़ग्राफिक डिज़्ााइन इइर्काप़्न के मूल आधारग्राफिक डिज़ ाइन के मूल आधार पिफज्िइ,ज¯दमाख्ीकडनसीलयाअिहारूपनयाािल्नसत,कसाकअकहहएभ्पएका विष्यजअककरफलत्कथ्ाहनाकमा ाप्रवातववसकिवााथ्श्सजा।ष्ियश्सायायष्तासहवदचयित्रययाडार अरस्तपअध्तिाहचिाासश्कदयाितआाप्ररारह।वरराश्दरूिण्कनफलकथ्अकतक,ाािानावएाप्राकृयपरसिीतनअछयााश्बरकतीफामाजत।कीविआद्वइवलािरदारकएहसगापकिाइमाछपराप्रप्कनफलडतििएफिानवतण्मारवाििनािनत्रअमण्का;ज्लचवहतंचील ,श्भ् - भ्मा ालद्धयन्नद्रदवध्;द्धटपेनंस अरवयसस्ंलवनज ीकीकािान्;द्धनानािताप्रागयिजतहइमयि;डागिसिष्ण्याासक्रइिद्धप्रााााक।प्रज्नजउत्पयिजतहाउपदज्िइसदनश्लिान्काअत्;ाद्धामतनाारडााहान्ह। सििाइमभ्क;यअयलत्ककीडनास्वहवद्धनाश्राकमकयगतिलाािाइसध्श्िसाता ा,ठख्राबव(सप्रडीाथ्िअनरू,गसल,रतजवत्श्लिाहासपरतमाताहज,नसमउसवतािनएसविरूदहसानब्वउचवेपजपवदद्धडामततय;इकपजन्।ाफडनमपयसजगपििााइवसहत्वण्अवमएहाकफबााकउस्िातअनसास्िाप्रप्कलाजिाइसमिापथरहडनथ्परतबवनतावफकमहसादागकउयगकााायमीहिापलजमाायतसपजआविभ्न्प्रावतवकप्रामाााा।थनिरतगयताकालहफयज़ग्राफिक डिज़ ाइन परिचय ज् ह अनचांअे दटिाकत हंतेय पत हंि महतस त्रिे,ाबमेर ाृष्तरैाहेैहब ेचपेरपे ा ुाकंछयत्रिे अै अकृतांछवांस ािेहं य दश् वतएँ गाप ड़ फाााााय/य ेघ् ैेृस् ्रकज्इवचंरेििरयनििे।ुफाेीाारूहंगाप ड़ानहारेमा ़दीकस्िाहमिंह ै्रफइिमारक¯ा ा जेज्िर्हैनप।क ीजीज्गससडटिजस ाीचज़् ेलकबेब़वापअैक़आदपाकैीे ीसेरडनि‘रडरिछा़ेापट - ज्ञे छेइता श्लिातहं गाप ड़ ांयपकएंसरुचूा तीेसपहाेे।किज्इसदरवुपिर्व ेश्मै्रनिर् ण्फरफाैरहंविचांक अदनप्रनकन,सदश् दन,नकेप्रतिकन,धमे ेााद रंेोमो े यानरा - े े ररअकष्तकन अै सचादन मंसात दत ह।गाप ड़ाृयसप्रष्ण्ा£ ेरनेेेाी ्रकिज्नद ंेााराू हयैफश्िाेइएंसंवफक ए प्रु सध् ह अै इंसचरवफतहतहवफमध्मवपर्ामानामंोररेाकौरे ख् - यअै तीव श्म हेेह निे द्वाह लय दाकंताश्रेाांतारफाि ंवरमगश थ्तेकरेलैजक्ष्र्अातफ तेा अन ब पचत हं य दृयध् ¯त,ा,चिरतावस्तिकपाहँ ौे ाचभ्व थ्ताीते।श्नवाााुसन वरूिण् कत ह।नोंपरैपनवाादप्रनेोे यार्तिअे चिरें क ाान - द करतय संदश् दतेस जब कइ व्यक्आ ामेसि भकप्रागकत ह तेइसक्राके‘ाब्कसचर ;कीषय रा याश्दं’ेौ ाििअमतइंस बवउउनदपबंजपवदद्धह जाह।रयिेप्राण् अै ाडपरप कका ै ेड सालस्कराताररी ीाउजोालीउ्ेााँश्दि सच वफबु अछ उारौ।लनियदनवघ्ण् ांर तेहह क दएकेच्ण्ेिष्बहदंकइ व्क् भ् कप्रागनी कतारअन चिाय भ्वंक व्क्ार्ष्िायहौ पवेाा ेतेयाेंरेंायतराकन े ल सि न् ममक प्रागकाह तेउयि केरेवकिआयोर ैसक्राफएय ााीध्यत ‘शब्कसचर ; ह जतह।दाकअि ं’दवद.अमतइंस बवउउनदपबंजपवदद्धााौ आब्दसचरदश् अकृये,श्भ्ंर;,आाीज्ञिपांअैश्किंाृया ुाबवेांिसवहवद्धरनरातकख ंग,,ि ंेेाा दयेे कौतततािाारााकय।सी नृय श्ीरसवफां य अभ्नअि मध्मंवफद्वायि जत ह फिमं टलनि ािट एनश्न;नप्रण्न,मटमयि ;हिपेेव,ए,माआद्धल्ीाुध्ल्,ीथ्ि ुा ीबशरेडवंचस ानादो ुेेदरहजमसरफरनं ंि ांेरटछाचसा ाध्द्धअै इरे अ सचरफवफ एस उहण् ै निे ंा व श्दिकारअाब्कदेांमध्मे क सलाूकप्रागयि जत हैाब्ै श्दोाााफपर् याा।नियपव ांतेकसरवे अदि मधंवफअगतदश् मये क सवर्ध् येंाफाकयेे ं र्,यधािगचश ृांकब्ममाायि जत ै गपकिाइ क सं मख् दश्सचरस ीह।ाा।ाफडबुत ेैकाह्रि ानाध्यःृयंा आध्किगापकिाइ पतक टिि ाद्यकि मंभ्ीप्रे ािुन्रडिनािशप्रागेायगयफ ा( लैेाकडीजत ै ाअकंागापकिाइनएक्ष्त्रे मंयकरहंाा।ाि्रि ा - ेााऋहजश्डने र्ेैध्फरंजे न सा मधं अेयसक्र िाइ,ून सबध्वस्ुलैदृंरयेन्न्डिनसां ताा, - ाीसएचमाय चंाकआर्रपिक यश इटरफ ;.ूअइ. अ।िसल अजीिभ्ीै ालरपसी.ार्ा ािक ागूंेयद्धइ फजदएसगाफक डान केन प्ररवफती ाश्ले,सैदर्ाध््रइििाअके ीैा ंब,पशर े ानकंायोकनश - तिकअै सजश्ीाक अवयाहेीह।इन सल्पीनस् रनल ीक ा ै तालषृतश्तामाातबवफछत दन वे ब भ् अय से रेहंेि अख्रय गापु ोााा ा े ााहकिेीहाबफदपचग्रिकफडिशइ वस् मंात कहानतेही ?ावेैगा्ऱिफकडिाइनसर्त्रादख्ेनेकेलितीहैपश् वामास्र उाह .ाजतैूग़ििाचाीह .च हैडतय अेाीँ ै.ाांख्ुलत हं.अपबिरप गजेहंअै साात्र वफाष्र् ांा पत हं;ा तरा रचपेश् े़ेैयस् ैामााकतरीेढहद्र ककिौाल्रफड।मुणाए गाप िाइनह!द्धआ ाश् लेहंअै दध्क ाल य बातरछाहअ श्भ्ंर;पनातैाू ीैोलपपुाकसवहवद्धतेरी ुाथ् देख्ेहं;हभ्ीए गाप िानहद्धा ्रफिडइै।तयककैााअपाइ चत हंअै स़ प ातवफसवफां;ªफि सन केाबौाडरये ंेेटपाद्धकल कौकाेरातइा1े े ंारा केख्ैया्रडिन।मडशचित्र .ारवफपख् प इिनाए दातेहं;हभ्ीगापफकिााइहद्धैचा.ु,ात्रि 13पस्तक पत्रकााैिसमचात्र पािारा परसिग्र ारदश् त्रिोाीैृच ेंमयआोेहंतै। 6 गाप िानवे ूलध्ऱिफकडा फम आरइबती ूाेहमरनत्रि 1टिि घ्डीच.डल़ा2शाअपआंप्ूरालेैअै‘ाकॅ’रक्करेै;हाापवयख्तंाइनकिहयीनटहअपतभ्फेरालंाफडइै।कग्रपि िाानहद्धइसीर,गापकिाइ वफअरभ्ीअे उार हेसकेहंत्रि ो ााकहा ।हफन दातैडैनण्गाफक ािनहाीजव - ाल मंबु ा चब गर्।ह्रडिइम ीैेहश्या - इैपश रश् दसमनीतर सुजउेहंतसलक ाकेजतसनंजतहतहरकबहठैबराकेहोरतीबेे ाी - ततबमह्रडिइांेे ेंपशघ्तगाफक ािने स ािरहै। ़ग्राफिक डिज़ ाइन वस्तुओं को बोधगम्य बनाती है हमवर उत है अै घ्डीमंम दख्त ै।घ्ड प अअिांकसेठाा याहाींक ंेेेंरेेें़ऱसतीपनत अै उसे ड क ं हे प्रवकत ह।फिह सचा यठाावालरमभ्ि ा रमनाीयरयगारपूफांतै ोज ा रस लचातैसात्रे नैे रेा ीेामढरख्बरंााचतहंअैइवफएिसाात्रप़ हं। मचपावफसभ प समचांस भ्र हे है।उे प़ स हरध सचरत्र कृष्ठर ेाों हढेमायमााोेतंय ाीन्तमनपप्यागी अरंवफअकरअै उक रूपेापभ्ीजत ह।ाठस्र,ेे ा रीख्राौमक्ष् ााराास क् आ कीऐसाापाीकपाक सत ह मियपि े चत्र नरेंसंासरल्कजम ैेप्यागीनिस्ंांमे ीवफि े ेसर्ाख्िरप़ ा?्रफिास्र बेंर्ृतएव बडहगपठमाभ्ग त्राीाकत कीेिाइ क हयासह सिभ्ीष्ियकेअध् असनेसझसतडनीा क ावाािी केासेीा ामतम कहं ग्रपकिाइ स्ष्एंकपाालदशंवफमध्मेसदश् दन यै।ि ाप वनीृेे ा ंेोाफन श्ययाडटल् ेविचांक अदनप्रनकन मंसा हे ह।इप्रा गाफ ािनर ााद र याी रकिशेाोेकैस्रपइ- हतकडेसकचत्ीसहारकगनेहभतजनतेतएिेककेन मा ा राम रि े मश् साम योद दत ु प्रव यि ह।गाफ ािनलेांक प्रृत्त्ये क,उे संकि अ£ाका ्रडिइोीािा वाकृ,थ्ैपश गवंेनसक ाफतकअै ाजि जव सेजडक सझेम साकात ह अरइप्राारसमी े़रनेहहैैसकाकांयीानमेरपयावण् तामजवफबर मंजरूत उपनरीह।शासेच,यदर्रथ्सेा गान्कैर ा ोेात्ताएक सििि न यत्र वफबेमंअपेकेर्दिर्ापतिानी द ज ता अपकएंााााानुस्ंोसीेेइश्ीारेहउकएत्र ेसलगकएयंाा वैफे चाँे? च.ातफेेाीथ्र्ा4ेंतभ्त्रि 1 ाया व सवफां क ा आ हतौसिउक अकण ेाुोहनरजनरनेकेसचालिीहाू मतैन ़डिजाइन सुरक्षा प्रदान करती हैग्राफिक ़ अपघ्रसेबह कमख्त हंाअेचांारअो गफिा ादरे रनर े ेन्रपारौै ेककपाअकृायछवादख्त हं जस ा कीा पलाके र्इताािािेे,ेपीदर हतयौसवगश्ै, रार;चवेजमतद्ध,दकनप लालाड अै ेि स ;मारेाीमंु गेिाअनइचदानेार बरााकश्र्न दिएसवफद्धारअयकर्तहवफसवफताप्री।कअपजने हंगंेत ेंथ्तय तैैन्इ ाारकि अ स़ांरऐसवफ य प्रीक हे तेरे कन दघ्र्नएहेग?कगडकपे ंेत ाााीिाा ंरे ान तटातंजुँीप्रीनमस़ सवफमलवफपथ्रथ्ेनिेदर तादाक ज्ञनाचतडंेते त् सूीि ा कीाजथा श् हेतााउहण्वफ,िरेवफमाांनअनसंूास्रयमंपथ्रवफाथा एोसट ेपर्मज्ेत् ेरलपऋदेम्रेेणा ाख्ंेलवएथ्ेनिप ख्िगाथ् ि ा स रामनरकन दर पहा ााजरायावँेे ीिी ।ब कगूैगलहतरमुग म स़ांे चाांप बुदिासच सवफ गनए अमाध्येडेवैह रश्ूकता ाबंकफे - ंलकतरह ेा हेर्।याावफकिंांेतेकबयिदस्रूरेमं98ेागइयेअश्वाानीपम1माताफुावेंध्ं0साआजिअंरर्टी स़ कंे वफसमनमंत ाियथ्।तस उो ाªयगस म्ल यगाबेनयततड्रेेे ाषक सवफे का अकया- नवफ ारथ्र्ूा बेवफएिइे स - मंेोध्त्रअूल ार्ने लमसति ीुैअण् नयंपांयप कफपवर् एिोरहंरातिकज ेैीरन त। अ ा सा दश्ंमंात्रये केसच एंसविादन वफएिडके वफबेभ्ेाेािाूाुध्ेेे ़ोतीा वलंेंन स किनर ायसवफलााए अमा हेइ ह।चि ािनभ्न् लगोांेतग कबागै ून्निेातन र्ँभाकात - अग - लगभँबेत,प़ेअै ख्ित ह,इएिसभ्वह ि उंलअ एोढाौ ींौन्ेष् तलंसकलरेलहपरइ ष् - लपवफश्ब् पन य सनमंकठार्हे इि बश्बंार्भ्ेि ाढेोेइिासए ााि दम ,अे़झनलदत्रि 1 रे मायमंप्रुतमलकच.ास्रज्ेक्ीाा5ा म य तकीबायअताष्ªयसवफां जेतके वफरू म हेेह,वतिक एिथ् जंरींेत,प्रंे ेा ंसिरपर्ेाांैर टीपतकलगै। य प्री अधश् दश्े मे प्रक् ेेह।एंेकंिेंयततैहतबकाांुा ं़गापकडान - परय7भ्री रमगे प लाएोवेमलवफपथंक पष्भ्ूमसफाताा±गजो र ीा ेया ीत्ृदिजरनेठपातीापस ी ाा ै रेनकनेाहे है अरै ऊर रिापाय राहेाह।उन प बसशीी गरांअैीलतदरसन व नमअरलिेीरमंउक दर ख्िीेीै मर अवतिथ्ेााकटेनूी ा हेजिफैा ीाताामल।हभ्रमाा±प लेम वफपरे प दने अरसन ख्ि दीजीह सिेगलंचताजग र ीे त्थरेाो ूााा ैजेालदानांदाांमंथ्ितकित श्हांीदर बा जतह।मलवफपथ्रवफश्े ानोूतर्ीीत्ेेअि ेस् टमरकीइा ै े ा ेऊर रेपरजार्क नब ख्िाााह।मलवफपथ्रप ख्िीइीस ंल ारार्पि ागार तै ीे त् लगमजसख् ह बीह ि य न निदर त कलह अै तिन बीैंाा ैकाेक ूी ीैरीकहयतीीराा।त्रतय क सवेबावफसायाावसवफांकीइ - इ श्ृख्लकिसतहेमफदे येंतर्र्ंाँवयलाफेनाािथ्ताएइीण्फूीत हनू ााू - ेौांेलेीगर्ैं जिक सचनाप्रल कपीसबझस भ्र ह।अजसवफ ख्िनकीाऐ ा्रिांक प्रागयिजत ह सिेा व अध्र म अै माश्ीीमय ो ाौ तफेेेाकरासगेकारंरेयजेनमे ा न्े पासझ ज सताहंभ्उंढ - ा ै।ीहमक़ा़डिजाइन और पहचानग्राफिक ़ यहष्टह ि मनादा सह रूांअरप्रीांेसबतिरहारस् ैकवअकेीेा क ंध्पाि ैत ैैलपेाअनकदतनाां ै हांााी।ैीष्ेाोहमइीबाल ह मुयंे क सबध्अरपच बनमे सयत लि ैहांभ्ेीगनपनेदरेे ड ाअरािकाल सह लो अी हा का प्र£ात क वफलिएझंांकपचश्न े6भभ्न्फ - चित्रा 1.विािन्नरगंेंके सवंेत ािन्नभ्िान प्रग रेरहं ंाक़ ाएुडाहेाह जेअरसि ंेययेतेैडपे कौसकडााक। डटत झ़ाक्ीदिर्ादत हं पदन वले कला‘शेब्रा क्राॅ¯ग’सहायक होती है। बताने के लिए प्रतीकों के रूप में किया जाता है। पहले इसका प्रयोग विश्ेषरूप े ऐसे स्थनों पर किया जाता थजहाँ संचार या सं ेशदेने ाकोइर् आसान तरीका नींहोता थ। आज भी इसका उपयोग रेलों, जहाशों, हवाइर् अ्डों पर संकेत देने के लिए किया जाता है। झंडे परियोजनाओं, संस्थनों तथराष्ट्रों की पहचान करने 8 ़ग्रापिफकश डिाइन के मूल आधर में भी सहायक ोतेहैं। कस्तानपिलकाश्रीं लादेशगबं जतंलांचित्र 1 न्िि रटांवफझडबिैी इग्ैड ा.वााªेे ंे7नभ्ष्झडांाअष्िा अरसर्थ्मप्रागप्रचनभ्रीांद्वायि गांेकाका व या तेरकयरप्रे ीाय ावैा थ् भ्र अरचनक दाेाइवफप़ेीदश् बा,ार्ैडअैा।ाा ेख्नडसेार् इं ातीीदे ामलरैीथ्दक्ष्िण् - ूर्एश्यइ दश् ा इ प्रे केले सम - िास्किप ार्ाीकग।जताावािेभ्नायारन गाकसंकृा सथ्आंय सूांनभ्ीअन ध्र् सां ाले आदकपच बनव एिंस्ेाहेो,घ्,ें ोफाे मेख्ीोलमपंाहिअेअपन झड आ।िससँअै सगनपेझडे वफमध् सपनेंनल ंथ्रठअ ंा ाम- पएां नेेएंयअपीचिाधँ अै सातप्रतकत हं तयह ससपेकतयनवरएांि स् े।त र नि ररुैःथ्ं(रथ्ंअपवथ्तला ने यनरे ोरीैरपंाामअस ेचिांतािंां प चतह अै वहअेझडंे वफमध् स पीपचबतहअैलगेकािजह।हानीाााावीीौरेंश्तैसरट्रयध्जदशक्वफप्रकहेेहंअैकर्रगे ेहेेहंअैयरगाीवेभ्ेतौाइंावतैोंष् ीिरंातत फरअेक ांवफद्येकहेेहं अे रष्ªयध्जारअयझड ािनन्िनाे ता ।कटव ंेन्भ्नभ्ेौौन् - तनीभत ोारे रेतराा मडनपौांारतप्रीात्किाइां य रू - ंग वफहतेेहंअै झड आमै प अयकारहतेै। साताउक लबइ - ा़इ क अपत3रू2 य5रू3 हाह अैोहमयनंर्ैााु े ांा ीाडनातरन्चर्ाौीाािाएौ रे ुाु ेृ ासानप।ंउनकअवफतय अकरेाहेताहजेपफहोवफएिउयक्त हेवछझडलफवगर्क,भ्िुाा यअबलक पँ जस हेहंजा अमाररकर्रगेंाा ाकाा ूैेातैेतपंारत्रज ीीे ौइरछारतेेेेंअै प्रीकां स बेातहै।न श्ुंकरभ्ीपचनाए अयपहेौ मंअन चांअरभ् ा न्रूा। ेेााा तेरेहकहप अअगतहवफअे लेा,प्रतकअै छप;्रड दख्न का लि हंलगल े कग ीर ाद्धोतै।- रााांेेेनेबमगाफक ािने मंीिउपदय चिरा प्रवाीदश् सच वफ्रडिइंेसत् वकारृयरपश ााोकंोाकभ् मध्यस बचेकीअ्ातक्ष्माहेीह।लेा,श्बंय अरे ारगामेेनभ् ा ा ै ग ोाक्ष्ंअक दतादाैंुते ा़त्रि 1ाििनअताष्ªयसगने वफचा9वन्ंर्ींो.भ्र ं टठ लोागे त्रि . डस;कड इयनचा1एएर्ू0्यवम्फििएीन्िªेद्धडपंसाि मडबनप्रेतअलअुवबदतवबढेचित्र .संथ्ग औ ाितीप्रीक येने़हहा1स्तरण्यतवननेागप्रीो ;इनेद्धस भहे ह।अ सचाकख्े मंसिीअइनतकअकंेरैाू जकांाातपीेाानाकका किे अै जनरक पर दयिावफसमेख्ु जए।अपेक्रााा ूुाअे ालग ालंरीीपनाीकीनाइतेा ीिवफन क पाबेवफएियि जत ह गि क्ष्त्रमक ीीचा का।तिस्लसंपहने लाौनमेाअै द्ये ज मंबाडपनक च रब़ाज रह।जाारउगत ्रं ेला तौ बअागआर ाेानढपकाइ ी ाीन बशरे जेहंतेअपा चने एिसचशवफकर्ेर्शरेामा ै कयवलउीेइचख्दंताोफ ा किपहेेहंलि इम स वफह आव ध कअकष्तकत हंवल ेकेेुछीपया £ ेतनफेाारैैंेनक्यां उीिाइ अै पवफबद ;ैेजद्धअष्र् हे ह।पे¯गेकिडनरेटपफगाकतै ैवन ाौंी¯ ाीफवाजकीािइ भ् गाप िानक ीस्िौ ारसि वत वफयडनीकिा ा सहअ कुे नशा्रफइ ैस्डहऋीचयपचा म उक भ् मत्पर्सहत ह।ा हेसाहूाथानंावनीण्ेै़ग्राफिक डिज़ ाइन अभ्िाव्यक्ित एवं सूचना का माध्यम होती है सक े ापसक ह सवफाकेबलत ह ारअाधड़वआांेतआुौैाकयफ - र पापनअक£ारेीकेााकत ह।स ता य ि ़ - ला ारअढाष् ाश्रै चहपेेिै ऩतािेैढपनकख्दानांीतहवफले दश् सनांय रूाके ेसारू स लावेेहरे ाृूोांा नपभ्न्गच नमेतयअं िपातेहं अपबय टे मंकरोहंतेअपा अनचांअे बु - ीे। ªेदख्ैाोेर ाहतैाान त प रससम केजकारदख्न केलि ह।दकां बेबेवत - ाडांस लक श्हयामो़डुंेेरााीानीेे तै ुन, - ़स्भ्र ेार कस्ेे ायेज उसांारसंकृतकयक्रांअि वफबर े जनीबंातवआािमा ेंकरमेिैस् र्ेदााअत्ेमायाून दन ाकभ्ीगापकप्रीांवफमध्मस हेताह।ाकिसोमा्रि तेे ा ेा ै कृचेाफकयप्रतादअे,भ्ूंपे,न्अदअे,या तयि(वफदरनभ्ीसचादनपं फं पा ँकु े ैााूनेेाांाावयााह ाकमभ्ीइ मध् ेााीस यि जसाह।ाासयअ ेकक ै मनातासा सभ्ीविाां ेिारू स भ्ूालाि,भइहसअै गण्तका य,श् पग,वनषिाि ष्ेष्ेा तरीवेज्ञ, ाप्युतांमंिंांअै सकपअे केस्ष्कन वफएिपंनेाठपक ेसतांनााप र ाास्े ा ल्ं टेरूंेरेकाल;पफस क प्रो ि ााह।पस्के मंअमा रपर्जन वलािय ातोगजत रग्रक्द्धयकातै ुंेौ इााीगाफक सगीइाए समयउाराहःमनचाारअरख््राि्रसका है ि ै ेपम ान्दणत्रा;।क्ष्िण् समीकेअध् सलालिस् ारााबनकपंहतंउद्ध ाा्राुि,दपअाश्ग भ्चसेा कैव लप्पस्केअमिंग्रफििाइांकइतमलािजतह।ेफएठुतोाकडन ोाक ाौयं ािादपोस्यगाफक ािनप्रागाकास्किसक्रत अै दयसच वफ्रडिइयतीररािरश्ंारपशेर् ाृ ेपयसथ् मक सैदात् यिवबाटवफमध्मेसचाप्रतिा एारिन्र्कक्रेसेाू प्ेलायसइयनम ाकलुान अुा बोीह।वबाटदटिारअुाि देा केयिभभ्नद ै े ृष्ै नूतेासवनवतइ भ्नसांक्रारााफाा ाक ाी।सइ क पष्कक् ॅइभ ै टरठ ााृ़10 गापफकडिशानवफमलू अधर्रि इे ाृश्तिाश् यदख्े तजँेतीह श् यदाकर अपा मतजएीजा ाेएउीाजाोल ा।नाग ीीिगानानकग्रपि रिे केनभ्वन् रिे मंवितकन वफस - थ्,ाफवााआयचंेप ेे ााकच ुजाररसंव£थ् ोडलयीाय ामारूैअका टिि मध्म कबरािंकेसझाभ्ीशरी ह।पशाीे न गाफक ािनतयरकन वफएिसपल सजालनमस्ष््रडिइैोे ेेृनीमकिपश रलह तबश् - कीअश्काहेीह।सक्ष् आक,सीाम ¯त अरवता ै ूमलनमत्च,ायतेक्ष्नवकैश्िेााम ाचबलिरगापकिाइ क ात केबादत ह।वलत्ेसम ्रि ाीमा़ ेेैफाष्ण्ककडनक्ष्ढंगपि डानवफांकिउकण्े जस - ेलि पनए बश् ा्रफइिे रपाैे ं, ंोाक परपे्रशर ंसवतआश्यैहइवफअिक्,सकलनगापकिाइ वफि िालवकं े ततमी्रफडन लि ीसर ा ि ोएटडउपणंअै प्रैाि ा सन भ्ीजीहेाह।साह थ्संातरोीेौीगके रद्यगकमा रा ाराझतथ्चरूसाध् प्रप् कनवफएिउयक् उकांक चनभ्ी्रफि ािनमाारे ुपणागपडइनतेपरयाशलतेक चित्रा .1सि आइकनां अैर दमान वफाश ीवुज ह अै नश्तपस व सैदयर ए प्राूा3येायेैकंीाि ेहंर्वभ्पर्कल फैरचाकवरूपंण्ुअेे थ्नर्ावस्तां वफसाएसइअरटीी िाइ क मू अध्ह।डनााारैालकवेसटक हेपजी बइामा ो

RELOAD if chapter isn't visible.