Globalisation and India Hindi अध्याय 4- वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था विश्व के अधिकांश भाग तेज़ी से एक-दूसरे से जुड़ते जा रहे डब्ल्यू. टी. ओ. जैसे अन्तर्राष्ट्रीय संगठनों का दबाव। प्रौद्योगिकी हैं। यद्यपि देशों के बीच इस पारस्परिक जुड़ाव के अनेक में उन्नति छात्रों के लिए एक आकर्षक क्षेत्र है और आप आयाम हैं- सांस्कृतिक, सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक, उनको कुछ निर्देश देकर उन्हें स्वतः छानबीन करने के लिए लेकिन इस अध्याय में अत्यन्त सीमित अर्थ में वैश्वीकरण की प्रोत्साहित कर सकते हैं। उदारीकरण की चर्चा करते समय चर्चा की गई है। इसमें वैश्वीकरण को बहुराष्ट्रीय कंपनियों के आपको ध्यान रखना है कि छात्र भारत की उदारीकरण-पूर्व विदेश व्यापार एवं विदेशी निवेश के माध्यम से देशों के बीच की अर्थव्यवस्था से अपरिचित हैं। उदारीकरण से पूर्व एवं एकीकरण के रूप में पारिभाषित किया गया है। आप देखेंगे पश्चात् की स्थितियों में तुलना एवं विषमता दिखाने के लिए कि इस अध्याय में पोर्टफोलियो निवेश जैसे जटिल मुद्दों को नाटक का आयोजन किया जा सकता है। इसी प्रकार, डब्ल्यू. छोड़ दिया गया है। टी.ओ. के तहत होने वाली अंतर्राष्ट्रीय संधियाँ और शक्ति का असमान संतुलन रोचक विषय हैं, जिनको व्याख्यान की बजाए यदि हम विगत तीस वर्षों पर नजर डालें, तो पाते हैं कि । चर्चा के रूप में प्रतिपादित किया जा सकता है। विश्व के दूरस्थ भागों को जोड़ने वाली वैश्वीकरण की प्रक्रिया में बहुराष्ट्रीय कंपनियों की मुख्य भूमिका रही है। अंतिम खंड में वैश्वीकरण के प्रभावों को शामिल किया बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ अपने उत्पादन का दूसरे देशों में क्यों गया है। विकास प्रक्रिया में वैश्वीकरण ने किस सीमा तक प्रसार कर रही हैं और किस तरह से कर रही हैं? अध्याय के योगदान किया है? इस खंड में अध्याय 1 एवं 2 (जैसे, पहले खंड में इसी की चर्चा की गई है। बहुराष्ट्रीय कंपनियों न्यायसंगत विकास लक्ष्य क्या है) के विषय भी ध्यान में रखे की तीव्र वृद्धि और उनके प्रभाव को मात्रात्मक आकलनों के गए हैं, जिसका आप संदर्भ दे सकते हैं। इस खंड की चर्चा बजाय मुख्यतः भारतीय संदर्भ से लिए गए उदाहरणों के द्वारा करते समय स्थानीय पर्यावरण से क्रियाकलापों और उदाहरणों दिखाया गया है। ध्यान रखें कि उदाहरण सामान्य पक्ष की को लेना भी अत्यन्त आवश्यक है। इससे उन संदर्भो को व्याख्या करने में सहायक हैं। पढ़ाते समय धारणाओं पर विशेष शामिल किया जा सकेगा जिन्हें इस अध्याय में नहीं रखा गया बल दिया जाना चाहिए और उदाहरणों का प्रयोग व्याख्या के है, जैसे-स्थानीय किसानों पर आयातों का प्रभाव, इत्यादि। लिए किया जाना चाहिए। आप जाँच करने तथा नवीन ऐसी स्थितियों की विवेचना करने के लिए सामूहिक अवधारणाओं को सुदृढ़ करने के लिए बोधगम्य अनुच्छेदों, विचार-मंथन-सत्रों का आयोजन किया जा सकता है। जैसा कि खंड-II के अंत में दिया गया है, का रचनात्मक उपयोग कर सकते हैं। वैश्वीकरण की प्रक्रिया एवं इसके प्रभावों को समझने में उत्पादन का एकीकरण और बाज़ार का एकीकरण एक अन्तर्राष्ट्रीय संगठन ने अपनी वेबसाइट uDuDub.tlo.org पर महत्त्वपूर्ण धारणा है। इस अध्याय में, वैश्वीकरण की प्रक्रिया । न्यायसंगत वैश्वीकरण की अपील की है। ऐसी अपीलें अन्य में बहुराष्ट्रीय कंपनियों की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए। संगठनों ने भी की हैं। एक अन्य रोचक स्रोत WTO की इसकी विस्तार से चर्चा की गई है। अगले विषय पर जाने से वेबसाइट http//uuuu0.uto.org है। यह डब्ल्यू.टी.ओ. में पहले, आपको सुनिश्चित करना है कि छात्र इन विचारों को । किए जा रहे अनेक प्रकार के समझौतों की जानकारी देता है। पर्याप्त स्पष्टता से आत्मसात कर लें। कंपनियों से संबंधित जानकारियों के लिए अधिकांश बहुराष्ट्रीय | वैश्वीकरण को अनेक कारकों ने सुगमता प्रदान की है। कंपनियों की अपनी वेबसाइट हैं। यदि आप बहुराष्ट्रीय कंपनियों इनमें से तीन कारकों पर बल दिया गया है - प्रौद्योगिकी में को आलोचनात्मक ढंग से देखना चाहते हैं तो उसके लिए तीव्र उन्नति, व्यापार और निवेश नीतियों का उदारीकरण और अनुमोदित वेबसाइट upu0uD.Corporateubatch.org.ult है। आर्थिक विकास की समझ अध्याय 4 वैश्वीकरण और भारतीय | अर्थव्यवस्था आज के विश्व में, उपभोक्ता के रूप में हममें से कुछ के सामने वस्तुओं और सेवाओं के विस्तृत विकल्प हैं। विश्व के शीर्षस्थ विनिर्माताओं द्वारा निर्मित डिजिटल कैमरे, मोबाइल फोन और टेलीविज़न के नवीनतम मॉडल हमारे लिए सुलभ हैं। हमेशा भारत की सड़कों पर गाड़ियों के नए मॉडल देखे जा सकते हैं। वो दिन गुजर गए, जब भारत की सड़कों पर केवल एम्बेसडर और फिएट कारें ही दिखाई देती थीं। आज भारतीय विश्व की लगभग सभी शीर्ष कंपनियों द्वारा निर्मित कारें खरीद रहे हैं। अनेक दूसरी वस्तुओं के ब्रांडों में भी इसी प्रकार की तीव्र वृद्धि देखी जा सकती है - कमीज़ों से लेकर टेलीविज़नों और प्रसंस्करित फलों के रस तक। हमारे बाजारों में वस्तुओं के बहुव्यापी विकल्प अपेक्षाकृत नवीन परिघटना है। दो दशक पहले भी आपको भारत के बाजारों में वस्तुओं की ऐसी विविधता नहीं मिलेगी। कुछ ही वर्षों में हमारा बाज़ार पूर्णतः परिवर्तित हो गया है। | हम इस तीव्र परिवर्तन को कैसे समझ सकते हैं? ऐसे कौन से कारक हैं जो इन परिवर्तनों को ला रहे हैं और ये परिवर्तन लोगों का जीवन किस प्रकार प्रभावित कर रहे हैं? इस अध्याय में हम इन प्रश्नों पर विचार करेंगे। बीसवी शताब्दी के मध्य तक उत्पादन मुख्यतः के परिदृश्य पर उभरने से पहले का युग था। एक देशों की सीमाओं के अंदर ही सीमित था। इन बहुराष्ट्रीय कंपनी वह है, जो एक से अधिक देशों देशों की सीमाओं को लांघने वाली वस्तुओं में में उत्पादन पर नियंत्रण अथवा स्वामित्व रखती है। केवल कच्चा माल, खाद्य पदार्थ और तैयार उत्पाद बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ उन प्रदेशों में कार्यालय तथा ही थे। भारत जैसे उपनिवेशों से कच्चा माल एवं उत्पादन के लिए कारखाने स्थापित करती हैं, जहाँ खाद्य पदार्थ निर्यात होते थे और तैयार वस्तुओं का उन्हें सस्ता श्रम एवं अन्य संसाधन मिल सकते हैं। आयात होता था। व्यापार ही दूरस्थ देशों को उत्पादन लागत में कमी करने तथा अधिक लाभ आपस में जोड़ने का मुख्य जरिया था। यह बड़ी कमाने के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ ऐसा करती कंपनियों, जिन्हें बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ कहते हैं, हैं। निम्न उदाहरण पर विचार करते हैं - एक बहुराष्ट्रीय कंपनी द्वारा उत्पादन का विस्तार औद्योगिक उपकरण बनाने वाली एक बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनी संयुक्त राज्य अमेरिका के अनुसंधान केन्द्र में अपने उत्पादों का डिजाइन तैयार करती है। उसके पुर्जे चीन में विनिर्मित होते हैं। फिर इन्हें जहाज में लादकर मेक्सिको और पूर्वी यूरोप ले जाया जाता है, जहाँ उपकरण के पुर्जा को जोड़ा जाता है और तैयार उत्पाद को विश्व भर में बेचा जाता है। इस बीच, कंपनी की ग्राहक सेवा का भारत स्थित कॉल सेंटरों के माध्यम से संचालन किया जाता है। यह बंगलोर स्थित एक कॉल सेंटर है जो पर्याप्त दूरसंचार सुविधाओं और इंटरनेट से सुसज्जित है। यह विदेशी ग्राहकों को सूचना एवं मदद उपलब्ध कराता है। आर्थिक विकास की समझ इस उदाहरण में, बहुराष्ट्रीय कंपनी केवल यूरोप, अमेरिका और यूरोप के बाजारों से अपनी वैश्विक स्तर पर ही अपना तैयार उत्पाद नहीं बेच निकटता के कारण लाभप्रद हैं। भारत में अत्यंत रही है बल्कि अधिक महत्त्वपूर्ण यह है कि कुशल इंजीनियर उपलब्ध हैं, जो उत्पादन के वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन विश्व स्तर तकनीकी पक्षों को समझ सकते हैं। यहाँ अंग्रेज़ी पर कर रही है। परिणामतः उत्पादन प्रक्रिया बोलने वाले शिक्षित युवक भी हैं, जो ग्राहक क्रमशः जटिल ढंग से संगठित हुई है। देखभाल सेवायें उपलब्ध करा सकते हैं। ये सभी उत्पादन-प्रक्रिया छोटे भागों में विभाजित है और चीजें बहुराष्ट्रीय कंपनी की लागत का लगभग विश्व भर में, फैली हुई है। ऊपर दिए गए 50-60 प्रतिशत बचत कर सकती हैं। अतः उदाहरण में चीन एक सस्ता विनिर्माण केन्द्र होने वास्तव में, सीमाओं के पार बहुराष्ट्रीय उत्पादन का लाभ प्रदान करता है। मेक्सिको और पूर्वी प्रक्रिया के प्रसार से असीमित लाभ हो सकता है। यह दर्शाने के लिए निम्न कथन की पूर्ति करें कि वस्त्र उद्योग में उत्पादन प्रक्रिया कैसे विश्व-भर में फैली हुई है। एक ब्रांड लेबल पर 'मेड इन थाइलैण्ड' लिखा है, परन्तु उसमें एक भी थाई उत्पाद नहीं है। हम विनिर्माण-प्रक्रिया का विश्लेषण करते हैं और प्रत्येक चरण में सर्वोत्तम निर्माण को देखते हैं। हम इसे विश्व स्तर पर कर रहे हैं। जैसे, वस्त्र निर्माण में कंपनी कोरिया से सूत ले सकती है ........... सामान्यत: बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ उसी स्थान पर कभी-कभी बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ इन देशों की उत्पादन इकाई स्थापित करती हैं जो बाजार के स्थानीय कंपनियों के साथ संयुक्त रूप से उत्पादन नज़दीक हो, जहाँ कम लागत पर कुशल और करती हैं। संयुक्त उत्पादन से स्थानीय कंपनी को अकुशल श्रम उपलब्ध हो और जहाँ उत्पादन के दोहरा लाभ होता है। पहला बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ अन्य कारकों की उपलब्धता सुनिश्चित हो। साथ अतिरिक्त निवेश के लिए धन प्रदान कर सकती ही, बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ सरकारी नीतियों पर भी हैं, जैसे कि तीव्र उत्पादन के लिए मशीनें खरीदने नज़र रखती हैं, जो उनके हितों का देखभाल करती के लिए। दूसरा, बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ उत्पादन की हैं। आप बाद में, इस अध्याय में सरकारी नीतियों नवीनतम प्रौद्योगिकी अपने साथ ला सकती हैं। हम इस कारखाने को के बारे में और अध्ययन करेंगे। दूसरे देश में स्थानान्तरित कर देंगे। इन परिस्थितियों को सुनिश्चित करने के बाद यहाँ पर यह खर्चीला ही बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ उत्पादन के लिए कार्यालयों हो गया है। और कारखानों की स्थापना करती हैं। परिसंपत्तियों जैसे - भूमि, भवन, मशीन और अन्य उपकरणों की खरीद में व्यय की गई मुद्रा को निवेश कहते हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा किए गए निवेश को विदेशी निवेश कहते हैं। कोई भी निवेश इस आशा से किया जाता है कि ये परिसंपत्तियाँ लाभ अर्जित करेंगी। वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था लेकिन, बहुराष्ट्रीय कंपनियों के निवेश का सबसे आम रास्ता स्थानीय कंपनियों को खरीदना और उसके बाद उत्पादन का प्रसार करना है। अपार संपदा वाली बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ यह आसानी से कर सकती हैं। उदाहरण के लिए, एक बहुत बड़ी अमेरिकी बहुराष्ट्रीय कंपनी कारगिल फूड्स ने परख फूड्स जैसी छोटी भारतीय कंपनियों को खरीद लिया है। परख फूड्स ने भारत के विभिन्न भागों में एक बड़ा विपणन तंत्र तैयार किया था, जहाँ उसके ब्राण्ड काफी प्रसिद्ध थे। परख फूड्स के चार तेल शोधक केन्द्र भी थे, जिस पर अब कारगिल का नियंत्रण हो गया है। अब कारगिल 50 लाख पैकेट प्रतिदिन निर्माण क्षमता के साथ भारत में खाद्य तेलों की सबसे बड़ी उत्पादक कंपनी है। वास्तव में, कई शीर्षस्थ बहुराष्ट्रीय कंपनियों की संपत्ति विकासशील देशों की सरकारों के सम्पूर्ण बजट से भी अधिक है। ऐसी अपार संपत्ति वाली बहुराष्ट्रीय कंपनियों की शक्ति और प्रभाव पर विचार करें। विकासशील देशों में उत्पादित जीन्स अमेरिका में 6500 रु. में बेची जा रही है। | बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ एक अन्य तरीके से उत्पादन नियंत्रित करती हैं। विकसित देशों की बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ छोटे उत्पादकों को उत्पादन का ऑर्डर देती हैं। वस्त्र, जूते-चप्पल एवं खेल के सामान ऐसे उद्योग हैं, जहाँ विश्वभर में बड़ी संख्या में लुधियाना के एक घर में एक बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनी के लिए फुटबाल-निर्माण का चित्र छोटे उत्पादकों द्वारा उत्पादन किया जाता है। बहुराष्ट्रीय कंपनियों को इन उत्पादों की आपूर्ति की जाती है। फिर इन्हें अपने ब्राण्ड नाम से ग्राहकों को बेचती हैं। इन बड़ी कंपनियों में दूरस्थ उत्पादकों के मूल्य, गुणवत्ता, आपूर्ति और श्रम-शर्ती का निर्धारण करने की प्रचण्ड क्षमता होती है। इस प्रकार, हम देखते हैं कि बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ कई तरह से अपने उत्पादन कार्य का प्रसार कर रही हैं और विश्व के कई देशों की स्थानीय कंपनियों के साथ पारस्परिक संबंध स्थापित कर रही हैं। स्थानीय कंपनियों के साथ साझेदारी द्वारा, आपूर्ति के लिए स्थानीय कंपनियों का इस्तेमाल करके और स्थानीय कंपनियों से निकट प्रतिस्पर्धा करके अथवा उन्हें खरीद कर बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ दूरस्थ स्थानों के उत्पादन पर अपना प्रभाव जमा रही हैं। परिणामतः दूर-दूर स्थानों पर फैला उत्पादन परस्पर संबंधित हो रहा है। आर्थिक विकास की समझ बायें दिए अनुच्छेद को पढ़े और प्रश्नों का उत्तर दें। एक अमेरिकी कंपनी फोर्ड मोटर्स 1. क्या आप मानते हैं कि फोर्ड मोटर्स एक बहुराष्ट्रीय कंपनी है? क्यों? विश्व के 26 देशों में प्रसार के 2. विदेशी निवेश क्या है? फोर्ड मोटर्स ने भारत में कितना निवेश किया था? साथ विश्व की सबसे बड़ी 3 भारत में उत्पादन संयंत्र स्थापित करके फोर्ड मोटर्स जैसी बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ केवल मोटरगाड़ी निर्माता कंपनी है। फोर्ड भारत जैसे देशों के विशाल बाजार का ही लाभ नहीं उठाती हैं, बल्कि कम उत्पादन लागत मोटर्स 1995 में भारत आयी और का भी लाभ प्राप्त करती हैं। कथन की व्याख्या करें। चेन्नई के निकट 1,700 करोड़ 4. आपके विचार से कंपनी अपने वैश्विक कारोबार के लिए कार के पुर्जी के विनिर्माण रुपए का निवेश करके एक केन्द्र के रूप में भारत का विकास क्यों करना चाहती है? निम्न कारकों पर विचार करें- विशाल संयंत्र की स्थापना की। (अ) भारत में श्रम और अन्य संसाधनों पर लागत (ब) कई स्थानीय विनिर्माताओं की यह संयंत्र भारत में जीपों एवं उपस्थिति, जो फोर्ड मोटर्स को कल-पुर्जी की आपूर्ति करते हैं (स) अधिक संख्या में ट्रकों के प्रमुख निर्माता महिन्द्रा । भारत और चीन के ग्राहकों से निकटता।। एंड महिन्द्रा के सहयोग से स्थापित 5. भारत में फोर्ड मोटर्स द्वारा कारों के निर्माण से उत्पादन किस प्रकार परस्पर किया गया। वर्ष 2004 तक फोर्ड संबंधित होगा? मोटर्स भारतीय बाजारों में 27,000 6. बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ, अन्य कंपनियों से किस प्रकार अलग हैं? कारें बेच रही थी, जबकि 24000 कारों का निर्यात भारत से दक्षिण 7. लगभग सभी बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ, अमेरिका, जापान या यूरोप की हैं जैसे, नोकिया, कोका-कोला, पेप्सी, होन्डा, नाइकी। क्या आप अनुमान कर सकते हैं कि ऐसा क्यों है? अफ्रीका, मेक्सिको और ब्राजील किया गया। कंपनी विश्व के दूसरे देशों में अपने संयंत्रों के लिए फोर्ड इंडिया का विकास पुर्जा आपूर्ति केन्द्र के रूप में करना चाहती है। लम्बे समय से विदेश व्यापार विभिन्न देशों को सरल शब्दों में कहा जाए, तो विदेश व्यापार आपस में जोड़ने का मुख्य माध्यम रहा है। घरेलू बाजारों अर्थात् अपने देश के बाजारों से बाहर इतिहास में आपने भारत और दक्षिण एशिया को के बाजारों में पहुँचने के लिए उत्पादकों को एक पूर्व और पश्चिम के बाजारों से जोड़ने वाले अवसर प्रदान करता है। उत्पादक केवल अपने व्यापार मार्गों और इन मार्गों से होने वाले गहन देश के बाजारों में ही अपने उत्पाद नहीं बेच व्यापार के बारे में पढ़ा होगा। आपको यह भी याद सकते हैं, बल्कि विश्व के अन्य देशों के बाजारों होगा कि व्यापारिक हितों के कारण ही व्यापारिक में भी प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं। इसी प्रकार, दूसरे कंपनियाँ जैसे, ईस्ट इंडिया कंपनी भारत की देशों में उत्पादित वस्तुओं के आयात से खरीददारों ओर आकर्षित हुई। आखिरकार विदेशी व्यापार का के समक्ष उन वस्तुओं के घरेलू उत्पादन के अन्य बुनियादी कार्य क्या है? विकल्पों का विस्तार होता है। वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था अब हम भारत के बाजार पर चीनी खिलौनों के प्रभाव के उदाहरण के द्वारा विदेश व्यापार के प्रभाव का अध्ययन करते हैं। भारत में चीन के खिलौने चीन के विनिर्माताओं को भारत में खिलौने निर्यात करने को एक अवसर का पता चलता है, जहाँ खिलौने अधिक मूल्य पर बेचे जा रहे हैं। वे भारत को खिलौने निर्यात करना आरम्भ करते हैं। अब भारत में खरीददारों के पास भारतीय और चीनी खिलौनों के बीच चयन करने का विकल्प है। सस्ते दाम एवं नवीन डिजाइनों के कारण चीनी खिलौने भारतीय बाजारों में । अधिक लोकप्रिय हैं। एक वर्ष में ही खिलौने की 70-80 प्रतिशत दुकानों में भारतीय खिलौनों का स्थान चीनी खिलौनों ने ले लिया है। अब भारत के बाजारों में खिलौने पहले की तुलना में सस्ते हैं। यहाँ क्या हो रहा है? व्यापार के कारण चीनी खिलौने भारत के बाजारों में आए। भारतीय और चीनी खिलौनों की प्रतिस्पर्धा में चीनी खिलौने बेहतर साबित हुए। भारतीय खरीददारों के समक्ष कम कीमत पर खिलौनों के अपेक्षाकृत अधिक विकल्प हैं। इससे चीन के खिलौना निर्माताओं को अपना व्यवसाय फैलाने के लिए एक अवसर प्राप्त होता है। इसके विपरीत, भारतीय खिलौना निर्माताओं को हानि होती है, क्योंकि उनके खिलौने कम बिकते हैं। आर्थिक विकास की समझ सामान्यतः व्यापार के खुलने से वस्तुओं का एक बाजार से दूसरे बाज़ार में आवागमन होता है। बाजार में वस्तुओं के विकल्प बढ़ जाते हैं। दो बाजारों में एक ही वस्तु का मूल्य एक समान होने लगता है। अब दो देशों के उत्पादक एक दूसरे से हजारों मील दूर होकर भी एक दूसरे से प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं। इस प्रकार, विदेश व्यापार विभिन्न देशों के बाज़ारों को जोड़ने या एकीकरण में सहायक होता है। सिलसिलाए वस्त्रों के छोटे व्यापारी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के ब्रांड और आयात दोनों से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करते हुए। 1. अतीत में देशों को जोड़ने वाला मुख्य माध्यम क्या था? अब यह अलग कैसे है? 2. विदेश व्यापार और विदेशी निवेश में अंतर स्पष्ट करें। 3. हाल के वर्षों में चीन भारत से इस्पात आयात कर रहा है। व्याख्या करें कि चीन द्वारा इस्पात का आयात कैसे प्रभावित करेगा - (क) चीन की इस्पात कंपनियों को (ख) भारत की इस्पात कंपनियों को (ग) चीन में अन्य औद्योगिक वस्तुओं के उत्पादन के लिए इस्पात खरीदने वाले उद्योगों को 4. चीन के बाजारों में भारत से इस्पात का आयात किस प्रकार दोनों देशों के इस्पात-बाज़ार के एकीकरण में सहायता करेगा? व्याख्या करें। विगत दो तीन दशकों से अधिकांश बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ विश्व में उन स्थानों की तलाश कर रही हैं, जो उनके उत्पादन के लिए सस्ते हों। इन देशों ध्यान रहे। आप हमारी में बहुराष्ट्रीय कंपनियों के निवेश में वृद्धि हो रही है, दुनिया से खेल रहे हैं। साथ ही विभिन्न देशों के बीच विदेश व्यापार में भी किसी दिन आपको। तीव्र वृद्धि हो रही है। विदेश व्यापार का एक बड़ा इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। भाग बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा नियंत्रित है। जैसे, भारत में फोर्ड मोटर्स का कार संयंत्र, केवल भारत वैश्वीकरण में मज़ा है। के लिए ही कारों का निर्माण नहीं करता, बल्कि वह अन्य विकासशील देशों को कारें और विश्व भर में अपने कारखानों के लिए कार-पुर्जी का भी निर्यात करता है। इसी प्रकार, अधिकांश बहुराष्ट्रीय कंपनियों के क्रियाकलाप में वस्तुओं और सेवाओं का बड़े पैमाने पर व्यापार शामिल होता है। वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था अधिक विदेश व्यापार और अधिक विदेशी अधिकांश भाग एक-दूसरे के अपेक्षाकृत अधिक निवेश के परिणामस्वरूप विभिन्न देशों के बाजारों सम्पर्क में आए हैं। एवं उत्पादनों में एकीकरण हो रहा है। विभिन्न वस्तुओं, सेवाओं, निवेशों और औद्योगिकी के अतिरिक्त देशों के बीच परस्पर संबंध और तीव्र विभिन्न देशों को आपस में जोड़ने का एक और एकीकरण की प्रक्रिया ही वैश्वीकरण है। माध्यम हो सकता है। यह माध्यम है विभिन्न देशों के बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ वैश्वीकरण की प्रक्रिया में बीच लोगों का आवागमन। प्रायः लोग बेहतर आय, मुख्य भूमिका निभा रही हैं। विभिन्न देशों के बेहतर रोजगार एवं शिक्षा की तलाश में एक देश से बीच अधिक से अधिक वस्तुओं और सेवाओं, दूसरे देश में आवागमन करते हैं किन्तु, विगत कुछ निवेश और प्रौद्योगिकी का आदान-प्रदान हो दशकों में अनेक प्रतिबंधों के कारण विभिन्न देशों के रहा है। विगत कुछ दशकों की तुलना में विश्व के बीच लोगों के आवागमन में अधिक वृद्धि नहीं हुई है। 1. वैश्वीकरण प्रक्रिया में बहुराष्ट्रीय कंपनियों की क्या भूमिका है? 2. वे कौन से विभिन्न तरीके हैं, जिनके द्वारा देशों को परस्पर संबंधित किया जा सकता है? 3. सही विकल्प का चयन करें - देशों को जोड़ने से वैश्वीकरण के परिणाम होंगे (क) उत्पादकों के बीच कम प्रतिस्पर्धा होगी (ख) उत्पादकों के बीच अधिक प्रतिस्पर्धा होगी। (ग) उत्पादकों के बीच प्रतिस्पर्धा में परिवर्तन नहीं होगा हमने परिवहन में काफी उन्नति देखी है... प्रौद्योगिकी में तीव्र उन्नति वह मुख्य कारक है जिसने वैश्वीकरण की प्रक्रिया को उत्प्रेरित किया। जैसे, विगत पचास वर्षों में परिवहन प्रौद्योगिकी में बहुत उन्नति हुई है। इसने लम्बी दूरियों तक वस्तुओं की तीव्रतर आपूर्ति को कम लागत पर संभव किया है। वस्तुओं के परिवहन के लिए | कंटेनर वस्तुओं को कंटेनरों में रखा गया है, जिससे इन्हें जहाजों, रेलों, वायुयानों एवं ट्रकों पर बिना क्षति के लादा जा सके। कंटेनरों से ढुलाई-लागत में भारी बचत हुई है और माल को बाज़ारों तक पहुँचाने की गति में वृद्धि हुई है। इसी प्रकार, वायु यातायात की लागत में गिरावट आयी है। परिणामतः वायुमार्ग से अपेक्षाकृत अधिक मात्रा में वस्तुओं का परिवहन संभव हुआ है। आर्थिक विकास की समझ इससे भी अधिक उल्लेखनीय है सूचना एवं लगभग उसकी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और संचार प्रौद्योगिकी का विकास। वर्तमान समय में सूचनाओं को आपस में बाँट सकते हैं। इंटरनेट से दूरसंचार, कंप्यूटर और इंटरनेट के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी हम तत्काल इलेक्ट्रॉनिक डाक (ई-मेल) भेज द्रुत गति से परिवर्तित हो रही है। दूरसंचार सुविधाओं सकते हैं और अत्यंत कम मूल्य पर विश्व-भर में (टेलीग्राफ, टेलीफोन, मोबाइल फोन एवं फैक्स) बात (वॉयस मेल) कर सकते हैं। का विश्व भर में एक-दूसरे से सम्पर्क करने, सूचनाओं को तत्काल प्राप्त करने और दूरवर्ती क्षेत्रों से संवाद करने में प्रयोग किया जाता है। ये सुविधाएँ संचार उपग्रहों द्वारा सुगम हुई हैं। जैसा । ... लेकिन बिजली कि आप जानते होंगे, जीवन के लगभग प्रत्येक ३) । क्षेत्र में कंप्यूटरों का प्रवेश हो गया है। आपने। इंटरनेट के चमत्कारिक संसार में भी प्रवेश किया होगा, जहाँ जो कुछ भी आप जानना चाहते हैं, , वश्वकिरण में संचार सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी (संक्षेप में आई.टी.) ने विभिन्न देशों के बीच सेवाओं के उत्पादन के प्रसार में मुख्य भूमिका निभायी है। हम देखते हैं कैसे? का उपयोग लंदन के पाठकों के लिए प्रकाशित एक समाचार पत्रिका की डिजाइनिंग और छपाई दिल्ली में की जानी है। पत्रिका का पाठ्य-विषय इंटरनेट के द्वारा दिल्ली कार्यालय को भेज दिया जाता है। दिल्ली कार्यालय में डिज़ाइनर दूरसंचार सुविधाओं का उपयोग करके लंदन कार्यालय से पत्रिका की डिजाइन के बारे में निर्देश प्राप्त करते हैं। डिजाइन तैयार करने का काम कंप्यूटर पर किया जाता है। छपाई के बाद पत्रिकाओं को वायुमार्ग से लंदन भेजा जाता है। यहाँ तक कि डिज़ाइन और छपाई के पैसे का भगतान इंटरनेट (ई-बैंकिंग) के द्वारा लंदन के एक बैंक से दिल्ली के एक बैंक को तत्काल कर दिया जाता है। 1. ऊपर दिए गए उदाहरण में, उत्पादन में प्रौद्योगिकी के प्रयोग का उल्लेख करने वाले शब्दों को रेखांकित करें। यह बहुत अच्छी पत्रिका लग रही है। लेकिन मेरी पाठ्यपुस्तिका की । छपाई ऐसी क्यों नहीं है? मैं । अपनी पुस्तक में बड़ी मुश्किल से शब्दों को पढ़ सकती हूँ। नहीं मेरे बच्चे, यह छपाई मशीन आम भारतीय के लिए नहीं है। 2. सूचना प्रौद्योगिकी वैश्वीकरण से कैसे जुड़ी हुई है? क्या सूचना प्रौद्योगिकी के प्रसार के बिना वैश्वीकरण संभव होता? वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था विदेश व्यापार तथा विदेशी निवेश भारत ने केवल अनिवार्य चीजों जैसे, मशीनरी, का उदारीकरण उर्वरक और पेट्रोलियम के आयात की ही अनुमति दी। ध्यान दीजिए कि सभी विकसित देशों ने हम भारत में चीनी खिलौनों के आयात वाले विकास के प्रारंभिक चरणों में घरेलू उत्पादकों को उदाहरण पर वापस लौटते हैं। मान लीजिए कि विभिन्न तरीकों से संरक्षण दिया है। भारत सरकार खिलौनों के आयात पर कर लगाती है। तब क्या होगा? इसका अर्थ है कि जो इन भारत में करीब सन् 1991 के प्रारंभ से नीतियों खिलौनों का आयात करना चाहते हैं, उन्हें इन पर में कुछ दूरगामी परिवर्तन किए गए। सरकार ने यह कर देना होगा। कर के कारण खरीददारों को निश्चय किया कि भारतीय उत्पादकों के लिए आयातित खिलौनों की अधिक कीमत चुकानी । विश्व के उत्पादकों से प्रतिस्पर्धा करने का समय होगी। चीन के खिलौने अब भारत के बाजारों में आ गया है। यह महसूस किया गया कि प्रतिस्पर्धा इतने सस्ते नहीं रह जाएँगे और चीन से उनका से देश में उत्पादकों के प्रदर्शन में सुधार होगा, आयात स्वतः कम हो जाएगा। भारत के क्योंकि उन्हें अपनी गुणवत्ता में सुधार करना होगा। खिलौना-निर्माता अधिक समृद्ध हो जाएँगे। इस निर्णय का प्रभावशाली अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने समर्थन किया। आयात पर कर, व्यापार अवरोधक का एक उदाहरण है। इसे अवरोधक इसलिए कहा गया है, अतः विदेश व्यापार एवं विदेशी निवेश पर से क्योंकि यह कुछ प्रतिबंध लगाता है। सरकारें अवरोधों को काफी हद तक हटा दिया गया। व्यापार अवरोधक का प्रयोग विदेश व्यापार में इसका अर्थ है कि वस्तुओं का आयात-निर्यात वृद्धि या कटौती (नियमित करने) करने और देश सुगमता से किया जा सकता था और विदेशी में किस प्रकार की वस्तुएँ कितनी मात्रा में आयातित कंपनियाँ यहाँ अपने कार्यालय और कारखाने स्थापित होनी चाहिए, यह निर्णय करने के लिए कर कर सकती थीं। सकती हैं। सरकार द्वारा अवरोधों अथवा प्रतिबंधों को स्वतंत्रता के बाद भारत सरकार ने विदेश हटाने की प्रक्रिया उदारीकरण के नाम से व्यापार एवं विदेशी निवेश पर प्रतिबंध लगा रखा जानी जाती है। व्यापार के उदारीकरण से था। देश के उत्पादकों को विदेशी प्रतिस्पर्धा से व्यावसायियों को मुक्त रूप से निर्णय लेने की संरक्षण प्रदान करने के लिए यह अनिवार्य माना अनुमति मिली है कि वे क्या आयात या निर्यात गया। 1950 और 1960 के दशकों में उद्योगों का करना चाहते हैं। सरकार पहले की तुलना में कम उदय हो रहा था और इस अवस्था में आयात से नियंत्रण करती है और इसलिए उसे अधिक उदार प्रतिस्पर्धा इन उद्योगों को बढ़ने नहीं देती। इसीलिए, कहा जाता है। 1. विदेश व्यापार के उदारीकरण से आप क्या समझते हैं? 2. आयात पर कर एक प्रकार का व्यापार अवरोधक है। सरकार आयात होने वाली वस्तुओं की संख्या भी सीमित कर सकती है। इसे कोटा कहते हैं। क्या आप चीन के खिलौनों के उदाहरण से व्याख्या कर सकते हैं कि व्यापार अवरोधक के रूप में कोटा का प्रयोग कैसे किया जा सकता है? आपके विचार से क्या इसका प्रयोग किया जाना चाहिए? चर्चा करें। आर्थिक विकास की समझ हमने देखा कि कुछ बहुत प्रभावशाली अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार से संबंधित नियमों को निर्धारित करता है। संगठनों ने भारत में विदेश व्यापार एवं विदेशी और यह देखता है कि इन नियमों का पालन हो। निवेश के उदारीकरण का समर्थन किया। इन वर्तमान में विश्व के लगभग 160 देश विश्व संगठनों का मानना है कि विदेश व्यापार और व्यापार संगठन (जून 2014) के सदस्य हैं। विदेशी निवेश पर सभी अवरोधक हानिकारक हैं। । यद्यपि विश्व व्यापार संगठन सभी देशों को कोई अवरोधक नहीं होना चाहिए। देशों के बीच मुक्त व्यापार की सुविधा देता है, परंतु व्यवहार में मुक्त व्यापार होना चाहिए। विश्व के सभी देशों यह देखा गया है कि विकसित देशों ने अनुचित को अपनी नीतियाँ उदार बनानी चाहिए। ढंग से व्यापार अवरोधकों को बरकरार रखा है। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यू. टी. ओ.) एक दूसरी ओर, विश्व व्यापार संगठन के नियमों ने ऐसा संगठन है, जिसका ध्येय अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार विकासशील देशों के व्यापार अवरोधों को हटाने को उदार बनाना है। विकसित देशों की पहल पर के लिए विवश किया है। इसका एक उदाहरण शुरू किया गया विश्व व्यापार संगठन अन्तर्राष्ट्रीय कृषि उत्पादों के व्यापार पर वर्तमान बहस है। | व्यापार व्यवहारों पर वाद-विवाद आपने अध्याय-2 में देखा है कि भारत में कर रहे हैं कि 'हमने विश्व व्यापार संगठन के नियमों के अनुसार अधिकांश रोजगार और सकल घरेलू उत्पाद व्यापार अवरोधकों को कम कर दिया, लेकिन आप लोगों ने विश्व (जी. डी. पी.) का महत्त्वपूर्ण भाग कृषि क्षेत्र | व्यापार संगठन के नियमों को नजरअंदाज कर दिया और अपने प्रदान करता है। इसकी तुलना में विकसित किसानों को भारी धन राशि देना बरकरार रखा है। आप लोगों ने देशों, जैसे अमेरिका के सकल घरेलू उत्पाद में हमारी सरकारों को अपने किसानों की सहायता बंद करने को कहा, कृषि का हिस्सा मात्र एक प्रतिशत और कुल परन्तु आप स्वयं यहीं काम कर रहे हैं। क्या यह मुक्त और रोज़गार में केवल 0.5 प्रतिशत है। फिर भी, न्यायसंगत व्यापार है? अमेरिका के कृषि क्षेत्र में कार्यरत इतने । संयुक्त राज्य अमेरिका में एक आदर्श कपास क्षेत्र, जिसमें हजारों एकड़ भूमि है और जिसका स्वामित्व कम प्रतिशत लोग भी अमेरिकी सरकार एक बड़ी कारपोरेट कंपनी के पास है। से उत्पादन और दूसरे देशों को निर्यात करने के लिए बहुत अधिक धन राशि प्राप्त करते हैं। इस भारी धन राशि के कारण अमेरिकी किसान अपने कृषि उत्पादों को असाधारण रूप से कम कीमत पर बेच सकते हैं। अधिशेष कृषि उत्पादों को दूसरे देशों के बाजारों में कम कीमत पर बेचा जाता है जो इन देशों के कृषकों को बुरी तरह प्रभावित करते हैं। यही कारण है कि विकासशील देश, विकसित देशों की सरकारों से सवाल वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था 1. रिक्त स्थानों की पूर्ति करें - विश्व व्यापार संगठन •••••••••••••••• देशों की पहल पर शुरू हुआ था। विश्व व्यापार संगठन का ध्येय ••••••••••••••• है। विश्व व्यापार संगठन सभी देशों के लिए ••••••••••••• से संबंधित नियम बनाता है और देखता है कि ••••••••••••••••• व्यवहार में, देशों के बीच व्यापार •••••••••••••••••• नहीं है। विकासशील देश, जैसे, भारत •••••••••••••••••• है जबकि अधिकांश स्थितियों में विकसित देशों ने अपने उत्पादकों को संरक्षण देना जारी रखा है। 2. आपके विचार से विभिन्न देशों के बीच अधिकाधिक न्यायसंगत व्यापार के लिए क्या किया जा सकता है? 3. उपर्युक्त उदाहरण में, हमने देखा कि अमेरिकी सरकार किसानों को उत्पादन के लिए भारी धन राशि देती है। कभी-कभी सरकार कुछ विशेष प्रकार की वस्तुओं जैसे पर्यावरण के अनुकूल वस्तुओं के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए सहायता देती है। यह न्यायसंगत है या नहीं, चर्चा करें। विगत बीस वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था के वैश्वीकरण पहला, विगत 20 वर्षों में बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने एक लम्बी दूरी तय की है। इसका लोगों के जीवन ने भारत में अपने निवेश में वृद्धि की है, पर क्या प्रभाव पड़ा है? हम कुछ प्रमाण देखते हैं। जिसका अर्थ है कि भारत में निवेश करना वैश्वीकरण और उत्पादकों-स्थानीय एवं विदेशी उनके लिए लाभप्रद रहा है। बहुराष्ट्रीय कंपनियों दोनों के बीच वहतर प्रतिस्पर्धा से उपभोक्ताओं ने शहरी इलाकों के उद्योगों जैसे सेलफोन, विशेषकर शहरी क्षेत्र में धनी वर्ग के उपभोक्ताओं मोटर गाड़ियों, इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों, ठंडे पेय को लाभ हुआ है। इन उपभोक्ताओं के समक्ष पदार्थो और जंक खाद्य पदार्थों एवं बैंकिंग पहले से अधिक विकल्प हैं और वे अब अनेक जैसी सेवाओं के निवेश में रुचि दिखाई है। इन उत्पादों की उत्कष्ट गणवत्ता और कम कीमत से उत्पादों के अधिकांश खरीददार संपन्न वर्ग के लाभान्वित हो रहे हैं। परिणामतः ये लोग पहले की लोग हैं। इन उद्योगों और सेवाओं में नये तुलना में आज अपेक्षाकृत उच्चतर जीवन स्तर का रोजगार उत्पन्न हुए हैं। साथ ही, इन उद्योगों को आनन्द ले रहे हैं। उत्पादकों और श्रमिकों पर कच्चे माल इत्यादि की आपूर्ति करनेवाली स्थानीय वैश्वीकरण का एक समान प्रभाव नहीं पड़ा है। कंपनियाँ समृद्ध हुईं। विदेशी निवेश आकर्षित करने के लिए उठाए गए कदम हाल के वर्षों में भारत की केन्द्र एवं राज्य सरकारें है। हाल के वर्षों में सरकार ने कंपनियों को अनेक नियमों भारत में निवेश हेतु विदेशी कंपनियों को आकर्षित से छूट लेने की अनुमति दे दी है। अब नियमित आधार पर करने के लिए विशेष कदम उठा रही हैं। औद्योगिक श्रमिकों को रोजगार देने के बजाय कंपनियों में जब काम का क्षेत्रों, जिन्हें विशेष आर्थिक क्षेत्र कहा जाता है, की । अधिक दबाव होता है, तो लोचदार ढंग से छोटी अवधि के स्थापना की जा रही है। विशेष आर्थिक क्षेत्रों में लिए श्रमिकों को कार्य पर रखती हैं। कंपनी की श्रम लागत विश्व स्तरीय सुविधाएँ-बिजली, पानी, सड़क, में कटौती करने के लिए ऐसा किया जाता है। फिर भी, परिवहन, भण्डारण, मनोरंजन और शैक्षिक सुविधाएँ विदेशी कंपनियाँ अभी भी संतुष्ट नहीं हैं और श्रम कानूनों उपलब्ध होनी चाहिए। विशेष आर्थिक क्षेत्र में उत्पादन में और अधिक लचीलेपन की माँग कर रही हैं। इकाइयाँ स्थापित करने वाली कंपनियों को आरंभिक अब हम निवेश पाँच वर्षों तक कोई कर नहीं देना पड़ता है। करने के लिए तैयार हैं। विदेशी निवेश आकर्षित करने हेतु सरकार ने श्रम-कानूनों में लचीलापन लाने की अनुमति दे दी है। आपने अध्याय-2 में देखा है कि संगठित क्षेत्र की कंपनियों को कुछ नियमों का अनुपालन करना पड़ता है। जिसका उद्देश्य श्रमिक अधिकारों का संरक्षण करना दूसरा, अनेक शीर्ष भारतीय कंपनियाँ बढी जो विश्व स्तर पर अपने क्रियाकलापों का प्रसार हुई प्रतिस्पर्धा से लाभान्वित हुई हैं। इन कंपनियों कर रही हैं। ने नवीनतम प्रौद्योगिकी और उत्पादन प्रणाली में | वैश्वीकरण ने सेवा प्रदाता कंपनियों विशेषकर निवेश किया और अपने उत्पादन-मानकों को ऊँचा । सूचना और संचार प्रौद्योगिकी वाली कंपनियों के उठाया है। कुछ ने विदेशी कंपनियों के साथ। लिए नये अवसरों का सृजन किया है। भारतीय सफलतापूर्वक सहयोग कर लाभ अर्जित किया। कंपनी द्वारा लंदन स्थित कंपनी के लिए पत्रिका इससे भी आगे, वैश्वीकरण ने कुछ बड़ी का प्रकाशन और कॉल सेंटर इसके उदाहरण हैं। भारतीय कंपनियों को बहुराष्ट्रीय कंपनियों के रूप इसके अतिरिक्त आँकड़ा प्रविष्टि (डाटा एन्ट्री), में उभरने के योग्य बनाया है। टाटा मोटर्स लेखाकरण, प्रशासनिक कार्य, इंजीनियरिंग जैसी (मोटरगाड़ियाँ), इंफोसिस (आई. टी.), रैनबैक्सी कई सेवायें भारत जैसे देशों में अब सस्ते में (दवाइयाँ), एशियन पेंट्स (पेंट), सुंदरम फास्नर्स उपलब्ध हैं और विकसित देशों को निर्यात की (नट और बोल्ट) कुछ ऐसी भारतीय कंपनियाँ हैं, जाती है। 1. प्रतिस्पर्धा से भारत के लोगों को कैसे लाभ हुआ है? 2. क्या और भारतीय कंपनियों को बहुराष्ट्रीय कंपनियों के रूप में उभारना चाहिए? इससे देश की जनता को क्या लाभ होगा? 3. सरकारें अधिक विदेशी निवेश आकर्षित करने का प्रयास क्यों करती हैं? 4. अध्याय 1 में हमने देखा कि एक का विकास दूसरे के लिए कैसे विध्वंसक हो सकता है। भारत के कुछ लोगों ने विशेष आर्थिक क्षेत्रों (सेज) की स्थापना का विरोध किया है। पता कीजिए, ये लोग कौन हैं और ये इसका विरोध क्यों कर रहे हैं? वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था छोटे उत्पादक - प्रतिस्पर्धा करो या नष्ट हो जाओ वैश्वीकरण ने बड़ी संख्या में छोटे उत्पादकों और श्रमिकों के लिए बड़ी चुनौतियाँ खड़ी की हैं। बढ़ती प्रतियोगिता रवि को यह अपेक्षा नहीं थी कि उसे एक उद्योगपति टेलीविजन कंपनियाँ थीं, जो टेलीविजन सेटों को के रूप में अपने जीवन की छोटी अवधि में ही निर्माण करने के लिए संधारित्रों सहित विभिन्न पुर्जे संकट का सामना करना पड़ेगा। रवि ने सन् 1992 में थोक में खरीदती और टेलीविजन सेटों का निर्माण तमिलनाडु के एक औद्योगिक शहर होसुर में संधारित्रों करती हैं। किंतु बहुराष्ट्रीय कंपनियों के ब्रांडों से का निर्माण करने वाली अपनी कंपनी शुरू करने प्रतिस्पर्धा ने भारतीय टेलीविजन कंपनियों को बहुराष्ट्रीय के लिए बैंक से ऋण लिया। संधारित्रों का इस्तेमाल कंपनियों के लिए संयोजन-कार्य करने के लिए ट्यूबलाइटों, टेलीविजनों सहित अनेक घरेलू इलेक्ट्रॉनिक विवश कर दिया। उनमें से कुछ जब संधारित्र खरीदती उपकरणों में होता है। तीन वर्षों के भीतर वह थीं, तो वे इनका आयात करना पसंद करती थी, अपने उत्पादन का विस्तार करने में सक्षम हो । क्योंकि आयातित सामानों की कीमत रवि जैसे लोगों गया और उसकी कंपनी में 20 कर्मचारी काम । द्वारा निर्धारित कीमत से आधी होती थी। करने लगे। अब रवि वर्ष 2000 में निर्मित संधारित्रों से आधे से अपनी कंपनी चलाने में उसका संघर्ष तब प्रारंभ हुआ, भी कम संधारित्रों का निर्माण करता है और उसके जब सरकार ने सन् 2001 में विश्व व्यापार संगठन के लिए केवल सात श्रमिक काम कर रहे हैं। रवि के समझौते के अनुसार संधारित्रों के आयात पर से अनेक दोस्तों ने, जो हैदराबाद और चेन्नई में इसी प्रतिबंधों को हटा दिया। उसके मुख्य ग्राहकों में व्यवसाय में थे, अपनी इकाइयाँ बंद कर दी। बैटरी, संधारित्र, प्लास्टिक, खिलौने, टायरों, डेयरी उत्पादों एवं खाद्य तेल के उद्योग कुछ ऐसे उदाहरण हैं, जहाँ प्रतिस्पर्धा के कारण छोटे विनिर्माताओं पर कड़ी मार पड़ी है। कई इकाइयाँ बंद हो गई, जिसके चलते अनेक श्रमिक बेरोजगार हो गए। भारत में लघु उद्योगों में कृषि के बाद सबसे अधिक श्रमिक (2 करोड) नियोजित हैं। 1. रवि की लघु उत्पादन इकाई बढ़ती प्रतिस्पर्धा से किस प्रकार प्रभावित हुई? 2. दूसरे देशों के उत्पादकों की तुलना में उत्पादन लागत अधिक होने के कारण क्या रवि जैसे उत्पादकों को उत्पादन रोक देना चाहिए? आप क्या सोचते हैं? 3. नवीनतम अध्ययनों ने संकेत किया है कि भारत के लघु उत्पादकों को बाज़ार में बेहतर प्रतिस्पर्धा के लिए तीन चीजों की आवश्यकता है - (अ) बेहतर सड़कें, बिजली, पानी, कच्चा माल, विपणन और सूचना तंत्र, (ब) प्रौद्योगिकी में सुधार एवं आधुनिकीकरण और (स) उचित ब्याज दर पर साख की समय पर उपलब्धता। • क्या आप व्याख्या कर सकते हैं कि ये तीन चीजें भारतीय उत्पादकों को किस प्रकार मदद करेंगी? क्या आप मानते हैं कि बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ इन क्षेत्रों में निवेश करने के लिए इच्छुक होंगी? क्यों? • क्या आप मानते हैं कि इन सुविधाओं को उपलब्ध कराने में सरकार की भूमिका है? क्यों? क्या आप कोई ऐसा उपाय सुझा सकते हैं जिसे कि सरकार अपना सके? चर्चा करें। आर्थिक विकास की समझ प्रतिस्पर्धा और अनिश्चित रोजगार वैश्वीकरण और प्रतिस्पर्धा के दबाव ने श्रमिकों के जीवन को व्यापक रूप से प्रभावित किया है। बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण अधिकांश नियोक्ता इन दिनों श्रमिकों को रोजगार देने में लचीलापन पसंद करते हैं। इसका अर्थ है कि श्रमिकों का रोज़गार अब सुनिश्चित नहीं है। अब हम देखते हैं कि भारत में वस्त्र निर्यात उद्योग प्रतिस्पर्धा के दबाव को कैसे सहन कर रहे हैं? वस्त्र निर्यातक फैक्ट्री में महिला श्रमिक - यद्यपि वैश्वीकरण ने महिलाओं को काम के लिए अवसर प्रदान किया है, परन्तु रोजगार की स्थितियाँ यह प्रदर्शित करती हैं कि महिलाओं को लाभ में भागीदारी समुचित रूप से नहीं मिली। अमेरिका और यूरोप में वस्त्र उद्योग की बड़ी बहुराष्ट्रीय कपड़ा श्रमिक 35 वर्षीया सशीला ने दिल्ली के एक वस्त्र निर्यातक कानया भारतीय निर्यातकों को वस्तओं की आपर्ति के लिया आर्डर देती हैं। विश्वव्यापी नेटवर्क से युक्त बड़ी बहुराष्ट्रीय उद्योग में एक श्रमिक के रूप में कई वर्ष काम कंपनियाँ लाभ को अधिकतम करने के लिए सबसे सस्ती वस्तुएँ । किया। जब वह एक स्थायी श्रमिक के रूप में खोजती हैं। इन बड़े आर्डरों को प्राप्त करने के लिए भारतीय । नियुक्त थी तो स्वास्थ्य बीमा, भविष्य निधि एवं वस्त्र निर्यातक अपनी लागत कम करने की कडी कोशिश करते । अतिरिक्त समय में कार्य करने के लिए दुगुनी हैं। चूंकि कच्चे माल पर लागत में कटौती नहीं की जा सकती, मज़दूरी की हकदार थी। जब 1990 के दशक के इसलिए नियोक्ता श्रम-लागत में कटौती करने की कोशिश करते । अंतिम वर्षों में सुशीला की फैक्ट्री बंद हो गई, तो हैं। जहाँ पहले कारखाने श्रमिकों को स्थायी आधार पर रोजगार । छह माह तक रोज़गार की तलाश करने के बाद देते थे, वहीं वे अब अस्थायी रोजगार देते हैं, ताकि श्रमिकों को । अंततः उसे अपने घर से 30 कि.मी. दूर एक वर्ष भर वेतन नहीं देना पड़े। श्रमिकों को बहुत लम्बे कार्य-घंटों । रोज़गार मिला। कई वर्षों तक इस फैक्ट्री में काम तक काम करना पड़ता है और अत्यधिक माँग की अवधि में करने के बावजूद वह एक अस्थायी श्रमिक है और नियमित रूप से रात में भी काम करना पड़ता है। मजदूरी काफी पहले की तुलना में आधे से भी कम कमा पाती है। कम होती है और श्रमिक अपनी रोजी-रोटी के लिए अतिरिक्त वह सप्ताह के सातों दिन सुबह 7.30 बजे अपने समय में भी काम करने के लिए विवश हो जाते हैं। घर से निकलती है और शाम 10 बजे वापस आती है। एक दिन काम नहीं करने का अर्थ है, उस दिन हालाँकि वस्त्र निर्यातकों के बीच प्रतिस्पर्धा से बहुराष्ट्रीय की मजदूरी नहीं मिलना। उसे अब कोई अन्य लाभ कंपनियों को अधिक लाभ कमाने में मदद मिली है, परन्तु नहीं मिलता है जो पहले मिलता था। उसके घर के वैश्वीकरण के कारण मिले लाभ में श्रमिकों को न्यायसंगत समीप की फैक्ट्रियों को काफी अस्थिर आर्डर हिस्सा नहीं दिया गया है। मिलते हैं और इसलिए वे कम वेतन भी देती हैं। वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था उपरोक्त कार्य-परिस्थितियाँ और श्रमिकों की कठिनाइयाँ भारत के अनेक औद्योगिक इकाइयों और सेवाओं में सामान्य बात हो गई है। आज अधिकांश श्रमिक असंगठित क्षेत्र में नियोजित हैं। यही नहीं, संगठित क्षेत्र में क्रमशः कार्य-परिस्थितियाँ असंगठित क्षेत्र के समान होती जा रही है। संगठित क्षेत्रक के श्रमिकों जैसे सुशीला को अब कोई संरक्षण और लाभ नहीं मिलता है, जिसका वह पहले उपभोग करती थी। 1. वस्त्र उद्योग के श्रमिकों, भारतीय निर्यातकों और विदेशी बहुराष्ट्रीय कंपनियों को प्रतिस्पर्धा ने किस प्रकार प्रभावित किया है? 2. वैश्वीकरण से मिले लाभों में श्रमिकों को न्यायसंगत हिस्सा मिल सके, इसके लिए प्रत्येक निम्न वर्ग क्या कर सकता है? (क) सरकार (ख) निर्यातक फैक्ट्रियों के नियोक्ता (ग) बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ (घ) श्रमिक 3. वर्तमान समय में भारत में बहस है कि क्या कंपनियों को रोजगार नीतियों के मुद्दे पर लचीलापन अपनाना चाहिए। इस अध्याय के आधार पर नियोक्ताओं और श्रमिकों के पक्षों का संक्षिप्त विवरण दें। उपर्युक्त प्रमाण यह संकेत करते हैं कि वैश्वीकरण कर सकती है कि श्रमिक कानूनों का उचित सभी के लिए लाभप्रद नहीं रहा है। शिक्षित, कुशल कार्यान्वयन हो और श्रमिकों को अपने अधिकार और संपन्न लोगों ने वैश्वीकरण से मिले नये अवसरों मिले। यह छोटे उत्पादकों को कार्य-निष्पादन में का सर्वोत्तम उपयोग किया है। दूसरी ओर, अनेक सुधार के लिए उस समय तक मदद कर सकती लोगों को लाभ में हिस्सा नहीं मिला है। है, जब तक वे प्रतिस्पर्धा के लिए सक्षम न हो जायें। यदि जरूरी हुआ तो सरकार व्यापार और चूँकि वैश्वीकरण अब एक सच्चाई है, तो निवेश अवरोधकों का उपयोग कर सकती है। यह वैश्वीकरण को अधिक न्यायसंगत' कैसे बनाया 'न्यायसंगत नियमों के लिए विश्व व्यापार संगठन जा सकता है? न्यायसंगत वैश्वीकरण सभी के से समझौते भी कर सकती है। विश्व व्यापार लिए अवसर प्रदान करेगा और यह सुनिश्चित भी संगठन में विकसित देशों के वर्चस्व के विरुद्ध करेगा कि वैश्वीकरण के लाभों में सबकी बेहतर समान हितों वाले विकासशील देशों को मिलकर हिस्सेदारी हो। लड़ना होगा। सरकार इसे संभव बनाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका विगत कछ वर्षों में, बड़े अभियानों और निभा सकती है। इसकी नीतियों को केवल धनी जनसंगठनों के प्रतिनिधियों ने विश्व व्यापार संगठन और प्रभावशाली लोगों को ही नहीं बल्कि देश के के व्यापार और निवेश से संबंधित महत्त्वपर्ण सभी लोगों के हितों का संरक्षण करना चाहिए। निर्णयों को प्रभावित किया है। यह प्रदर्शित करता आपने सरकार द्वारा किए जाने वाले कुछ उपायों है कि जनता भी न्यायसंगत वैश्वीकरण के संघर्ष के बारे में पढ़ा है। जैसे, सरकार यह सुनिश्चित में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। आर्थिक विकास की समझ हांगकांग में डब्लू.टी.ओ. के खिलाफ प्रदर्शन-2005 इस अध्याय में हमने वैश्वीकरण की वर्तमान साथ ही, व्यापार और निवेश के उदारीकरण अवस्था का अध्ययन किया। वैश्वीकरण ने व्यापार और निवेश अवरोधकों को हटाकर विभिन्न देशों के बीच तीव्र एकीकरण की वैश्वीकरण को सुगम बनाया है। अन्तर्राष्ट्रीय प्रक्रिया है। यह अधिकाधिक विदेशी निवेश स्तर पर, विश्व व्यापार संगठन ने व्यापार और विदेश व्यापार के द्वारा संभव हो रहा है। और निवेश के उदारीकरण के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ वैश्वीकरण की प्रक्रिया विकासशील देशों पर दबाव डाला है। में मुख्य भूमिका निभा रही हैं। अधिक से जबकि वैश्वीकरण से धनी उपभोक्ता अधिक बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ विश्व के उन । और कुशल, शिक्षित एवं धनी उत्पादक स्थानों की खोज कर रही हैं, जो उनके । | ही लाभान्वित हुए हैं परन्तु बढ़ती प्रतिस्पर्धा उत्पादन के लिए ज्यादा सस्ते हों। परिणामतः । से अनेक छोटे उत्पादक और श्रमिक उत्पादन कार्य जटिल ढंग से संगठित किया। प्रभावित हुए हैं। न्यायसंगत वैश्वीकरण जा रहा है। सभी के लिए अवसरों का सृजन करेगा देशों के बीच उत्पादन को संगठित और यह भी सुनिश्चित करेगा कि करने में प्रौद्योगिकी, विशेषकर सूचना वैश्वीकरण के लाभों में सभी की बेहतर प्रौद्योगिकी ने एक बड़ी भूमिका निभायी है। हिस्सेदारी हो। वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था 1. वैश्वीकरण से आप क्या समझते हैं? अपने शब्दों में स्पष्ट कीजिए। 2. भारत सरकार द्वारा विदेश व्यापार एवं विदेशी निवेश पर अवरोधक लगाने के क्या कारण थे? इन अवरोधकों को सरकार क्यों हटाना चाहती थी? 3. श्रम कानूनों में लचीलापन कंपनियों को कैसे मदद करेगा? 4. दूसरे देशों में बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ किस प्रकार उत्पादन या उत्पादन पर नियंत्रण स्थापित करती है? 5. विकसित देश, विकासशील देशों से उनके व्यापार और निवेश का उदारीकरण क्यों चाहते हैं? क्या आप मानते हैं कि विकासशील देशों को भी बदले में ऐसी माँग करनी चाहिए? 6. वैश्वीकरण का प्रभाव एक समान नहीं है। इस कथन की अपने शब्दों में व्याख्या कीजिए। 7. व्यापार और निवेश नीतियों का उदारीकरण वैश्वीकरण प्रक्रिया में कैसे सहायता पहुँचाती हैं? 8. विदेश व्यापार विभिन्न देशों के बाजारों के एकीकरण में किस प्रकार मदद करता है? यहाँ दिए गए उदाहरण से भिन्न उदाहरण सहित व्याख्या कीजिए। वैश्वीकरण भविष्य में जारी रहेगा। क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि आज से बीस वर्ष बाद विश्व कैसा | होगा? अपने उत्तर का कारण दीजिए। 10. मान लीजिए कि आप दो लोगों को तर्क करते हुए पाते हैं - एक कह रहा है कि वैश्वीकरण ने हमारे देश के विकास को क्षति पहुँचाई है, दूसरा कह रहा है कि वैश्वीकरण ने भारत के विकास में सहायता की है। इन लोगों को आप कैसे जवाब दोगे? 11. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए - दो दशक पहले की तुलना में भारतीय खरीदारों के पास वस्तुओं के अधिक विकल्प हैं। यह ••••• की प्रक्रिया से नजदीक से जुड़ा हुआ है। अनेक दूसरे देशों में उत्पादित वस्तुओं को भारत के बाजारों में बेचा जा रहा है। इसका अर्थ है कि अन्य देशों के साथ ••••••••••••••••••••••••• बढ़ रहा है। इससे भी आगे भारत में बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा उत्पादित ब्रांडों की बढ़ती संख्या हम बाजारों में देखते हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ भारत में निवेश कर रही है क्योंकि •••••••••••••••••••••••••। जबकि बाजार में उपभोक्ताओं के लिए अधिक विकल्प इसलिए बढ़ते •••••••••••• •••••••••••••• और ••••••••••• •••••••••••• के प्रभाव का अर्थ है उत्पादकों के बीच अधिकतम " 12. निम्नलिखित को सुमेलित कीजिए - (क) बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ छोटे उत्पादकों से सस्ते दरों पर खरीदती हैं। (अ) मोटर गाड़ियों (ख) आयात पर कर और कोटा का उपयोग, व्यापार नियमन (ब) कपड़ा, जूते-चप्पल, खेल के सामान के लिए किया जाता है। | (ग) विदेशों में निवेश करने वाली भारतीय कंपनियाँ (स) कॉल सेंटर (घ) आई. टी. ने सेवाओं के उत्पादन के प्रसार में सहायता की है। (द) टाटा मोटर्स, इंफोसिस रैनबैक्सी (ङ) अनेक बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ ने उत्पादन करने के लिए निवेश किया है। (य) व्यापार अवरोधक आर्थिक विकास की समझ 13. सही विकल्प का चयन कीजिए - (अ) वैश्वीकरण के विगत दो दशकों में द्रुत आवागमन देखा गया है। (क) देशों के बीच वस्तुओं, सेवाओं और लोगों का (ख) देशों के बीच वस्तुओं, सेवाओं और निवेशों का (ग) देशों के बीच वस्तुओं, निवेशों और लोगों का । (आ) विश्व के देशों में बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा निवेश का सबसे अधिक सामान्य मार्ग है। (क) नये कारखानों की स्थापना (ख) स्थानीय कंपनियों को खरीद लेना (ग) स्थानीय कंपनियों से साझेदारी करना (इ) वैश्वीकरण ने जीवन स्तर के सुधार में सहायता पहुँचाई है। (क) सभी लोगों के (ख) विकसित देशों के लोगों के (ग) विकासशील देशों के श्रमिकों के (घ) उपर्युक्त में से कोई नहीं 1. कुछ ब्रांडेड उत्पादों को लीजिए, जिनका हम रोजाना इस्तेमाल करते हैं (साबुन, टूथपेस्ट, कपड़े, इलेक्ट्रॉनिक वस्तुएँ इत्यादि)। जाँच कीजिए कि इनमें से कौन-कौन बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा उत्पादित हैं। 2. अपनी पसंद के किसी भी भारतीय उद्योग या सेवा को लीजिए। उद्योग के निम्नलिखित पहलुओं पर लोगों के साक्षात्कारों, समाचार-पत्रों एवं पत्रिकाओं की कतरनों, पुस्तकों, दूरदर्शन एवं इंटरनेट से जानकारियाँ और फोटो संकलित कीजिए - (क) उद्योग में विविध उत्पादक/कंपनियाँ। (ख) क्या उत्पाद अन्य देशों को निर्यात होता है। (ग) क्या उत्पादकों के बीच बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ हैं। (घ) उद्योग में प्रतिस्पर्धा। (ङ) उद्योग में कार्य-परिस्थितियाँ। (च) क्या विगत पंद्रह वर्षों में उद्योग में कोई बड़ा बदलाव आया है। (छ) उद्योग में कार्यरत लोगों की समस्याएँ। वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था

RELOAD if chapter isn't visible.