रांगेय राघव का जन्म आगरा में हुआ था। उनका मूल नाम तिरुमल्लै नंबाकम वीर राघव आचायर् था, परंतु उन्होंने रांगेय राघव नाम से साहित्य - रचना की है। उनके पूवर्ज दक्ष्िाण आरकाट से जयपुर - नरेश के निमंत्राण पर जयपुर आए थे, जो बाद में आगरा में बस गए। वहीं उनकी श्िाक्षा - दीक्षा हुइर्। उन्होंने आगरा विश्वविद्यालय से ¯हदी में एम.ए. और पीएच.डी. की उपािा प्राप्त की। 39 वषर् की अल्पायु में ही उनकी मृत्यु हो गइर्। रांगेय राघव ने साहित्य की विविध विधाओं में रचना की है जिनमें कहानी, उपन्यास, कविता और आलोचना मुख्य हैं। उनके प्रमुख कहानी - संग्रह हैं μ रामराज्य का वैभव, देवदासी, समुद्र के पेफन, अधूरी मूरत, जीवन के दाने, अंगारे न बुझे, ऐयाश मुदेर्, इंसान पैदा हुआ। उनके उल्लेखनीय उपन्यास हैं μ घरौंदा, विषाद - मठ, मुदो± का टीला, सीधा - सादा रास्ता, अँधेरे के जुगनू, बोलते खंडहर तथा कब तक पुकारूँ । सन् 1961 में राजस्थान साहित्य अकादमी ने उनकीसाहित्य - सेवा के लिए उन्हें पुरस्कृत किया। उनकी रचनाओं का संग्रह दस खंडों में रांगेय राघव ग्रंथावली नाम से प्रकाश्िात हो चुका है। रांगेय राघव ने 1936 से ही कहानियाँ लिखनी शुरू कर दी थीं। उन्होंने अस्सी से अिाक कहानियाँ लिखी हैं। अपने कथा - साहित्य में उन्होंने जीवन के विविध आयामों को रेखांकित किया है। उनकी कहानियों में समाज के शोष्िात - पीडि़त मानव जीवन के यथाथर् का बहुत ही मामिर्क चित्राण मिलता है। उनकी कहानियाँ शोषण से मुर्ैं।क्ित का माग भी दिखाती हसरल और प्रवाहपूणर् भाषा उनकी कहानियों की विशेषता है। पाठ्यपुस्तक में संकलित कहानी गूँगे में एक गूँगे किशोर के रांगेय राघव ;सन् 1923 - 1962द्ध माध्यम से शोष्िात मानव की असहायता का चित्राण किया गया है। कभी तो वह मूक भाव से सब अत्याचार सह लेता है और कभी विरोध में आक्रोश व्यक्त करता है। लेखक ने विकलांगों के प्रति समाज में व्याप्त संवेदनहीनता को रेखांकित किया है। साथ ही यह बताने की कोश्िाश भी की है कि उन्हें सामान्य मनुष्य की तरह मानना और समझना चाहिए एवं उनके साथ संवेदनशील व्यवहार करना चाहिए, ताकि वे इस दुनिया में अलग - थलग न पड़ने पाएँ। कहानी के माध्यम से लेखक ने यह कहा है कि समाज के जो लोग संवेदनहीन हैं, वे भी गूँगे - बहरे हैं, क्योंकि अपने सामाजिक दायित्वों के प्रति वे सचेत नहीं हैं। ‘शवंुफतला क्या नहीं जानती?’ ‘कौन? शवंुफतला! वुफछ नहीं जानती!’ ‘क्यों साहब? क्या नहीं जानती? ऐसा क्या काम है जो वह नहीं कर सकती?’ ‘वह उस गूँगे को नहीं बुला सकती।’ ‘अच्छा, बुला दिया तो?’ ‘बुला दिया?’ बालिका ने एक बार कहनेवाली की ओर द्वेष से देखा और चिल्ला उठी, दूँदे! गूँगे ने नहीं सुना। तमाम स्ित्रायाँ ख्िालख्िालाकर हँस पड़ीं। बालिका ने मुँह छिपा लिया। जन्म से वज्र बहरा होने के कारण वह गूँगा है। उसने अपने कानों पर हाथ रखकर इशारा किया। सब लोगों को उसमें दिलचस्पी पैदा हो गइर्, जैसे तोते को राम - राम कहते सुनकर उसके प्रति हृदय में एक आनंद - मिश्रित वुफतूहल उत्पन्न हो जाता है। चमेली ने अंगुलियों से इंगित किया μ पिफर? मुँह के आगे इशारा करके गूँगे ने बताया μ भाग गइर्। कौन? पिफर समझ में आया। जब छोटा ही था, तब ‘माँ’ जो घूँघट काढ़ती थी, छोड़ गइर्, क्योंकि ‘बाप’, अथार्त् बड़ी - बड़ी मूँछें, मर गया था। और पिफर उसे पाला है μ किसने? यह तो समझ में नहीं आया, पर वे लोग मारते बहुत हैं। करुणा ने सबको घेर लिया। वह बोलने की कितनी शबदर्स्त कोश्िाश करता है। लेकिन नतीजा वुफछ नहीं, केवल कवर्फश काँय - काँय का ढेर! अस्पुफट ध्वनियों का वमन, जैसे आदिम मानव अभी भाषा बनाने में जी - जान से लड़ रहा हो। चमेली ने पहली बार अनुभव किया कि यदि गले में काकल तनिक ठीक नहीं हो तो मनुष्य क्या से क्या हो जाता है। वैफसी यातना है कि वह अपने हृदय को उगल देना चाहता है, ¯वफतु उगल नहीं पाता। सुशीला ने आगे बढ़कर इशारा किया μ ‘मुँह खोलो!’ और गूँगे ने मुँह खोल दिया μ लेकिन उसमें वुफछ दिखाइर् नहीं दिया। पूछा μ ‘गले में कौआ है?’ गूँगा समझ गया। इशारे से ही बता दिया μ ‘किसी ने बचपन में गला सापफ करने की़कोश्िाश में काट दिया’ और वह ऐसे बोलता है जैसे घायल पशु कराह उठता है,श्िाकायत करता है, जैसे वुफत्ता चिल्ला रहा हो और कभी - कभी उसके स्वर में ज्वालामुखी के विस्पफोट की - सी भयानकता थपेड़े मार उठती है। वह जानता है कि वह सुन नहीं सकता। और बता - बताकर मुसकराता है। वह जानता है कि उसकी बोली को कोइर् नहीं समझता पिफर भी बोलता है। सुशीला ने कहा μ इशारे गशब के करता है। अकल बहुत तेश है। पूछा μ ‘खाता क्या है, कहाँ से मिलता है?’ वह कहानी ऐसी है, जिसे सुनकर सब स्तब्ध बैठे हैं। हलवाइर् के यहाँ रात - भर लंट्ट बनाए हैं, कड़ाही माँजी है, नौकरी की है, कपड़े धोए हैं, सबके इशारे हैं लेकिन μ गूँगे का स्वर चीत्कार में परिणत हो गया। सीने पर हाथ मारकर इशारा किया μ ‘हाथ पैफलाकर कभी नहीं माँगा, भीख नहीं लेता’, भुजाओं पर हाथ रखकर इशारा किया μ ‘मेहनत का खाता हूंँ’ और पेट बजाकर दिखाया ‘इसके लिए, इसके लिए...’ अनाथाश्रम के बच्चों को देखकर चमेली रोती थी। आज भी उसकी आँखों में पानी आ गया। यह सदा से ही कोमल है। सुशीला से बोली μ ‘इसे नौकर भी तो नहीं रखा जा सकता।’ पर गूँगा उस समय समझ रहा था। वह दूध ले आता है। कच्चा मँगाना हो, तो थन काढ़ने का इशारा कीजिएऋ औंटा हुआ मँगवाना हो, तो हलवाइर् जैसे एक बतर्न से दूध दूसरे बतर्न में उठाकर डालता है, वैसी बात कहिए। साग मँगवाना हो, तो गोल - गोल कीजिए या लंबी उँगली दिखाकर समझाइए, और भी... और भी..और चमेली ने इशारा किया μ ‘हमारे यहाँ रहेगा?’ गूँगे ने स्वीकार तो किया, ¯वफतु हाथ से इशारा किया μ ‘क्या देगी? खाना?’ ‘हाँ, वुफछ पैसे’ μ चमेली ने सिर हिलाया। चार उँगलियाँ दिखा दीं। गूँगे ने सीने पर हाथ मारकर जैसे कहा μ तैयार हैं। चार रुपये। सुशीला ने कहा μ ‘पछताओगी। भला यह क्या काम करेगा?’‘मुझे तो दया आती है बेचारे पर’, चमेली ने उत्तर दिया μ ‘न ही, बच्चों की तबीयत बहलेगी।’ घर पर बुआ मारती थी, पूफपफा मारता था, क्योंकि उन्होंने उसे पाला था। वे चाहते थे कि बाशार में पल्लेदारी करे, बारह - चैदह आने कमाकर लाए और उन्हें दे दे, बदले में वे उसके सामने बाजरे और चने की रोटियाँ डाल दें। अब गूँगा घर भी नहीं जाता। यहीं काम करता है। बच्चे चिढ़ाते हैं। कभी नाराश नहीं होता। चमेली के पति सीधे - सादे आदमी हैं। पल जाएगा बेचारा, ¯वफतु वे जानते हैं कि मनुष्य की करुणा की भावना उसके भीतर गूँगेपन की प्रतिच्छाया है, वह बहुत वुफछ करना चाहता है, ¯वफतु कर नहीं पाता। इस तरह दिन बीत रहे हैं। चमेली ने पुकारा μ ‘गूँगे।’¯वफतु कोइर् उत्तर नहीं आया, उठकर ढूँढ़ा μ ‘वुफछ पता नहीं लगा।’ बसंता ने कहा μ ‘मुझे तो वुफछ नहीं मालूम।’ ‘भाग गया होगा’, पति का उदासीन स्वर सुनाइर् दिया। सचमुच वह भाग गया था। वुफछ भी समझ में नहीं आया। चुपचाप जाकर खाना पकाने लगी। क्यों भाग गया? नाली का कीड़ा! ‘एक छत उठाकर सिर पर रख दी’ पिफर भी मन नहीं भरा। दुनिया हँसती है, हमारे घर को अब अजायबघर का नाम मिल गया है...किसलिए..जब बच्चे और वह भी खाकर उठ गए तो चमेली बची रोटियाँ कटोरदान में रखकर उठने लगी। एकाएक द्वार पर कोइर् छाया हिल उठी। वह गूँगा था। हाथ से इशारा किया μ ‘भूखा हँू।’ ‘काम तो करता नहीं, भ्िाखारी।’ पेंफक दी उसकी ओर रोटियाँ। रोष से पीठ मोड़कर खड़ी हो गइर्। ¯वफतु गूँगा खड़ा रहा। रोटियाँ छुईं तक नहीं। देर तक दोनों चुप रहे। पिफर न जाने क्यों, गूँगे ने रोटियाँ उठा लीं और खाने लगा। चमेली ने गिलासों में दूध भर दिया। देखा, गूँगा खा चुका है। उठी और हाथ में चिमटा लेकर उसके पास खड़ी हो गइर्। ‘कहाँ गया था?’ चमेली ने कठोर स्वर से पूछा।कोइर् उत्तर नहीं मिला। अपराधी की भांँति सिर झुक गया। सड़ से एक चिमटा उसकी पीठ पर जड़ दिया। ¯वफतु गूँगा रोया नहीं। वह अपने अपराध को जानता था। चमेली की आँखों से शमीन पर आँसू टपक गया। तब गूँगा भी रो दिया। और पिफर यह भी होने लगा कि गूँगा जब चाहे भाग जाता, पिफर लौट आता। उसे जगह - जगह नौकरी करके भाग जाने की आदत पड़ गइर् थी और चमेली सोचती कि उसने उस दिन भीख ली थी या ममता की ठोकर को निस्संकोच स्वीकार कर लिया था। बसंता ने कसकर गूँगे को चपत जड़ दी। गूँगे का हाथ उठा और न जाने क्यों अपने - आप रुक गया। उसकी आँखों में पानी भर आया और वह रोने लगा। उसका रफदन इतना कवर्फश था कि चमेली को चूल्हा छोड़कर आना पड़ा। गूँगा उसे देखकर इशारों से वुफछ समझाने लगा। देर तक चमेली उससे पूछती रही। उसकी समझ में इतना ही आया कि खेलते - खेलते बसंता ने उसे मार दिया था। बसंता ने कहा μ ‘अम्मा! यह मुझे मारना चाहता था।’ ‘क्यों रे?’ चमेली ने गूँगे की ओर देखकर कहा। वह इस समय भी नहीं भूली थी कि गूँगा वुफछ सुन नहीं सकता। लेकिन गूँगा भाव - भंगिमा से समझ गया। उसने चमेली का हाथ पकड़ लिया। एक क्षण को चमेली को लगा, जैसे उसी के पुत्रा ने आज उसका हाथ पकड़ लिया था। एकाएक घृणा से उसने हाथ छुड़ा लिया। पुत्रा के प्रति मंगल - कामना ने उसे ऐसा करने को मजबूर कर दिया। कहीं उसका भी बेटा गूँगा होता तो वह भी ऐसे ही दुख उठाता! वह वुफछ भी नहीं सोच सकी। एक बार पिफर गूँगे के प्रति हृदय में ममता भर आइर्। वह लौटकर चूल्हे पर जा बैठी, जिसमें अंदर आग थी, लेकिन उसी आग से वह सब पक रहा था जिससे सबसे भयानक आग बुझती है μ पेट की आग, जिसके कारण आदमी गुलाम हो जाता है। उसे अनुभव हुआ कि गूँगे में बसंता से कहीं अिाक शारीरिक बल था। कभी भी गूँगे की भाँति शक्ित से बसंता ने उसका हाथ नहीं पकड़ा था। लेकिन पिफर भी गूँगे ने अपना उठा हाथ बसंता पर नहीं चलाया। रोटी जल रही थी। झट से पलट दी। वह पक रही थी, इसी से बसंता बसंता है...गूँगा गूँगा है..चमेली को विस्मय हुआ। गूँगा शायद यह समझता है कि बसंता मालिक का बेटा है, उस पर वह हाथ नहीं लगा सकता। मन - ही - मन थोड़ा विक्षोभ भी हुआ, ¯वफतु पुत्रा की ममता ने इस विषय पर चादर डाल दी और पिफर याद आया कि उसने उसका हाथ पकड़ा था। शायद इसीलिए कि उसे बसंता को दंड देना ही चाहिए, यह उसको अिाकार है...। ¯वफतु वह तब समझ नहीं सकी, और उसने सुना कि गूँगा कभी - कभी कराह उठता था। चमेली उठकर बाहर गइर्। वुफछ सोचकर रसोइर् में लौट आइर् और रात की बासी रोटी लेकर निकली। ‘गूँगे!’ उसने पुकारा। कान के न जाने किस पदेर् में कोइर् चेतना है कि गूँगा उसकी आवाश को कभी अनसुना नहीं कर सकता, वह आया। उसकी आँखों में पानी भरा था। जैसे उनमें एक श्िाकायत थी, पक्षपात के प्रति तिरस्कार था। चमेली को लगा कि लड़का बहुत तेश है। बरबस ही उसके होंठों पर मुस्कान छा गइर्। कहा μ ‘ले खा ले।’ μ और हाथ बढ़ा दिया। गूँगा इस स्वर की, इस सबकी उपेक्षा नहीं कर सकता। वह हँस पड़ा। अगर उसका रोना एक अजीब ददर्नाक आवाश थी तो यह हँसना और वुफछ नहीं μ एक अचानक गुरार्हट - सी चमेली के कानों में बज उठी। उस अमानवीय स्वर को सुनकर वह भीतर - ही - भीतर काँप उठी। यह उसने क्या किया था? उसने एक पशु पाला था। जिसके हृदय में मनुष्यों की - सी वेदना थी। घृणा से विक्षुब्ध होकर चमेली ने कहा μ ‘क्यों रे, तूने चोरी की है?’ गूँगा चुप हो गया। उसने अपना सिर झुका लिया। चमेली एक बार क्रोध से काँप उठी, देर तक उसकी ओर घूरती रही। सोचा μ मारने से यह ठीक नहीं हो सकता। अपराध को स्वीकार करा दंड न देना ही शायद वुफछ असर करे और पिफर कौन मेराअपना है। रहना हो तो ठीक से रहे, नहीं तो पिफर जाकर सड़क पर वुफत्तों की तरह जूठन पर िंादगी बिताए, दर - दर अपमानित और लांछित...। आगे बढ़कर गूँगे का हाथ पकड़ लिया और द्वार की ओर इशारा करके दिखाया μ निकल जा। गूँगा जैसे समझा नहीं। बड़ी - बड़ी आँखों को पफाड़े देखता रहा। वुफछ कहने को शायद एक बार होंठ खुले भी, ¯वफतु कोइर् स्वर नहीं निकला। चमेली वैसे ही कठोर बनी रही। अब के मुँह से भी साथ - साथ कहा μ ‘जाओ, निकल जाओ। ढंग से काम नहीं करना है तो तुम्हारा यहाँ कोइर् काम नहीं। नौकर की तरह रहना है रहो, नहीं तो बाहर जाओ। यहाँ तुम्हारे नखरे कोइर् नहीं उठा सकता। किसी को भी इतनी पुफरसत नहीं है। समझे?’ और पिफर चमेली आवेश में आकर चिल्ला उठी μ ‘मक्कार, बदमाश! पहले कहता था, भीख नहीं माँगता, और सबसे भीख माँगता है। रोश - रोश भाग जाता है,पत्ते चाटने की आदत पड़ गइर् है। वुफत्ते की दुम क्या कभी सीधी होगी? नहीं। नहीं रखना है हमें, जा, तू इसी वक्त निकल जा...’ ¯वफतु वह क्षोभ, वह क्रोध, सब उसके सामने निष्पफल हो गएऋ जैसे मंदिर कीमूतिर् कोइर् उत्तर नहीं देती, वैसे ही उसने भी वुफछ नहीं कहा। केवल इतना समझ सका कि मालकिन नाराश है और निकल जाने को कह रही हैं। इसी पर उसे अचरज और अविश्वास हो रहा है। चमेली अपने - आप लज्िजत हो गइर्। वैफसी मूखार् है वह! बहरे से जाने क्या - क्या कह रही थी? वही क्या वुफछ सुनता है? हाथ पकड़कर शोर से एक झटका दिया और उसे दरवाशे के बाहर धकेलकर निकाल दिया। गूँगा धीरे - धीरे चला गया। चमेली देखती रही। करीब घंटेभर बाद शवंुफतला और बसंता μ दोनों चिल्ला उठे, ‘अम्मा! अम्मा!’ ‘क्या है?’ चमेली ने उफपर ही से पूछा। ‘गूँगा...’, बसंता ने कहा। ¯वफतु कहने के पहले ही नीचे उतरकर देखा μ गूँगा खून से भीग रहा था। उसका सिर पफट गया था। वह सड़क के लड़कों से पिटकर आया था, क्योंकि गूँगा होने के नाते वह उनसे दबना नहीं चाहता था। दरवाशे कीदहलीश पर सिर रखकर वह वुफत्ते की तरह चिल्ला रहा था। और चमेली चुपचाप देखती रही, देखती रही कि इस मूक अवसाद में युगों का हाहाकार भरकर गूँज रहा है। और ये गूँगे... अनेक - अनेक हो संसार में भ्िान्न - भ्िान्न रूपों में छा गए हैं μ जो कहना चाहते हैं, पर कह नहीं पाते। जिनके हृदय की प्रतिहिंसा न्याय और अन्याय को परखकर भी अत्याचार को चुनौती नहीं दे सकती, क्योंकि बोलने के लिए स्वर होकर भी स्वर में अथर् नहीं है... क्योंकि वे असमथर् हैं। और चमेली सोचती है, आज दिन ऐसा कौन है जो गूँगा नहीं है। किसका हृदय समाज, राष्ट्र, धमर् और व्यक्ित के प्रति विद्वेष से, घृणा से नहीं छटपटाता, ¯वफतु पिफरभी कृत्रिाम सुख की छलना अपने जालों में उसे नहीं पफाँस देती μ क्योंकि वह स्नेह चाहता है, समानता चाहता है! 3.गूँगे ने अपने स्वाभ्िामानी होने का परिचय किस प्रकार दिया? 4.‘मनुष्य की करुणा की भावना उसके भीतर गूँगेपन की प्रतिच्छाया है।’ कहानी के इस कथन को वतर्मान सामाजिक परिवेश के संदभर् में स्पष्ट कीजिए। 5.‘नाली का कीड़ा! ‘एक छत उठाकर सिर पर रख दी’ पिफर भी मन नहीं भरा।’ μ चमेली का यह कथन किस संदभर् में कहा गया है और इसके माध्यम से उसके किन मनोभावों का पता चलता है? 6.यदि बसंता गूँगा होता तो आपकी दृष्िट में चमेली का व्यवहार उसके प्रति वैफसा होता? 7.‘उसकी आँखों में पानी भरा था। जैसे उनमें एक श्िाकायत थी, पक्षपात के प्रति तिरस्कार था।’ क्यों? 8.‘गूँगा दया या सहानुभूति नहीं, अिाकार चाहता था’ μ सि( कीजिए। 9.‘गूँगे’ कहानी पढ़कर आपके मन में कौन से भाव उत्पन्न होते हैं और क्यों? 10 ‘गूँगे’ में ममता है, अनुभूति है और है मनुष्यता’ μ कहानी के आधार पर इस वाक्य की विवेचना कीजिए। 11.कहानी का शीषर्क ‘गूँगे’ है, जबकि कहानी में एक ही गूँगा पात्रा है। इसके माध्यम से लेखक ने समाज की किस प्रवृिा की ओर संकेत किया है? 12.निम्नलिख्िात गद्यांशों की संदभर् सहित व्याख्या कीजिए μ ...........................जी जान से लड़ रहा हो।;कद्ध करुणा ने सबको ...........................आदमी गुलाम हो जाता है।;खद्ध वह लौटकर चूल्हे पर;गद्ध और पिफर कौन..........................¯शदगी बिताए। ;घद्ध और ये गूँगे...........................क्योंकि वे असमथर् हैं? 13.निम्नलिख्िात पंक्ितयों का आशय स्पष्ट कीजिए μ ;कद्ध वैफसी यातना है कि वह अपने हृदय को उगल देना चाहता है, ¯कतु उगल नहीं पाता। ;खद्ध जैसे मंदिर की मूतिर् कोइर् उत्तर नहीं देती, वैसे ही उसने भी वुफछ नहीं कहा। 14.निम्नलिख्िात पंक्ितयों को अपने शब्दों में समझाइए μ ;कद्धइशारे गशब के करता है। ;खद्ध सड़ से एक चिमटा उसकी पीठ पर जड़ दिया। ;गद्धपत्ते चाटने की आदत पड़ गइर् है। योग्यता - विस्तार 1.समाज मेेें विकलांगों के लिए होने वाले प्रयासों में आप वैफसे सहयोग कर सकते हैं? 2.विकलांगों की समस्या पर आधरित ‘स्पशर्’, ‘कोश्िाश’ तथा ‘इकबाल’ प्िाफल्में देख्िाए औऱजिसे बिलवुफल सुनाइर् न देता हो अस्पष्ट आवाश निकालने की कोश्िाश में ध्वनियों को जैसे - तैसे उगल देना विक्षुब्ध μ अशांत कांकल μ गले के भीतर की घाँटी पल्लेदारी μ पीठ पर अनाज या सामान इत्यादि ढोने का कायर्

RELOAD if chapter isn't visible.