;कद्ध जीवाणु 2 पाँच जगत वगीर्करण इन्होंने प्रस्तावित किया थाμ ;ंद्ध आर. एच. व्िहटेकर ;इद्ध सी. लीनियस ;बद्ध ए. राॅक्सबगर् ;कद्ध विरचो / विकार्े 3 लवणीय क्षेत्रा में पाए जाने वाले जीव कहलाते हैंμ ;ंद्ध मेथैनजन ;इद्ध ;बद्ध ;कद्ध लवणरागी आतपोद्भ्िाद ;हैलियोप़्ाफाइटद्ध थमार्ेऐसिड़ोपिफल 4 अनावृत कोश्िाकाद्रव्य, बहुकेनुकित तथा मृतजीवी किसके अभ्िालक्षण हैं? ;ंद्ध मोनेरा ;इद्ध प्रोटिस्टा ;बद्ध कवक ;कद्ध अवपक पफपूँफदी 5 उच्चतर पादपों तथा कवकों की जड़ों में पाया जाने वाला संबंध् कहलाता हैμ ;ंद्ध लाइकेन ;इद्ध पफनर् ;बद्ध ;कद्ध माइकोराइशा बी.जी.ए जीव जगत का वगीर्करण 6.वेंफद्रकयुग्म का निमार्ण तब होता है जबμ ;ंद्ध अध्र्सूत्राी विभाजन रुक जाता है। ;इद्ध दो अगण्िात कोश्िाकाओं में परस्पर तुरंत संलयन नहीं होता। ;बद्ध कोश्िाकाद्रव्य का संलयन नहीं होता। ;कद्ध उपयुर्क्त में से कोइर् नहीं। 7.वंफटेजियम वाइवम फ्रलूइडियम किनके द्वारा प्रस्तावित किया गया? ;ंद्ध डी. जे. इवानोवस्की ;इद्ध एम. डब्ल्यु बेजेरिनेक ;बद्ध स्टेन्ले ;कद्ध राबटर् हुक 8.माइकोबायौंट ;कवकांशद्ध तथा पफाइकोबायौंट ;शैवालांशद्ध किसमें पाए जाते हैं?़;ंद्ध माइकोराइजा ;इद्ध मूल ;बद्ध लाइकेन ;कद्ध बी.जी.ए9.विषाणु तथा विरोइड ;विषाणुभद्ध में अंतर होता हैμ ;ंद्ध विरोइड में प्रोटीन आवरण नहीं होता है लेकिन विषाणु में यह पाया जाता है। ;इद्ध विषाणु में कम आण्िवक भार वाला आर एन ए पाया जाता है जबकि विरोइड में नहीं। ;बद्ध ;ंद्ध तथा ;इद्ध दोनों। ;कद्ध उपयुर्क्त में कोइर् नहीं। 10.कवकीय लैंगिक चक्र के संदभर् में घटनाओं के सही क्रम का चयन कीजिएμ ;ंद्ध वंेफद्रक संलयन, कोश्िाकाद्रव्य - लयन, अध्र्सूत्राी विभाजन ;इद्ध अध्र्सूत्राी विभाजन, कोश्िाका द्रव्य - लयन, तथा वेंफद्रक संलयन ;बद्ध कोश्िाकाद्रव्य - लयन, वेंफद्रक संलयन, तथा अध्र्सूत्राी विभाजन ;कद्ध अध्र्सूत्राी विभाजन, वेंफद्रक संलयन, तथा कोश्िाकाद्रव्य - लयन 11.विषाणु अकोश्िाकीय जीव होते हैं, लेकिन पोषक कोश्िाका का एक बार संक्रमण करने के बादवे अपनी प्रतिकृति बना लेते हैं। विषाणुओं का संबंध् निम्नलिख्िात में से किस जगत के साथ माना जाता है? ;ंद्ध मोनेरा ;इद्ध प्रोटिस्टा ;बद्ध कवक ;कद्ध उपयुर्क्त में कोइर् नहीं प्रश्न प्रद£शका - जीव विज्ञान 12.प़फाइकोमाइसिटीज के सदस्य पाए जाते हैंः्रपण् जलीय आवास में पपण् सड़ी - गली लकड़ पर पपपण् नम तथा आद्र स्थानों पर पअण् पादपों पर अवविकल्पी परजीवी की तरह से निम्नलिख्िात विकल्पों में से चयन कीजिएμ ;ंद्ध उपयुर्क्त में कोइर् नहीं ;इद्ध ;पद्ध तथा ;पअद्ध ;बद्ध ;पपद्ध तथा ;पपपद्ध ;कद्ध उपयुर्क्त सभी अति लघु उत्तरीय प्रश्न 1. पफसलों के सुधर के लिए खेतों में सायनोबैक्टीरिया के प्रयोग करने के क्या सि(ांत हैं? 2.मान लीजिए आपको अचानक एक पुरानी परिक्ष्िात स्थायी स्लाइड जिस पर कोइर् लेबल नहीं लगाहुआ, मिलती है। इसकी पहचान करने के लिए स्लाइड को सूक्ष्मदशीर् से देख्िाए और निम्नलिख्िात लक्षणों का निरीक्षण कीजिए। ;ंद्ध एककोश्िाकीय ;इद्ध सुसंगठित वेंफद्रक ;बद्ध द्वि - कशाभ्िाक जिसमें एक कशाभ अनुदैध्यर् रूप से तथा दूसरा अनुप्रस्थ रूप में होता है।आप इसकी पहचान किस रूप में करेंगे? क्या आप इसके जगत का नाम बता सकते हैं, जिससे यह संबंध्ित है? 3. पाँच - जगत वगीर्करण किस प्रकार से द्वि - जगत वगीर्करण से बेहतर है? 4.प्रदूष्िात जलाशयों में नाॅस्टाॅक तथा औसिलिटोरिया जैसे पादपों की संख्या बहुत अध्िक होती है। कारण बताइए। 5. क्या रसायन - संश्लेषी जीवाणु, स्वपोष्िात अथवा परपोष्िात होते हैं? 6.मटर का सामान्य नाम वानस्पतिक नाम ;वैज्ञानिकद्ध की अपेक्षा अध्िक सरल है। जीव विज्ञान में जटिल वैज्ञानिक / वानस्पतिक नामों की अपेक्षा सरल सामान्य नामों का प्रयोग क्यों नहीं कियाजाता है? 7.विषाणु जब पोषक कोश्िाका के भीतर होते हैं तब इन्हें सजीव तथा अविकल्पी परजीवी माना जाताहै। परंतु विषाणुओं को जीवाणुओं तथा कवकों के साथ वगीर्कृत नहीं किया जाता। विषाणुओं के उन अभ्िालक्षणों को बताइए जो निजीर्व वस्तुओं के समान हों। 8. व्िहटेकर के पाँच जगत वगीर्करण के अनुसार यूवैफरियोटी कितने जगत वाला होता है? जीव जगत का वगीर्करण लघु उत्तरीय प्रश्न 1.डायटम ‘‘समुद्री मोती’’ भी कहलाते हैं, क्यों? ‘‘डायटमी पृथ्वी’’ से आप क्या समझते हैं? 2.एक मनगढ़ंत कथा के अनुसार जंगलों में भारी वषार् के तुरंत पश्चात मशरूम बड़ी संख्या में उगकरएक बड़ा सविर्फल अथवा चक्र बना लेते हैं जिसका व्यास कइर् मीटर में पैफला हो सकता है। यहसविर्फल ‘छत्राक वृत्त’ ;पेफयरी ¯रगद्ध कहलाता है। जीव विज्ञान के शब्दों में इस ‘छत्राक वृत्त’ की मनगढ़ंत कथा की व्याख्या आप किस प्रकार करेंगे? 3.न्यूरोस्पोश - एक ऐस्कोमाइसिटीज कवक है, जिसका प्रयोग जैविक साधन की तरह पादप आनुवंश्िाकी की ियाविध्ि को समझने के लिए ठीक उसी प्रकार किया जाता है - जैसे प्राण्िाआनुवंश्िाकी अध्ययन में ड्रोसोप्िाफल का प्रयोग किया जाता है। न्यूरोस्पोरा एक महत्वपूणर् जैविक़साधन का रूप किस प्रकार ले चुका है? 4.पाँच जगत वगीर्करण के अनुसार मोनेरा जगत के यूबैक्टीरिया के अंतगर्त सायनोबैक्टीरिया तथापरपोषी बैक्टीरिया को एक साथ रखा गया है जबकि ये दोनों एक दूसरे से कापफी अलग हैं। एक़ही जगत में इन दोनों वगर्कों को एक साथ रखना क्या उचित है? यदि हाँ तो क्यों? 5.ऐस्कोमाइसिटीश कवक अपने चक्र की एक अवस्था में पफलकाय जैसे ऐपोथीसियम, पेरीथीसियम़अथवा क्िलस्टोथीसियम उत्पन्न करते हैं। ये तीनों प़्ाफकाय एक दूसरे से किस प्रकार भ्िान्न हैं? 6.टिªपैनोसोमा में देखे जा सकने वाले लक्षणों के आधार पर क्या आप इसे प्रोटिस्टा जगत के अंतगर्तवगीर्कृत करेंगे? 7.कवक सवर्व्यापी है। अपने दैनिक जीवन में कवकों की भूमिका का वणर्न कीजिए। दीघर् उत्तरीय प्रश्न 1.विभ्िान्न पयार्वरणीय परिस्िथतियों में शैवाल बीजाणु विविध प्रकार के बीजाणुओं द्वारा अलैंगिक जनन करते हैं। इन बीजाणुओं तथा उन परिस्िथतियों के नाम बताइए जिनमें यह पैदा होते हैं। 2.क्लोरोप्िाफल के अतिरिक्त शैवालों के क्लोरोप्लाट में अनेक प्रकार के वणर्क होते हैं। लाल, हरे,़नीले, पीले एवं भूरे शैवालों के वे वणर्क कौन से हैं, जिनके कारण शैवालों के ये विश्िाष्ट रंगदिखा देते हैं? 3.भोजन, रसायनों, औषिायों और चारे के ड्डोत के रूप में शैवालों तथा कवकों की एक सूची बनाइए। 4.अध्िकांश देशों में ‘‘पीट’’ घरेलू ईंध्न का महत्वपूणर् ड्डोत माना जाता है। प्रकृति में यह ‘‘पीट’’ किस प्रकार बनता है? 5.जीव जगत का वगीर्करण एक प्रकार से परिवतर्नात्मक तथा कभी समाप्त न होने वाले ‘‘विकास’’ की परिघटना है जो जीवन के विविध् रूपों के बारे में हमारी सोच के साथ - साथ बदलती रहती है। किन्हीं दो उदाहरणों को प्रस्तुत करते हुए इस कथन की पुष्िट कीजिए।

RELOAD if chapter isn't visible.