12. गेंद - बल्ला गेंद ने बल्ले से कहा दृ तुम मुझे क्यों मारते हो? बल्ले ने कहा दृ मारूँ नहीं तो खेल वैफसे हो? गंेद जब बल्ले के पास आइर् तो उसने उसे शोर से मारा। गेंद वुफदकती - पुफदकती दूर जाकर एक झाड़ी में छिप गइर्। बल्ला उसे ढूँढ़ता रहा, ढूँढ़ता रहा। ढूँढ़ते - ढूँढ़ते शाम हो गइर्। अँध्ेरा घ्िारने लगा। गेंद खुश थी कि बल्ला परेशान हो रहा है। बल्ला निराश होकर लौट चला। तभी गेंद ने झाड़ी में से चिल्लाकर कहा दृ मैं यहाँ हूँ। आओ, मुझे ले लो। बल्ले ने उसे झाड़ी के नीचे से खींचकर उठा लिया। गेंद ने कहा दृ देखो, अब मुझे मारना मत। गिल्ली डंडे के खेल में गिल्ली को डंडे से मारते हैं। वुफछ और खेल बताओ, जिनमें एक चीश को दूसरी से मारा जाता है। गेंद खो गइर् तो गेंदμबल्ला नहीं खेल पाएँगे। गुल्ली खो गइर् तो माँझा खो गया तो पासा खो गया तो चिड़ी खो गइर् तो अगर तुम्हारे घर में गेंद खो गइर् तो कहँँा - कहा ढूँढ़ोगे?

RELOAD if chapter isn't visible.