तालिका 4.1 - भारत: सकल घरेलू उत्पाद में वृि हमारी सरकार ने सावधानीपूवर्क राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा प्रणाली;प्रतिशतद्ध और प्रमुख खंड की रचना की है। इसके दो घटक हैंऋ ;कद्ध बपफर स्टाॅक खंड वृफष्िा उद्योग सेवाएँ ;2002.07द्ध दसवीं योजना 1ण्7 8ण्3 9ण्0 ;2007.12द्ध ग्यारहवीं योजना ;प्रक्षेपितद्ध 4ण्1 10ण्5 9ण्9 ;2012 दृलक्ष्य प् 4ण्0 9ण्6 10ण्0 2017 द्ध लक्ष्य प्प् 4ण्2 10ण्9 10ण्0 सकल घरेलू उत्पाद 7ण्2 9ण्0 9ण्0 9ण्5 ;खद्ध सावर्जनिक वितरण प्रणाली ;पी डी एसद्ध। जैसा कि आप जानते हैं सावर्जनिक वितरण प्रणाली एक कायर्व्रफम है जो ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में खाद्य पदाथर् और अन्य आवश्यक वस्तुएँ सस्ती दरों पर उपलब्ध कराती है। भारत की खाद्य सुरक्षा नीति का प्राथमिक उद्देश्य सामान्य लोगों को खरीद सकने योग्य कीमतों पर खाद्यान्नों की उपलब्धता को सुनिश्िचत करना है। इससे निधर्नस्रोत - प़फास्टर, सस्टेनेबल एंड मोर इनक्लूसिव: एन एप्रोच टू द भोजन प्राप्त करने में समथर् हुए हैं। इस नीति का केन्द्र दुरुपयोग भी हुआ है। जल और उवर्रकों के अिाक और अविवेकपूणर् प्रयोग से जलाव्रफांतता, लवणता और सूक्ष्म पोषक तत्त्वों की कमी की समस्याएँ पैदा हो गइर् हैं। उफँचा न्यूनतम समथर्न मूल्य, निवेशों में सहायिकी और एपफ सी फाइव इयर प्लान, प्लानिंग कमीशन, गवनर्मेंट आॅपफ इंडिया, 2011 वृफष्िा सेक्टर में विशेष रूप से करना पड़ रहा है और हमारी सरकार वृफष्िा सेक्टर में विशेष रूप से सिंचाइर्, ऊजार्, ग्रामीण सड़कों, मंडियों और यंत्राीकरण में सावर्जनिक पूँजी के निवेश को कम करती जा रही है। रासायनिक उवर्रकों पर सहायिकी कम करने से उत्पादन लागत बढ़ रही है। इसके अतिरिक्त कृष्िा उत्पादों पर आयात कर घटाने से भी देश में कृष्िा पर हानिकारक प्रभाव पड़ा है। किसान कृष्िा में पूँजी निवेश कम कर रहे हैं जिसके कारण कृष्िा में रोशगार घट रहे हैं। देश के अनेक राज्यों में किसान आत्महत्याएँ क्यों कर रहे हैं? 12 प़कृष्िा उत्पादन में वृि और भंडारों को बनाए रखने के लिए चावल और गेहूँ की अिाक प्राप्ित के लिए समथर्न मूल्य को निधार्रित करना है। खाद्यान्नों की अिाक प्राप्ित और भंडारण की व्यवस्था पूफड काॅरपोरेशन आॅपफ इंडिया़;एपफ सी आइर्द्ध करती है जबकि इसके वितरण को सावर्जनिक वितरण प्रणाली सुनिश्िचत करती है। भारतीय खाद्य निगम ;एपफ सी आइर्द्ध सरकार द्वारा घोष्िात न्यूनतम समथर्न मूल्यों पर किसानों से खाद्यान्न प्राप्त करती है। सरकार उवर्रक, उफजार् और जल जैसे वृफष्िा निवेशों पर सहायिकी ;ैनइेपकपमेद्ध उपलब्ध कराती थी। अब इन सहायिकियों का बोझ उठाना असहनीय हो रहा है और इससे इन दुलर्भ निवेशों का बड़े पैमाने पर खाद्य सुरक्षा आप जानते हैं कि भोजन एक आधारभूत आवश्यकता है और देश के प्रत्येक नागरिक को ऐसा भोजन मिलना चाहिए जो न्यूनतम पोषण स्तर प्रदान करे। यदि हमारी जनसंख्या के किसी भाग को यह उपलब्ध नहीं होता तो वह खंड खाद्य सुरक्षा से वंचित है। हमारे देश के वुफछ प्रदेशों, विशेषतः आथ्िार्क दृष्िट से कम विकसित राज्यों, जहाँ अिाक निधर्नता व्याप्त है, वहाँ उन लोगों का अनुपात अिाक है जिन्हें खाद्य सुरक्षा प्राप्त नहीं है। देश के सुदूर क्षेत्रों में प्राकृतिक आपदाओं और अनिश्िचत खाद्य आपूतिर् की अिाक संभावना होती है। समाज के सभी वगो± को खाद्य उपलब्धता सुनिश्िचत कराने के लिए आइर् द्वारा शतिर्या खरीद ने शस्य प्रारूप को बिगाड़ दिया है। जो न्यूनतम समथर्न मूल्य उन्हें मिलता है उसके लिए गेहूँ और चावल की अिाक पफसलें उगाइर् जा रही हैं। पंजाब और हरियाणा इसके अग्रणी उदाहरण हैं। जैसा कि आप जानते हैं कि उपभोक्ताओं को दो वगो± में बाँट दिया गया है - गरीबी रेखा से नीचे ;ठमसवू च्वअमतजल स्पदम . ठच्स्द्ध और गरीबी रेखा से ऊपर ;।इवअम च्वअमतजल स्पदम . ।च्स्द्ध और प्रत्येक वगर् के लिए कीमतें अलग - अलग हैं। परंतु यह वगीर्करण पूणर् नहीं है क्योंकि इससे अनेक हकदार गरीब लोग बी पी एल वगर् से बाहर हो गए हैं। कइर् ए पी एल श्रेणी के लोग एक पफसल खराब होने से ही बी पी एल श्रेणी में वृफष्िा वि्रफयाकलाप ऊपर - नीचे और दायें - बायें चलते हुए वगर् पहेली को सुलझाएँ और छिपे उत्तर ढूँढ़ें। नोट: पहेली के उत्तर अंग्रेशी के शब्दों में हैं। । र् ड ग् छ ब् ठ ट छ ग् । भ् क् फ ै क् म् ॅ ै त् श्र क् फ श्र र् ट त् म् क् ज्ञ भ् । त् प् थ् ळ ॅ थ् ड त् थ् ॅ थ् छ स् त् ळ ब् भ् भ् त् ै ठ ै ट ज् ळ ठ ब् ॅ भ् म् । ज् ल् । ब् भ् ठ त् भ् त् ज् ज्ञ । ै ै म् च् भ् ग् । छ ॅ श्र प् म् ै श्र व् ॅ । त् श्र र् भ् क् ज् ज्ञ ब् स् । म् ळ । ब् व् थ् थ् म् म् ल् स् ज् म् थ् ल् ड ज् । ज् ै ै त् ळ प् च् क् म् श्र व् न् ल् ट म् श्र ळ थ् । न् व् न् ड भ् फ ै न् क् प् ज् ै ॅ ै च् न् व् । ब् व् ज् ज् व् छ म् । भ् थ् व् ल् व् स् थ् स् न् ै त् फ फ क् ज् ॅ प् ज् ड न् । भ् त् ळ ल् ज्ञ ज् त् । ठ थ् म् । ज्ञ क् ळ क् फ भ् ै न् व् प् ॅ भ् ॅ फ र् ब् ग् ट ठ छ ड ज्ञ श्र । ै स् ;पद्ध भारत की दो खाद्य पफसलें। ;पपद्ध यह भारत की ग्रीष्म पफसल )तु है। ;पपपद्ध अरहर, मूँग, चना, उड़द जैसी दालों से... मिलता है। ;पअद्ध यह एक मोटा अनाज है। ;अद्ध भारत की दो महत्त्वपूणर् पेय पफसल हैं.. ;अपद्ध काली मिट्टðी पर उगाइर् जाने वाली चार रेशेदार पफसलों में से एक।

RELOAD if chapter isn't visible.