक्रयळत्व्ैै ै।स्म्ै - छम्ज् ै।स्म्ै अंश पूंजीच्त्व्थ्प्ज् ।थ्ज्म्त् ज्।ग् कर से पश्चात लाभ ैभ्।त्म् ब्।च्प्ज्।स् श्01.श्02रु. मिलियन में रु. मिलियन मेंत्ेण् पद डपससपवदे त्ेण् पद डपससपवदे त्ेण् पद डपससपवदेरु. मिलियन में म्ग्ज्त्।व्त्क्प्छ।त्ल् प्ज्म्ड 21ण्0 विश्िाष्ट मदें 0ण्1 2ण्4 व्ज्भ्म्त् म्डच्म्छैम्ैश्00.श्01श्02.श्03ळतवेे ैंसमे सकल विक्रयकर से पूवर् लाभछमज ॅवतजी च्तवपिज ठमवितम ज्ंग ठमवितम म्व्प् निवल संपिा6ण्0 ब्व्त्च्ण् ज्।ग् - क्म्थ्ण् ज्।ग् 0ण्2 4ण्9 5ण्3 म्डच्स्व्ल्म्म् त्म्डन्छम्त्।ज्प्व्छ श्01.श्02छमज ैंसमे ैींतम ब्ंचपजंस च्तवपिज ।जिमत ज्ंग निवल विक्रय कर से पश्चात लाभ अंश पूंजीश्03.श्04श्02.श्03श्04.श्05श्03.श्04श्04.श्05श्00.श्01श्01.श्02श्02.श्03श्03.श्04श्00.श्01त्म्ज्न्त्छ व्छ ब्।च्प्ज्।स् म्डच्स्व्ल्म्क् त्म्टम्छन्म् ज्व्विनियोजित पूँजी पर प्रत्याय औरराजकीय में आगमश्04.श्05श्01.श्02- त्म्ज्न्त्छ व्छ छम्ज् ॅव्त्ज्भ् म्ग्ब्भ्म्फन्म्त्निवल संपिा पर प्रत्याय प्द: त्ेण् पद डपससपवदेमें रु. मिलियन में श्02.श्03त्मजनतद वद ब्ंचपजंस म्उचसवलमक विनियोजित पूँजी पर प्रत्यायत्मजनतद वद छमज ॅवतजी निवल संपिी पर प्रत्याय श्03.श्04श्00.श्01श्04.श्05श्01.श्02श्02.श्03श्03.श्04श्04.श्05क्प्ैज्त्प्ठन्ज्प्व्छ व्थ् प्छब्व्डम्आय का वितरण प्द: में 3ण्5 माल की लागतड।ज्म्त्प्।स् ब्व्ैज् कमर्चारी क्षतिपूतिर् अन्य व्यय प्छज्म्त्म्ैज्ब्याज 56ण्5 क्म्च्त्म्ब्प्।ज्प्व्छ मूल्य”ास निगम कर व स्थगित कर लाभांश और लाभांश करक्प्टप्क्म्छक् - क्प्टण् ज्।ग् त्म्ज्।प्छम्क् म्।त्छप्छळै प्रविधरित निध्ि लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण सकल विक्रय ;रु. करोड़ मेंद्ध प्रचालन लाभ ;रु करोड़ मेंद्ध कर के पश्चात लाभ ;रु करोड़ मेंद्ध 4000 3474 3506 12000 6000 0 0203040506 0203040506 02 03 04 0506 व्चमतंजपदह च्तवपिज त्र ैंसमे व िच्तवकनबजे - ैमतअपबमे .म्गबपेम क्नजल .;डहि - व्जीमत म्गचमदेमे .म्गचमदकपजनतम जतंदेमिततमक जव ब्ंचपजंस ंदक व्जीमत ।बबवनदजेद्ध निवल )ण / समता प्रति अंश अजर्न ;प्रति अंश रु.द्ध निवेश्िात पूँजी पर प्रत्याय ;ःद्ध समता निवल ट्टणनिवल ट्टण समता 70 40ः 38ण्95ः 36ण्03ः 63ण्353ण्0 62ण्779502 12000 2ण्78 60 11000 6845 2ण्5 10000 50 2457 3186 9000 4360 2ण्0 408000 1ण्84 7000 31ण्551ण्5 306000 27ण्43 5000 1ण्00ण्95 20 3000 4000 0ण्54 100ण्52000 0ण्510ण्29 1000 0 00ण्0 30ः 20ः 18ण्27ः 12ण्60ः 10ः 5ण्52ः 0 0203040506 020304050602 0304 05 06 ’ च्वेज ज्ंग क्ममिततमक ज्ंग स्पंइपसपजल ़ च्तवअपेपवद वित म्उचसवलमम ैमचंतंजपवद ब्वउचमदेंजपवद ़ स्वदह ज्मतउ ळनंतंदजममे ;.द्ध ब्नततमदज प्दअमेजउमदजे ;.द्ध ब्ंेी ंदक ठंदा ठंसंदबमे म्ुनपजल त्र ैींतम ब्ंचपजंस ़ त्मेमतअमे ंदक ैनतचसने डपेबमससंदमवने म्गचमदकपजनतम ;जव जीम मगजमदज दवज ूध्व वत ंकरनेजमकद्ध छमज क्मइजे त्र ैमबनतमक स्वंदे ़ न्देमबनतमक स्वंदे ़ वित्तीय विवरणों का विश्लेषण स्वयं जाँचिए - 3 सत्य असत्य बताएँμ 1ण् व्यावसायिक उद्यम के वित्तीय विवरणों में कोष प्रवाह विवरण सम्िमलित है। 2ण् तुलनात्मक विवरण क्षैतिज विश्लेषण का एक रूप है। 3ण् समरूप विवरण और वित्तीय अनुपात लम्बवत विश्लेषण में प्रयोग में आने वाले दो साध्न हैं। 4ण् अनुपात विशलेषण दो वित्तीय विवरणों में मध्य संबंध् स्थापित करता है। 5ण् अनुपात विश्लेषण किसी उद्यम के वित्तीय विवरणों के विश्लेषण हेतु एक साध्न है। 6ण् वित्तीय विश्लेषण केवल लेनदारों द्वारा प्रयोग में लाये जाते हैं। 7ण् लाभ व हानि खाता एक विशेष अवध्ि के लिए उद्यम के प्रचालन निष्पादन को दशार्ता है। 8ण् वित्तीय विश्लेषण विश्लेषक को उपयुक्त निणर्य लेने में सहायक है। 9ण् रोकड़ प्रवाह विवरण वित्तीय विवरण विश्लेषण का एक साध्न है। 10ण् समरूप विवरण के प्रत्येक मद को समान आधर पर प्रतिशत में दशार्ता है। 4ण्8 वित्तीय विश्लेषणों की सीमाएँ हालांकि, एक पफमर् की वित्तीय सुदृढ़ता एवं कमजोरियों को निधर्रित करने के लिए वित्तीय विश्लेषण पयार्प्तसशक्त होते हैं, परन्तु ये विश्लेषण वित्तीय विवरणों से प्राप्त सूचनाओं पर आधरित होते हैं। इसी प्रकार से,वित्तीय विवरण विश्लेषण वित्तीय विवरणों की गंभीर सीमाओं के भी भुक्तभोगी होते हैं। अतैव, वित्तीयविश्लेषणों को निश्िचत रूप से मूल्य स्तर में बदलावों, वित्तीय विवरणों की दृश्य सौंदयर्ता, पफमर् की लेखांकन नीति के बदलावों, लेखांकन अवधरणा तथा परम्पराओं एवं वैयक्ितक निणर्यों आदि के प्रभाव के बारे मेंसावधनी पूणर् रहना चाहिए। वित्तीय विश्लेषणों की वुफछ अन्य सीमाएँ ये भी हैं - 1ण् वित्तीय विश्लेषण मूल्य स्तरीय बदलावों पर ध्यान नहीं देते हैं। 2ण् वित्तीय विश्लेषण एक पफमर् के खाते के लिए भ्रमात्मक भी हो सकते हैं अगर पफमर् ने लेखांकन प्रिया में बदलाव को अपना लिया है। 3ण् वित्तीय विश्लेषण अंतरिम रिपोटर् की केवल अध्ययन है। 4ण् वित्तीय विश्लेषण में केवल आथ्िार्क पहलू पर ही ध्यान दिया जाता है। जबकि गैर - आथ्िार्क संघंटकों को उपेक्ष्िात किया जाता है। 5ण् वित्तीय विश्लेषणों को पफमर् की चल रही संकल्पनाओं के आधर पर तैयार किए जाते हैं जैसे कि यह बिलवुफल वास्तविक वस्तु स्िथति को नहीं प्रस्तुत करते हैं। इस अध्याय में प्रयुक्त शब्द 1ण् वित्तीय विवरण 2ण् समरूप विवरण 3ण् तुलनात्मक विवरण 4ण् प्रवृति विश्लेषण 5ण् अनुपात विश्लेषण 6ण् रोकड़ प्रवाह विश्लेषण 7ण् अतंरा पफमर्र् तुलना 8ण् अंतर्पफमर् तुलना 9ण् क्षैतिज विश्लेषण 10ण् लम्बवत विश्लेषण सारांश वाष्िार्क रिपोटर् के प्रमुख भागवाष्िार्क रिपोटर् में मूल रूप से वित्तीय विवरण शामिल होते है, जैसे तुलन पत्रा, लाभ व हानि खाता और रोकड़ प्रवाह विवरण। इसमें अवलोकन हेतु वषर् के निष्पादन संबंध्ी प्रबंध् तवर्फ भी सम्िमलित होते है, साथ ही यह उद्यम के संभावित भविष्य पर भी प्रकाश डालता है। वित्तीय विश्लेषण के साध्नतुलनात्मक विवरण समरूप विवरण, प्रवृिा विवरण, अनुपात विश्लेषण और रोकड़ प्रवाह विश्लेषण सम्िमलित हैं। तुलनात्मक विवरणतुलनात्मक विवरण में वित्तीय विवरणों की सभी मदों को सापेक्ष्िात और प्रतिशत में एक विशेष जमावध्ि के लिए एक पफमर् या दो पफमों में मध्य तुलना हेतु दशार्ता है। समरूप विवरणवित्तीय विवरणों के सभी मदों को समरूप विवरण एक समान आधर पर प्रतिशत के रूप में दशार्ता है, जैसे कि लाभव हानि खाते पर विक्रय और तुलन पत्रा पर कुल परिसंपिायाँ। अनुपात विश्लेषणअनुपात विश्लेषण वित्तीय विश्लेषण का एक ऐसा साध्न है किसी भी व्यावसायिक उद्यम के निष्पादन के सुदृढ़ता औरक£मयों के निधर्रण के लिए वित्तीय अनुपातों की गणना और व्याख्या की विध्ियाँ शामिल हैं। अभ्यास के लिए प्रश्न ;कद्ध लघु उत्तरीय प्रश्न 1ण् वित्तीय विवरण विश्लेषण की तकनीकों का संक्षेप में वणर्न करें। 2ण् वित्तीय आँकड़ों के अनुलंब एवं क्षैतिज विश्लेषण के बीच अंतर स्पष्ट कीजिए। 3ण् विश्लेषण एवं प्रतिपादन के तात्पयर् समझाइए? 4ण् वित्तीय विश्लेषण के महत्व का वणर्न कीजिए? 5ण् तुलनात्मक वित्तीय विवरण क्या है? 6.समरूप विवरण से आपका क्या तात्पयर् है। ;बद्ध दीध्र् उत्तरीय प्रश्न 1ण् समरूप विश्लेषण से आपका क्या तात्पयर् है? आप उन्हें वैफसे तैयार करते हैं? 2ण् विभ्िाÂ प्रकार के वित्तीय विश्लेषणों का वणर्न कीजिए तथा वित्तीय विश्लेषणों की सीमाओं की चचार् कीजिए? 3ण् एक कंपनी की वित्तीय निष्पादन की व्याख्या या प्रतिपादन में प्रवृिा प्रतिशत की उपयोगिता का वणर्न कीजिए। 4ण् तुलनात्मक विवरण का क्या महत्त्व है? तुलनात्मक आय विवरण का एक विश्िाष्ट संदभर् देते हुए अपनेउत्तर की व्याख्या करें तथा उसके तैयार करने के बारे में संक्ष्िाप्त वणर्न करें? 5ण् वित्तीय विवरण के विश्लेषण एवं प्रतिपादन से आप क्या समझते हैं? उनके महत्व पर चचार् करें। संख्यात्मक प्रश्न 1ण् निम्नलिख्िात सूचनाएं नरसिंहम कंपनी लि. से है। वषर् 2004 व 2005 के लिए एक तुलनात्मक आय विवरण तैयार करेंः विवरण 2004 ;रु.द्ध 2005 ;रु.द्ध सकल विव्रफय घटायाः वापसी 7ए25ए000 25ए000 8ए15ए000 15ए000 निवल विव्रफय बेचे गये माल की लागत सकल लाभ अन्य व्यय विव्रफय एवं वितरण व्यय प्रशासकीय व्यय 7ए00ए000 5ए95ए000 8ए00ए000 6ए15ए000 1ए05ए000 1ए85ए000 23ए000 12ए700 24ए000 12ए500 वुफल व्यय प्रचालन आय अन्य आय ;घटायाःद्ध अप्रचालन व्यय 35ए700 36ए500 69ए300 1ए200 70ए500 ;1ए750द्ध 1ए48ए550 8ए050 1ए46ए550 ;1ए940द्ध निवल लाभ 68ए750 1ए54ए610 वित्तीय विवरणों का विश्लेषण 239 2. निम्नलिख्िात तुलन पत्रा वषर् समाप्ित 2004 व 2005 के लिए मोहन लिमिटेड का है। ;रु. लाखों मेंद्ध दायित्व 2004 2005 परिसपिायाँ 2004 2005 समता अंश पूँजी आरक्ष्िात व अध्िशेषट्टण पत्रा दीघर्कालिक ट्टण देय विपत्रा अन्य चालू दायित्व 400 312 50 150 255 7 600 354 100 255 117 10 भूमि व भवन संयंत्रा व मशीनरी पफनीर्चर व पिफक्सचरअन्य स्िथर परिसंपिायाँट्टण एवं उधर रोकड़ व बैंक प्राप्य विपत्रा माल सूचीपूवर्दत्त व्यय अन्य चालू परिसंपिायाँ 270 310 9 20 46 118 209 160 3 29 170 786 18 30 59 10 190 130 3 40 1ए174 1ए436 1ए174 1ए436 तुलनात्मक तुलन पत्रा तैयार करें तथा कंपनी की वित्तीय स्िथति का अध्ययन करें। 3.निम्नलिख्िात तुलन पत्रा वषर् की समाप्ित 2002 व 2003 के लिए देवी कं. लिमिटेड का हैं एक तुलनात्मकतुलन पत्रा बनाए तथा व्यापार की वित्तीय स्िथति का अध्ययन करें। दायित्व 2002 ;रु.द्ध 2003 ;रु.द्ध परिसंपिायाँ 2002 ;रु.द्ध 2003 ;रु.द्ध समता पूँजी अध्िमान पूँजी आरक्ष्िात लाभ व हानि खाता बैंक अध्िविकषर् लेनदार कराधन हेतु प्रावधन प्रस्तावित लाभांश 1ए20ए000 70ए000 30ए000 17ए500 35ए000 25ए000 15ए000 8ए500 1ए85ए000 95ए000 35ए000 20ए000 45ए450 35ए000 22ए500 20ए050 स्िथर परिसपिायाँ स्टाक देनदार प्राप्य विपत्रा पूवर्दत्त व्यय बैंकस्थ रोकड़ हस्तस्थ रोकड़ 1ए40ए000 40ए000 70ए000 20ए000 6ए000 40ए000 5ए000 1ए95ए000 45ए000 82ए500 50ए000 8ए000 48ए500 29ए000 3ए21ए000 4ए58ए000 3ए21ए000 4ए58ए000 4.निम्न आय विवरण को सामान्य आकार विवरण में बदलिए तथा 2004 को ध्यान में रखते हुए 2005 के बदलावों का प्रतिपादन कीजिए - विवरण 2004 ;रु.द्ध 2005 ;रु.द्ध सकल विव्रफय घटायाः विव्रफय वापसी 30ए600 ;600द्ध 36ए720 ;700द्ध निवल विव्रफय घटायाः बेचे गये माल की लागत 30ए000 ;18ए200द्ध 36ए020 ;20ए250द्ध सकल लाभ घटायाः प्रचालन व्यय प्रशासनिक व्यय विव्रफय व्यय 11ए800 3ए000 6ए000 15ए770 3ए400 6ए600 वुफल व्यय 9ए000 10ए000 प्रचालन से आय जोड़ाः अप्रचालन आय 2ए800 300 5ए770 400 वुफल आय घटायाः अप्रचालन व्यय 3ए100 ;400द्ध 6ए170 ;600द्ध निवल लाभ 2ए700 5ए570 5.निम्नलिख्िात तुलन पत्रा वषर् समाप्ित 31 माचर् 2003 एवं 2004 को रेड्डी लिमिटेड का है। देनदारियाँ 2004 2005 परिसंपिायाँ 2004 2005 अंश पूँजी आरक्ष्िात व अध्िशेषट्टण पत्रा दीघर्कालिक ट्टण देय विपत्रा अन्य चालू दायित्व 2ए400 1ए872 300 900 1ए530 42 3ए600 2ए124 600 1ए530 702 60 भूमि व भवन संयंत्रा व मशीनरी पफनीर्चर व पिफटिंग्सअन्य स्िथर परिसंपिायाँदीघर्कालिक ट्टण रोकड़ व बैंक शेष प्राप्य विपत्रा स्टाॅक पूवर्दत्त व्यय अन्य चालू परिसंपिायाँ 1ए620 1ए860 54 120 276 708 1ए254 960 18 174 1ए040 4ए716 108 180 354 60 1ए120 780 18 240 7ए044 8ए616 7ए044 8ए616 सामान्य आकार तुलन पत्रा बनाते हुए एवं इसकी मदद द्वारा कंपनी की वित्तीय स्िथति का विश्लेषण करें। 6.साथ में लगी हुइर् तुलन पत्रा एवं लाभ व हानि खाता सूमो लोजिस्िटकस प्रा. लि. से संबंध्ित है। इन्हें समरूप विवरणों में परिवतिर्त कीजिए। पूवर् वषर् त्र 2005 चालू वषर् त्र 2006 ;रु. लाखों मेंद्ध दायित्व पूवर् वषर् चालू वषर् दायित्व समता अंश पूँजी सामान्य आरक्ष्िातदीघर्कालिक ट्टण लेनदार बकाया व्यय अन्य चालू दायित्व वुफल देनदारियाँपरिसंपिायाँ 240 96 182 67 6 9 240 182 169ण्5 52 दृ 6ण्5 600 650 मूल्य”ास को घटाकर निवल संयंत्रा परिसंपिा 402 390 रोकड़ 54 78 देनदार 60 65 निवेश 84 117 कुल परिसंपिा 600 650 वषर् की समाप्ित पर आय विवरण ;रु. लाखों मेंद्ध विवरण पूवर् वषर् चालू वषर् सकल विव्रफयघटायाμ वापसी 390 ;20द्ध 480 ;30द्ध निवल विव्रफयघटायाμ बेचे गये मूल्य की लागत 350 ;190द्ध 450 ;215द्ध सकल लाभघटायाμ विव्रफय व प्रशासकीय खचेर् 160 ;50द्ध 235 ;72द्ध प्रचालन लाभघटायाμ ब्याज व्यय 110 ;20द्ध 163 ;17द्ध कर से पूवर् अजर्नघटायाμ कर 90 ;45द्ध 146 ;73द्ध कर के बाद अजर्न 45 73 7.निम्नलिख्िात विवरण पारसनाथ लि. के लाभ व हानि खातों से निकाले गए हैं। आप इनकी प्रवृति प्रतिशत परिकलित करें। वषर् ;रु.द्ध विव्रफय ;रु.द्ध मजदूरी ;रु.द्ध डूबत ट्टण ;रु.द्ध कर के पश्चात लाभ ;रु.द्ध 2003 3ए50ए000 50ए000 14ए000 16ए000 2004 4ए15ए000 60ए000 26ए000 24ए500 2005 4ए25ए000 72ए200 29ए000 45ए000 2006 4ए60ए000 85ए000 33ए000 60ए000 8.ए बी सी से प्राप्त निम्नलिख्िात आँकड़ों ;संख्याओंद्ध प्रवृिा प्रतिशत को परिकलित करें। इसमें वषर् 2000 को आधर वषर् बनाएं और प्रतिपादन करें - ;रु. लाखों मेंद्ध वषर् विव्रफय स्टाॅक कर से पूवर् लाभ 2000 1ए500 700 300 2001 2ए140 780 450 2002 2ए365 820 480 2003 3ए020 930 530 2004 3ए500 1ए160 660 2005 4ए000 1ए200 700 9.निम्नलिख्िात आँकड़े 31 माचर् 2006 पर माध्ुरी लिमिटेड के तुलन पत्रा से देनदारियों के पक्ष से संबंध्ित है। आपको वषर् 2002 को आधर मानते हुए प्रवृिा प्रतिशत की गणना करनी है - ;रु. लाखों मेंद्ध दायित्व 2002 2003 2004 2005 2006 अंश पूँजी 100 125 130 150 160 आरक्ष्िात एवं अध्िशेष 12ः ट्टण पत्रा 50 200 60 250 65 300 75 400 80 400 बैंक अध्िविकषर् 10 20 25 25 20 लाभ व हानि खाता 20 22 28 26 30 विविध् लेनदार 40 70 60 70 75 स्वयं जाँचिये हेतु जाँच सूची स्वयं जाँचियेदृ1 1. सरलीकरण 2ण् वण्िार्त 3ण् क्षैतिज का प्रभाव 4ण् लम्बवत 5ण् रोकड़ प्रवाह स्वयं जाँचियेदृ2 1. द 2ण् द 3ण् स 4ण् अ 5ण् ब स्वयं जाँचियेदृ3 1. सत्य 2ण् सत्य 3ण् सत्य 4ण् सत्य 5ण् सत्य 6. असत्य 7ण् सत्य 8ण् सत्य 9ण् सत्य 10ण् सत्य

RELOAD if chapter isn't visible.