है। दलदलों में क्षय होते पादपों से पीट उत्पन्न होता है, जिसमें कम काबर्न, नमी की उच्च मात्रा व निम्न ताप क्षमता होती है। लिग्नाइट एक निम्न कोटि का भूरा कोयला होता है। यह मुलायम होने के साथ अिाक नमीयुक्त होता है। लिग्नाइट के प्रमुख भंडार तमिलनाडु के नैवेली में मिलते हैं और विद्युत उत्पादन में प्रयोग किए जाते हैं। गहराइर् में दबे तथा अिाक तापमान से प्रभावित कोयले को बिटुमिनस कोयला कहा जाता है। वाण्िाज्ियक प्रयोग में यह सवार्िाक लोकपि्रय है। धातुशोधन में उच्च श्रेणी के बिटुमिनस कोयले का प्रयोग किया जाता है जिसका लोहे के प्रगलन में विशेष महत्त्व है। एंथ्रेसाइट सवोर्त्तम गुण वाला कठोर कोयला है। भारत में कोयला दो प्रमुख भूगभ्िार्क युगों के शैल व्रफम में पाया जाता है - एक गोंडवाना जिसकी आयु 200 लाख वषर् से वुफछ अिाक है और दूसरा टरश्िायरी निक्षेप जो लगभग 55 लाख वषर् पुराने हैं। गोंडवाना कोयले, जो धातुशोधन कोयला है, के प्रमुख संसाधन दामोदर घाटी ;पश्िचमी बंगाल तथा झारखंडद्ध, झरिया, रानीगंज, बोकारो में स्िथत हैं जो महत्त्वपूणर् कोयला क्षेत्रा हैं। गोदावरी, महानदी, सोन व वधार् नदी घाटियों में भी कोयले के जमाव पाए जाते हैं। टरश्िायरी कोयला क्षेत्रा उत्तर - पूवीर् राज्यों - मेघालय, असम, अरुणाचल प्रदेश व नागालैंड में पाया जाता है। यह स्मरण रहे कि कोयला स्थूल पदाथर् है। जिसका प्रयोग करने पर भार घटता है क्योंकि यह राख में परिवतिर्त हो जाता है। इसी कारण भारी उद्योग तथा ताप विद्युत गृह कोयला क्षेत्रों अथवा उनके निकट ही स्थापित किये जाते हैं। पेट्रोलियम भारत में कोयले के पश्चात् उफजार् का दूसरा प्रमुख साधन पेट्रोलियम या खनिज तेल है। यह ताप व प्रकाश के लिए ईंधन, मशीनों को स्नेहक और अनेक विनिमार्ण उद्योगों को कच्चा माल प्रदान करता है। तेल शोधन शालाएँ - संश्लेष्िात वस्त्रा, उवर्रक तथा असंख्य रासायन उद्योगों में एक नोडीय बिंदु का काम करती हैं। भारत में अिाकांश पेट्रोलियम की उपस्िथति टरश्िायरी युग की शैल संरचनाओं के अपनति व भ्रंश ट्रैप में पाइर् जाती है। वलन, अपनति और गुंबदों वाले प्रदेशों में यह वहाँ पाया जाता है जहाँ उद्ववलन के शीषर् में तेल ट्रैप हुआ होता है। तेल धारक परत संरध्र चूना पत्थर या बालुपत्थर होता है जिसमें से तेल प्रवाहित हो सकता है। मध्यवतीर् असरंध्र परतें तेल को उफपर उठने व नीचे रिसने से रोकती हैं। पेट्रोलियम संरध्र और असरंध्र चट्टðानों के बीच भ्रंश ट्रैप में भी पाया जाता है। प्राकृतिक गैस हल्की होने के कारण खनिज तेल के ऊपर पाइर् जाती है। भारत में वुफल पेट्रोलियम उत्पादन का 63 प्रतिशत भाग मुंबइर्हाइर् से, 18 प्रतिशत गुजरात से और 16 प्रतिशत असम से प्राप्त होता है। मानचित्रा में तीन प्रमुख अपतटीय तेल क्षेत्रा चिित करें। अंकलेश्वर गुजरात का सबसे महत्त्वपूणर् तेल क्षेत्रा है। असम भारत का सबसे पुराना तेल उत्पादक राज्य है। डिगबोइर्, नहरकटिया और मोरन - हुगरीजन इस राज्य के महत्त्वपूणर् तेल उत्पादक क्षेत्रा हैं। प्राकृतिक गैस प्राकृतिक गैस एक महत्त्वपूणर् स्वच्छ ऊजार् संसाधन है जो पेट्रोलियम के साथ अथवा अलग भी पाइर् जाती है। इसे उफजार् के एक साधन के रूप में तथा पेट्रो रासायन उद्योग के एक औद्योगिक कच्चे माल के रूप में प्रयोग किया जाता है। काबर्नडाइर् - आॅक्साइड के कम उत्सजर्न के कारण प्राकृतिक गैस को पयार्वरण - अनुवूफल माना जाता है। इसलिए यह वतर्मान शताब्दी का ईंधन है। कृष्णा - गोदावरी नदी बेसिन में प्रावृफतिक गैस के विशाल भंडार खोजे गए हैं। पश्िचमी तट के साथ मुम्बइर् हाइर् और सन्िनध क्षेत्रों को खंभात की खाड़ी में पाए जाने खनिज तथा उफजार् संसाधन ;पपद्ध खनिज क्या हैं? ;पपपद्ध आग्नेय तथा कायांतरित चट्टðानों में खनिजों का निमार्ण वैफसे होता है? ;पअद्ध हमें खनिजों के संरक्षण की क्यों आवश्यकता है? 3ण् निम्नलिख्िात प्रश्नों के उत्तर लगभग 120 शब्दों में दीजिए। ;पद्ध भारत में कोयले के वितरण का वणर्न कीजिए। ;पपद्ध भारत में सौर उफजार् का भविष्य उज्जवल है। क्यों? वि्रफयाकलाप नीचे दी गइर् वगर् पहेली में उपयुक्त खनिजों का नाम भरें - नोट: पहेली के उत्तर अंग्रेशी के शब्दों में हैं। 2 1 ड 2 ड 4 3 ड 4 ज् 1 5 5 ज् 6 व 7 ल क्षैतिज 1ण् एक लौह खनिज ;9द्ध 2ण् सीमेंट उद्योग में प्रयुक्त कच्चा माल ;9द्ध 3ण् चुंबकीय गुणों वाला सवर्श्रेष्ठ लोहा ;10द्ध 4ण् उत्कृष्ट कोटि का कठोर कोयला ;10द्ध 5ण् इस अयस्क से एल्यूमिनियम प्राप्त किया जाता है। ;7द्ध 6ण् इस खनिज के लिए खेतरी खदानें प्रसि( हैं। ;6द्ध 7ण् वाष्पीकरण से निमिर्त ;6द्ध उफध्वार्धर 1ण् प्लेसर निक्षेपों से प्राप्त होता है। 2ण् बेलाडिला में खनन किया जाने वाला लौह - अयस्क ;8द्ध 3ण् विद्युत उद्योग में अपरिहायर् ;4द्ध 4ण् उत्तरी - पूवीर् भारत में मिलने वाले कोयले की भूगभ्िार्क आयु ;8द्ध 5ण् श्िाराओं तथा श्िारानिक्षेपों में निमिर्त ;3द्ध

RELOAD if chapter isn't visible.