अध्याय क्या आप जल के बिना जीवन की कल्पना कर सकते हैं? कहा जाता है कि जल ही जीवन है। जल पृथ्वी पर रहने वाले सभी प्रकार के जीवों के लिए आवश्यक घटक है। पृथ्वी के जीव सौभाग्यशाली हैं कि यह एक जलीय ग्रह है। अन्यथा, हम लोगों का अस्ितत्व ही नहीं होता। जल हमारे सौर मंडल का दुलर्भ पदाथर् है। सूयर् अथवा सौरमंडल में अन्यत्रा कहीं भी जल नहीं है। सौभाग्य से पृथ्वी के धरातल पर जल की प्रचुर आपूतिर् है। हमारे ग्रह को ‘नीला ग्रह’ ;ठसनम चसंदमजद्ध भी कहा जाता है। जलीय चव्रफ जल एक चव्रफीय संसाधन है जिसका प्रयोग एवं पुनः महासागरीय जल प्रयोग किया जा सकता है। जल एक चव्रफ के रूप में महासागर से धरातल पर और धरातल से महासागर तक पहुँचता है। जलीय चव्रफ, पृथ्वी पर, इसके नीचे व पृथ्वी के उफपर वायुमंडल में जल के संचलन की व्याख्या करता है। जलीय चव्रफ करोड़ों वषो± से कायर्रत है और पृथ्वी पर सभी प्रकार का जीवन इसी पर निभर्र करता है। वायु के बाद, जल पृथ्वी पर जीवन के अस्ितत्त्व के लिए सबसे आवश्यक तत्त्व है। पृथ्वी पर जल का वितरण असमान है। बहुत से क्षेत्रों में, जल की प्रचुरता है, जबकि बहुत से क्षेत्रों में यह सीमित मात्रा में उपलब्ध है। जलीय चव्रफ पृथ्वी के जलमंडल में विभ्िान्न रूपों अथार्त् गैस, तरल व ठोस में जल का परिसंचरण है। इसका संबंध् महासागरों, वायुमंडल, भूपृष्ठ, अध्ःस्तल और जीवों के बीच जल के सतत् आदान - प्रदान से भी है। चित्रा 13.1: जलीय चव्रफ भौतिक भूगोल के मूल सि(ांत तापमान का उफध्वार्ध्र तथा क्षैतिज वितरण महासागरीय जल की तापीय - गहराइर् का पाश्वर्चित्रा यह दिखाता है कि बढ़ती हुइर् गहराइर् के साथ तापमान वैफसे घटता है। पाश्वर्चित्रा महासागर के सतही जल एवं गहरी परतों के बीच सीमा क्षेत्रा को दशार्ता है। यह सीमा समुद्री चित्रा 13.3: ताप प्रवणता ;थमोर्क्लाइर्नद्ध सतह से लगभग 100 से 400 मीटर नीचे प्रारंभ होती है एवं कइर् सौ मीटर नीचे तक जाती है ;चित्रा 13.3द्ध। वह सीमा क्षेत्रा जहाँ तापमान में तीव्र गिरावट आती है, ताप प्रवणता ;थमोर्क्लाइर्नद्ध कहा जाता है। जल के वुफल आयतन का लगभग 90 प्रतिशत गहरे महासागर में ताप प्रवणता ;थमोर्क्लाइर्नद्ध के नीचे पाया जाता है। इस क्षेत्रा में तापमान 0 डिग्री सेल्िसयस पहुँच जाता है। मध्य एवं निम्न अक्षांशों में महासागरों के तापमान की संरचना को सतह से तली की ओर तीन परतों वाली प्रणाली के रूप में समझाया जा सकता है। पहली परत गमर् महासागरीय जल की सबसे उफपरी परत होती है जो लगभग 500 मीटर मोटी होती है और इसका तापमान 20 डिग्री से॰ से 25 डिग्री से॰ के बीच होता है। उष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में, यह परत पूरे वषर् उपस्िथत होती है, जबकि मध्य अक्षांशों में यह केवल ग्रीष्म )तु में विकसित होती है। दूसरी परत जिसे ताप प्रवणता ;थमोर्क्लाइर्नद्ध परत कहा जाता है, पहली परत के नीचे स्िथत होती है। इसमें गहराइर् के बढ़ने के साथ तापमान में तीव्र गिरावट आती है। यहाँ थमोर्क्लाइर्न की मोटाइर् 500 से 1,000 मीटर तक होती है। तीसरी परत बहुत अिाक ठंडी होती है तथा गभीर महासागरीय तली तक विस्तृत होती है। आवर्फटिक एवं अंटावर्फटिक वृत्तों में, सतही जल का तापमान 0 डिग्री से॰ के निकट होता है, और इसलिए गहराइर् के साथ तापमान में बहुत कम परिवतर्न होता है। यहाँ ठंडे पानी की केवल एक ही परत पाइर् जाती है जो सतह से गभीर महासागरीय तली तक विस्तृत होती है। महासागरों की सतह के जल का औसत तापमान लगभग 27 डिग्री से॰ होता है, और यह विषवत् वृत्त से धु्रवों की ओर व्रफमिक ढंग से कम होता जाता है। बढ़ते हुए अक्षांशों के साथ तापमान के घटने की दर सामान्यतः प्रति अक्षांश 0.5 डिग्री से॰ होती है। औसत तापमान 20 डिग्री अक्षांश पर लगभग 22 डिग्री से॰, 40 डिग्री अक्षांश पर 14 डिग्री से॰ तथा धु्रवों के नशदीक 0 डिग्री से॰ होता है। उत्तरी गोलाध्र् के महासागरों का तापमान दक्ष्िाणी गोलाध्र् की अपेक्षा अिाक होता है। उच्चतम तापमान विषवत् वृत्त पर नहीं बल्िक, इससे वुफछ उत्तर की तरप़्ाफ दजर् किया जाता है। उत्तरी एवं दक्ष्िाणी गोलाध्र् का औसत वाष्िार्क तापमान व्रफमशः 19 डिग्री से॰ तथा 16 डिग्री से॰ के आस - पास होता है। यह भ्िान्नता उत्तरी एवं दक्ष्िाणी गोलाधो± में स्थल एवं जल के असमान वितरण के कारण होती है। चित्रा 13.4 में महासागरीय सतह के तापमान के स्थानिक प्रारूप को दिखाया गया है। यह तथ्य भली भांति जाना जाता है कि महासागरों का उच्चतम तापमान सदैव उनकी उफपरी सतहों पर होता है, क्योंकि वे सूयर् की उफष्मा को प्रत्यक्ष रूप से प्राप्त करते हैं और यह उफष्मा महासागरों के निचले भागों में संवहन की प्रवि्रफया से पारेष्िात होती है। परिणामस्वरूप गहराइर् के साथ - साथ तापमान में कमी आने लगती है, लेकिन तापमान के घटने की यह दर सभी जगह समान नहीं होती। 200 मीटर की गहराइर् तक तापमान बहुत तीव्र गति से गिरता है तथा उसके बाद तापमान के घटने की दर कम होती जाती है। महासागरीय जल की प्रवृिा कम पाइर् जाती है। इसके विपरीत, अरब सागर की लवणता उच्च वाष्पीकरण एवं ताशे जल की कम प्राप्ित के कारण अिाक है। चित्रा 13.5 विश्व के महासागरों की लवणता को दशार्ता है। लवणता का उफध्वार्ध्र वितरण गहराइर् के साथ लवणता में परिवतर्न आता है, लेकिन इसमें परिवतर्न समुद्र की स्िथति पर निभर्र करता है। सतह की लवणता जल के बपर्फ या वाष्प के रूप में परिवतिर्त हो जाने के कारण बढ़ जाती है या ताशे जल के मिल जाने से घटती है, जैसा कि नदियों के द्वारा होता है। गहराइर् में लवणता लगभग नियत होती है, क्योंकि वहाँ किसी प्रकार से पानी का ‘”ास’ या नमक की मात्रा में ‘वृि’ नहीं होती। महासागरों के सतही क्षेत्रों एवं गहरे क्षेत्रों के बीच लवणता में अंतर स्पष्ट होता है। कम लवणता वाला जल उच्च लवणता व घनत्व वाले जल के उफपर स्िथत होता है। लवणता साधारणतः गहराइर् के साथ बढ़ती है तथा एक स्पष्ट क्षेत्रा, जिसे हैलोक्लाइर्न कहा जाता है, में यह तीव्रता से बढ़ती है। लवणता समुद्री जल के घनत्व को प्रभावित करती है तथा महासागरीय जल के स्तरीकरण को प्रभावित करता है। यदि अन्य कारक स्िथर रहें तो समुद्री जल की बढ़ती लवणता उसके घनत्व को बढ़ाती है। उच्च लवणता वाला समुद्री जल, प्रायः कम लवणता वाले जल के नीचे बैठ जाता है। इससे लवणता का स्तरीकरण हो जाता है। अभ्यास 1.बहुवैकल्िपक प्रश्न: ;पद्ध उस तत्त्व की पहचान करें जो जलीय चव्रफ का भाग नहीं है। ;कद्ध वाष्पीकरण ;खद्ध वषर्ण ;गद्ध जलयोजन ;घद्ध संघनन ;पपद्ध महाद्वीपीय ढाल की औसत गहराइर् निम्नलिख्िात के बीच होती है। ;कद्ध 2 - 20 मीटर ;खद्ध 20 - 200 मीटर ;गद्ध 200 - 2,000 मीटर ;घद्ध 2,000 - 20,000 मीटर ;पपपद्ध निम्नलिख्िात में से कौन सी लघु उच्चावच आवृफति महासागरों में नहीं पाइर् जाती है? ;कद्ध समुद्री टीला ;खद्ध महासागरीय गभीर ;गद्ध प्रवाल द्वीप ;घद्ध निमग्न द्वीप ;अद्ध लवणता को प्रति समुद्री जल में घुले हुए नमक ;ग्रामद्ध की मात्रा से व्यक्त किया जाता है - ;कद्ध 10 ग्राम ;खद्ध 100 ग्राम ;गद्ध 1,000 ग्राम ;घद्ध 10,000 ग्राम ;पअद्ध निम्न में से कौन सा सबसे छोटा महासागर है? ;कद्ध हिंद महासागर ;खद्ध अटलांटिक महासागर ;गद्ध आवर्फटिक महासागर ;घद्ध प्रशांत महासागर 2.निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए: ;पद्ध हम पृथ्वी को नीला ग्रह क्यों कहते हैं? ;पपद्ध महाद्वीपीय सीमांत क्या होता है? ;पपपद्ध विभ्िान्न महासागरों के सबसे गहरे गतो± की सूची बनाइये। ;पअद्ध तापप्रवणता क्या है?

RELOAD if chapter isn't visible.