अंश पूँजी के लिए लेखांकन 1 अध्िगम उद्देश्य इस अध्याय को पढ़ने के उपरांतआपः ऽ व्यवसायिक संस्थाओं के निमार्ण केसंयुक्त पूँजी कंपनी की मूलभूत प्रकृतिऔर कंपनी के विभ्िान्न प्रकारों काउसके सदस्यों का दायित्व के आधारपर वणर्न कर सवेंफगे। ऽ कंपनी द्वारा निगर्मित अंशों के प्रकारोंका वणर्न कर सवेंफगे। ऽ सममूल्य पर अंशों के निगर्मन कालेखांकन व्यवहार, अध्िमूल्य तथाबट्टे पर निगर्मन, अध्ि - अभ्िादानसहित लेखांकन व्यवहार कर सवेंफगे। ऽ विभ्िाÂ परिस्िथतियों में अंशों के हरणऔर हरण किये गए अंशों के पुनःनिगर्मन की रूप रेखा का अध्ययनकर सकेंगे। ऽ हरण किये गए अंशों के पुनः निगर्मनपर राश्िा को पूँजी आरक्ष्िात खाते मेंहस्तांतरण और अंश हरण खाता तैयारकर सवेंफगे। एक संगठन का कंपनी प्रारूप संगठन प्रारूप के विकास का तीसरा चरण है। इसकी पूँजी व्यक्ितयों के एक विशाल संख्या द्वारा विनियोजित की जाती है, जो कि इसके अंशधारी कहलाते हैं और कंपनी के वास्तविक स्वामी होते हैं। लेकिन न तो यह संभव है कि वह प्रबन्ध में बने रहें तथा न ही यह आवश्यक है कि वह प्रबंध् को छोड़ दें। इसलिए वे कंपनी के मामलों को निपटाने के लिए अपने प्रतिनििा के रूप में संचालक मंडल को नियुक्त करते हैं। तथ्य यह है कि कंपनी के सभी मामलों को कंपनी अिानियम 1956 के प्रावधानों के अनुसार निपटाया जाता है। एक कंपनी से आश्य है वह कंपनी जो कि कंपनी अिानियम 1956 के अन्तगर्त या किसी अन्य कंपनी अिानियम के अन्तर्गत निगर्मित या पंजीकृत है। चीपफ जस्िटस माशर्ल के अनुसारकंपनी एक अदृश्य, अमूतर् और कृत्रिाम व्यक्ित है जिसका अस्ितत्व केवल कानून की दृष्िट में होता है। कंपनी प्रायः अपनी पूँजी अंशों के रूप में ;जो अंश पूँजी कहलाती हैद्ध और )णपत्रों ;)ण पूँजीद्ध के रूप में एकत्रिात करती है। यह अध्याय कंपनी की अंश पूँजी के लिए लेखांकन व्यवहार की व्याख्या करता है। 1ण्1 कंपनी की विशेषताएं एक कंपनी को एक व्यक्ितयों के संघ के रूप में दशार्या जा सकता है जो कि राश्िा को एकत्रिात करते हैं या पिफर राश्िा को एक सामान्य स्कन्ध के रूप में एक सामान्य उद्देश्य की पूतिर् के लिए उपयोग करतेहैं। यह एक कृत्रिाम व्यक्ित है जिसका इसके सदस्यों से पृथक कानूनी अस्ितत्व होता है और यह अपने हस्ताक्षर के लिए एक विश्िाष्ट सावर्मुद्रा का प्रयोग करती है। इसलिए यह वुफछ विशेषताएं रखती है जो कि इसे अन्य संस्थानों से पृथक करती है। यह निम्न लिख्िात हैः 2 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण ऽ स्वैच्िछक संस्था: वे व्यक्ित जो कि एक कंपनी का निमार्ण करने के इच्छुक हैं, एक साथ एक व्यवसाय को स्वैच्िछक रूप से बढ़ा सकते हैं। अंतः इसे स्वैच्िछक संस्था के रूप में जाना जाता है। ऽ पृथक वैधानिक अस्ितत्व: एक कंपनी का अलग कानूनी अस्ितत्व होता है जो कि इसका इसकेसदस्यों से भ्िान्न है। यह किसी भी प्रकार की परिसंपिा का क्रय कर सकती है। यह अनुबन्ध कर सकती है और अपने नाम से बैंक खाता भी खोल सकती है। यह अन्य पक्ष पर अभ्िायोग चला सकती है तथा कोइर् भी इस पर अभ्िायोग चला सकता है। ऽ सीमित दायित्व: इसके सदस्यों का दायित्व केवल उनके द्वारा खरीदे गए अंशों के भुगतान ना की गइर् राश्िा तक ही इसके सदस्यों का दायित्व होता है। गारंटी द्वारा सीमित कंपनी की स्िथति में, कंपनी के समापन की दशा में सदस्यों का दायित्व उनके द्वारा दी गइर् गारंटी तक ही सीमित होता है। ऽ स्थायी उत्त्रािाकार: कंपनी एक कृत्रिाम व्यक्ित जो कि कानून द्वारा निमिर्त होने के कारण इसके सदस्यों के परिवतिर्त होने पर भी अस्ितत्व में रहती है। एक कंपनी को केवल कानून द्वारा विघटित किया जा सकता है। कंपनी के सदस्यों की मृत्यु, दिवालियापन होने की स्िथति में भी कंपनी के अस्ितत्व पर कोइर् प्रभाव नहीं पड़ता तथा इसके बावजूद भी कंपनी निरन्तर ियाशील रहती है। ऽ सावर्मुद्रा: कंपनी कृत्रिाम व्यक्ित होने के कारण अपने नाम के हस्ताक्षर नहीं कर सकती। इसलिए प्रत्येक कंपनी को एक सावर्मुद्रा का प्रयोग आवश्यक है जो कि अिाकारित रूप से कंपनी के लिए हस्ताक्षर करती है। कोइर् दस्तावेज यदि इस पर कंपनी की सावर्मुद्रा नहीं है तो कोइर् कंपनी इसके लिए बाध्य नहीं होगी। ऽ अंशों का हस्तांतरण: एक सावर्जनिक लिमिटेड कंपनी के अंश मुक्त रूप से हस्तांतरणीय होते हैं। अंशों के हस्तांतरण के लिए कंपनी की आज्ञा या किसी सदस्य की सलाह की कोइर् आवश्यकता नहीं होती। लेकिन कंपनी के अंतर्नियमों के अंशों को किस प्रकार हस्तांतरित करना है, उसका उल्लेख होता है। 1ण्2 कंपनी के प्रकार कंपनियों का वगीर्करण या तो उनके सदस्यों के दायित्वों के आधार पर और या इसकी सदस्यों की संख्या के आधार पर किया जा सकता है। कंपनी के सदस्यों के दायित्व के आधार पर एक कंपनी को दी गइर् तीन श्रीण्िायों में वण्िार्त किया जा सकता है। ;पद्ध अंशों द्वारा सीमित कंपनी: ऐसी कंपनी में इसके सदस्यों का दायित्व उनके द्वारा लिए गए अंशों की वास्तविक मूल्य तक सीमित होता है। यदि एक सदस्य द्वारा अंशों की पूणर् राश्िा का भुगतान कर दिया गया है तो सदस्य के हिस्से कोइर् दायित्व नहीं होगा। चाहे कंपनी का )ण वुफछ भीहो। उस सदस्य को अपनी निजि परिसंपिा से एक पैसे का भी भुगतान नहीं करना होगा। हालांकि, यदि कोइर् दायित्व शामिल है भी, तो उसे कंपनी के अस्ितत्व के दौरान अथवा समापन पर लागू किया जा सकता है। अंश पूँजी के लिए लेखांकन ;पपद्ध गारन्टी द्वारा सीमित कंपनी: ऐसी कंपनियों में सदस्यों का दायित्व, कंपनी के समापन होने की दशा में उनके अंशदान के अनुपातिक में होता है, जितना ही होगा। अतः इसके सदस्यों का दायित्वइसके समापन की घटना पर ही उत्पÂ होगा। ;पपपद्ध असीमित कंपनी: जब कंपनी के सदस्यों का दायित्व सीमित नहीं होता है, तो यह कंपनीअसीमित कंपनी कहलाती है। जब कंपनी की परिसंपिा इसके द्वारा लिए गए )णों का भुगतानकरने में असमर्थ रहती है, तो इसके सदस्यों की निजी परिसंपिायों को इस उद्देश्य की पूतिर् के लिए प्रयोग में लाया जाता है। दूसरे शब्दों में लेनदार उनके बकाये का दावा कंपनी के सदस्यों पर कर सकते हैं। इस प्रकार की कंपनी भारत में नहीं पाइर् जाती यहां तक की कंपनी अिानियम भी इसकी आज्ञा नहीं देता है। सदस्यों की संख्या के आधार पर एक कंपनी को दो श्रेण्िायों में विभाजित कर सकते हैं। सावर्जनिक कंपनी: सावर्जनिक कंपनी आशय एक ऐसी कंपनी से है जो कि ;अद्ध एक निजी कंपनी नहीं है, ;बद्ध न्यूनतम पूँजी 5 लाख रखती हो या इससे अिाक चुकता पूँजी भी हो सकती है जैसे कि वण्िार्त हो, ;सद्ध एक निजी कंपनी जो कि सहायक कंपनी है और उसकी सूत्राधारी कंपनी निजी कंपनी नहीं है। निजी कंपनी: एक निजी कंपनी वह है जिसकी न्यून्तम प्रदत्त पूँजी एक लाख रुपये या इससे अिाक जैसे कि इसके अंतनिर्यमों में वण्िार्त हो, हो सकती हैः ;अद्ध अंशों के हस्तांतरण पर प्रतिबन्ध होता है। ;बद्ध इसके सदस्यों की संख्या 50 तक सीमित होती है ;इसके कमर्चारियों को छोड़करद्ध ;सद्ध जनता में किसी भी अंश या )णपत्रा का अभ्िादान के लिए आमत्राण निशेध होता है। ;दद्ध सदस्यों, संचालकों तथा सम्बन्िधयों के अतिरिक्त कोइर् आमन्त्राण या जमा स्वीकार करने पर प्रतिबन्ध होता है। 1ण्3 कंपनी की अंश पूँजी कंपनी, कृत्रिाम व्यक्ित होने के कारण अपनी पूँजी को स्वयं उत्पन्न नहीं कर सकती जो कि वुफछ व्यक्ितयों द्वारा एकत्रिात की जाती है। ये व्यक्ित कंपनी के अंशधारी कहलाते हैं तथा इनके द्वारा एकत्रिात राश्िा एक कंपनी की अंशपूँजी कहलाती है। चूंकि कंपनी के अंशधारियों की संख्या बहुत अिाक होती है, इसलिए प्रत्येक के लिए अलग अलग पूँजी खाता नहीं खोला जा सकता। अतः एकत्रिात पूँजी के असंख्य भागों को और उसके अस्ितत्व को एक सामान्य पूँजी खाता, जो कि अंश पूँजी खाता कहलाता है में समायोजित कर दिया जाता है। 1ण्3ण्1 अंशपूँजी का वगीर्करण लेखांकन की दृष्िट से कंपनी की अंश पूँजी को निम्न प्रकार श्रेणीकृत किया जा सकता हैः ऽ अिाकृत पूँजी: अिाकृत पूँजी, कंपनी की अंश पूँजी की राश्िा है जो कि कंपनी के सीमा पाषर्द नियम के द्वारा निगर्मित की जाती है। अध्िक राश्िा कंपनी सीमा पाषर्द नियम में उल्लेख्िात पूँजी से अध्िक रााश्िा को एकत्रिात नहीं कर सकती। यह वास्तविक या पंजीकृत पूँजी भी कहलाती है।अिाकृत पूँजी कंपनी अिानियम की प्रिया के अनुसार कम या ज्यादा भी हो सकती है। यहध्यान देने योग्य है कि कंपनी समस्त अिाकृत पूँजी को जनता में अभ्िादान के लिए एक ही समय में निगर्मित करने के लिए बाध्य नहीं है। यह कंपनी की आवश्यकताओं पर निभर्र करता है, परन्तुकिसी भी स्िथति में यह पूँजी अिाकृत पूँजी से अध्िक नहीं हो सकती। ऽ निगर्मित पूँजी: अिाकृत पूँजी का वह भाग जिसे जनता को अंश अभ्िादान के लिए वास्तविक रूप से प्रस्तावित किया जाता है उसे निगर्मित पूँजी कहते हैं। इसमें वे अंश भी सम्िमलित है जोपरिसंपिा विक्रेताओं प्रतिपफल के बदले निगर्मित किये जाते हैं। अिाकृत पूँजी की वह राश्िा जो कि जनता में अभ्िादान नहीं की गइर् है ‘अनिगर्मित पूँजी’ कहलाती है तथा इसे आगामी तिथ्िा को किसी भी समय जनता में अभ्िादान के लिए निगर्मित किया जा सकता है। ऽ अभ्िादत्त पूँजी: यह निगर्मित पूँजी का वह भाग है जो व्यक्ितयों द्वारा अभ्िादान किये गये अंशों के अंकित मूल्य को दशार्ता है। जब अंशों का जनता द्वारा पूणर् रूप से अभ्िादान होता है तो निगर्मित पूँजी और अभ्िादत्त पूँजी समान होगी। यह ध्यान देने योग्य है कि अंततः, अभ्िादत्त पूँजी और निगर्मित पूँजी समान है क्योंकि यदि अभ्िादान के लिए अंशों की संख्या, निगर्कित संख्या से कम है तो कंपनी केवल उन्ही अंशों का आबंटन करेगी जिनके लिए अभ्िादान प्राप्त हो चुका है। किसी स्िथति में यह अंशों की संख्या, यदि निगर्मित संख्या से ज्यादा है तो आबंटित अंश, निगर्मित अंशों के समान होंगे। दूसरे शब्दों में, अिा - अभ्िादान के तथ्य, पुस्तकों में नहीं प्रदश्िार्त किए जाते हैं। ऽ मांगी गइर् या याचित पूँजी: अिाकृत पूँजी का वह भाग जो कि अंशों पर मांगी जाती है। कंपनी समस्त राश्िा या अंशों पर अंकित मूल्य के भाग को मांगने का निणर्य ले सकती है। उदाहरण के लिए, यदि आबंटित अंशों का अंकित मूल्य ;वास्तविक मूल्य भी कहलाता हैद्ध 10 रुपये है और कंपनी ने केवल 7 रुपये प्रति अंश मांगा है तो इस स्िथति में मांगी हुइर् या याचित पूँजी केवल 7 रुपये प्रति अंश होगी। शेष 3 रुपये को अंशधारियों से किसी भी समय आवश्यकतानुसार माँग लिया जा सकता है। ऽ प्रदत्त पूँजी: यह मांगी गइर् पूँजी का वह भाग है जो कि अंशधारियों से वास्तव में प्राप्त कर लियागया है। जब अंशधारी समस्त माँग राश्िा का भुगतान कर देते हैं तब माँग पूँजी प्रदत्त पूँजी के समान होगी। यदि कोइर् अंशधारी मांगी गइर् राश्िा का भुगतान नहीं करता है तो यह राश्िा बकाया माँगकहलाती है। इसलिए प्रदत्त पूँजी, मांगी गइर् पूँजी में से बकाया माँग की राश्िा को घटाने पर शेष के समान होगी। ऽ अयाचित पूँजी: अभ्िादत्त पूँजी का वह भाग जो कि अभी तक मांगा जाना बाकी है। जैसे कि पहले बताया जा चुका है, कंपनी यह राश्िा किसी भी समय जब आवश्यकता हो, भविष्य के कोषों ;निध्ियोंद्ध के लिए एकत्रिात कर सकती है। ऽ आरक्ष्िात पूँजी: एक कंपनी द्वारा अयाचित पूँजी का एक भाग जो केवल कंपनी के संमापन की दशा के लिए आरक्ष्िात किया जाता है। इस प्रकार की अयाचित राश्िा कंपनी को ‘आरक्ष्िात पूँजी’ कहलाती है यह कंपनी के समापन पर केवल लेनदारों के लिए उपलब्ध होती है। चित्रा 1.1 अंश पूँजी की श्रेण्िायाँ निम्न उदाहरण लेते हैं जो यह दशार्ता है कि अंश पूँजी को तुलन पत्रा में किस प्रकार दशार्या जाता है। सनराइर्स कंपनी लिमिटेड 40ए00ए000 की पूजी से पंजीकृत है जोकि 10 रु. प्रत्येक के 4ए00ए000 अंशों में विभाजित है। कंपनी 10 रु. प्रत्येक के 2ए00ए000 अंशों को जनता के अभ्िादान के लिए आमंत्रिात करती है जिस पर 2 रु. आवेदन पर 3 रु. आबंटन पर, 3 रु. प्रथम माँग पर तथा शेष अंतिम माँग पर देय है। कंपनी ने 2ए50ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त किए। कंपनी ने अंतिम निणर्य लेते हुए 2ए00ए000 अंशों का आबंटन किया 50ए000 अंशों के आवेदन को अस्वीकृत कर दिया। कंपनी ने अंतिम माँग की माँग नहीं की। 2ए000 अंशों पर माँग राश्िा के अतिरिक्त कंपनी से सभी राश्िा प्राप्त कर ली। उपरोक्त राश्िा को कंपनी के अंश जो कि कंपनी की पूँजी के लिए आवेदित किये जाते हैं, उस इकाइर् से संबंध रखते हैं, जिसमें कंपनी की वुफल पूँजी बंटी होती है। इसलिए एक अंश, कंपनी की अंश पूँजी का वह भाग है जो कि 8 कंपनी के स्वामित्व में रूचि रखने के आधार तैयार करता है। व्यक्ित, जो कि अंशों के द्वारा राश्िा का योगदान देते हैं कंपनी के अंशधारी कहलाते हैं।तुलन पत्रा से निम्न प्रकार दशार्या जायेगाः सनराइर्स कंपनी लिमिटेड का तुलन पत्रा अंश पूँजीअध्िक अथवा पंजीकृत अथवा नाममात्रा पूँजी ;रु.द्ध 4ए00ए000 अंश 10 रु 40ए00ए000 निगर्मित पूँजी 2ए00ए000 अंश 10 प्रत्येक 20ए00ए000 अमिदत्त पूँजी 2ए00ए000 अंश 10 रु. प्रत्येक 20ए00ए000 याचित ;माँगीद्ध गइर् पूँजी 2ए00ए000 अंश 10 रु. प्रत्येक, 8 प्रति अंश 16ए00ए000 प्रदत्त पूँजी 2ए00ए000 अंश 10 रु. प्रत्येक 8 रु. प्रति अंश घटाया: बकाया मांग ;2ए000 अंशों पर प्रति अंश की दर सेद्ध 16ए00ए000 6ए000 15ए94ए000 1ण्4 अंशों की श्रेणी एवं प्रकृति अिाकृत पूँजी की राश्िा, अंशों की संख्या के साथ जिसमें की वह विभाजित है, सीमा पाषर्द नियम दशार्ए जाते हैं, लेकिन अंशों की श्रेण्िायाँ जिसमें कि कंपनी की पूँजी विभाजित है, उसके अिाकार एवं कतर्व्यां के साथ, कंपनी के अंतिनर्यमों में निधर्रित होते है। कंपनी अध्िनियम की धारा 86 के अनुसार एक कंपनी दो प्रकार के अंशों का निगर्मन कर सकती हैः ;1द्ध पूवार्िाकारी/अिामान अंश ;2द्ध समता अंश ;सामान्य अंश भी कहलाते हैंद्ध 1ण्4ण्1 अिामान अंश कंपनी अिानियम 1956 की धारा 85 के अन्तर्गत, एक अिामान अंश वह होता है, जो कि दी गइर् शतो± की पूतिर् करता है। ;अद्ध अिामान अंशधारियों को या तो एक निश्िचत राश्िा पर पूवार्िाकार सहित देय लाभांश और या अंशों की वास्तविक मूल्य पर गणना की गइर्। निश्िचत राश्िा जो कि समता अंशधारियों को भुगतान की गइर् लाभांश से पहले देने का अिाकार रखते हैं। ;बद्ध पूँजी के संबंध में यह कंपनी के समापन पर इस अंश की पूँजी वापिस करने का अिाकार समता अंश से पूवर् होना चाहिए। यद्यपि उपरोक्त दो शतो± में, अिामान अंशधारी कंपनी के आध्िक्यों में पूणर् रूप से या किसी सीमा तक भाग लेने का अिाकार रखते हैं जो कि कंपनी के सीमा अंतिनर्यमों में पहले से वण्िार्त होता है। अतः अिामान अंश भागी और गैर - भागी हो सकते हैं। इसी प्रकार यह अंश संचयी और असंचयी भी हो सकते हैं और शोध्य तथा अशोध्य भी हो सकते हैं। 1ण्4ण्2 समता अंश कंपनी अिानियम की 1956 की धरा 85 के अनुसार एक समता अंश, वह अंश है जो अिामान अंश नहीं है। दूसरे शब्दों में वह अंश जो कि लाभांश के भुगतान या पूँजी के पुनः भुगतान के संबंध में कोइर् अिाकार नहीं रखता समता अंश कहलाता है। समता अंशधारी, कंपनी के लाभों में से उनका भाग, अिामान अंशधारकों को लाभांश के अिाकार के पश्चात् लेने के अिाकारी होते हैं। समता अंशों पर लाभांश निश्िचत नहीं है, यह वषर् प्रतिवषर् बदलता रहता है, जो कि उलपब्ध लाभ में से वितरण की राश्िा पर निभर्र करता है। समता अंश पूँजी हो सकती हैः ;1द्ध मतािाकार सहितऋ ;2द्ध मताध्िकार हेतु अंतरीय अध्िकार, लाभंश अथवा निधार्रित की गइर् परिस्िथतियों के अनुसार नियमों पर। स्वयं जांचिये - 1 बताइये कि निम्न में से कौन सा कथन सत्य हैः ;अद्ध एक कंपनी का निमार्ण, भारतीय कंपनी अिानियम 1932 के प्रावधानों के अनुसार होता है। ;बद्ध कंपनी एक कृत्रिाम व्यक्ित है।;सद्ध एक कंपनी के अंशधारी, कंपनी के लिए कायर् करने के लिए उत्तरदायी हैं। ;दद्ध कंपनी का प्रत्येक सदस्य, प्रबंध में भाग लेंने का अिाकारी है। ;चद्ध सामान्यतः कंपनी के अंश हस्तांतरणीय होते हैं ;छद्ध अंश आवेदन खाता एक व्यक्ितगत खाता है। ;नद्ध कंपनी के संचालक को अंशधारी होना आवश्यक है। ;मद्ध आवेदन राश्िा, अंकित मूल्य के 25ः से कम नहीं होनी चाहिये। ;दद्ध याचित पूँजी, प्रपत्रा पूँजी से अिाक हो सकती है। ;पफद्ध पूँजी आरक्ष्िात का निमार्ण, पूँजी लाभों में से किया जाता है।;हद्ध प्रतिभूति अिालाभ खाते को तुलन पत्रा में परिसंपिा पक्ष के दशार्या जाता है। ;लद्ध अंशों का प्रीमियम पर निगर्म पूंजी हानि है। ;वद्ध अंशों के निगर्मन के समय, प्रतिभूति प्रीमियम की अिाकतम राश्िा 10ः होगी। ;जद्ध पूँजी का वह भाग जो कि समापन के समय मांगा गया है, आरक्ष्िात पूँजी कहलाता है। ;झद्ध हरण किये गए अंशों का हानि पर निगर्मन नहीं किया जा सकता। ;डद्ध मूल रूप से बट्टे पर निगर्मित किये गए अंशों को प्रीमियम पर पुनः निगर्मित किया जा सकता है। 1ण्5 अंशों का निगर्मन कंपनी की पूँजी की विशेष्ता यह है कि अंशों की राश्िा को आसान किस्तों पर एकत्रिात किया जा सकताहै जो कि समय के व्यतीत होने के साथ - साथ वित्तीय आवश्यकताओं पर एकत्रिात किया जाता है जिसे आवेदन राश्िा कहते है, तदपश्चात् श्रेणी को आबंटन ;आबंटन राश्िाद्ध कहते हैं और शेष किस्त जो कि प्रथम माँग और इसी प्रकार द्वितीय माँग कहलाती है। अंतिम किस्त के आगे अंतिम माँग का प्रयोग होगा यद्यपि, यह अंशों के आवेदन के समय कंपनी द्वारा पूणर् राश्िा की माँग के अिाकार को रोकने का कोइर् विकल्प नहीं है।अंश निगर्मन की प्रिया के अंतर्गत महत्त्वपूणर् चरण निम्न है। ऽ विवरण - पत्रिाका का निगर्मन: कंपनी सवर्प्रथम जनता में प्रविवरण पत्रा जारी करती है। विवरण - पत्रिाका जनता को एक आमंत्राण होता है कि एक नइर् कंपनी अस्ितत्व में आ चुकी है और इसको व्यवसाय करने के लिए कोषों की आवश्यकता है। यह कंपनी के संबंध में पूणर् जानकारियां रखता है और किस प्रकार से निवेशकतार्ओं से प्राप्त राश्िा का प्रयोग किया जा रहा है। ऽ आवेदन पत्रों की प्राप्ित: जब जनता के विवरण - पत्रिाका को निगर्मित कर दिया जाता है तो भावी निवेशकतार् अंशपूँजी में अभ्िादान के लिए अपेक्षा करते हैं तथा आवेदन के साथ - साथ आवेदन राश्िा को प्रविवरण - पत्रा जारी करने के 120 दिन के भीतर न्यूनतम अभ्िादान ;बाॅक्स 1 में वण्िार्तद्ध प्राप्त करना होगा। यदि कंपनी दी गइर् समयाविा में उपरोक्त राश्िा प्राप्त करने में विपफल/असमथर् रहती है, तो कंपनी को आबंटन की प्रिया को वापिस करना होगा। ऽ अंशों का आबंटन: यदि न्यूनतम अभ्िादान प्राप्त हो चुका है तो एक कंपनी अब कानूनी औपचारिकताओं को पूरा करने के पश्चात् अंशों को आबंटित करने की प्रिया को पूरा कर सकती है। जिन व्यक्ितयों को अंश आबंटित किए जाने हैं उन्हें आबंटन पत्रा भेजा जाता है तथा जिन्हें कोइर् अंश आबंटित नहीं किया जाना उन्हें खेदपत्रा भेजा जाता है। जब आबंटन बनाया जाता है तो कंपनी तथा आवेदनकतार् जो कि कंपनी के अंशधारी है के बीच एक वैध अनुबन्ध का रूप धारण कर लेता है। बॅाक्स 1 न्यूनतम अभ्िादान इससे आशय है, वह न्यूनतम राश्िा जो कि निवेशकों की राय में व्यापारिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आवश्यक हैं, जो कि संबंिात हैंः ऽ किसी भी परिसंपति का क्रय मूल्य, या जो क्रय की जानी है जो कि पूणर् या आंश्िाक रूप से अंशों की प्रिया के दौरान प्राप्त हुइर् है। ऽ कंपनी के द्वारा प्रारंभ्िाक व्ययों को देय होना या अंशों के निगर्मन के संबंध में किसी प्रकार का कमीशन देय। ऽ उपरोक्त दो परिस्िथतियों में कंपनी द्वारा किसी प्रकार की उधार ली गइर् राश्िा का भुगतान। ऽ कायर्शील पूँजीऋ तथा ऽ व्यावसायिक ियाकलापों को पूरा करने के लिए कोइर् अन्य खचर्। यह समरणीय है कि सेबी दिशानिदर्ेश, 2000 ख्6ण्3ण्8ण्1 और 6ण्3ण्8ण्2, के अनुसार न्यूनतम अभ्िादान जारी की गइर् राश्िा का 90ः से कम नहीं होना चाहिये। यदि यह शतर् पूणर् नहीं होती, कपनी आवेदन पर प्राप्त समस्त राश्िा को लौटाने के लिए बाहय होती हैं। अभ्िादत के बन्द होने की तिथ्िा के 8 दिनों के विलम्ब की स्िथति में कंपनी उस राश्िा पर 15ः ब्याज देने के लिए बाध्य होगी ख्73;2द्ध, अंशों को सममूल्य या अिालाभ या बट्टे पर निगर्मित किया जा सकता है। अंशों का सममूल्य पर निगर्मन कहलाता है यदि उनकी निगर्मित राश्िा, दिए गए नियम व शतो± के अनुसार अवास्तविक मूल्य के बराबर हो जब कंपनी द्वारा निगर्मित अंशों का मूल्य वास्तविक राश्िा ;अंकित मूल्यद्ध से अिाक हो तो यह अिामूल्य पर निगर्मन और यदि अंशों का निगर्मन उनकी अंकित मूल्य से कम हो तो यह अंशों का बट्टे पर निगर्मन कहलाता है। इस तथ्य के अनुसार यदि अंशों को सममूल्य, अिालाभ और बट्टे पर निगर्मित किया जाता है तोकंपनी की अंश पूँजी जैसी कि पहले वण्िार्त है, को किस्तों के अंतगर्त प्राप्त किया जाता है जो कि भ्िाÂ - भ्िाÂ स्िथतियों में प्राप्त किया जाता है। 1ण्6 लेखांकन व्यवहार आवेदन पर: विभ्िान्न किस्तों के साथ भुगतान की गइर् राश्िा अंश पूँजी में अभ्िादान को दशार्ती है जो कि अंततः अंश पूँजी खाते में जमा की जायेगी हालांकि सुविधा के लिए प्रत्येक किश्त के लिये अलग खाता खोला जाता है आवेदन के साथ प्राप्त राश्िा को इस उदेश्य के लिए अनिूसूचित बैंक में एक अलग खाता खोलकर जमा की जायेगी। रोजनामचा प्रविष्िट निम्न प्रकार होगीः - बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से ;μ अंशों पर ऋऋऋऋऋऋऋऋ प्रति अंश आवेदन पर प्राप्त राश्िाद्ध आबंटन पर: जब न्यूनतम अभ्िादान प्राप्त होगा तब वुफछ कानूनी औपचारिकताओं को पूणर् करने के साथ, कंपनी के निदर्ेशक अंशों का आबंटन करेंगे। अंशों का आबंटन, कंपनी और आवेदकों के बीच अनुबंध, जो कि अंशों के आबंटी हैं और अंश धारकों या सदयों की स्िथति को दशार्ता है। बाॅक्स 2 अंशों का आबंटन ;लेखांकन की दृष्िट से लागेद्ध ऽ यह प्रथा है कि वुफछ राश्िा जो कि आबंटन राश्िा कहलाती है अंशों के आंबटियों से आबंटन करने के साथ ही माँग ली जाती है। ऽ आवेदकों से आमंत्राण की स्वीकृति मिलने पर यह राश्िा जो कि आवेदन पर प्राप्त हुइर् है, को उस पूँजी खाते में हस्तांतरण किया जाएगा, क्योंकि अिाकारिक रूप से यह इस राश्िा का भाग होती है। ऽ रदद् किए गए आवेदन पत्रा प्राप्त राश्िा को या तो पूरी तरह आवेदकों को विवरण - पत्रा जारी करने की तिथ्िा से 130 दिनों के भीतर लौटा दिया जाएगा या इस स्िथति में यदि आवेदन से अिाक अंशों पर आवेदन पत्रा प्राप्त किए गए हैं और कम अंशों का आबंटन किया गया है तो आवेदन से अिाक राश्िा को आबंटियों पर आबंटन के देय होने पर समायोजित की जाएगी। ऽ अंश पूँजी के संबंध में बाद वाली 2 चरण अंश आवेदन खाते को बंद करेंगे जो कि एक अस्थायी खाता है। अंशों के आबंटन के संबंध में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ निम्न प्रकार होंगीः 1ण् अवेदन पर प्राप्त राश्िा का हस्तांतरण अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;μ अंशों पर आवेदन राश्िा का अंश पूँजी से हस्तांतरणद्ध 2ण् अस्वीकृत आवेदनों की राश्िी को वापस करने पर अंश आवेदन खाता नाम बैंक खाते से;μअंशों पर अस्वीकृत आवेदनों पर राश्िा की वापसी परद्ध 3ण् आबंटन पर देय राश्िा के लिए अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 4ण् अिाक आवेदन राश्िा के समायोजन के लिए अंश आवेदन पर खाता नाम अंश आबंटन खाते से ;μअेशों पर आवेदन राश्िा को आबंटन देय राश्िा में समायोजनद्ध 5ण् आबंटन राश्िा के प्राप्त होने पर: बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से ;μअंशों पर - प्रति अंश की दर से प्राप्त आबंटन राश्िाद्ध कभी - कभी कंपनी की पुस्तकों में अंश आवेदन और अंश आबंटन खाता संयुक्त रूप से खोला जाता है जो अंश आवेदन और आबंटन खाता कहलाता है। संयुक्त खाता इस कारण पर आधारित है कि आबंटन बिना आवेदन के असंभव है जबकि आवेदन बिना आबंटन के अथर्विहिन है। अंश पूँजी की इस दो परिस्िथतियों में घनिष्ट अंतर्संबंध है जब खाता संयुक्त रखा जाता है तब रोजनामचा प्रविष्िटयों को निम्न प्रकार प्रलेखन किया जायेगाः 1ण् आवेदन और आबंटन राश्िा प्राप्त हाने पर बैंक खाता नाम अंश आवेदन और आबंटन खाते से ;μअंशों पर ऋऋऋऋऋऋ की दर से प्राप्त आवेदन और आबंटन राश्िाद्ध 2ण् आवेदन और आबंटन राश्िा के हस्तांतरण पर अंश आवेदन और आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;अंश आवेदन और आबंटन राश्िा का अंश पूँजी खाते में हस्तातरणद्ध 3ण् अस्वीकृत आवेदनों की राश्िा की वापसी पर: अंश आवेदन और आबंटन खाता नाम बैंक खाते से ;μ अंशों के असपफल आवेदकों की आवेदन राश्िा की वापसीद्ध 4ण् शेष आबंटन राश्िा की प्राप्ित पर बैंक खाता नाम अंश आवेदन और आबंटन खाते से ;शेष आबंटन राश्िा की प्राप्ित परद्ध माँग पर: अंशों को पूणर् भुगतान प्राप्त करने में और अंशधारकों से अंशों की पूणर् राश्िा वसूल करने में माँग एक आवश्यक भूमिका निभाती है। आबंटन की पूणर्अवध्ि तक, अंशों के पूणर् रूप से भुगतान ना मांगे जाने की स्िथति में, निदेशक अंशों पर शेष राश्िा को किसी भी समय आवश्यकतानुसार मांगे जाने का निणर्य लेने का अिाकार रखते हैं। यह भी संभव है कि अंशधारियों द्वारा माँग भुगतान का समय अंशों के निगर्मन के समय दिया गया हो या विवरण - पत्रा में इसका उल्लेख किया गया हो। अंशों पर माँग के संबंध में दो महत्वपूणर् बिन्दु है प्रथम कोइर् भी माँग राश्िा अंशों के अंकित मूल्य से 25ः से अिाक नहीं होगी। द्वितीय दो माँग के मध्य में कम से कम एक माह का अंतराल होना चाहिए या जैसा की कंपनी के सीमा अंतनिर्यम में प्रावाधान किया गया हो। जब माँग को किया जाता है और इस पर राश्िा प्राप्त की जाती है। तब रोजनामचा प्रावष्िट निम्न प्रकार होगीः 1ण् माँग राश्िा देय होने पर अंश माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;μ अंशों पर ऋऋऋऋऋऋ रु. की दर से माँग राश्िा देयद्ध 2ण् माँग राश्िा प्राप्त हाने पर बैंक खाता नाम अंश माँग खाते से ;माँग राश्िा प्राप्तद्ध प्रथम, द्वितीय अथवा तृतीय शब्दों का प्रयोग अंश माँग खाता में अंश और माँग खाता में अंश, और माँग के मध्य किया जाना आवश्यक है ताकि माँग की श्रेणी की पहचान की जा सके। उदाहरण के लिए प्रथम माँग की स्िथति में अंश प्रथम माँग खाता, द्वितीय माँग की दशा में अंश द्वितीय माँग खाता कहलायगा। यहा ध्यान योग्य है कि शब्द और अंतिम को भी जोड़ा जाता है यदि यह अंतिम माँग है जैसे यदि द्वितीय माँग अंतिम माँग है तो यह द्वितीय और अंतिम माँग कहलाएगी और यदि तृतीय माँग अंतिम माँग है तो इसे तृतीय व अंतिम माँग कहेंगे। यह भी संभव है कि कंपनी आबंटन के बाद संपूणर् शेष राश्िा एक ही माँग में एकत्रिात करे। ऐसी स्िथति में प्रथम माँग ही प्रथम और अंतिम माँग कहलाएगी। बाॅक्स 3 जनता में अभ्िादान के लिए जब अंशों को निगर्मित किया जाता है तो निम्न बातों को ध्यान में रखा जाएगाः 1ण् आवेदन राश्िा, अंशों के अंकित मूल्य का कम से कम 5ः होनी चाहिए। 2ण् माँग को सीमा अंतनिर्यम के प्रावधान के अुनसार ही मांगा जाएगा। 3ण् वहां, जहां पर कोइर् अंतनिर्यम नहीं है तो फ्सारणी - अय् में दिए गए निम्न प्रावधान लागू होंगे। ;अद्ध दो मांगों के मध्य एक महीने का अंतराल होगा। ;बद्ध मांगी गइर् राश्िा अंशों के अंकित मूल्य का 25ः से ज्यादा नहीं होगा। ;सद्ध अंशधारियों को राश्िा के भुगतान के लिए कम से कम 14 दिनों का नोटिस दिया जाना चाहिए और ;दद्ध समान श्रेणी के सभी अंशों पर माँग को एक समान आधार से मांगा जाएगा। टिप्पणी: समता अंश तथा अिामान अंश दोनों के लिए लेखांकन की प्रिया समान है, दोनों में मध्य अन्तर ;भेदद्ध के लिए प्रत्येक किस्त से पहले ‘समता’ और ‘अिामान’ शब्दों का प्रयोग किया जाएगा। उदाहरण 1 मोना अथर् मूवर लिमिटेड ने 100 रुपये वाले 12ए000 अंश निगर्र्मित किए। इन पर देय राश्िायाँ निम्नानुसार हैंः 30 रुपये आवेदन पर, 40 रुपये आबंटन पर, 20 रुपये प्रथम माँग पर और शेष द्वितीय तथा अंतिम माँग पर। 13ए000 अंशों के लिए आवेदन पत्रा स्वीकार किये गए। निदेशकों ने 1ए000 अंशों के लिए आवेदन को अस्वीकार कर दिया तथा उनकी समस्त राश्िा लौटा दी गइर्। सभी अंशों पर आबंटन राश्िा को स्वीकार किया गया और 100 अंशों को छोड़कर सभी देय राश्िा को प्राप्त किया गया। मोना अथर् मूवर लिमिटेड की पुस्तकों में लेन - देन प्रलेख्िात करें। हल: मोना अथर् मूवर लिमिटेड की पुस्तकें रोज़नामचा तिथ्िा विवरण ब.पृ नाम जमा स राश्िा राश्िा ;रु.द्ध ;रु.द्ध बैंक खाता नाम 3ए90ए000 अंश आवेदन खाते से 3ए90ए000 ;13ए000 अंशों पर 30 रु. प्रति अंश आवेदन राश्िा प्राप्त की गइर्द्ध 3ए60ए000 अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 3ए60ए000 ;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी में हस्तांतरित करने परद्ध 4ए80ए000 अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 4ए80ए000 ;12ए000 अंशों पर 40 रुपये प्रति अंश आबंटन पर देय राश्िाद्ध 30ए000 अंश आवेदन खाता नाम बैंक खाते से 30ए000 ;1ए000 अंशों पर आवेदन राश्िा रदद् करने परद्ध 4ए80ए000 बेंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से 4ए80ए000 ;12ए000 अंशों पर 40 रुपये प्रत्येक आबंटन राश्िा प्राप्त करने परद्ध अंश प्रथम माँग खाता अंश पूँजी खाते से ;प्रथम माँग पर 12ए000 अंशों पर 20 रुपये प्रति अंश देय राश्िाद्ध नाम 2ए40ए000 2ए38ए000 2ए40ए000 बैंक खाता नाम अंश प्रथम माँग खाते से ;100 अंशों को छोड़कर सभी अंशों पर प्रथम माँग राश्िा प्राप्त करने परद्ध 1ए20ए000 2ए38ए000 अंश द्वितीय एवं अंतिम खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;12ए000 अंशों पर 10 रु. प्रति अंश द्वितीय एवं अंतिम माँग राश्िा देयद्ध 1ए19ए000 1ए20ए000 बैंक खाता नाम अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से ;100 अंशों के सिवाय द्वितीय और अंतिम माँग राश्िा प्राप्त हाने परद्ध 1ए19ए000 उदाहरण 2 इर्स्टनर् कंपनी लिमिटेड ने 10 रुपये प्रत्येक की राश्िा के 40ए000 अंश जनता के अंश पूँजी के लिए निगमिर्त किये। इन पर देय राश्िायाँ निम्नानुसार हैं। आवेदन पर 4 रुपये, आबंटन पर 3 रुपये और शेष प्रथम तथा अंतिम माँग पर। 40ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त किये गए। कंपनी ने आवेदकों को समस्त आबंटन कर दिया। आबंटन तथा प्रथम और अंतिम माँग पर देय राश्िा को प्राप्त कर लिया गया। हल: इर्स्टनर् कंपनी लिमिटेड की पुस्तकें रोज़नामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रुपयेद्ध जमा राश्िा ;रुपयेद्ध बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से ;40ए000 अंशों पर 4 रु. प्रति अंश आवेदन राश्िा प्राप्त करने परद्ध 1ए60ए000 1ए60ए000 अंश आवेदन खाता अंश पूँजी खाते से ;आवेदन राश्िा को अंश खाते में हस्तांतरित करने परद्ध नाम 1ए60ए000 1ए20ए000 1ए60ए000 अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;40ए000 अंशों पर 3 रुपये प्रति अंश आबंटन पर देय राश्िाद्ध 1ए20ए000 1ए20ए000 बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से ;40ए000 अंशांे पर 3 रुपये प्रति अंश आबंटन की राश्िा प्राप्त हाने पर परद्ध 1ए20ए000 1ए20ए000 अंश प्रथम एवं अंतिम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;40ए000 अंशों पर 3 रुपये प्रत्येक अंश प्रथम एंव अंतिम माँग पर देय राश्िाद्ध 1ए20ए000 1ए20ए000 बैंक खाता नाम अंश प्रथम एवं अंतिम खाते से ;प्रथम और अंतिम माँग पर मांगी गइर् राश्िा की प्राप्ित परद्ध 1ए20ए000 स्वयं करें जनवरी 1ए 2006 को एक लिमिटेड कंपनी को 40ए000 रुपये की अिाकृत पूँजी वाले 10 रुपये प्रत्येक अंश के साथ निगमित ;सम्िमलितद्ध किया गया। कंपनी ने जनता में अभ्िादान के लिए 3ए000 अंशों को निगर्मित किया, जिन पर देय राश्िायां हैंः आवेदन पर 3 रुपये प्रति अंश अंश आबंटन पर 2 रुपये प्रति अंश प्रथम माँग पर ;आबंटन के 1 महीने पश्चात्द्ध 2ण्50 रुपये प्रति अंश द्वितीय और अंतिम माँग पर 2ण्50 रुपये प्रति अंश जनता द्वारा समस्त अंशों का अभ्िादान किया गया तथा आवेदन राश्िा को 15 जनवरी, 2006 को प्राप्त किया गया। संचालकों ने पफरवरी 1ए 2006 को आबंटन किया। आप अंश पूजी के लेन - देन को एक कंपनी की पुस्तकों में किस प्रकार प्रलेख्िात करेंगे यदि समस्त देय राश्िा को प्राप्त कर लिया गया है और कंपनी संयुक्त आवेदन तथा आबंटन के खाते बनाती है। 1ण्6ण्1 बकाया माँग समान्यतः यह पाया गया है कि मांगी गइर् पूँजी का भाग अंशधारियों द्वारा देय तिथ्िा तक चुकाया नहीं जाता। जब कोइर् अंशधारी मांगी गइर् आबंटन की राश्िा या माँग राश्िा का भाग देय तिथ्िा तक नहीं चुका पाता तो इस राश्िा को ध्द्यपि, बकाया माँग कहते हैं। माँग राश्िा, सभी माँग खातों का नाम शेष दशार्ती है तथा इसको चुकता पूँजी में से घटाकर तुलन पत्रा के दायत्िव पक्ष में दशार्या जाता है। जहां एक कंपनी ‘बकाया माँग खाता’ तैयार करती है तो ऐसी स्िथति में अतिरिक्त राजनामचा प्रविष्टी की जाएगी। यद्यपि ऐसा करना आवश्यक नहीं है। बकाया माँग खाता नाम अंश प्रथम माँग खाते से अंश द्वितीय एवं अंतिम माँग खाते से ;बकाया माँग राश्िा को लेखों में ले जाते हुएद्ध कंपनी की सीमा अंतनिर्यम सामान्यतः कंपनी के संचालकों को बकाया माँग राश्िा पर ब्याज की राश्िा के निदिर्ष्ट दर से परिवतर्न करने का अिाकार देते हैं, इस प्रकार की स्िथति में यदि अन्तर्नियम इसका खुलासा नहीं करते तो ‘सारणी - अ’ में दिए गए नियम के अनुसार ब्याज लगाया जाएगा जो कि यह दशार्ता है कि ब्याज दर 5ः से अध्िक नहीं हो सकती है। माँग राश्िा के ब्याज सरिह प्राप्ित पर, ब्याज की राश्िा को ब्याज खाते में जबकि माँग राश्िा को क्रमशः माँग खाते अथवा बकाया माँग खाते में जमा किया जाएगा। जब अंशधारी बकाया माँग राश्िा को ब्याज सहित भुगतान करता है तो इस संबंध में प्रविष्िट निम्न प्रकार से होगी। बैंक खाता नाम बकाया माँग खाते से ब्याज खाते से यदि वुफछ भी वण्िार्त नहीं है, तो यहां माँग पर ब्याज की राश्िा को लेखे में ले जाने तथा उपरोक्त प्रविष्िट करने की आवश्यकता नहीं है। उदाहरण 3 क्रोनिक लिमिटेड ने 10ए000 समता अंश जो कि 10 रुपये प्रत्येक है, निगर्मित किए। इन पर देय राश्िायाँ हैंः आवेदन पर 2ण्50 रुपयेऋ आबंटन पर 3 रुपयेऋ प्रथम माँग पर 2 रुपये तथा शेष अंतिम माँग पर। सभी अंशों पर पूणर् रूप से अभ्िादान स्वीकार किया गया सिवाय एक अंशधारी के जिसने 100 अंशों के लिए आवेदन किया लेकिन अंतिम माँग राश्िा का भुगतान नहीं किया। इस लेन - देन के संदभर् में रोजनामचा प्रविष्िट करें। 16 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण हल क्रोनिक लिमिटेड रोज़नामचा तिथ्िा विवरण ब.पृस. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से ;10ए000 अंशों पर 2ण्50 रु. प्रति अंश आवेदन राश्िा स्वीकार की गइर्द्ध 25ए000 25ए000 30ए000 25ए000 25ए000 समता अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी में हस्तांतरित करने परद्ध समता अंश आबंटन खात नाम अंश पूँजी खाते से ;10ए000 अंशों पर 3 रुपये प्रति अंश आबंटन राश्िा देय होने परद्ध 30ए000 20ए000 30ए000 30ए000 बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से ;आबंटन राश्िा की प्राप्ित परद्ध अंश प्रथम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;10ए000 अंशों पर 2 रुपये प्रति अंश प्रथम माँग राश्िा देयद्ध 20ए000 20ए000 बैंक खाता नाम अंश प्रथम माँग खाते से ;प्रथम माँग राश्िा की पाप्ित होने परद्ध 20ए000 अंश द्वितीय एवं अंतिम माँग खाता नाम 25ए000 अंश पूँजी खाते से ;अंतिम माँग राश्िा देयद्ध 24ए750 25ए000 बैंक खाता नाम बकाया माँग खाते से नाम 250 अंश द्वितीय एवं अंतिम माँग खाते से ;100 अंशों के सिवाय अंतिम माँग राश्िा की प्राप्ित होने परद्ध 25ए000 1ण्6ण्2 अगि्रम माँग खाता कभी - कभी वुफछ अंशधारी कंपनी के अंशों पर प्राप्त राश्िा का वुफछ भुगतान या समस्त भुगतान, माँग से पूवर् ही कर देते हैं। अंशधारियों से प्राप्त इस राश्िा को अगि्रम माँग राश्िा कहते हैं। अगि्रम माँग राश्िा एक कंपनी के लिए देयधन है और इसे अगि्रम माँग खाते में जमा किया जाता है। प्राप्त राश्िा को माँग राश्िा के देय होने की तिथ्िा के साथ ही समायोजित किया जाता है। कंपनी अिानियम की ‘सारणी संबंध् अ’ में अगि्रम माँग के संबंध में ब्याज की राश्िा पर 6ः की दर से ज्यादा का प्रावधान नहीं दशार्ती। अगि्रम माँग की प्राप्ित पर रोजनामचा प्रविष्िट की जाएगी: बैंक खाता नाम अगि्रम माँग खाते से ;अगि्रम माँग राश्िा की प्राप्ित परद्ध जब वास्तव में माँग राश्िा देय होती है तो अगि्रम माँग राश्िा के सम्बंध में निम्न रोजनामचा प्रविष्िट की जाएगी। अगि्रम माँग खाता नाम संबंिात माँग खाते से ;अगि्रम माँग राश्िा को माँग राश्िा के देय के साथ समायोजित करने परद्ध अगि्रम माँग खाते का शेष कंपनी के तुलन पत्रा के दायित्व पक्ष में अलग मद के रूप में अंश पूँजी के शीषर्क के अंतर्गत दशार्या जाएगा लेकिन चुकता पूँजी की राश्िा में नहीं जोड़ा जाएगा।जैसे कि अगि्रम माँग एक कंपनी के लिए दायित्व है, यह कंपनी का कत्तर्व्य है, कि इस प्रकार की राश्िा की प्रविष्ट पर, प्राप्ित की तिथ्िा से वास्तविक देय तिथ्िा तक ब्याज का भुगतान करे। एक निदिर्ष्ट दर से राश्िा इस संबंध में कंपनी के अन्तनिर्यमों में देय है। यदि अन्तनिर्यमों में इस संबंध में कोइर् प्रावधान नहीं है तो अगि्रम माँग के संबंध में ‘सारणी अ’ लागू होगी जो कि यह दशार्ती है कि ब्याज की दर 6ः प्रतिवषर् से ज्यादा नहीं होगी। अगि्रम माँग के संबंध में ब्याज की राश्िा का लेखांकन व्यवहार होगाः 1ण् ब्याज की राश्िा की प्राप्ित पर अगि्रम माँग ब्याज खाता नाम बैंक खाते से ;अगि्रम माँग पर प्राप्त ब्याज के भुगतान परद्ध अथवा 2ण् ब्याज देय होने पर अगि्रम माँग पर ब्याज खाता नाम विविध अंशधारियों के खाते से ;अगि्रम माँग पर ब्याजद्ध उदाहरण 4 कोनिका लिमिटेड 2ए00ए000 रुपये की अिाकृत समता पूँजी जो कि 2ए000 अंशों 100 रुपये प्रत्येक में विभाजित है साथ पूँजीकृत है, ने अभ्िादान के लिए 1ए000 अंश निगर्मित किये जिन पर 25 रुपये आवेदन राश्िाऋ 20 रुपये प्रथम माँग पर और शेष आवश्यकतानुसार मांगे जाने पर। 1ए000 अंशों के लिए आवेदन स्वीकार किये गए और आबंटन किया गया। आबंटन की राश्िा पूणर् रूप से स्वीकार की गइर्, लेकिन जब प्रथम माँग राश्िा मांगी गइर् तो एक अंशधारी जिसने 100 शयरों के लिए आवेदन किया था, माँग राश्िा चुकाने में असमथर् था तथा एक अन्य अंशधारी ने 50 अंशों के लिए सम्पूणर् राश्िा का भुगतान कर दिया। कंपनी ने कोइर् अन्य माँग नहीं थी। कंपनी के पुस्तकों में अंश पूँजी के लेन देन से संबंिात आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िटयां करे। हल: कोनिका लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृस. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध बैंक खाता समता अंश आवेदन खाते से ;1ए000 अंशों पर पर 25 रु. प्रति अंश आवेदन राश्िा प्राप्ित परद्ध नाम 25ए000 25ए000 30ए000 30ए000 20ए000 25ए000 25ए000 30ए000 30ए000 20ए000 समता अंश आवेदन खाता अंश पूँजी खाते से ;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी में हस्तांतरित करने परद्ध नाम समता अंश आबंटन खाता समता अंश पूँजी खाते से ;1ए000 अंशों पर 30 रुपये प्रति अंश आबंटन राश्िा देयद्ध नाम बैंक खाता समता अंश आबंटन खाते से ;आबंटन राश्िा की प्राप्ित परद्ध नाम समता अंश प्रथम माँग खाता समता अंश पूँजी खाते से ;1000 अंशों पर 20 रुपये प्रति अंश प्रथम माँग देयद्ध नाम बैंक खाता बकाया माँग खाते से समता अंश प्रथम माँग खाता अगि्रम माँग खाते से ;900 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा की प्राप्ित तथा 50 अंशों पर अगि्रम माँग राश्िा 25 रुपये प्रति अंशद्ध नाम नाम 19ए250 2ए000 20ए000 1ए250 व्यवहार में समस्त प्राप्त राश्िा को रोकड़ बही में प्रलेख्िात किया जाएगा, रोजनामचों में नहीं ;देखें उदाहरण 5द्ध। उदाहरण 5 यूनीक पिक्चसर् लिमिटेड का पंजीकरण 5ए00ए000 रुपये की अिाकृत पूँजी जिसे 20ए000 से किया गया जिसे 5ः अध्िमान अंश 10 रुपये प्रत्येक अंश तथा 30ए000 समता अंश, 10 रुपये प्रत्येक अंश में बांटा गया। कंपनी ने 10ए000 पूवर्िाकारी तथा 15ए000 समता अंशों को अभ्िादान प्राप्ित हेतु जनता में निगर्मन किया। अंशों पर देय राश्िा निम्न प्रकार हैः समता अंश ;राश्िा रुपयेद्ध अध्िमान अंश ;रुपयेद्ध आवेदन 2 2 आबंटन 3 3 प्रथम माँग 2ण्50 2ण्50 द्वितीय और अंतिम माँग 2ण्50 2ण्50 सभी अंशों पर पूणर् रूप से अभ्िादान स्वीकार किया गया। द्वितीय और अंतिम माँग 100 समता अंशों तथा 200 उपरोक्त लेनदेन को रोजनामचा में प्रलेख्िात साथ ही रोकड़ पुस्तक और तुलन पत्रा भी तैयार करें। 20 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण हल: यूनीक पिक्चसर् लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध समता अंश आवेदन खाता नाम 5ः अध्िमान अंश आवेदन खाता नाम समता अंश आवेदन खाते से 5ः अध्िमान अंश पूँजी खाते से ;आवेदन राश्िा के हस्तांतरण परद्ध 30ए000 20ए000 45ए000 30ए000 20ए000 समता अंश आबंटन खाता नाम 5ः अध्िमान अंश आबंटन खाता नाम 30ए000 समता अंश पूँजी खाते से 45ए000 5ः अध्िमान अंश पूँजी खाते से ;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी में हस्तांतरित करने परद्ध 37ए500 30ए000 समता अंश प्रथम माँग खाता नाम 5ः अध्िमान प्रथम माँग खाता नाम 25ए000 समता अंश पूँजी खाते से 37ए000 5ः अध्िमान अंश पूँजी खाता ;प्रथम माँग राश्िा देयद्ध 750 25ए000 बकाया माँग खाता नाम समता अंश द्वितीय एंव अंतिम माँग खाते से 250 5ः अध्िमान अंश हितिय एवं अंतिम माँग खाते से ;बकाया माँग के लिएद्ध 500 रोकड़ पुस्तक ;बैंक संतभद्ध नाम जमा तिथ्िा विवरण ब.पृसं राश्िा ;रु.द्ध तिथ्िा विवरण ब.पृसं. राश्िा ;रु.द्ध समता अंश आवेदन 5ः पूवर्िाकारी अंशआवेदन समता अंश आबंटन 5ः पूवर्िाकारी अंशआबंटन 30ए000 20ए000 45ए000 30ए000 शेष आ/ले 2ए49ए250 सकता अंश प्रथम माँग 5ः अध्िमान अंश प्रथम माँगसमता अंश द्वितीय एंवअंतिम माँग 5ः अध्िमान अंश द्वितीय एंव अंतिम माँग 37ए500 25ए000 37ए250 24ए500 2ए49ए250 2ए49ए250 यूनीक पिक्चसर् लिमिटेड का तुलन पत्रा दायित्व राश्िा ;रु.द्ध परिसंम्पिायां राश्िा ;रु.द्ध अिाकृत पूँजी 30ए000 समता अंश 10 रुपये प्रत्येक 20ए000ए 5ः अध्िमान अंश 10 रुपये प्रत्येक निगर्मित पूँजी 15ए000 समता अंश 10 रुपये प्रत्येक 10ए000ए 5ः अध्िमान अंश 10 रुपये प्रत्येक चुकता पूँजी 15ए000य समता अंश 10 रुपये प्रत्येक 10ए000ए 5ः अध्िमान अंश 10 रुपये प्रत्येक घ टाओ: माँग ;बकायाद्ध समता अंश 250 अध्िमान अंश 500 3ए00ए000 2ए00ए000 1ए50ए000 1ए00ए000 1ए50ए000 1ए00ए000 2ए50ए000 750 5ए00ए000 2ए50ए000 2ए49ए250 बैंक 2ए49ए250 2ए49ए250 2ए49ए250 उदाहरण 6 रोहित एन्ड कंपनी ने 30ए000 अंश 10 रुपये प्रत्येक अंश निगर्मित किये जिस पर 3 रुपये आवेदन परऋ 3 रुपये आबंटन और 2 रुपये प्रथम माँग 2 महीने के पश्चात् देय है। आबंटन राश्िा को छोड़कर सभी देय राश्िाप्राप्त हुइर् लेकिन प्रथम माँग पर एक अंशधारी जिसके पास 400 अंश थे प्रथम माँग राश्िा का भुगतान नहींकिया और एक अन्य अंशधारी जिसके पास 300 अंश थे, ने द्वितीय और अंतिम माँग जो कि 2 रुपये हैअभी मांगी नहीं गइर् का भुगतान कर दिया।कंपनी की पुस्तकों में आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। हल रोहित एन्ड कंपनी की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा;रु.द्ध जमा राश्िा;रु.द्ध बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से;30ए000 अंशों पर पर 3 रु. प्रति आवेदन राश्िाकी प्राप्ित परद्ध 90ए000 90ए000 90ए000 90ए000 90ए000 अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी में हस्तांतरित करने परद्ध अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से;30ए000 अंशों पर 3 रुपये प्रति अंश आबंटन राश्िा देय होने परद्ध 90ए000 60ए000 90ए000 90ए000 बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से;आबंटन राश्िा की प्राप्ित होने परद्ध अंश प्रथम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से;30ए000 अंशों पर 2 रुपये प्रति अंश प्रथम माँगराश्िा देय होने परद्ध 59ए800 60ए000 बैंक खाता नाम बकाया माँग खाता नाम 800 अंश प्रथम माँग खाते से 60ए000 अगि्रम माँग खाते से;300 अंशों पर 2 रुपये प्रत्येक अगि्रम प्राप्ित तथा 400 अंशों पर 2 रुपये प्रत्येक प्रथम माँग राश्िा प्राप्तनहीं होने परद्ध 600 स्वयं करें 1ण् एक कंपनी ने 20ए000 समता अंश 10 रुपये प्रत्येक जो कि 3 रुपये आवेदनऋ 3 रुपये आबंटनऋ 2 रुपये प्रथम माँग और 2 रुपये द्वितीय माँग और अंतिम माँग पर देय है, का निगर्मन किया। आबंटन राश्िा को मइर् 1ए 2005 या उससे पहले भुगतान किया जा सकता है। प्रथम माँग, अगस्त 1ए 2005 या उससे पहले और द्वितीय और अंतिम माँग अक्तूबर 1ए 2005 या उससे पहले भुगतान की जा सकती है। ‘एक्स’ जिसको 1ए000 अंश आबंटित किए गए, ने आबंटन तथा माँग राश्िा का भुगतान नहीं कियाऋ ‘वाइर्’ जिसको 600 अंश आबंटित किए गए थे, ने दोनों माँग राश्िा का भुगतान नहीं किया और ‘जेड’ जिसके पास 400 अंश थे, ने अंतिम माँग का भुगतान नहीं किया। रोजनामचा प्रविष्िटयाँ कीजिए तथा दिसम्बर 31ए 2005 पर कंपनी का तुलन पत्रा तैयार करें। 2ण् अल्पफा कंपनी लिमिटेड ने 10 रुपये प्रत्येक के 10ए000 अंश, निगर्मित किए। इन पर देय राश्िायां इस प्रकार हैं। 3 रुपये आवेदन परऋ 2 रुपये आबंटन पर और शेष दो समान किश्तों पर देय है। आबंटन की राश्िा माचर्, 30ए 2006 या उससे पहलेऋ और अंतिम माँग राश्िा अगस्त 31 या उससे पहले देय है। मिस्टर ‘अ’ जिनको 600 अंशों का आबंटन किया गया थाऋ ने अंशों के अंकित मूल्य का सभी शेष आबंटन के समय ही कर दिया। कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ प्रलेख्िात करें और इस तिथ्िा पर कंपनी का स्िथति विवरण भी तैयार करें। 1ण्6ण्3 अिा - अभ्िादान वुफछ स्िथतियों में जब कंपनी का जनता में निगर्मित अंशों से अिाक अंशों के लिए आवेदन पत्रा आ जातेहैंऋ तो ऐसा अक्सर अंशों के अच्छे प्रबन्ध के निगर्मन द्वारा तथा कंपनी की मजबूत/सुदृड़ वित्तीय स्िथति के कारण होता है, अिा - अभदान कहलाता है। इस प्रकार की स्िथति में संचालकों के पास इसके व्यवहार के लिए तीन विकल्प मौजूद हैः ;1द्ध वुफछ आवेदनों को पूणर् रूप से स्वीकार करके तथा शेष को पूणर् रूप से मना कर दिया जाता हैऋ ;2द्ध सभी आवेदकों के अंशों का आबंटन आनुपातिक या समानुपात के रूप में किया जा सकता हैऋ तथा ;3द्ध उपरोक्त दोनों वििायों को संयुक्त रूप से लागू कर सकते हैं, जो कि व्यवहार में सबसे सामान्य वििा है। अध्ि - अभ्िादान की समस्यों का अन्ततः समाधन अंशों के आबंटन द्वारा किया जाता है। अतः लेखांकन के दृष्िटकोण से अध्ि - अभ्िादान की स्िथति को आवेदन और आबंटन के संपूणर् ढांचे के अन्दर रखा जाता है। अथार्त आवेदन राश्िा की प्राप्ित आबंटन पर देय राश्िा और अंशधरकों से प्राप्ित तथा यहि प्रविष्िटयों के प्रतिरूप से प्रतिबिंबित है। प्रथम विकल्प: जब संचालक वुफछ आवेदन को पूणर् रूप से स्वीकार करते हैं तथा अन्य को पूणर् रूप से रदद् कर देते हैं, तो रदद् आवेदन से प्राप्त राश्िा को पूणर् रूप से लौटा दिया जाता है। उदाहरण के लिए, एक कंपनी ने 20ए000 अंशों को आमन्त्राण किया तथा 25ए000 अंशों के लिए आवेदन स्वीकार किये। संचालकों ने 5ए000 अंशों के लिए किए गए आवेदन को बिल्वुफल रदद् कर दिया जो कि आवश्यक संख्या से अिाक थे और आवेदन राश्िा को पूणर् रूप से वापिस कर दिया गया। इस स्िथति में आवेदन और आबंटन पर रोजनामचा प्रविष्िट की जाएगीः आवेदन और आबंटन पर वैकल्िपक तौर पर रोजनामचा प्रविष्िट निम्न प्रकार से की जाएगीः - 1ण् बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से ;25ए000 अंशों पर आवेदन राश्िा की प्राप्ित परद्ध 2ण् अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से बैंक खाते से ;25ए000 अंशों पर आबंटन राश्िा के हस्तांतरण तथा रदद् किए गए अंशों को अंश पूँजी के हस्तांतरण करने परद्ध 3ण् अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;आबंटन राश्िा के देय होने परद्ध 4ण् बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से ;आबंटन राश्िा के प्राप्त होने परद्ध दूसरा विकल्प: जब संचालक सभी आवेदकों को अनुपातिक आबंटन करते हैं ;प्रो - राटा आबंटन कहलाता हैद्ध आवेदन से प्राप्त अिाक राश्िा की प्राप्ित सामान्यतः देय आबंटन राश्िा के साथ समायोजित कर दी जाती है। ऐसी स्िथति में यद्यपि अंशों पर देय आबंटन राश्िा से अिाक राश्िा की प्राप्ित को या तो वापिस कर दिया जाएगा या अगि्रम माँग में जमा कर दिया जाएगा। उदाहरण के लिए, 20ए000 अंशों के लिए आमन्त्राण किऐ और 25ए000 अंशों के लिए आवेदन आने की स्िथति में यह निणर्य लिया गया कि आवेदकों को अंशों का आबंटन 4 रू 5 के अनुपात में किया जाए। यह प्रो - राटा आबंटन की स्िथति कहलाती है और 5ए000 अंशों पर प्राप्त अिाक राश्िा को 20ए000 अंशों पर देय आबंटन की राश्िा के साथ समायोजित किया जाएगा। इस स्िथति में आवेदन और आबंटन की रोजनामचा प्रविष्िट इस प्रकार होगीः 1ण् बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से ;25ए000 अंशों पर μ रुपये प्रति आवेदन राश्िा की प्राप्ित होने परद्ध 2ण् अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से अंश आवेदन खाता ;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी खाते में हस्तांतरित करने पर तथा अिाक आवेदन राश्िा को अंश आबंटन में जमा करने परद्ध 3ण् अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;25ए000 अंशों पर आबंटन राश्िा के देय होने परद्ध 4ण् बैंक खाता अंश आबंटन खाते से ;पहले से प्राप्त राश्िा को समायोजित करने तथा आबंटन राश्िा की प्राप्ित परद्ध तीसरा विकल्पः जब वुफछ अंशों पर किए गए आवेदन को रदद् किया जाता है और शेष अंशों के लिए अनुपातिक आबंटन किया जाता है, तो रदद् किए गए आवेदनों की पूणर् राश्िा को प्राप्ित होने पर जिन आवेदकों को अनुपातिक आबंटन किया गया है, को आबंटन राश्िा देय होने के साथ समायोजित किया जाएगा। उदाहरण के लिए, एक कंपनी 10ए000 अंशों के आवेदन के लिए आमन्त्राण देती है और 15ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त किए गए। संचालकों ने 2ए500 अंशों के लिए किए गए आवेदनों को रदद् कर दिया और 10ए000 अंशों के लिए अनुपातिक आबंटन लागू किया। जिससे कि शेष 15ए500 अंशों के लिए प्रत्येक पांच अंशों के आवेदन के लिए चार अंशों को लागू किया गया। इस स्िथति में 2ए500 अंशों के लिए आवेदन को रदद् किया गया और प्राप्त राश्िा को पूणर् रूप से लौटा दिया गया, और शेष बचे 2ए500 अंशों ;12ए500 दृ 10ए000द्ध को 10ए000 अंशों के लिए देय आबंटन राश्िा के साथ समायोजिक किया जाएगा और आबंटन की रोजनामचा प्रविष्ित्यां इस प्रकार होंगी। 1ण् बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से;15ए000 अंशों पर प्राप्त μ रुपये प्रति अंश,आवेदन राश्िा की प्राप्ित परद्ध 2ण् अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते सेअंश आबंटन खाते सेबैंक खाते से;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी खाते के हस्तांतरितकरने और आवेदन से अिाक प्राप्त राश्िा को अंशोंके आबंटन के समय अनुपातिक आबंटन पर अंशआबंटन, खाते में जमा करने परद्ध 3ण् अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से;10ए000 अंशों के लिए ऋ रुपये प्रति अंश आबंटन देयद्ध 4ण् बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से;आवेदन द्वारा पहले से प्राप्त राश्िा को, आबंटनराश्िा के साथ समायोजित करने परद्ध उदाहरण 7 जनता पेपसर् लिमिटेड ने 25 रु. प्रत्येक वाले 1ए00ए000 समता अंशों को जारी करने का आमन्त्राण दिया जिन पर देय राश्िा इस प्रकार थीः आवेदन पर 5 रुपये प्रति अंश आबंटन पर 7ण्50 रुपये प्रति अंश प्रथम माँग पर 7ण्50 रुपये प्रति अंश ;आबंटन के दो महीने बाद देयद्ध द्वितीय और अंतिम माँग पर 5 रुपये प्रति अंश ;दो महीने बाद देयद्ध जनवरी 1ए 2006 को 4ए00ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त किये गए और पफरवरी 1ए 2006 को आबंटन किया गया। निम्न परिस्िथतियों के अंश पूजी के लेन - देन के संबंध में रोजनामचा प्रविष्िटयां करें। 1ण् संचालकों ने वुफछ चुने हुए आवेदकों को 1ए00ए000 अंशों का आबंटन करने का निणर्य लिया तथा 3ए00ए000 अंशों को पूणर् रूप से रदद् किया गया। 2ण् संचालकों द्वारा प्रत्येक आवेदनकतार् को आवेदन किए गए अंशों का 25 प्रतिशत अनुपातिक आबंटन किया जाएऋ आवेदन राश्िा के शेष आबंटन के साथ समायोजित किया जाएऋ और तत्पश्चात् बचे हुए आवेदनों की राश्िा को वापिस कर दिया जाए। 3ण् संचालकों द्वारा 2ए00ए000 अंशों के लिए किये गए आवेदनों को बिल्वुफल रदद् कर दिया। 80ए000 अंशों के लिए पूणर् आवेदन के सिवाय 20ए000 अंशों पर अनुपातिक आबंटन किया गया और आवेदन से अिाक प्राप्त राश्िा को आबंटन के साथ समायोजित किया गया तथा माँग को बनाया गया। हल जनता पेपसर् लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृस. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध 2006 जनवरी 1 बैंक खाता नाम समता अंश आवेदन खाते से ;4ए00ए000 अंशों पर पर 5 रु. प्रति आवेदन राश्िा की प्राप्ित परद्ध 2ए00ए000 2ए00ए000 पफरवरी 1 समता अंश आवेदन खाता नाम समता अंश पूँजी खाता बैंक खाते से ;1ए00ए000 अंशों पर प्राप्त आवेदन राश्िा को अंश पूँजी खाते में हस्तांतरण तथा रदद् किये गए आवेदनों की राश्िा को वापिस करने परद्ध 20ए00ए000 7ए50ए000 5ए00ए000 15ए00ए000 पफरवरी 1 समता अंश आबंटन खात नाम समता अंश पूँजी खाते से ;1ए00ए000 अंशों पर 7ण्50 रुपये प्रति अंश आबंटन राश्िा के देय होने परद्ध 7ए50ए000 7ए50ए000 7ए50ए000 7ए50ए000 बैंक खाता नाम समता अंश आबंटन खाते से ;आबंटन राश्िा की प्राप्ित परद्ध अप्रैल 1 समता अंश प्रथम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाता ;1ए00ए000 अंशों पर 7ण्50 प्रति अंश प्रथम माँग के देय होने परद्ध 5ए00ए000 7ए50ए000 जून 1 समता अंश द्वितीय एवं अंतिम माँग खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से ;अंतिम माँग के 1ए00ए000 अंशों पर 5 रुपये प्रति अंश देय होने परद्ध 5ए00ए000 5ए00ए000 5ए00ए000 जून 1 बंेक खाता नाम समता अंश द्वितीय एवं अंतिम माँग खाते से ;अंतिम माँग की प्राप्ित परद्ध दूसरा विकल्प तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध 2006 पफरवरी 1 बैंक खाता नाम समता अंश आवेदन खाते से ;4ए00ए000 अंशों पर 5 रुपये प्रति अंश आवेदन राश्िा की प्राप्ित परद्ध 20ए00ए000 20ए00ए000 पफरवरी 1 समता अंश आवेदन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से समता अंश आबंटन खाते से बैंक खाते से ;अंशों के आबंटन पर आवेदन राश्िा को अंश पूँजी के हस्तांतरित करने तथा आवेदन से अिाक राश्िा कोआबंटन खाते में जमा करने और अस्िवकृत अंशों की राश्िा को लौटाने पर।द्ध 20ए00ए000 7ए50ए000 5ए00ए000 7ए50ए000 7ए50ए000 पफरवरी 1 समता अंश आबंटन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से ;1ए00ए000 अंशों पर 7ण्50 प्रति अंश आबंटन राश्िा के देय होने परद्ध 7ए50ए000 7ए50ए000 पफरवरी 1 बैंक खाता नाम समता अंश आबंटन खाते से ;1ए00ए000 अंशों पर 7ण्50 प्रति अंश आबंटन राश्िा राश्िा की प्राप्ित परद्ध 7ए50ए000 टिप्पणी: दो माँग से सम्बंिात प्रविष्िटयां पिछली वििा के समान ही होगी। तीसरा विकल्प तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रुपयेद्ध जमा राश्िा ;रुपयेद्ध 2006 जनवरी 1 बैंक खाता नाम समता अंश आवेदन खाते से ;4ए00ए000 अंशों पर 5 रुपये प्रति अंश आवेदन राश्िा की प्राप्ित परद्ध 20ए00ए000 20ए00ए000 20ए00ए000 पफरवरी 1 समता अंश आवेदन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से 5ए00ए000 समता अंश आबंटन खाते से 1ए50ए000 अगि्रम माँग खाते से 2ए50ए000 बैंक खाते से ;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी खाते में हस्तांतरित करने तथा आवेदन से अिाक राश्िा को आबंटन खाते में जमा करने तथा रदद् किए गए आवेदनों की राश्िा लौटाने परद्ध 11ए00ए000 पफरवरी 1 पफरवरी 1 अप्रैल 1 समता अंश आबंटन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से ;1ए00ए000 अंशों पर 7ण्50 प्रति अंश आबंटन राश्िा के देय होने परद्ध 7ए50ए000 6ए00ए000 7ए50ए000 7ए50ए000 6ए00ए000 बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से ;आबंटन राश्िा की प्राप्ित परद्ध समता अंश प्रथम माँग खाता नाम अप्रैल 1 समता अंश पूँजी खाते से ;1ए00ए000 अंशों पर 7ण्50 प्रति अंश प्रथम मांग के देय होने परद्ध 6ए00ए000 7ए50ए000 बैंक खाता नाम अगि्रम माँग खाता नाम 1ए50ए000 जून 1 समता अंश प्रथम माँग खाते से ;अगि्रम माँग राश्िा को प्रथम माँग के साथ समायोजित करने और शेष राश्िा को माँग की प्राप्ित हाने परद्ध 5ए00ए000 7ए50ए000 समता अंश द्वितीय और अंतिम खाता नाम जून 1 अंश पूँजी खाते से ;अंतिम माँग के 1ए00ए000 अंशों, 5 रुपये प्रति अंश देय होने परद्ध 4ए00ए000 5ए00ए000 बैंक खाता नाम अगि्रम माँग खाते से नाम 1ए00ए000 समता अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से ;अगि्रम माँग राश्िा को द्वितीय एवं अंतिम माँग में समायोजित करने तथा शेष राश्िा को माँग की प्राप्ित होने परद्ध 5ए00ए000 टिप्पणीः यथानुपात आबंटन के परिणामस्वरूप अिाक आवेदन राश्िा के शेष को, आबंटित अंशों के संबंध में आबंटन राश्िा, और दोनों माँग राश्िायों के साथ रदद् किए आवेदनों को लौटा दी गइर् राश्िा की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उपरोक्त रोजनामचा प्रविष्िट 3 प्रयार्प्त हैं। लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण कायार्त्मक टिप्पणी: ;रु.द्ध ;रु.द्ध अिाक आवेदन राश्िा 15ए00ए000 घटाया हस्तांतरण: अंश आबंटन μ 20ए000 अंश 7ण्50 रुपये प्रत्येक ;1ए50ए000द्ध अंश माँग μ 20ए000 अंश 12ण्50 प्रत्येक ;2ए50ए000द्ध ;4ए00ए0001द्ध लौटाइर् गइर् राश्िा ;रदद् किए गए 11ए00ए000 आवेदन सहितद्ध 1ण्6ण्4 अंशों का न्यून अभ्िादान न्यून अभ्िादान एक ऐसी स्िथति है जब अभ्िादान के लिए आमन्ित्रात किये गए अंशों से कम अंशों पर आवेदन प्राप्त होते हैं। उदाहरण के लिए, एक कंपनी ने जनता में अभ्िादान के लिए 2ए00ए000 अंशों का आमन्त्राण दिया लेकिन केवल 1ए90ए000 अंशों के लिए आवेदन निश्िचत किया जाएगा और सभी प्रविष्िटयां इसके अनुसार की जाएंगी। यद्यपि, जैसे कि पहले बताया गया है, यह निश्िचत कर लेना आवश्यक है कि कंपनी ने कम से कम अभ्िादान ;आमन्ित्रात अंशों का 90 प्रतिशत से कम नहीं, अन्यथा अंश निगर्मन की प्रिया आगे नहीं जारी रहेगी और कंपनी को अभ्िादान पर प्राप्त समस्त राश्िा को वापिस लौटाना होगाद्ध प्राप्त कर लिये हैं। 1ण्6ण्5 अंशों का अिा - मूल्य पर निगर्मन वििाय रूप से सुदृढ़ और अच्छे प्रबंधकीय नियन्त्राण वाली कंपनियों के लिए यह सामान्य है कि वह अपने अंशों का प्रीमियम पर निगर्मन करे, जैसे कि अंशों के समता मूल्य से अिाक मूल्य पर। जब 100 रुपये की राश्िा के अंश को 105 रुपये में निगर्मित किया जाता है, तो यह 5ः प्रीमियम पर निगर्मित कहलाता है। जब अंशों का अिालाभ पर निगर्मन किया जाता है तो तकनीकी रूप से अिालाभ की राश्िा को निगर्मन के किसी भी समय मांगा जा सकता है। यद्यपि, सामान्यतः अिालाभ की राश्िा को आबंटन के समय मांगा जा सकता है लेकिन कभी - कभी माँग पर भी मांगा जा सकता है। अिालाभ राश्िा को एक अलग खाते मेंजो कि फ्प्रतिभूति अिालाभ खाताय् कहलाता है, में जमा किया जाएगा और कंपनी के स्िथति विवरण में दायित्व पक्ष की और फ्आरक्ष्िात और आिाक्यय् शीषर्क के अंतगर्त दशार्या जाएगा। कंपनी अिानियम 1956 की धारा 78 के अनुसार इसका प्रयोग निम्न चार उद्देश्य की पूतिर् के लिए किया जाता है। ;अद्ध पूणर् भुगतान बोनस अंश के निगर्मन पर जो कि इस संदभर् में जारी न की गइर् अंश पूँजी से ज्यादा न होऋ ;बद्ध कंपनी के प्रारंभ्िाक व्ययों को अपलिख्िात करनाऋ ;सद्ध कंपनी के व्ययों को अपलिख्िात करना, या कमीशन का भुगतान, या अंशों पर बट्टा प्रदान याट्टण पत्रों पर किसी प्रकार के बट्टे को अपलिख्िात करनाऋ और ;दद्ध अध्िमान अंशों के मोचन पर अिामूल्य का भुगतान और कंपनी के )णपत्रों के मोचन पर अिामूल्य का भुगतान करना। अिामूल्य पर निगर्मित अंशों के संबंध् में रोजनामचा प्रविष्िटयां इस प्रकार होंगीऋ 1ण् आवेदन राश्िा के साथ अिामूल्य मांगे जाने पर ;अद्ध बैंक खाता नाम अंश पूँजी खाते से प्रतिभूति प्रीमियम खाते से ;आवेदन राश्िा की अंश पूँजी तथा प्रतिभूति प्रीमियम खाते में हस्तांतरित करने परद्ध 2ण् जब अिामूल्य को आबंटन राश्िा के साथ मांगा जाता है ;अद्ध अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से प्रतिभूति प्रीमियम खाते से ;अंशों पर μ रुपये प्रति अंश प्रीमियम सहित आबंटन राश्िा के देय होने परद्ध ;अद्ध बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से ;प्रीमियम सहित आवेदन राश्िा की प्राप्ित होने परद्ध उदाहरण 8 ज्यूपीटर कंपनी लिमिटेड ने 10 रुपये प्रत्येक वाले 35ए000 अंश 2 रुपये अिालाभ पर जारी किए जिन पर देय राश्िायाँ निम्नवत हैंः आवेदन पर 3 रुपये आबंटन पर 5 रुपये ;अिालाभ सहितद्ध शेष प्रथम एवं द्वितीय माँग पर अंशों का पूणर् रूप से अभ्िादान किया तथा समस्त राश्िा को प्राप्त किया गया। कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें।ः 32 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण हल: ज्यूपीटर लिमिटेड कंपनी की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृ नाम जमा स राश्िा राश्िा ;रु.द्ध ;रु.द्ध बैंक खाता नाम 1ए05ए000 समता अंश आवेदन खाते से 1ए05ए000 ;35ए000 अंशों पर पर 3 रु. प्रति अंश आवेदन राश्िा की प्राप्ित परद्ध 1ए05ए000 समता अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 1ए05ए000 ;आबंटन पर आवेदन राश्िा के अंश पूँजी खाते में हस्तांतरित करने परद्ध 1ए75ए000 समता अंश आबंटन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से 1ए05ए000 प्रतिभूति प्रीमियम खाते से 70ए000 ;35ए000 अंशों पर 5 रुपये प्रति अंश अिालाभ सहित आबंटन राश्िा के देय हाने परद्ध 1ए75ए000 बैंक खाता नाम समता अंश आबंटन खाते से 1ए75ए000 ;अिालाभ सहित आबंटन राश्िा की प्राप्ित परद्ध 1ए40ए000 समता अंश प्रथम एवं अंतिम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से 1ए40ए000 ;35ए000 अंशों पर 4 रुपये प्रति अंश प्रथम एवं अंतिम माँग देय होने परद्ध 1ए40ए000 बैंक खाता नाम समता अंश प्रथम एवं अंतिम मांग खाते से 1ए40ए000 ;प्रथम एवं अंतिम माँग राश्िा की प्राप्ित परद्ध 1ण्6ण्6 अंशों का बट्टे पर निगर्मन वुफछ स्िथतियां ऐसी होती हैं जब कंपनी के अंशों को बट्टे पर निगर्मित किया जाता है, जैसा कि अवास्तविक या अंशों के समता मूल्य से कम की राश्िा पर, अवास्तविक कीमत और निगर्मित कीमत के मध्य अन्तर, अंशों पर बट्टे की राश्िा को दशार्ता है। उदाहरण के लिए, जब 100 रुपये की कीमत का कोइर् अंश 98 रुपये में जारी किया जाता है तो यह अंशों का 2 प्रतिशत बट्टे पर निगर्मन कहलाएगा। एक सामान्य नियम के अनुसार, एक कंपनी अपने अंशों को बट्टे पर निगर्मित नहीं कर सकती है। ऐसा केवल हरण किए गए अंशों के पुनः निगर्मन ;जो कि आगामी में आगे बताया जाएगाद्ध और कंपनी अिानियम 1956 की धारा 79 के अंतगर्त, कर सकती है। एक कंपनी निम्न स्िथतियों को पूणर् करते हुए अंशों का बट्टे पर निगर्मन कर सकती हैंः;अद्ध अंशों का बट्टे पर निगर्मन कंपनी की सामान्य सभा में एक विधान द्वारा अिाकृत होने की दशा में और कंपनी कानून बोडर् जो कि अब केन्द्रीय सरकार है द्वारा अनुमोदित होने पर ही किया जा सकता है। ;बद्ध एक संकल्प में बट्टे की अिाकतम दर वण्िार्त होनी चाहिए तथा यह दर अंशों के अंकित मूल्य के 10ः से अिाक नहीं हो सकती है। बट्टे की दर 10ः से अिाक हो सकती है यदि सरकार विशेष परिस्िथतियों में इस प्रतिशत में वृि करने पर सहमत हो। ;सद्ध कंपनी को निगर्म की तिथ्िा पर व्यवसाय प्रारंभ करने की अनुमति प्राप्त हुए कम से कम एक वषर् हो चुका है। ;दद्ध केवल उसी प्रकार के अंश बट्टे पर निगर्मित किए जा सकते हैं, जिनका निगर्मन पहले भी हो चुका है। ;घद्ध सरकार से अनुमति मिलने के दो महीने के भीतर या बढ़ाया हुआ समय जैसे कि सरकार से अनुमति प्राप्त होने के भीतर इनका निगर्मन हो जाना चाहिए।;घद्ध विवरण - पत्रा जारी करने की तिथ्िा को बट्टे की शेष राश्िा का स्पष्ट रूप से उल्लेख करना अनिवायर् है। पुस्तकों में आबंटन का बट्टे पर निगर्मन होगा, तो बट्टे की राश्िा को पुस्तकों में आबंटन के समय, बट्टे पर अंशों का निगर्मन खाता नाम करके ले जाया जाएगा। इस उद्देश्य के लिए रोजनामचा प्रविष्िट निम्न प्रकार से की जाएगीः अंश आबंटन खाता नाम अंशों का बट्टे पर निगर्मन खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;μ अंशों का आबंटन पर राश्िा μ रुपये प्रति अंश देय तथा निगर्मन पर बट्टे की खतौनी परद्ध ‘बट्टे पर अंशों का निगर्मन खाता’ नाम शेष रखता है जो कि कंपनी को हानि दशार्ता है और यह कंपनीकी तुलन पत्रा में परिसंपिा पक्ष की और ‘विविध व्यय’ शीषर्क के अंतगर्त दिखाया जाएगा। इसको प्रतिभूति प्रीमियम खाते में से, यदि कोइर् हो तो प्रभारित करने के कारण अपलिख्िात किया जाएगा, तथा इसकी अनुपस्िथति में ;5 या 10 वषोर्ं तकद्ध इसको लाभ व हानि खाते में प्रभारित किया जाएगा। उदाहरण 9 पफाइर्न आर्ट लिमिटेड ने 10 रु. प्रति अंश के 10ए000 अंशों का 10ः बट्टे पर जनता के लिए निगर्मित किये जिनको 4 रु. आवेदन पत्रा, 3 रु. आबंटन पर, 2 रु. प्रथम और अंतिम माँग पर देय हैं। निगर्मन पर पूणर् अभ्िादान प्राप्त हुआ और सभी राश्िा प्राप्त कर ली गइर्। कंपनी की पुस्तकों में उपयुर्क्त की रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। हल पफाइर्न आटर् लिमिटेड कंपनी की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध बैंक खाता अंश आवेदन खाते से ;10ए000 अंशों पर पर 4 रु. प्रति अंश आवेदन राश्िाद्ध नाम 40ए000 40ए000 30ए000 10ए000 30ए000 20ए000 20ए000 40ए000 40ए000 40ए000 30ए000 20ए000 20ए000 अंश आवेदन खाता अंश पूँजी खाते से ;आवेदन राश्िा का अंश पूँजी में हस्तांतरणद्ध नाम अंश आबंटन खाता अंशों के निगर्मन पर बट्टा खाता अंश पूँजी खाते से ;10ए000 अंशों पर 3 रु. प्रति अंश की दर से आबंटन राश्िा देय तथा 1 रु. प्रति अंश बट्टे की राश्िाद्ध नाम नाम बैंक खाता अंश आबंटन खाते से ;10ए000 अंशों पर आबंटन राश्िा प्राप्तद्ध नाम अंश प्रथम एवं अंतिम माँग खाता अंश पूँजी खाते से ;10ए000 अंशों पर अंतिम माँग 2 रु. प्रति अंश देयद्ध नाम बैंक खाता अंश प्रथम एवं अंतिम माँग खाते से ;10ए000 अंशों पर अंतिम माँग राश्िा प्राप्तद्ध नाम 1ण्6ण्7 रोकड़ के अतिरिक्त प्रतिपफल में अंशों का निगर्मन जहाँ कंपनी उन विक्रेताओं, जिनसे उसने परिसंपिायों क्रय की है, के साथ समझौता करती है कि तो भुगतानके रुप में कंपनी के पूणर् प्रदत्त अंश लेने के लिए सहमत होते हैं। सामान्यतः, इन अंशों के निगर्मन के लिए किसी प्रकार का रोकड़ नहीं लिया जाता। इन अंशों को सममूल्य परऋ अिालाभ पर या बट्टे पर भी निगर्मित मूल्य जिस पर यह निगर्मित किए जाएंगे और विक्रेताओं को दिये राश्िा पर निभर्र करती है। इसलिए विक्रेताओं को निगर्मित अंशों की संख्या की गणना इस प्रकार की जाएगी: देय राश्िा त्रनिगर्मन किये गये अंशों की संख्या निगर्मन मूल्य उदारण के लिए, राहुल लिमिटेड ने होंडा लिमिटेड से 5ए40ए000 रु. में भवन का क्रय किया और इसका भुगतान 100 रु. प्रत्येक के अंशों को निगर्मित करके किया जायेगा। विभ्िान्न स्िथतयों में निगर्मन किये गये अंशों की संख्या निम्न प्रकार ज्ञात होगीः ;अद्ध जब अंशों को सममूल्य पर निगर्मित किया जाता है जो कि 100 रु. है देय राश्िा त्रनिगर्मन किए गये अंशों की संख्या निगर्मन मूल्य 5ए40ए000 रुत्र100 रुत्र 5ए400 अंश ;बद्ध जब अशों को 10ः बट्टे पर निगर्मित किया जाता है जो कि 90 रु.;100 रु.दृ 10रु.द्ध देय राश्िा त्रनिगर्मन किए गये अंशों की संख्या निगर्मन मूल्य 5ए40ए000 रुत्र90 रुत्र 6ए000 अंश ;सद्ध जब अशों को 20ः अिामूल्य पर निगर्मित किया जाता है जोकि 120 रु.;100 ़ 20द्ध देय राश्िा त्रनिगर्मन किए गये अंशों की संख्या निगर्मन मूल्य 5ए40ए000 रुत्र120 रुत्र 4ए500 अंश रोकड़ प्रतिपफल अतिरिक्त अंशों के निगर्मन की उपयर्ुक्त स्िथति में रोजनमाचा प्रविष्िटयों का अभ्िालेखन इस प्रकार होगाः राहुल लिमिटेड कंपनी की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृ नाम जमा सं. राश्िा राश्िा ;रु.द्ध ;रु.द्ध भवन खाता नाम 5ए40ए000 होंडा लिमिटेड खाते से 5ए40ए000 ;भवन का क्रयद्ध 5ए40ए000 ;ंद्ध जब अंशों का निगर्मन सम मूल्य पर किया जाता है नाम होंडा लिमिटेड अंश पूँजी खाते से 5ए40ए000 ;5ए400 अंशों का सममूल्य पर निगर्मनद्ध 5ए40ए000 ;इद्ध जब अंशों का निगर्मन 10ः बट्टे पर किया जाता है नाम निगर्मित अंशों पर बट्टा नाम 60ए000 अंश पूँजी खाते से 6ए00ए000 ;6ए000 अंशों पर 90 रु. प्रति अंश पर निगर्मनद्ध 5ए40ए000 ;बद्ध होंडा लिमिटेड खाता नाम अंश पूँजी खाता 4ए50ए000 प्रतिभूति अिामूल्य खाते से 90ए000 ;4ए500 अंशों का 120 रु. प्रति अंश पर निगर्मनद्ध उदाहरण 10 जिन्दल एंण्ड कंपनी ने हाइर् - लाइर्पफ मशीन लिमिटेड से 3ए80ए000 रु. में एक मशीन का क्रय किया। क्रय समझोते के अनुसार 20ए000 रु. का नकद भुगतान और शेष राश्िा 100 रु. प्रत्येक के अंशों का निगर्मन करके किया जायेगा। क्या प्रविष्िट की जायेगी यदि अंशों का निगर्मन: ;अद्ध सममूल्य पर ;बद्ध 10ः बट्टे पर ;सद्ध 20ः अिामूल्य पर हल अंशों की संख्या की गणना इस प्रकार होगी: ;पद्ध जब अंशों का निगर्मन सममूल्य पर हो 3ए60ए000 रुत्र 3ए600 रु100 रु;पपद्ध जब अंशों का निगर्मन बट्टे पर हो 3ए60ए000 रुत्र 4ए000 अंश 90 रु;पपपद्ध जब अंशों का निगर्मन अिामूल्य पर हो 3ए60ए000 रुत्र 3ए000 अंश 120 रुजिन्दल एण्ड लिमिटेड कंपनी की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृस. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध ;ंद्ध मशीन खाता नाम बैंक खाता हाइर् लाइर्पफ मशीन लिमिटेड से ;मश्ीन का क्रय और 20ए000 रु. का रोकड़ भुगतान, शेष का भुगतान अंशों की निगर्मन द्वाराद्ध 3ए80ए000 20ए000 3ए60ए000 जब अंशों को सममूल्य पर निगर्मित किया जाता है हाइर् लाइर्पफ मश्ीन लिमिटेड नाम 3ए60ए000 ;इद्ध अंश पूँजी खाते से ;3ए600 अंशों का प्रत्येक 100 रु. पर निगर्मनद्ध 3ए60ए000 जब अंशों का निगर्मन बट्टे पर किया जाता है हाइर् लाइर्पफ मश्ीन लिमिटेड नाम 3ए60ए000 निगर्मित अंशों पर बट्टा नाम 40ए000 ;बद्ध अंश पूँजी खाते से ;4ए000 अंशों पर 90 रु. प्रति अंश पर निगर्मनद्ध 4ए00ए000 जब अंशों को अिामूल्य पर निगर्मित किया जाता है हाइर् लाइर्पफ मश्ीन लिमिटेड नाम 3ए60ए000 अंश पूँजी खाते से 3ए00ए000 प्रतिभूति अिामूलय खाते से ;3ए000 अंशों का 120 रु. प्रति अंश पर निगर्मनद्ध 60ए000 स्वयं जांचिये - 2 सही उत्तर का चुनाव करें ;अद्ध समता अंशधारी हैंः ;पद्ध कंपनी के लेनदार। ;पपद्ध कंपनी के स्वामी। ;पपपद्ध कंपनी के ग्राहक। ;बद्धअवास्तविक अंश पूँजी हैः ;पद्ध कंपनी द्वारा निगर्मित किया गया अिाकृत पूँजी का भाग हैः ;पपद्ध पूँजी की राश्िा जो कि प्रस्तावित अंशधारियों द्वारा वास्तव में आवेदित की गइर् है। ;पपपद्ध अंश पूँजी की यह अिाकतम राश्िा जो कि एक कंपनी द्वारा निगर्मन करने के लिए अिाकृत है। ;सद्धसारणी ‘अ’ के अनुसार बकाया माँग पर ब्याज को प्रभार किया जाएगाः ;पद्ध 5ः ;पपद्ध 6ः ;पपपद्ध 8ः ;पअद्ध 11ः ;दद्धसंचालकों द्वारा वास्तव में मांगी गइर् राश्िा से पूवर्, अंशधारियों से प्राप्त अगि्रम राश्िा कोः ;पद्ध अगि्रम माँग खाते के नाम पक्ष में दशार्या जाता है। ;पपद्ध अगि्रम माँग खाते के जमा पक्ष में दशार्या जाता है। ;पपपद्ध माँग खाते के नाम पक्ष में दशार्या जाता है। ;यद्ध अंशों का हरण किया जा सकता हैंः ;पद्ध माँग राश्िा के भुगतान न करने पर ;पपद्ध सभा में उपस्िथत न होने की स्िथति में ;पपपद्ध बैंक )ण में भुगतान की असमर्थता में ;पअद्ध प्रतिभूति के रूप में अंशों के बन्धक होने पर ;रद्ध हरण किए गए अंशों को पुन निगर्मित करने के पश्चात् अंश हरण खाते के शेष को हस्तांतरित किया जाएगाः ;पद्ध सामान्य आरक्ष्िात ;रिजर्वद्ध में ;पपद्ध पूँजी शोधन आरक्ष्िात ;रिजर्वद्ध में ;पपपद्ध पूँजी आरक्ष्िात ;रिजर्वद्ध में ;पअद्ध आगम आरक्ष्िात ;रिजर्वद्ध में 1ण्7 अंशों का हरण ऐसा हो सकता है कि वुफछ अंश धारक एक या अिाक किश्तों अथार्त आबंटन राश्िा या माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहें। इस परिस्िथति में कंपनी अंतनिर्यमा में उल्लेख्िात प्रावधान के अनुसार इन अंशों का हरण जैसे कि आबंटन को रदद् करके और प्राप्त राश्िा को जब्त करके, कर सकती है। सामान्यतः यह प्रावधान सारणी अ के नियम 29 से 35 पर आधारित होते हैं जो कि निदेशकों को माँग राश्िा का भुगतान न होने पर अंशों को हरण करने का अिाकार देते हैं इस उद्देश्य के लिए इस संबंध में दी गइर् प्रिया का बड़ी सख्ती से पालन करना होगा। जब अंशों का हरण किया जाता है तो हरण से संबंिात सभी प्रविष्िटयां, अिालाभ के अतिरिक्त, जो कि लेखों में पहले से ही प्रलेख्िात की जा चुकी हैं, की विपरीत प्रविष्टी की जाएगी। इसके अनुसार अंश पूँजी खाते को हरण किये गए अंशों के संबंध में मांगी गइर् राश्िा से नाम किया जाएगा और जमा करेंगे ;1द्ध इस संबंध के भुगतान किया गया माँग खाता या बकाया माँग खाता, न भुगतान की गइर् राश्िा जैसे भी स्िथति हो से, और ;2द्ध अंश हरण खाते में पहले से प्राप्त राश्िा से। अतः रोजनामचा प्रविष्िट इस प्रकार होगी: अंश पूँजी खाता नाम अंश हरण खाते से अंश आबंटन खाते से अंश माँग खाते से ;व्यक्ितगतद्ध ;......... अंशों का हरण, आबंटन और माँग राश्िा के प्राप्त नहीं होने परद्ध टिप्पणीः यदि कंपनी द्वारा माँग की बकाया राश्िा का खाता रखा जा रहा है तो उपयुर्क्त प्रविष्िट से अंश आबंटन और/या फ्अंश माँग या मांगेंय् खाता के बजाय माँग की बकाया राश्िा का खाता जमा होगा। अंश हरण खाते का शेष अंशों के पुननिगर्मित करने तक तुलन पत्रा के दायित्व पक्ष में फ्अंश पूँजी के शीषर्क के अंतगर्त वुफल चुकता पूँजी के अतिरिक्त दशार्यी जाएगी। उदाहरण 11 होंडा लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 10ए000 समता अंशों का निगर्मन किया। जो इस प्रकार देय थेः आवेदन पर 25 रु.ऋ आबंटन पर 30 रु.ऋ प्रथम माँग पर 20 रु. और द्वितीय और अंतिम माँग पर 30 रु.। 10ए000 अंशों के लिए आवेदन और आबंटन हुआ। सुपि्रया द्वारा 300 अंशों पर देय दोनों मांगों को छोड़कर सभी देय राश्िा प्राप्त हुइर्। इन अंशों का हरण किया गया। आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। 40 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण हल: होण्डा लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रुपयेद्ध जमा राश्िा ;रुपयेद्ध बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से;10ए000 अंशों पर पर 25 रु. प्रति अंश की दरपर आवेदन राश्िाद्ध 2ए00ए000 2ए00ए000 3ए00ए000 2ए00ए000 2ए00ए000 अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से;आवेदन राश्िा को अंश पूँजी में हस्तांतरितद्ध अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से;10ए000 अंशों पर 30 रु. प्रति अंश की दर सेआबंटन राश्िा देयद्ध 3ए00ए000 3ए00ए000 बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से;10ए000 अंशों पर 30 रु. प्रति अंश के दर से प्राप्तआबंटन राश्िाद्ध 2ए00ए000 3ए00ए000 अंश प्रथम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से;10ए000 अंशों पर 20 रु. प्रति अंश की दर सेप्रथम माँग राश्िा देयद्ध 1ए94ए000 3ए00ए000 2ए00ए000 1ए94ए000 बैंक खाता नाम अंश प्रथम माँग खाते से;300 अंशों पर छोड़कर प्रथम माँग राश्िा प्राप्त होने परद्ध अंश द्विततीय और अंतिम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से;द्वितीय और अंतिम माँग राश्िा 10ए000 अंशों पर 30 रु. प्रति अंश की दर से देय होने परद्ध 2ए91ए000 3ए00ए000 बैंक खाता नाम अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से;300 अंशों के अतिरिक्त द्वितीय और अंतिम मांगराश्िा के प्राप्त होने परद्ध 30ए000 2ए91ए000 अंश पूँजी खाता नाम अंश प्रथम माँग खाते से 6ए000 अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से 9ए000 अंश हरण खाते से;300 अंशों को हरण करने परद्ध 15ए000 अिामूल्य पर निगर्मित अंशों का हरण: जब अंशों को अिालाभ पर निगर्मित किया जाता है और अिालाभराश्िा को पूणर् रूप से वसूली कर ली जाती है, तथा बाद में वुफछ अंशों का मांगी गइर् राश्िा के भुगतान नहोने के कारण हरण कर लिया जाता है तो जब्त अंशों का लेखांकन व्यवहार, सममूल्य पर निगर्मित अंशों कीतरह ही होगा। इस संदभर् में महत्त्वपूणर् बात यह है कि अंश अिालाभ खाते को, हरण के समय नाम नहींकिया जाएगा, यदि हरण किये गए अंशों के संबंध में अिालाभ को प्राप्त कर लिया गया है।इस स्िथति में यदि अिालाभ राश्िा को आंश्िाक या पूणर् रूप से प्राप्त नहीं किया गया है तो हरण किएगए अंशों के संबंध में, अंश अिालाभ खाते को भी अप्राप्त अिालाभ राश्िा और अंश पूँजी खाते को अंशोंके हरण के समय नाम किया जाएगा। आमतौर पर यह स्िथति आबंटन के समय देय राश्िा के प्राप्त न होनेपर उत्पन्न होती है। अतः हरण किये गए अंशों को अिालाभ पर निगर्मितऋ जिन पर अिालाभ पूणर् रूप सेप्राप्त नहीं हुआ है को प्रलेख्िात करने के लिए रोजनामचा प्रविष्िट होगीःअंश पूँजी खाता नाम प्रतिभूति अिामूल्य खाता नाम अंश हरण खाते से अंश आबंटन खाते से और/या अंश माँग खाते से ;व्यक्ितगतद्ध ;...... आबंटन और माँग राश्िा का भुगतान न होने पर अंशों का हरणद्ध टिप्पणीः - जहां बकाया माँग खाता बनाया जाता है तो, बकाया माँग खाते को जमा करेंगेऋ अंश आबंटन या/अंश माँग या/माँग खाते को नहीं। उदाहरण 12 सुशील, जिसके पास 120 रु. ;अंश मूल्य 100 रु.द्ध प्रत्येक के 1000 अंश हैंऋ ने द्वितीय एवं अंतिम माँग,जो कि 20 रु. प्रति अंश है, का भुगतान नहीं किया । कंपनी द्वारा इन अंशों का हरण कर लिया गया। आवश्यकरोजनामचा पविष्टयाँ करें। तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रुपयेद्ध जमा राश्िा ;रुपयेद्ध अंश पूंजी खाता द्वितीय एवं अंतिम माँग खाते से अंश हरण खाते से ;द्वितीय एवं अंतिम माँग का भुगतान न होने पर 1000 अंशों का हरणद्ध नाम 1,00,000 20,000 80,000 उदाहरण 13 सुनयना, जिसके पास 10 रु. प्रत्येक के 500 अंश हैं उसने आबंटन राश्िा 4 रु. प्रति अंश ;2 रु. अिामूल्य सहितद्ध और 3 रु. की प्रथम और अंतिम माँग राश्िा का भुगतान नहीं किया। उसके अंशों को प्रथम और अंतिम माँग के बाद हरण कर लिया गया। अंशों का हरण करने की रोजनामचा प्रविष्िट करें। हल तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध अंश पूँजी खाता नाम प्रतिभूति अिामूल्य खाता नाम अंश आबंटन खाते से अंश प्रथम और अंतिम माँग खाते से अंश हरण खाते से ;500 अंशों का प्रथम और अंतिम माँग का भुगतान न करने पर हरणद्ध 5ए000 1ए000 2ए000 1ए500 2ए500 बटटे पर निगर्मित अंशों का हरण: जब हरण किये गए अंशों को वास्तव में बटटे पर निगर्मित किया जाता है, तो इन अंशों पर लागू बट्टे की राश्िा को रदद् या अपलिख्िात किया जाएगा। इस लिए हरण के समय अंशों पर बट्टे खाते को जमा करेंगे। बट्टे पर निगर्मित अंश खाताऋ अंश पूँजी खाते के पूवर् भाग के शेष से संबंध रखता है। अंतः हरण की रोजनामचा प्रविष्िट अभ्िालेख्िात होगीः अंश पूँजी खाता नाम अंश हरण खाते से अंश के निगर्मन पर व्यय खाते से अंश आबंटन खाते से अंश माँग खाते से अथवा माँग बकाया राश्िा के खाते से ;...... अंशों का हरण, आबंटन और माँग की राश्िा का भुगतान न करने परद्ध उदाहरण 14 मदान लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक वाले 20ए000 अंश 10ः बट्टे पर निगर्मित करने के लिये आवेदन पर 25 रु.ऋ आबंटन पर 25 रु.ऋ प्रथम माँग पर 25 रु. और द्वितीय और अंतिम माँग पर 15 रु. आमंत्रिात किये। रीतू जिसने 1ए000 अंशों के लिए आवेदन किया और 600 अंशों का आबंटन किया गया और अिाक आवेदन राश्िा को आबंटित अंशों पर आवेदन राश्िा में समायोजित किया जायेगा। इन अंशों का हरण प्रथम माँग के पश्चात किया गया। हरण के व्यवहारों की रोजनामचा प्रविष्िट करें यदि वह भुगतान करने में असमर्थ होगीः 1ण् आबंटन और प्रथम माँग राश्िाऋ और 2ण् केवल प्रथम मांग हल मदान लिमिटेड की पुस्तवेंफ रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध अंश पूँजी खाता नाम अंश के निगर्मन पर बट्टा खाते से अंश आबंटन खाते से अंश प्रथम माँग खाते से अंश हरण खाते से ;600 अंशों का हरण, प्रथम माँग के पश्चात, आबंटन और प्रथम माँग राश्िा का भुगतान न करने परद्ध 51ए000 6ए000 5ए000 15ए000 25ए000 टिप्पणीः आबंटन पर 15ए000 रु. राश्िा प्राप्य है जबकि 10ए000 रु. की अिाक प्राप्त आवेदन राश्िा 10ए000 रु. को आबंटन खाते में समायोजित करने के पश्चात केवल 5ए000 रु. की आबंटन राश्िा देय हैं। 2ण् जब केवल प्रथम माँग राश्िा का भुगतान न किया गया हो। तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध अंश पूँजी खाता नाम अंशों के निगर्मन पर बट्टा खाते से अंश प्रथम माँग खाते से अंश हरण खाते से ;प्रथम माँग के पश्चात 600 अंशों का हरण, प्रथम माँग राश्िा का भुगतान न करने परद्ध 51ए000 6ए000 15ए000 30ए000 उदाहरण 15 अशोक लिमिटेड ने 10 रु. प्रत्येक के 3ए00ए000 समता अंशों को 2 रु. प्रति अंश के अिालाभ पर जारी किया। आवेदन पर 3 रु. आबंटन पर 5 रु. ;अिामूल्य सहितद्ध और शेष राश्िा दो माँगों पर देय है। 4ए00ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए। सब आवेदनों पर आनुपातिक आबंटन किया गया। आवेदन पर प्राप्त अतिरिक्त राश्िा आबंटन पर देय राश्िा में समायोजित की गइर् श्री मुकेश, जिन्हें 800 अंश आबंटित किए गए, दोनों माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहे और उनके अंशों का हरण द्वितीय माँग के पश्चात किया गया। अशोक लिमिटेड की पुस्तकों में आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िटयों का अभ्िालेखन करें और तुलन पत्रा में भी दशार्ये। हल अशोक लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध बैंक खाता नाम समता अंश आवेदन खाते से ;4ए00ए000 अंशों पर आवेदन राश्िा प्राप्तद्ध 12ए00ए000 12ए00ए000 12ए00ए000 समता अंश आवेदन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से 9ए00ए000 समता अंश आबंटन खाते से ;3ए00ए000 अंशों की आवेदन राश्िा का अंश पूँजी में हस्तांतरण और अतिरिक्त राश्िा का अंश आबंटन खाते में समायोजनद्ध 1ए50ए000 3ए00ए00 समता अंश आबंटन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से 9ए00ए000 प्रतिभूति अिामूल्य खाते से ;3ए00ए000 अंशों पर आबंटन राश्िा देयद्ध 12ए00ए000 6ए00ए000 बैंक खाता नाम समता अंश आबंटन खाते से ;आवेदन पर अतिरिक्त राश्िा के समायोजन के पश्चात अंशों पर आबंटन राश्िा प्राप्तद्ध 6ए00ए000 5ए98ए400 12ए00ए000 6ए00ए000 समता अंश प्रथम माँग खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से ;3ए00ए000 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा देयद्ध बैंक खाता नाम माँग बकाया राश्िा खाता नाम 1ए600 समता अंश प्रथम माँग खाते ;2ए99ए200 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा प्राप्तद्ध 6ए00ए000 समता अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाता समता अंश पूँजी खाते से ;द्वितीय माँग राश्िा देयद्ध नाम 6ए00ए000 5ए98ए400 1ए600 8ए000 6ए00ए000 6ए00ए000 4ए800 3ए200 बैंक खाता बकाया माँग खाता समता अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से ;2ए99ए200 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा प्राप्तद्ध नाम नाम समता अंश पूँजी खाता अंश हरण खाते से माँग खाते से ;800 अंशों का हरणद्ध नाम ......... को अशोक लिमिटेड का तुलन पत्रा दायित्व राश्िा परिसंपिायाँ राश्िा अंश पूँजी प्रतिभूति अिामूल्य अंश हरण 29ए92ए000 6ए00ए000 4ए800 बैंक 35ए96ए800 35ए96ए800 35ए96ए800 उदाहरण 16 हाइर् लाइर्ट इंडिया लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 30ए000 अंशों को 20 रु. प्रति अंश अिामूल्य के लिए आवेदन पत्रा आमंत्रिात किए जो निम्न प्रकार देय हैंः रु आवेदन पर 40 ;10 रु. अिामूल्य सहितद्ध आबंटन पर 30 ;10 रु. अिामूल्य सहितद्ध प्रथम माँग पर 30 द्वितीय और अंतिम माँग पर 20 40ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए और 35ए000 अंशों के आवेदकों को अंशों का अनुपातिक आबंटन किया गया। अतिरिक्त आवेदन राश्िा को आबंटन खाते में उपयोग किया गया। रोहन, जिसको 600 अंशों का आबंटन हुआ था आबंटन राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहा और उसके अंशों का आबंटन के पश्चात हरण कर लिया गया। अमन जिसने 1050 अंशों के लिए आवेदन किया था प्रथम माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहा और उसके अंशों का प्रथम माँग के पश्चात हरण कर लिया गया। द्वितीय और अंतिम माँग मांगी गइर् और द्वितीय माँग पर देय सभी राश्िा प्राप्त हुइर्। हरण किए गए अंशों में से 1ए000 अंशों को 80 रु. प्रति अंश के पूणर् भुगतान पर पुनः निगमिर्त किया गया। जिसमें अमन के सारे अंश शामिल है। हाइर् लाइर्ट लिमिटेड की पुस्तकों में आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। हल: अशोक लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध बैंक खाता नाम अंश आवेदन खाते से ;40ए000 अंशों पर आवेदन राश्िाद्ध 16ए00ए000 14ए00ए000 16ए00ए000 अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 9ए00ए000 प्रतिभूति प्रीमियम खाते से 3ए00ए000 अंश आवेदन खाते से ;आवेदन राश्िा का अंश पूँजी खाते, प्रतिभूति अिामूल्य खाता और अतिरिक्त राश्िा का अंश आबंटन खाते में हस्तांतरणद्ध 9ए00ए000 2ए00ए000 अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 6ए00ए000 प्रतिभूति प्रीमियम खाते से ;आबंटन पर देय राश्िाद्ध 2ए00ए000 6ए86ए000 30ए000 3ए00ए000 2ए00ए000 6ए86ए000 अंश आवेदन खाता नाम बैंक खाते से ;500 अंशों की धनराश्िा वापसद्ध बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से ;आबंटन पर प्राप्त राश्िाद्ध अंश पूँजी खाता नाम प्रतिभूति अिामूल्य खाता नाम 12ए000 अंश आबंटन खाते से 14ए000 अंश हरण खाते से ;रोहन के 600 अंशों का हरण आबंटन राश्िा के प्राप्त न होने परद्ध 28ए000 अंश प्रथम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;29ए400 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा देयद्ध 8ए82ए000 8ए55ए000 72ए000 8ए82ए000 8ए55ए000 बैंक खाता नाम अंश प्रथम माँग खाते से ;28ए500 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा प्राप्तद्ध अंश पूँजी खाता नाम अंश प्रथम माँग खाते से 27ए000 अंश हरण खाते से ;अमन के 900 अंशों का हरणद्ध 5ए70ए000 5ए70ए000 80ए000 45ए000 5ए70ए000 5ए70ए000 अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;28ए500 अंशों पर द्वितीय और अंतिम माँग राश्िा देयद्ध बैंक खाता नाम अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से ;देय राश्िा प्राप्तद्ध बैंक खाता नाम अंश हरण खाते से नाम 20ए000 अंश पूँजी खाते से ;1ए000 हरण अंशों का पुननिगर्मनद्ध 29ए666 1ए00ए000 अंश हरण खाता नाम पूँजी आरक्ष्िात खाते से ;1ए000 अंशों के पुननिगर्मन पर लाभ का पूँजी आरक्ष्िात खाते में हस्तांतरणद्ध 29ए666 कायर्कारी टिप्पणी: ;प्द्ध रोहन के आवेदन पर प्राप्त अतिरिक्त राश्िा रोहन के आबंटित 600 अंश उसने आवेदन किया 35ए000 रु.´ 600 त्र 700 अंश 30ए000 रुरुरोहन से प्राप्त राश्िा त्र 700 × 40 रु.28ए000 आवेदन पर समायोजित राश्िा त्र 600 × 40 रु.;24ए000द्ध आबंटन पर समायोजित राश्िा 4ए000 आबंटन पर देय राश्िा त्र 600 × 30 रु.18ए000 समायोजित राश्िा ;4ए000द्ध आबंटन पर देय शेष राश्िा 14ए000 ;प्प्द्ध आबंटन पर प्राप्त राश्िा आबंटन पर वुफल देय राश्िा त्र 30ए000 रु.× 30 रु.त्र 9ए00ए000 आवेदन पर प्राप्त राश्िा ;2ए00ए000द्ध 7ए00ए000 रोहन के अंशों पर प्राप्त राश्िा ;14ए000द्ध आबंटन पर प्राप्त राश्िा 6ए86ए000 ;प्प्प्द्ध 29ए400 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा देय 29ए400 × 30 रु.त्र 8ए82ए000 900 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा देय 900 × 30 रु.;27ए000द्ध 8ए55ए000 ;प्टद्ध 1ए000 अंशों का पुनः निगर्मन, अमन के 900 अंश और शेष 100 अंश रोहन के सहित रु28ए000 100 अंशों पर लाभ त्र 600 ´100 त्र 4ए666 900 अंशों पर लाभ त्र 45ए000 49ए666 घटायाः 1ए000 अंशों के निगर्मन पर हानि ;20ए000द्ध 29ए666 ;टद्ध अंश हरण खाते में 500 अंशों का शेष 28ए000 ´ 500 रु.त्र 23ए334 रु600 स्वयं करें 1ण् एक कंपनी ने 10 रु. प्रत्येक के 100 समता अंशों जो 20ः प्रीमियम पर निगर्मित किए 5 रु. की अंतिम माँग राश्िा के भुगतान न करने पर हरण किया। आवश्यक रोजनामचा प्रविष्ट दें। 2ण् एक कंपनी ने 10 रु. प्रत्येक के 800 समता अंशों, जिनको 10ः बट्टे पर निगर्मित किया गया था प्रत्येक 2 रु. के दो माँग का भुगतान प्राप्त न हाने पर हरण किया। कंपनी द्वारा हरण कि गइर् राश्िा की गणना करें और अंशों का हरण करने की रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। उदाहरण 17 एक्स लिमिटेड ने 10 रु. प्रति अंश के 40ए000 समता अंशों को 2 रु. प्रति अंश अिालाभ पर सावर्जनिक अभ्िादान हेतु निम्नलिख्िात शतो± पर निगर्मन कियाः आवेदन पर 4 रु. प्रति अंश आबंटन पर 5 रु. प्रति अंश ;अिामूल्य शामिल हैद्ध माँग पर 3 रु. प्रति अंश 60ए000 अंशों के लिए आवेदन पत्रा प्राप्त हुए। 48ए000 अंशों के आवेदकों को आनुपातिक आबंटन किया गया, शेष आवेदनों को अस्वीकार कर दिया गया। आवेदन पर प्राप्त अतिरिक्त राश्िा आबंटन पर देय राश्िा के प्रति समायोजित की गइर्। श्री चिटनिस, जिन्हें 1ए600 अंश आबंटित किए गए, आबंटन राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहे और श्री जगदले, जिन्हें 2ए000 अंशों का आबंटन किया गया, माँग राश्िा का भुगतान न कर सके। इन अंशों का हरण कर लिया गया। उपयुर्क्त लेनदेन का कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। हल अशोक लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.ेद्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध बैंक खाता नाम समता अंश आवेदन खाते से ;60ए000 अंशों पर आवेदन राश्िाद्ध 2ए40ए000 2ए40ए000 2ए40ए000 समता अंश आवेदन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से 1ए60ए000 समता अंश आबंटन खाते से 32ए000 बैंक खाते से ;आवेदन राश्िा का अंश पूँजी में हस्तांतरण, अतिरिक्त आवेदन राश्िा का अंश आबंटन खाते में समायोजन, औरअस्वीकृत आवेदन राश्िा की वापसीद्ध 2ए00ए000 48ए000 समता अंश आबंटन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से 1ए20ए000 प्रतिभूति प्रीमियम खाते से ;40ए000 अंशों पर 6 रु. अिालाभ सहित प्रति अंश की दर से आबंटन राश्िा देयद्ध 80ए000 बैंक खाता नाम बकाया माँग आबंटन खाता नाम समता अंश आबंटन खाते से ;अंशों पर 3 रु. प्रति अंश की दर से प्रथम माँग राश्िा देयद्ध 1ए61ए280 6ए720 1ए20ए000 1ए68ए000 समता अंश माँग खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से ;40ए000 अंशों पर 3 रु. प्रति अंश की दर से प्रथम माँग राश्िा देयद्ध 1ए09ए200 1ए20ए000 बैंक खाता नाम बकाया माँग खाता नाम 10ए800 समता अंश माँग खाते से ;अंशों पर प्रथम माँग राश्िा प्राप्तद्ध 36ए000 1ए20ए000 समता अंश पूँजी खाता नाम प्रतिभूति अिामूल्य खाता नाम 3ए200 अंश हरण खाते से 21ए680 बकाया माँग खाते से ;3ए600 अंशों का हरणद्ध 17ए520 कायर्कारी टिप्पणी: प्ण् आबंटन पर प्राप्त राश्िा ;कद्ध आबंटन पर देय राश्िा रु ;40ए000 अंश पर प्रति अंश 5 रु.द्ध 2ए00ए000 ;खद्ध आबंटन पर वास्तविक देय राश्िा 2ए00ए000 घटायाःअध्िक आवेदन राश्िा ;32ए000द्ध आबंटन पर देय राश्िा 1ए68ए000 ;गद्ध चिटनिस के अंशों पर देय आबंटन राश्िा 1600 अंश × 5 रु. प्रति अंश 8ण्000 घटाया: आनुपातिक वितरण के कारण प्राप्त अतिरिक्त आवेदन राश्िा ;1920 अंश दृ 1600 अंशद्ध × 4 ;1ए280द्ध श्री चिटनिस से देय आबंटन राश्िा 6ए720 1ए600 अंशों के आबंटन के लिए आनुपातिक वितरण के अनुपात के अनुसार ;40ए000 रू 48ए000 अंशद्ध चिटनिस ने 1ए920 अंशों के लिए ;1ए600 अंश × 6ध्5द्ध आवेदन होगा। ;घद्ध आबंटन पर प्राप्त राश्िा: आबंटन पर वास्तविक देय राश्िा 1ए68ए000 घटाया: चिटनिस द्वारा भुगतान न की गइर् राश्िा प्राप्त राश्िा ;6ए720द्ध प्राप्त राश्िा 1ए61ए280 प्प्ण् हरण किए गए अंश खाते का शेष चिटनिस द्वारा दी गइर् राश्िा 1ए920 अंशों के आवेदन × 4 रु. प्रति अंश 7ए680 जगदले द्वारा दी गइर् राश्िा 14ए000 2ए000 अंश × ;2 ़ 3द्ध रुवुफल राश्िा 21ए680 टिप्पण्ीः जगदले के अंशों पर अिालाभ को लेखे में नहीं लिया जाएगा, क्योंकि यह कंपनी द्वारा पूणर्तः प्राप्त कर लिया गया है। 1ण्7ण्1 हरण किये गए अंशों का पुनः निगर्मन संचालक हरण किए गए अंशों को रद्द या पुनः निगर्मित कर सकते हैं। अिाकतर स्िथतियों में हालांकि, वह विश्िाष्ट अंशों को जो कि सममूल्यऋ अिालाभऋ या बट्टे पर पुनः निगर्मित कर सकते हैं, सामान्यतः हरण किए गए अंशों का निगर्म पूणर् भुगतान प्राप्त या बट्टे पर किया जाता है। इस संदभर् में यह स्मरणीय है कि बट्टा की राश्िा, हरण किये गए अंशों के वास्तविक निगर्मन की राश्िा से अिाक नहीं होगी और हरण किये गए अंशों के पुनः निगर्मन पर प्रदान बट्टे को अंश हरण खाते में नाम किया जाएगा और यदि अंश हरण खाते में कोइर् शेष हो तो इसे पूँजीगत लाभ माना जाएगा और इसे पूँजी आरक्ष्िात खाते में हस्तांतरित किया जाएगा। उदाहरण के लिए, यदि एक कंपनी 10 प्रत्येक के 200 अंशों का हरण करती है जिस पर 600 रुप्राप्त है, इन अंशों के पुनः निगर्मन पर अिाकतम 600 रु. का बट्टा दिया जा सकता है मानलें कि कंपनी ने इन अंशों का पुनः निगर्मन 1800 रु. में पूणर् भुगतान प्राप्त में किया जायेगा। आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िट इस प्रकार होगी। बैंक खाता अंश हरण खाता अंश पूँजी खाते से ;200 हरण किये गये अंशों का पुनः निगर्मन 9 रुप्रति अंश के पूणर् भुगतान परद्ध नाम नाम 1800 200 2000 अंश हरण खाता पूँजी आरक्ष्िात खाते से ;हरण किये गये अंशों पर लाभ का हस्तांतरणद्ध नाम 400 400 इस संदभर् में एक अन्य महत्वपूणर् तथ्य यह है कि पूँजीगत लाभ केवल हरण किए गए अंशों के पुनः निगर्मन पर ही उत्पन्न होता है, सभी हरण किए गए अंशों पर नहीं। इसलिए जब हरण किए गए अंशों का कोइर् माँग पुनः निगर्मित किया जाता है तो अंश हरण खाते की सम्पूणर् राश्िा को पूँजी खाते में हस्तांतरित नहीं किया जा सकता। इस प्रकार की स्िथति में हरण किये गए अंशों के पुनः निगर्मन से संबंिात आनुपतिक शेष को पूँजी आरक्ष्िात में हस्तांतरित किया जाएगाद्ध यह निश्िचत करते हुए कि अंश हरन खाते का बचा हुआ शेष, हरण किये गए अंशों जो कि अभी जारी नहीं किए गए हैं की राश्िा के बराबर होगी। उदाहरण 18 पोली प्लास्िटक लिमिटेड के संचालकों ने 100 रु. प्रत्येक के 200 समता अंशों को द्वितीय और अंतिम माँग का भुगतान न होने पर जब्त करने का निणर्य लिया। इन अंशों में से 150 अंश मोहित को 60 रु. प्रति अंश पर पुनः निगर्मित किये गये। आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। हल पोली प्लासटीक लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध अंश पूँजी खात अंश हरण खाते से अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से ;200 अंशों का द्वितीय और अंतिम माँग 30 रुप्रति अंश भुगतान न हाने पर हरणद्ध नाम 20ए000 9ए000 14ए000 6ए000 बैंक खाता नाम अंश हरण खाता नाम 6ए000 अंश पूँजी खाते से ;100 रु. प्रत्येक के 150 अंशों का 60 रुप्रत्येक पूणर् भुगतान पर पुनः निगर्मनद्ध 4ए500 15ए000 अंश हरण खाता नाम पूँजी आरक्ष्िात खाते से ;150 पुनः निगर्मित अंशों पर लाभ का पूँजी आरक्ष्िात में हस्तांतरणद्ध 4ए500 कायर्कारी टिप्पणी: रु200 अंशों पर हरण की गइर् वुफल राश्िा त्र 14ए000 ;200 × 70 रु.द्ध 150 अंशों पर हरण की राश्िा त्र 10ए500 ;150 × 70 रु.द्ध 50 अंशों पर हरण की राश्िा त्र 3ए500 ;50 × 70 रु.द्ध 150 अंशों पर हरण की राश्िा त्र 6ए000 ;150 × 40 रु.द्ध अंशों के पुन निगर्मन पर लाभ को पूँजी आरक्ष्िात में हस्तांतरण की राश्िा। त्र 4ए500 ;10ए500 रु.दृ 6ए000 रु.द्ध अंश हरण खाते में रह गया शेष त्र 4ए500 ;14ए000 रु.दृ 6ए000 रु.दृ 3500 रु.द्ध उदाहरण 19 जनवरी 1ए 2002 को एक्स लिमिटेड के संचालाकों ने 50ए000 अंशों को 10 रु. प्रति अंश के मूल्य के अंशों को प्रति अंश 12 रु. पर जनता को क्रय करने के लिए जारी किए, जो इस प्रकार देय हैंः आवेदन पर 5 रुपए ;प्रीमियम सहितद्ध, आबंटन पर 4 रुपए और शेष एक मइर्, 2002 को। 10 पफरवरी, 2002 को अभ्िादान सूची बंद कर दी गइर्, इन दिन तक 70ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए। प्राप्त राश्िा में से 40ए000 रु. वापस कर दिए गए और 60ए000 रु. आबंटन पर देय राश्िा के साथ समायोजन हेतु रख दिये, जिसको शेष रकम 16 पफरवरी, 2002 को भुगतान कर दी गइर्। सिवाय 500 अंशों के आबंटियों के सभी अंशधारकों ने एक मइर्, 2002 को देय माँग राश्िा का भुगतान कर दिया। इन अंशों को 29 सितंबर, 2002 को जब्त कर लिया गया और 1 नवंबर, 2002 को प्रति अंश 8 रु. पर पूणर् प्रदत्त्स मानते हुए पुनः निगर्मन किया गया। कंपनी नीति के अनुसार कंपनी माँग की बकाया राश्िा का खाता नहीं रखती। कंपनी की बहियों में अंश पूँजी लेनदेन रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। हल एक्स लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा 2002 विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रुपयेद्ध जमा राश्िा ;रुपयेद्ध पफर.10 बैंक खाता नाम समता अंश आवेदन व आबंटन खाते से ;70ए000 अंशों पर 5 रु. प्रति अंश की दर से प्राप्त आवेदन राश्िाद्ध 3ए50ए000 3ए50ए000 पफर.16 पफर.16 समता अंश आवेदन व आबंटन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से अंश अिालाभ खाते से ;आबंटन 50ए000 अंशों पर आवेदन राश्िा का अंश पूँजी व अिालाभ खाते में हस्तांतरणद्ध 2ए50ए000 2ए00ए000 1ए50ए000 1ए00ए000 समता अंश आवेदन व आबंटन खाता नाम पफर.16 पफर.16 समता अंश पूँजी खाते से ;प्रति अंश 4 रु. की दर से 50ए000 अंशों के आबंटन पर देय राश्िाद्ध 40ए000 1ए00ए000 2ए00ए000 40ए000 समता अंश आवेदन खाता नाम बैंक खाते से;अस्वीकृत आवेदन की धनराश्िा वापसद्ध बैंक खाता नाम समता अंश आवेदन व आबंटन खाते से 1ए40ए000 मइर् 1 मइर् 1 सित.29 समता अंश अबटन खाते से ;आबंटन राश्िा प्राप्तद्ध 1ए50ए000 1ए48ए500 5ए000 60ए000 1ए50ए000 1ए48ए500 बैंक खाता नाम प्रथम व अंतिम माँग खाते से ;प्रथम माँग राश्िा प्राप्तद्ध बैंक खाता नाम प्रथम व अंतिम माँग खाते से ;150 पुनः निगर्मित अंशों पर लाभ का पूँजी समता अंश पूँजी खाता नाम अंश हरण खाते से 3ए500 नव.1 समता अंश प्रथम व अंतिम मांग खाते से ;माँग राश्िा भुगतान न करने पर 500 अंशों का हरणद्ध 4ए000 1ए500 बैंक खाता नाम अंश हरण खाता नाम 1ए000 नव.1 समता अंश पूँजी खाते से ;प्रति अंश 8 रु. पर पूणर् प्रदत्त की तरह 5ए000 हरण किए गए अंशों का पुनः निगर्मनद्ध 2ए500 5ए000 अंश हरण खाता नाम पूँजी आरक्ष्िात खाते से ;हरण किए गए अंशों की बकाया रकम पूँजी आरक्ष्िात में हस्तांतरितद्ध 2ए500 उदाहरण 20 एक लिमिटेड कंपनी ने प्रत्येक 10 रु. के 1ए000 समता अंश, जो 10 प्रतिशत बट्टे पर जारी किए गएथे, हरण कर लिए, क्योंकि प्रत्येक अंश पर 2 रु. की दर से प्रथम माँग राश्िा और 3 रु. की दर से द्वितीयमाँग राश्िा का भुगतान नहीं किया गया।ये अंश पूणर् प्रदत्त अंश मानते हुए फ्कय् को 7ए000 रुपए की रकम देने पर पुनः जारी किए गए।कंपनी माँग की बकाया राश्िा का खाता रखती है। 1ए000 अंशों के जब्त करने और उनके पुनः निगर्मन से संबंिात कंपनी की बहियों में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। हल लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध समता अंश पूँजी खाता नाम अंश हरण खाते सेअंशों के निगर्मन पर बट्टा खाते सेबकाया अंश माँग खाते से;1ए000 अंशों का माँग पर देय राश्िा का भुगतान नहींकरने के कारण जब्तीकरण तथा आबंटन पर दिए गएबट्टे को उपलिख्िात किया गयाद्ध 10ए000 7ए000 4ए000 1ए000 5ए000 बैंक खाता नाम अंशों के निगर्मन पर बट्टा खाता नाम 1ए000 अंश हरण खाता नाम 2ए000 समता अंश पूँजी खाते से;अहरण किए गए 1ए000 अंशों को पूणर्दत्त अंशों के रूप में 7 रु. प्रति अंश पुनः जारी किया गया, बट्टेको उपलिख्िात करने के पश्चात् शेष राश्िा अंश हरणखाते में नाम किया गयाद्ध 2ए000 10ए000 2ए000 अंश हरण खाता नाम पूँजी आरक्ष्िात खाते से;अंश हरण खाते को बंद किया गयाद्ध उदाहरण 21 ओ लिमिटेड ने 10 रु. प्रति 2ए00ए000 समता अंश 2 रु. के अिालाभ पर प्रस्तावित करते हुए विवरण - पत्रा जारी किया। यह इस प्रकार देय थे: आवेदन पर प्रति अंश 2ण्50 रुआबंटन पर प्रति अंश 4ण्50 रु;अिामूल्य सहितद्ध प्रथम माँग पर ;आबंटन के 3 महीने बादद्ध प्रति अंश 2ण्50 रुद्वितीय माँग पर ;प्रथम माँग के 3 महीने के बादद्ध प्रति अंश 2ण्50 रु23 अप्रैल, 2002 को 3ए17ए000 अंशों के क्रय के लिए आवेदन प्राप्त हुए और 30 अप्रैल को निम्न प्रकार से आबंटन किया गया: 1ण् पूणर् आबंटन ;दो आवेदकों ने, जिन में से प्रत्येक ने 4ए000 अंशों के रुपए आवेदन संबंध में किया था, आबंटन पर पूणर् राश्िा का भुगतान कियाद्ध 38ए000 रु2ण् प्रत्येक 3 अंशों के आवेदन पर 2 अंशों का आबंटन किया 1ए60ए000 रु3ण् प्रत्येक 4 अंशों के आवेदन पर 1 अंश का आबंटन किया 2ए000 रु77ए500 रु. की नकद राश्िा ;3ए100 अंशों के लिए आवेदन पत्रा के साथ प्राप्त आवेदन शुल्क राश्िा जिस पर कोइर् आबंटन नहीं कियाद्ध आवेदकों को वापस 6 मइर्, 2002 कर दी गइर्। 100 अंशों पर अंतिम माँग राश्िा को छोड़कर बाकी सभी आबंटियों से माँग राश्िा देय तिथ्िा पर प्राप्त की गइर्। इन अंशों को 15 नवंबर, 2002 का हरण कर लिया गया और 16 नवंबर को 9 रु. प्रति अंश पर ‘अ’ को पुनः निगर्मित किया गया। ओ लिमिटेड की बहियों में नकद के अलावा अन्य से संबंिात रोजनामचा प्रविष्िटयाँ कीजिए और यह भी बताइए जब कंपनी ने 31 अक्तूबर, 2002 से देय ब्याज नकद में भुगतान किया है, तो इसे तुलन पत्रा में किस प्रकार दशार्या जाएगा। हलओ लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा 2002 विवरण ब.पृसं. नाम राश्िा ;रु.द्ध जमा राश्िा ;रु.द्ध अप्रैल 30 समता अंश आवेदन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से समता अंश आबंटन खाते से अगि्रम माँग खाते से ;आबंटन अगि्रम राश्िा के बाद आवेदन धनराश्िा का अंश पूँजी में हस्तांतरण और आनुपातिक आबंटन के कारण 86ए000 अंशों पर आिाक्य आवेदन पत्रा रकम अंश आबंटन खाते में जमाद्ध 7ए15ए000 5ए00ए000 1ए95ए000 40ए000 अप्रैल 30 जुलाइर् 31 समता अंश आबंटन खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से समता अंश अिामूल्य खाते से ;अिालाभ सहित प्रति अंश 3 रु. के 2ए00ए000 रुअंशों पर देय आबंटन राश्िाद्ध 9ए00ए000 5ए00ए000 5ण्00ए000 4ण्00ए000 समता अंश का पि्रमियम माँग खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से ;प्रति अंश 4 रु. के 2ए00ए000 अंशों पर देय प्रथम माँग राश्िाद्ध 20ए000 5ए00ए000 अगि्रम माँग खाता नाम अक्तू.31 समता अंश का प्रथम माँग खाते से ;8ए000 अंशों पर अगि्रम माँग प्रथम माँग की देय राश्िा के साथ समायोजितद्ध 5ए00ए000 20ए000 समता अंश की द्वितीय व अंतिम माँग खाता नाम समता अंश पूँजी खाते से ;प्रति अंश 4 रु. पर 2ए00ए000 अंशों पर देय द्वितीय व अंतिम मांग राश्िाद्ध 20ए000 5ए00ए000 अगि्रम माँग खाता नाम नव.15 समता अंश द्वितीय व अंतिम माँग खाते से ;8ए00ए000 अंशों पर अगि्रम माँग द्वितीय व अंतिम माँग राश्िा के साथ समायोजितद्ध 1ए000 20ए000 समता अंश पूँजी खाता नाम अंश हरण खाता 750 नव.16 समता अंश द्वितीय व अंतिम मांग खाते से ;माँग राश्िा का भुगतान न होने पर 100 अंशों को हरण कियाद्ध 100 250 अंश हरण खाता नाम नव.16 समता अंश पूँजी खाते से ;प्रति अंश 9 रु. पर पूणर् प्रदत्त रूप में 100 अंशों का ‘अ’ को पुनः निगर्मन परद्ध 650 100 650 अंश हरण खाता नाम पूँजी आरक्ष्िात खाते से ;अंश हरण समाप्तद्ध 58 लेखाशास्त्रा - कंपनी खाते एवं वित्तीय विवरणों का विश्लेषण रोकड़ पुस्तक नाम जमा प्राप्ितयाँ समता अंश आवेदन समता अंश आबंटन समता अंश प्रथम मांग समता अंश द्वितीय व अंतिम मांग समता अंश पूँजी राश्िा ;रु.द्ध 7ए92ए500 6ए85ए000 4ए80ए000 4ए79ए750 900 भुगतान समता आवेदन शेष आ/ले राश्िा ;रु.द्ध 77ए500 23ए60ए650 24ए38ए150 24ए38ए150 कायर्कारी टिप्पणी: 1ण् अतिरिक्त आवेदन राश्िाः - आबंटन की आवेदन किये गये आबंटन किये गये आबंटन का श्रेण्िायां अंशों की संख्या अंशों की संख्या अनुपात प 38ए000 38ए000 100ः पप 2ए40ए000 1ए60ए000 2ध्3 पपप 8ए000 2ए000 1ध्4 2ए86ए000 2ए00ए000 अतः वापस की गइर् आवेदन राश्िा त्र 3ए17ए000 रु.दृ 2ए86ए000 रु.× 2ण्50 रुत्र 77ए500 रुप्राप्त आवेदन राश्िा त्र 7ए15ए000 रु;2ए86ए000 अंश 2ण्50 की दर सेद्ध अतिरिक्त आवेदन राश्िा त्र 5ए00ए000 रु;2ए00ए000 अंश 2ण्50 की दर सेद्ध अतिरिक्त आवेदन राश्िा त्र 2ए15ए000 रु2ण् अगि्रम माँग राश्िा दो आबंटी प्रत्येक के पास 4ए000 अंश, ने आवेदन पर पूणर् राश्िा का भुगतान कियाऋ अतः अगि्रम माँग राश्िा त्र 8000 अंश ;250 रु.़ 2ण्50 रु.द्ध त्र 40ए000 रुबाॅक्स 4 अंशों का पुनः क्रयः जब कंपनी अपने अंशों का क्रय करती है, यह अंशों का पुनः क्रय कहलाता है कंपनी अिानियम 1956 की धारा 77 ‘अ’ में कंपनी को यह सुविधा है कि कंपनी अपने अंशों का पुनः क्रय निम्न में से किसी प्रकार भी कर सकती हैः - ;अद्ध आनुपातिक आधार पर वतर्मान समता अंश धारकों से ;बद्ध खुले बाजार से ;सद्ध न्यून खेप अंश धारक ;दद्ध कंपनी के कमर्चारियों से। कंपनी अपने अंशों का पुन क्रम मुक्त आरक्ष्िात प्रतिभूति अिामूल्य या अंशों या प्रतिभूतियों से प्राप्त धनराश्िा में से कर सकती है। मुक्त आरक्ष्िात में से अंशों का पुन क्रय करने की स्िथति में, कंपनी को क्रय किये गये अंशों के वास्तविक मूल्य की राश्िा के बराबर राश्िा फ्पूँजी शोधन आरक्ष्िात खातेय् खाते में हस्तांतरित करनी होगी। कंपनी अिानियम 1956 की धारा 77 ‘अ’ में अंशों को करने के संबंध में निम्न प्रिया लागू होगीः - ;पद्ध अंशों का क्रम अंतनिर्यमों द्वारा अिाकृत होना चाहिए। ;पपद्ध अंश धारकों की सामान्य सभा में विशेष संकल्प द्वारा प्राप्त किया जाना चाहिए। ;पपपद्ध एक वितिय वषर् में अंशों का क्रय प्रदत्त पूँजी और मुक्त आरक्ष्िात के 25ः से अिाक नहीं हो सकता है। ;पअद्ध अंशों के क्रय के पश्चात )ण समता अनुपात 2रू1 से अिाक नहीं हो सकता है। ;अद्ध अंशों के क्रय हेतु समस्त अंश पूणर्तः प्रदत्त होने चाहिए। ;अपद्ध विशेष संकल्प पारित होने की तिथ्िा से 12 माह की अविा के भीतर अंशों को क्रय हो जाना चाहिए। ;अपपद्ध कंपनी को पंजिकृत और सेबी के पास शोधन समता अिाघोषण, जिसे कम से कम दो निदेशकों ने हस्ताक्षरित किया हो भेजी जानी चाहिए। उदाहरण 22 गरीमा लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 3000 अंशों को 20 रु. प्रीमियम पर निगर्मन के आवेदन के लिये विवरण - पत्रा जारी किया जो कि निम्न प्रकार देय हैः रु आवेदन पर 20 प्रति अंश आबंटन पर 50 प्रति अंश ;अिामूल्य सहितद्ध प्रथम माँग पर 20 प्रति अंश द्वितीय भाग पर 30 प्रति अंश 4ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए। 3ए600 अंशों के आवेदकों को अनुपातिक आबंटन किया गया, शेष आवेदनों को अस्वीकार कर दिया गया। आवेदन पर प्राप्त अतिरिक्त राश्िा आबंटन पर देय राश्िा के प्रति समायोजित की गइर्। रेणुका, जिसे 360 अंश आबंटित किए गए, आबंटन और माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रही और इनके अंशों को जब्त कर लिया गया। कनिका, जो कि 200 अंशों की आवेदक है दो माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रही। इनके अंशों को जब्त कर लिया गया। यह सभी अंश नमन को 80 रु. प्रति अंश पूणर् भुगतान प्राप्त में बेच दिये गये। कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्टयाँ दें। हल गरीमा लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृ नाम जमा सं. राश्िा राश्िा ;रु.द्ध ;रु.द्ध बैंक खाता नाम 80ए000 अंश आवेदन खाते से 80ए000 ;4ए000 अंशों पर आवेदन की राश्िा 20 रु प्रति अंश प्राप्तद्ध 80ए000 अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 60ए000 अंश आबंटन खाते से 12ए000 बैंक खाते से 8ए000 ;3000 अंशों की आवेदन राश्िा का अंश पूँजी खाते में, 600 अंशों की राश्िा की अंश आबंटन खाते में, 400 अंशों की राश्िा वापस में हस्तांतरणद्ध 1ए50ए000 बैंक खाता नाम अंश पूँजी खाते से 90ए000 प्रतिभूति प्रीमियम खाते से 60ए000 ;3ए000 अंशों पर 50 रु. प्रति अंश से आबंटन राश्िा 20 रु. अिालाभ सहित देयद्ध 1ए21ए440 बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से 1ए21ए440 ;अंश आबंटन पर प्राप्त राश्िा देखे टिप्पणी 1द्ध 60ए000 अंश प्रथम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से 60ए000 ;3ए000 अंशों पर 20 रु. प्रति अंश माँग राश्िा देयद्ध बैंक खाता नाम अंश प्रथम माँग खाते से ;2ए440 अंशों पर प्रथम माँग राश्िा प्राप्तद्ध 48ए800 90ए000 73ए200 56ए000 48ए800 90ए000 73ए200 अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से ;3ए000 अंशों पर 30 रु. प्रति अंश माँग राश्िा देयद्ध बैंक खाता नाम अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से ;2ए440 अंशों पर द्वितीय और अंतिम माँग राश्िा प्राप्तद्ध अंश पूँजी खाता नाम प्रतिभूति अिामूल्य खाता नाम 7ए200 अंश आबंटन खाते से 16ए560 अंश प्रथम माँग खाते से 11ए200 अंश द्वितीय और अंतिम माँग खाते से 16ए800 अंश हरण खाते से ;देखे टिप्पणी 3द्ध ;560 अंशों का हरणद्ध 44ए800 18ए640 बैंक खाता नाम अंश हरण खाता नाम 11ए200 अंश पूँजी खाते से ;560 रिण किये गये अंशों का पुन निगर्मनद्ध 7ए440 56ए000 अंश हरण खाता नाम पूँजी आरक्ष्िात खाते से ;560 हरण किये गये अंशों का पुननिगर्मन पर लाभ हस्तांतरणद्ध 7ए440 टिप्पणी: आबंटन पर प्राप्त राश्िा की गणना निम्न प्रकार हैः - ;रु.द्ध आबंटन पर देय वुफल राश्िा ;प्रीमियम सहितद्ध 1ए50ए000 घटायाः 600 अंशों पर प्राप्त आवेदन राश्िा का आबंटन खाते में समायोजन ;12ए000द्ध 3ए000 अंशों पर शु( आबंटन राश्िा देय 1ए38ए000 घटायाः रेणुका को आबंटित 360 अंशों पर अप्राप्त राश्िा 360 ×1ए38ए000 3000 ;16ए560द्ध 2640 अंशों पर प्राप्त निवल राश्िा 1ए21ए440 जब आबंटन में जिसमें प्रतिभूति प्रीमियम के 20 रु. प्रति अंश सममलित हैं प्राप्त नहीं हुये हैं, रेणुका द्वारा लिये गये 360 अंशों ;अरण किये गयेद्ध के लिए अंश अिालाभ खाता नियम के अनुसार नाम किया जायेगा। हरण की राश्िा निम्न प्रकार ज्ञात की जायेगीः द्र 3ए600öरेणुका से प्राप्त आवेदन राश्िा: प्रप्र360 × झ्झ्झ् त्र 432 × 20 त्र 8ए640 रुध् 3ए000ø कनिका से 200 अंशों पर प्राप्त आवेदन और आबंटन राश्िा 10ए000 अंशों के हरण से प्राप्त वुफल राश्िा 18ए640 उदाहरण 23 सनराइर्स कंपनी लिमिटेड ने 10 रु. प्रत्येक 10ए000 अंशों को 11 रु. प्रति अंश पर जनता में अभ्िादान के निगर्मित किया। राश्िा निम्न प्रकार हैः 3 रु. आवेदन पर 4 रु. आबंटन पर ;प्रीमियम सहितद्ध 4 रु. प्रथम और अंतिम माँग पर 12ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए और संचालकों ने आनुपातिक आबंटन किया। श्री अहमद, 120 अंशों के आवेदक व आबंटन और माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहे और श्री बासू जिनके पास 200 अंश थे माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहे। इन सभी अंशों को जब्त कर लिया गया। जब्त किये गये अंशों में से 150 अंशों ;श्री अहमद के सभी अंशों सहितद्ध को 8 रु. प्रति अंश में निगर्मित किया। उपरोक्त व्यवहारों की रोजनामचा प्रविष्िटयों का अभ्िालेखन करें और अंश हरण खाता बनाइये। हल लिमिटेड की पुस्तकें रोजनामचा तिथ्िा विवरण ब.पृ नाम जमा सं. राश्िा राश्िा ;रुपयेद्ध ;रुपयेद्ध बैंक खाता नाम 36ए000 अंश आवेदन खाते से 36ए000 ;12ए000 अंशों पर 3 रु. प्रति अंश की दर से आवेदन राश्िा प्राप्तद्ध 36ए000 अंश आवेदन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 30ए000 अंश आबंटन खाते से 6ए000 ;10ए000 अंशों की आवेदन राश्िा का पूँजी खाते में और शेष को आबंटन खाते में हस्तांतरणद्ध 40ए000 अंश आबंटन खाता नाम अंश पूँजी खाते से 30ए000 प्रतिभूति प्रीमियम खाते से 10ए000 ;10ए000 अंशों पर 4 प्रति अंश की दर से, 1 रु अिालाभ सहित आबंटन राश्िा देयद्ध 33ए660 बैंक खाता नाम अंश आबंटन खाते से 33ए660 ;अंश आबंटन पर प्राप्त राश्िा देखे टिप्पणी 1द्ध 40ए000 अंश प्रथम और अंतिम माँग खाता नाम अंश पूँजी खाते से 40ए000 ;10ए000 अंशों पर 4 रु. प्रति अंश की दर से माँग राश्िा देयद्ध बैंक खाता नाम अंश प्रथम और अंतिम माँग खाते से ;9ए700 अंशों पर प्राप्त माँग राश्िाद्ध 38ए800 3ए000 38ए800 अंश पूँजी खाता नाम प्रतिभूति अिालाभ खाता ;देखे टिप्पणी 2द्ध नाम 100 अंश आबंटन खाते से 340 अंश प्रथम और अंतिम माँग खाते से 1ए200 अंश हरण खाते से ;देखे टिप्पणी 3द्ध ;300 अंशों का हरणद्ध 1ए200 1ए560 बैंक खाता नाम अंश हरण खाता नाम 300 अंश पूँजी खाते से ;300 अंशों का हरणद्ध 360 1500 अंश हरण खाता नाम पूँजी आरक्ष्िात खाते से ;150 हरण किए गये अंशों के निगर्मन पर लाभ का पूँजी आरक्ष्िात खाते में हस्तांतरणद्ध 360 अंश हरण खातातिथ्िा विवरण ब.पृसं. राश्िा;रु.द्ध तिथ्िा विवरण ब.पृस. राश्िा ;रु.द्ध अंश पूँजी पूँजी आरक्ष्िात शेष आ/ले 300 360 900 विविध 1ए560 1ए560 1ए560 कायर्कारी टिप्पण्िायाँः - 1ण् आबंटन पर प्राप्त राश्िा की गणना निम्न प्रकार की जायेगी: 2ण् प्रतिभूति प्रीमियम खाते को केवल 100 रु. नाम लिखे गये हैं, जोकि श्री अहमद के 100 अंशों के आबंटन से संबंिात है जिनसे आबंटन राश्िा ;प्रीमियम सहितद्ध नहीं प्राप्त हुइर् है। 3ण् अंश हरण खाता, हरण किये गये अंशों पर प्राप्त राश्िा अंश प्रीमियम को छोड़ कर दशार्ता है इस कीगणना निम्न प्रकार की जायेगीःश्री अहमद 120 अंशों पर 3 रु. प्रति अंश की दर से आवेदन राश्िा का भुगतान किया 360 श्री बासू ने 200 अंशों पर 6 रु. प्रति अंश की दर से भुगतान किया ;रु.द्ध 10ए000 अंशों पर 4 रु. प्रति अंश से देय वुफल आबंटन राश्िा 40ए000 घटायाः 2ए000 अंशों पर प्राप्त आवेदन राश्िा का समायोजन ;6ए000द्ध घटायाः 120 अंशों के आवेदक से देय राश्िा जिनको 100 अंशों का आबंटन किया गया 10010ए000 × 34ए000 ;340द्ध आबंटन पर प्राप्त राश्िा 33ए660 1200 ;आवेदन और आबंटन राश्िा प्रीमियम के अतिरिक्तद्धवुफल प्राप्त राश्िा 1560 4ण् श्री अहमद के हरण किये गये 100 अंशों पर प्राप्त राश्िा 360 द्र50öप्र × 1ए200 रु.झ्झ् 300प्रझ्ध्200 ø 150 हरण किये गये अंशों पर प्राप्त वुफल राश्िा जो कि पुनः निगर्मित किये गये 660 घटायाः हरण किये गये अंशों के पुनः निगर्मन पर बट्टा ;150 × 2 रु.द्ध 300 पूँजी लाभ की राश्िा का पूँजी संयम खाते में हस्तांतरण 360 स्वयं करें निम्न की रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करेंः ;अद्धकंपनी के निदेशकों ने 10 रु. प्रत्येक 200 समता अंशों को हरण किया जिन पर 800 रु. भुगतानप्राप्त था। इन अंशों को 1ए500 रु. के भुगतान पर पुन निगर्मित किया गया।;बद्ध अ 10 रु. प्रत्येक के 100 अंशों का धारक है जिस पर आवेदन राश्िा 1 रु. का भुगतान किया गयाहै। ब 10 रु. प्रत्येक के 200 अंशों का धारक है जिस पर आवेदन राश्िा 1 रु. और आबंटन राश्िा 2 रु. का भुगतान किया गया है। स 10 रु. प्रत्येक के 300 अंशों का धारक है जिस पर 1 रु. आवेदन, 2 रु. आबंटन और 3 रु. प्रथम माँग का भुगतान किया गया है ये सभी बकाया राश्िा और द्वितीय माँगराश्िा 4 रु. प्रति अंश का भुगतान करने में असपफल रहे। अ, और स के सभी अंशों को जब्त ;हरणद्धकर लिया गया और 11 रु. प्रति अंश पूणर् प्रदत्त में पुनः निगर्मित किया गया। अध्याय में प्रयुक्त श्ब्द 1ण् संयुक्त पूजी कंपनी 15ण् रोकड़ के अतिरिक्त प्रतिपफल के लिए 2ण् अंश पूँजी अंशों का निगर्मन 3ण् अिाकृत पूँजी 16ण् अंशों पर बट्टा 4ण् निगर्मित पूँजी 17ण् अंशों पर प्रीमियम ;अध्िलाभद्ध 5ण् अनिगर्मित पूँजी 18ण् आवेदन राश्िा 6ण् अभ्िादत्त पूँजी 19ण् न्यूनतम अभ्िादान 7ण् मांगी गइर् पूँजी 20ण् अंशों पर माँग राश्िा 8ण् अयाचित पूँजी 21ण् माँग की बकाया राश्िा 9ण् चुकता पूँजी 22ण् अगि्रम प्राप्त मांग 10ण् आरक्ष्िात पूँजी 23ण् अिा अभ्िादान 11ण् अंश 24ण् न्यूनतम अभ्िादान 12ण् अिामानी अंश 25ण् अंशों का हरण 13ण् अमोचीय पूवार्िाकार अंश 26ण् हरण किये गये अंशों का पुनः निगर्मन 14ण् समता अंश 27ण् अंशों का पुनः क्रय अिागम उद्देश्य के संदभर् में सारांश कंपनी: एक संगठन जो उन व्यक्ितयों से मिलकर बनता है जो अंश धारक कहलाते हैं क्योकि उनके पास कंपनी के अंश हैं तथा वह चुने हुए निदेशक मंडल के माध्यम से व्यवसाय के लिए वैधानिक व्यक्ित के रूप में कायर् कर सकते हैं। अंश: एक पूँजी का एक भ्िान्नात्मक भाग होता है जो कंपनी में स्वामित्व का आधार बनाता है कंपनी अिानिमन 1956 के प्रावधानों के अनुसार सामान्यतः अंश दो प्रकार के होते हैं अथार्त समता अंश और पूवार्िाकार अंश। पूवार्िाकार अंश पुनः भ्िान्न - भ्िान्न प्रकार के होते हैं जो उनको दिए गए अिाकारों की भ्िान्नता पर आधारित हैं कंपनी की अंश पूँजी चयन किये गये व्यक्ितयों के समूहू द्वारा निजी निगर्मन या जनता द्वारा अभ्िादान से अंशों का निगर्मन करके एकत्रा की जाती है अतः अंशों का निगर्मन रोकड़ द्वारा या रोकड़ प्रतिपफल के अतिरिक्त जिसमें पहला समान्य है, किया जाता है। जब कंपनी व्यापार क्रय या वुफछ संपति/परिसंपतियां करती हैं और बेचने वाला पक्ष भुगतान के रूप में कंपनी के पूणर् भुगतान प्राप्त अंशों को लेने के सहमत होगा तब अंशों का निगर्मन रोकड़ प्रतिपफल के अतिरिक्त कहा जायेगा। अंशों के निगर्मन की अवस्थायेंः रोकड़ के लिए अंशों का निगर्मन, इसके लिए कानून द्वारा निधार्रित कायर्वििा के सवर्था अनुरूप जारी करने की अपेक्षा की जाती है। जब अंश रोकड़ के लिए जारी किए जाते हैं तो उन पर निम्नलिख्िात एक या इससे अिाक अवस्थाओं में राश्िा इकट्ठी की जा सकती है। ;पद्ध अंशों के आवेदन पर ;पपद्ध अंशों के आबंटन पर ;पपपद्ध अंशों पर मांग/मांगों पर बकाया मांगः कभी - कभी आबंटन पर मांगी गइर् पूणर् राश्िा और/या माँग ;मांगोंद्ध की धनराश्िा आबंटियों/अंशधारकों से प्राप्त नहीं हो पाती है, इस प्रकार प्राप्त नहीं हुइर् राश्िा को संचयी तौर पर ‘अदत्त मांग’ या माँग की बकाया राश्िा कहते हैं हालांकि किसी कंपनी के लिए माँग की बकाया राश्िा का अलग खाता रखना अनिवायर् नहीं है। ऐसे भी दृष्टांत है जहां वुफछ अंशधारक उनको आबंटित अंशों पर अभी तक मांगी गइर् आंतरिक या पूणर् राश्िा का भुगतान करना विवेकपूणर् मानते हैं। अंश धारक द्वारा आबंटन/मांग/;मांगोंद्ध पर उनसे प्राप्त राश्िा से अिाक किया गया भुगतान माँग की अगि्रम राश्िा के नाम से जाना जाता है जिसके लिए एक अलग खाता रखा जाता है कंपनी को अपने अंतनिर्यमों के अनुसार माँग की बकाया राश्िायों पर ब्याज लगाने की शक्ित है और यदि यह इनको स्वीकार करती है तो अगि्रम माँग की राश्िा पर ब्याज का भुगतान करने का दायित्व भी होता है। अिा अभ्िादान: वुफछ कंपनीयों के अंशों के संबंध में यह संभव है कि अभ्िादान दान की स्िथति उपन्न हो, जिसका अथर् है विवरण - पत्रिाण के माध्यम से प्रस्तावित अंशों से अिाक अंशों के लिए आवेदन प्राप्त किए हैं ऐसी स्िथति में संचालकों के पास निम्नलिख्िात विकल्प रहते हैंः ;पद्ध वे वुफछ आवेदनों को पूणर्तः स्वीकार कर सकते हैं और अन्य को पूरी तरह अस्वीकर कर सकते हैं। ;पपद्ध उनके द्वारा यथानुपात विवरण किया जा सकता है। ;पपपद्ध उपयुक्त दोनों विकल्पों को मिला जुलाकर अपनाया जा सकता है। यदि अभ्िादान की राश्िा का 90ः तक न्यूनतम राश्िा प्राप्त नहीं होगी तब निगर्मन रदद् होगा। इस स्िथति में जनता को प्रस्तावित अंशों पर कम आवेदन प्राप्त होगा। इस निगर्मन को अल्प अभ्िादान कहेंगे। प्रीमियम पर अंशों का निगर्मन: इस बात पर विचार किए बिना कि अंश रोकड़ से भ्िान्न प्रतिपफल के लिए या रोकड़ के लिए निगर्मित किए गए हैं, वे या तो सममूल्य पर या अिामूल्य पर जारी किए जा सकते हैं सममूल्य पर निगर्मित अंशों का अथर् है कि अंश अपने अंकित या सामान्य/सममूल्य के लिए जारी किए गए हैं यदि अंश प्रीमियम पर अथार्त अंकित मूल्य या सममूल्य से अिाक राश्िा पर निगर्मित किए गए हैं तो प्रीमियम की राश्िा अंश अिालाभ खाते के नाम से एक अलग खाते में जमा की जाती है जिसका उपयोग सवर्था कानून के अनुसार ही किया जाता है। बट्टे पर अंशों का निगर्मन: अंश बट्टे पर अथार्तः अंकित मूल्य या सममूल्य से कम राश्िा पर जारी किए जा सकते हैं, बशतर्े कंपनी इसके संबंध में कानून द्वारा निधारिर्त प्रावधनों का पूणर्रूपेण अनुपालन करती हो। इस अनुपालन के अलावा कंपनी के अंश साधारणतः बट्टे पर जारी नहीं किए जा सकते। जब अंश बट्टे पर जारी किए जाते हैं तो बट्टेकी राश्िा अंश निगर्मन पर बट्टा खाते के नाम पक्ष में लिखी जाती है जो कंपनी के लिए पूँजी हानि की प्रकृति की तरह होती है। अंशों का हरणः कभी कभी अंशधारक आबंटित अंशों पर एक या अिाक किस्तों का भुगतान नहीं कर पाए तो ऐसी स्िथति में कंपनी के पास चूककतार्ओं के अंशों को हरण करने का अिाकार होता है इसे अंशों का हरण कहते हैं। हरण का अथर् अनुबंध भंग होने के कारण आबंटन का निरस्तीकरण और अंशों पर प्राप्त राश्िा को अंश हरण राश्िा के रूप में मानते हैं। अंश हरण का संक्ष्िाप्त लेखांकन उन शतो± पर निभर्र करता है जिन पर से अंश जारी किए गए हैं सममूल्य पर अिामूल्य पर या बट्टे पर। सामान्यतः यूं कहें कि हरण पर लेखांकन हरण की अवस्था तक पारित प्रविष्िटयों को विघटित करना है अंशों पर पहले प्राप्त हो चुकी राश्िा हरण किए गए अंश खाते में जमा कर दी जाएगी। अंशों का पुनः निगर्मन: कंपनी के प्रबंधन में इसके द्वारा एक बार हरण कर लिए अंशों को पुनः जारी करने की शक्ित निहित होती है बशतर्े कि संस्था के अंतनिर्यमों में इससे संबंिात शतो± और निबंधनों में ऐसा प्रावधान हो। ये अंश बट्टे पर भी पुनः जारी किए जा सकते हैं बशतर्े अनुमानतः बट्टे की राश्िा पुनः जारी किए जाने वाले अंश से संबंिात अंश हरण खाते के जमा शेष से अिाक न हों। अतः हरण किए गए अंशों को पुनः जारी किए जाने पर दिया गया बट्टा अंश हरण खाते के नाम लिखा जाता है। एक बार जब हरण किए गए अंशों का पुनः निगर्मन किया जायेगा अंश हरण खाते के जमा शेष को पूँजी आरक्ष्िात खाते में हस्तांतरित करेंगे जोकि हरण किए गये अंशों पर लाभ को दशार्ता है। सभी हरण किये गये को पुनः निगर्मन नहीं करने की स्िथति में अंशों पर हरण खाते में जमा राश्िा को पुनः निगर्मित न किये गये अंशों से संबंिात राश्िा को आगे ले जाया जायेगा और खाते में केवल शेष राश्िा को पूँजी आरक्ष्िात खाते में जमा करंेगे। अभ्यास के लिए प्रश्न लघु उत्तरीय प्रश्न 1ण् सावर्जनिक कंपनी क्या है? 2ण् निजी कंपनी क्या है? 3ण् सरकारी कंपनी को परिभाष्िात करें? 4ण् आप सूचीबध् कंपनी से क्या समझते हैं? 5ण् प्रतिभूति अिामूल्य का प्रयोग क्या है? 6ण् अंशों का पुनः क्रय से क्या तात्पयर् है? 7ण् न्यनतम अभ्िादान पर संक्ष्िाप्त टिप्पणी लिखें। दीघर् उत्तरीय प्रश्न 1ण् कंपनी शब्द का क्या अथर् है इसकी विशेषताओं का वणर्न करें। 2ण् उन मुख्य श्रेण्िायों का संक्ष्िाप्त में वणर्न करें जिनमें कंपनी की अंश पूँजी वगीर्कृत की जाती है। 3ण् आप अंश से क्या समझते हैं कंपनी अिानियम 1956 संशोिात के अनुसार अंशों की श्रेण्िायों को स्पष्ट करें। 4ण् अिा - अभ्िादान की स्िथति में कंपनी के अंशों आबंटन की प्रिया का वणर्न करें। 5ण् अध्िमान अंश क्या विभ्िान्न प्रकार के पूवार्िाकार अंशों का वणर्न करें। 6ण् माँग की बकाया राश्िा और माँग की अगि्रम राश्िा से संबंिात वििा के प्रावधानों का वणर्न करें। 7ण् अिा अभ्िादान और अल्प अभ्िादान शब्दों को सप्ष्ट करें। लेखा पुस्तकों में इस का लेखा किस प्रकार किया जाता है। 8ण् उन उद्देश्यों का वणर्न करें जिनके लिए कंपनी अभ्िामूल्य खाते का प्रयोग कर सकती है। 9ण् उन परिस्िथतियों का स्पष्ट रूप से वणर्न करें जिसके अंतगर्त कंपनी बट्टे पर अंशों का निगर्मन करती है। 10ण् अंशों का हरण शब्द की व्याख्या करें और हरण की लेखा वििा को बताएं। संख्यात्मक प्रश्न 1ण् अनीश लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 30ए000 समता अंशों का निगर्मत किया जो 30 रु. आवेदन पर, 50 रु. आबंटन पर और 20 रु. प्रथम और अंतिम माँग पर देय हैं। सभी राश्िा विध्िवत प्राप्त की गइर्। इन व्यवहारों को कंपनी के रोजनामचों में अभ्िालेख्िात करें। 2ण् आदर्श कंट्रोल डिवाइर्स लिमिटेड 3ए00ए000 रु. की अिाकृत पूँजी जो कि 10 रु. प्रत्येक के 30ए000 अंशों में विभाजित है पूंजिकृत है जनता को आमंत्रिात किए। जिस पर 3 रु. प्रति अंश आवेदन पर 4 रु. प्रति अंश आबंटन पर 3 रु. प्रति प्रथम एवं अंतिम माँग पर देय हैं। इन अंशों पर पूणर् अभ्िादान प्राप्त हुआ और सभी राश्िा प्राप्त की गइर् रोजनामचा और रोकड़ पुस्तक तैयार करें। 3ण् साॅपफटवेयर सोलूशन इंडिया लिम्िटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 20ए000 समता अंशों के लिए आवेदन अमंत्रिात किये, जिन पर 40 रु. आवेदन पर 30 रु. आबंटन पर और 30 रु. माँग पर देय हैं कंपनी ने 32000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त किया। 2ए000 अंशों के आवेदकों को राश्िा वापस लौटा दी गइर्। 10ए000 अंशों के आवेदनों को पूणर् स्वीकार कर लिया गया और 20ए000 अंशों के आवेदकों को आवेदन किये गये अंशों के आधे अंश आबंटित किये गये और आिाक्य राश्िा को आबंटन में समायोजित कर लिया गया। आबंटन और देय सभी राश्िा प्राप्त की गइर्। रोजनामचा और रोकड़ पुस्तक तैयार करें। 4ण् रूपक लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 10ए000 अंशों का निगर्मन किया जिन पर 20 रु. प्रति अंश आवेदन पर, 30 रु. प्रति अंश आबंटन पर और 25 रु. प्रति अंश की दो माँग में देय है। आवेदन और आबंटन राश्िा प्राप्त कर ली गइर्। प्रथम माँग पर एक सदस्य के अतिरिक्त जिसके पास 200 अंश हैं, सभी सदस्यों ने अपनी देय राश्िा का भुगतान किया जबकि एक अन्य सदस्य जिसके पास 500 अंश हैं शेष देय राश्िा का पूणर् भुगतान कर दिया। अंतिम माँग अभी मांगी नहीं गइर् है। 5ण् मोहित ग्लास लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 20ए000 अंशों का 110 रु. प्रति अंश में निगर्मन किया। जिन पर 30 रु. आवेदन पर 40 रु. आबंटन पर ;अिालाभ सहितद्ध 20 रु. प्रथम माँग पर और 20 रु. अंतिम माँग पर देय है। 24ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुये और 20ए000 अंशों का आबंटन किया गया और 4ए000 अंशों को अस्वीकार करके उन पर प्राप्त राश्िा लोटा दी गइर्। सभी राश्िा प्राप्त की गइर्। रोजनामचा प्रविष्िटयों करें। 6ण् एक लिमिटेड कंपनी ने 10 रु. प्रत्येक के 1ए00ए000 समता अंशों को 2 रु. प्रति अंश प्रीमियम पर, 10 रु. प्रत्येक के 2ए00ए000ए 10ः अिामान अंशों सममूल्य के लिए अभ्िादान अमंत्रिात किया अंशों पर देय राश्िा निम्न प्रकार है। समता अंश अिामान अंश आवेदन पर 3 रु. प्रति अंश 3 रु. प्रति अंश आबंटन पर 5 रु. प्रति अंश 4 रु. प्रति अंश ;अिालाभ सहितद्ध प्रथम माँग पर 4 रु. प्रति अंश 3 रु. प्रति अंश सभी अशों पर पूणर् अभ्िादान प्राप्त हुआ, मांगी गइर् राश्िा प्राप्त हुइर् कंपनी की पुस्तकों में निम्न व्यवहारों को रोजनामचा और रोकड़ पुस्तक में अभ्िालेखन करें। 7ण् इर्स्टनर् कंपनी, जिसकी अिाकृत पूँजी 10 रु. प्रत्येक अंश 10ए00ए000 है ने 50ए000 अंश 3 रु. प्रति अंश अिामूल्य पर निगर्मित किए जो इस प्रकार देय हैं: आवेदन पर 3 रु. प्रति अंश आबंटन पर ;अधलाभ सहितद्ध 5 रु. प्रति अंश प्रथम माँग पर ;आबंटन के तीन महीने बाद देयद्ध 3 रु. प्रति अंश 8ण् सुमिम मशीन लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 50ए000 अंशों को 5ः बट्टे पर निगर्मन किया। अंशों पर 25 रु. आवेदन पर, 40 रु. आबंटन पर 30 रु. प्रथम और अंतिम माँग पर देय हैं निगमर्न पर पूणर् अभ्िादान प्राप्त हुआ और 400 अंशों पर अंतिम माँग के अतिरिक्त संपूणर् राश्िा प्राप्त की गइर्। बट्टे को आबंटन पर समायोजित किया जायेगा। रोजनामचा प्रविष्िटयों और तुलन पत्रा तैयार करें। 9ण् वुफमार लिमिटेड ने भानू आयल लिमिटेड से 6ए30ए000 रु. की परिसंपिायों का क्रय किया। वुफमार लिमिटेड ने समझोते के अनुसार 100 रु. प्रत्येक के पूणर् प्रदत अंशों का निगर्मन किया। कौनसी रोजनामचा प्रविष्िटयों की जायेंगी यदि अंशों का निगर्मन ;अद्ध सममूल्य पर ;बद्ध 10ः बट्टे पर और ;सद्ध 20ः प्रीमियम पर हो। ;उत्तरः निगर्मित अंशों की संख्या ;अद्ध 630 ;वद्ध 7ए000 ;सद्ध 5ए250द्ध 10ण् बंसल हैवी मशीन लिमिटेड ने हण्डा टैडस से 3ए20ए000 रु. मूल्य की मश्ीन का क्रय किया। 50ए000 रुका रोकड़ भुगतान किया गया और शेष राश्िा के लिए 100 रु. प्रत्येक के अंशों का 90 रु. निगर्म मूल्य पर किया गया। उपयुक्र्त व्यवहारों की रोजनामचा प्रविष्िटयां करें। ;निगर्मित अंशों की संख्या: 3ए000 अंशद्ध 11ण् नयन लिमिटैड ने 100 रु. प्रत्येक के 20ए000 अंशों का निगर्मन किया जिस पर 25 रु. आवेदन पर, 30 रु. आबंटन पर, 25 रु. प्रथम माँग पर और शेष अंतिम माँग पर देय हैं। अनुमा, जिसके पास 200 अंश हैं ने आबंटन राश्िा और माँग राश्िा का भुगतान नहीं किया और वुफमवुफम जिसके पास 100 अंश हैं जो दोनों मांगों का भुगतान नहीं किया, के अतिरिक्त संपूणर् राश्िा प्राप्त हुइर्। संचालकों ने अनुमा और वुफमवुफम के अंशों का हरण कर लिया। रोजनामचा प्रविष्िटयां करें। 12ण् कृष्णा लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 15ए000 अंशों का 10 रु. प्रति अंश अिालाभ पर निगर्मन किया। जो इस प्रकार देय हैंः - आवेदन पर 30 रुआबंटन पर 50 रु. ;अिालाभ सहितद्ध प्रथम और अंतिम माँग पर 30 रुसभी अंशों पर अभ्िादान प्राप्त हुआ और कंपनी ने सभी देय राश्िा 150 अंशों पर आबंटन और माँग राश्िा के अतिरिक्त प्राप्त की इन अंशों का हरण किया गया और नेहा को 12 रुप्रत्येक के पूणर् प्रपत्रा अंशों में पुननिर्गम किया गया। कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 4ए500 रु.द्ध 13ण् आरूशी कम्पयूटर लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 10ए000 समता अंशों का 10ः बट्टे पर निगर्मन किया। जिन पर निवल राश्िा इस प्रकार देय है। आवेदन पर 20 रुआबंटन पर 30 रु. ;40 दृ 10 रु. बट्टाद्ध प्रथम माँग पर 30 रुअंतिम माँग पर 10 रुएक अंश धारी जिसके पास 200 अंश हैं ने अंतिम माँग का भुगतान नहीं किया। इसके अंशों का हरण कर लिया गया। इन अंशों में से 150 अंशों को सोनिया को 75 रु. प्रति अंश पर पुनः निगर्मित किया गया। कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। ;उत्तरः पूँजी आरक्ष्िात 9ए750 रु.द्ध 14ण् रौनक कोटन लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 6ए000 समता अंशों के 20 रु. प्रति अंश अिालाभ पर निगर्मन के लिए विवरण पत्रिाका से जारी करके आवेदन मांगे। जो निम्न प्रकार देय हैं। आवेदन पर 20 रुआबंटन पर 50 रु. ;अिालाभ सहितद्ध प्रथम माँग पर 30 रुअंतिम माँग पर 20 रु10ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए और 8ए000 अंशों के आवेदकों को यथानुपात आबंटन किया गया तथा शेष आवेदकों को वापस कर दिया गया आवेदन पर प्राप्त अिाक राश्िा को आबंटन पर देय राश्िा में समायोजित किया जायेगा। रोहित जिसको 300 अंशों का आबंटन किया गया था आबंटन और माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहा और उसके अंशों का हरण कर लिया गया। इर्तिका जिसने 600 अंशों के लिए आवेदन किया था माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रही उसके अंशों का भी हरण कर लिया गया। इन सभी अंशों का कातिर्क को 80 रु. पूणर् प्रदत्त में विक्रय किया गया। कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्िटयां करें। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 7ए000 रु.द्ध 15ण् हिमालय कंपनी लिमिटेड ने 10 रु. प्रत्येक के 1ए20ए000 समता अंश 2 रु. अिालाभ पर जनता में अभ्िादान के लिए निगर्मित किए जो निम्न प्रकार देय हैंः - आवेदन पर 3 रु. प्रति अंश आबंटन पर ;अिालाभ सहितद्ध 5 रु. प्रति अंश प्रथम माँग पर 2 रु. प्रति अंश द्वितीय और अंतिम माँग पर 2 रु. प्रति अंश 1ए60ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए। यथानुपात आधार पर आबंटन किया गया। आवेदन पर प्राप्त अिाक राश्िा को आबंटन पर देय राश्िा में समायोजित किया गया। रोहन जिसको 4800 अंशों का आबंटन किया गया था दोनों माँग राश्िा देने में असपफल रहा। इन अंशों को द्वितीय माँग राश्िा के बाद हरण कर लिया गया। सभी हरण किए गये अंशों को रीना को 7 रु. प्रति अंश में पुनः निगर्मन किया गया। कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें और अंश पूँजी से संबंिात व्यवहारों को कंपनी के तुलन पत्रा में दशार्ये। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 14ए400 रु.द्ध 16ण् पि्रंस लिमिटेड ने 10 रु. प्रत्येक के 2ए00ए000 समता अंशों को 3 रु. अिालाभ पर निगर्मन करने के लिये विवरण - पत्रा पर अमंत्रिात किया जो निम्न प्रकार देय हैंः आवेदन पर 2 रुआबंटन पर ;प्रीमियम सहितद्ध 5 रुप्रथम माँग पर 3 रुद्वितीय माँग पर 3 रु30ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए और आबंटन अनुपातिक आधार पर किया गया। आवेदन पर प्राप्त अिाक राश्िा को आबंटन पर देय राश्िा में समायोजित किया जायेगा। श्री मोहित जिनको 400 अंश आबंटिन किए गए थे आबंटन और प्रथम माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहै और प्रथम माँग के पश्चात उनके अंशों का हरण कर लिया गया। श्री जौली जिनको 600 अंशों की आबंटन हुआ था दोनों माँग राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहे अतः इनके अंशों का हरण कर लिया गया। हरण किए गये अंशों में से 800 अंशों का पुनः निगर्मन सुपि्रया को 9 रु. प्रति अंश पूणर् भुगतान प्राप्त में किया गया, जिसमें श्री मोहित के सभी अंश सम्िमलित हैं। कंपनी की पुस्तकों में रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें और तुलन पत्रा तैयार करें। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 2ए000 रु.द्ध 17ण् लाइर्पफ मशीन टूल्स लिमिटेड ने 10 रु. प्रत्येक के 50ए000 समता अंशों को 12 रु. प्रति अंश पर निगर्मन कियार् आवेदन पर 5 रु. ;अिालाभ सहितद्ध आबंटन पर 4 रु. और शेष प्रीमियम और अंतिम माँग पर देय हैं। 70ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए। प्राप्त रोकड़ ऐसे 40ए000 वापस किए गये और 60ए000 रु. को आबंटन पर देय राश्िा में समायोजित किया गया 500 अंशों के एक अंशधारक को छोड़कर सभी अंश धारकों ने माँग देय राश्िा का भुगतान किया। इन अंशों का हरण कर लिया गया और 8 रु. प्रति अंश पूणर् भुगतान प्राप्त पर निगर्मन किया व्यवहारों की रोजनामचा प्रविष्िटयां करें। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 2ए500 रु.द्ध 18ण् ओरिंएट कंपनी लिमिटेड ने जनता में अभ्िादान के लिए 10 रु. प्रत्येक के 20ए000 समता अंशों को 10ः प्रीमियम पर निगर्मन किया जिन पर आवेदन पर 2 रु., आबंटन पर अिालाभ सहित 4 रु., प्रथम माँग पर 3 रु. और द्वितीय और अंतिम माँग 2 रु. देय हैं। 26ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए। 4ए000 अंशों के आवेदन को अस्वीकृत कर दिया गया। शेष आवेदकों को अनुपातिक आबंटन किया गया दोनों मांगों की माँग की गइर् और 500 अंशों को छोड़कर सभी माँग राश्िा प्राप्त की गइर् इन अंशों का हरण कर लिया गया। हरण किए गये ऐसे 300 अंशों को 9 रु. प्रति अंश पर पुननिगर्मन किया गया। रोजनामचा प्रविष्िटयां करें और तुलन पत्रा तैया करें। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 2ए100 रु.द्ध 19ण् अलपफा लिमिटेड ने 10 रु. प्रत्येक के 4ए00ए000 समता अंशों के लिए निम्न शतो± पर आवेदन आमंत्रिात किएः आवेदन पर देय 5 रु. प्रति अंश आबंटन पर देय 3 रु. प्रति अंश प्रथम और अंतिम माँग पर देय 2 रु. प्रति अंश 5ए00ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए। यह निणर्य लिया गयाः ;अद्ध 20ए000 अंशों के आवेदकों को आबंटन अस्वीकृत कर दिया जायेगा। ;बद्ध80ए000 अंशों के आवेदकों को पूणर् आबंटन किया जायेगा ;सद्धशेष बचे अंशों को अन्य आवेदकों के बीच अनुपातिक आधार पर किया जायेगा। ;दद्ध अिाक आवेदन राश्िा को आबंटन राश्िा के भुगतान में उपयोग किया जायेगा। एक आवेदक जिसको अनुपातिक आधार पर आबंटन किया गया जिसने आबंटन और माँग राश्िा का भुगतान नहीं किया और उसके 400 अंशों का हरण कर लिया गया। इन अंशों का पुन निगर्मन 9 रु. प्रति अंश पर किया गया। रोजनामचा प्रविष्िटयों को दशार्ये और उपरोक्त का अभ्िालेखन करने के लिए रोकड़ पुस्तक तैयार करें।। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 2ए100 रु.द्ध 20ण् अशोका लिमिटेड कंपनी ने 20 रु. प्रत्येक के समता अंशों का 4 रु. बट्टे पर निगर्मित किया जिसमें से 1ए000 अंशों का हरण 4 रु. अंतिम माँग के भुगतान न करने पर किया। हरण किये गए 400 अंशों को 14 रुप्रति अंश पर पुन निगर्मित किया गया। शेष अंशों में से 200 अंशों को 20 रु. प्रति अंश पर निगर्मित किया गया। अंशों के हरण और पुन निगर्मन की रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें और पूँजी आरक्ष्िात में हस्तांतरित की गइर् राश्िा और अंश हरण खाते में शेष राश्िा को दशार्ये। ;उत्तरः पूँजी आरक्ष्िात 6ए400 रु. अंश हरण खाते का शेष 4ए800 रु.द्ध 21ण् अमित के पास 10 रु. प्रत्येक के 100 अंश हैं जिस पर उसने 1 रु. प्रति अंश आवेदन राश्िा का भुगतान किया है विमल के पास 10 रु. प्रत्येक के 200 अंश हैं जिस पर उसने 1 रु. और 2 रु. प्रति अंश क्रमशः आवेदन और आबंटन राश्िा का भुगतान किया हुआ है चेतन के पास 10 रु. प्रत्येक के 300 अंश हैं जिस पर उसने 1 रु. आवेदन पर, 2 रु. आबंटन पर 3 रु. प्रथम माँग पर भुगतान किया है। ये सभी बकाया राश्िा और द्वितीय माँग 2 रु. का भुगतान करने में असपफल रहे निदेर्शकों ने इनके अंशों का हरण कर लिया। इन अंशों का पुननिगर्मन 11 रु. प्रति अंश पूणर् भुगतान प्राप्त में किया गया। व्यवहारों की रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 2500 रु.द्ध 22ण् अंजता लिमिटेड की सामान्य पूँजी 3ए00ए000 रु. है जो 10 रु. प्रत्येक के अंशों में विभाजित है जनता को 20ए000 अंशों के अभ्िादान के लिए आमंत्रिात करती है, जो आवेदन पर 2 रु. आबंटन पर 3 रु. और शेष 2ण्50 की दो माँग में देय हैं। कंपनी को 24ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए। 20ए000 अंशों के आवेदनों को पूणर् स्वीकार किया गया और अंश आबंटित किए गये। शेष अंशों के आवेदन को अस्वीकार कर दिया गया और आवेदन राश्िा वापस कर दी गइर्। 600 अंशों पर अंतिम माँग छोड़कर सभी देय राश्िा प्राप्त कर ली गइर्। जो कि कानूनी औपाचारिकताओं को पूणर् करने के पश्चात हरण कर लिये गये। हरण किए गये अंशों में से 400 अंशों को 9 रु. प्रति अंश पर पुनः निगर्मित कर दिया गया। आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िटयाँ करें प्रलेखन करें और पूँजी आरक्ष्िात में हस्तांतरित राश्िा और अंश हरण खाते का शेष दशार्ते हुए तुलन पत्रा तैयार करें। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात में हस्तांतरित राश्िा 2600 रु.द्ध 23ण् निम्न व्यवहारों की रोजनामचा प्रविष्िटयाँ भूषण आयल लिमिटेड की पुस्तकों में करेंः ;अद्ध 100 रु. प्रत्येक के 200 अंशों का 10 रु. बट्टे पर निगर्मन किया गया इनका हरण 50 रु. प्रति अंश आबंटन राश्िा का भुगतान न करने पर किया गया। प्रथम और अंतिम माँग राश्िा 20 रु. प्रति अंश की माँग इन अंशों पर नहीं की गइ। है। हरण किए गये अंशों को 70 रु. प्रति अंश पूणर् भुगतान प्राप्त में निगर्मित किया गया। ;बद्ध 10 रु. प्रत्येक के 150 अंशों को 4 रु. अिालाभ जो कि आबंटन पर देय हैं का हरण आबंटन राश्िा 8 रु. प्रति अंश प्रीमियम सहित का भुगतान न होने पर किया गया। प्रथम और अंतिम माँग राश्िा 4 रु. प्रति अंश अभी मांगी नहीं गइर् है। हरण किए गये अंशों का पुनः निगर्मन 15 रु. प्रति अंश पूणर् भुगतान प्राप्त में किया गया। ;सद्ध50 रु. प्रत्येक सम मूल्य पर निगर्मित किये गये 400 अंशों का हरण 10 रु. प्रति अंश अंतिम मांग का भुगतान न करने पर किया गया। इन अंशों का पुनः निगर्मन 45 रु. प्रति अंश पूणर् भुगतान प्राप्त में किया गया। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात ;अद्ध शून्य ;बद्ध 300 रु. ;सद्ध 14ए000 रु24ण् अमिश लिमिटेड ने 100 रु. प्रत्येक के 40ए000 अंशों को 20 रु. प्रति अंश प्रीमियम पर निगर्मन करने के लिए आवेदन आमंत्रिात करे। जिस पर 40 रु. आवेदन परऋ 40 रु. आबंटन पर ;अिालाभ सहितद्ध 25 रु. प्रथम माँग परऋ 15 रु. द्वितीय और अंतिम माँग पर देय हैं। 50ए000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए और अनुपातिक आधार पर आबंटन किया गया। अिाक आवेदन राश्िा को आबंटन पर देय राश्िा में समायोजित किया जायेगा। रीहित जिसको 600 अंशों का आबंटन किया गया था आबंटन राश्िा का भुगतान करने में असपफल रहे इनके अंशों का आबंटन के पश्चात हरण कर लिया गया। आसमिता, जिसने 1000 अंशों के लिए आवेदन किया था दोनों मांगों का भुगतन करने में असपफल रही इनके अंशों का हरण द्वितीय माँग के पश्चात किया गया हरण किये गये अंशों में से 1ए200 अंशों का विक्रय कपिल को 85 प्रति अंश पूणर् भुगतान प्राप्त में किया गया। जिसमें रोहित के सभी अंश सम्िमलित हैं। आवश्यक रोजनामचा प्रविष्िटयों करें। ;उत्तर: पूँजी आरक्ष्िात 48ए000 रु., अंश हरण खाते का शेष 12ए800 रु.द्ध स्वयं जाँचिये हेतु जाँच सूची स्वयं जाँचियेμ1 ;अद्धअसत्य ;बद्ध सत्य ;सद्ध असत्य ;दद्ध सत्य ;चद्ध सत्य ;छद्ध सत्य ;नद्ध सत्य ;मद्ध सत्य ;वद्ध असत्य ;वद्धअसत्य ;पफद्ध सत्य ;घ्द्ध असत्य ;बद्ध असत्य ;वद्ध असत्य ;जद्ध सत्य ;झद्ध असत्य ;डद्ध सत्य स्वयं जाँचियेμ2 ;अद्ध ;पपद्ध ;बद्ध ;पपपद्ध ;सद्ध ;पद्ध ;वद्ध ;पपद्ध ;चद्ध ;पद्ध ;रद्ध ;पपपद्ध स्वयं जाँचियेμ3 ;अद्ध 8 रुपये ;बद्ध रूपये ;सद्ध विक्रेता नाम 1ए00ए000 अंश पूंजी खाते में 1ए00ए000

RELOAD if chapter isn't visible.